बकिंघम पैलेस

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
बकिंघम पैलेस.यह मुख्य फैकेड है, ईस्ट फ्रंट, मूलतः एडवर्ड ब्लोर द्वारा निर्मित और 1850 में बनकर तैयार हुआ, 1913 में सर एस्टन वेब द्वारा इसे पुनः डिजाइन किया गया था.
महारानी विक्टोरिया, बकिंघम पैलेस में रहने वाली पहली महारानी, 1837 में अपने राज्याभिषेक के बाद नए बने महल में रहने आ गयीं.

बकिंघम पैलेस ब्रिटिश राजशाही का लंदन स्थित आधिकारिक निवास है.[1] वेस्टमिंस्टर शहर में स्थित यह राजमहल राजकीय आयोजनों और शाही आतिथ्य का केंद्र है. यह ब्रिटेन वासियों के लिये राष्ट्रीय हर्षोन्माद और संकट के समय चर्चा का विषय रहा है.

मूलतः बकिंघम हाउस के रूप में जाना जाने वाला, यह भवन जो आज के महल का महत्वपूर्ण हिस्सा है, 1703 में बकिंघम के ड्यूक के लिये एक ऐसी जगह पर बनाया गया एक विशाल टाउन हाउस था, जो कम से कम 150 सालों तक निजी स्वामित्व के अधीन रहा था. बाद में 1761[2] में इसे जॉर्ज III महारानी चार्लोट के लिये एक निजी आवास के रूप में अधिगृहित कर लिया गया था और “द क्वींस हाउस” के नाम से जाना जाता है. 19वीं सदी के दौरान मुख्य रूप से वास्तुकारों जॉन नैश और एडवर्ड ब्लोर द्वारा एक केंद्रीय प्रांगण की आस-पास तीन बालकनियाँ बनाकर इसका विस्तार किया गया. आखिरकार 1837 में महारानी विक्टोरिया के शासन में बकिंघम पैलेस ब्रिटिश राजशाही का आधिकारिक शाही महल बन गया. आखिरी बड़ा संरचनात्मक बदलाव 19वीं सदी के अंत और 20वीं सदी की शुरुआत में किया गया जिसमें पूरब का सामने का हिस्सा शामिल है, जहाँ वह सुप्रसिद्ध बालकनी मौजूद है, जहाँ से शाही परिवार पारंपरिक तौर पर बाहर मौजूद भीड़ को संबोधित करता है. हालांकि, महल का छोटे गिरजाघर को द्वितीय विश्व युद्ध में एक जर्मन बम द्वारा नष्ट कर दिया गया था; इस जगह पर क्वींस गैलरी बनायी गयी और 1962 में इसे शाही संग्रह की कलाकृतियों की प्रदर्शनी के लिये सार्वजनिक तौर पर खोल दिया गया.

19वीं के आंतरिक सज्जा के मूल डिजाइन, जिनमें से कई आज भी मौजूद हैं, इनमें सर चार्ल्स लांग की सलाह पर चमकीले स्काग्लियोला और नीले एवं गुलाबी लैपिस का व्यापक उपयोग शामिल है. किंग एडवर्ड VII ने एक बेल एपक क्रीम और सुनहरे रंग के मेल से आंशिक रूप से इनकी पुन: सज्जा करवाई. कई छोटे-छोटे स्वागत कक्षों की सजावट चीनी रीजेंसी शैली में ब्राइटन के रॉयल पैविलियन और कार्लटन हाउस से लाये गये फ़र्नीचरों और फ़िटिंग्स से करवायी गयी. बकिंघम पैलेस का गार्डन लंदन का सबसे बड़ा निजी गार्डन है.

राजकीय कक्ष, जिन्हें आधिकारिक और राजकीय मनोरंजन के लिए इस्तेमाल किया जाता था, महल की गर्मियों की प्रदर्शनी के एक हिस्से के रूप में हर साल ज्यादातर अगस्त और सितम्बर में सार्वजनिक तौर पर खोला जाता है.

इतिहास[संपादित करें]

बकिंघम हाउस, सी. 1710, पहले ड्यूक ऑफ बकिंघम और नॉर्मनबाई के लिए विलियम विंडे द्वारा डिजाइन किया गया था.यह फैकेड चौकोर हिस्से के पश्चिमी (भीतरी) ओर आज का विशाल प्रवेश द्वार है, जिसमें ऊपर ग्रीन ड्राइंग रूम मौजूद है.

