बांसुरी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
दुनिया भर से बांसुरियों का एक संकलन

बांसुरी काष्ठ वाद्य परिवार का एक संगीत उपकरण है. नरकट वाले काष्ठ वाद्य उपकरणों के विपरीत, बांसुरी एक एरोफोन या बिना नरकट वाला वायु उपकरण है जो एक छिद्र के पार हवा के प्रवाह से ध्वनि उत्पन्न करता है. होर्नबोस्टल-सैश्स के उपकरण वर्गीकरण के अनुसार, बांसुरी को तीव्र-आघात एरोफोन के रूप में वर्गीकृत किया जाता है.

बांसुरीवादक को एक फ्लूट प्लेयर , एक फ्लाउटिस्ट , एक फ्लूटिस्ट , या कभी कभी एक फ्लूटर के रूप में संदर्भित किया जाता है.

बांसुरी पूर्वकालीन ज्ञात संगीत उपकरणों में से एक है. करीब 40,000 से 35,000 साल पहले की तिथि की कई बांसुरियां जर्मनी के स्वाबियन अल्ब क्षेत्र में पाई गई हैं. यह बांसुरियां दर्शाती हैं कि यूरोप में एक विकसित संगीत परंपरा आधुनिक मानव की उपस्थिति के प्रारंभिक काल से ही अस्तित्व में है.[1]

इतिहास[संपादित करें]

खोजी गई सबसे पुरानी बांसुरी गुफा में रहने वाले एक तरुण भालू की जाँघ की हड्डी का एक टुकड़ा हो सकती है, जिसमें दो से चार छेद हो सकते हैं, यह स्लोवेनिया के डिव्जे बेब में पाई गई है और करीब 43,000 साल पुरानी है. हालांकि, इस तथ्य की प्रामाणिकता अक्सर विवादित रहती है.[2][3] 2008 में जर्मनी के उल्म के पास होहल फेल्स गुहा में एक और कम से कम 35,000 साल पुरानी बांसुरी पाई गई.[4] इस पाँच छेद वाली बांसुरी में एक वी-आकार का मुखपत्र है और यह एक गिद्ध के पंख की हड्डी से बनी है. खोज में शामिल शोधकर्ताओं ने अपने निष्कर्षों को अगस्त 2009 में ''नेचर'' नामक जर्नल में आधिकारिक तौर पर प्रकाशित किया.[5] यह खोज इतिहास में किसी भी वाद्य यंत्र की सबसे पुरानी मान्य खोज भी है.[6] बांसुरी, पाए गए कई यंत्रों में से एक है, यह होहल फेल्स के शुक्र के सामने और प्राचीनतम ज्ञात मानव नक्काशी से थोड़ी सी दूरी पर होहल फेल्स की गुफा में पाई गई थी.[7] खोज की घोषणा पर, वैज्ञानिकों ने सुझाव दिया कि "जब आधुनिक मानव ने यूरोप को उपिनवेशित शत किया था, खोज उस समय की एक सुतस्थापित संगीत परंपरा की उपस्थिति को प्रदर्शित करती है".[8] वैज्ञानिकों ने यह सुझाव भी दिया है कि, बांसुरी की खोज निएंदरथेल्स और प्रारंभिक आधुनिक मानव "के बीच संभवतः व्यवहारिक और सृजनात्मक खाड़ी" को समझाने में सहायता भी कर सकती है.[6]

मेमथ के दांत से निर्मित, 18.7 सेमी लम्बी, तीन छिद्रों वाली बांसुरी (दक्षिणी जर्मन स्वाबियन अल्ब में उल्म के निकट स्थिति Geißenklösterle गुफा से प्राप्त हुई है और इसकी तिथि 30000 से 37,000 वर्ष पूर्व निश्चित की गयी है)[9] 2004 में खोजी गयी थी और दो अन्य हंस हड्डियों से निर्मित बांसुरियां जो एक दशक पहले खुदाई में प्राप्त हुई थी (जर्मनी की इसी गुफा से, जिनकी तिथि लगभग 36,000 साल पूर्व प्राप्त होती है) प्राचीनतम ज्ञात वाद्ययंत्रों में से हैं.

पांच से आठ छिद्रों वाली नौ हज़ार वर्ष पुरानी गुडी (शाबि्दक अर्थ "हड्डी" बांसुरी), जिनकी निर्माण लाल कलगी वाले क्रेन के पंख की हड्डियों से किया गया है, को मध्य चीन के एक प्रान्त हेन्नन मॅं स्थित जिअहु[10] के एक मकबरे से खनित किया गया है.[11]

12वीं सदी की सोंग डायनेस्टी से, बांसुरी बजाती हुई चीनी महिलाएं, यह हैन क्सिज़ाई की नाईट रेवल्ज़ की रिमेक थी जो मूल रूप से गु होन्गज्होंग द्वारा थी (दसवीं सदी).

