महाराजा एक्सप्रेस

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

महाराजा एक्सप्रेस 2010 से भारतीय रेल द्वारा चलाई जाने वाली एक विलासिता ट्रेन है। यह इंडियन रेलवे कैटरिंग एण्‍ड टूरिज़म कॉर्पोरेशन द्वारा एक संयुक्त उद्यम है। सभी समावेशी लागत को मिलाकर इसका हर टिकट $800(लगभग 40000 रुपए)प्रति व्यक्ति प्रति दिन से लेकर $2,500 (लगभग 125000 रुपए) प्रति व्‍यक्ति प्रति दिन है।

महाराजा एक्सप्रेस की चार यात्रा कार्यक्रम हैं जो ज्यादातर दिल्ली से शुरूआत करके आगरा तक जाती है। फिर यह भारत की अन्य हिस्सों में भी जाती है। वहाँ पर प्राचीन स्मारकों, विरासत स्‍थल, आदि के दर्शन किया जाता हैं।

इस ट्रेन में 23 डिब्बे हैं, जो भारत की महाराजाओं की व्यक्तिगत जीवन की याद दिलाती हैं। इस ट्रेन में दो अत्यधिक सुंदर भोजनालय, एक अवलोकन लाउंज, एक यादगार वस्तुओं की दुकान और रहने के लिए 43 शानदार केबिन हैं।

इतिहास[संपादित करें]

इंडियन रेलवे कैटरिंग एण्‍ड टूरिज़म कॉर्पोरेशन और कॉक्स किंग्स इंडिया लिमिटेड, दुनिया के कुछ पुरानी यात्रा कंपनियों में से एक ने महाराजा एक्सप्रेस को चलाने के लिए एक संयुक्त उद्यम पर हस्ताक्षर किया।

महाराजा एक्सप्रेस भारत की सबसे कीमती विलासिता ट्रेन है। 2010 में अंतर्राष्ट्रीय रेलवे यात्रियों की सोसायटी द्वारा ट्रेन पर आवास और भोजन की सुविधा, सेवा, और बंद गाड़ी भ्रमण कार्यक्रम के लिए प्रशंसा की और 2011 में इसे विश्व की सबसे विलासिता वाली 25 ट्रेनों की सुची में नामित किया गया।

यात्रा कार्यक्रम[संपादित करें]

महाराजा एक्सप्रेस की चार यात्रा कार्यक्रम हैं

  • रॉयल इंडिया (8 दिन/7 रात्रि): दिल्ली - आगरा - रंथामबोर - जयपुर - बीकानेर - जोधपुर - उदयपुर - वडोदरा - मुम्बई
  • क्लासिकल इंडिया (7 दिन/6 रात्रि): दिल्ली - आगरा - ग्वालियर - खजुराहो - बांधवगढ़ - वाराणसी - लखनऊ - दिल्ली
  • प्रींसली इंडिया (8 दिन/7 रात्रि): मुंबई - वडोदरा - उदयपुर - जोधपुर - बीकानेर - जयपुर - रणथंभौर - आगरा - दिल्ली
  • रॉयल सजोर्ण (8 दिन / 7 रात्रि): दिल्ली - जयपुर - कोटा - रणथंभौर - आगरा - दिल्ली