बोडो साहित्य सभा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बोडो साहित्य सभा (बर’ थूनलाइ आफाद) बोडो भाषा एवं साहित्य के प्रचार-प्रसार के लिये गठित एक संगठन है। इसकी स्थापना १६ नवम्बर सन् १९५२ को असम के कोकराझार जिला के ससुगाँव में इसकी स्थापना की गयी थी।

कार्य[संपादित करें]

बोडो साहित्य सभा के लिये सबसे गौरवमयी उपलब्धि यह है कि इसने बोडो लोगों के लिये प्राथमिक स्तर से लेकर उच्च शिक्षा के स्तर तक की शिक्षा को अपनी मातृभाषा में उपलब्ध कराकर एक असम्भव जैसे कार्य को सम्भव कर दिखाया है। इसने दूसरा बड़ा काम किया है - 'बोडो-हिन्दी-अंग्रेजी शब्दकोश' का निर्माण। संस्था का अपना भवन बनाना भी बड़ी उपलब्धि है। सम्स्था का वार्षिक सम्मेलन होता है एवं इसकी पत्रिका निकलती है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]