मामूट्टी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Mammootty (മമ്മൂട്ടി)
Mamooty.jpg
जन्म नाम Muhammed Kutty
जन्म 7 सितम्बर 1948 (1948-09-07) (आयु 66)
Chempu (Kottayam district), Travancore-Cochin, India
अन्य नाम Mammukka, Mammoose
व्यवसाय Actor
कार्यकाल 1979-Present
जीवनसाथी Zulfath Mammootty
सन्तान Surmi
Salman
माता-पिता Ismail
Fatima
आधिकारिक जालस्थल http://www.mammootty.com


मामूट्टी (मलयालम: മമ്മൂട്ടി) (जन्म नाम मोहम्मद कुट्टी, जन्म -[1]7 सितंबर,1948[1]) एक पुरस्कृत भारतीय अभिनेता हैं जो मुख्य रूप से मलयालम सिनेमा में अभिनय करते हैं। अपने पच्चीस वर्षों से भी अधिक के कैरियर के दौरान, उन्होंने शीर्ष अभिनेता के रूप में 300 से अधिक फिल्मों में अभिनय किया है और[2]मुख्यधारा[3][1]समानांतर सिनेमा[1], दोनों में सफल रहे हैं।


मामूट्टी ने अपने प्रदर्शन के लिए कई प्रमुख पुरस्कार प्राप्त किये हैं। इनमें तीन राष्ट्रीय पुरस्कार, चार राज्य पुरस्कार और सर्वश्रेष्ठ अभिनेता की श्रेणी में आठ फ़िल्म फेयर पुरस्कार शामिल हैं। 1998 में, भारत की सरकार ने उन्हें भारतीय सिनेमा में उनके उत्कृष्ट योगदान के लिए पद्म श्री से सम्मानित किया।


मामूट्टी मलयालम संचार व्यवस्था के भी अध्यक्ष हैं, जोकि मलयालम टीवी चैनल जैसे Kairali TV, People TV और WE TV प्रसारित करता है।[4] अपने पाठकों के बीच एक सर्वेक्षण के पश्चात्, वनिता पत्रिका ने सबसे ज्यादा सेक्स अपील वाले अभिनेता के रूप में मामूट्टी को चुना है।[5]मामूट्टी ने पूरे केरल में मानवीय प्रेम को बढ़ावा दिया है और वे अक्षय परियोजना के सदभावना राजदूत है।[6]


अनुक्रम

परिवार तथा प्रारंभिक जीवन[संपादित करें]

मामूट्टी का जन्म 7 सितम्बर 1948 को भारत के पुराने राज्य त्रावणकोर-कोचीन के कोट्टायम जिले में वाईकॉम के पास इस्माईल-एक कृषक तथा फातिमा-एक गृहिणी के एक मध्यम वर्गीय मुस्लिम परिवार में हुआ था। अपने भाई बहनों के साथ, उनकी परवरिश चेम्पू, वाईकॉम में हुई. उन्होंने उच्च विद्यालय तक की शिक्षा महाराजा कॉलेज, कोच्चि, से ग्रहण की तथा तत्पश्चात एर्नाकुलम गवर्नमेंट लॉ कॉलेज में कानून का अध्ययन किया। उन्होंने मंजेरी में दो साल के लिए वकालत का अभ्यास भी किया। उनकी शादी 1980 में सुल्फथ से हुयी और उनकी एक बेटी, सुरुमी और एक बेटा, दुल्कार सलमान है।[1]


अभिनय कैरियर[संपादित करें]

प्रारंभिक कैरियर, 1971-1980[संपादित करें]

मामूट्टी पहली बार 1971 में एस सेथुमाधवन द्वारा निर्देशित अनुभवंगल पालिचाकल, में पर्दे पर दिखे. लेकिन उनकी भूमिका महत्वहीन थी[7] वे उस समय महाराजा कॉलेज में छात्र थे। 1973 में उन्हें, के. नारायणन द्वारा निर्देशित, प्रेम नज़ीर की फिल्म कालचक्रम में एक भूमिका मिली.


उनका व्यावसायिक फिल्म कैरियर 1979 में शुरू हुआ, जब उन्होनें दिग्गज एम.टी. वासुदेवन नायर द्वारा निर्देशित देवलोकम में अपनी पहली प्रमुख भूमिका निभाई.[8] यद्धपि, इस फिल्म को कभी रिलीज़ नहीं किया गया।


1980[संपादित करें]

एम.टी. वासुदेवन नायर द्वारा लिखित तथा एम. आजाद द्वारा निर्देशित विल्कानुंडू स्वप्ननंगल, मामूट्टी की पहली उल्लेखनीय फिल्म थी। के.जी. जॉर्ज द्वारा निर्देशित मेला, जिसमें उन्होंने एक सर्कस कलाकार की भूमिका निभायी और आई.वी. शशि द्वारा निर्देशित तृष्णा, ने उन्हें एक नायक के रूप में पहचान दिलाई.


1982 में एक पुलिस अधिकारी की भूमिका में के.जी. जॉर्ज द्वारा निर्देशित जासूसी थ्रिलर यवनिका (1982) एक नए ट्रेंड की शुरुआत थी, जिससे आने वाले सालों में मामूट्टी को कई जासूसी थ्रिलर तथा एक्शन फिल्मों में एक सख्त पुलिस वाले की भूमिका निभाने का अवसर मिला.[9]


1981 में, उन्हें अहिंसा में अपने अभिनय के लिए सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता की श्रेणी में अपना पहला राज्य पुरस्कार मिला.


