अखिल भारतीय मुस्लिम लीग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(मुस्लिम लीग से अनुप्रेषित)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
ऑल इंडिया मुस्लिम लीग का ध्वज

अखिल भारतीय मुस्लिम लीग (ऑल इंडिया मुस्लिम लीग) ब्रिटिश भारत में एक राजनीतिक पार्टी थी और उपमहाद्वीप में मुस्लिम राज्य की स्थापना में सबसे कारफरमा शक्ति थी। भारतीय विभाजन के बाद ऑल इंडिया मुस्लिम लीग इंडिया में एक महत्वपूर्ण दल के रूप में स्थापित रही। खासकर कीरलह दूसरी पार्टियों के साथ शामिल हो कर सरकार बनाने की. पाकिस्तान के गठन के बाद मुस्लिम लीग अक्सर मौकों पर सरकार में शामिल रही।

आधार[संपादित करें]

उपमहाद्वीप में मुसलमानों सरकार का अंत हो चुका था और भाग्य के सितम ऋरीफ़े के कारण १८५७ के स्वतंत्रता भी मुसलमान हार चुके थे अंग्रेजों ने चूंकि सरकार मुसलमानों से छीनी थी और गदर में भी मुसलमान ही पेश पीस थे इसलिए अंग्रेजों ने मुसलमानों पर ज़ुल्म व सितम की नज़र मज़कोर कर ली लाखों मुसलमानों को भी हमदर्दी से फांसी देकर मौत की घाट उतार ओया गया उनकी जायीदाएं सब् कर ली गई सरकारी नीतियां कुछ इस तरह तय कीं कि मुसलमानों का कारोबार नष्ट होने लगा वह मुसलमान जो बड़े ईलेशान महलों में शानदार इशरत जीवन व्यतीत करते थे आ ख वही मुसलमान टूटे फूट छोटे छोटे मकानून में रेखा जीवन जीने पर मजबूर हो गए अंग्रेज़ देश में अंग्रेजी शिक्षा चालू कर मुसलमान अपने बच्चों को अंग्रेजी शिक्षा नहीं दूधपीता चाहते थे क्योंकि वह गैर मुस्लिम आस्ताज़ह अपने बच्चों का प्रशिक्षण नहीं करवाना चाहते थे दूसरे यह कि अंग्रेज ने मकाराना सोच को बरोये कार लाते हुए स्कूलों से अरबी और फ़ारसी को समाप्त कर अंग्रेजी को चालू किया और साथ ही शुक्रवार की नमाज़ के लिए चिट्ठी देने से इनकार कर दिया इसलिए मुसलमानों ने अंग्रेजी शिक्षा का बहिष्कार किया जिससे उन्हें कोई सरकारी नौकरी नहीं मिलती थी किस्सा संक्षेप में, भारतीय मुसलमान शिक्षा, सामाजिक, राजनीतिक और आर्थिक रूप से पतन विकासशील थे दूसरी ओर हिंदू अंग्रेज की चापलोसी कर और राजा मोहन राय जैसे हमदर्द और निष्ठा नेता की बदौलत अंग्रेजी पढ़ाई कर अंग्रेजों का नूर नजर बन गए थे अंग्रेज सभी मुहर बानियां पर थीं और उसके साथ कठी पतली विपक्ष और हिंदू हितों परस्त पार्टी के गठन के लिए अंग्रेज कानों दान ह्यूम ने अखिल भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस बनाई जो देखने से तो हिंदू मुस्लिम दोनों की पार्टी होने का दावा करती थी लेकिन वास्तव में केवल हिंदू मत के प्रतिनिधि दल था जो खुद को अंग्रेज का पसर मानती थी और अंग्रेज के बाद भारतीय मैन हिंदू राज विन्यास कर के मुसलमानाने हिंद अपना गुलाम बनाना चाहते हती थी तब मुसलमानों ने अपने अधिकारों की रक्षा के लिए १९०६ में ढाका स्थान पर ऑल इंडिया मुस्लिम लीग की स्थापना की। ऑल इंडिया मुस्लिम लीग का गठन १९०६ में ढाका स्थान पर अमल में आया। महमडिं शैक्षणिक सम्मेलन के वार्षिक अधिवेशन के समाप्त होने पर उपमहाद्वीप के विभिन्न राज्यों से आए मुस्लिम ईतिदीन ने ढाका नवाब सलीम अल्लाह खान की निमंत्रण पर एक विशेष सम्मेलन की। बैठक में फैसला किया गया कि मुसलमानों की राजनीतिक मार्गदर्शन के लिए एक राजनीतिक पार्टी का गठन किया जाए. याद रहे कि सर सैय्यद ने मुसलमानों को राजनीति से दूर रहने का सुझाव दिया था। लेकिन बीसवीं सदी के आरंभ से कुछ ऐसी घटनाओं उत्पन्न होने शुरू हुए कि मुसलमान एक राजनीतिक मंच बनाने की जरूरत महसूस करने लगे। ढाका बैठक की अध्यक्षता नवाब प्रतिष्ठा आलमलك ने की। नवाब मोहसिन आलमल कि; मोलानामहमद अली जौहर, मौलाना जफर अली खान, हकीम अजमल खां और नवाब सलीम अल्लाह खान समेत कई महत्वपूर्ण मुस्लिम आबरीन बैठक में मौजूद थे। मुस्लिम लीग का पहला राष्ट्रपति सर आग़ा खान को चुना गया। केंद्रीय कार्यालय अलीगढ़ में स्थापित हुआ। सभी राज्यों में शाखाएं बनाई गईं. ब्रिटेन में लंदन शाखा का अध्यक्ष सैयद अमीर अली को बनाया गया।[1]