प्राचीनतम प्रचलित आड़ी बांसुरी चीन के हुबेई प्रांत के सुइज़्हौ स्थल पर जेंग के मारकिस यी की कब्र में पाई गई एक ची () बांसुरी है. यह 433 ई.पू. उत्तर झाऊ वंश से संबंधित है. यह रोगन किए हुए बांस से बनी हुई बंद छोरों वाली होती है तथा इसके पांच छिद्र शीर्ष की ओर न होकर दूसरे छोर पर होते हैं. परम्परा के अनुसार, कन्फ्युशियस के द्वारा संकलित एवं संपादित शी जिंग में ची बांसुरी का वर्णन है.

बाइबिल की जेनेसिस 4:21 में जुबल को, "उन सभी का पिता जो उगब और किन्नौर बजाते हैं", बताया गया है. पूर्ववर्ती हिब्रू शब्द कुछ वायु वाद्य यंत्रों या सामान्यतः वायु यंत्रों को संदर्भित करता है, उत्तरवर्ती एक तारदार वाद्य यंत्र या सामान्यतः तारदार वाद्ययंत्र को संदर्भित करता है. अतएव, जूडियो ईसाई परंपरा में जुबल को बांसुरी (इस बाईबिल पैराग्राफ के कुछ अनुवादों में प्रयुक्त शब्द) का आविष्कारक माना जाता है. पहले के कुछ बांसुरी टिबियास(घुटने के नीचे की हड्डी) से बने हुए थे. भारतीय संस्कृति एवं पुराणों में भी बांसुरी हमेशा से आवश्यक अंग रहा है,[12] एवं कुछ वृतातों द्वारा क्रॉस बांसुरी का उद्भव भारत[13][14] में ही माना जाता है क्योंकि 1500 ई.पू. के भारतीय साहित्य में क्रॉस बांसुरी का विस्तार से विवरण है.[15]

बांसुरी ध्वनि विज्ञान[संपादित करें]

जब यंत्र के छिद्र के आर-पार वायु धारा प्रवाहित की जाती है, जिससे छिद्र पर वायु कंपन होने के कारण बांसुरी ध्वनि उत्पन्न करता है.[16][17]

छिद्र के पार वायु एक बरनॉली या सिफॉन सृजित करती है जिसका प्रभाव वॉन कारमन वोरटैक्स स्ट्रीट तक होता है. यह बांसुरी में सामान्यतः मौजूद बेलनाकार अनुनादी गुहिका में वायु को उत्तेजित करती है. वादक यंत्र के छिद्रों को खोल एवं बंद कर के ध्वनि के स्वर में परिवर्तन करता है, इस प्रकार यह अनुनादी की प्रभावी लंबाई एवं इसके सदृश अनुनाद आवृत्ति में परिवर्तन होता है. वायु दाब में परिवर्तन के द्वारा एवं किसी भी छिद्र को खोले और बंद किये बगैर आधारभूत आवृत्ति के अलावा भी बांसुरी को गुणित स्वर पर अनुवाद के द्वारा वादक स्वर में भी परिवर्तन कर सकता है.

अधिक ध्वनि के लिये बांसुरी को अपेक्षाकृत बड़े अनुनादक, बड़ी वायु धारा या बड़े वायु धारा वेग का प्रयोग करना होगा. सामान्यतः बांसुरी की आवाज इसके अनुनादक और ध्वनि छिद्रों को बढ़ा करके बढ़ायी जा सकती है. इसलिए पुलिस की सीटी, जो बांसुरी का एक रूप है, अपने स्वर में बहुत विस्तृत होती है एवं इसीलिये पाइप आर्गन एक कंसर्ट बांसुरी की तुलना में अधिक तेज आवाज का हो सकता है: एक बड़े ऑर्गन पाइप में कुछ क्यूबिक फीट वायु हो सकती है एवं इसके ध्वनि छिद्र कुछ चौड़े हो सकते हैं, जबकि कंसर्ट बांसुरी की वायु धारा की माप एक इंच से थोड़ी ही बड़ी होती है.

वायु धारा को एक उचित कोण एवं वेग से प्रवाहित करना चाहिये अन्यथा बांसुरी में वायु में कंपन नहीं होगा. फिलिप्ड या नलिका वाली बांसुरियों में, संक्षिप्त रूप से गठित एवं स्थापित वायु मार्ग सिकुड़ेगा एवं खुली खिड़की के पार लेबियम रैम्प किनारे तक वायु प्रवाहित होगी. पाइप ऑर्गन में, यह वायु एक नियंत्रित धौकनी (ब्लोअर) द्वारा प्रवाहित होती है.