1982 - 1984 की अवधि में मामूट्टी ने खुद को मुख्यधारा मलयालम सिनेमा में एक व्यावहारिक नायक के रूप में विकसित किया। पद्मराजन की कूडेविदे और जोशी की आ रात्री बॉक्स ऑफिस पर बेहद सफल रहीं. आल्कूताथिल थानिये और अदियोज्हुक्कुकल, जिनकी पटकथा एम्.टी. वासुदेवन नायर ने लिखी थी, जैसी फिल्मों में उनके अभिनय ने उन्हें एक सुद्ढ़ अभिनेता के रूप में स्थापित किया।[10] .


1982 से 1986 तक की पांच वर्ष की अवधि में मामूट्टी ने नायक के रूप में 150 से अधिक फिल्मों में अभिनय किया।[11]


आई.वी. शशि द्वारा निर्देशित तथा एम्.टी. द्वारा लिखित अदियोज्हुक्कुकल में करुनन की भूमिका में उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेता की श्रेणी में राज्य पुरस्कार और फ़िल्म फेयर पुरस्कार मिला. मामूट्टी ने बालू महेंद्रा द्वारा निर्देशित यात्रा के लिए स्टेट स्पेशल ज्यूरी पुरस्कार और सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का फ़िल्म फेयर पुरस्कार जीता जिसमें उन्होंने एक वन अधिकारी की भूमिका निभाई थी। 1985 में, जोशी द्वारा निर्देशित तथा डेनिस जोसफ द्वारा लिखित निराक्कूट्टू में रवि वर्मा की भूमिका में उन्हें अत्याधिक प्रशंसा मिली तथा इसने बॉक्स ऑफिस पर इतिहास भी रचा।


मामूट्टी ने 1987 में रिलीज नई दिल्ली और थानियावार्थानाम के साथ वापसी की. नई दिल्ली एक अभिनेता के रूप में उनके जीवन की बहुत महत्वपूर्ण फिल्म थी।[12] यह फिल्म थोड़ीबहुत "इरविंग वैलेस द्वारा लिखित "द अल्माईटी" उपन्यास पर आधारित थी।[13]


1980 व 1990 के दशक[संपादित करें]

1988 में मामूट्टी ने मलयालम सिनेमा के इतिहास की सबसे बड़ी हिट फिल्म ओरु सीबीआई डायरी कुरिप्पू दी. ओरु सीबीआई डायरी कुरिप्पू ने केरल तथा तमिलनाडु में बॉक्स ऑफिस पर इतिहास कायम किया। पहली सीबीआई फिल्म ओरु सीबीआई डायरी कुरिप्पू की अपार सफलता के पश्चात् इन्हीं कलाकारों के साथ तीन और मर्डर मिस्ट्री सीक्वल्स तैयार किये गए: जग्राथा (1989), सेथुरामा अय्यर सीबीआई (2004) और नेरारियाँ सीबीआई (2005), सभी का निर्देशन के.मधु व लेखांकन एस.एन.स्वामी ने किया तथा मामूट्टी ने सेथुरामा अय्यर - एक बुद्धिमान किन्तु साधारण से दिखने वाले सीबीआई ऑफिसर का किरदार निभाया. एम.टी. वासुदेवन नायर की दो आत्मकथात्मक फिल्में मामूट्टी द्वारा अभिनीत हैं। एक थी आई.वी.शशि द्वारा निर्देशित अक्षारंगल तथा दूसरी हरिकुमार द्वारा निर्देशित सुकृथम .


मामूट्टी ने ओरु वदक्कन वीरगाथा फिल्म से अपने कैरियर के शिखर को छुआ. यह फिल्म टी. हरिहरन द्वारा निर्देशित और एम.टी.वासुदेवन नायर द्वारा लिखी गई थी। चेकावर (सशस्त्र योद्धा) में उनके विशिष्ट साहसिक किन्तु परिस्थितियों द्वारा अपमानित किरदार का चित्रण करने के लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार मिला. मामूट्टी को फिल्म में मुख्य भूमिका के लिए जोरदार प्रोत्साहन मिला. मामूट्टी के अभिनय के लिए अडूर गोपालकृष्णन द्वारा निर्देशित मथिलुकल पर भी इस पुरस्कार के लिए विचार किया गया। आई.वी. शशि द्वारा निर्देशित मृगया में एक शिकारी वारूणी के रूप में उनकी भूमिका और एक अन्य फिल्म महायानाम भी राज्य पुरस्कार के लिए नामित की गयीं.मामूट्टी ने भाराथान द्वारा निर्देशित अमरम के लिए फ़िल्म फेयर पुरस्कार जीता.


इस दौरान, मामूट्टी अडूर गोपालकृष्णन द्वारा निर्देशित कई फिल्मों में काम कर चुके थे। उन्होंने उनकी तीन फिल्मों अनान्थाराम ('समय से आगे'), मथिलुकल ('दीवारें') और विधेयन ('गुलाम') में अभिनय किया। मथिलुकल (प्रमुख मलयालम उपन्यासकार वाईकॉम मुहम्मद बशीर के उपन्यास 'मथिलुकल' पर आधारित) में नायक के रूप में उनके चित्रण ने उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के लिए अपना पहला राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जीतने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई. मामूट्टी ने अडूर गोपालकृष्णन की विधेयन और टी वी चंद्रन की पोंथान माडा में भी किरदार निभाया है। दोनों फिल्मों में उनकी भूमिकाओं में उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार और राज्य पुरस्कार मिला. उनके द्वारा अभिनीत व कोचीन हनीफा द्वारा निर्देशित वल्त्सल्यम भी राज्य पुरस्कार के लिए नामित हुई. द किंग, जिसकी पटकथा रेन्जी पणिक्कर ने लिखी तथा शाजी कैलाश द्वारा निर्देशन किया गया, को 1995 में रिलीज़ किया गया।


