मातृवंश समूह ऍम

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
मातृवंश समूह ऍम की उपशाखाएँ विश्व भर में मिलती हैं

मनुष्यों की आनुवंशिकी (यानि जॅनॅटिक्स) में मातृवंश समूह ऍम या माइटोकांड्रिया-डी॰एन॰ए॰ हैपलोग्रुप M एक मातृवंश समूह है। इस मातृवंश समूह और मातृवंश समूह ऍन ने मानव इतिहास में बहुत बड़ा किरदार अदा किया है क्योंकि अफ़्रीका के बहार जितने भी मानव हैं वे इन दोनों या इनकी उपशाखाओं के वंशज हैं। मातृवंश समूह ऍम और मातृवंश समूह ऍन मातृवंश समूह ऍल३ की दो उपशाखाएँ हैं। माना जाता है के जब मनुष्य अफ़्रीका के अपने जन्मस्थल से पहली बार निकले तो जो महिला या महिलाएँ अफ़्रीका से बाहर निकलीं वे इसी मातृवंश समूह ऍल३ की वंशज थी। मातृवंश समूह ऍम की उपशाखाएँ विश्व भर में मिलती हैं। कुछ तो अफ़्रीका में भी मिलती हैं - इनपर वैज्ञानिकों में आपसी विवाद है के यह अफ़्रीका में उत्पन्न हुई या एशिया में उत्पन्न होने के बाद अफ़्रीका में जा पहुंची।[1][2][3][4][5][6][7][8]

अनुमान है के जिस स्त्री से यह मातृवंश शुरू हुआ वह आज से लगभग ६०,००० वर्ष पहले एशिया या पूर्वी अफ़्रीका की निवासी थी।

अन्य भाषाओँ में[संपादित करें]

अंग्रेज़ी में "वंश समूह" को "हैपलोग्रुप" (haplogroup), "पितृवंश समूह" को "वाए क्रोमोज़ोम हैपलोग्रुप" (Y-chromosome haplogroup) और "मातृवंश समूह" को "एम॰टी॰डी॰एन॰ए॰ हैपलोग्रुप" (mtDNA haplogroup) कहते हैं।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Rajkumar et al. (2005), Phylogeny and antiquity of M macrohaplogroup inferred from complete mt DNA sequence of Indian specific lineages, BMC Evolutionary Biology 2005, 5:26 doi:10.1186/1471-2148-5-26
  2. Thangaraj et al. (2006), In situ origin of deep rooting lineages of mitochondrial Macrohaplogroup 'M' in India, BMC Genomics 2006, 7:151
  3. Macaulay et al, V; Hill, C; Achilli, A; Rengo, C; Clarke, D; Meehan, W; Blackburn, J; Semino, O एवम् अन्य (2005). "Single, Rapid Coastal Settlement of Asia Revealed by Analysis of Complete Mitochondrial Genomes". Science 308 (5724): 1034–6. doi:10.1126/science.1109792. PMID 15890885. http://66.102.1.104/scholar?hl=en&lr=&q=cache:nfrkio5UPzMJ:www4.ncsu.edu/~womcmill/GenomeScience_Papers/Macaulayetal(2005)Science.pdf. : "Haplogroup L3 (the African clade that gave rise to the two basal non-African clades, haplogroups M and N) is 84,000 years old, and haplogroups M and N themselves are almost identical in age at 63,000 years old, with haplogroup R diverging rapidly within haplogroup N 60,000 years ago."
  4. Gonzalez et al. (2007), Mitochondrial lineage M1 traces an early human backflow to Africa, BMC Genomics 2007, 8:223 doi:10.1186/1471-2164-8-223
  5. Chandrasekar et al. (2007), YAP insertion signature in South Asia, Ann Hum Biol. 2007 Sep-Oct;34(5):582-6.
  6. Abu-Amero et al., KK; Larruga, JM; Cabrera, VM; González, AM (2008). "Mitochondrial DNA structure in the Arabian Peninsula". BMC evolutionary biology (BMC Evolutionary Biology) 8: 45. doi:10.1186/1471-2148-8-45. PMC 2268671. PMID 18269758. http://www.biomedcentral.com/1471-2148/8/45. 
  7. Kivisild, M; Kivisild, T; Metspalu, E; Parik, J; Hudjashov, G; Kaldma, K; Serk, P; Karmin, M एवम् अन्य (2004). "Most of the extant mtDNA boundaries in South and Southwest Asia were likely shaped during the initial settlement of Eurasia by anatomically modern humans". BMC genetics 5: 26. doi:10.1186/1471-2156-5-26. PMC 516768. PMID 15339343. http://www.biomedcentral.com/1471-2156/5/26/ABSTRACT%5D/ABSTRACT/COMMENTS/ADDITIONAL/COMMENTS/abstract/. 
  8. Kivisild et al., T; Rootsi, S; Metspalu, M; Mastana, S; Kaldma, K; Parik, J; Metspalu, E; Adojaan, M एवम् अन्य (2003). "The Genetic Heritage of the Earliest Settlers Persists Both in Indian Tribal and Caste Populations". American journal of human genetics 72 (2): 313–32. doi:10.1086/346068. PMC 379225. PMID 12536373.