गैर फिपिल बांसुरी में वायु धारा निश्चित रूप में वादक के होठों से प्रवाहित होती है जिसे इंबोशर कहा जाता है. इससे वादक को विशेषकर फिपिल/ नलिका बांसुरियों की तुलना में स्वर, ध्वनि व आवाज की अभिव्यक्ति की विस्तृत श्रंखला की सुविधा प्राप्त होती है. हालांकि, इससे नौसिखिए वादक को रिकॉर्डर जैसे नलिका बांसुरियों की तुलना में अंतिम सिरे से बजने वाले या अनुप्रस्थ बांसुरियों द्वारा पूरी ध्वनि उत्पन्न करने में पर्याप्त कठिनाई होती है. अनुप्रस्थ एवं अंतिम सिरे से बजने वाले बांसुरी को बजाने के लिये अधिक वायु की आवश्यकता होती है जिसमें गहरे श्वसन की आवश्यकता होती है एवं यह चक्रीय श्वसन को पर्याप्त जटिल बनाता है.

सामान्यतः गुणवत्ता या "ध्वनि रंग", जिसे स्वर कहते हैं, में परिवर्तन होता है क्योंकि बांसुरी कई भागों एवं गहनताओं में सुर उत्पन्न कर सकते हैं. ध्वनि-रंग में छिद्र की आंतरिक आकृति जैसे कि शंक्वाकार नोक में परिवर्तन के द्वारा परिवर्तन या सुधार किया जा सकता है. सुर एक आवृति है जो एक निम्न रजिस्टर पूर्णांक गुणक है या बांसुरी का "आधारभूत" नोट है. सामान्यतः उच्च सुर उच्च अंशों की उत्पत्ति में वायु धारा पतली (अधिक रूपों में कंपन), तीव्र (वायु के अनुनाद को उत्तेजित करने के लिये अधिक ऊर्जा उपलब्ध कराना) एवं छिद्र के पार कम गहरे (वायु धारा का अधिक छिछले परावर्तन हेतु) प्रवाहित की जाती है.

ध्वनि विज्ञान निष्पादन एवं स्वर के प्रति शीर्ष जोड़ ज्यामिति विशेष रूप से जटिल प्रतीत होती है,[18] लेकिन उत्पादकों के मध्य किसी विशेष आकार को लेकर कोई सर्वसम्मति नहीं है. इमबोशर छिद्र की ध्वनि विज्ञान बाधा सबसे जटिल मानदंड प्रतीत होती है.[19] ध्वनि विज्ञान बाधा को प्रभावित करने वाले जटिल कारकों में शामिल हैं: चिमनी की लंबाई (ओठ-प्लेट और शीर्ष नली के मध्य छिद्र), चिमनी का व्यास एवं रडी या चिमनी के अंत सिरे का घुमाव तथा वाद्य यंत्र के "गले " में कोई डिजाइन प्रतिबंध जैसा कि जापानी नोहकन बांसुरी में.

एक अध्ययन में, जिसमें व्यावसायिक वादकों की आँख में पट्टी बांधी गई, यह पाया गया कि वे विभिन्न धातुओं से बने वाद्य यंत्रों में कोई अंतर नहीं खोज पाये.[20] आँख बंद करके सुनने पर पहली बार में कोई भी वाद्य यंत्र की सही पहचान नहीं कर पाया एवं दूसरी बार में केवल चाँदी यंत्र ही पहचाना जा सका. अध्ययन का यह निष्कर्ष है कि "दीवार की सामग्री का यंत्र द्वारा उत्पन्न ध्वनि स्वर या गतिज विस्तार पर कोई गौर करने योग्य प्रभाव होने का प्रमाण नहीं मिला". दुर्भाग्यवश,यह अध्ययन शीर्षजोड़ डिजाइन पर नियंत्रण नहीं करता जो कि सामान्यतः स्वर को प्रभावित करने वाला माना जाता है (ऊपर देखें). नियंत्रित स्वर परीक्षण यह दर्शाते है कि नली का द्रव्यमान परिवर्तन उत्पन्न करता है एवं अतः नली घनत्व एवं दीवार की मोटाई परिवर्तन पैदा करेगी.[21] हमें ध्वनि की पहचान हेतु इलैक्ट्रॉनिक संवेदकों की तुलना में मानव कानों की सीमाओं का भी ध्यान रखना चाहिये.

बांसुरी की श्रेणियाँ[संपादित करें]

ज़ेम्पोना, एक पूर्व इंका उपकरण और पैन बांसुरी का प्रकार बजाते हुए.