वर्तमान काल, 2000[संपादित करें]

मामूट्टी ने सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का अपना तीसरा राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार डॉ॰ बाबा साहेब अम्बेडकर के लिए जीता. यह अम्बेडकर के जीवन के बारे में अंग्रेजी भाषा की फिल्म थी जिसे जब्बार पटेल ने निर्देशित किया था।[14] फिल्म को भारत के राष्ट्रीय फिल्म विकास प्राधिकरण और सामाजिक न्याय मंत्रालय द्वारा प्रायोजित किया गया था।

जब्बार पटेल की अम्बेडकर और मामूट्टी पर टिप्पणियाँ:

Anyone who has seen the film will agree that Dr Ambedkar could not have been possible without Mammootty. How did the filmmaker settle on him? I was making a film in English and I went all around the world, met and saw actors in Canada, United States and United Kingdom. Physically, many actors in America came close but I was not sure about how they would portray the whole sensibility and inner turmoil. I was also not happy about the gestures. I had shortlisted 2-3 people and knew that it would be troublesome as I would have to get them here and train them. So I was not really happy. Then I decided to do something about Mammootty, who was hiding in my mind for a very long time.



मामूट्टी की आरंभिक 2000 की व्यावसायिक फिल्मों में क्रोनिक बैचलर (2003) और सेथुरामा अय्यर सीबीआई (2004) शामिल हैं। मामूट्टी ने काज्चा में ऑपरेटर माधवन के अभिनय के लिए सर्वश्रेष्ठ राज्य अभिनेता का पुरस्कार जीता. नए निर्देशक अनवर रशीद द्वारा निर्देशित राजमानिक्यम को मलयालम सिनेमा इतिहास की तब तक की बड़ी हिट फिल्म माना गया।[15] 2006 में, मामूट्टी ने थुरुप्पुगुलन नामक फिल्म की जिसका किरदार गुलन बच्चों में अत्याधिक लोकप्रिय हुआ तथा बच्चों की कॉमिक्स में 'सुपर गुलन' नाम के चरित्र की एक कार्टून श्रृंखला शुरू की गयी।[16]


मामूट्टी की एक्शन कॉमेडी मायावी 2007 की सर्वाधिक कमाई वाली फिल्म बनी. उन्होनें श्यामाप्रसाद की ओरे काडाल (2007) में डॉ॰ नाथन का किरदार निभाया.


2008 में, मामूट्टी की अन्नान ताम्बी राज्य भर में 75 केंद्रों में रिलीज़ हुई और इसने लगभग 61 केंद्रों में 50 दिन पूरे किए. इसे मलयालम फिल्मों की सबसे बड़ी हिट माना गया तथा इसने राजमानिक्यम का रिकॉर्ड तोड़ दिया.[17]


अन्य भाषाओं की फिल्में[संपादित करें]

मामूट्टी ने कुछ गैर मलयालम फिल्मों में अभिनय किया है और इनमें तमिल, तेलुगु, हिंदी और अंग्रेजी फिल्में शामिल हैं। 1989 में के. मधु के निर्देशन में बनी मौनम् सम्मथं, से उन्होनें तमिल फिल्मों में अभिनय की शुरुआत की. उन्होनें तमिल फिल्म उद्योग के प्रथम श्रेणी के निर्देशकों के साथ काम किया है जैसे - के. बालचंदर (आज़्हगन) और मणि रत्नम (दलपति). तमिल सुपर स्टार रजनीकांत के साथ दलपति में उनके प्रदर्शन ने उन्हें तमिल दर्शकों में लोकप्रिय कर दिया.[कृपया उद्धरण जोड़ें] फाज़िल के निर्देशन में बनी किलिप्पेछु केक्कावा (1993) ने मामूट्टी को रोमांटिक हीरो के दुर्लभ अवतार में पेश किया।[कृपया उद्धरण जोड़ें] 1995 में आर.के. सेल्वामणि द्वारा निर्देशित मक्कल आत्ची जबरदस्त ब्लॉकबस्टर रही.[कृपया उद्धरण जोड़ें] राजीव मेनन द्वारा निर्देशित कन्दुकोंदैन कन्दुकोंदैन में, कप्तान बाला के रूप में ऐश्वर्य राय के साथ उनके प्रदर्शन से भारी भीड़ जुटी.[कृपया उद्धरण जोड़ें] एन. लिंगुस्वामी द्वारा निर्देशित आनंदम में मामूट्टी ने एक पारिवारिक व्यक्ति की भूमिका की थी।


मामूट्टी ने तमिल भाषा की कुछ भूल देने वाली फिल्मों में अभिनय किया है। पुथायल (1996)(खजाने की खोज पर एक फिल्म), जूनियर सीनियर (2002)(एक प्रेम त्रिकोण), विस्वतुलसी (2004) (एक परिपक्व प्रेम कहानी) - सभी प्रभावशाली स्टार कास्ट के साथ बनाई गयीं लेकिन सभी फिल्मों का प्रदर्शन ख़राब रहा तथा व्यवसायिक रूप से बुरी तरह पिटीं.


