बाल्टिक सागर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
बाल्टिक सागर का भौगोलिक मानचित्र

बाल्टिक उत्तरी यूरोप का एक सागर है जो लगभग सभी ओर से जमीन से घिरा है। इसके उत्तर में स्कैडिनेवी प्रायद्वीप (स्वीडन), उत्तर-पूर्व में फ़िनलैंड, पूर्व में इस्टोनिया, लिथुआनिया, लाटविया, दक्षिण में पोलैंड तथा दक्षिण-पश्चिम में जर्मनी है। पश्चिम में डेनमार्क तथा छोटे द्वीप हैं जो इसे उत्तरी सागर तथा अटलांटिक महासागर से अलग करते हैं। जर्मानी भाषाओं, जैसे डच, डेनिश, फ़िन्नी में इसको पूर्वी सागर (Ostsee) के नाम से जाना जाता है। इसमें गौरतलब है कि यह फ़िनलैंड के पश्चिम में बसा हुआ है।

यह एक छिछला सागर है जिसका पानी समुद्री जल से कम खारा है। कृत्रिम नहर द्वारा यह श्वेत सागर से जुड़ा हुआ है। फिनलैंड की खाड़ी, बोथ्निया की खाड़ी, रिगा की खाड़ी इत्यादि इसके स्थानीय निकाय हैं। इसकी औसत गहराई ५५ मीटर है तथा यह कोई १६०० किमी. लम्बा है।

भौगोलिक आँकड़े[संपादित करें]

यह 53°उत्तरी अक्षांश से लेकर 66°उत्तरी अक्षांश तक और 20°पूर्वी देशांतर से लेकर 26°पूर्वी देशांतर के बीच फैला हुआ है। इसकी लंबाई १६०० किलोमीटर, औसत चौड़ाई १९३ किलोमीटर तथा औसत गहराई ५५ मीटर है। मध्यम खारे पानी का यह सबसे बड़ा प्राय-सागर[1] माना जाता है। इसकी अधिकतम गहराई ४५९ मीटर है जो स्वीडन के तरफ केंद्र के पास है। इसका पृष्ठ क्षेत्रफल ३,७७,००० वर्ग किलोमाटर है तथा इसमें जल का आयतन कोई २०००० घन किलोमीटर है। इसके चारो ओर की तटरेखा कोई ८००० किलोमीटर लंबी है। जाड़े के दिनों में यह औसतन अधिकतम ४५ प्रतिशत तक जम जाता है।

संदर्भ[संपादित करें]

  1. प्रायसागर: जैसा कि प्रायद्वीप का अर्थ लगभग सभी ओर से जल से घिरा होता है, वैसे ही प्राय-सागर का अर्थ वो सागर जो लगभग सभी ओर से जमीन से घिरा हो। इसके उदाहरण के लिए काला सागर का नाम लिया जा सकता है।