अपने आधारतम रूप में बांसुरी एक खुली नलिका हो सकती है जिसे बोतल की तरह बजाया जाता है. बांसुरी की कुछ विस्तृत श्रेणियां हैं. ज़्यादातर बांसुरियों को संगीतकार या वादक ओठ के किनारों से बजाता है. हालांकि, कुछ बांसुरियों, जैसे विस्सल, जैमशोर्न, फ्लैजिओलैट, रिकार्डर, टिन विस्सल, टोनेट, फुजारा एवं ओकारिना में एक नली होती है जो वायु को किनारे तक भेजती है ("फिपिल" नामक एक व्यवस्था). इन्हें फिपिल फ्लूट कहा जाता है. फिपिल, यंत्र को एक विशिष्ट ध्वनि देता है जो गैर-फिपिल फ्लूटों से अलग होती है एवं यह यंत्र वादन को आसान बनाता है, लेकिन इस पर संगीतकार या वादक का नियंत्रण कुछ कम होता है.

बगल से (अथवा आड़ी ) बजायी जाने वाली बांसुरियों जैसे कि पश्चिमी संगीत बांसुरी, पिकोलो, फाइफ, डिजी एवं बांसुरी एवं सिरे से बजाये जाने वाली बांसुरियों , जैसे कि ने, जिआओ, कवल, डान्सो, शाकुहाची, अनासाज़ी फ्लूट एवं क्वीना के मध्य एक और विभाजन है. बगल से बजाई जाने वाले बांसुरियों में नलिका के अंतिम सिरे से बजाये जाने की के स्थान पर ध्वनि उत्पन्न करने के लिये नलिका के बगल में छेद होता है. अंतिम सिरे से बजाये जाने वाली बांसुरियों को फिपिल बांसुरी नहीं समझ लेना चाहिये जैसे कि रिकॉर्डर, जो ऊर्ध्ववत बजाये जाते हैं लेकिन इनमें एक आंतरिक नली होती है जोकि ध्वनि छेद के सिरे तक वायु भेजती है.

बांसुरी एक या दोनों सिरों पर खुले हो सकते हैं. ओकारिना, जुन, पैन पाइप्स, पुलिस सीटी एवं बोसुन की सीटी एक सिरे पर बंद (क्लोज़ एंडेड) होती है. सिरे पर खुली बांसुरी जैसे कि कंसर्ट-बांसुरी एवं रिकॉर्डर ज्यादा सुरीले होते हैं अतएव वादक के लिये बजाने में अधिक लोचशील तथा अधिक चटख ध्वनि वाले होते हैं. एक ऑर्गन पाइप वांछित ध्वनि के आधार पर खुला या बंद हो सकता है.

बांसुरियों को कुछ विभिन्न वायु स्त्रोतों से बजाया जा सकता है. परंपरागत बांसुरी मुँह से बजायी जाती हैं, यद्यपि कुछ संस्कृतियों में नाक से बजायी जाने वाली बांसुरी प्रयोग होती है. ऑर्गन के फ्लू पाइपों को, जोकि नलिका बांसुरी से ध्वनिक रूप में समान होते हैं, धौकनी या पंखों के द्वारा बजाया जाता है.

वैस्टर्न कंसर्ट बांसुरी[संपादित करें]

पश्चिमी संगीत सम्मलेन बांसुरी का एक चित्र.

वैस्टर्न कंसर्ट बांसुरी, 19वीं सदी के जर्मन बांसुरी का वंशज है.यह एक आढ़ी या अनुप्रस्थ बांसुरी है जोकि शीर्ष पर बंद होती है. इसके शीर्ष के नजदीक एक दरारनुमा छेद होता है जिससे वादक बजाता है. बांसुरी में गोलाकार ध्वनि छिद्र होते हैं जोकि इसके बारोक पूर्वजों के अंगुली छिद्र से बड़े होते हैं. ध्वनि छिद्र का आकार एवं स्थिति, प्रमुख कार्यप्रणाली, एवं बांसुरी के विस्तार में नोट्स को उत्पन्न करने के लिये अंगुली के प्रयोग का विकास 1832 से 1847 के मध्य थिओबाल्ड बोहम ने किया था एवं यंत्र के गतिज विस्तार एवं तान (ध्वनि का उतार चढ़ाव)में उनके उत्तराधिकारियों ने महान सुधार किया.[22] कुछ परिष्कारों के साथ (किंगमा प्रणाली एवं अन्य परंपरागत रूप से स्वीकृत अंगुली प्रणालियों को विरल अपवाद स्वरूप छोड़कर) वैस्टर्न कंसर्ट बांसुरी मूलतः बोहम की डिजाइन तक ही सीमित रहे एवं बोहम प्रणाली के नाम से जाने जाते है.

