बौद्धिक संपदा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

साँचा:NPOV language

साँचा:Intellectual property

बौद्धिक संपदा (IP ) बौद्धिक रचनाओं, कलात्मक और वाणिज्यिक, दोनों, और उससे संबधित क़ानूनी क्षेत्रों पर विविध प्रकार के क़ानूनी एकाधिकार हैं.[1] बौद्धिक संपदा क़ानून के तहत, मालिकों को विभिन्न अमूर्त संपत्तियों, जैसे संगीत संबद्ध, साहित्यिक और कलात्मक; विचार, खोज और आविष्कार; और शब्द, वाक्यांश, प्रतीक, और डिज़ाइनों के संदर्भ में कुछ विशेष अधिकार प्रदान किये गये हैं. सामान्य प्रकार की बौद्धिक संपदा में शामिल हैं, कॉपीराइट, ट्रेडमार्क, पेटेंट, औद्योगिक डिज़ाइन अधिकार और कुछ आधिकारिक क्षेत्रों में व्यापार रहस्य.

यद्यपि कई सदियों से बौद्धिक संपदा का संचालन करने वाले बहुत से क़ानूनी सिद्धांत विकसित हुए हैं, तथापि उन्नीसवीं सदी के बाद ही बौद्धिक संपदा शब्द प्रचलन में आया और यह कहा जाता है कि बीसवीं सदी के उत्तरार्ध में इसने अमेरिका में आम स्थान पाया.[2]

सिंहावलोकन[संपादित करें]

बौद्धिक संपदा अधिकार, मानसिक रचनाएं, कलात्मक और वाणिज्यिक, दोनों के संदर्भ में विशेष अधिकारों के समूह हैं. प्रथम अधिकार कॉपीराइट क़ानूनों से आवृत हैं, जो रचनात्मक कार्यों, जैसे पुस्तकें, फ़िल्में, संगीत, पेंटिंग, छाया-चित्र और सॉफ्टवेयर को संरक्षण प्रदान करता है और कॉपीराइट अधिकार-धारक को एक निश्चित अवधि के लिए पुनरुत्पादन पर या उसके रूपांतरण पर नियंत्रण का विशेष अधिकार देता है.[3]

दूसरी श्रेणी, सामूहिक रूप से "औद्योगिक संपत्ति" के रूप में जानी जाती है, क्योंकि इनका उपयोग विशिष्ट रूप से औद्योगिक या वाणिज्यिक प्रयोजनों के लिए किया जाता है.पेटेंट एक नए, उपयोगी और अस्पष्ट आविष्कार के लिए दिया जा सकता है और पेटेंट धारक को दूसरों को आविष्कारक द्वारा बिना लाइसेंस दिए एक निश्चित अवधि के लिए आविष्कार के अभ्यास से रोकने का अधिकार प्रदान करता है.

ट्रेडमार्क एक विशिष्ट चिह्न है, जिसका प्रयोग बाज़ार में उत्पादों के बीच भ्रांतियों को रोकने के लिए किया जाता है.

औद्योगिक डिज़ाइन अधिकार, एक औद्योगिक वस्तु के रूप, शैली या डिज़ाइन के स्वरूप को अतिक्रमण से बचाता है. व्यापार रहस्य एक असार्वजनिक ज्ञान का विषय है, जो वाणिज्यिक कार्य-प्रणालियों या एक व्यापार के स्वामित्व के ज्ञान से संबंधित है. व्यापार रहस्य का सार्वजनिक प्रकटीकरण कभी-कभी ग़ैर क़ानूनी हो सकता है.

बौद्धिक संपदा शब्द, ऊपर वर्णित विशिष्ट क़ानूनी अधिकार को इंगित करता है, ना कि स्वयं बौद्धिक कार्य को.

