बिश्नोई

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
बिश्नोई मन्दिर मुक्तिधाम मुकाम नोखा, बिकानेर, राजस्थान

बिश्नोई धर्म[संपादित करें]

बिश्नोई धर्म |बिश्नोई दो शब्दों से मिलकर बना हुआ है: बीस + नो यानि जो उनतीस नियमो का पालन करता है। गुरु जम्भेश्वर भगवान को बिश्नोई धर्म का संस्थापक माना जाता है।

२९ नियम निम्न है :-

१. तिस दिन सूतक

२. पञ्च दिन का रज्सवला

३. सुबह स्नान करना

४. शील, संतोष, सूचि रखना

५. प्राते:, शाम संध्या करना

६. साँझ आरती विष्णु गुण गाना

७. प्रातःकाल हवन करना

८. पानी छान कर पीना व वाणी शुद बोलना

९. इंधन बीनकर व दूध छानकर पीना

१०. क्षमा सहनशीलता रखे

११. दया-नम्र भाव से रहे

१२. चोरी नहीं करनी

१३. निंदा नहीं करनी

१४. झूठ नहीं बोलना

१५. वाद विवाद नहीं करना

१६. अमावस्या का व्रत रखना

१७. भजन विष्णु का करना ]

१८. प्राणी मात्र पर दया रखना

१९. हरे वृक्ष नहीं काटना

२०. अजर को जरना

२१. अपने हाथ से रसोई पकाना

२२. थाट अमर रखना

२३. बैल को बंधिया न करना

२४. अमल नहीं खाना

२५. तम्बाको नहीं खाना व पीना

२६. भांग नहीं पीना

२७. मदपान नहीं करना

२८. मांस नहीं खाना

२९ नीले वस्त्र नहीं धारण करना

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]