स्टैण्डर्ड कंसर्ट बांसुरी को सप्तक सी स्वर में स्वर बद्ध किया गया है एवं इसका विस्तार मध्य सी (या ढ़ेड़ पायदान नीचे, जब बी फुट को यंत्र के साथ जोड़ा गया हो) से प्रारंभ होकर तीसरे सप्तक तक जाता है. इसका तात्पर्य है कि कंसर्ट बांसुरी सर्वाधिक प्रचलित आर्केस्ट्रा यंत्रों में से एक है, इसका अपवाद पिकोलो है जो एक सप्तक ऊपर बजता है. जी आल्टो एवं सी बांस बांसुरी का प्रयोग यदा-कदा ही होता है एवं इन्हें क्रमशः पूर्ण चतुर्थ सप्तक एवं कंसर्ट बांसुरी से एक सप्तक नीचे स्वरबद्ध किया गया है. बांस की तुलना में आल्टो बांसुरी के अंश अधिक लिखे जाते हैं.[कृपया उद्धरण जोड़ें] कॉन्ट्राबास, डबल कॉन्ट्राबास एवं हाइपरबास कुछ अन्य विरले बांसुरी रूप हैं जिन्हें मध्य सप्तक से क्रमशः दो, तीन और चार सप्तक नीचे स्वरबद्ध किया गया है.

समय-समय पर बांसुरी और पिकोलो के अन्य आकारों का प्रयोग होता है. आधुनिक स्वर बद्ध प्रणाली का एक विरला यंत्र ट्रेबल जी बांसुरी है. यंत्र पुराने स्वर मानकों के अनुसार बनाया गया है, जिसका प्रयोग सैद्धांतिक रूप से विंड-बैंड संगीत सहित डी बी पिकोलो, एब सोपरानो बांसुरी (वर्तमान कंसर्ट सी बांसुरी के समकक्ष प्राथमिक यंत्र), एफ आल्टो बांसुरी एवं बी बी बास बांसुरी में होता है.

भारतीय बांस निर्मित बांसुरी[संपादित करें]

एक कर्नाटकीय आठ-छिद्र वाली बांस की बांसुरी.
आठ छिद्र वाली विशेष रूप से कर्नाटकीय संगीत में प्रयोग की जाने वाली शास्त्रीय भारतीय बांस की बांसुरी.
चित्र:Nityanand.jpg
एक भारतीय शास्त्रीय संगीत कलाकार द्वारा बजाई जाने वाली बांसुरी.

भारतीय शास्त्रीय संगीत में बांस से निर्मित बांसुरी एक महत्वपूर्ण यंत्र है जिसका विकास पश्चिमी बांसुरी से स्वतंत्र रूप से हुआ है. हिन्दू भगवान कृष्ण को परंपरागत रूप से बांसुरी वादक माना जाता है (नीचे देखें). पश्चिमी संस्करणों की तुलना में भारतीय बांसुरी बहुत साधारण हैं; वे बांस द्वारा निर्मित होते हैं एवं चाबी रहित होती हैं.[23]

महान भारतीय बांसुरी वादक पन्नालाल घोष ने सर्वप्रथम छोटे से लोक वाद्ययंत्र को बांस बांसुरी (सात छिद्रों वाला 32 इंच लंबा) में परिवर्धित करके इसे परंपरागत भारतीय शास्त्रीय संगीत बजाने योग्य बनाया था तथा इसे अन्य शास्त्रीय संगीत वाद्य-यंत्रों के कद का बनाया था. अतिरिक्त छिद्र ने मध्यम बजाना संभव बनाया, जो कि कुछ परंपरागत रागों में मींदज़ (एम एन, पी एम एवं एम डी की तरह) को सरल बनाता है.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

भारतीय शास्त्रीय संगीत की धुनों और सूक्ष्मता को भलीभांति प्रकट करने के लिये पंडित रघुनाथ प्रसन्ना ने बांसुरी वादन के क्षेत्र में विभिन्न तकनीकों का विकास किया है. वास्तव में उन्होंने अपने स्वयं के परिवार सदस्यों को प्रशिक्षण के द्वारा अपने घराने को मजबूत आधार प्रदान किया. इस घराने के शिष्यों में पंडित भोलानाथ प्रसन्ना, पंडित हरी प्रसाद चौरसिया, पंडित राजेन्द्र प्रसन्ना विश्वभर में अपने मधुर संगीत के लिये प्रसिद्ध हैं.

भारतीय कंसर्ट बांसुरी मानक स्वरबद्ध लहरियों (पिचों)पर उपलब्ध हैं. कर्नाटक संगीत में इन स्वरबद्ध लहरियों को नंबर के द्वारा जाना जाता है जैसे कि (सी को स्वर मानते हुये) 1 (सी के लिये), 1-1/2 (सी#), 2 (डी), 2-1/2 (डी#), 3 (ई), 4 (एफ), 4-1/2 (एफ#), 5 (जी), 5-1/2 (जी#), 6 (ए), 6-1/2 (ए#) एवं 7(बी). हालांकि किसी रचना का स्वर अपने आप में नियत नहीं है अतः कंसर्ट के लिये किसी भी बांसुरी का प्रयोग किया जा सकता है (जब तक कि संगत वाद्ययंत्र,यदि हो, भलीभांति स्वर बद्ध न हो जाये) एवं यह मुख्यतः कलाकार की व्यक्तिगत पसंद पर निर्भर करता है.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