उद्देश्य[संपादित करें]

वित्तीय प्रोत्साहन[संपादित करें]

ये विशेष अधिकार बौद्धिक सम्पदा के मालिकों को एकाधिकार लाभ बटोरने की अनुमति प्रदान करते हैं. ये एकाधिकार लाभ बौद्धिक संपत्ति के निर्माण और संबंधित अनुसंधान और विकास के खर्चों के लिए वित्तीय प्रोत्साहन प्रदान करते हैं.[कृपया उद्धरण जोड़ें] डेविड लेविन और मिशेल बोल्ड्रिन जैसे कुछ आलोचक इस औचित्य पर विवाद करते हैं.[4]

आर्थिक विकास[संपादित करें]

IP क़ानूनों द्वारा प्रदान किए गए क़ानूनी एकाधिकार को आर्थिक विकास की दिशा में महत्वपूर्ण योगदान का श्रेय दिया जाता है.[कृपया उद्धरण जोड़ें] अर्थशास्त्रियों का अनुमान है कि अमेरिका के बड़े कारोबार के दो तिहाई मूल्य को अमूर्त संपत्ति से जोड़ा जा सकता है.[कृपया उद्धरण जोड़ें] उद्योग, जो IP सुरक्षा पर निर्भर हैं, ग़ैर-IP उद्योगों की तुलना में, अनुमानित तौर पर प्रति कर्मचारी 72 प्रतिशत अधिक मूल्य उत्पादित करते हैं.[5][संदिग्ध ]WIPO और संयुक्त राष्ट्र विश्वविद्यालय के छह एशियाई देशों पर IP प्रणालियों के प्रभाव को मापने की एक संयुक्त अनुसंधान परियोजना ने "IP प्रणाली को सशक्त करने और अनुवर्ती आर्थिक विकास के बीच में एक सकारात्मक सह-संबंध पाया."[संदिग्ध ][6]

हालांकि, सह-संबंध का अर्थ अनिवार्यतः कार्य-कारण संबंध नहीं है: ऐसी स्थिति में जब पेटेंट धारक को कहीं भी बसने की स्वतंत्रता हो, तो नैश संतुलन यह भविष्यवाणी करता है कि वे स्पष्ट रूप से उन देशों में कार्य करना पसंद करेंगे, जहां बौद्धिक संपदा क़ानून कड़े हों.[neutralityis disputed] कुछ मामलों में, आर्थिक विकास जो एक मजबूत IP व्यवस्था[neutralityis disputed] के साथ आता है, वह प्रत्यक्ष विदेशी निवेश से स्टॉक पूंजी में वृद्धि के कारण है, जैसा कि ताइवान में 1986 के सुधार के बाद दिखा[7].

अर्थशास्त्र[संपादित करें]

बौद्धिक संपदा अधिकार अस्थाई एकाधिकार हैं, जो राज्य द्वारा अभिव्यक्ति और विचारों के उपयोग के संबंध में लागू किये जाते हैं.

बौद्धिक संपदा अधिकार आम तौर पर ग़ैर प्रतिद्वंद्वी वस्तुओं तक ही सीमित होते हैं, अर्थात् वे वस्तुएं, जिनका एक साथ बहुत से लोगों द्बारा आनंद उठाया जा सकता है या प्रयोग किया जा सकता है-एक व्यक्ति द्बारा प्रयोग, दूसरे को उसके प्रयोग से वंचित नहीं करता है. इसकी तुलना प्रतिद्वंद्वी वस्तुओं से की जा सकती है, जैसे कि कपड़े, जो एक समय में केवल एक ही व्यक्ति द्वारा इस्तेमाल किये जा सकते हैं. उदाहरण के तौर पर, गणित के एक फ़ार्मूले को एक साथ कई लोग प्रयोग कर सकते हैं. बौद्धिक संपदा शब्द पर कुछ आपत्तियां इस तर्क पर आधारित है कि संपदा केवल यथार्थतः प्रतिद्वंद्वी वस्तुओं पर ही लागू हो सकती है (या कि कोई भी इस तरह की संपदा का "स्वामित्व" नहीं रख सकता).

चूंकि एक ग़ैर प्रतिद्वंद्वी वस्तु का उपयोग (उदाहरण के लिए नक़ल) बहुत से लोग एक ही समय में कर सकते हैं (न्यूनतम सीमांत लागत के साथ उत्पादित) इसलिए उत्पादकों को इस प्रकार के कार्यों को स्थापित करने के लिए पैसे के अलावा प्रोत्साहन की जरूरत हो सकती है. इसके विपरीत, एकाधिकार में अकुशलता भी है (उत्पादक सामाजिक रूप से आवश्यकता से कम उत्पादन करेंगे और अधिक दाम वसूलेंगे).