उन्होनें हिंदी फिल्मों में अपना अभियान [1989] में त्रियात्री के माध्यम से किया। हालांकि, नायक के रूप में अपनी पहली बॉलीवुड फिल्म, धरतीपुत्र नहीं चली, फिर भी राष्ट्रीय स्तर पर जब्बार पटेल द्वारा निर्देशित बाबा साहेब अम्बेडकर की जीवनी पर आधारित फ़िल्म के द्वारा अपने अभिनय का परिचय दिया. मामूट्टी की सौ झूठ एक सच को आलोचकों की प्रशंसा मिली लेकिन फिल्म बॉक्स ऑफिस पर नहीं चली. मामूट्टी की तेलुगु फिल्म स्वाती किरनम एक लीक से अलग हट कर बनी फ़िल्म थी जिसे दर्शकों और आलोचकों ने सराहा.


अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सवों में दिखाई गयीं फिल्में[संपादित करें]

फिल्म मथिलुकल ('द वाल्स') को लगभग 40 अंतरराष्ट्रीय फ़िल्म समारोहों में दिखाया जा चुका है तथा इसकी शुरुआत वेनिस से हुई थी। फिल्म के निर्देशक अडूर गोपालकृष्णन कहते हैं:

Among my films, it is Mathilukal which has invited the maximum number of international honors. The sincere co-operation by Mammootty, the actor has played a major role in the success of the movie".


इसे वेनिस अंतर्राष्ट्रीय फिल्म समारोह में अच्छी प्रतिक्रिया मिली और इसने 1990 में चार पुरस्कार जीते.


विधेयन मलयाली लेखक पॉल ज़कारिया के उपन्यास "भास्कर पत्तेलारुम इनते जीविथावुम" का सिनेमेटिक रूपांतरण है जिसमें दक्षिण कर्नाटक की पृष्ठभूमि में मालिक तथा गुलाम के तर्कों पर प्रकाश डाला गया है। फिल्म ने अंतर्राष्ट्रीय फिल्म समारोह रॉटरडैम में एशियाई सिनेमा के नेटवर्क प्रमोशन (NETPAC) के साथ साथ अत्यंत सम्मानजनक मैनहेम-हाईडलबर्ग अंतर्राष्ट्रीय फिल्म समारोह में इंटरफ़िल्म पुरस्कार भी जीता.


आईफा 2006 के दौरान टिप्पणियां[संपादित करें]

2006 में दुबई में आयोजित आईफा पुरस्कार समारोह के दौरान उनके विचारों/टिप्पणियों ने मीडिया और लोगों का ध्यान आकर्षित किया।[18] . उन्होनें खुले आम पूरी तरह से दक्षिण भारतीय फिल्मों की उपेक्षा के लिए आईफा पुरस्कार के आयोजकों की आलोचना की. मामूट्टी ने कहा कि बॉलीवुड फिल्म उद्योग खुद को अन्तर्राष्ट्रीय कहने से पहले दक्षिण भारतीय फिल्म उद्योग से प्रतिस्पर्धा के लायक बने.[19] उनकी टिप्पणी:

Indian cinema is not just Bollywood, and Hindi is not the only language. Why should our films be called South Indian cinema instead of being under the banner of Indian films?



मानवीय कार्य[संपादित करें]

मामूट्टी आधा दर्जन से अधिक परोपकारी परियोजनाओं में शामिल हैं जिनका उद्देश्य जरूरतमंद लोगों की मदद करना है।[20]


दर्द व दर्दनिवारक सेंटर[संपादित करें]

मामूट्टी दर्द व दर्दनिवारक केयर सोसाइटी के संरक्षक हैं।[21] यह केरल में एक धर्मार्थ संगठन है जो गंभीर कैंसर के मरीजों के जीवन की गुणवत्ता में सुधार लाने के उद्देश्य से बनाया गया है। उन्होनें कोझीकोड, भारत में स्थित दर्द व दर्दनिवारक केयर सोसाइटी के क्रिया कलापों में बढ़ चढ़ कर भाग लिया है।[22] हजारों लोग इस संस्था द्वारा प्रदत्त सेवायों से लाभान्वित हो रहे हैं। मामूट्टी ने अब एक अलग परियोजना के द्वारा सम्पूर्ण केरल में कैंसर पीड़ित लोगों को दर्द व दर्दनिवारक सहायता प्रदान की है।[23]


जीवन ज्योति[संपादित करें]

मामूट्टी, जीवन ज्योति - एक सामाजिक कार्य परियोजना के राजदूत हैं जिसका उद्देश्य ऐसे लोगों की सहायता करना है जिन्हें ऑप्थाल्मिक हार्ट (कार्डीआक) आर्थोपेडिक रोग, यकृत रोग, गुर्दे फ़ेल होने की बीमारी, हीमोफीलिया रोग, ENT विकारों के इलाज की आवश्यकता है।[कृपया उद्धरण जोड़ें]


स्ट्रीट इंडिया मूवमेंट[संपादित करें]

मामूट्टी एक चैरिटी परियोजना "स्ट्रीट इंडिया मूवमेंट" के सद्भावना राजदूत है, जिसका उद्देश्य बाल भिक्षावृति और बाल श्रम का उन्मूलन करना है। उन्होनें इस मूवमेंट की गतिविधियों को और बढ़ावा दिया है जिससे यह अनाथालयों और संस्थाओं के बच्चों की देखभाल करता है।[24]


काज्चा - मुफ्त नेत्र देखभाल तथा उपचार[संपादित करें]

