मेरीलेबोन क्रिकेट क्लब

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरीलेबोन क्रिकेट क्लब (एमसीसी) लन्दन में एक क्रिकेट क्लब है जिसकी स्थापना 1787 में की गयी थी. काफी प्रभावी और पुराना होने के कारण क्लब के निजी सदस्य क्रिकेट के विकास के लिए समर्पित हैं. यह लन्दन एन डब्ल्यू 8 के सेंट जॉन'स वुड में लोर्ड'स क्रिकेट ग्राउंड में स्थित है.

एमसीसी पहले इंग्लैण्ड और वेल्स तथा पूरी दुनिया में क्रिकेट का नियंत्रण करने वाली इकाई थी. 1993 में इसके कई विश्वस्तरीय कार्यों को अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट काउन्सिल (आईसीसी) को स्थानांतरित कर दिया गया और इसके अंग्रेजी प्रशासन को उसी समय टेस्ट एंड कंट्री क्रिकेट बोर्ड (TCCB) को स्थानांतरित कर दिया गया. अब एमसीसी केवल नियमों का संरक्षक एवं खेल की भावना का सरंक्षक ही रह गया.

एमसीसी ने 1788 में क्रिकेट के नियमों में संशोधन किया[1] और उन्हें पुनः प्रकाशित करना जारी रखा (समय समय पर), और कॉपीराइट धारक बना रहा.[2] इसने अपनी खुद की टीम बनायी, जिसमें से कुछ को विपक्ष की स्थिति के आधार पर पहली श्रेणी में रखा गया: उदाहरण के लिए, हर अंग्रेजी सीज़न (अप्रैल में) की शुरुआत को चिन्हित करने के लिए, पारंपरिक रूप से एमसीसी लोर्ड'स में देश के चैम्पियनों को खिलाती है. एमसीसी के पक्ष नियमित रूप से विदेशी दौरे करते हैं, उदाहरण के लिए 2006 में अफगानिस्तान का दौरा, और क्लब हर सीजन में पुरे ब्रिटेन के दौरे करता रहा है, विशेष रूप से स्कूलों के साथ.

इतिहास और भूमिका[संपादित करें]

डोरसेट स्क्वायर में एक पट्टिका लोर्ड'स के मूल ग्राउंड की साईट को चिन्हित करती है और एमसीसी की स्थापना की याद दिलाती है.

सामान्यतः माना जाता है कि एमसीसी की स्थापना 1787 में हुई थी[3] जब थॉमस लोर्ड ने खरीदी गयी साईट पर ग्राउंड खोला. अब इस पर डोरसेट स्क्वेयर का कब्जा है जिसे क्लब ने अपने घरेलू स्थान के रूप में अपनाया. वास्तव में, 1787-एमसीसी एक पुराने क्लब का पुनर्गठन था जिसकी उत्पत्ति 18 वीं सदी के प्रारम्भ में या संभवतया इससे पहले हुई थी.[4] पूर्व क्रिकेट क्लब को "नोबल मेन'स और "जेंटल मेन'स क्लब" या "द क्रिकेट क्लब" के नाम से जाना जाता था और यह लम्बे समय तक पाल मॉल पर द स्टार एंड गार्टर पर स्थित था. यह मूल रूप से एक सामाजिक और गेम्बलिंग क्लब था लेकिन इसके साथ कई खेल सम्बन्ध भी जुड़े थे, जिनमें मूल रूप से लन्दन क्रिकेट क्लब, जॉकी क्लब, हेम्बलदन क्लब, व्हाईट कोनड्युट क्लब और कई पुरस्कार प्रोमोशन भी शामिल थे.

जब 1780 के प्रारम्भ में क्रिकेट के लिए व्हाईट कोनड्युट क्लब के सदस्यों का निर्माण किया उन्होंने इस्लिंगटन में व्हाईट कोनड्युट फील्ड्स पर खेला लेकिन जल्दी ही वे आस पास के वातावरण से असंतुष्ट हो गए और उन्होंने शिकायत की की साईट "अत्यधिक सार्वजनिक" है. थॉमस लोर्ड व्हाईट कोनड्युट में एक पेशेवर गेंदबाज था, और अन्य सदस्य किसी भी वित्तीय घटे के खिलाफ उसकी गारंटी देते थे, ताकि लन्दन की आसान दूरी के भीतर अधिक निजी स्थान को सुरक्षित किया जा सके. जब लोर्ड ने अपना नया ग्राउंड खोला जेंटलमेन'स क्लब यहाँ चला आया, और शुरुआत में उन्होंने अपने आप को "द मेरी-ले-बोन क्लब" नाम दिया.