अतः, बौद्धिक संपदा अधिकारों की स्थापना एक लेन-देन को दर्शाती है, जो ग़ैर प्रतिद्वंद्वी वस्तुओं के निर्माण में (उनके उत्पादन को बढ़ावा देकर) एकाधिकार शक्ति की समस्याओं के साथ, समाज के हित को संतुलित करता है. चूंकि लेन-देन और प्रासंगिक लाभ और समाज के लिए उसकी लागत बहुत से कारकों पर निर्भर करेगी, जो हर समाज और उत्पाद के लिए विशिष्ट है, वह इष्टतम समयावधि जिसके दौरान अस्थायी एकाधिकार अधिकार बने रहने चाहिए, अस्पष्ट है.[8]

इतिहास[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: History of patent law एवं History of copyright law

बौद्धिक संपदा शब्द के आधुनिक उपयोग का ज़िक्र 1888 में मिलता है जब बर्न में बौद्धिक संपदा के लिए स्विस संघीय कार्यालय (the Bureau fédéral de la propriété intellectuelle ) की स्थापना की गई. जब पेरिस सम्मेलन (1883) और बर्न सम्मेलन (1886) द्वारा स्थापित प्रशासनिक सचिवालयों का 1893 में विलय कर दिया गया, तब वे भी बर्न में स्थित थे और उन्होंने भी बौद्धिक संपदा शब्द को अपने नए संयुक्त शीर्षक बौद्धिक संपदा के संरक्षण के लिए संयुक्त अंतर्राष्ट्रीय ब्यूरो में अपनाया. तत्पश्चात 1960 में संगठन को जेनिवा में स्थानांतरित कर दिया गया और 1967 में संधि के तहत संयुक्त राष्ट्र की एक एजेंसी के रूप में इस संगठन का उत्तराधिकारी बना, विश्व बौद्धिक संपदा संगठन (WIPO). लेम्ले के अनुसार, इसी समय से संयुक्त राज्य अमेरिका में इस शब्द का वास्तव में इस्तेमाल किया जाने लगा (जिसने बर्न कन्वेंशन में भाग नहीं लिया था)[2] और 1980 में बेह-डोल अधिनियम के पारित होने के बाद इसका सर्वसाधारण प्रयोग शुरू हो गया.[9]

इस अवधारणा ने अपनी पहली उपस्थिति फ्रांस की क्रांति के बाद दर्ज कराई.1818 में फ्रांसीसी उदार विचारक, बेंजामिन कांस्टेंट ने अपने लेखन के एक संग्रह में हाल ही में प्रस्तुत विचार "संपत्ति, जिसे बौद्धिक कहा गया" के खिलाफ़ तर्क प्रस्तुत किए.[10]बौद्धिक संपदा शब्द अक्तूबर 1845 में मैसाचुसेट्स सर्किट कोर्ट के दवोल और अन्य बनाम ब्राउन के अधिकार मामले के फ़ैसले में प्रयोग किया गया, जिसमें न्यायाधीश चार्ल्स एल. वुडबरी ने लिखा कि "सिर्फ़ इस तरीक़े से हम बौद्धिक संपदा का रक्षण कर सकते हैं, मस्तिष्क का श्रम, उत्पाद और रूचियां, एक व्यक्ति की उसी प्रकार से उसकी अपनी हैं जैसे उसके द्वारा उपजाया अनाज या उसके द्वारा पाले हुए मवेशी." (1 Woodb .& M. 53, 3 West.L.J. 151, 7 F.Cas. 197, No. 3662, 2 Robb. Pat.Cas. 303, Merw. Pat.Inv. 414 ). यह वक्तव्य कि "अविष्कार...सम्पदा है" का सन्दर्भ पुराना है. 1791 के फ़्रांसीसी क़ानून की धारा 1 के अनुसार, "सभी नई खोजें लेखक की सम्पदा हैं, आविष्कारक की सम्पदा और उसके आविष्कार की उसे अस्थायी आनंद-प्राप्ति सुनिश्चित करने के लिए उसको पांच, दस या पंद्रह साल के लिए पेटेंट दिया जाएगा."[11] यूरोप में, फ़्रांसीसी लेखक ए. नियॉन ने अपनी 1846 में प्रकाशित Droits civils des auteurs, artistes et inventeurs , में propriété intellectuelle का वर्णन किया है.