भारतीय बांसुरी के दो मुख्य प्रकारों का वर्तमान में प्रयोग हो रहा है. प्रथम, बांसुरी है, जिसमें अंगुलियों हेतु छह छिद्र एवं एक दरारनुमा छिद्र होता है एवं जिसका प्रयोग मुख्यतः उत्तर भारत में हिंदुस्तानी संगीत में किया जाता है. दूसरी, वेणु या पुलनगुझाल है, जिसमें आठ अंगुली छिद्र होते हैं एवं जिसका प्रयोग मुख्य रूप से दक्षिण भारत में कर्नाटक संगीत में किया जाता है. वर्तमान में कर्नाटक संगीत बांसुरी वादकों द्वारा सामान्यतः आरपार अंगुली तकनीक से चलने वाले आठ छिद्रों वाले बांसुरी का प्रयोग किया जाता है. इस तकनीक का प्रारंभ 20वीं शताब्दी में टी. आर. महालिंगम ने किया था. तब इसका विकास बी एन सुरेश एवं डॉ. एन. रमानी ने किया[कृपया उद्धरण जोड़ें]. इसके पहले, दक्षिण भारतीय बांसुरी में केवल सात अंगुली छिद्र होते थे जिसके अंगुली मानदंडों का विकास 20वीं शताब्दी के आरंभ में पल्लादम स्कूल के शराबा शास्त्री द्वारा किया गया था.[24]

बांसुरी की ध्वनि की गुणवत्ता कुछ हद तक उसे बनाने में प्रयुक्त हुये विशेष बांस पर निर्भर करती है एवं यह सामान्यतः स्वीकृत है कि सर्वश्रेष्ठ बांस दक्षिण भारत के नागरकोइल क्षेत्र में पैदा होते हैं.[25]

चीनी बांसुरी[संपादित करें]

चीनी बांसुरी को "डी" (笛) कहा जाता है. चीन में डी की कई किस्में हैं जो भिन्न आकार, ढांचे(अनुनाद झिल्ली सहित/रहित) एवं छिद्र संख्या (6 से 11) तथा आलाप(विभिन्न चाबियों में वादन) की हैं. ज़्यादातर बांस की बनी हुई हैं. चीनी बांसुरी की एक खास विशेषता एक छिद्र पर अनुनाद झिल्ली का चढ़ा होना है जो नली के अंदर वायु कॉलम को कंपित करती है. इस बांसुरी से मुखर ध्वनि प्राप्त होती है. आधुनिक चीनी ऑर्केस्ट्रा में साधारणतः पाये जाने वाले बांसुरियों में बंगडी (梆笛),क्यूडी (曲笛),जिन्डी (新笛), डाडी (大笛) आदि शामिल हैं. अनुप्रस्थ या आड़े बजाये जाने वाले बांस को "जियाओ" (簫) कहते हैं जोकि चीन में वायु यंत्र की भिन्न श्रेणी है.

जापानी बांसुरी[संपादित करें]

जापानी बांसुरी को फू कहते हैं जिनमें बड़ी संख्या में जापान के संगीतमय बांसुरी शामिल हैं.

सिरिंग[संपादित करें]

सिरिंग (जिसे ब्लल भी कहा जाता है) तुलनात्मक रूप से छोटा एवं अंतिम सिरे से बजाये जाने वाली बांसुरी है जिसमें नाक द्वारा उत्पन्न स्वर की गुणवत्ता होती है[26] एवं पिकोलो का स्वर होता है[कृपया उद्धरण जोड़ें] जो पूर्व आर्मेनिया के कॉकासस क्षेत्र में पाया जाता है. यह लकड़ी या बेंत का बना होता है जिसमें सामान्यतः सात अंगुली छिद्र एवं एक अंगूठा छिद्र होता है[26] जो द्वि स्वर उत्पन्न करता है. सिरिंग का प्रयोग गड़रियों द्वारा अपने कार्य से संबंधित ध्वनियों एवं संकेतों को उत्पन्न करने तथा संगीतमय प्रेम गीतों, जिन्हें छबन बयाती कहा जाता है, के साथ - साथ क्रमबद्व खंडों के लिये किया जाता है.[कृपया उद्धरण जोड़ें] सिरिंग का प्रयोग डेफ और ढोल के साथ नृत्य हेतु संगीत उपलब्ध कराने के लिये भी किया जाता है.[कृपया उद्धरण जोड़ें] एक आर्मेनियाई संगीतज्ञ यह मानता है कि सिरिंग में राष्ट्रीय आर्मेनियाई यंत्रों के सभी गुण मौजूद हैं.[27]

