ब्लिट्जक्रेग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शब्द के दूसरे उपयोगों के लिए, इसे देखें: ब्लिट्जक्रेग (अन्य अर्थ)

A medium tank advancing through a field surrounded by German soldiers.
जिसे आम तौर पर ब्लिट्जक्रेग के नाम से जाना जाता है उसकी आदर्श विशेषता पैदल सेना और तोपची सैनिकों के संयुक्त हथियारबंद दलों का अत्यंत गतिशील स्वरुप है.

ब्लिट्जक्रेग (जर्मन, "बिजली युद्ध"); एक अंग्रेजीनुमा शब्द है[1] जिसका मतलब टैंकों, पैदल सेना, तोपची सैनिक और वायु शक्ति के सभी यंत्रीकृत सैन्य बलों का संयुक्त प्रहार है, जिसमें शत्रु पंक्तियों पर कामयाबी हासिल करने के लिए संयुक्त रूप से जबरदस्त ताकत और तीव्र गति से हमला किया जाता है, और जब एक बार शत्रु पंक्ति छिन्न-भिन्न हो जाती है तो अपने किनारे की फिक्र किये बगैर तेजी से आगे बढ़ा जाता है. एक निरंतर गति से ब्लिट्जक्रेग, अपने दुश्मन को असंतुलित किये रखने की कोशिश करता है, जिससे उसके लिए किसी भी समय प्रभावी ढंग से जवाब देना मुश्किल हो जाता है जब तक कि अगली पंक्ति पहले ही आगे ना बढ़ गयी हो.

युद्ध काल की अवधि के दौरान, विमान और टैंक संबंधी तकनीकें विकसित हुईं और इसके साथ-साथ घुसपैठ की जर्मन रणनीतियों एवं दुश्मन की शक्ति के केन्द्रों से बचकर निकलने की नीति को व्यवस्थित ढंग से लागू किया गया.[2] जब जर्मनी ने 1939 में पोलैंड पर आक्रमण किया, पश्चिमी देशों के पत्रकारों ने बख्तरबंद युद्ध के इस स्वरुप को समझाने के लिए ब्लिट्जक्रेग शब्द को अपनाया.[3] ब्लिट्जक्रेग ऑपरेशन 1939 - 1941 के बीच ब्लिट्जक्रेग अभियानों के दौरान अत्यंत प्रभावशाली साबित हुए थे. इस तरह के ऑपरेशन अचानक किये जाने वाले भेदक आक्रमणों (जैसे आर्डेनेस के जंगली क्षेत्रों में किये गए भेदक आक्रमण) पर निर्भर करते थे, जब दुश्मन सामान्यतः तैयार नहीं होते थे और आक्रमणकारियों के तीव्र प्रहारों का शीघ्रता से जवाब देने में सक्षम नहीं होते थे. फ्रांस के युद्ध के दौरान, फ्रांसीसियों द्वारा रक्षा पंक्तियों को नदियों के किनारे पुनः-व्यवस्थित करने की कोशिशों को बार-बार निराशा हाथ लगी जब जर्मन सेना वहाँ पहले ही पहुँच जाती थी और अपना दबाव बना लेती थी.[4]

केवल बाद में, सोवियत संघ के आक्रमण के दौरान, ब्लिट्जक्रेग के दोष उभर कर सामने आये. फ्रांस और पोलैंड में अपने पैरों पर चलने वाली पैदल सेना, ज्यादातर अगुआई वाली बख्तरबंद सेना के केवल कुछ ही घंटे पीछे थी. रूस के खुले विस्तृत घास के मैदानों में कुछ घंटों की देरी कई दिनों में बदल गयी, जिससे सोवियत सेना को रक्षा पंक्तियों से कहीं दूर एक जगह जमा होने का मौक़ा मिला और इस प्रकार उनकी पैदल सेना को रक्षात्मक स्थिति में आने का पर्याप्त समय मिल गया.[5] उदाहरण के लिए स्टेलिनग्राद के युद्ध में सोवियत सेनाएं जर्मन ब्रेक आउट प्वाइंट से सैकड़ों किलोमीटर दूर संगठित हुईं थी. जर्मन और मित्र राष्ट्रों की सेनाएं, दोनों पश्चिम की ओर थे और सोवियत संघ ने आखिरकार ब्लिट्जक्रेग युद्ध कौशल के नाकाम होने का एहसास किया.[6]

1970 के दशक के बाद से शिक्षाविदों ने एक सुसंगत सैन्य सिद्धांत या रणनीति के रूप में ब्लिट्जक्रेग के अस्तित्व पर सवाल उठाया है. कई शिक्षाविद इतिहासकारों का मानना है कि ब्लिट्जक्रेग अपने आप में स्वयं एक मिथक है. अन्य लोग इस शब्द का उपयोग द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान जर्मन रणनीति और सिद्धांत की व्याख्या के लिए करते हैं (देखें विवाद अनुभाग).

अनुक्रम

परिभाषा[संपादित करें]

सामान्य व्याख्या[संपादित करें]

ब्लिट्जक्रेग की आदर्श व्याख्या द्वितीय विश्वयुद्ध के प्रथमार्ध में जर्मन रणनीतिक और ऑपरेशन संबंधी प्रक्रिया का एक हिस्सा है जिन्हें अक्सर युद्ध कौशल के एक नए तरीके के रूप में समझा जाता है. रणनीतिक तौर पर इस शब्द का मतलब "बिजली युद्ध" से है जिसका संबंध किसी दुश्मन राज्य पर पूरी तैयारी के साथ युद्ध करने से पहले उसपर विजयी बढ़त हासिल करने के लिए किये जाने वाले छोटे-छोटे त्वरित एवं निर्णायक युद्धों की श्रृंखला से जुड़ा है. ब्लिट्जक्रेग का रणनीतिक अर्थ किसी दुश्मन को तबाह करने और इसकी रक्षा पंक्तियों को भेदकर आगे बढ़ने के लिए टैंकों, युद्ध के लिए तैयार पैदल सैनिक, तोपची सैनिक और विमान का पारस्परिक सहयोग से इस्तेमाल करने से है, जिससे कि शक्तियों की भिडंत के समय स्थानीय तौर पर एक विध्वंशक श्रेष्ठता की स्थिति उत्पन्न हो सके.[7][8] जर्मनी द्वारा इस्तेमाल किये गए ब्लिट्जक्रेग को महत्वपूर्ण मनोवैज्ञानिक, और जैसा कि कुछ लेखक कहते हैं, "आतंकी" तत्वों के रूप में देखा जाता है जैसे कि सेना के आत्मविश्वास को प्रभावित करने के लिए जंकर्स जू 87 डाइव बॉम्बर्स पर लगे आवाज करने वाले नोदक.[Notes 1] जब दुश्मन इन आवाजों से परिचित हो गए तो ज्यादातर उपकरणों को हटा लिया गया था, हालांकि 1940 में फ्रांस के युद्ध के बाद, कई बार बमों के साथ सीटियाँ लगी होती थीं.[13][14] आम तौर पर लेखक मौके पर मनोवैज्ञानिक रणनीतियों को भी आजमाते थे, जिनमें पांचवीं पंक्ति के स्तंभकारों का इस्तेमाल ऑपरेशनों के स्वांग के रूप में आम जनता के बीच अफवाहें और झूठी खबरें फैलाने के लिए किया जाता था.[7]

शैक्षणिक अध्ययन[संपादित करें]

ब्लिट्जक्रेग शब्द का मूल पूरी तरह स्पष्ट नहीं है. इसे जर्मन सेना या वायु सेना के सैनिक सिद्धांत या हस्त-पुस्तिका के शीर्षक के तौर पर कभी इस्तेमाल नहीं किया गया था.[15] ऐसा प्रतीत होता है कि 1939 से पहले जर्मन मिलिटरी प्रेस में शायद ही कभी इसका इस्तेमाल किया गया होगा. फ्रीबर्ग में जर्मन मिलिटरी ऐतिहासिक संस्थान पर कराये गए हाल के शोध कार्यों से 1930 के दशक में ऐसे केवल दो मिलिटरी आलेखों का पता चला है जिनमें इस शब्द का इस्तेमाल किया गया था. दोनों में से कोई भी आलेख मौलिक रूप से किसी तरह के नए मिलिटरी सिद्धांत या युद्ध नीति की वकालत नहीं करता है. दोनों में इस शब्द को केवल त्वरित रणनीतिक जीत के मतलब के तौर पर इस्तेमाल किया गया है. पहला आलेख, जिसे 1935 में प्रकाशित किया गया था, मुख्यतः युद्ध काल के दौरान खाद्य सामग्रियों (और कुछ हद तक कच्चे माल के संदर्भ) की आपूर्ति के बारे में बताता है. यहाँ ब्लिट्जक्रेग शब्द का इस्तेमाल प्रथम विश्व युद्ध में त्वरित जीत के लिए जर्मनी के प्रयासों के संदर्भ में किया गया है और यह बख्तरबंद या यांत्रिक या वायु शक्ति के उपयोग से जुड़ा हुआ नहीं है. तर्क यह है कि जर्मनी को खाद्य आपूर्ति में आत्मनिर्भरता विकसित करना आवश्यक था क्योंकि उसे अपने दुश्मनों पर तीव्रता से फतह हासिल करना एक बार फिर से असंभव साबित हो सकता था और एक लंबा संपूर्ण युद्ध टालना अपरिहार्य साबित हो सकता था. 1938 में प्रकाशित दूसरा आलेख यह कहता है कि एक तीव्र रणनीतिक जीत की शुरूआत जर्मनी के लिए एक महत्वपूर्ण आकर्षण है लेकिन यह स्वीकार करता हुआ प्रतीत होता है कि आधुनिक परिस्थितियों में (विशेषकर मैगिनोट लाइन जैसी किलेबंदी की प्रणाली की मौजूदगी के संदर्भ में) जमीनी हमलों से इस तरह की जीत हासिल करना बहुत ही मुश्किल होगा जब तक कि एक विशिष्ट उच्च स्तरीय आश्चर्यजनक स्थिति ना बन जाए. मोटे तौर पर लेखक यह सुझाव देते हैं कि एक विशाल सामरिक हवाई हमले से बेहतर संभावनाएं पैदा हो सकती हैं, लेकिन इस विषय पर कोई विस्तृत व्याख्या नहीं दी गयी है.[16]

शब्द का एक अन्य अपेक्षाकृत पहले का इस्तेमाल जर्मन-भाषा की एक रचना में, एक यहूदी मार्क्सवादी राजनीतिक अर्थशास्त्री और थर्ड रेश के एक शरणार्थी, फ्रिट्ज़ स्टर्नबर्ग की पुस्तक में देखा गया था. Die Deutsche Kriegsstärke (जर्मन युद्ध शक्ति) के शीर्षक से 1939 में इसे पेरिस में प्रकाशित किया गया था. इससे पहले 1938 में इसका अंग्रेजी भाषा का संस्करण जर्मनी एंड ए लाइटनिंग वार के नाम से सामने आया था. जर्मन संस्करण में ब्लिट्जक्रेग शब्द का इस्तेमाल किया गया है. पुस्तक का तर्क है कि जर्मनी आर्थिक रूप से एक लंबी लड़ाई के लिए तैयार नहीं है, लेकिन एक बिजली युद्ध जीत सकता है. यह किसी भी संचालनात्मक और सामरिक मामलों के विस्तार में नहीं जाता है, और ना ही यह सुझाव देता है कि जर्मन सशस्त्र बलों ने एक मौलिक नयी संचालन पद्धति विकसित की है. यह इस बात का थोड़ा सुराग देता है कि जर्मन बिजली युद्ध में जीत कैसे हासिल की गयी होगी.[17]

जर्मन सैन्य तरीकों की जड़ें[संपादित करें]

प्रथम विश्व युद्ध के दौरान, पश्चिमी मोर्चे पर दोनों पक्ष एक खाई युद्ध में फंस गए थे, जहाँ मशीनगनों की अतिव्यापी आग और कांटेदार तारों द्वारा बने मारक क्षेत्रों ने दोनों पक्षों को निर्णायक बढ़त हासिल करने से रोक दिया था. अंग्रेजी सेना ने टैंक को मशीनगन के हमलों के लिए एक अभेद्य हथियार के रूप में पेश किया और युद्ध के मैदान में सेना का नेतृत्व करने के लिए खाइयों एवं कंटीले तारों को पार करने में सफल हुए. इसी तरह अंग्रेजी सेना जर्मन रक्षा पंक्ति को भेदने कामयाब हुई लेकिन युद्ध की समाप्ति के पहले ज्यादा टैंक नहीं बनाए जा सके थे. इसीलिये जर्मन सेना युद्ध स्थल को बदलने के लिए टैंकों की क्षमता का पहला अनुभव प्राप्त कर चुकी थी. जहाँ मित्र राष्ट्रों की सेनाएं युद्ध काल के वर्षों में तैनाती और टैंकों के अध्ययन के मामले में धीमी गति से चल रही थीं, वहीं जर्मन सेना इस नयी तकनीक को समझने और इसमें महारत हासिल करने के लिए उत्सुक थी.

जर्मन सामरिक तरीकों का विकास[संपादित करें]

जर्मन सामरिक सिद्धांतों का विकास प्रथम विश्व युद्ध में जर्मनी की हार के तुरंत बाद ही शुरू हो गया था. वर्साय की संधि ने किसी भी जर्मन सेना को 100,000 लोगों की अधिकतम संख्या तक सीमित कर दिया था, जिससे बड़ी संख्या में सैन्य बलों की तैनाती असंभव हो गयी, जो युद्ध से पहले जर्मन रणनीति की एक विशेष पहचान थी. हालांकि जर्मन जनरल स्टाफ को भी संधि के जरिये समाप्त कर दिया गया था, इसके बावजूद यह ट्रूपनाम्ट या "ट्रूप ऑफिस" के रूप में अस्तित्व में बना रहा, जो संभवतः केवल एक प्रशासनिक निकाय है. युद्ध के 57 मुद्दों के मूल्यांकन के लिए ट्रूपनाम्ट के अंदर सेवानिवृत कर्मचारी अधिकारियों की समितियां बनायी गयी थीं.[18] इनके रिपोर्ट सैद्धांतिक और प्रशिक्षण संबंधी प्रकाशनों के रूप में सामने आये, जो द्वितीय विश्व युद्ध के समय तक मानक प्रक्रियाओं में तब्दील हो गए. रैशवेर इसके युद्ध-पूर्व जर्मन सैन्य विचारों के विश्लेषण से प्रभावित था, विशेषकर घुसपैठ की रणनीतियों से, जिसने युद्ध के अंत में पश्चिमी मोर्चे के खाई युद्ध में कुछ महत्त्वपूर्ण बढ़त दिलाई और जिसने पैंतरेबाजीवर्साय के युद्ध में पूर्वी मोर्चे पर अपना प्रभाव दिखाया.

प्रशिया और 19वीं सदी की कार्यप्रणाली में वापसी[संपादित करें]

जर्मन सैन्य इतिहास पहले कार्ल वॉन क्लाउजविट्ज़, अल्फ्रेड वॉन स्लीफेन और वरिष्ठ वॉन मॉल्टेक द्वारा प्रभावित था, जो पैंतरेबाजी, समूह और एन्वेलपमेंट के समर्थक थे. प्रथम विश्व युद्ध के बाद, इन अवधारणाओं को रैशवेर द्वारा संशोधित किया गया था. जर्मन सेना के चीफ ऑफ स्टाफ, हंस वॉन सीक्ट अपने इस तर्क के साथ कि गति के आधार पर घेराबंदी की ओर अत्यधिक ध्यान केन्द्रित किया गया था, सिद्धांत को इस कसौटी से दूर ले गए.[19]

अपने नेतृत्व के तहत, सैद्धांतिक प्रणाली का एक आधुनिक अपडेट, जिसे Bewegungskrieg ("पैंतरेबाज़ी युद्ध कौशल") कहा गया और इससे जुड़ी नेतृत्व प्रणाली, जिसे Auftragstaktik ("मिशन रणनीति", अर्थात्, इकाइयां आवंटित मिशनों के रूप में हैं; स्थानीय कमांडर यह तय करते हैं कि इस मिशनों को कैसे हासिल किया जाए) कहा गया, विकसित की गयी थी, जो एक महत्वपूर्ण उपलब्धि थी और ब्लिट्जक्रेग की कामयाबी का एक प्रमुख कारण था. इस अवधारणा को जनवरी 1942 में छोड़ दिया गया था. ओकेडब्ल्यू (OKW) ने जर्मन कोर और सैन्य समूहों को एक फील्ड कमांडर द्वारा स्वतंत्र रूप से संचालित करने और नेतृत्व करने की अनुमति देने को अत्यंत जोखिम भरा माना.