इस अवधारणा की उत्पत्ति को संभवत और पीछे खोजा जा सकता है.यहूदी क़ानून में कई अवधारणाएं हैं, जिनका प्रभाव, आधुनिक बौद्धिक संपदा क़ानूनों के समान ही है, हालांकि सम्पदा के रूप में बौद्धिक रचना का विचार लगता है मौजूद नहीं था - विशेष रूप से सोलहवीं शताब्दी में हसागत गे'वुल (अनुचित अतिक्रमण) सिद्धांत का प्रयोग सीमित-अवधि प्रकाशक (लेखक नहीं) कॉपीराइट को न्यायसंगत ठहराने के लिए किया गया.[12] ताल्मूड में कुछ मानसिक अपराधों के खिलाफ़ प्रत्यादेश हैं (आगे शुल्चन अरुच में सविस्तार से), विशेष रूप से Geneivat da'at (גניבת דעת, वस्तुतः "बुद्धि की चोरी"), जिसकी कुछ ने विचारों की चोरी के रूप में व्याख्या [13] की है, हालांकि सिद्धांत मुख्यतः धोखाधड़ी और कपट से संबंधित है, संपत्ति से नहीं.

थॉमस जेफ़रसन और जेम्स मेडिसन, जो कॉपीराइट धारा के मसौदाकार हैं, दोनों कॉपीराइट के एकाधिकार और पेटेंट के एकाधिकार को लेकर कुछ उलझन में थे, और उन्होंने इस विषय पर व्यापक रूप से लिखा.[14][15]

Stable ownership is the gift of social law, and is given late in the progress of society. It would be curious then, if an idea, the fugitive fermentation of an individual brain, could, of natural right, be claimed in exclusive and stable property. If nature has made any one thing less susceptible than all others of exclusive property, it is the action of the thinking power called an idea, which an individual may exclusively possess as long as he keeps it to himself; but the moment it is divulged, it forces itself into the possession of every one, and the receiver cannot dispossess himself of it. Its peculiar character, too, is that no one possesses the less, because every other possesses the whole of it. He who receives an idea from me, receives instruction himself without lessening mine; as he who lights his taper at mine, receives light without darkening me. That ideas should freely spread from one to another over the globe, for the moral and mutual instruction of man, and improvement of his condition, seems to have been peculiarly and benevolently designed by nature, when she made them, like fire, expansible over all space, without lessening their density in any point, and like the air in which we breathe, move, and have our physical being, incapable of confinement or exclusive appropriation. Inventions then cannot, in nature, be a subject of property.
Thomas Jeffersonto Isaac McPherson 13 Aug. 1813 Writings 13:333--35[16]

आलोचना[संपादित करें]

स्वयं शब्द को लेकर[संपादित करें]

हालांकि व्यापक रूप से शब्द उपयोग में है, कुछ आलोचकों ने बौद्धिक संपदा पद को पूरी तरह से अस्वीकार कर दिया है. रिचर्ड स्टॉलमैन का तर्क है कि यह "व्यवस्थित रूप से इन मुद्दों को विकृत और भ्रमित करता है और इससे फ़ायदा उठाने वाले लोगों ने ही इसके प्रयोग को बढ़ावा दिया और दे रहे हैं." उनका दावा है कि यह शब्द "सभी को एक जगह पकड़ने के साधन के रूप में कार्य करता है, ताकि अलग रूप से उद्भूत, अलग ढंग से विकसित, विभिन्न नियमों वाले और विभिन्न सार्वजनिक नीतिगत मुद्दों को उठाने वाले पृथक् क़ानूनों को एक जगह संग्रहित किया जा सके."[17] ये आलोचक कॉपीराइट, पेटेंट और ट्रेडमार्क की एक रूप में चर्चा करने की सिफ़ारिश करते हैं और गूढ़ पृथक क़ानून के खिलाफ़ एक सामूहिक रूप में सावधान करते हैं.