यह भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Wilford, John N. (June 24, 2009). "Flutes Offer Clues to Stone-Age Music". The New York Times 459: 248. doi:10.1038/nature07995. http://www.nytimes.com/2009/06/25/science/25flute.html. अभिगमन तिथि: June 29, 2009. 
  2. Tenenbaum, David (June 2000). "Neanderthal jam". The Why Files. University of Wisconsin, Board of Regents. http://whyfiles.org/114music/4.html. अभिगमन तिथि: 14 March 2006. 
  3. Flute History, यू सी एल ए (UCLA). पुनः प्राप्त जून 2007.
  4. BBC: 'Oldest musical instrument' found
  5. Nicholas J. Conard, Maria Malina, and Susanne C. Münzel (August 2009). "New Flutes Document the Earliest Musical Tradition in Southwestern Germany". Nature 460 (7256): 737–40. doi:10.1038/nature08169. ISSN 0028-0836. PMID 19553935. 
  6. "'Oldest musical instrument' found". BBC news. 2009-06-25. http://news.bbc.co.uk/1/hi/sci/tech/8117915.stm. अभिगमन तिथि: 2009-06-26. 
  7. "Music for cavemen". MSNBC. 2009-06-24. http://cosmiclog.msnbc.msn.com/archive/2009/06/24/1976108.aspx. अभिगमन तिथि: 2009-06-26. 
  8. "Flutes Offer Clues to Stone-Age Music". The New York Times. 2009-06-24. http://www.nytimes.com/2009/06/25/science/25flute.html?_r=1&partner=rss&emc=rss. अभिगमन तिथि: 2009-06-26. 
  9. "Archeologists discover ice age dwellers' flute". CBC Arts (Canadian Broadcasting Corporation). 2004-12-30. Archived from the original on 2006-11-16. http://web.archive.org/web/20061116042750/http://www.cbc.ca/arts/story/2004/12/30/flute-prehistoric041230.html. अभिगमन तिथि: 2009-04-21. 
  10. The bone age flute. बीबीसी (BBC). पुनः प्राप्त जुलाई 2007.
  11. Zhang, Juzhong; Xiao, Xinghua, Lee, Yun Kuen (December 2004). "The early development of music. Analysis of the Jiahu bone flutes". Antiquity 78 (302): 769–778. http://antiquity.ac.uk/ant/078/Ant0780769.htm. 
  12. Hoiberg, Dale; Ramchandani, Indu (2000). Students' Britannica India. Mumbai: Popular Prakashan. प॰ 125. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0852297602. http://books.google.com/books?id=AE_LIg9G5CgC. 
  13. Chaturvedi, Mamta (2001). How to Play Flute & Shehnai. New Delhi: Diamond Pocket Books (P) Ltd. प॰ 7. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 8128814761. http://books.google.com/books?id=0rz8rvUOmSwC. 
  14. Morse, Constance (1968). Music and Music-makers. New Hampshire: Ayer Publishing. प॰ 7. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0836907248. http://books.google.com/books?id=XEXWVhtcuJ4C. 
  15. Arvey, Verna (2007). Choreographic Music for the Dance. London: Read Country Books. प॰ 36. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1406758477. http://books.google.com/books?id=GOwFSQkpfNsC. 
  16. Flute acoustics, यू एन एस डबल्यू (UNSW). पुनः प्राप्त जून 2007.
  17. Wolfe, Joe. "Introduction to flute acoustics". UNSW Music Acoustics. http://www.phys.unsw.edu.au/music/flute/. अभिगमन तिथि: 16 January 2006. 
  18. Spell, Eldred (1983). "Anatomy of a Headjoint". The Flute Worker. ISSN 0737-8459. http://eldredspellflutes.com/Articles.htm. 
  19. Wolfe, Joe. "Acoustic impedance of the flute". Flute acoustics: an introduction. http://www.phys.unsw.edu.au/~jw/fluteacoustics.html#acousticimpedance. 
  20. Widholm, G.; Linortner, R., Kausel, W. and Bertsch, M. (2001). "Silver, gold, platinum—and the sound of the flute". Proc. International Symposium on Musical Acoustics: 277–280. http://iwk.mdw.ac.at/Forschung/english/linortner/linortner_e.htm. 
  21. [1]
  22. बोहम 1964, 8-12.
  23. Arnold, Alison (2000). The Garland Encyclopedia of World Music. London: Taylor & Francis. प॰ 354. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0824049462. http://books.google.com/books?id=ZOlNv8MAXIEC. 
  24. Caudhurī, Vimalakānta Rôya; Roychaudhuri, Bimalakanta (2000). The Dictionary of Hindustani Classical Music. Kolkata: Motilal Banarsidass Publication. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 8120817087. http://books.google.com/books?id=gQWLa--IHjIC. 
  25. Abram, David; Guides, Rough; Edwards, Nick; Ford, Mike; Sen, Devdan; Wooldridge, Beth (2004). The Rough Guide to South India 3. London: Rough Guides. pp. 670,671. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1843531038. http://books.google.com/books?id=sEhJBfbhTAAC. 
  26. पहलेवनियन 2001
  27. कोमीटास 1994[page needed]

