भूटान की राजनीति

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भूटान के राजप्रमुख राजा अर्थातद्रुक ग्यालपो होता है, जो वर्तमान में जिग्मे सिंघे वांगचुक हैं। हलाकि यह पद वंशानुगत है लेकिन भूटान के संसद शोगडू के दो तिहाई बहुमत द्वारा हटाया जा सकता है। शोगडू में 154 सीटे होते हैं जिसमे स्थानीय रूप से चुने गये प्रतिनीधि (105), धार्मिक प्रतिनीधि (12) और राजा द्वारा नामांकित प्रतिनीधि (37), और इन सभी का कार्यकाल तीन वर्षों का होता है। राजा की कार्यकारी शक्तियाँ शोगडू के माध्यम से चुने गये मंत्रिपरिषद में निहित होती हैं। मंत्रिपरिषद के सदस्यों का चुनाव राजा करता है और इनका कार्यकाल पाँच वर्षों का होता है। सरकार की नीतियों का निर्धाण इस बात को ध्यान में रखकर किया जाता है कि इससे पारंपरिक संस्कृति और मूल्यों का संरक्षण हो सके। हलाकि भूटान में रहने वाले नेपाली मूल के [[अल्पसंख्यक समुदायों में कुछ असंतोष है जो अपनी संस्कृति पर भूटानी संस्कृति लादे जाने के खिलाफ हैं।