क़ानून[संपादित करें]

बौद्धिक संपदा के कुछ आलोचक, जैसे कि मुक्त संस्कृति आंदोलन में सम्मिलित हैं, बौद्धिक एकाधिकार को स्वास्थ्य के लिए हानिकारक, प्रगति अवरोधक, और केंद्रित हितों को लाभ पहुंचाने के साथ जन-साधारण[18][19] को हानि पहुंचाने वाले के रूप में निर्दिष्ट करते हैं और तर्क देते हैं कि कॉपीराइट विस्तार, सॉफ्टवेयर पेटेंट और व्यापार पद्धति पेटेंट के रूप में सदा प्रसरणशील एकाधिकार ने लोकहित को हानि पहुंचाई है.

बौद्धिक संपदा क़ानून की अन्य आलोचनाएं, बौद्धिक संपदा की विस्तार प्रवृत्ति, समय और अवसर दोनों की सुरक्षा से संबंधित हैं. अब रुझान अपेक्षाकृत लंबे कॉपीराइट सुरक्षा की ओर है [20] (इस भय को प्रस्तुत करते हुए कि किसी दिन यह अनंत हो सकता है [21][22][23][24]).इसके अतिरिक्त, बौद्धिक संपदा की वस्तुओं को विकसित और नियंत्रित करने वालों ने सुरक्षा के तहत और अधिक वस्तुएं लाने की मांग की है. सजीव जीवों [25] के लिए पेटेंट प्रदान किए गए हैं, और रंगों को ट्रेडमार्क[26] बनाया गया है. चूंकि वे सरकार द्वारा अधिकृत एकाधिकार कॉपीराइट, पेटेंट की प्रणालियां हैं और ट्रेडमार्क को बौद्धिक एकाधिकार विशेषाधिकार (IMP) कहा जाता है, एक विषय जिस पर बर्गिट्ट एंडरसन[27] और थॉमस एल्युर्ड फ़ाउन्स[28] सहित कई शिक्षाविद लिख चुके हैं.