20 वीं सदी की शुरुआत से, एमसीसी ने इंग्लैंड क्रिकेट टीम का आयोजन किया और टेस्ट मैचों के बाहर, दौरे करने वाली इंग्लैण्ड टीम ने अधिकारिक रूप से एमसीसी के रूप में खेला. इसमें ऑस्ट्रेलिया का 1976/77 का दौरा भी सह्मिल था. आखिरी बार इंग्लैण्ड की दौरा करने वाली टीम ने विशिष्ट लाल और पिली धारियों की पोशाक पहनी, 1996/97 में भी न्यूजीलैंड के दौरे के दौरान मेरिलेबोन क्रिकेट क्लब की पोशाक का यही रंग था.

एमसीसी के रंग की मूल उत्पत्ति अज्ञात है,(और संभवतया अज्ञात ही रहेगी), लेकिन इसके खिलाडियों ने अक्सर स्पोर्टिंग आसमानी नीले रंग की पोशाक 19 वीं सदी (संयोग से ये एटन कॉलेज और कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय के रंग भी थे) तक पहनी. अंततः क्लब ने लाल और पीले रंग की पोशाक को अपना लिया (उर्फ़ बेकन और अंडा). एक सिद्धांत यह है कि एमसीसी ने इन रंगों को जे एंड डब्ल्यू निकल्सन एंड कम्पनी के गिन से प्राप्त किया था, जब कम्पनी के चेयरमेन और एमसीसी के बेनेफेक्टर विलियम निकलसन ने लोर्ड में क्लब की स्थिति को कर्ज के साथ सुरक्षित किया.[5] एक और सिद्धांत, को क्लब की उत्पत्ति से सम्बंधित है वह यह है कि एमसीसी ने अपने रंगों को एक संस्थापक संरक्षक के रंगों से प्राप्त किया, यह संरक्षक गुडवुड फेम के चार्ल्स (द्वितीय) ड्यूक ऑफ़ रिचमंड था.

क्रिकेट के नियम[संपादित करें]

हालांकि एमसीसी क्रिकेट के नियमों का निर्माण करता है और इसका कॉपीराइट होल्डर भी है, यह भूमिका निरंतर दबाव में है क्योंकि आईसीसी विश्व स्तरीय खेल के सभी पहलुओं पर नियंत्रण रखती है. हाल ही के समय में आईसीसी ने मैच के विनियमनों में परिवर्तन करने शुरू किये हैं, (उदाहरण एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय मैचों में) जिसके लिए एमसीसी के साथ अधिक परामर्श नहीं किया जाता है. साथ ही, इसकी स्थिति को लोर्ड से दुबई में स्थानांतरित करके आईसीसी ने एमसीसी से तथा अतीत से हटने का संकेत दे दिया था, हालांकि कराधान लाभ को तत्कालीन यूके सरकार के द्वारा हटा लिया गया. क्रिकेट के नियमों में परिवर्तन आज भी एमसीसी के द्वारा किये जाते हैं, लेकिन केवल आईसीसी के साथ परामर्श के बाद. फिर भी, नियमों में किसी भी प्रकार के परिवर्तन के लिए एमसीसी के सभी सदस्यों के द्वारा दो तिहाई बहुमत की आवश्यकता होती है.

कई सालों में एमसीसी कोचिंग मेनुअल

कोचिंग[संपादित करें]

एमसीसी हमेशा से क्रिकेट के खेल की कोचिंग में शामिल रही है, और क्लब के वर्तमान प्रमुख कोच मार्क एलेयेन एक इनडोर क्रिकेट स्कूल को चला रहें हैं, साथ ही वे दुनिया में और इंग्लैण्ड में कोच की एक टीम के अध्यक्ष भी हैं. एमसीसी अपनी कोचिंग मेनुअल "एमसीसी क्रिकेट कोचिंग बुक" के लिए प्रसिद्ध है, जिसे अक्सर क्रिकेट कोचिंग की बाइबल के नाम से जाना जाता है.

सदस्यता[संपादित करें]

विशिष्ट एमसीसी रंग में एमसीसी सदस्य

एमसीसी के पास 8,000 पूर्ण सदस्य और 4,000 सहयोगी सदस्य हैं. जैसा कि एक निजी सदस्यों के क्लब से अपेक्षा की जा सकती है, सदस्यों के पास पेविलियन को काम में लेने के विशेष अधिकार होते हैं, और अन्य सदस्य ग्राउंड में खेले जाने वाले सभी मैचों के लिए लोर्ड पर रहते हैं.