काज्चा समाज के उपेक्षित और दलित लोगों को मुफ्त नेत्र देखभाल और उपचार देने का एक उपक्रम है। यह भारत में अपनी तरह का पहला कार्यक्रम है, जिसे 'अभिनेता के प्रशंसकों की एस्सोसिएशन' के नाम से आयोजित किया गया है। काज्चा 06-07,[25] को मामूट्टी के फैन वेलफेयर एस्सोसिएशन व मम्मूटी टाईम्स द्वारा लिटिल फ्लावर हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर तथा नेत्र बैंक केरल की एसोसिएशन के सहयोग से चलाया जाता है। इस परियोजना के अर्न्तगत, करीब 10,000 लोगों को मुफ्त नेत्र उपचार प्राप्त होगा और 1000 गरीब मरीजों को मोतियाबिंद की मुफ्त सर्जरी, लिटिल फ्लावर अस्पताल, अंगामली में कराने का अवसर प्राप्त होगा. इनमें से प्रत्येक सर्जरी की वास्तविक लागत 8000/- के आसपास है। इस के अलावा, सभी रोगियों, जिन्हें सर्जरी के लिए चुना गया है, को मुफ्त आवास, भोजन, दवाएं और परिवहन सुविधा दी जायेंगी. इस परियोजना में समाज में बाल अंधापन को रोकने के लिए विभिन्न कार्यक्रम भी शामिल है। सामाजिक और आर्थिक रूप से पिछड़े परिवारों के बच्चों को मुफ्त चश्मे बांटना इसकी प्रमुख गतिविधियों में से एक है। इसके लिए भारत के राष्ट्रपति के कार्यालय से प्राप्त विशेष निधि का उपयोग इस उद्देश्य के लिए किया जाएगा. इस परियोजना में नि:शुल्क नेत्र शिविर भी विभिन्न स्थानों पर आयोजित किये जायेंगे.[26]


खाद्य पदार्थ तथा वस्तुएं दान करना[संपादित करें]

ओणम 2007 के दौरान, मामूट्टी ने चिकनगुनिया द्वारा प्रभावित कोट्टायम जिले में कन्जिराप्पल्ली के निकट एक केरल गांव - पाराथोडू के हजारों परिवारों में खाद्य वस्तुएं दान कीं. इस बीमारी का सबसे बुरा प्रभाव इस गाँव पर पड़ा जिसके चलते पूरे राज्य में सर्वाधिक लोगों की मृत्यु इस गाँव के लोगों की हुयी.[27] एक संवाददाता सम्मेलन में मामूट्टी ने इस दान करने की प्रेरणा का वर्णन किया

I decided to do this because the village has lost the maximum number of people to chikunguniya in the state this year. And this is not a publicity event and I would not be going there to distribute it either. This is done to see that others also come to extend a helping hand to those who are suffering



स्मार्ट सिटी: दुबई इंटरनेट सिटी के साथ चर्चा[संपादित करें]

मामूट्टी और दुबई स्थित व्यवसायी एम.ए. युसूफ अली, दुबई इंटरनेट सिटी (डीआइसी) के अधिकारियों के साथ 3}कोच्चि में प्रस्तावित स्मार्ट सिटी परियोजना के लिए मिले.[28] मामूट्टी ने इंडो-एशियन समाचार सेवा में वर्णन किया:

I was in Dubai and held discussions with DIC officials. This was nothing official but I had a keen interest that investment should come to Kerala and I did what I could do



अक्षय : सूचना प्रौद्योगिकी प्रसार[संपादित करें]

अक्षय, सूचना प्रौद्योगिकी प्रसार परियोजना, केरल सरकार की परियोजना है जिसने सद्भावना राजदूत के रूप में मामूट्टी को चुना है।[29] उन्होनें औपचारिक रूप से यह भूमिका 26 फ़रवरी 2006 को एक वीडियो नेटवर्क कार्यक्रम के ज़रिये स्वीकार की जिसे राज्य के सभी जिला मुख्यालयों से जोड़ा गया था। [30] मामूट्टी इस अभियान को बढ़ावा देने के लिए प्रिंट व विज़ुअल मीडिया विज्ञापन तथा अन्य प्रचार माध्यमों में दिखेंगे जिससे अक्षय का सन्देश आम आदमी तक पहुंचेगा. उन्होंने स्पष्ट किया :

I am really happy to be associated with this unique project that promises to ring in wholesome change to the perceptions about Kerala as it seeks to make its presence felt in the digital era.[31]


मामूट्टी अब टीवी पर एक नई भूमिका में दिखाई दे रहे हैं।[32] उन्हें कंप्यूटर कीबोर्ड पर दक्षता हासिल करने या इंटरनेट ब्राउज़ करने पर सुझाव देते हुए देखा गया।[33]

If we manage to reach the benefits of information technology to the entire population, we would be able to raise ourselves to the levels of a developed society. I understand that the Akshaya project has been launched with this objective. I am sure this unique project will go to make the State a fully empowered knowledge society.[31]


अक्षय, जोकि केरल का बड़े स्तर पर कंप्यूटर साक्षरता अभियान है, ने कई पुरस्कार हासिल किये हैं, तथा इस प्रोग्राम को लोकप्रिय बनाने के लिए बहुभाषी सितारों को अनुबंधित किया है।[34] अब माइक्रोसॉफ्ट के साथ ई-लाइट-साक्षरता कार्यक्रम शुरू कर रहा है।[35]


टेलिविज़न कैरियर[संपादित करें]

वह मलयालम संचार के वर्तमान अध्यक्ष हैं,[36] जो कुछ मलयालम टीवी चैनल चलाता है, जैसे कैराली टीवी, पीपुल टीवी और चैनल WE.