जर्मन नेतृत्व की आलोचना प्रथम विश्व युद्ध की तकनीकी उत्कृष्टताओं को समझने में नाकाम रहने के लिए भी की गयी थी, जिसने टैंक उत्पादन को न्यूनतम प्राथमिकता दी थी और उस युद्ध से पहले मशीन गनों पर कोई अध्ययन नहीं किया था.[20] प्रतिक्रिया में, जर्मन अधिकारियों ने युद्ध के बाद पुनर्निर्माण की इस अवधि के दौरान तकनीकी स्कूलों में भाग लिया. प्रथम विश्व युद्ध के दौरान जर्मन सेना द्वारा विकसित की गयी घुसपैठ की रणनीति बाद की रणनीतियों के लिए आधार बन गयी. जर्मन पैदल सेना छोटे, विकेन्द्रीकृत समूहों के रूप में विकसित हुई थी जो कमजोर बिंदुओं पर आगे बढ़ने और पिछड़े-क्षेत्रों के संवादों पर हमला करने के पक्ष में प्रतिरोध को नजरअंदाज करने में सफल रही थी. इसके साथ-साथ समन्वित तोपची सैनिक और हवाई बमबारी शामिल थी, जिसके पीछे भारी बंदूकों के साथ विशाल पैदल सेना थी, जिसने प्रतिरोध के केन्द्रों को नष्ट कर दिया. यही अवधारणाएं द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान वेरमाक्ट की रणनीति का आधार बनीं.

प्रथम विश्व युद्ध के पूर्वी मोर्चे पर, जहाँ संघर्ष खाई युद्ध कौशल में नहीं उलझा था, जर्मन और रूसी सेनाएं हजारों मील तक पैंतरेबाज़ी के युद्ध लड़ती रहीं, जिसने जर्मन नेतृत्व को एक अनूठा अनुभव दिया जो खाई-आधारित पश्चिमी सहयोगियों के पास नहीं था.[21] पूरब के आपरेशनों के अध्ययन ने यह निष्कर्ष दिया कि गैर-समन्वित सैन्य बलों की तुलना में छोटे और समन्वित सैन्य बलों के पास अधिक संघर्ष की शक्ति थी.

विचारों में भिन्नता[संपादित करें]

इस अवधि के दौरान, युद्ध के सभी प्रमुख लड़ाकों ने यंत्रीकृत सैन्य बल के सिद्धांत विकसित किये थे. हालांकि, पश्चिमी मित्र राष्ट्रों के आधिकारिक सिद्धांतों में रैशवेर के सिद्धांतों से मूलतः काफी मतभेद था. अंग्रेजी, फ्रांसीसी और अमेरिकी सिद्धांतों ने मोटे तौर पर एक अधिक संकल्पित निर्धारित-प्रकार के युद्ध का पक्ष लिया, जिसमें आक्रमण की प्रेरणा और रफ़्तार को कायम रखने के लिए यंत्रीकृत सैन्य बलों का इस्तेमाल किया जाता है. इसमें संयुक्त हथियार, गहराई तक घुसपैठ या एकाग्रता पर कम जोर दिया गया था. संक्षेप में, उनका सिद्धांत प्रथम विश्व युद्ध के अंत में उनके सिद्धांत से बहुत अलग नहीं था. हालांकि रैशवेर की पहले की पत्रिकाओं में मित्र राष्ट्रों के स्रोतों से कई अनूदित रचनाएं शामिल की गयी थीं, लेकिन उन्हें शायद ही कभी अपनाया गया था. हालांकि, बाहरी देशों की तकनीकी उत्कृष्टताओं को रैशवेर के वीपन्स ऑफिस द्वारा समझा गया और इन्हें कई हिस्सों में इस्तेमाल किया गया था. बाहरी देशों के सिद्धांतों को व्यापक रूप से कम गंभीर प्रभावों के तौर पर समझा गया था.[22]

ब्रिटेन[संपादित करें]

ब्रिटिश सिद्धांतकार जे.एफ़.सी. फुलर और कप्तान बी.एच. लिडेल हार्ट को अक्सर ब्लिट्ज क्रेग के विकास के साथ जोड़ा गया है, हालांकि यह एक विवाद का मामला है. प्रथम विश्व युद्ध के दौरान, फुलर नव-विकसित टैंक सेना से जुड़े एक स्टाफ अधिकारी थे. बाद में उन्होंने बड़े पैमाने पर, स्वतंत्र टैंक संचालन के लिए योजनाओं को विकसित किया था और इसके बाद जर्मन सेना ने इनका अध्ययन किया.

हालांकि ब्रिटिश सेना के सबक मुख्य रूप से 1918 के अंत में पश्चिमी मोर्चे पर पैदल सेना और तोपची सैनिकों के हमलों से तैयार किये गए थे, इनमें से एक "स्लाइड शो" थियेटर में ऑपरेशनों के कुछ पहलुओं ऐसे को शामिल किया गया था जो बाद में ब्लिट्जक्रेग कहलाया. फिलिस्तीन में, जनरल एडमंड एलेनबाई ने सितम्बर 1918 में मेगिदो के युद्ध के दौरान दुश्मन के पीछे के क्षेत्रों में गहराई तक पहुँचकर रेलवे और संचार के केन्द्रों को जब्त करने के लिए घुड़सवार सेना इस्तेमाल किया था, जबकि विमानों ने दुश्मन के संचार और मुख्यालय लाइनों को बाधित कर दिया था. इन तरीकों ने प्रतिरक्षी ओटोमैन सैनिकों के बीच "रणनीतिक गतिहीनता" को प्रेरित किया था और उनके तीव्र एवं संपूर्ण विध्वंश का कारण बना था. हालांकि लिडेल हार्ट ने एलेनबाई के "परोक्ष दृष्टिकोण" के महत्व पर प्रकाश डाला है, ब्रिटिश सैन्य व्यवस्था ने कई सालों तक एलेनबाई के घुड़सवार फ़ौज की कालभ्रमित कामयाबी को प्राथमिकता के तौर पर प्रचारित करना पसंद किया था.[23]

फ्रांस[संपादित करें]

युद्ध काल के मध्य के वर्षों में फ्रांसीसी सिद्धांत रक्षा-उन्मुख थे. कर्नल चार्ल्स डी गॉल रक्षा कवच और हवाई जहाजों के मेल के जाने माने समर्थक थे. उनके विचार उनकी पुस्तक Vers l'Armée de Métier (टुवार्ड्स द प्रोफेशनल आर्मी) में व्यक्त किये गए हैं. वॉन सीक्ट की तरह, उन्होंने यह निष्कर्ष निकाला है कि फ्रांस अब उन जबरदस्ती भर्ती किये गए और सुरक्षित रखे गए विशाल सेनाओं को बनाए रखने में असमर्थ हो सकता है जिनके साथ उसने प्रथम विश्व युद्ध लड़ा था, और युद्ध में व्यापक प्रभाव डालने के मकसद से छोटी-छोटी संख्याओं में अत्यंत कुशलतापूर्वक प्रशिक्षित सैनिकों को टैंकों, यंत्रीकृत बलों एवं विमानों को चलाने में इस्तेमाल के लिए तैयार किया था. उनके नज़रिए ने उन्हें फ्रांसीसी हाई कमांड के लिए थोड़ा प्रिय बना दिया, लेकिन कुछ लोगों ने यह दावा किया कि वे हेंज गुड़ेरियन से प्रभावित थे.[24]

सोवियत संघ[संपादित करें]

सन् 1916 में, जनरल अलेक्सी ब्रुसिलोव ने ब्रुसिलोव हमलों के दौरान घुसपैठ की रणनीति का इस्तेमाल कर सबको आश्चर्यचकित किया था. बाद में, युद्ध काल के वर्षों के दौरान सोवियत संघ की लाल सेना के सबसे प्रमुख अधिकारियों में से एक, मार्शल मिखाइल टखाचेवेस्की ने पोलिश-सोवियत युद्ध के अपने अनुभवों से गहराई तक ऑपरेशन की अवधारणा विकसित की. इन अवधारणाओं ने द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान लाल सेना के सिद्धांत मार्गदर्शन किया. पैदल सेना और घुड़सवार सेना की सीमाओं को देखते हुए टखाचेवेस्की ने यंत्रीकृत संरचनाओं और बड़े पैमाने पर आवश्यक औद्योगीकरण की वकालत की. हालांकि, रॉबर्ट वाट कहते हैं कि ब्लिट्जक्रेग सोवियत सेना के गहरे युद्ध में कुछ हद तक एक आम बात थी.[25] एच पी विलमोट ने उल्लेख किया है कि गहरे युद्ध में दो महत्वपूर्ण मतभेद हैं - इसने एक संपूर्ण युद्ध के विचार की वकालत की थी, ना कि सीमित ऑपरेशनों की और इसने कई बड़े पैमाने के और एक जैसे हमलों के पक्ष में निर्णायक युद्ध के विचार को नकार दिया था.[26]

रैशवर और लाल सेना ने 1926 में शुरू हुए कज़ान और लिपेत्स्क परीक्षणों और युद्धक अभ्यासों में सहयोग किया था. सोवियत संघ के अंदर स्थापित, इन दो केन्द्रों को बटालियन स्तर तक विमानों और बख्तरबंद वाहनों के फील्ड परीक्षण के साथ-साथ हवाई और बख्तरबंद युद्ध कौशल के स्कूलों की हाउसिंग के लिए इस्तेमाल किया गया था, जिनके जरिये अधिकारियों का क्रमानुसार उपयोग किया जाता था. ऐसा सोवियत संघ में, गुप्त रूप से, वर्साय की संधि के व्यावसायिक एजेंट, इंटर-एलाइड कमीशन की पकड़ से बचने के लिए किया गया था.[27]

जर्मनी[संपादित करें]

चित्र:EarlyPzDivTOE.png
एक 1941 जर्मन पैंजर डिवीजन का गठन.

1934 में राज्य प्रमुख बनने के बाद, एडॉल्फ हिटलर ने वर्साय की संधि के प्रावधानों को नज़रअंदाज कर दिया. जर्मन वेरमाक्ट के अंदर बख़्तरबंद सैनिकों के लिए एक कमांड बनाया गया; जिसे बाद में पैंजरवैफे के नाम से जाना गया. जर्मन वायु सेना, लूफ़्टवाफे़ की स्थापना की गयी, और जमीनी-हमले वाले विमानों और सिद्धांतों पर विकास कार्य शुरू किया गया. हिटलर की इस नई रणनीति के एक प्रबल समर्थक थे. उन्होंने गुड़ेरियन की पुस्तक आक्टंग - पैन्ज़र! का अध्ययन किया और कमर्सडोर्फ़ के बख्तरबंद मैदानी अभ्यासों को समझाने के बाद उन्होंने यह टिप्पणी की "यही तो मैं चाहता हूँ - और यही मेरे पास होगा."[28][29]

गुड़ेरियन की बख्तरबंद अवधारणा[संपादित करें]

चित्र:GuGuderian.jpg
हेंज गुडेरियन

हेंज गुड़ेरियन संभवतः पहले व्यक्ति थे जिन्होंने ब्लिट्जक्रेग से जुड़े सिद्धांतों को पूर्णतः विकसित किया और इनकी वकालत की. उन्होंने मोबाइल और मोटरयुक्त बख्तरबंद शाखाओं को साथ मिलकर काम करने और निर्णायक सफलता हासिल करने के क्रम में एक दूसरे की मदद करने के एक तरीके के रूप में संयुक्त-हथियारों की रणनीति को संक्षेपित किया. अपनी पुस्तक, पैंज़र लीडर में उन्होंने लिखा:

In this year, 1929, I became convinced that tanks working on their own or in conjunction with infantry could never achieve decisive importance. My historical studies, the exercises carried out in England and our own experience with mock-ups had persuaded me that the tanks would never be able to produce their full effect until the other weapons on whose support they must inevitably rely were brought up to their standard of speed and of cross-country performance. In such formation of all arms, the tanks must play primary role, the other weapons beings subordinated to the requirements of the armor. It would be wrong to include tanks in infantry divisions; what was needed were armored divisions which would include all the supporting arms needed to allow the tanks to fight with full effect.[30]

गुड़ेरियन का मानना था कि इस सिद्धांत के समर्थन के लिए तकनीकों का विकास करना आवश्यक था; विशेष तौर पर बख्तरबंद शाखाओं को हथियारों से लैस करने के लिए - सबसे प्रमुख वायरलेस संचार माध्यमों से युक्त टैंकों के लिए. गुड़ेरियन ने 1933 में हाई कमांड पर इस बात के लिए जोर दिया कि जर्मन बख्तरबंद सेना में प्रत्येक टैंक में रेडियो लगा होना आवश्यक है.[31] इसीलिये युद्ध शुरू होने के समय, केवल जर्मन सेना ही अपने सभी टैंकों पर रेडियो से लैस थी.{0/} यह शुरुआती टैंक युद्ध में काफी महत्त्वपूर्ण सिद्ध हुआ जहाँ जर्मन टैंकों के कमांडर मित्र राष्ट्रों की सेनाओं के मुकाबले अपने टैंकों की बेहतर व्यवस्थित तरीकों से पैंतरेबाजी कर इस्तेमाल करने में सक्षम थे. बाद में सभी मित्र राष्ट्रों की सेनाओं ने इस खोज की नक़ल की.

स्पेन के गृह युद्घ[संपादित करें]

जर्मन स्वयंसेवकों ने 1936 में स्पेन के गृह युद्ध के दौरान सबसे पहले ताजा मैदानी परिस्थितियों में कवच का इस्तेमाल किया था. कवच की प्रतिबद्धता में पैंजर बटालियन 88 शामिल थी, जो पैंजर I टैंकों की तीन कंपनियों के आस-पास बनी एक सेना थी, जिसने राष्ट्रवादियों के लिए एक प्रशिक्षण कैडर के रूप में काम किया था. लूफ़्टवाफे़ ने हमलावरों, गोता लागाने वाले बमवर्षकों, और परिवहन विमानों के स्क्वाड्रनों की तैनाती गिद्ध सेना के रूप में की थी.[32] गुडेरियन ने कहा था की टैंक की तैनाती "बहुत ही छोटे स्तर पर की गयी थी जिससे कि एकदम सटीक आकलन किया जा सके".[33] उनके "बख़्तरबंद विचार" की सही परीक्षा के लिए द्वितीय विश्व युद्ध तक इंतज़ार करना पड़ा. हालांकि, लूफ़्टवाफे़ ने भी रणनीतियों और भिडंत में विमानों की परीक्षा, दोनों के साथ-साथ लड़ाई में स्टुका के पहली बार इस्तेमाल के लिए स्पेन को स्वयंसेवक प्रदान किये.