सदस्यता के लिए आवेदकों की प्रतीक्षा सूची में शामिल होने के लिए, एक व्यक्ति को तीन सदस्यों के मतदान की आवश्यकता होती है, (जिनमें से प्रत्येक पूरे साल के लिए एक पूर्ण सदास्य होना चाहिए), और इसके लिए उसे एमसीसी प्रायोजकों की सूची पर एक व्यक्ति की अतिरिक्त प्रायोजकता की आवश्यकता होती है (जिसमें एमसीसी कमेटी; एमसीसी आउट-मैच प्रतिनिधी; और वर्तमान, अतीत और निर्दिष्ट अध्यक्ष के सभी सदस्य शामिल होते हैं). क्योंकि सदस्यता के लिए मांग हमेशा हर साल जरुरत से ज्यादा होती है (उदाहरण के लिए 2005 में केवल 400 से ज्यादा स्थान थे), इसलिए पूर्ण सामान्य सदस्यता (20 साल) के लिए एक पर्याप्त प्रतीक्षा सूची बनी ही रहती है (हालांकि 1920 में इसके लिए 30 साल का समय निर्धारित किया गया). तथापि एक पूर्णकालिक सदस्य बनने में समय लगता है: व्यक्ति को खिलाडी सदस्य के रूप में योग्य होने की आवश्यकता हो सकती है, या उसे आउट-मैच सदस्य होने की आवश्यकता हो सकती है (हालांकि इसमें क्लब के लिए खेलने के योग्य होने के अलावा सदस्यता का कोई विशेषाधिकार शामिल नहीं है).

वैकल्पिक रूप से, कुछ को मानद आजीवन सदस्यता से सम्मानित किया जाता है, हालांकि यह सम्मान कभी कभी ही दिया जाता है. वर्तमान में मानद आजीवन सदस्यों में डिकी बर्ड, सर इयान बोथम, अरविन्द डी सिल्वा, एंडी फ्लावर, सुनील गावस्कर, एडम गिलक्रिस्ट, डेविड गोवर, इंजमाम उल हक़, राकेल लेडी हेहो-फ्लिंट, ग्लेन मेक ग्राथ, सर रिचर्ड हेडली, सर जॉन मेजर, हेनरी ओलोंगा, बेरी रिचर्ड्स, सर विवियन रिचर्ड्स, सर गारफील्ड सोबर्स, हशन तिलाकरानते, माइकल वाघेन, शेन वार्न, वसीम अकरम, शाहिद अफरीदी, सलमान बट, मोहम्मद आमीर, मोहम्मद आसिफ और[कृपया उद्धरण जोड़ें]वाकर योनिस शामिल हैं.

विवाद[संपादित करें]

क्लब के सदस्यों ने 1990 के दशक के बाद से हमेशा महिलाओं की सदस्यता से इनकार किया है, क्योंकि इसके लिए आवश्यक दो तिहाई मतदान कभी भी नहीं किया गया.[6] सितम्बर 1998 में महिला सदस्यता को 70 प्रतिशत बहुमत मिला, जिससे 212 वर्षों की पुरुष विशिष्टता का अंत हुआ. इस समय तक क्लब की सरंक्षक के रूप में क्वीन एक मात्र महिला थीं (घरेलू स्टाफ के अलावा) जिन्हें खेल के दौरान पेविलियन में प्रवेश करने की अनुमती दी गयी.[7] बाद में पांच महिलाओं को खिलाडी सदस्यों के रूप में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया गया.[8]

अगला विवाद 2005 में हुआ जब इंग्लैण्ड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड का पक्ष लेने के लिए क्लब की आलोचना की गयी (इसके कुछ अपने सदस्यों सहित). जबकि क्लब ने टेस्ट क्रिकेट के ब्रिटिश स्काई प्रसारण के फैसले का पक्ष नहीं लिया.[9] उस समय के एमसीसी के सचिव और प्रमुख कार्यकारी रोजर नाईट ने ECB के बोर्ड पर क्लब का प्रतिनिधित्व किया और वे इस विवादास्पद और आलोचनात्मक फैसले के पक्ष में थे.

