मुल्तानी मिट्टी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुल्तानी मिट्टी (Fuller's earth) एक प्रकार की मिट्टी है। इसका उपयोग पुराने समय से बाल धोने आदि के लिये किया जाता रहा है। आधुनिक काल में भी इसे स्नान करने, फेस पैक आदि के लिये प्रयोग करते हैं। चर्मरोगों को समाप्त करने एवं त्वचा को मुलायम रखने में बहुत सहायक है। ब्रिटेन में इसे ऊन उद्योग में प्रयोग किया जाता था।

मुल्तानी मिट्टी

अगर आप महंगे-महंगे ब्यूटी प्रोडक्ट, शैम्पू, ऑलिव ऑयल का इस्तेमाल करते हुए थक चुकी हैं, फिर भी आपको कोई फ़ायदा नहीं हुआ है तो एक बार मुल्तानी मिट्टी ज़रूर इस्तेमाल करके देखें। जानी-मानी सौन्दर्य विशेषज्ञ भारती तनेजा का कहना है कि मुल्तानी मिट्टी सौन्दर्य का ख़ज़ाना है। ये नेचुरल कंडीशनर भी है और ब्लीच भी। ये सौन्दर्य निखारने का सबसे सस्ता और आयुर्वेदिक नुस्खा है। साथ-ही मुल्तानी मिट्टी सभी फेस पैक का बेस होती है। चेहरे पर मुल्तानी मिट्टी का लेप लगाने से रंगत निखरती है और बालों में लगाने से वे घने, मुलायम और काले हो जाते हैं। मुहांसों की समस्या से परेशान लोगों के लिए तो मुल्तानी मिट्टी सबसे कारगर इलाज है, क्योंकि मुल्तानी मिट्टी चेहरे का तेल सोख लेती है, जिससे मुहांसे सूख जाते हैं।

तैलीय त्वचा के लिए मुल्तानी मिट्टी में दही और पुदीने की पत्तियों का पाउडर मिला कर उसे आधे घंटे तक रखा रहने दें, फिर अच्छे से मिला कर चेहरे और गर्दन पर लगाएं। सूखने पर हल्के गर्म पानी से धो दें। ये तैलीय त्वचा को चिकनाई रहित रखने का कारगर नुस्खा है। एक चम्मच मुल्तानी मिट्टी पाउडर में एक अंडे का सफेद भाग और पुदीने की पत्तियों को पीसकर पेस्ट बना लें। ये पैक हफ्ते में तीन बार लगाएं। इससे मुहांसे और झुर्रियां ठीक हो जाएंगी। हर प्रकार की त्वचा के लिए दो बड़े चम्मच मुल्तानी मिट्टी में एक अंडे का सफेद भाग, दो बड़े चम्मच दही, थोड़ा-सा बेकिंग पाउडर और एक चम्मच शहद को मिला कर चेहरे पर 15 से 20 मिनट तक लगाएं। इससे चेहरे का रंग साफ होता है और चेहरे पर ग्लो भी आता है। मुंहासों के दाग़ घटाने लिए मुल्तानी मिट्टी में नीम की पत्तियों को पीसकर पेस्ट बना लें और चेहरे के दाग-धब्बों पर लगाएं। 15 दिनों में ही असर दिखेगा। धूप में झुलसी त्वचा को ठीक करने के लिए मुल्तानी मिट्टी को गुलाब जल या टमाटर के रस में मिला कर लगाएं। मुल्तानी मिट्टी में, सूखे संतरे के छिलकों का पाउडर, जई का आटा मिलाकर चेहरे और गर्दन पर लगाएं। इस पैक को रोज़ लगाने से रोम छिद्र साफ होते हैं और मुंहासे नहीं होते। रूखी त्वचा पर मुल्तानी मिट्टी में चन्दन पाउडर या कैलामाइन पाउडर मिला कर लगाएं, इससे चेहरे की नमी बनी रहेगी। रूखे और बेजान बालों को नई जान देने के लिए गुनगुने पानी में थोड़ा-सा रिफाइंड तेल गर्म पानी डाल कर उसे बालों की जड़ों में लगाकर मालिश करें। इसके बाद बालों का जूड़ा बनाकर पूरे सिर को प्लास्टिक कैप या तौलिए से एक घंटे तक ढक कर रखें। फिर बालों में मुल्तानी मिट्टी का लेप लगाएं, आधे घंटे बाद गुनगुने पानी से धो दें। कुछ देर बाद सिर को माइल्ड शैम्पू से धोएं और बालों में थोड़ा-सा तेल लगाकर उन्हे सुखने दें।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]