मामूट्टी की एक टीवी प्रोडक्शन कंपनी मेगाबाइट्स है, जिसने कुछ टेलीविजन धारावाहिकों का निर्माण किया है। इनमें से पहला 1990 के अंतिम दौर में बना ज्वालायाय था जोकि एक निर्माता के तौर पर भी उनका पहला प्रोजेक्ट था।[37] . ज्वालायाय ने मलयालम टेलीविजन में इतिहास रचा।[38] उन्होनें मामूट्टी टेक्नोटेनमेंट नाम से एक डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी शुरू की.[39] इसने उनकी तमिल फ़िल्म कर्मेघम का केरल में वितरण किया है। इसे डिस्ट्रीब्यूशन राईट्स का पहला हिस्सा मिलता है।


अन्य गतिविधियाँ[संपादित करें]

16 अक्टूबर 2006 को मामूट्टी केरल स्थित साउथ इंडियन बैंक के ग्लोबल ब्रांड एंबेसेडर के रूप में नियुक्त हुए.[40][41] बैंक के चेयरमैन ने कहा कि मामूट्टी के अधिसंख्यक अप्रवासी भारतीय फैन और अभिनेता के रूप में उनकी अखिल भारतीय स्वच्छ छवि को देखते हुए ऐसा किया गया।[42][43]


प्रकाशन[संपादित करें]

मामूट्टी अपनी पहली पुस्तक काज्चापाडू के साथ लेखक बने. (सामान्य अनुवाद (परिदृश्य)) - लघु निबंधों का एक संकलन जिन्हें उन्होनें कई वर्षों के दौरान विभिन्न प्रकाशनों के लिए लिखा.[44]


पुरस्कार, सम्मान और प्रशंसा[संपादित करें]

नागरिक सम्मान[संपादित करें]

न. वर्ष पुरस्कार श्रेणी द्वारा सम्मानित किया नोट्स
001 1998 पद्म श्री कला, सिनेमा कला भारत सरकार

राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार[संपादित करें]

न. वर्ष श्रेणी भाषा फ़िल्में भूमिका (एँ)
003 1998 सर्वश्रेष्ठ अभिनेता अंग्रेज़ी डॉ॰ अम्बेडकर डॉ॰ अम्बेडकर
002 1993 सर्वश्रेष्ठ अभिनेता मलयालम विधेयन
पोंथान माडा
भास्कर पटेलर
माडा
001 1989 सर्वश्रेष्ठ अभिनेता मलयालम ओरु वदक्कन वीरगाथा, मथिलुकल छन्थु चेकावर, वाईकॉम मुहम्मद बशीर

राज्य फिल्म पुरस्कार[संपादित करें]

न. वर्ष श्रेणी भाषा फ़िल्में भूमिका (एँ)
006 2004 सर्वश्रेष्ठ अभिनेता मलयालम काज्चा माधवन
005 1993 सर्वश्रेष्ठ अभिनेता मलयालम विधेयन
पोंथान माडा
वाल्त्सल्यम
भास्कर पटेलर
माडा
राघवन नायर
004 1989 सर्वश्रेष्ठ अभिनेता मलयालम ओरु वदक्कन वीरगाथा
मृगया
महायानाम
छन्थु चेकावर
वारुणी
चंद्रू
003 1985 विशेष ज्यूरी पुरस्कार मलयालम यात्रा
निराक्कूट्टू
उन्नीकृष्णन
रवि वर्मा
002 1984 सर्वश्रेष्ठ अभिनेता मलयालम अदियोज्हुक्कुकल करुनन
001 1981 सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता मलयालम अहिंसा वासु

फिल्मफेयर पुरस्कार[संपादित करें]

न. वर्ष श्रेणी भाषा फ़िल्में भूमिका (एँ)
008 2006 सर्वश्रेष्ठ अभिनेता मलयालम करुथा पक्षिकल मुरुगन
007 2004 सर्वश्रेष्ठ अभिनेता मलयालम काज्चा माधवन
006 2001 सर्वश्रेष्ठ अभिनेता मलयालम अरयान्नागालुदे विदु रविंद्रनाथ
005 1997 सर्वश्रेष्ठ अभिनेता मलयालम भूथाक्कन्नाडी विद्याधरन
004 1991 सर्वश्रेष्ठ अभिनेता मलयालम अमरम अच्युतन कुट्टी
003 1990 सर्वश्रेष्ठ अभिनेता मलयालम मथिलुकल वाईकॉम बशीर
002 1985 सर्वश्रेष्ठ अभिनेता मलयालम यात्रा उन्नीकृष्णन
001 1984 सर्वश्रेष्ठ अभिनेता मलयालम अदियोज्हुक्कुकल करुनन

फिल्म आलोचकों के पुरस्कार[संपादित करें]

न. वर्ष श्रेणी भाषा फ़िल्में भूमिका (एँ)
009 2006 सर्वश्रेष्ठ अभिनेता मलयालम करुथा पक्षिकल
पलुन्कू
मुरुगन
मोनिचन
008 1997 विशेष पुरस्कार मलयालम भूथाकन्नादी विद्याधरन
007 1994 सर्वश्रेष्ठ अभिनेता मलयालम सुकृथम रवि शंकर
006 1992 सर्वश्रेष्ठ अभिनेता मलयालम सूर्यमानास्म
अयीराप्पारा
पप्पयुदेय स्वन्थं अप्पोसे
पुत्तुरुमीस
शौरी
बालचंद्रन
005 1990 सर्वश्रेष्ठ अभिनेता मलयालम ओरु वदक्कन वीरगाथा
मथिलुकल
मृगया
छन्थु चेकावर
वाईकॉम बशीर
वारुणी
004 1987 सर्वश्रेष्ठ अभिनेता मलयालम थानियावार्तानाम
नई दिल्ली
बाला गोपालन
जी. कृष्णामूर्ति
003 1985 सर्वश्रेष्ठ अभिनेता मलयालम यात्रा
निराक्कूट्टू
उन्नीकृष्णन
रवि वर्मा
002 1984 सर्वश्रेष्ठ अभिनेता मलयालम अक्षरंगल
कनामारायाथू
जयदेवन
राय वर्गीज
001 1982 सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता मलयालम यवनिका जैकब ईराली