एक और विवाद में शामिल था कि एमसीसी ने सदस्यों तथा दर्शकों को सभी मैचों में ग्राउंड पर सीमित मात्रा में एल्कोहल युत पेय पदार्थ लाने की अनुमति देने का फैसला किया था. इस फैसले ने आईसीसी को चुनौती दी, जो दुनिया भर में सभी अंतर्राष्ट्रीय मैचों में इस प्रथा को पूरी तरह से प्रतिबंधित करने का प्रयास कर रहा था. एमसीसी साल में एक बार आईसीसी को लिखता है कि लोर्ड क्रिकेट ग्राउंड में एल्कोहल लाने के लिए दर्शकों तथा सदस्यों को अनुमति दी जाये. किसी अन्य ग्राउंड प्राधिकरण को कभी इस बात की जरुरत महसूस नहीं हुई कि क्रिकेट के मैदान में वे दर्शकों और सदस्यों के लिए एल्कोहल लाने के लिए आईसीसी से अनुमति की मांग करें. या खुद वहां एल्कोहल पेय बेचकर धन कमायें.

इस विरासत को देखते हुए एमसीसी ने इंग्लिश क्रिकेट के प्रशासन में हिस्सा लेना जारी रखा, और 2010 में लोर्ड'स को पकिस्तान के लिए एक "घरेलू" टेस्ट मैच के लिए प्राकृतिक स्थान के रूप में प्रस्तुत किया गया, यह मैच आईसीसी के द्वारा निर्धारित किया गया था जो ऑस्ट्रेलिया के साथ होने वाला था; हालांकि इस खेल का परिवाम विवादास्पद साबित हुआ, आतंकवाद से त्रस्त पाकिस्तान के लिए यह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट का वह क्षेत्र था जहां उसे जाने की अनुमति नहीं थी. फिर भी वह इस अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट फोल्ड में बना रहा. क्लब के सचिव और प्रमुख कार्यकारी का इंग्लैण्ड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड के प्रशासन बोर्ड पर एक स्थान है और यह कहा गया है कि कीथ ब्रेड्षा (वर्तमान सचिव और प्रमुख कार्यकारी) अप्रैल 2007 में इंग्लैण्ड कोच डंकन फ्लेचर के कार्यालय से हटाने में प्रभावी हो सकता है.[10]

वर्तमान में एमसीसी[संपादित करें]

एमसीसी टीमें नियमित रूप से खेलना जारी रखती हैं, आज भी कभी कभी वे प्रथम वर्ग स्तर के मैच में खेलती हैं. क्लब ने पारंपरिक रूप से अपने एमसीसी कोचिंग मेनुअल का निर्माण किया है जिसे क्रिकेट कौशल की बाइबल कहा जाता है. यह युवा क्रिकेटरों के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रमों का सञ्चालन भी करती है, इसमें लोर्ड'स में इनडोर सेंटर भी शामिल है.

एमसीसी नियमित रूप से इंग्लैण्ड के दौरे भी करती रहती है, भिन्न राज्यों और निजी स्कूलों के साथ मैच खेलती है. इस परंपरा का पालन 19 वीं सदी से किया जा रहा है. क्लब में रियल टेनिस और स्क्वेश कोर्ट, सक्रिय गोल्फ, ब्रिज और बैकगैमौन सोसाइटीयां भी हैं.

इसे अक्सर शांत और बिशप कहा जाता है (अर्थात "स्थापना"), क्लब ने मिडिया और जनता की नजर में अपनी छवि को देर से सुधारा है, आंशिक रूप से ऐसा इसलिए है क्योंकि परम्पराएं तेजी से बदल रहीं हैं और आंशिक रूप से इसलिए है क्योंकि इसने छवि सुधार की दिशा में ठोस कदम उठाये हैं. "यह दावा करना जरुरत से ज्यादा होगा कि एमसीसी ने चक्र को पूरा कर लिया है," एंड्रयू मिलर ने अक्टूबर 2008 की शुरुआत में कहा, "लेकिन विश्वस्तरीय खेल में भरी उथल पुथल के समय में NW8 के रंग क्रिकेट से जुडी हर गलत चीज का प्रतिनिधित्व करते हैं और सबसे हानिकारक बिन्दुओं में सुधार करने के बजाय खेल के पारंपरिक मूल्यों को समाप्त कर रहें हैं."[11]

अप्रैल 2008 में मुंबई में इंडियन प्रीमियर लीग को एमसीसी के विपरीत पाया गया जब इसने क्लब की क्रिकेट भावना अभियान की निष्ठा पर वचन दिया. तब से एमसीसी ने ट्वेंटी 20 को लोर्ड'स में चालू रखा है.

