बाईप्लेन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
१९२० में निर्मित हंग ग्लाइडर

बाईप्लेन एक ऐसे विमान को कहते है जिसके की दो आरोपित मुख्य पंख होते है व वो दोनों एक साथ एक के उप्पर एक जुड़े हुए होते है। इस प्रकार के विमान की खास पहचान इसके ये ही दो पंख होते है।

१९४४ का बोईंग इसटिअरमन ई७५ बाईप्लेन

राईट भाइयो के राईट फ्लायर विमान में भी बाईप्लेन संरचना का प्रयोग किया गया था व विमानन क्रांति के शुरुवाती सालो में बाईप्लेन रचना ही मुख्य रूप से विमानों की बनावट में काम में लाइ गयी। पर धीरे धीरे तकनीक में आये बदलाव, तेज गति की चाहत व नए प्रकार के विमानों की रचना से यह पुराना पड़ गया व इसकी जगह १९३० तक सामान्य २ पंख वाले विमानों ने ले ली.