मुस्लिम लीग की स्थापना के कारणों[संपादित करें]

हिंदू भेदभाव: हिन्दू ज़हनयत हमेशा भेदभाव से पर है हिन्दू मुसलमानों को खुद से कम जानते थे मुसलमानों ने उन पर क्योंकि कई सौ साल सरकार की थी इसलिए वह मुसलमानों से बदला लेना चाहते थे हिन्दोस्तां अपने बाप की जागीर और भारतीय की राज गद्दी को अपनी माँ का मंगल सूत्र विचार करते थे वह मुसलमानों को अस्तित्व बुर दाशत नहीं कर सकते थे उनका दावा था कि या तो मुसलमान देश छोड़ कर उधर ही चले जाएं जहां उनके मूल आज़दा आए थे या फिर हिंदू धर्म स्वीकार कर लें बाद में हिन्दुओं ने भारी हाथ मुसलमानों को हिंदू बनाने के लिए शघटन और शधी जैसी थरिकें भी चलाएँ जो मुतअस्सिब हिन्दू ज़हनयत का मुंह बोलता प्रमाण थीं इसलिए हिन्दुओं के नॉर्वे व्यवहार को देखते हुए मुसलमानों को एक अलग राजनीतिक पार्टी मुस्लिम लीग बनाई। आरिया समाज आंदोलन और बंगाली साहित्य: हिन्दू ना केवल मुसलमानों का शारीरिक अस्तित्व मटता देखना चाहते थे बल्कि उनकी आत्मा को फ़ना कर देना चाहते थे उद्देश्य के तहत उन्होंने इस्लामी सभ्यता और संस्कृति पर भी वार किया बंगाली साहित्य में इस्लामी संस्कृति पर कीचड़ उछाला गया और आरिया समाज जैसी आन्दोलन चलाएँ गईं जिनका उद्देश्य था उर्दू भाषा और लिपि को खत्म करके उसकी जगह हिन्दी चालू की इस मुस्लिम संस्कृति पर हमला भी मुस्लिम राजनीतिक समझ की जागरूकता और मुस्लिम लीग की स्थापना का सूत्रधार साबित हुआ। गाय की बलि समस्या: हिन्दुओं ने मुसलमानों के धार्मिक समझमलात मैन भी खुली और अवैध घुसपैठ करते हुए गाय की बलि पर प्रतिबंध लगा देना चाहिए जिससे हिंदू मुस्लिम दंगों होने शुरू हो गए सो ऐसे समझमलात से नबरदआज़मा के भी मुस्लिम लीग की स्थापना को जरूरी बताया गया विभाजन बंगाल १९०५ मुस्लिम लीग की स्थापना का सबसे बड़ा कारण।

पाकिस्तान के लिए संघर्ष[संपादित करें]

मुस्लिम लीग पाकिस्तान में[संपादित करें]

  1. पीएमएल एन
  2. पीएमएल क्यू
  3. मुस्लिम लीग मैं

मुस्लिम लीग भारत में[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]