क्लब के अधिकारी[संपादित करें]

अध्यक्ष का कार्यकाल बारह माह का होता है (एच आर एच ड्यूक ऑफ़ एडिनबर्ग ने दो बार इस कार्यकाल को पूरा किया है) हर अध्यक्ष के पास अपनी उत्तराधिकारी के पद पर बैठाने का अधिकार होता है.

  • अध्यक्ष: क्रिस्टोफर मार्टिन जेनकींस
  • क्लब के चेयरमेन: ओलिवर स्टोकेन
  • कोषाध्यक्ष: जस्टिन डोली
  • सचिव एवं मुख्य कार्यकारी: कीथ ब्रैडशॉ
  • एमसीसी समिति


इन्हें भी देखें[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. क्रिस रॉबर्ट्स, भारी शब्दों को हलके से कहा गया: कविता के पीछे कारण, थोर्न्दिके प्रेस, 2006 (ISBN 0-7862-8517-6).
  2. "Preface". Laws of Cricket. MCC. http://lords.org/laws-and-spirit/laws-of-cricket/preface,71,AR.html. 
  3. इसका एकमात्र प्रमाण 1837 का एक पोस्टर है जिसमें मैच एमसीसी की गोल्डन जुबली की घोषणा करता है.
  4. "फ्राम लेड्स टू लोर्ड'स". Archived from the original on 2011-06-29. http://archive.is/jR5s8.  . 19 जुलाई 2009 को पुनःप्राप्त.
  5. Williams, Glenys. "The colours of MCC". About MCC. Marylebone Cricket Club. http://www.lords.org/mcc/about-mcc/the-colours-of-mcc,1045,AR.html. अभिगमन तिथि: 19 July 2009. "William Nicholson continued to loan the Club substantial amounts for numerous projects over the next 30 years and was President of MCC in 1879. William Nicholson was the owner of the Nicholson's Gin Company, the colours of which were red and yellow. Although no written proof has yet been found there is a strong family tradition that the adoption of the red and gold was MCC's personal thank you to William Nicholson for his services to the club - sport's first corporate sponsorship deal perhaps!" 
  6. "MCC set to accept women". BBC. 27 September 1998. http://news.bbc.co.uk/1/hi/sport/cricket/181459.stm. 
  7. "MCC delivers first 10 maidens". BBC. 16 March 1999. http://news.bbc.co.uk/1/hi/uk/297853.stm. 
  8. "Five maidens join Lord's". BBC. 11 February 1999. http://news.bbc.co.uk/1/hi/sport/cricket/277627.stm. 
  9. Kelso, Paul (23 December 2005). "ECB in Knott over TV deal". London: The Guardian. http://football.guardian.co.uk/News_Story/0,1563,1673091,00.html. अभिगमन तिथि: 12 May 2010. 
  10. "England to limit coach's powers". BBC. 30 April 2007. http://news.bbc.co.uk/sport2/hi/cricket/england/6608545.stm. 
  11. Miller, Andrew (1 October 2008). "We're riding the crest of a cricket revolution". Cricinfo. http://content-www.cricinfo.com/magazine/content/story/371969.html. अभिगमन तिथि: 2010-02-19. 

आगे पढ़ें[संपादित करें]

  • हैरी अल्थम, अ हिस्ट्री ऑफ़ क्रिकेट, खंड 1 (1914 तक), जॉर्ज एलेन और अनविन, 1962.
  • डेरेक बिरले, अ सोशल हिस्ट्री ऑफ़ इंग्लिश क्रिकेट , ओरम, 1999
  • रोलैंड बोवन ' क्रिकेट: अ हिस्ट्री ऑफ़ इट्स ग्रोथ एंड डवलपमेंट, आयर और स्पोटिस वोड 1970
  • जीबी बकले
    • फ्रेश लाईट ऑन 18 सेंक्चुरी क्रिकेट , कोतेरेल , 1935
    • फ्रेश लाईट ऑन प्री-विक्टोरियन क्रिकेट , कोतेरेल, 1937
  • डेविड फर्थ, द गोल्डन एज ऑफ़ क्रिकेट 1890-1914, लुट्वार्थ, 197
  • आर्थर हेगार्थ स्कोर और आत्मकथाएँ, खंड 1 (1744-1826), लिलीव्हाईट, 1862.
  • जॉन मेजर, मोर देन अ गेम , हार्पर कॉलिन्स , 2007
  • ग्रीम राइट, 2005, विज्डन एट लोर्ड'स विज्डन.
  • स्टीफन ग्रीन लोर्ड'स कैथेड्रल ऑफ़ क्रिकेट द हिस्ट्रीप्रेस लिमिटेड, 2003

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]