यह भी देखें[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. इंटलेक्चुअल प्रापर्टी लाइसेंसिंग: फ़ार्म्स एंड एनालिसिस, रिचर्ड रेसमैन एड्वर्ड ए. पिसक्रेटा और केनेथ ए. एड्लर द्वारा. लॉ जर्नल प्रेस, 1999-2008. ISBN 973-58852-086-9[verification needed]
  2. "property as a common descriptor of the field probably traces to the foundation of the World Intellectual Property Organization (WIPO) by the United Nations.".मार्क ए लेम्ले प्रापर्टी, इंटलेक्चुअल प्रापर्टी एंड फ़्री राइडिंग, टेक्सास लॉ रिव्यू, 2005, खंड. 83:1031, पृष्ठ 1033, फुटनोट 4.
  3. बौद्धिक संपदा क्या है?, विश्व बौद्धिक संपदा संगठन
  4. Levine, David; Michele Boldrin (2008-09-07). Against intellectual monopoly. Cambridge University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0521879286. http://www.dklevine.com/papers/imbookfinalall.pdf. 
  5. अमेरिका में बौद्धिक संपदा-सघन विनिर्माण के आर्थिक प्रभाव रॉबर्ट शापिरो और नैम फ़ाम जुलाई 2007
  6. IP प्रणाली के आर्थिक प्रभाव का मापन, WIPO, 2007
  7. Lo, S-T. (2004). "Stregthening (sic) Intellectual Property Rights: Experience from the 1986 Taiwanese Patent Reforms". UCLA, Dept. of Economics.. http://www.international.ucla.edu/article.asp?parentid=10985. 
  8. पड्रेग डिक्सन और क्रिस्टीन ग्रीनहाग: द इकोनॉमिक्स ऑफ़ इंटलेक्चुअल प्रापर्टी: ए रिव्यू टू आइडेन्टीफ़ाइ थीम्स फ़ॉर रिसर्च, ऑक्सफोर्ड बौद्धिक संपदा अनुसंधान केन्द्र, ऑक्सफोर्ड, यूनाइटेड किंगडम, नवंबर 2002.
  9. मार्क ए लेम्ले, "प्रापर्टी, इंटलेक्चुअल प्रापर्टी, एंड फ़्री राइडिंग" (सार); तालिका देखें 1: 4-5.
  10. (फ्रेंच)बेंजामिन दी कांस्तंत दी रेबेक्यु, Collection complète des ouvrages publiés sur le gouvernement représentatif et la constitution actuelle de la France: formant une espèce de cours de politique constitutionnelle,पि प्लानर, 1818 pi
  11. संयुक्त राज्य अमेरिका के पेटेंट क़ानून का संक्षिप्त इतिहास
  12. यहूदी क़ानून और कॉपीराइट
  13. संपदा अधिकार के लिए लड़ाई "द न्यूयॉर्क सन"
  14. "Thomas Jefferson's copyright term (fwd)". 11 Feb 1999. http://onlinebooks.library.upenn.edu/webbin/bparchive?year=1999&post=1999-02-11$2. [29]
  15. Mike Masnick (February 21st 2008). "On The Constitutional Reasons Behind Copyright And Patents". techdirt. http://www.techdirt.com/articles/20080220/020252302.shtml. 
  16. Thomas Jefferson. "Thomas Jefferson to Isaac McPherson". University of Chicago. http://press-pubs.uchicago.edu/founders/documents/a1_8_8s12.html.  - (copyfraud)
  17. Richard M. Stallman. "Did You Say “Intellectual Property”? It's a Seductive Mirage". Free Software Foundation, Inc. http://www.gnu.org/philosophy/not-ipr.xhtml. अभिगमन तिथि: 2008-03-28. 
  18. Joseph Stiglitz (October 13, 2006). "Authors@Google: Joseph Stiglitz - Making Globalization Work.". http://www.youtube.com/watch?v=UzhD7KVs-R4#t=16m05s. 
  19. पेटेंट पर - Daniel B. Ravicher (August 6, 2008). "Protecting Freedom In The Patent System: The Public Patent Foundation's Missi...". http://www.youtube.com/watch?v=d0chez_Jf5A. 
  20. जैसे, द U.S. कॉपीराइट टर्म एक्सटेंशन एक्ट, प्र.L. 105-298.
  21. Mike Masnick (May 21st 2007). "Arguing For Infinite Copyright... Using Copied Ideas And A Near Total Misunderstanding Of Property". techdirt. http://www.techdirt.com/articles/20070521/015928.shtml. 
  22. एल्ड्रेड वी. एशक्रॉफ़्ट http://web.archive.org/www.supremecourtus.gov/opinions/02pdf/01-618.pdf
  23. "Against perpetual copyright". http://wiki.lessig.org/index.php/Against_perpetual_copyright. 
  24. मार्क हेल्प्रिन , मु.-सं.: एक महान विचार हमेशा के लिए जीवित रहता है.क्या इसकी कॉपीराइट नहीं होनी चाहिए? द न्यूयॉर्क टाइम्स, 20 मई 2007.
  25. काउंसिल फॉर रेस्पांसिबल जेनेटिक्स, DNA पेटेंट के लिए परिषद जीवों के रहने पर एकाधिकार बनाएं. 2008/12/18 को लिया गया.
  26. उदाहरण के लिए, एस्त्रा ज़नेका के पास गोली कैप्सूल में इस्तेमाल के लिए बैंगनी रंग का एक पंजीकृत ट्रेडमार्क है. एस्त्राज़नेका, नेक्सियम: न्यायिक. 2008/12/18 को लिया गया.
  27. बर्गिट एंडरसन. 'बौद्धिक सम्पदा अधिकार' या 'बौद्धिक एकाधिकार विशेषाधिकार': पेटेंट विश्लेषकों को किस पर ध्यान देना चाहिए?CONFERÊNCIA Internacional SOBRE SISTEMAS डे INOVAÇÃO ई ESTRATÉGIAS डे DESENVOLVIMENTO पैरा हे TERCEIRO MILÊNIO • नवम्बर 2003
  28. मार्टिन G, सोरेन्सन C और फ़ाउन्स TA. बौद्धिक एकाधिकार विशेषाधिकार का संतुलन और आवश्यक दवाइयों का वैश्वीकरण और स्वास्थ्य 2007 , 3:4doi:10.1186/1744-8603-3-4. http://www.globalizationandhealth.com/content/3/1/4 "बौद्धिक सम्पदा अधिकार (IPRs) की सुरक्षा की जरूरत को संतुलित करना ("जिसे तीसरा लेखक समझता है कि इसे दवा कंपनियों के बौद्धिक एकाधिकार विशेषाधिकार के रूप में सटीक वर्णित किया गया है (IMPs), इस बात की जरूरत के साथ कि विकासशील देशों में इन आवश्यक दवाओं की पहुंच को सुनिश्चित किया जाए, जो आज अंतर्राष्ट्रीय नीति निर्माताओं द्वारा सामना की जा रही एक चुनौती है.