युद्ध के दौरान, गिद्ध सेना ने ग्वेरनिका की बमबारी की जिम्मेदारी उठाई जिसका यूरोप की आबादी पर जबरदस्त मनोवैज्ञानिक प्रभाव पड़ा. परिणाम अतिरंजित थे और पश्चिमी मित्र राष्ट्रों ने यह निष्कर्ष निकाला कि "शहर पर छापेमारी" की तकनीक अब युद्ध में जर्मन तरीके का एक हिस्सा बन गयी थी. जर्मन विमानों के लक्ष्य वास्तव में रेल लाइन और पुल थे. लेकिन इनपर सटीक निशाना साधने की क्षमता में कमी के कारण (स्पेन में केवल तीन या चार जू 87 को सक्रिय देखा गया), कारपेट बमबारी की एक तकनीक को चुना गया जिससे भारी संख्या में नागरिक हताहत हुए.[34]

ऑपरेशन के तरीके[संपादित करें]

शुवेरपंक्ट (Schwerpunkt)[संपादित करें]

जर्मन सेना ने ऑपरेशनों की योजना तैयार करने में एक शुवेरपंक्ट (Schwerpunkt) (केंद्र बिन्दु और शुवेरपंक्टप्रिनजिप (Schwerpunktprinzip) या ध्यान केंद्रित करने के सिद्धांत के रूप में भी जाना गया) का संदर्भ दिया था; यह एक निर्णायक कार्रवाई की कोशिश में, जिसे एक अधिकतम बिंदु का प्रयास बनाया गया, उसकी ओर गंभीरता का एक केंद्र था. जमीनी, यंत्रीकृत और सामरिक वायु सेना ने जब भी संभव हुआ अधिकतम प्रयास के इस बिंदु पर ध्यान केंद्रित किया. शुवेरपंक्ट में स्थानीय सफलताओं से, एक छोटी सेना ने बड़ी कामयाबी हासिल की और दुश्मन के क्षेत्र में लड़ते हुए उपलब्धियां प्राप्त की. गुडेरियन द्वारा इसे "Nicht kleckern, klotzen!” (वक्त बर्बाद मत करो, ध्वस्त कर दो!) के रूप में संक्षेपित किया गया.[35]

ब्रेकआउट हासिल करने के लिए, बख्तरबंद सैन्य बलों ने दुश्मन की पंक्ति में दरार पैदा करने के क्रम में मोटरयुक्त पैदल सेना, तोपखानों की आग और हवाई बमबारी की मदद से सीधे तौर पर दुश्मन की रक्षा पंक्ति पर हमला किया. इस दरार से होकर टैंक और मोटरयुक्त इकाइयां पैदल सेना की धीमी रसद की परंपरागत बाधा के बगैर आगे बढ़ने में सफल हुईं. इसमें, एक ऑपरेशन के शुरुआती चरण में, वायु सेना ने जमीन पर खड़े विमानों पर हमला कर, उनकी हवाई पट्टियों में बमबारी कर, और हवा से हवा में आमना-सामना कर उन्हें ध्वस्त करने का प्रयास करते हुए, दुश्मन की वायु सेनाओं पर श्रेष्ठता हासिल करने की कोशिश की. शुवेरपंक्ट के सिद्धांत ने हमलावर को मुख्य प्रयास के बिंदु पर संख्यात्मक श्रेष्ठता हासिल करने में सक्षम बनाया, जिसके बदले में हमलावर को सामरिक और ऑपरेशन संबंधी श्रेष्ठता प्रदान की, भले ही हमलावर संख्यात्मक और रणनीतिक तौर पर संपूर्ण फ्रंट में कमजोर हो सकता था.[36]

खदेड़ना[संपादित करें]

दुश्मन के पिछले क्षेत्रों में सफलता हासिल करते हुए, जर्मन सेना ने दुश्मन की प्रतिक्रिया करने की क्षमता को पंगु कर देने की कोशिश की. दुश्मन के सैनिकों से ज्यादा तेज भागते हुए, मोबाइल सैनिकों ने कमजोरियों का फ़ायदा उठाया और विरोधी सैनिकों द्वारा प्रतिक्रया करने से पहले ही उनपर कार्रवाई कर दी. इसका केंद्रबिंदु एक निर्णय चक्र है. जर्मन या विरोधी सैन्य बलों द्वारा किए गए प्रत्येक निर्णय के लिए जानकारी इकट्ठा करने, निर्णय लेने, मातहत कर्मियों के बीच आदेश प्रसारित करने, और इस निर्णय को कार्रवाई के जरिये लागू करने में समय की आवश्यकता थी. उत्कृष्ट गतिशीलता और तेजी से निर्णय लेने के चक्रों के माध्यम से, मोबाइल सैन्य बल एक परिस्थिति में विरोधी सैन्य बलों की तुलना में जल्दी कार्रवाई करने में सफल रहे.

निर्देशित नियंत्रण आदेश का एक तेज और लचीला तरीका था. एक स्पष्ट आदेश प्राप्त करने के बजाय, कमांडर को उसके वरिष्ठ के इरादे और इस अवधारणा में उसके यूनिट द्वारा निभाई जाने वाली भूमिका के बारे में कहा जाता था. तब कार्य निष्पादन का सटीक तरीका निम्न-स्तर के कमांडर के लिए उस परिस्थिति में सबसे अनुकूल कदम तय करने का मामला था. शीर्ष स्तर पर कर्मचारियों का बोझ कम का दिया गया था और इसे कमांड को अपनी स्वयं की परिस्थिति के बारे में अधिक जानकार बनाने में लगाया गया था. इसके अलावा, सभी स्तरों पर प्रयासों के प्रोत्साहन को कार्यान्वित करने में सहायता प्रदान की गयी. इसके परिणाम स्वरुप, महत्वपूर्ण निर्णय शीघ्रता से और या तो मौखिक रूप से या कुछ पृष्ठों की लम्बाई में लिखित आदेश के साथ प्रभावी हुए.[37]

प्रतिरोध के क्षेत्रों का विध्वंश[संपादित करें]

किसी ऑपरेशन का अंतिम चरण, उन क्षेत्रों का विध्वंश करना था जिन्हें किसी ऑपरेशन के शुरुआती चरणों में कब्जा कर लिया गया था. Kesselschlacht ("हंडा लड़ाई"), पहले शुवेरपंक्ट (Schwerpunkt) हमले(लों) से बचकर निकले घिरे हुए सैन्य बलों पर एक संकेंद्रित हमला था. यही वह मौक़ा था जब दुश्मन को, मुख्य रूप से कैदियों और हथियारों पर कब्जा करते हुए सबसे अधिक नुकसान पहुँचाया गया. बार्बारोसा के आरंभिक चरणों के दौरान, बड़े पैमाने पर तकरीबन 3,500,000 सोवियत कैदियों के साथ-साथ भारी मात्रा में उपकरणों की घेराबंदी की गयी.[Notes 2][39]

वायु शक्ति का प्रयोग[संपादित करें]

इस संदर्भ में, गोता लगाने वाले बमवर्षकों और मध्यम स्तर के बमवर्षकों के रूप में नजदीकी हवाई सहायता पहुँचाई गयी. इनसे हवा से हमले के केंद्र बिन्दु पर मदद मिली. जर्मन सेना की कामयाबियों का नजदीकी संबंद उस हद तक है जहाँ यूरोप और सोवियत संघ में पहले के अभियानों में जर्मन लूफ़्टवाफे़ हवाई युद्ध को नियंत्रित करने में सक्षम हुए थे. हालांकि, लूफ़्टवाफे़ एक व्यापक आधार वाला सैन्य बल था जिसका इसके अलावा कोई दबाव डालने वाला केंद्रीय सिद्धांत नहीं था, कि इसके संसाधनों को राष्ट्रीय रणनीति के समर्थन के लिए आम तौर पर उपयोग किया जाना चाहिए. यह लचीला था और यह प्रभावशाली ढंग से दोनों ऑपरेशन संबंधी-सामरिक, और रणनीतिक बमबारी करने में सक्षम था. लचीलापन 1939-1941 के दौरान लूफ़्टवाफे़ की ताकत थी. विडंबना यह है कि उस अवधि के बाद से यह इसकी कमजोरी बन गयी. जबकि मित्र राष्ट्रों की वायु सेनाओं ने आर्मी की मदद पाने के लिए गठबंधन किया था, लूफ़्टवाफे़ ने अपने संसाधनों का इस्तेमाल कहीं अधिक सामान्य और ऑपरेशन संबंधी तरीके से किया. यह हवाई श्रेष्ठता मिशनों से माध्यम-स्तर के अवरोधी प्रयासों, से रणनीतिक हमलों में बदलते हुए जमीनी सैन्य बलों की जरूरतों के आधार पर नजदीकी सहयोग की जिम्मेदारियों के रूप में तब्दील हो गया. वास्तव में, यह एक समर्पित पैंजर नेतृत्व की सेना होने से कहीं दूर था, जहाँ लूफ़्टवाफे़ के 15 प्रतिशत से कम हिस्से को 1939 में आर्मी को नजदीकी सहायता पहुँचाने के लिए डिजाइन किया गया था.[40]

सीमाएं और प्रत्युत्तर[संपादित करें]

परिस्थिति[संपादित करें]

ब्लिट्जक्रेग शब्द के साथ जुड़ी अवधारणाएं - बख्तरबंद वाहनों, व्यापक घेराबंदी, और संयुक्त सैन्य हमलों के जरिये गहराई तक भेदन - ज्यादातर इलाकों और मौसम की परिस्थितियों पर निर्भर करती थीं. जहाँ "टैंक युक्त देशों" में तेजी से गतिविधियाँ संचालित करने की क्षमता रखना संभव नहीं था, बख़्तरबंद भेदन से अक्सर बचा जाता था या इनका परिणाम विफलता के रूप में सामने आता था. आदर्श रूप से इलाके समतल, सुदृढ़, प्राकृतिक बाधाओं या किलों से रहित, और जगह-जगह पर सड़कों एवं रेलवे की सुविधाओं से परिपूर्ण होना चाहिए था. अगर इसके बजाय यह पहाड़ी, जंगली, दलदली, या शहरी होता था तो बख्तरबंद सेना नजदीकी-क्षेत्रों में लड़ने के मामले में पैदल सेना से कमजोर पड़ जाती थी और तीव्र गति से आगे बढ़ने में असमर्थ थी. इसके अतिरिक्त, यूनिट को कीचड़ (पूर्वी मोर्चे पर बर्फ के पिघलने से दोनों पक्ष अक्सर धीमे पड़ जाते थे) या अत्यधिक बर्फ से रोका जा सकता था. बख्तरबंद, मोटरयुक्त और हवाई समर्थन भी स्वाभाविक रूप से मौसम पर निर्भर था.[41] हालांकि यह नोट किया जाना चाहिए कि इस तरह के इलाकों के नुकसानों को शून्य किया जा सकता था अगर इन इलाकों में हमला करते हुए दुश्मन पर आश्चर्यजनक कामयाबी हासिल की जाती. फ्रांस के युद्ध के दौरान, फ्रांस पर जर्मन ब्लिट्जक्रेग-शैली के हमले को आर्डेनेस से होकर गुजरना पड़ा था. इसमें कोई शक नहीं है कि पहाड़ी, अत्यंत घने-जंगलों वाले आर्डेनेस का मित्र राष्ट्रों द्वारा अपेक्षाकृत आसानी से बचाव किया जा सकता था, यहाँ तक कि जर्मन बख़्तरबंद इकाइयों की भारी मात्रा के खिलाफ भी. हालांकि, स्वाभाविक रूप से क्योंकि फ्रांसीसियों ने सोचा कि आर्डेनेस व्यापक सैन्य गतिविधियों, विशेषकर टैंकों के लिए उपयुक्त नहीं होगा, वे केवल हल्के रक्षात्मक प्रयासों के बाद मैदान छोड़कर चले गए, जिसपर वेरमाक्ट ने तुरंत कब्जा कर लिया. जिस रणनीति को फ्रांसीसियों ने अवरोधक समझा था, वहीं जर्मन सेना पेड़ों को तहस-नहस करते हुए जंगलों से होकर तुरंत आगे बढ़ गयी.[42]

हवाई श्रेष्ठता[संपादित करें]

A British designed single engine ground attack aircraft equipped with cannon and rockets
1944 में नोरमैंडी के युद्ध के दौरान हॉकर टाईफून ने जर्मन बख्तरबंद सेना और मोटर वाहनों के सामने एक गंभीर खतरा उत्पन्न कर दिया था.

मित्र देशों की हवाई श्रेष्ठता युद्ध के आख़िरी वर्षों के दौरान जर्मन ऑपरेशनों के लिए एक महत्वपूर्ण अवरोध बन गया. जर्मन सेना की पहले की सफलताओं में जमीनी सैन्य बलों की बेरोकटोक गतिविधियाँ, नजदीकी हवाई सहयोग, और हवा में टोह लेनेवाली गतिविधियों के साथ हवाई श्रेष्ठता का फ़ायदा मिला था. हालांकि, पश्चिमी मित्र राष्ट्रों हवा से जमीन पर मार करने वाले विमानों ने उनकी वास्तविक सामरिक सफलता के अनुपात से बाहर इतना अधिक डर फैलाया कि इसके बाद ऑपरेशन ओवरलोर्ड जर्मन वाहनों के दल ने दिन की रोशनी में व्यापक स्तर की गतिविधियों के प्रति अनिच्छा दिखाई. वास्तव में, पश्चिम में अंतिम जर्मन ब्लिट्जक्रेग ऑपरेशन, ऑपरेशन वाक्ट एम रेन (Wacht am Rhein) को खराब मौसम के दौरान आजमाने की योजना बनायी गयी थी जिसने मित्र देशों के विमानों को धराशायी किया. हालांकि, इन परिस्थितियों के तहत, जर्मन कमांडरों के लिए "बख्तरबंद नीति" को इसकी प्रत्यक्ष क्षमता के अनुरूप प्रयोग में लाना मुश्किल था.[43]

जवाबी-रणनीतियाँ[संपादित करें]

ब्लिट्जक्रेग एक ऐसे दुश्मन के सामने काफी कमजोर है जो टैंक-रोधी युद्ध कौशल और विमान-रोधी अस्त्रों पर बहुत अधिक ध्यान देता है, विशेषकर जब ब्लिट्जक्रेग का प्रयोग करने वाला पक्ष पहले से तैयार ना हो. 1940 में फ्रांस के युद्ध के दौरान, डी गौले के चौथे बख्तरबंद डिवीजन और ब्रिटिश अभियान संबंधी सैन्य बलों के आर्मी टैंक ब्रिगेड के लोग, दोनों ने जर्मन पक्ष पर जांच-पड़ताल कर हमले किये, असल में कई बार आगे बढ़ने वाली बख्तरबंद पंक्तियों के पीछे की ओर धकेल दिया. संभवतः यह हिटलर के लिए जर्मन अग्रिम पंक्ति को ठहर जाने का आदेश देने के लिए एक कारण हो सकता है. उन हमलों के साथ-साथ मैक्सिमे वेगांड की हेजहॉग रणनीति भविष्य में ब्लिट्जक्रेग हमलों का जवाब देने के लिए प्रमुख आधार बन गयी: गहराई तक तैनाती, दुश्मन सैन्य बालों को रक्षात्मक केन्द्रों से बचकर निकालने की अनुमति देना, टैंक-रोधी गनों पर भरोसा, शत्रु के हमले के क्षेत्रों में शक्तिशाली सैन्य बालों की नियुक्ति, इसके बाद दुश्मन को ध्वस्त करने के लिए व्यापक रूप से आधार पर जवाबी हमले. फ्लैंकों या भेदन के "शोल्डर्स" पर कब्जा करना दुश्मन के हमलों को चुनौती देने के लिए आवश्यक था, और शोल्डर्स पर ठीक ढंग से लगाई गयी तोपें हमलावरों को भारी क्षति पहुँचा सकती थी. 1940 में जबकि मित्र देशों की सेनाओं के पास इन रणनीतियों को सफलतापूर्वक विकसित करने के लिए अनुभव की कमी थी, जिसका नतीजा भारी नुकसान के साथ फ्रांस के आत्मसमर्पण के रूप में सामने आया, जिसे उन्होंने मित्र देशों के बाद के ऑपरेशनों में पहचाना. उदाहरण के लिए, कुर्स्क के युद्ध में लाल सेना ने रक्षात्मक प्रयासों के रूप में संयुक्त रूप से अत्यंत गहराई तक, विस्तृत बारूदी सुरंगों और सफलता के कंधों की सुदृढ़ रक्षा प्रणाली को प्रयोग में लाया. इस तरह उन्होंने जर्मन सेना की लड़ाकू क्षमता को शून्य कर दिया, इसके बावजूद कि जर्मन सैनिक आगे बढ़ गए थे.[44] अगस्त 1944 में मौरटेन में, अमेरिकी और कनाडाई सैन्य बलों द्वारा जर्मन फ्लैंकों के खिलाफ दिलेर रक्षात्मक प्रयास और जवाबी हमलों ने फलाईस क्षेत्र को बंद कर दिया.[45] आर्डेनेस में, बास्टोने, सेंट विथ और अन्य जगहों पर हेजहॉग रक्षा प्रणाली और पैटन की तीसरी अमेरिकी सेना द्वारा जवाबी हमले के संयुक्त प्रयास को प्रयोग में लाया गया था.[46]

सैन्य तंत्र[संपादित करें]

हालांकि, मोबाइल ऑपरेशन पोलैंड और फ्रांस के खिलाफ त्वरित अभियानों में प्रभावी सिद्ध हुआ था लेकिन बाद के वर्षों में इसे जर्मनी में अस्तित्व में कायम नहीं रखा जा सका. तिकड़म पर आधारित रणनीति में इसके हमलावर सैन्य बल के आपूर्ति लाइन की हदों से पार जाने के स्वाभाविक खतरे हैं, और इसे किसी ऐसे संकल्पित दुश्मन द्वारा पराजित किया जा सकता है जो अपने पुनर्गठन और फिर से हथियारबंद होने तक अपने क्षेत्र को कुछ समय के लिए त्यागने में सक्षम और इच्छुक हो, जैसा कि सोवियत सेना ने पूर्वी मोर्चे पर किया था (इसके विपरीत, उदाहरण के लिए, फ्रांसीसियों के पास त्याग करने के लिए कोई क्षेत्र मौजूद नहीं था). टैंक और वाहन का उत्पादन जर्मनी के लिए निरंतर एक समस्या रही थी; वास्तव में, युद्ध के आखिर में कई पैंजर "डिविजनों" के पास कुछ दर्जन से ज्यादा टैंक मौजूद नहीं थे.[47] युद्ध का अंत करीब आते-आते, जर्मनी ने भी एंग्लो-अमेरिकन रणनीतिक बमबारी और नाकाबंदी के परिणाम स्वरुप ईंधन और युद्ध सामग्रियों के भंडार की भारी कमी का अनुभव किया. हालांकि लूफ़्टवाफे़ लड़ाकू विमानों का निर्माण जारी रहा, लेकिन ये ईंधन की कमी के कारण उड़ान भरने में असमर्थ थे. जो भी ईंधन वहाँ मौजूद था वह पैंजर डिवीजनों में चला गया, और इसके बावजूद वे सामान्य रूप से काम करने में सक्षम नहीं थे. संयुक्त राज्य अमेरिका की सेना के खिलाफ पराजित हुए उन टाइगर टैंकों में से तकरीबन आधे ईंधन की कमी के कारण छोड़ दिए गए थे.[48]

ऑपरेशन[संपादित करें]

पोलैंड, 1939[संपादित करें]

A map of Poland showing the German invasion from east Germany, East Prussia and German-occupied Czechoslovakia in September 1939
पोलैंड में, तेजी से आगे बढ़ने वाली सेनाओं ने पोलिश सैन्य बलों को घेर लिया था (नीले घेरे), लेकिन ब्लिट्जक्रेग का विचार वास्तव में कभी अमल में नहीं लाया गया - तोपची सैनिक और पैदल सेना के सैनिकों ने इन इलाकों को ध्वस्त करने के लिए समय-अनुकूल तरीके से काम किया था.