वनिता पुरस्कार[संपादित करें]

न. वर्ष श्रेणी भाषा फ़िल्में भूमिका (एँ)
002 2002 सर्वश्रेष्ठ अभिनेता मलयालम करुथा पक्षिकल
कैयोप्पू
मुरुगन
बालचंद्रन
001 2004 सर्वश्रेष्ठ अभिनेता मलयालम काज्चा माधवन

अन्य प्रमुख सम्मान और प्रशंसा[संपादित करें]

न. वर्ष पुरस्कार द्वारा दिया गया नोट्स
001 2002 महान अभिनेता पुरस्कार फ़िल्म फेयर
002 2006 सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के लिए एवरेस्ट पुरस्कार एतिसलत
003 2005 बॉक्स ऑफिस हीरो वनिता
004 2004 चलचित्र रत्नम फिल्म आलोचक
005 2004 केरल के मेल सेक्स सिम्बल वनिता

विविध पुरस्कार[संपादित करें]

न. वर्ष पुरस्कार द्वारा दिया गया नोट्स
001 2004 एशिया पैसिफिक मेर्लियन पुरस्कार
002 2004 FOCCANA पुरस्कार FOCCANA (यूएसए)
003 विभिन्न सिनेमा एक्सप्रेस पुरस्कार द न्यू इंडियन एक्सप्रेस
004 विभिन्न एशियानेट फिल्म पुरस्कार एशियानेट
005 विभिन्न मातृभूमि पुरस्कार मातृभूमि
006 विभिन्न कला केरलम पुरस्कार कला केरलम
007 2004 सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के लिए अमृता पुरस्कार अमृता
008 1998 वी. शांताराम पुरस्कार वी. शांताराम फाउंडेशन
009 align="center" स्टार स्क्रीन पुरस्कार स्क्रीन वीकली
010 align="center" रामू करिअत पुरस्कार रामू करिअत फाउंडेशन
011 align="center" जैस्सी पुरस्कार जैस्सी फाउंडेशन
012 align="center" फिल्मी दर्शक पुरस्कार फिल्मी दर्शक
013 align="center" सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के लिए नाना पुरस्कार नाना पत्रिका

चयनित फिल्मोग्राफी[संपादित करें]


संदर्भ[संपादित करें]