अतिरिक्त पठन[संपादित करें]

  • क्राट्टीगर और अन्य 2007 "इन्टलेक्चुअल प्रापर्टी मैनेजमेंट इन हेल्थ एंड अग्रीकल्चरल इन्नोवेशन: ए हैन्डबुक ऑफ़ बेस्ट प्रैक्टिसस", एक बेहतर दुनिया के लिए नवाचार प्रबंधन
  • अराई, हिसामित्सु. "इंटलेक्चुअल प्रापर्टी पॉलिसीस फ़ॉर द ट्वेंटी-फ़र्स्ट सेंचुरी: द जैपनीस एक्सपीरियंस इन वेल्थ क्रिएशन", WIPO प्रकाशन संख्या 834(E). 2000. Http://www.wipo.int/freepublications/en/intproperty/834/index.html
  • बोल्ड्रिन, मिशेल और डेविड के. लेविन. "अगेन्स्ट इन्टलेक्चुअल मोनोपोली", 2008 http://www.dklevine.com/papers/imbookfinalall.pdf.
  • हाह्न, रॉबर्ट W., इंटलेक्चुअल प्रापर्टी राइट्ज़ इन फ़्रंटीयर इंडस्ट्रीज़: सॉफ़्टवेयर एंड बायोटेक्नॉलोजी AEI प्रेस, मार्च 2005.
  • ब्रांसटेटर, ली, रेमंड फिशमैन एंड सी. फ्रिट्ज़ फ़ोले. "डू स्ट्रांगर इंटलेक्चुअल प्रापर्टी राइट्ज़ इनक्रीज़ इंटरनेशनल टेक्नॉलोजी ट्रांस्फ़र? एम्पाइरिकल एविडेन्स फ़्राम US फ़र्म-लेवेल डाटा". NBER वर्किंग पेपर 11516.जुलाई 2005. http://www.weblog.ipcentral.info/IPRs%20&%20Tech%20Trans.pdf
  • कॉन्नेल, शॉन. "इंटलेक्चुअल ओनरशिप".अक्तूबर 2007. http://rebirthoffreedom.org/freedom/property/intellectual-ownership/
  • गोवर्स, एंड्रयू. "गोवर्स रिव्यू ऑफ़ इंटलेक्चुअल प्रापर्टी". हर मेजेस्टीस ट्रेज़री, नवंबर 2006. http://www.hm-treasury.gov.uk/d/pbr06_gowers_report_755.pdf ISBN 9-780118-4083-9.
  • किन्सेल्ला, स्टीफ़न. "अगेन्स्ट इंटलेक्चुअल प्रापर्टी". {जर्नल ऑफ़ लिबर्टेरियन स्टडीस 15.2 (स्प्रिंग 2001): 1-53. http://www.mises.org/journals/jls/15_2/15_2_1.pdf
  • लाइ, एडविन. "द इकोनॉमिक्स ऑफ़ इंटलेक्चुअल प्रापर्टी प्रोटेक्शन इन द ग्लोबल इकॉनोमी". प्रिंसटन विश्वविद्यालय. अप्रैल 2001. Http://www.dklevine.com/archive/refs4122247000000000481.pdf
  • ली, रिचमंड. स्कोप एंड इंटरप्ले ऑफ़ IP राइट्ज़ ACCRALAW ऑफ़िसस.
  • लेस्सिग, लॉरेंस. "फ़्री कल्चर: हाउ बिग मीडिया यूसस टेक्नॉलोजी एंड द लॉ टू लॉक डाउन कल्चर एंड कंट्रोल क्रिएटिविटी".न्यूयॉर्क: पेंग्विन प्रेस, 2004. Http://www.free-culture.cc/freeculture.pdf.
  • लिंडबर्ग, वान. इंटलेक्चुअल प्रापर्टी एंड ओपन सोर्स: ए प्रैक्टिकल गाइड टू प्रोटेक्टिंग कोड ओ'रेल्ली बुक्स, 2008ISBN 0-596-51796-3