1939 में पोलैंड के आक्रमण के दौरान पत्रकारों द्वारा ब्लिट्जक्रेग शब्द के गढ़े जाने के बावजूद, इतिहासकारों मैथ्यू कूपर और जे. पी. हैरिस आम तौर पर यह मानते हैं कि इस दौरान जर्मन ऑपरेशन अधिक परंपरागत तरीकों से अधिक निरंतर चल रहे थे. वेरमाक्ट की रणनीति Vernichtungsgedanke, के अधिक अनुरूप, या व्यापक-फ्रंट विध्वंश में क्षेत्रों को तैयार करने के लिए घेराबंदी पर केन्द्रित थी. पैंजर सेनाएं तीन जर्मन केन्द्रों में फ़ैली हुई थीं[49] जिसमें स्वतंत्र इस्तेमाल पर कोई ज्यादा जोर नहीं दिया गया था, जिसका उपयोग पोलिश सेनाओं के नजदीकी क्षेत्रों को तैयार करने या नष्ट करने और ज्यादातर मोटररहित पैदल सेना के समर्थन में ऑपरेशन संबंधी गहरे क्षेत्रों पर कब्जा करने के लिए किया जा रहा था, जो पीछे-पीछे चल रही थी.

हालांकि पोलिश अभियान में शुरुआती जर्मन टैंक, स्तुका गोताखोर-बमवर्षक और केंद्रित सैन्य बलों का इस्तेमाल किया गया था, युद्ध का अधिकाँश हिस्सा परंपरागत पैदल सेना और तोपची सैनिकों पर आधारित युद्ध था और अधिकाँश लूफ़्टवाफे़ की कार्रवाई स्वतंत्र जमीनी अभियान के रूप में थी. मैथ्यू कूपर ने लिखा है कि

[t]hroughout the Polish Campaign, the employment of the mechanized units revealed the idea that they were intended solely to ease the advance and to support the activities of the infantry....Thus, any strategic exploitation of the armored idea was still-born. The paralysis of command and the breakdown of morale were not made the ultimate aim of the ... German ground and air forces, and were only incidental by-products of the traditional maneuvers of rapid encirclement and of the supporting activities of the flying artillery of the Luftwaffe, both of which had as their purpose the physical destruction of the enemy troops. Such was the Vernichtungsgedanke of the Polish campaign.[50]

जॉन एलिस ने समझाया कि ...मैथ्यू कूपर के इस विश्वास में विचारणीय न्याय है कि पैंजर डिवीजनों को एक प्रकार का सामरिक मिशन नहीं दिया गया था जिससे कि आधिकारिक बख्तरबंद ब्लिट्जक्रेग की पहचान हो, और इसने बड़ी संख्या में विभिन्न पैदल सेनाओं का तकरीबन हमेशा नजदीकी तौर पर सहयोग किया था.[51]

स्टीवन ज़लोगा कहते हैं: "जहाँ सितम्बर के अभियान में पश्चिमी खातों ने पैंजर और स्तुका हमलों के आघात पहुँचाने की क्षमता को बढ़ाया है, उन्होंने पोलिश यूनिटों पर जर्मन तोपों के दंडित करने के प्रभाव को कम करके आंकने की कोशिश की है. मोबाइल और पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध तोपची सैनिकों ने उतने अधिक यूनिटों को ध्वस्त किया जितना कि वेरमाक्ट की किसी भी अन्य शाखा ने किया था.[52]

पश्चिमी यूरोप, 1940[संपादित करें]

बेल्जियम के युद्ध के दौरान जर्मन अग्रिम पंक्ति

फ्रांस का जर्मन आक्रमण, बेल्जियम और नीदरलैंड पर सहायक हमलों के साथ दो चरणों में पूरा हुआ था, ऑपरेशन यलो (फॉल गेल्ब ) और ऑपरेशन रेड (फॉल रॉट ). यलो ऑपरेशन की शुरुआत नीदरलैंड और बेल्जियम के खिलाफ पैंतरेबाजी के साथ दो बख्तरबंद पलटनों और घुड़सवार छतरी सेनाओं के जरिये हुई. जर्मन सेना ने पैंजर समूह वॉन क्लेस्ट में अपने बख्तरबंद सैन्य बलों को बड़ी संख्या में एकत्र किया था, जिसने आर्डेनेस के अपेक्षाकृत निगरानी रहित क्षेत्र से होकर आक्रमण किया और सेडान के युद्ध में हवाई सहयोग से एक बड़ी कामयाबी हासिल की.[53]

समूह एबेविले में इंग्लिश चैनल के तट की ओर भागा, और इस प्रकार ब्रिटिश अभियान सेना, बेल्जियन आर्मी, और उत्तरी फ्रांस में फ्रांसीसी आर्मी के कुछ डिवीजनों से अलग हो गया. गुडेरियन और रोमेल के अधीन बख्तरबंद और मोटरयुक्त इकाइयां शुरुआत में पीछा करने वाले डिवीजनों काफी दूर आगे बढ़ गयीं, और वास्तव में इतना अधिक दूर कि जिससे जर्मन आलाकमान आरंभिक दौर में सहज था. जब जर्मन मोटरयुक्त सेनाओं ने अरास में एक जवाबी हमले का सामना किया, जब भारी हथियारबंद वाहनों (माटिल्डा I और II) के साथ ब्रिटिश टैंकों ने जर्मन आलाकमान में संक्षिप्त आतंक का माहौल पैदा कर दिया. बख़्तरबंद और मोटरयुक्त सैन्य बलों को हिटलर द्वारा डंकिर्क के पोर्ट सिटी के बाहर रोक दिया गया, जिन्हें मित्र देशों की सेनाओं को खदेड़ने के लिए इस्तेमाल किया जा रहा था. हरमन गोरिंग ने यह वादा किया था कि लूफ़्टवाफे़ घिरी हुई सेनाओं के विध्वंश का काम पूरा करेगी, लेकिन हवाई ऑपरेशनों ने मित्र देशों के ज्यादातर सैन्य दस्तों को (जिसे ब्रिटिश सेना ने ऑपरेशन डायनामो का नाम दिया था) खदेड़े जाने से नहीं रोका; जिससे तकरीबन 330,000 फ्रांसीसी और ब्रिटिश सैनिकों को बचा लिया गया था.[54]

कुल मिलाकर, यलो ऑपरेशन ने ज्यादातर लोगों की उम्मीद से कहीं अधिक सफलता प्राप्त की थी, इस तथ्य के बावजूद कि मित्र देशों के पास 4,000 बख्तरबंद वाहन थे और जर्मन सेना के पास 2,200 और मित्र देशों के टैंक बख्तरबंद वाहनों एवं तोपों की क्षमता के मामले में कहीं अधिक उन्नत थे.[55] ब्रिटिश सेना ने टैंकों का इस्तेमाल अपने ब्लिट्जक्रेग से पहले की पैदल सेना की मदद करने की परम्परागत भूमिका में किया और इसे समूची आर्मी के बीच फैला दिया जिससे कि टैंकों का जमाव ना हो सके, जबकि टैंकों को केन्द्रित करने का ब्लिट्जक्रेग का तरीका, यहाँ तक कि संख्या में कम और क्षमता में कम योग्य था, जिसने विजयी सफलता दिलाई.

फ़्रांस के युद्ध के दौरान जर्मन अग्रिम पंक्ति

इसने फ्रांसीसी सेनाओं की ताकत को काफी कम कर दिया (हालांकि हतोत्साहित नहीं किया), और ज्यादातर उनके अपने बख्तरबंद वाहनों और भारी उपकरणों से रहित कर दिया. इसके बाद ऑपरेशन रेड तीन-शाखाओं वाले एक पैंजर हमले के साथ शुरू हुआ. XV पैंजर दस्ते ने ब्रेस्ट की ओर हमला किया, XIV पैंजर दस्ते ने पेरिस के पूरब में लियोन की ओर आक्रमण किया, और गुडेरियन के XIX पैंजर दस्ते ने मैगिनोट लाइन की घेराबंदी का काम पूरा किया. सुरक्षा बलों पर किसी भी तरह के जवाबी-हमले के आयोजन के लिए भारी दबाव डाला गया था. फ्रांसीसी सेनाओं को लगातार नदियों के साथ-साथ नई लाइनें तैयार करने के आदेश दिए जाते थे, जहाँ पहुँचने पर अक्सर उन्हें जर्मन सेनाएं पहले ही उनसे आगे निकल गयी मिलती थीं. जब कर्नल डी गौले ने उन्नत फ्रांसीसी टैंकों के साथ एक जवाबी हमले की व्यवस्था की थी, उन्हें अपना वर्चस्व कायम करने के लिए हवाई मदद नहीं मिली थी और उन्हें पीछे हटना पड़ा था.

आखिरकार प्रथम विश्व युद्ध के खाई युद्ध के चार वर्षों के विपरीत, फ्रांसीसी सेना और राष्ट्र मुश्किल से दो महीने के मोबाइल आपरेशन के बाद ही धराशायी हो गए. मंत्री स्तरीय परिषद के फ्रांसीसी राष्ट्रपति, रेनौड ने 21 मई, 1940 को एक भाषण में इस पतन का कारण बताया:

सच तो यह है कि युद्ध के संचालन की हमारी आदर्श परिकल्पना एक नयी परिकल्पना के खिलाफ सामने आयी. इसके आधार पर ...उनके और विमानों के बीच समन्वय या भारी बख़्तरबंद डिवीजनों का ना केवल व्यापक इस्तेमाल किया गया था, बल्कि पैराशूट छापों के जरिये दुश्मन के पीछे के क्षेत्रों में अव्यवस्था उत्पन्न हो गयी थी.

वास्तविक तथ्य में, जर्मन सेना ने फ्रांस में पैराट्रूप हमलों का इस्तेमाल नहीं किया था. एक प्रमुख पैराट्रूप हमले को पहले हॉलैंड में एक पुल पर कब्जा करने के लिए इस्तेमाल किया गया था और बेल्जियम में मुख्य जमीनी सैन्य बलों के पहुँचने से पहले आगे बढ़ने के सुनियोजित मार्गों में क्षेत्रों पर वर्चस्व रखने वाले मार्ग के अवरोधों पर कब्जा करने के लिए कई छोटे-स्तर के ग्लाईडर-लैंडिंग के प्रयास किये गए (जिनमें सबसे मशहूर लैंडिंग बेल्जियम के एबेन-एमाईल के बोर्डर-किले पर की गयी थी). फ्रांस के पतन का असली कारण युद्ध का ब्लिट्जक्रेग तरीका था.

सोवियत संघ: पूर्वी मोर्चा: 1941-44[संपादित करें]

Map depicting Allied breakthroughs of the German line. The German armour is held back and committed to seal the breakthrough
1941-42 के बाद, बख्तरबंद संरचनाओं का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल मित्र देशों के खिलाफ सफलता हासिल करने में एक मोबाइल रिजर्व के रूप में किया गया था.काले तीर बख्तरबंद जवाबी हमलों को दर्शाते हैं.

पूर्वी मोर्चे पर बख़्तरबंद सैन्य बलों का प्रयोग दोनों पक्षों के लिए महत्वपूर्ण था. ऑपरेशन बार्बारोसा, 1941 में सोवियत संघ के जर्मन हमले में मोटरयुक्त सैन्य बलों द्वारा हासिल की गयी कई सफलताएं और घेराबंदियाँ शामिल थीं. इसका घोषित लक्ष्य था "पश्चिम में तैनात रूसी सैन्य बलों को नष्ट करना और रूस के विस्तृत खुले स्थानों में उनके भागने की कोशिश को रोकना".[56] एक महत्वपूर्ण कारक वह आश्चर्यजनक हमला था जिसमें हवाई अड्डों पर एक साथ किये गए हमलों से संपूर्ण सोवियत वायु सेना का तकरीबन सफाया शामिल था. जमीन पर, चार विशाल पैंजर सेनाओं ने सोवियत सैन्य बलों को घेर लिया, उन्हें आश्चर्यचकित और अव्यवस्थित कर दिया, जिसके बाद गश्त लगाती हुई पैदल सेना ने घेराबंदी का काम पूरा किया और फंसे हुए सैन्य बलों को पराजित कर दिया. पूर्वी मोर्चे पर हमले के पहले वर्ष को आम तौर पर जर्मन आर्मी के लिए आख़िरी महत्वपूर्ण सफल मोबाईल ऑपरेशन समझा जा सकता है.

1941 की सर्दियों से पहले सोवियत सेना को नष्ट करने में जर्मनी की विफलता के बाद, जर्मन सामरिक श्रेष्ठता के ऊपर रणनीतिक विफलता स्पष्ट हो गयी. हालांकि जर्मन आक्रमण ने सोवियत क्षेत्र के बड़े इलाकों पर सफलतापूर्वक विजय प्राप्त की, लेकिन समग्र सामरिक प्रभाव कहीं अधिक सीमित थे. रेड आर्मी मुख्य युद्ध पंक्ति के पीछे काफी दूर फिर से इकट्ठा हुई, और अंततः मास्को के युद्ध में पहली बार जर्मन सैन्य बलों को हराने में सफल रही. [57]

1942 की गर्मियों में जब जर्मनी ने दक्षिणी यूएसएसआर (USSR) में स्टेलिनग्राद और काकेशस के खिलाफ दूसरा हमला किया, सोवियत सेना ने बहुत भारी मात्रा में अपने क्षेत्रों को खो दिया, और केवल सर्दियों के दौरान एक बार फिर जवाबी-हमला किया. जर्मन सफलताओं को अंततः हिटलर द्वारा स्वयं स्टेलिनग्राद पर हमले से सैन्य बलों को अलग करते हुए और इसके साथ-साथ काकेशस के तेल कूपों की ओर खदेड़ने की कोशिश तक सीमित कर दिया गया था जिसका बाद में मूल योजना की परिकल्पना तैयार हो जाने तक विरोध किया गया था. फिर भी, वेरमाक्ट काफी लंबा खिंच गया था. ऑपरेशन के तरीके से जीत हासिल कर, रणनीतिक तौर पर यह अपनी रफ़्तार को कायम नहीं रख पाया क्योंकि सोवियत संघ के औद्योगिक आधार और अर्थव्यवस्था की श्रेष्ठता ने अपना प्रभाव ज़माना शुरू कर दिया था.[57]

1943 की गर्मियों में वेरमाक्ट ने दूसरा संयुक्त सैन्य बलों का आक्रामक ऑपरेशन - ज़िटाडेल (सिटाडेल) - कुर्स्क में सोवियत मुख्य सेना के खिलाफ शुरू किया. सोवियत सेना की रक्षात्मक रणनीति, विशेषकर तोपची सैनिकों और हवाई सहायता के प्रभावशाली इस्तेमाल के मामले में अब तक काफी सुधर चुकी थी. कुर्स्क के युद्ध को उसी तरह सोवियत सेना द्वारा हमले के लिए कूच करने और गहरे ऑपरेशनों के पुनर्जीवित सिद्धांत के इस्तेमाल के लिए चिह्नित किया गया था. ब्लिट्जक्रेग को पहली बार गर्मियों में पराजित किया गया और विरोधी सेनाएं अपना स्वयं का, सफल, जवाबी ऑपरेशन चलाने में सक्षम रही.[58]

1944 की गर्मियों तक भाग्य का उलटफेर पूरा हो गया और ऑपरेशन बैगरेशन में सोवियत सैन्य बलों ने बख्तरबंद गाड़ियों, पैदल सेना और वायु शक्ति के माध्यम से, गहरे ऑपरेशनों के रूप में जाने जानेवाले, संयुक्त रणनीतिक हमले के जरिये जर्मनी पर कुचल डालने वाली हार थोप दी.