ग्रंथ सूची[संपादित करें]

  • बोहम, थिओबाल्ड 1964. द फ्ल्यूट एंड फ्ल्यूट-प्लेइंग इन एकासटीकल, टेकनिकल, एंड आर्टिस्टिक आस्पेक्ट्स , सेमुयल बेरौन द्वारा नए प्राक्कथन के साथ डेटन सी. मिलर द्वारा अनुवादित. न्यू यार्क: डावर पबलिकेशनस. आई एस बी एन (ISBN) O-486-21259-9
  • बुकानन, डोना ए. 2001. "बुल्गारिया § द्वितीय: पारंपरिक संगीत, 2: पूर्व-समाजवादी संगीत संस्कृति के लक्षण, 1800-1944, (iii): इन्सट्रूमेंट्स". द न्यू ग्रूव डिकशनरी ऑफ़ म्यूज़िक एंड म्यूज़ीशियनज़ , एड. एस. सेडी एंड जे. टिरेल. लंदन: मैकमिलन.
  • क्रेन, फ्रेडरिक. 1972. एक्सटेंट मिडिवियल म्यूज़िकल इंस्ट्रूमेंट्स: अ प्रोविज़नल कैटालोग बाय टाइप्स लोवा शहर: लोवा विश्वविद्यालय प्रेस. आई एस बी एन (ISBN) 0-87745-022-6
  • गाल्वे, जेम्स. 1982. फ्ल्यूट येहुदी मेनुहिन संगीत मार्गदर्शिकाएँ. लंदन: मेकडोनाल्ड आई एस बी एन (ISBN) 0356047113 (कपड़ा); आई एस बी एन (ISBN), 0356047121 (पीबीके.) न्यू यॉर्क: स्कीमर पुस्तकें. आई एस बी एन (ISBN) 002871380X 1990 में दुबारा मुद्रित, लंदन: क्हान और अवेरिल लंदन: खान एवं अवेरिल्ल आई एस बी एन (ISBN) 1871082137
  • कोमितास, वेर्दापेट. 1994. Grakan nshkhark' Komitas Vardapeti beghun grch'ēn: npast mē Komitas Vardapeti srbadasman harts'in , एबल ओघ्लुकियन द्वारा संपादित. मोंट्रिअल: Ganatahayots' Aṛajnordarani "K'ristonēakan Usman ew Astuatsabanut'ean Kedron".
  • पहलेवेनियन, अलीना. 2001. "आर्मेनिया §I: लोक संगीत, 3: महाकाव्य". द न्यू ग्रूव डिकशनरी ऑफ़ म्यूज़िक एंड म्यूज़ीशियनज़ एड. एस. सेडी एंड जे. टिरेल. लंदन: मैकमिलन.
  • फेलन, जेम्स, द कंप्लीट गाइड टू द [फ्लूट एंड पिकोलो] (बुर्कार्ट-फेलन, इंक., 2004)
  • पुटनिक, एडविन. 1970. द आर्ट ऑफ़ फ्लूट प्लेइंग . इवांसटन, इलिनोइस: समी-बिर्कार्ड इंक. संशोधित संस्करण 1973, प्रिंसटन, न्यू जर्सी और इवांसटन, इलिनोइस. आई एस बी एन (ISBN) 0874870771
  • टोफ, नैन्सी. 1985. द फ्लूट बुक: अ कंप्लीट गाइड फ़ॉर स्टूडेंट्स एंड पर्फोर्मरज़ न्यूयॉर्क: चार्ल्स स्क्रिब्नर्ज़ संस. आई एस बी एन (ISBN) 0684182416 न्यूटन: अबोट दाऊद और चार्ल्स. आई एस बी एन (ISBN) 0715387715 दूसरा संस्करण 1996, न्यूयॉर्क: ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस. आई एस बी एन (ISBN) 0195105028
  • वाई, ट्रेवर. 1988. प्रोपर फ्लूट प्लेइंग: अ कम्पेरिज़न टू द प्रेक्टिस बुक्स . लंदन: नोवेलो. आई एस बी एन (ISBN) 0711984654

एक्सटर्नल लिंक्स[संपादित करें]

Wikisource-logo.svg
विकिसोर्स में इस लेख से सम्बंधित, मूल पाठ्य उपलब्ध है:
Wiktionary-logo-en.png
बांसुरी को विक्षनरी,
एक मुक्त शब्दकोष में देखें।

द मेट्रोपोलिटन म्यूज़ियम ऑफ़ आर्ट पर दुनिया भर से बांसुरियों का एक संकलन

साँचा:Western concert flutes