बकुची

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
बकुची

बकुची (Psoralea corylifolia) औषध के काम में प्रयुक्त होनेवाले एक पौधा है।

यह पौधा हाथ, सवा हाथ ऊँचा होता है । इसकी पत्तियाँ एक अगुल चौड़ी होती हैं और डालियाँ पृथ्वी से अधिक ऊँची नहीं होतीं तथा इधर उधर दूर तक फैलती हैं । इसका फूल गुलाबी रंग का होता है । फूलों के झड़ने पर छोटी छोटी फलियाँ घोद में लगती हैं जिनमें दो से चार तक गोल गोल चौड़े और कुछ लबाई लिए दाने निकलते हैं । दानों का छिलका काले रग का, मोटा और ऊपर से खुरदार होता है । छिलके के भीतर सफेद रंग की दो दालें होती हैं जो बहुत कड़ी होती हैं और बड़ी कठिनाई से टूटती हैं । बीज से एक प्रकार की सुगंध भी आती है । यह औषध में काम आता है । वैद्यक में इसका स्वाद मीठापन और चरपरापन लिए कड़ुवा बताया गया है और इसे ठंढ़ा, रुचिकर, सारक, त्रिदोषध्न और रसायन माना है । इसे कुष्टनाशक और त्वग्रोग की औषधि भी बतलाया है । कहीं कहीं काले फूल की भी बहुत होती है।

अन्य नाम[संपादित करें]

इसे सोमराजी , कृष्णफल , वाकुची , पूतिफला , बेजानी , कालमेषिका , अबल्गुजा , ऐंदवी , शूलोत्था , कांबोजी , सुपर्णिका आदि नामों से भी जाना जाता है।

संदर्भ[संपादित करें]

बाह्य सूत्र[संपादित करें]