पश्चिमी मोर्चा, 1944-45[संपादित करें]

युद्ध की प्रगति से साथ-साथ मित्र देशों की सेनाओं ने संयुक्त हथियार संरचनाओं और गहराई तक भेदन की रणनीतियों का प्रयोग करना शुरू कर दिया जिसे जर्मनी ने युद्ध के शुरुआती वर्षों में इस्तेमाल किया था. पश्चिमी रेगिस्तान में और पूर्वी मोर्चे पर मित्र देशों के कई ऑपरेशनों में तीव्र गति से चलने वाले बख्तरबंद यूनिटों द्वारा सफलताएं सुनिश्चित करने के लिए भारी मात्रा में अग्निशक्ति को केन्द्रित करने पर भरोसा किया गया. तोपची सैनिकों पर आधारित ये रणनीतियाँ ऑपरेशन ओवरलॉर्ड के बाद पश्चिमी मोर्चे के ऑपरेशनों में भी निर्णायक साबित हुई थीं और ब्रिटिश राष्ट्रमंडल और अमेरिकी सेनाएं, दोनों ने तोपची सैनिकों की सहायता का उपयोग करने के लिए लचीली और शक्तिशाली प्रणालियाँ विकसित की थीं. सोवियत सेनाओं के लचीलेपन में यह कमी थी कि वे कई रॉकेट लांचरों, तोपों और मोर्टार ट्यूबों की अनगिनत संख्या के लिये बनाये गये थे. जर्मन सेनाओं ने उस तरह आग्नेयास्त्रों को कभी केंद्रित नहीं किया जिस तरह उनके दुश्मन 1944 तक करने में सक्षम थे.[59]

नोरमैंडी में मित्र देशों की लैंडिंग के बाद, जर्मन सेना ने बख्तरबंद हमलों से लैंड करने वाले सैनिकों को कुचल डालने की कोशिशें कीं, लेकिन समन्वय की कमी और मित्र देशों की हवाई श्रेष्ठता के कारण वे इसमें नाकाम रहे. नोरमैंडी में गहरी भेदक कार्रवाईयों का प्रयोग करने में सबसे उल्लेखनीय प्रयास मोरटेन में किया गया, जिसने पहले से बन रहे फालाईस पॉकेट में जर्मन सेना की स्थिति को बिगाड़ दिया और अंततः नोरमैंडी में जर्मन सैन्य बलों को ध्वस्त करने में सहायक सिद्ध हुआ. मोरटेन के जवाबी हमले को अमेरिका के 12वें आर्मी ग्रुप द्वारा प्रभावी ढंग से नष्ट कर दिया गया जिसकी थोड़ा प्रभाव इसकी अपनी आक्रामक कार्रवाईयों पर पडा.[60]

अपने पश्चिमी मोर्चे पर जर्मनी की आख़िरी आक्रामक कार्रवाई, ऑपरेशन वाक्ट एम रैन , दिसंबर 1944 में एंटवर्प के महत्वपूर्ण बंदरगाह की ओर शुरू की गयी आक्रामक कार्रवाई थी. हल्के तौर पर अधिकृत मित्र देशों के क्षेत्र के खिलाफ खराब मौसम में शुरू की गयी इस कार्रवाई ने आश्चर्यजनक और शुरुआती कामयाबी हासिल की क्योंकि मित्र देशों की वायु शक्ति को बादलों की ओट में बाधाओं का सामना करना पड़ा था. हालांकि, संपूर्ण आर्डेनेस के प्रमुख स्थानों में रक्षा के सख्त पॉकेटों में, तैयार करने योग्य सडकों की कमी और खराब जर्मन रसद योजना के कारण काफी देरी हुई थी. मित्र देशों की सेनाओं की तैनाती जर्मन भेदन क्षेत्र के किनारों में की गयी थी, और जैसे ही आसमान साफ़ हुआ, मित्र देशों के विमान फिर से मोटरयुक्त पंक्तियों पर हमला करने में सक्षम हो गए. अमेरिकी यूनिटों द्वारा सख्त रक्षा व्यवस्था और जर्मन सेना की कमजोरी जर्मनी के लिए हार का कारण बनी.[61]

विवाद[संपादित करें]

ब्लिट्जक्रेग के मूल को लेकर कुछ संदेह है, अगर यह अस्तित्व में था तो किसने इसके लिए योगदान किया, क्या यह 1933 - 1939 के बीच जर्मन युद्ध की रणनीति का हिस्सा था.

एक अनुकूल मिलिटरी रणनीति के रूप में ब्लिट्जक्रेग का अस्तित्व था या नहीं इस बात को लेकर एक व्यापक स्तर पर बहस चलती रही है. कई इतिहासकार अब यह मानते हैं की ब्लिट्जक्रेग एक सैन्य सिद्धांत नहीं था, और जर्मन सेना द्वारा 1939 से लेकर लगभग 1942 तक (ऑपरेशन बार्बारोसा के अपवाद के साथ ) चलाये गए अभियान आख़िरी पलों में एक साथ मिलकर और रूपांतरित कर किया गया संशोधित हमला था और इसीलिये यह एक समुचित सैन्य रणनीति नहीं थी. पहले भी ब्लिट्जक्रेग को सैन्य मामलों में एक क्रांतिकारी बदलाव (आरएमए (RMA)) के रूप में देखा जाता था. हाल के वर्षों में एक बड़ी संख्या में लेखकों और इतिहासकारों ने यह निष्कर्ष निकाला कि यह जर्मन सेना द्वारा आविष्कार किया गया युद्ध का एक नया स्वरुप नहीं था, बल्कि नयी तकनीकों का इस्तेमाल कर निर्णायक युद्ध लड़ने का एक पुराना तरीका था.[62]

रणनीतिक इरादे[संपादित करें]

जर्मनी ने अपनी युद्ध की योजना ब्लिट्जक्रेग के इर्द-गिर्द तैयार की थी या नहीं, इस बात पर असहमति है. लोकप्रिय दृष्टिकोण को 1965 में तत्कालीन ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में युद्ध के इतिहास के प्रोफेसर, कैप्टेन रॉबर्ट ओ'नील द्वारा प्रकाशित एक निबंध में संक्षेपित किया जा सकता है. जर्मन सेना में सिद्धांत और प्रशिक्षण 1919-1939 पर लिखते हुए ओ'नील ने कहा था:

एकमात्र विचार: ब्लिट्जक्रेग का विकसित होना इस कहानी को उल्लेखनीय बनाता है. जर्मन सेना के पास युद्ध के मैदान पर प्रौद्योगिकी के प्रभाव की एक व्यापक समझ थी, और उन्होंने युद्ध के एक नए स्वरुप का विकास किया जिसके जरिये जब इनके विरोधियों पर परीक्षण की घड़ी आयी तो उनपर निराशाजनक तरीके से अपनी श्रेष्ठता साबित की.

कुछ इतिहासकार यह दावा करते हुए इससे भी आगे जाने के लिए तैयार थे कि ब्लिट्जक्रेग जर्मन सैन्य बालों का सिर्फ एक ऑपरेशन संबंधी सिद्धांत नहीं था, बल्कि एक सामरिक अवधारणा थी जिसपर थर्ड रैश के नेतृत्व ने अपनी सामरिक और आर्थिक योजना का आधार तैयार किया. जिनलोगों ने थर्ड रैश की सैन्य योजनाएं तैयार की थीं और इसकी युद्ध की आर्थिकी को व्यवस्थित किया था, ऐसा लगता है कि उनहोंने शायद ही कभी, अगर कभी, आधिकारिक दस्तावेजों में ब्लिट्जक्रेग शब्द का इस्तेमाल किया होगा. यह विचार कि जर्मन सेना ने एक "ब्लिट्जक्रेग सिद्धांत" पर कार्रवाई की थी, 1970 के दशक में मैथ्यू कूपर ने इसका प्रबलता से विरोध किया. एक ब्लिट्जक्रेग लूफ़्टवाफे़ की अवधारणा को 1970 के दशक के उत्तरार्ध में रिचर्ड ओवरी द्वारा और 1980 के दशक के मध्य में विलियमसन मूर्रे द्वारा चुनौती दी गयी थी. यह थीसिस कि थर्ड रैश "ब्लिट्जक्रेग की आर्थिकी" के आधार पर युद्ध में उतरा, 1980 के दशक में रिचर्ड ओवरी द्वारा इसका विरोध किया गया और इतिहासकार रौडजेंस ने कई, थोड़े विवादपूर्ण, अर्थों में इस पर प्रकाश डाला, जहाँ इतिहासकारों ने इस शब्द का इस्तेमाल किया था. अभी तक ना केवल एक जर्मन ब्लिट्जक्रेग की अवधारणा या सिद्धांत का भाव, लोकप्रिय चेतना और लोकप्रिय साहित्य में जीवित है, बल्कि यह कई पेशेवर इतिहासकारों के साथ दृढ़ता पूर्वक बना हुआ है. शैक्षणिक मोनोग्राफों से निरंतर ऐसा लगता है कि ये ब्लिट्जक्रेग की "उत्पत्ति" या "जड़ों" को खोदने का अभिप्राय देते हैं, (जैसे कि जेम्स कॉरम का द रूट्स ऑफ ब्लिट्जक्रेग: हैंस वॉन सीक्ट एंड जर्मन मिलिटरी रिफॉर्म ).[63]

अपनी पुस्तक द ब्लिट्जक्रेग लीजेंड में जर्मन इतिहासकार कार्ल-हेंज फ्रेज़र ने "ब्लिट्जक्रेग" के "एक विश्वव्यापी भ्रम" के भाव का संदर्भ दिया है.[64] ओवरी, कूपर और अन्य के साथ सहमति व्यक्त करते हुए फ्रेज़र ने ब्लिट्जक्रेग सिद्धांत के अस्तित्व को नकार दिया, और यह तर्क देते हैं कि 1914 में स्लीफेन योजना के नाकाम होने के बाद जर्मन सेना इस निष्कर्ष पर पहुँची कि निर्णायक युद्ध की कार्रवाई एक रणनीतिक स्तर पर पूरी नहीं की जा सकती है. इसका मतलब यह है कि एक शुरुआती व्यापक स्तर के हमले का विचार एक शिकस्त देने वाली कार्रवाई में तब्दील नहीं हो सकता है. फ्रेज़र का तर्क यह है कि ओकेडब्ल्यू (OKW) का इरादा अपने पूर्ववर्तियों की निर्णायक लड़ाई की अवधारणाओं से बचने का था और इसने संघर्षण के एक लंबे निर्णायक युद्ध के लिए योजना तैयार की थी. ऐसा केवल 1940 में पश्चिमी यूरोप के आक्रमण के लिए तात्कालिक तौर पर शीघ्रता से तैयार की गयी योजना के बाद किया गया था और इसका सफल निष्कर्ष, जिसने जर्मनी के जनरल स्टाफ को यह विशवास दिलाया कि निर्णायक लड़ाईयां अप्रचलित नहीं थीं. ऐसा केवल फ्रांस के युद्ध के बाद हुआ था जब जर्मन सेना की सोच ने बाल्कन अभियान और ऑपरेशन बार्बारोसा के लिए एक ब्लिट्जक्रेग तरीके को आजमाने की संभावना को पलट दिया था.[65]

सिद्धांत[संपादित करें]

कुछ शैक्षणिक साहित्य की स्थिति ब्लिट्जक्रेग को एक मिथक के रूप में मानती है. यह धारणा कि थर्ड रैश ने अपने संपूर्ण लक्ष्यों को हासिल करने के लिए एक ब्लिट्जक्रेग रणनीति विकसित की थी, इसका व्यापक रूप से विरोध किया गया.

इतिहासकारों शिमोन नावेह और रिचर्ड ओवरी ने इस विचार को अस्वीकार कर दिया कि ब्लिट्जक्रेग एक सैन्य सिद्धांत था.[66] नावेह कहते हैं, "ब्लिट्जक्रेग की अवधारणा की मुख्य विशेषता एक अनुकूल सिद्धांत की संपूर्ण अनुपस्थिति थी जिसे ऑपरेशनों की वास्तविक कार्रवाई के लिए सामान्य संज्ञानात्मक आधार के रूप में काम करना चाहिए था.[67] नावेह ने इसकी व्याख्या ऑपरेशन संबंधी खतरों के प्रति एक ऐसे "तात्कालिक समाधान" के रूप में की, जिसे आख़िरी पलों में एक साथ झोंक दिया गया था.[68]

रिचर्ड ओवरी ने भी इस विचार को नकार दिया कि हिटलर और नाजी शासन ने कभी एक ब्लिट्जक्रेग युद्ध का इरादा किया था. यह सुझाव झूठा था कि जर्मन राज्य ने अपनी व्यापक रणनीति को निकट भविष्य में छोटे-छोटे अभियानों की एक श्रृंखला के रूप में चलाने के लिए अपनी अर्थव्यवस्था को जानबूझकर सुव्यवस्थित किया था.[69] वास्तव में हिटलर 1939 के काफी समय बाद की तारीख में एक असीमित युद्ध शुरू करना चाहते थे. लेकिन थर्ड रैश की विदेश नीति ने नाजी राज्य को इसके पूरी तरह से तैयार होने से पहले ही युद्ध में उतरने के लिए मजबूर कर दिया था.[70] 1930 के दशक के दौरान हिटलर और वेरमाक्ट की योजनाओं के आचरण में ब्लिट्जक्रेग तरीका प्रतिबिंबित नहीं होता है, बल्कि इसका बिलकुल उलटा होता है.[71]

इतिहासकार जे. पी. हैरिस ने निर्देशित किया है कि जर्मन सेना ने ब्लिट्जक्रेग शब्द का इस्तेमाल कभी नहीं किया. इसे किसी जर्मन सैन्य क्षेत्र के मैनुअल में, या तो आर्मी या वायु सेना में, कभी इस्तेमाल नहीं किया गया. यह सितंबर 1939 में टाइम्स अखबार के संवाददाता द्वारा पहली बार सामने आया. हैरिस ने भी इसे खारिज कर दिया कि जर्मन सेना की सोच ने किसी तरह की ब्लिट्जक्रेग मानसिकता विकसित की थी.[72]

अपनी पुस्तक ब्लिट्जक्रेग लीजेंड में जर्मन इतिहासकार कार्ल-हेंज फ्रेज़र भी ब्लिट्जक्रेग अर्थव्यवस्था और रणनीति के मिथक पर एडम टूज़े की (उनकी रचना द वेजेज ऑफ डिस्ट्रक्शन: द मेकिंग एंड ब्रेकिंग ऑफ द नाजी इकोनोमी में)[73], ओवरी की और नावेह की चिंताओं की चर्चा करते हैं.[74] इसके अलावा फ्रेज़र कहते हैं कि जीवित जर्मन अर्थशास्त्रियों और जर्मन जनरल स्टाफ के सदस्यों ने इस बात से इनकार किया है कि जर्मनी एक ब्लिट्जक्रेग रणनीति के आधार पर युद्ध में उतरी थी.