| ISBN 978-0-596-51796-0

  • मास्कस, कीथ E. "इंटलेक्चुअल प्रापर्टी राइट्स एंड इकोनॉमिक डेवलपमेंट".केस वेस्टर्न रिसर्व जर्नल ऑफ़ इंटरनेशनल लॉ , खंड. 32, 471. journals/jil/32-3/maskusarticle.pdf
  • मैज़ोन, जेसन. "कॉपीफ़्रॉड". ब्रूकलिन लॉ स्कूल, लीगल स्टडीज़ पेपर नं. 40. न्यूयॉर्क विश्वविद्यालय लॉ रिव्यू 81 (2006): 1026. (सारांश.)
  • मिलर, आर्थर राफ़ेल, और माइकल एच. डेविस. इंटलेक्चुअल प्रापर्टी: पेटेन्ट्स, ट्रेडमार्क्स, एंड कॉपीराइट . 3रा संस्करण. न्यूयॉर्क: वेस्ट/वैड्सवर्थ, 2000. ISBN 0-314-23519-1.
  • रोज़नस्की, फ़ेलिक्स. "डेवलपिंग कंट्रीस एंड फ़ार्मास्युटिकल इंटलेक्चुअल प्रापर्टी राइट्ज़: मिथ्स एंड रियॉल्टी" http://www.stockholm-network.org/downloads/publications/Developing_Countries_and_Intellectual_Property_Rights_Myth_and_Reality_6.pd
  • शेशटर, रोजर ई., और जॉन आर. थॉमस इंटलेक्चु्अल प्रापर्टी: द लॉ ऑफ़ कॉपीराइट्ज़, पेटेंट्स एंड ट्रेडमार्क्स न्यूयॉर्क: वेस्ट/वैड्सवर्थ, 2003, ISBN 0-314-06599-7.
  • श्नेइडर, पेट्रीशिया एच. "इंटरनेशनल ट्रेड इकोनॉमिक ग्रोथ एंड इंटलेक्चुअल प्रापर्टी राइट्ज़: ए पैनल डाटा स्टडी ऑफ़ डेवलप्ड एंड डेवलपिंग कंट्रीस".जुलाई 2004. Pschneid/images/Schneider_JDEJuly2004.pdf http://www.mtholyoke.edu/
  • शापिरो, रॉबर्ट और नैम फ़ाम. इकोनॉमिक इफ़ेक्ट्स ऑफ़ इंटलेक्चुअल प्रापर्टी-इंटेन्सिव मैन्युफ़ैक्चरिंग इन द यूनाइटेड स्टेट्स"जुलाई 2007. दिनांक = | अभिगम दिनांक 2008/04/09 =
  • वैद्यनाथन, शिवा. द अनार्किस्ट इन द लाइब्रेरी: हाउ द क्लैश बिट्विन फ़्रीडम एंड कंट्रोल इस हैकिंग द रियल वर्ल्ड एंड क्रैशिंग द सिस्टम न्यूयॉर्क: बेसिक बुक्स, 2004.
  • Burk, Dan L. and Mark A. Lemley (2009). The Patent Crisis and How the Courts Can Solve It. University of Chicago Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780226080611.