भाषा दर्शन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भाषा के दार्शनिक पक्ष पर मध्ययुग में भारत के अनेक विद्वानों ने ग्रन्थ रचे हैं। भर्तृहरि का वाक्यपदीय भाषादर्शन का महान ग्रन्थ है।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]