अर्थव्यवस्था[संपादित करें]

जर्मन हथियार उद्योग 1944 तक पूरी तरह से तैयार नहीं हुआ था, और यही कारण है कि 1960 के दशक में कुछ इतिहासकारों, विशेष रूप से एलन मिलवार्ड ने ब्लिट्जक्रेग अर्थव्यवस्था का सिद्धांत विकसित किया. मिलवार्ड ने यह तर्क दिया कि जर्मन रैश एक लंबी लड़ाई नहीं लड़ सकते थे, इसीलिये इसने जान-बूझकर गहराई में जाकर हथियारों का प्रयोग करने से परहेज किया, जिससे कि विस्तार में जाकर शास्त्र-सज्जित किया जा सके और शीघ्रता से जीत हासिल करने की एक श्रृंखला को जीतने में सक्षम हो सके. मिलवार्ड ने एक संपूर्ण युद्ध की अर्थव्यवस्था और एक शांतिकाल की अर्थव्यवस्था के बीच स्थित एक कथित अर्थव्यवस्था के बारे में बताया.[75][76][77] ब्लिट्जक्रेग अर्थव्यवस्था का उद्देश्य जर्मन लोगों को युद्ध स्थिति में एक उच्चस्तरीय जीवन शैली का आनंद लेने और प्रथम विश्व युद्ध के दौरान हुई आर्थिक कठिनाइयों से बचने के उपाय करना था.[77]

ओवरी कहते हैं कि ब्लिट्जक्रेग एक "अनुकूल सैन्य और आर्थिक अवधारणा के रूप में सबूतों की रोशनी में बचाव के लिए एक मुश्किल रणनीति सिद्ध हुई है".[78] मिलवार्ड का सिद्धांत हिटलर के और जर्मन योजनाकारों के इरादों के पूरी तरह से विपरीत था. यह 1914 की छाया का उनका डर था जो एक छोटे युद्ध के लिए विस्तार में शस्त्रीकरण और एक लम्बी लड़ाई की आशंका के लिए गहराई तक शस्त्रीकरण के बीच उद्देश्यों के द्वंद्व में विजयी बनकर उभरा था. जर्मन प्रथम विश्व युद्ध की त्रुटि के बारे में जानते थे, और इसने अपनी अर्थव्यवस्था को केवल एक छोटा युद्ध लड़ने के प्रति उन्मुख होने की अवधारणा को अस्वीकार कर दिया था. हिटलर ने केवल एक आश्चर्यजनक जीत पर भरोसा करने को "आपराधिक" घोषित किया और कहा कि "हमें आश्चर्यजनक हमलों के साथ-साथ लंबे समय तक चलने वाले युद्ध के लिए तैयार रहना होगा.[79]

1939-40 की सर्दियों के दौरान, हिटलर ने जितने अधिक कुशल श्रमिकों को कारखानों तक वापस लाया जाना संभव था उसे लाने के क्रम में लड़ाई लड़ने वाली जनशक्ति का आकार घटा दिया था. यह महसूस किया गया था कि युद्ध का निर्णय कारखानों में लिया जाएगा, ना कि यह एक त्वरित-निर्णय वाला पैंजर ऑपरेशन होगा.[79]

1930 के समूचे दशक में हिटलर ने पुनः शस्त्रीकरण कार्यक्रम का आदेश दिया था जिसे सीमित नहीं समझा जा सकता है.[80] नवंबर 1937 में हिटलर ने संकेत दिया था कि ज्यादातर शस्त्रीकरण परियोजनाओं को 1943-45 तक पूरा कर लिया जाएगा.[81] क्रेग्समरीन का पुनः शस्त्रीकरण 1949 में पूरा कर लिया जाना था, लूफ़्टवाफे़ का पुनः शस्त्रीकरण कार्यक्रम 1942 में पूरा होना था जिसके साथ-साथ सेना को भारी बमवर्षकों का इस्तेमाल कर रणनीतिक बमबारी करने में सक्षम होना था.[82] मोटरयुक्त सैन्य बलों का निर्माण एवं प्रशिक्षण और रेल नेटवर्कों की पूरी तैयारी क्रमशः 1943 और 1944 तक शुरू नहीं हुई होती.[82] हिटलर को इन परियोजनाओं के पूरा होने तक युद्ध से बचने की जरूरत थी. 1939 में हिटलर के गलत फैसलों ने इससे पहले कि वे पुनः शस्त्रीकरण का कार्य पूरा करने में सक्षम होते, उन्हें युद्ध में उतरने पर मजबूर कर दिया.[81]

युद्ध के बाद, अल्बर्ट स्पीयर ने बताया कि जर्मन अर्थव्यवस्था ने, नागरिक से सैन्य उद्योग में क्षमता को स्थानांतरित करने के लिए नहीं, बल्कि अर्थव्यवस्था को सुव्यवस्थित करते हुए व्यापक शस्त्रीकरण का लाभ प्राप्त किया.[83] रिचर्ड ओवरी यह बताया कि 1939 तक जर्मन उत्पादन का 23 प्रतिशत मिलिटरी के रूप में था. 1937-1939 के बीच निवेश पूंजी का 70 प्रतिशत रबर, सिंथेटिक ईंधन के विकास, विमान और जहाज निर्माण उद्योग में चला गया था. हरमन गोरिंग ने निरंतर यह कहा कि चतुर्वर्षीय योजना का कार्य जर्मनी को संपूर्ण युद्ध के लिए फिर से हथियारबंद करना था. अपने अर्थशास्त्रियों के साथ एडॉल्फ हिटलर के पत्राचार से भी यह पता चलता है कि 1943-1945 में उनका इरादा युद्ध में दांव लगाना था जब मध्य यूरोप के संसाधनों को थर्ड रैश में लगाया गया था.[84]

1930 के दशक के उत्तरार्ध में जीवन स्तर ऊंचा नहीं था. उपभोक्ता वस्तुओं की खपत 1928 में 71 प्रतिशत से गिरकर 1938 में 59 प्रतिशत हो गयी थी.[85] युद्ध अर्थव्यवस्था की मांगों ने सशस्त्र बलों की मांग को पूरा करने के लिए गैर-सैन्य क्षेत्रों में खर्च की राशि कम कर दी थी. 9 सितंबर को रैश रक्षा परिषद के प्रमुख, गोरिंग ने युद्ध की अवधि के लिए राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था की आजीविका और लड़ने की शक्ति के संपूर्ण "क्रियान्वयन" के लिए आह्वान किया.[86] ओवरी इसे एक सबूत के रूप में प्रस्तुत करते हैं कि एक "ब्लिट्जक्रेग अर्थव्यवस्था" का कोई अस्तित्व नहीं था.[87]

एडम टूज़े ओवरी का समर्थन करते हैं. टूज़े बताते हैं कि जर्मन अर्थव्यवस्था एक लंबी लड़ाई के लिए योजना बना रही थी. इस युद्ध के लिए किया गया खर्च व्यापक था और इसने अर्थव्यवस्था को गंभीर संकट में डाल दिया था. जर्मन नेतृत्व इस बात से कम चिंतित था कि नागरिक अर्थव्यवस्था और नागरिकों की खपत संबंधी जरूरतों को कैसे संतुलित किया जाएगा, बल्कि इसके बजाय चिंता यह थी कि अर्थव्यवस्था को संपूर्ण युद्ध के लिए सबसे अच्छी तरह कैसे तैयार किया जाए.[88] एक बार जब युद्ध शुरू हो गया था, हिटलर ने अपने आर्थिक विशेषज्ञों से सतर्कता छोड़ देने और सभी उपलब्ध संसाधनों को युद्ध के प्रयासों में खर्च करने का अनुरोध किया था. विस्तार की योजनाओं ने केवल 1941 में धीरे-धीरे रफ़्तार पकड़ी.[89] टूज़े इस बात पर कायम रहे कि युद्ध-पूर्व की अवधि में व्यापक शस्त्रीकरण की योजनाएं स्पष्ट रूप से देखी गयी किसी ब्लिट्जक्रेग अर्थव्यवस्था या रणनीति का संकेत नहीं देती थी.[90]

हीर[संपादित करें]

एक तर्क यह है कि युद्ध की शुरुआत में हीर (जर्मन सेना) स्वयं ब्लिट्जक्रेग के लिए तैयार नहीं थीं. ब्लिट्जक्रेग विधि को एक युवा, अत्यधिक कुशल यंत्रीकृत सेना की आवश्यकता थी. 1939-40 में 45 प्रतिशत सेना 40 साल के उम्र की थी, और सभी सैनिकों में 50 प्रतिशत को सिर्फ कुछ ही हफ्तों का प्रशिक्षण दिया गया था.[82] जर्मन सेना, ब्लिट्जक्रेग लीजेंड के सुझाव के विपरीत पूरी तरह मोटरयुक्त नहीं थी. जर्मन सेना फ्रांसीसी सेना के 300,000 वाहनों की तुलना में सिर्फ 120,000 वाहन ही जुटा पायी थी. ब्रिटिश सेना के पास भी मोटरयुक्त बलों का एक "ईर्ष्या योग्य" सैन्य दल था.[82] इस प्रकार, जर्मन "ब्लिट्जक्रेग" सेना की छवि एक प्रचारित करने वाली कल्पना की मनगढ़ंत कहानी थी.[82] प्रथम विश्व युद्ध के दौरान जर्मन सेना ने रसद के लिए 1.4 मिलियन घोड़ों का इस्तेमाल किया, जबकि 1939-45 के युद्ध में इसने 2.7 मिलियन घोड़ों का इस्तेमाल किया था. इसके अलावा 1940 में सेना का सिर्फ 10 प्रतिशत हिस्सा मोटरयुक्त था.[82]

1940 में उपलब्ध जर्मन डिवीजनों का आधा हिस्सा लड़ाई के लिए तैयार था,[82] जो अक्सर ब्रिटिश एवं फ्रांसीसी सेनाओं और 1914 की जर्मन सेना की तुलना में खराब तरीके से सुसज्जित थे. [91] 1940 की वसंत ऋतु में जर्मन सेना अर्द्ध-आधुनिक थी. [91] एक थोड़ी संख्या में सर्वश्रेष्ठ तरीके से सुसज्जित और "कई द्वितीय एवं तृतीय स्तर के डिवीजनों द्वारा अभिजात वर्ग के डिवीजनों को सजाया गया था.[91] कुछ मोटरयुक्त और पैंजर डिवीजनों के अतिरिक्त, जर्मन सेना का नब्बे प्रतिशत हिस्सा एक ब्लिट्जक्रेग सेना नहीं थी.[91][92]

लूफ़्टवाफे़ सिद्धांत[संपादित करें]

जेम्स कॉरम लूफ़्ट वाफे़ और इसके ब्लिट्ज क्रेग ऑपरेशनों के बारे में एक प्रचलित मिथक की चर्चा करते हैं कि इसके पास आतंक पैदा करने वाली बमबारी का सिद्धांत मौजूद था, जिसमें आत्मविश्वास को तोड़ने और दुश्मन को धराशायी करने में मदद के लिए नागरिकों को जान-बूझकर निशाना बनाया गया था.[93] 1937 में ग्वेरनिका की बमबारी और 1940 में रॉटरडैम की बमबारी के बाद, आम तौर पर यह मान लिया गया था कि आतंकी बमबारी लूफ़्टवाफे़ सिद्धांत का एक हिस्सा था. युद्ध काल की अवधि के दौरान, लूफ़्टवाफे़ के नेतृत्व ने आतंकी बमबारी की अवधारणा को अस्वीकार कर दिया था, और हवाई हथियारों को अवरोधक ऑपरेशनों के रणभूमि सहयोग में इस्तेमाल तक सीमित कर दिया था.[93]

The vital industries and transportation centers that would be targeted for shutdown were valid military targets. Civilians were not to be targeted directly, but the breakdown of production would affect their morale and will to fight. German legal scholars of the 1930s carefully worked out guidelines for what type of bombing was permissible under international law. While direct attacks against civilians were ruled out as "terror bombing", the concept of the attacking the vital war industries- and probable heavy civilian casualties and breakdown of civilian morale-was ruled as acceptable.[94]

कॉरम आगे कहते हैं; जनरल वाल्थर वेवर ने द कंडक्ट ऑफ द एरियल वार के रूप में पहचाने जाने वाले एक सिद्धांत को संकलित किया था. यह दस्तावेज़, जिसे लूफ़्टवाफे़ ने अपनाया था, गुलियो डॉहेट के आतंकी बमबारी के सिद्धांत को अस्वीकार कर दिया था. आतंकी बमबारी को "प्रतिकूल" समझा जाता था, जो दुश्मनों की इच्छाशक्ति को नष्ट करने की बजाय प्रतिरोध बढ़ाने वाला था.[95] ऐसी बमबारी के अभियानों को लूफ़्टवाफे़ के मुख्य ऑपरेशनों; दुश्मन से सैन्य बलों के विध्वंश से अलग माना जाता था.[96] ग्वेरनिका, रॉटरडैम और वारसॉ की बमबारियाँ मिलीटरी ऑपरेशनों के समर्थन में सुनियोजित मिशन के रूप में थीं और रणनीतिक आतंकी हमलों के इरादे के रूप में नहीं थीं.[11]

जे.पी. हैरिस कहते हैं कि गोरिंग के लूफ़्टवाफे़ के ज्यादातर लीडर सामान्य स्टाफ के जरिये ब्रिटेन और संयुक्त राज्य अमेरिका में अपने साथियों की तरह यह मानते थे कि रणनीतिक बमबारी वायु सेना का प्रमुख मिशन था और यह कि इस प्रकार की भूमिका के साथ लूफ़्टवाफे़ अगला युद्ध जीत सकती थी और यह कि:

Nearly all lectures concerned the strategic uses of airpower; virtually none discussed tactical co-operation with the Army. Similarly in the military journals, emphasis centred on ’strategic’ bombing. The prestigious Militärwissenschaftliche Rundeschau, the War Ministry’s journal, which was founded in 1936, published a number of theoretical pieces on future developments in air warfare. Nearly all discussed the use of strategic airpower, some emphasising that aspect of air warfare to the exclusion of others. One author commented that European military powers were increasingly making the bomber force the heart of their airpower. The manoeuvrability and technical capability of the next generation of bombers would be ’as unstoppable as the flight of a shell.[97]

लूफ़्टवाफे़ ने एक वायु सेना तैयार की थी जिसमें मुख्य रूप से अपेक्षाकृत कम दूरी के विमान शामिल थे, लेकिन इससे यह साबित नहीं होता है कि जर्मन वायु सेना अकेले ही "सुनियोजित" बमबारी के लिए इच्छुक थी. ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि जर्मन विमान उद्योग के पास शीघ्रता से एक लम्बी-दूरी का बमवर्षक बेड़ा तैयार करने के लिए अनुभव की कमी थी, और क्योंकि हिटलर बहुत तेजी से बड़ी भारी संख्या में सैन्य बल तैयार करने पर अड़े हुए थे. यह भी महत्वपूर्ण है कि मध्य यूरोप में जर्मनी की स्थिति ने भविष्य के संभावित युद्ध के शुरुआती चरणों में रणनीतिक उद्देश्यों के लिए आवश्यक और सिर्फ "सुनियोजित" उद्देश्य के लिए उपयुक्त बमवर्षकों के बीच काफी हद तक एक स्पष्ट अंतर रखने की जरूरत महसूस की थी.[98]

जे.एफ.सी. फुलर और बी.एच. लिडेल हार्ट[संपादित करें]

ब्रिटिश सिद्धांतकारों जे.एफ.सी. फुलर और कैप्टेन बी.एच. लिडेल हार्ट को अक्सर ब्लिट्जक्रेग के विकास से जोड़ा गया है, हालांकि यह एक विवाद का मामला है. हाल के वर्षों में इतिहासकारों ने यह खुलासा किया है कि लिडेल हार्ट ने यह दिखाने के लिए कि जैसे उनके विचारों को अपनाया लिया गया था, तथ्यों को तोड़-मरोड़ दिया है और झूठा साबित कर दिया है.[99] युद्ध के बाद लिडेल हार्ट ने अपनी स्वयं की धारणाएं थोपी हैं, घटना के बाद, यह दावा करते हुए कि वेरमाक्ट द्वारा प्रयोग किया गया मोबाइल टैंक युद्ध कौशल उनके प्रभाव का नतीजा था,[99] ब्लिट्जक्रेग स्वयं एक आधिकारिक सिद्धांत नहीं है और हाल के समय में इतिहासकार इस नतीजे पर पहुंचे हैं कि यह उस तरह से अस्तित्व में मौजूद नहीं था:

यह एक सिद्धांत के विपरीत था. ब्लिट्जक्रेग कार्रवाइयों की एक सरकती हुई चटान से बना था जिसे डिजाइन के जरिये कम और कामयाबी के जरिये अधिक अंजाम दिया गया था. परोक्ष दृष्टि में - और लिडेल हार्ट से कुछ मदद के साथ - कार्रवाई की प्रचंड धारा को इस तरह निचोड़ दिया गया था कि जैसे यह: एक ऑपरेशन संबंधी डिजाइन ही नहीं था.[100][101]

"हेरफेर और युक्ति से, लिडेल हार्ट ने ब्लिट्जक्रेग के निर्माण की वास्तविक परिस्थितियों को तोड़-मरोड़ दिया था और उन्होंने इसकी जड़ों को धुंधला कर दिया था. एक दिखावटी अवधारणा के अपने गैर-सैद्धांतिक आदर्शीकरण के माध्यम से उन्होंने ब्लिट्जक्रेग के मिथक को प्रबलित कर दिया".[102] ब्लिट्जक्रेग की उथली अवधारणा पर मोबाइल युद्ध कौशल की अपनी स्वयं धारणाओं को, पूर्वव्यापी तरीके से लागू करते हुए, उन्होंने "एक सैद्धांतिक अव्यवस्था पैदा कर दी जिसे स्पष्ट करने में 40 साल लग गए.[102] 1950 के दशक के शुरुआती साहित्य ने ब्लिट्जक्रेग को एक ऐतिहासिक सैन्य सिद्धांत में तब्दील कर दिया था, जिसमें लिडेल हार्ट और हेंज गुडेरियन के हस्ताक्षर मौजूद थे. लिडेल हार्ट के इतिहास के धोखा देने वाले और "विवादास्पद" रिपोर्ट को जर्मन जनरल एरिक वॉन मैन्सटीन और हेंज गुडेरियन के साथ-साथ एर्विन रोमेल के संबंधियों और सहयोगियों को लिखे उनके पत्रों में देखा जा सकता है. पत्र के लिए Guderian में हार्ट Liddell पर उत्तरार्द्ध, संस्करण की बमवर्षा गढ़े खुद अपने "लगाया और उसे मजबूर" करने के लिए मूल सूत्र के रूप में यह प्रचार. [103] [104] इतिहासकार केनेथ मैक्सी ने गुडेरियन को लिखे लिडेल हार्ट के मूल पत्रों को, जनरल के दस्तावेजों में, गुडेरियन द्वारा उन्हें अपने बख्तरबंद युद्ध कौशल के विचारों के साथ "उन्हें प्रभावित करने" के लिए श्रेय देने का आग्रह करते हुए पाया. 1968 में जब लिडेल हार्ट से इसके बारे में, और गुडेरियन की स्मृतियों के अंग्रेजी एवं जर्मन संस्करणों में विसंगति को लेकर सवाल पूछा गया था, "उन्होंने एक आसान सुविधाजनक हालांकि अत्यंत सच्चा जवाब दिया. (स्वयं गुडेरियन के साथ मेरे पत्राचार के फ़ाइल में इस मामले के बारे में भी मौजूद नहीं था इसके अलावा कि... उस अतिरिक्त अनुच्छेद में उनके द्वारा कही गयी बातों के लिए... मैंने उन्हें धन्यवाद कहा था)".[105]

