भिलावाँ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भिलावाँ या भिलावा या भल्लातक (वैज्ञानिक नाम : Semecarpus anacardium ; संस्कृत : अग्निमुख) एक वृक्ष है जो भारत के बाहरी हिमालयी क्षेत्र से लेकर कोरोमंडल तट तक पाया जाता है। इसे मराठी मे बिब्बा कहा जाता है। इसका काजू से निकट सम्बन्ध है। यह मुख्य रूप से हात पैर की मांसपेशीयो के दर्द से निजात दिलाने हेतु इस्तेमाल होता है। इसके फल को गर्म करके इसमें सुई चुभोई जाती है, इससे इसका तेल निकल आता है जिसे उसी सुई से हात या पैरों के तलवों और एड़ी पर लगाया जाता हैं। इसका उपयोग बड़ी सावधानी से करना पड़ता है क्योंकि अगर तलवों के अलावा अन्यत्र शरीर पर तेल लग जाये तो त्वचा पर फ़फोले आ सकते है। प्रायः इसके तेल को नाखूनो के बिच लगाया जाता है। इसकी सुपारी गर्भवती को खिलाई जाती है। इसके बिज मेवे की तरह खाये जाते है। इनकी तासिर गर्म होती है।

पठनीय[संपादित करें]