  1. [3] ^ 'मामूट्टी बायो'
  2. [2] ^ मामूट्टी 300 नॉट आउट. MusicIndiaOnLine.com. 11 अप्रैल 2007. 30 अक्टूबर 2007 को देखी गई।
  3. [2] ^ मामूट्टी 300 नॉट आउट. MusicIndiaOnLine.com. 11 अप्रैल 2007. 30 अक्टूबर 2007 को देखी गई।
  4. [4] ^ मलयालम संचार निदेशक बोर्ड. Kairalitv.in ". 1 नवम्बर 2004 30 अक्टूबर 2007 को देखी गई।
  5. [5] ^ 'वनिता सर्वेक्षण सर्वाधिक कामुक अभिनेता के रूप में मामूट्टी को चुनता है
  6. [6] ^ मामूट्टी ने अक्षय नेटवर्क को जानदार बनाया. द हिंदू बिज़नेसलाइन. फरवरी 26, 2006. 30 अक्टूबर 2007 को देखी गई।
  7. [8] ^ 'मामूट्टी की फिल्मोग्राफी'
  8. [9] ^ मलयालम फ़िल्म उद्योग का दिग्गज हीरो. oneindia.in. 6 सितम्बर 2007 . 30 अक्टूबर 2007 को देखी गई।
  9. [10] ^ मामूट्टी 25वीं बार पुलिस वाला बनने जा रहे हैं। हिंदुस्तान टाइम्स. 06 सितंबर 2007. 30 अक्टूबर 2007 को देखी गई।
  10. [11] ^ पज्हस्सी राजा को श्रद्धांजलि. द हिंदू. 19 जनवरी 2007. 30 अक्टूबर 2007 को देखी गई।
  11. [12] ^ 1980 की मलयालम फिल्में वाईकीपीडिया. 30 अक्टूबर 2007 को देखी गई।
  12. [13] ^ मामूट्टी की लोकप्रिय फिल्में zonkerala.com. 19 जनवरी 2007. 30 अक्टूबर 2007 को देखी गई।
  13. [14] ^ "द अल्माईटी" द्वारा इरविंग वैलेस" biblio.com. 15 जनवरी 2005. 30 अक्टूबर 2007 को देखी गई।
  14. [15] ^ डॉ॰ बाबा साहब अम्बेडकर - फिल्म प्रीव्यू. Ambedkar.org. 30 अक्टूबर 2007 को देखी गई।
  15. [17] ^ राजमानिक्यम 'सर्वाधिक कमाई' की स्थिति की ओर अग्रसर [17] ^ My-Kerala.com News. 14 अप्रैल 2007. 30 अक्टूबर 2007 को देखी गई।
  16. [18] ^ थुरुप्पू गुलन - एक त्योहार IndiaGlitz शुक्रवार, अप्रैल 14, 2006. 19 जून 2009 को देखी गई।
  17. [19] ^ अन्नान थाम्बी : अनवर एक बार फिर भाग्यशाली साबित
  18. [25] ^ south-pawed!. द हिंदू. शुक्रवार, 07 Jul,2006. 19 जून 2009 को देखी गई।
  19. [26] ^ मामूट्टी आईफा में जम कर बरसे!. Sify Movies. मंगलवार, 20 जून 2006 . 19 जून 2009 को देखी गई।
  20. [28] ^ सामाजिक कार्यकर्ता के रूप में मामूट्टी. Mammoottylive.com. 25 फ़रवरी 2007 . 30 अक्टूबर 2007 को देखी गयी।
  21. [29] ^ दर्द और दर्दनिवारक केयर सोसायटी पेट्रंस painandpalliativecare.org.. जुलाई, 2007. 30 अक्टूबर 2007 को देखी गयी।
  22. [30] ^ दर्द और दर्दनिवारक केयर सोसाइटी का महत्त्व [30 ^] Painandpalliativecare.org. अक्टूबर, 2006. 30 अक्टूबर 2007 को देखी गयी।
  23. [31] ^ केरल की फॉर्म Amazon news
  24. [33] ^ मामूट्टी एक लक्ष्य के लिए [33] ^ द हिंदू शुक्रवार, 14 जुलाई,2006 . 19 जून 2009 को देखी गयी।
  25. [34] ^ मामूट्टी के फैन काज्चा 06-07 आयोजित करेंगे. Blockbusters.in. 23 जुलाई 2006. 30 अक्टूबर 2007 को देखी गयी।
  26. [35] ^ काज्चा 06-07 - मुफ्त नेत्र देखभाल और उपचार. Official Mammootty.com. 13 जुलाई 2006. 30 अक्टूबर 2007 को देखी गयी।
  27. [36] ^ मामूट्टी चिकनगुनिया प्रभावित गाँव में खाना दान करेंगे.
  28. [38] ^ मामूट्टी केरल में आईटी पार्क लाए. Ibnlive.com, IANS. 14 अप्रैल 2007 . 30 अक्टूबर 2007 को देखी गयी।
  29. [40] ^ अक्षय परियोजना पर सितारा चमका KeralaITmission.org 25 फ़रवरी 2006 . 30 अक्टूबर 2007 को देखी गयी।
  30. [41] ^ मामूट्टी ने अक्षय नेटवर्क में जान डाली. The Hindu Businessline. फरवरी 26, 2006. 30 अक्टूबर 2007 को देखी गयी।
  31. Mammootty is goodwill ambassador for Akshaya. The Hindu Business Line. February 21, 2006. Accessed October 30, 2007.
  32. [43] ^ मामूट्टी ने प्रभाव डाला ArabNews.com. 09 दिसम्बर 2006. 30 अक्टूबर 2007 को देखी गयी।
  33. [44] ^ मामूट्टी ने अक्षय को आम आदमी तक पहुँचाया. The Hindu Business Line .09 अक्टूबर 2006. 30 अक्टूबर 2007 को देखी गयी।
  34. [46] ^ मामूट्टी के ब्रांड एंबेसडर बनने से अक्षय के प्रचार में सहायता मिली है। द हिंदू. 03 नवम्बर 2006. 30 अक्टूबर 2007 को देखी गयी।
  35. [47] ^ माइक्रोसॉफ्ट, मामूट्टी केरल के लिए ई साक्षरता कार्यक्रम शुरू करेंगे. इंडो एशियन न्यूज सर्विस अंतिम अपडेट: 08 अप्रैल 2008 07:49:01.
  36. [48] ^ मलयालम संचार निदेशक बोर्ड. Kairalitv.in ". 1 नवम्बर 2004. 30 अक्टूबर 2007 को देखी गयी।
  37. [49] ^ "वे क्यों? विशेष रूप से जब वे एक सुपरहिट टेलीविजन धारावाहिक के निर्माण में व्यस्त हैं।" Rediff.com. 21 दिसम्बर 1998. 30 अक्टूबर 2007 को देखी गयी।
  38. मेगा धारावाहिक मेगा हिट्स. rediff.com. 28 अक्टूबर 2006. 30 अक्टूबर 2007 को देखी गयी।
  39. [51] ^ मामूट्टी की समझदार टेक्नोटेनमेंट ट्रिक Indiainfo.com मार्च 2002, 19 जून 2009 को देखी गयी।
  40. [52] ^ साउथ इंडियन बैंक ने मामूट्टी को ब्रांड एम्बेसडर बनाने की घोषणा की. SouthIndianBank.com. 16 अक्टूबर 2006. 30 अक्टूबर 2007 को देखी गयी।
  41. [53] ^ साउथ इंडियन बैंक ने पद्म श्री भारत मामूट्टी को ब्रांड एंबेसडर नियुक्त किया। moneycontrol.com. 16 अक्टूबर 2006. 30 अक्टूबर 2007 को देखी गयी।
  42. [54] ^ मामूट्टी ने बैंक के नए लोगो का अनावरण किया। SouthIndianBank.com. 05 फ़रवरी 2007. 30 अक्टूबर 2007 को देखी गयी।
  43. [55] ^ साउथ इंडियन बैंक ने नए लोगो का खुलासा किया। The Hindu Business Line. 05 फ़रवरी 2007. 30 अक्टूबर 2007 को देखी गयी।
  44. [56] ^ मामूट्टी से मिलो, लेखक. "Rediff.com ". 16 अगस्त 2006. 30 अक्टूबर 2007 को देखी गयी।


आगे पढ़ने के लिए[संपादित करें]


बाह्य लिंक्स[संपादित करें]