प्रथम विश्व युद्ध के दौरान, फुलर नव-विकसित टैंक सेना के साथ जुड़े एक स्टाफ अधिकारी थे. बाद में उन्होंने व्यापक, स्वतंत्र टैंक ऑपरेशनों के लिए योजनाएं विकसित की, जिसके लिए उन्होंने दावा किया कि बाद में जर्मन सेना द्वारा इनका अध्ययन किया गया था. विविधतापूर्ण तरीके से यह तर्क दिया गया था कि फुलर की युद्ध काल की योजनाएं और युद्ध के बाद की रचनाएं एक प्रेरणा थी, या यह कि उनका पाठक वर्ग छोटा था और युद्ध के दौरान हासिल किये गए जर्मन अनुभवों ने लोगों को ज्यादा आकर्षित किया. युद्ध के हारे हुए पक्ष के रूप में अपने बारे में जर्मन लोगों के नज़रिए को वरिष्ठ और अनुभवी अधिकारियों से एक संपूर्ण समीक्षा, अध्ययन, और उनके सभी सैन्य सिद्धांतों के पुनर्लेखन एवं प्रशिक्षण मैनुअल के जरिये जोड़ा जा सकता है. ब्रिटेन की प्रतिक्रिया कहीं अधिक कमजोर थी.[106]

फुलर और लिडेल हार्ट दोनों "बाहरी" थे: लिडेल हार्ट बीमार होने की वजह से एक सक्रिय सिपाही के रूप में सेवा करने में असमर्थ थे, और फुलर के सख्त व्यक्तित्व का परिणाम 1933 में समय से पहले उनकी सेवानिवृत्ति के रूप में सामने आया था. इसलिए ब्रिटिश सेना के आधिकारिक पदानुक्रम के अंदर उनके विचारों का सीमित प्रभाव पड़ा था. ब्रिटिश युद्ध कार्यालय ने 1 मई, 1927 को टैंकों, लॉरीयुक्त पैदल सेना, आत्मप्रेरित तोपची सैनिकों, मोटरयुक्त इंजीनियरों से बनी एक प्रायोगिक यंत्रीकृत सेना का गठन करने की अनुमति दी थी, लेकिन वित्तीय बाधाओं ने इस प्रयोग को विस्तारित करने से रोक दिया था.

आविष्कार[संपादित करें]

यह तर्क दिया गया है कि ब्लिट्जक्रेग नया नहीं था. जर्मनों ने 1920 और 1930 के दशक में ब्लिट्जक्रेग जैसी किसी चीज का आविष्कार नहीं किया था.[62][107] इसके बजाय युद्ध की चलायमान और केंद्रित सैन्य बल की जर्मन अवधारणा को प्रूसिया के युद्धों और जर्मन एकीकरण के युद्धों में देखा जा सकता है.[62] 30 साल के युद्ध के दौरान, तीव्र गतिविधि, केंद्रित शक्ति और एकीकृत सैन्य प्रयास को लागू करने वाले पहले जनरल थे, स्वीडिश किंग गुस्ताव द्वितीय एडोल्फस. प्रथम विश्व युद्ध में टैंक और विमान की मौजूदगी को अक्सर सैन्य मामलों में क्रांतिकारी बदलाव (आरएमए (RMA)) के रूप में देखा जाता है, जिसने जर्मन सेना को वरिष्ठ मोल्टेक द्वारा प्रयोग किये गए परंपरागत युद्धक गतिविधियों की ओर वापस जाने का मौक़ा दिया था.[62] 1939 से लगभग 1942 तक का यह तथाकथित "ब्लिट्जक्रेग अभियान" उस ऑपरेशन संबंधी संदर्भ के अंदर अच्छी तरह मौजूद था.[62]

युद्ध के फैलने पर जर्मन सेना के पास ब्लिट्जक्रेग कहलाने वाला या कुछ और कहलाने वाला युद्ध का कोई मौलिक नया सिद्धांत मौजूद नहीं था. जर्मन सेना की ऑपरेशन संबंधी सोच में प्रथम विश्व युद्ध के बाद, वास्तव में 19वीं सदी के उत्तरार्ध बाद ज्यादा बदलाव नहीं हुआ था. जे.पी. हैरिस और रॉबर्ट एम. सिटिनो बताते हैं कि जर्मनों ने हमेशा छोटे, निर्णायक अभियानों को विशेष प्राथमिकता दी थी. यह सिर्फ ऐसा था कि वे आम तौर पर प्रथम विश्व युद्ध की परिस्थितियों में छोटे-क्रम की जीत हासिल करने का प्रबंधन नहीं कर सके. फर्क इस बात से पड़ा, प्रथम विश्व युद्ध के गतिरोध को द्वितीय विश्व में जबरदस्त शुरुआती ऑपरेशन संबंधी और रणनीतिक सफलता में बदलना, जो यंत्रीकृत डिवीजनों की एक अपेक्षाकृत छोटी संख्या की नियुक्ति थी, जिसमें सबसे महत्त्वपूर्ण पैंजर डिवीजनों की नियुक्ति और एक असाधारण शक्तिशाली वायु सेना का सहयोग शामिल था. [108]

गुडेरियन[संपादित करें]

हेंज गुडेरियन को आम तौर पर एक ऐसा सैन्य सिद्धांत तैयार करने का श्रेय दिया जाता है जिसकी व्याख्या बाद में ब्लिट्जक्रेग के रूप में की गयी थी. हाल ही में कुछ लोगों ने यह संदेह व्यक्त किया है कि इसमें उनका कितना अपना सिद्धांत था. 1920 के दशक में जर्मनी के सैन्य सुधारों के बाद, हेंज गुडेरियन यंत्रीकृत सैन्य बलों के एक प्रबल प्रस्तावक के रूप में उभरे थे. परिवहन सैनिकों के निरीक्षणालय के अंदर, गुडेरियन और उनके सहकर्मियों ने सैद्धांतिक और मैदानी अभ्यास का काम अपने हाथ में लिया था. गुडेरियन ने यह दावा किया कि उन्हें कई ऐसे अधिकारियों से विरोध का सामना करना पडा था, जिन्होंने पैदल सेना को प्रधानता दी थी या टैंक की उपयोगिता पर संदेह किया था. गुडेरियन ने दावा किया था कि उनमें से एक जनरल स्टाफ के प्रमुख लडविग बेक (1935-1938) थे, जिनपर उन्होंने इस उलझन में होने का आरोप लगाया था कि बख्तरबंद सैन्य बल निर्णायक होगा या नहीं. बाद के इतिहासकारों द्वारा इस दावे को विवादित बताया गया है. उदाहरण के लिए, जेम्स कॉरम ने कहा था:

गुडेरियन ने 1935 से 1938 तक जनरल स्टाफ के प्रमुख लडविग बेक के लिए हार्दिक तिरस्कार व्यक्त किया था, जिन्हें उन्होंने एक आधुनिक यंत्रीकृत युद्ध कौशल के विचारों के लिए शत्रुतापूर्ण बताया था: [कॉरम, गुडेरियन का उल्लेख करते हुए] "वे [बेक] जहाँ भी दिखाई दिए एक अवरोधक तत्व थे...[विशेषकर] उनके सोचने का तरीका लड़ाई का उनका बहुत बढ़ा-चढ़ा कर बताने वाला तरीका था, जिसे उन्होंने विलंबित बचाव कहा था. यह एक बेहद सक्षम जनरल का एक अशुद्ध चित्रण है जिन्होंने 1933 में आर्मी रेगुलेशन 300 (सैन्य नेतृत्व) को लिखा, जो द्वितीय विश्व युद्ध में जर्मन सेना का प्राथमिक सामरिक मैनुअल था, और जिसके निर्देशन के तहत 1935 में पहले तीन पैंजर डिवीजनों को तैयार किया गया था, जो उस समय अपनी तरह का दुनिया का सबसे बड़ा सैन्य बल था. [109]

गुडेरियन की ओर से बढ़ाई गयी एक और ग़लतफ़हमी कि वे जर्मन रणनीतिक और ऑपरेशन संबंधी पद्धति के एकमात्र निर्माता थे, यह भी गुमराह करने वाली है. 1922 और 1928 के बीच गुडेरियन ने सैन्य गतिविधियों से सन्दर्भ में मुश्किल से एक या दो पृष्ठ के कुछ ही आलेख लिखे थे. गुडेरियन के आक्टंग पैंजर! (1937) ने अन्य सिद्धांतकारों जैसे कि लडविग रिटर वॉन आइमैंसबर्जर पर पूरा भरोसा किया था, जिनकी प्रमुख पुस्तक, द टैंक वार (Der Kampfwagenkrieg ) (1934) ने जर्मन आर्मी में व्यापक पाठक वर्ग प्राप्त किया था.[110] एक अन्य सिद्धांतकार, अर्नस्ट वोल्कहेम का भी गुडेरियन द्वारा प्रयोग किया गया था, और टैंक एवं संयुक्त हथियारों की रणनीतियों पर भारी मात्रा में लिखा था, और जिसे गुडेरियन द्वारा स्वीकार नहीं किया गया है.[110]

गुडेरियन के नेतृत्व को रैशवेर जनरल स्टाफ प्रणाली में उनके समर्थकों द्वारा समर्थन, प्रोत्साहन और संस्थागत सहयोग दिया गया था, जिसने 1930 के दशक में व्यापक और व्यवस्थित गतिविधियों वाले युद्धकौशल युद्धाभ्यास के जरिये अधिक से अधिक स्तर की क्षमता हासिल करने में आर्मी की मदद की थी.

गुडेरियन का तर्क है कि टैंक युद्ध का निर्णायक हथियार था. उन्होंने लिखा था, "अगर टैंक सफल होते थे, तो जीत उसके पीछे-पीछे आती थी". टैंक युद्ध कौशल के आलोचकों को संबोधित एक आलेख में उन्होंने लिखा था "जब तक हमारे आलोचक एक सफल जमीनी हमले के लिए आत्म-नरसंहार के अतिरिक्त कुछ नया और बेहतर तरीका एक सफल देश आत्म - नरसंहार के अलावा अन्य पर हमला करने का बेहतर तरीका तैयार नहीं करते हैं, हमें अपनी इन धारणाओं को आगे भी कायम रखना होगा कि टैंक - समुचित रूप से कार्यान्वित, कहने की जरूरत नहीं है कि - आज जमीनी हमले के लिए सर्वश्रेष्ठ उपलब्ध साधन है. प्रथम विश्व युद्ध के दौरान उस तेज रफ़्तार से संबोधित करते हुए, जिसे बचाव करने वाले किसी क्षेत्र को हमलावर द्वारा भेद सकने की तुलना में अधिक सुदृढ़ बना सकें, गुडेरियन ने लिखा कि "क्योंकि रिजर्व सेनाओं को अब मोटरयुक्त किया जाएगा, नए रक्षात्मक मोर्चों का निर्माण पहले की तुलना में कहीं आसान हो गया है; तोपची सैनिकों और पैदल सेना के पारस्परिक सहयोग की समय सारणी के आधार पर आक्रमण के मौके, एक नतीजे के रूप में, पिछले युद्ध में उनकी स्थिति से आज कहीं हल्के हैं. उन्होंने आगे कहा, "हम मानते हैं कि टैंकों से हमला करते हुए हम अब तक हासिल करने योग्य दर से कहीं उच्चतम दर पर गतिविधि की क्षमता हासिल कर सकते हैं, और - संभवतः जो कहीं अधिक महत्वपूर्ण है - कि जब एक बार सफलता हासिल हो गयी तो हम आगे बढ़ते रह सकते हैं.[111] इसके अतिरिक्त गुडेरियन को यह आवश्यकता महसूस हुई कि सभी टैंकों पर एक-एक सामरिक रेडियो का व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाए जिससे कि आपसी-सहयोग और कमांड की सुविधा हासिल करने की व्यवस्था की जाए.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • एयरलैंड बैटल, 1980 के दशक में अमेरिकी आर्मी का ब्लिट्जक्रेग जैसा सिद्धांत.
  • बख़्तरबंद युद्ध
  • रश (कंप्यूटर और वीडियो गेम), ब्लिट्जक्रेग विधि द्वारा प्रभावित एक आरटीएस (RTS) रणनीति.
  • शॉक एंड ऑ, 21वीं सदी के अमेरिकी सैन्य सिद्धांत
  • Vernichtungsgedanken, या 'विध्वंशक विचार' ब्लिट्जक्रेग के पूर्ववर्तियों में से एक
  • मिशन-जैसी रणनीति, प्रत्यायोजन का सामरिक युद्ध सिद्धांत और प्रयासों का प्रोत्साहन
  • डीप बैटल, 1930 के दशक से सोवियत लाल सेना का सैन्य सिद्धांत जो अक्सर ब्लिट्जक्रेग से भ्रमित है.
  • बैटलप्लान (टीवी श्रृंखला का वृत्तचित्र)

संदर्भ[संपादित करें]

