बाल्टिक सागर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
बाल्टिक सागर का भौगोलिक मानचित्र

बाल्टिक उत्तरी यूरोप का एक सागर है जो लगभग सभी ओर से जमीन से घिरा है । इसके उत्तर में स्कैडिनेवी प्रायद्वीप (स्वीडन), उत्तर-पूर्व में फ़िनलैंड, पूर्व में इस्टोनिया, लिथुआनिया, लाटविया, दक्षिण में पोलैंड तथा दक्षिण-पश्चिम में जर्मनी है । पश्चिम में डेनमार्क तथा छोटे द्वीप हैं जो इसे उत्तरी सागर तथा अटलांटिक महासागर से अलग करते हैं । जर्मानी भाषाओं, जैसे डच, डेनिश, फ़िन्नी में इसको पूर्वी सागर (Ostsee) के नाम से जाना जाता है । इसमें गौरतलब है कि यह फ़िनलैंड के पश्चिम में बसा हुआ है ।

यह एक छिछला सागर है जिसका पानी समुद्री जल से कम खारा है । कृत्रिम नहर द्वारा यह श्वेत सागर से जुड़ा हुआ है । फिनलैंड की खाड़ी, बोथ्निया की खाड़ी, रिगा की खाड़ी इत्यादि इसके स्थानीय निकाय हैं । इसकी औसत गहराई ५५ मीटर है तथा यह कोई १६०० किमी. लम्बा है ।

भौगोलिक आँकड़े[संपादित करें]

यह 53°उत्तरी अक्षांश से लेकर 66°उत्तरी अक्षांश तक और 20°पूर्वी देशांतर से लेकर 26°पूर्वी देशांतर के बीच फैला हुआ है । इसकी लंबाई १६०० किलोमीटर, औसत चौड़ाई १९३ किलोमीटर तथा औसत गहराई ५५ मीटर है । मध्यम खारे पानी का यह सबसे बड़ा प्राय-सागर[1] माना जाता है । इसकी अधिकतम गहराई ४५९ मीटर है जो स्वीडन के तरफ केंद्र के पास है । इसका पृष्ठ क्षेत्रफल ३,७७,००० वर्ग किलोमाटर है तथा इसमें जल का आयतन कोई २०००० घन किलोमीटर है । इसके चारो ओर की तटरेखा कोई ८००० किलोमीटर लंबी है । जाड़े के दिनों में यह औसतन अधिकतम ४५ प्रतिशत तक जम जाता है ।

संदर्भ[संपादित करें]

  1. प्रायसागर: जैसा कि प्रायद्वीप का अर्थ लगभग सभी ओर से जल से घिरा होता है, वैसे ही प्राय-सागर का अर्थ वो सागर जो लगभग सभी ओर से जमीन से घिरा हो । इसके उदाहरण के लिए काला सागर का नाम लिया जा सकता है ।