  1. Gove, Philip (1986). Webster's Third New International Dictionary of the English Language Unabridged. Springfield: Merriam-Webster. प॰ 27a 2.31. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780877792017. 
  2. कीगन, द मास्क ऑफ कमांड पृष्ठ 260
  3. कीगन 1989, पृष्ठ 54.
  4. शाइरर, विलियम, द कोलैप्स ऑफ द थर्ड रिपब्लिक: एन इन्क्वायरी इंटू द फॉल ऑफ फ्रांस इन 1940 , अध्याय 29-31, फ्रांस के युद्ध में रणनीतिक और सामरिक सफलता के संदर्भ (आंशिक रूप से आँखों-देखी) के लिए "द फॉल ऑफ फ्रांस I, II, (और) III"
  5. कीगन 1989, पृष्ठ 265.
  6. नावेह 1997, पृष्ठ 150.
  7. कीगन 2005, पृष्ठ 109.
  8. हैरिस 1995, पृष्ठ 334-336
  9. Corum 2002, pp. 167-169.
  10. Corum 1997, p. 143.
  11. Corum 1997, p. 7.
  12. Griehl 201, p. 31.
  13. ग्रेल 2001, पृष्ठ 31, 64-65.
  14. फ्रेज़र 2005, पृष्ठ 345
  15. फ्रेज़र 2005, पृष्ठ 4-5.
  16. हैरिस 1995, पृष्ठ 336-337.
  17. हैरिस 1995, पृष्ठ 337.
  18. कॉरम 1997, पृष्ठ 37.
  19. कॉरम 1997, पृष्ठ 30.
  20. कॉरम 1992, पृष्ठ 23.
  21. कॉरम 1992, पृष्ठ 7.
  22. कॉरम, एडवर्ड्स, और हाउस द्वारा दिया गया तर्क. यह उन सिद्धांतों को शामिल करने के लिए नहीं है जिन्हें वास्तविक सिद्धांत के रूप में नहीं अपनाया गया है, और जिनपर विचारों में भिन्नता है.
  23. कनाडाई आर्मी प्रकाशन, पृष्ठ 7
  24. "1890–1940 : un officier non-conformiste" (French में). www.charles-de-gaulle.org. http://www.charles-de-gaulle.org/pages/l-homme/dossiers-thematiques/1890-1940-la-genese/un-officier-non-conformiste/analyses/charles-de-gaulle-au-sgdn-1931-1937.php. अभिगमन तिथि: 13 December 2009. 
  25. वाट 2008, पृष्ठ 677-678.
  26. विलमोट 2002, पृष्ठ 116.
  27. एडवर्ड्स, रोजर, पैंजर, ए रिवोल्यूशन इन वारफेयर: 1939-1945 , पृष्ठ 23
  28. गुडेरियन, हेंज; पैंजर लीडर , पृष्ठ 46.
  29. एडवर्ड्स, रोजर, पैंजर, ए रिवोल्यूशन इन वारफेयर: 1939-1945 , पृष्ठ 24
  30. Guderian, Heinz; Panzer Leader, p.13
  31. गुडेरियन, हेंज; पैंजर लीडर , पृष्ठ 20
  32. एडवर्ड्स, रोजर; पैंजर, ए रिवोल्यूशन इन वारफेयर: 1939-1945 , पृष्ठ 145.
  33. एडवर्ड्स, रोजर; पैंजर, ए रिवोल्यूशन इन वारफेयर: 1939-1945 , पृष्ठ 25.
  34. कॉरम 2007, पृष्ठ 200.
  35. फ्रेज़र 2005, पृष्ठ 156-157.
  36. फ्रेज़र 2005, पृष्ठ 89-90.
  37. फ्रेज़र 2005, पृष्ठ 344-346..
  38. Glantz and House 1995, p. 57.
  39. कीगन, जॉन; द मास्क ऑफ कमांड , पृष्ठ 265
  40. बकले 1998, पृष्ठ 126-127.
  41. होम्स 2001, पृष्ठ 602.
  42. फ्रेज़र 2005, पृष्ठ 137-144.
  43. टेलर 1974, पृष्ठ 238.
  44. होम्स 2001, पृष्ठ 245-247.
  45. होम्स 2001, पृष्ठ 293-294.
  46. होम्स 2001, पृष्ठ 159.
  47. रिचर्ड सिम्प्किन, रेस टू द स्विफ्ट: थॉट्स ऑन ट्वेंटी-फर्स्ट सेंचुरी वारफेयर , (लंदन: ब्रासेज, 2000), पृष्ठ 34
  48. Winchester, Charles. "Advancing Backwards: The Demodernization of the German Army in World War 2". Osprey Publishing. http://www.ospreypublishing.com/articles/world_war_2/demodernization_german_army_in_world_war_/. 
  49. हैरिस 1995 पृष्ठ 339.
  50. Cooper, Matthew. The German Army 1939–1945: Its Political and Military Failure
  51. एलिस, जॉन. ब्रूट फोर्स (वाइकिंग पेंगुइन, 1990)
  52. जलोगा, स्टीवन और माजेज. द पोलिश कैम्पेन 1939 (हिप्पोक्रेन बुक्स, 1985)
  53. फ्रेज़र 2005, पृष्ठ 145-182.
  54. फ्रेज़र 2005, पृष्ठ 291-310.
  55. गुडेरियन, हेंज, पैंजर लीडर , पृष्ठ 94
  56. एलन क्लार्क, बार्बारोसा: द रशियन-जर्मन कॉन्फ्लिक्ट, 1941-45 , न्यूयार्क: क्विल, 1965, पृष्ठ 78
  57. फ्रेज़र 2005, पृष्ठ 351.
  58. ग्लांट्ज और हाउस 1995, पृष्ठ 167.
  59. कीगन 2005, पृष्ठ 48.
  60. कीगन 2005, पृष्ठ 632-633.
  61. होम्स 2001, पृष्ठ 158-159.
  62. सिटिनो 2005, पृष्ठ 311.
  63. हैरिस 1995, पृष्ठ 336.
  64. फ्रेज़र 2005, पृष्ठ 349.
  65. फ्रेज़र 2005, पृष्ठ 349-350.
  66. नावेह 1997, पृष्ठ 128.
  67. नावेह 1997, पृष्ठ 128-129.
  68. नावेह 1997, पृष्ठ 129.
  69. ओवरी 1995, पृष्ठ 233-234.
  70. ओवरी 1995, पृष्ठ 234.
  71. ओवरी 1995, पृष्ठ 235.
  72. हैरिस 1995, पृष्ठ 333-336.
  73. टूजे 2006, पृष्ठ 371-373.
  74. फ्रेज़र 2005, पृष्ठ 25-27.
  75. फ्रेज़र 2005, पृष्ठ 25.
  76. हैरिस 1995 पृष्ठ 348.
  77. ओवरी 1995, पृष्ठ 260.
  78. ओवरी 1995, पृष्ठ 207.
  79. फ्रेज़र 2005, पृष्ठ 26.
  80. ओवरी 1995, पृष्ठ 192.
  81. ओवरी 1995, पृष्ठ 195.
  82. फ्रेज़र 2005, पृष्ठ 29.
  83. ओवरी 1995, पृष्ठ 259.
  84. ओवरी 1995, पृष्ठ 263.
  85. ओवरी 1995, पृष्ठ 264.
  86. ओवरी 1995, पृष्ठ 265.
  87. ओवरी 1995, पृष्ठ 261.
  88. टूजे 2002, पृष्ठ 335.
  89. टूजे 2002, पृष्ठ 338.
  90. टूजे 2002, पृष्ठ 372.
  91. फ्रेज़र 2005, पृष्ठ 30.
  92. फ्रेज़र 2005, पृष्ठ 33.
  93. कॉरम, जेम्स. द लूफ़्टवाफे़: द ऑपरेशनल एयर वार, 1918-1940 . कंसास विश्वविद्यालय प्रेस. 2007. आईएसबीएन (ISBN) 0-7006-0836-2
  94. James Corum 1997, p. 240
  95. कॉरम 1997, पृष्ठ 143-144.
  96. कॉरम 1997, पृष्ठ 146.
  97. Harris 1995, p. 346.
  98. हैरिस 1995, पृष्ठ 346-347.
  99. नावेह 1997, पृष्ठ 108.
  100. नावेह 1997, पृष्ठ 107-108.
  101. पैरेट 1986, पृष्ठ 587.
  102. नावेह 1997, पृष्ठ 108-109.
  103. नावेह 1997, पृष्ठ 109.
  104. दांचेव 1998, पृष्ठ 239
  105. दांचेव 1998, पृष्ठ 235-239.
  106. कॉरम जेम्स एस द रूट्स ऑफ ब्लिट्जक्रेग : हैंस वॉन सीक्ट एंड जर्मन मिलिट्री रिफॉर्म , पृष्ठ 39
  107. फ्रेज़र 2005, पृष्ठ 326-328.
  108. हैरिस 1995, पृष्ठ 344-345.
  109. कॉरम 1992, पृष्ठ 140-141.
  110. कॉरम 1992, पृष्ठ 139.
  111. गुडेरियन की टिप्पणियाँ 15 अक्टूबर, 1937 को नेशनल युनियन ऑफ जर्मन अफेयर्स में प्रकाशित एक अनाम आलेख से ली गयी हैं, जैसा कि पैंजर लीडर , पृष्ठ 39-46 में उद्धृत है. इटालिक्स को हटा लिया गया है - मूल में उद्धृत खंड संपूर्ण रूप से इटालिक हैं.

फुटनोट्स[संपादित करें]

  1. Nothing appeared in Luftwaffe 'doctrine' stipulating "terror" as a major operational factor. The method of "terror", was denied to German aerial operations (and strategic bombing methods) by the Luftwaffe field manual The Conduct of Air Operations, Regulation 16, issued in 1935. James Corum covers the subject in The Roots of Blitzkrieg: Hans von Seeckt and German Military Reform[9] In other work, The Luftwaffe: Creating the Operational Air War, 1918-1940, Corum goes into greater detail. Regulation 16 denied "terror" operations against civilians.[10] Corum does state that it was not until 1942 when indiscriminate "terror" operations, in which terror and civilian casualties become the primary target, took place.[11] As far as the Ju 87 is concerned, it is thought the sirens were suggested to the Junkers company by Ernst Udet to undermine the morale of enemy forces[12]
  2. Some 58 percent of prisoners died through neglect, starvation, or other causes associated with Nazi crimes against Soviet POWs[38]

बिब्लियोग्राफी[संपादित करें]

  • क्रिस्प, पीटर. (1991) ब्लिट्जक्रेग

!, विटनेस हिस्ट्री सीरीज .न्यूयॉर्क: बुकराईट प्रेस. आईएसबीएन (ISBN) 0531183734.

  • सिटिनो, रॉबर्ट माइकल. (1999) द पाथ टू ब्लिट्जक्रेग: डॉक्ट्रीन एंड ट्रेनिंग इन द जर्मन आर्मी, 1920-1939 . बोल्डर: लेन रेनर प्रकाशक. आईएसबीएन (ISBN) 1555877141.
  • सिटिनो, रॉबर्ट माइकल. (2005) द जर्मन वे इन वार: फ्रॉम द थर्टी ईयर्स वार टू द थर्ड रैश कंसा विश्वविद्यालय प्रेस. आईएसबीएन (ISBN) 978-0700661624-4
  • सिटिनो, रॉबर्ट माइकल. (2002) क्वेस्ट फॉर डिसाइसिव विक्ट्री: फ्रॉम स्टेलमेट टू ब्लिट्जक्रेग इन यूरोप, 1899-1940 मॉडर्न वार स्टडीज. लॉरेंस: कंसास विश्वविद्यालय प्रेस. आईएसबीएन (ISBN) 0700611762.
  • साँचा:CondellZabecki2001
  • कूपर, मैथ्यू. (1997) द जर्मन आर्मी, 1933-1945: इट्स पॉलिटिकल एंड मिलिटरी फैल्योर लैंथम: स्कारबोरो हाउस. आईएसबीएन (ISBN) 0812885198.
  • कॉरम, जेम्स एस(1992) द रूट्स ऑफ ब्लिट्जक्रेग: हैंस वॉन सीक्ट एंड जर्मन मिलिट्री रिफॉर्म , मॉडर्न वार स्टडीज. लॉरेंस: कंसास विश्वविद्यालय प्रेस. आईएसबीएन (ISBN) 070060541X.
  • कॉरम, जेम्स. द लूफ़्टवाफे़: क्रिएटिंग द ऑपरेशनल एयर वार, 1918-1940 . कंसास यूनिवर्सिटी प्रेस. 1997. आईएसबीएन (ISBN) 9780700608362
  • एलेक्स दांचेव, ऑलकेमिस्ट ऑफ वार: द लाइफ ऑफ बेसिल लिडेल हार्ट . निकोल्सन, लंदन. 1998. आईएसबीएन (ISBN) 0-75380-873-0.
  • डेटन, लेन. (1980) ब्लिट्जक्रेग: फ्रॉम द राइज ऑफ हिटलर टू द फॉल ऑफ डंकिर्क . न्यूयॉर्क: नोफ़. आईएसबीएन (ISBN) 0394510208.
  • डॉटी, रॉबर्ट ए.(1990) द ब्रेकिंग प्वाइंट: सेडान एंड द फॉल ऑफ फ्रांस, 1940 . हैमडेन: आर्कन की पुस्तकें. आईएसबीएन (ISBN) 0208022813.
  • एरिकसन, जॉन. (1975) द रोड टू स्टेलिनग्राद: स्टालिंस वार एगेंस्ट जर्मनी . लंदन: केसल 1990 (पुनर्मुद्रण). आईएसबीएन (ISBN) 0304365416; आईएसबीएन (ISBN) 978-0304365418.
  • एडवर्ड्स, रोजर. (1989) पैंजर, ए रिवोल्यूशन इन वारफेयर: 1939-1945 . लंदन/न्यूयॉर्क: आर्म्स एंड आर्मर. आईएसबीएन (ISBN) 0853689326.
  • फैनिंग, विलियम जूनियर जर्नल ऑफ मिलिट्री हिस्ट्री में द ओरिजिन ऑफ द टर्म "ब्लिट्जक्रेग": अनदर व्यू . अंक. 61, नंबर 2. अप्रैल 1997, पीपी. 283-302.
  • फ्रेज़र, कार्ल-हेंज. (1995) ब्लिट्जक्रेग लीजेंड: Der Westfeldzug, 1940 , Operationen des Zweiten Weltkrieges. मंशेन: आर. ओल्डेनबर्ग. आईएसबीएन (ISBN) 3486561243.
  • फ्रेज़र, कार्ल-हेंज, और जॉन टी. ग्रीनवुड. (2005) द ब्लिट्जक्रेग लीजेंड: द 1940 कैम्पेन इन द वेस्ट . अन्नापोलिस: नौसेना संस्थान प्रेस. आईएसबीएन (ISBN) 1591142946.
  • ग्रेल, मैनफ्रेड. जंकर जू 87 स्टुका लंदन/स्टटगार्ट: एयरलाइफ पब्लिशिंग/ मोटरबश, 2001. आईएसबीएन (ISBN) 1-84037-198-6.
  • गुडेरियन, हेंज. (1996) पैंजर लीडर . न्यूयॉर्क: दा कैपो प्रेस. आईएसबीएन (ISBN) 0306806894.
  • हैरिस, जे.पी. वार इन हिस्ट्री में द मिथ ऑफ ब्लिट्जक्रेग , अंक 2, नंबर(1995).
  • हाउस, जोनाथन एम.(2001) कंबाइंड आर्म्स वारफेयर इन द ट्वेंटीथ सेंचुरी , मॉडर्न वार स्टडीज. लॉरेंस: कंसास यूनिवर्सिटी प्रेस. आईएसबीएन (ISBN) 0700610812

| 0700610987

  • कीगन, जॉन. (2205) द ऑक्सफोर्ड कम्पेनियन टू वर्ल्ड वार II , ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस. आईएसबीएन (ISBN) 0-19-280666-1
  • कीगन, जॉन. (1989) द सेकण्ड वर्ल्ड वार . (1989) न्यूयॉर्क: पेंगुइन बुक्स. आईएसबीएन (ISBN) 0143035738 आईएसबीएन (ISBN) 978-0143035732.
  • कीगन, जॉन. (1987) द मास्क ऑफ कमांड . न्यूयॉर्क: वाइकिंग. आईएसबीएन (ISBN) 0140114068; आईएसबीएन (ISBN) 978-0140114065.
  • कैनेडी, पॉल, द राइज एंड फॉल ऑफ द ग्रेट पावर्स , रैंडम हाउस, एएसआईएन (ASIN) B000O2NJSO.
  • लेविन, डोनाल्ड. अल्ट्रा गोज टू वार; द सीक्रेट स्टोरी . हचिन्सन प्रकाशन. 1977. आईएसबीएन (ISBN) 0091344204
  • मैंस्टीन, एरिक वॉन, और एंथनी जी. पावेल. (2004) लॉस्ट विक्ट्रीज . सेंट पॉल: जेनिथ प्रेस. आईएसबीएन (ISBN) 0760320543.
  • मेगार्गी ज्योफ्री पी.(2000) इनसाइड हिटलर्स हाई कमांड , मॉडर्न वार स्टडीज. लॉरेंस: कंसास यूनिवर्सिटी प्रेस. आईएसबीएन (ISBN) 0700610154.
  • नावेह, शिमोन (1997). इन परसूट ऑफ मिलिट्री एक्सीलेंस; द इवोल्यूशन ऑफ ऑपरेशनल थ्योरी . लंदन: फ्रैंकास. आईएसबीएन (ISBN) 0-7146-4727-6.
  • ओवरी, रिचर्ड. वार एंड इकोनोमी इन द थर्ड रैश . ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस. 1995. आईएसबीएन (ISBN) 978-0198205999
  • पैरेट, जॉन. मेकर्स ऑफ मॉडर्न स्ट्रेटजी: फ्रॉम मैशियावेली टू द न्यूक्लियर एज . ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस. 1986. आईएसबीएन (ISBN) 0-19-820097-8
  • Powaski, Ronald E. (2003). Lightning War: Blitzkrieg in the West, 1940. John Wiley. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0471394319, 9780471394310. 
  • Powaski, Ronald E. (2008). Lightning War: Blitzkrieg in the West, 1940. Book Sales, Inc.. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0785820973, 9780785820970. 
  • शाइरर, विलियम. (1969) द कोलैप्स ऑफ द थर्ड रिपब्लिक: एन इन्क्वायरी इंटू द कोलैप्स ऑफ फ्रांस इन 1940 . न्यूयॉर्क: साइमन और शस्टर. आईएसबीएन (ISBN) 9780671203375
  • स्टोल्फी, आर. एच. एस.(1991) हिटलर्स पैंजर्स ईस्ट: वर्ल्ड वार II रीइंटरप्रेटेड . नोर्मन: ओकलाहोमा विश्वविद्यालय प्रेस. आईएसबीएन (ISBN) 0806124008.
  • टूज़े, एडम, द वेजेज ऑफ डिस्ट्रक्शन: द मेकिंग एंड ब्रेकिंग ऑफ द नाजी इकोनोमी, लंदन: एलेन लेन, 2006 . आईएसबीएन (ISBN) 0-7139-9566-1
  • वाट, रॉबर्ट. "फीलिंग द फुल फ़ोर्स ऑफ ए फॉर प्वाइंट ओफेंसिव: रीइंटरप्रेटिंग द रेड आर्मीज 1944 बेलोरशियन एंड L'vov-Przemyśl ऑपरेशंस." द जर्नल ऑफ स्लाविक मिलिट्री स्टडीज. रूटलेज टेलर और फ्रांसिस समूह. ISSN 1351-8046 doi:10.1080/13518040802497564
  • विलमोट, एच.पी. व्हेन मेन लॉस्ट फेथ इन रीजन: रिफ्लेक्शंस ऑन वार एंड सोसायटी इन द ट्वेंटीथ सेंचुरी ग्रीनवुड. 2002. आईएसबीएन (ISBN) 978-0275976651

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]