साइट[संपादित करें]

मध्य काल में, बकिंघम पैलेस की साईट मैनर ऑफ एबरी (ईया भी कहा गया) का एक हिस्सा था. इसके दलदली सतह को टैबर्न नदी के पानी से सींचा गया था, जो आज भी महल के आँगन और दक्षिणी खंड के नीचे बहती है.[3] जहाँ पर नदी तैर कर पार करने लायक थी (काऊ फोर्ड में), एक गाँव आई क्रॉस विकसित हुआ था. इस साइट का स्वामित्व कई बार बदला गया; इसके मालिकों में सैक्सन काल के उत्तरार्ध में एडवर्ड द कनफेसर और उनकी महारानी पत्नी एडिथ ऑफ वेसेक्स और नॉर्मन कॉन्क्वेस्ट के बाद विलियम द कंकरर शामिल थे. विलियम ने यह साइट ज्योफ़री द मैंडेविले को दी, जिन्होंने इसे वेस्टमिंस्टर एबी के भिक्षुओं के नाम वसीयत कर दिया था.[4]

1531 में हेनरी VII ने एटन कॉलेज से सेंट जेम्स के अस्पताल (बाद में सेंट जेम्स पैलेस)[5] का अधिग्रहण किया और 1536 में उन्होंने वेस्टमिंस्टर एबी से मैनर ऑफ एबरी को ले लिया.[6] इन हस्तांतरणों ने बकिंघम पैलेस की साइट को विलियम द कंकरर द्वारा तकरीबन 500 वर्ष पहले इसे छोड़ दिये जाने के बाद से पहली बार शाही हाथों में वापस ला दिया.[7]

कई स्वामियों ने इसे शाही जमींदारों से लीज पर हासिल किया था और इसका फ़्रीहोल्ड 17वीं सदी के दौरान उन्मादी अनुमानों का विषय बन गया था. तब तक पुराना गांव आई क्रॉस बहुत पहले ही नष्ट हो गया था और यह क्षेत्र ज्यादातर बेकार जमीन के रूप में रह गया था.[8] पैसों की जरूरत के कारण जेम्स I ने क्राउन के एक हिस्से की फ़्रीहोल्ड को बेच दिया लेकिन बाकी हिस्से को अपने पास रख लिया जिसपर उन्होंने रेशम उत्पादन के लिये एक 4 एकड़s (16,000 मी²) मलबरी गार्डन स्थापित किया. (यह आज के महल का उत्तर पश्चिमी किनारा है).[9] एनार्किया एंग्लिकाना (1649) में क्लीमेंट वाकर “सेंट जेम्स के मलबरी गार्डन में नये तैयार किये गये सोडोम्स और स्पिंट्रीज” का संदर्भ देते हैं; जिससे यह पता चलता है कि यह एक व्यभिचार का स्थान रहा होगा. अंततः 17वीं सदी के अंत में, प्रोपर्टी टाईकून सर ह्यू औडली से इसके वारिस पोते मैरी डैवीस द्वारा इसका फ़्रीहोल्ड विरासत के रूप में प्राप्त कर लिया गया.[10]

साइट पर बने पहले मकान[संपादित करें]

गोरिंग हाउस[संपादित करें]

इस साइट के अंदर पहला मकान संभवतः 1624 के आस-पास सर विलियम ब्लेक द्वारा तैयार किया गया था.[11] इसके अगले मालिक लॉर्ड गोरिंग थे जिन्होंने ब्लेक के मकान का विस्तार कर आज के गार्डन के ज्यादातर हिस्से को विकसित किया, जिसे उस समय गोरिंग ग्रेट गार्डन के रूप में जाना जाता था.[12][13] हालांकि, उन्होंने मलबरी गार्डन में फ़्रीहोल्ड प्राप्त करने में रुचि नहीं दिखायी थी. 1640 में गोरिंग के नाम एक अज्ञात दस्तावेज में “किंग चार्ल्स I के लंदन भाग जाने से पहले, जहाँ कानूनी दंड के लिये इसकी जरूरत थी, ग्रेट सील को पास करने में असफ़ल रहा.”[14] (यही वह महत्वपूर्ण चूक थी जिसने किंग जॉर्ज III के अधीन ब्रिटिश शाही परिवार को इसका फ़्रीहोल्ड प्राप्त करने में मदद की.)[15]

अर्लिंग्टन हाउस[संपादित करें]

अदूरदर्शी गोरिंग ने अपने किरायों में चूक की थी;[16] जब 1674 में इसे जला दिया गया था, अर्लिंग्टन के पहले अर्ल, हेनरी बेनेट ने महल को हासिल किया और इसमें रहने लगे थे, जिसे अब गोरिंग हाउस के नाम से जाना जाता है.[13] अगले साल-आज के महल के दक्षिणी खंड-में इस साइट पर अर्लिंग्टन हाउस बनाकर खड़ा किया गया, और इसका फ़्रीहोल्ड 1702 में खरीदा गया.[13]

बकिंघम हाउस[संपादित करें]

वह मकान जो वर्तमान महल की वस्तुकला का महत्वपूर्ण हिस्सा है इसे 1703 में पहले ड्यूक ऑफ बकिंघम और नॉर्मनबाई के लिये विलियम विंडे के डिजाइन से तैयार किया गया था. जो शैली चुनी गयी वह एक बड़ा, दो छोटे फ्लैंकिंग सर्विस खंड सहित तीन फ़्लोरों वाला केंद्रीय ब्लॉक था.[17] अंततः बकिंघम हाउस को बकिंघम के वारिस, सर चार्ल्स शेफ़ील्ड द्वारा 1761[2] में जॉर्ज III को 21,000 पाउंड[18] (£21,000) में बेच दिया गया जो [24] [25] के अनुसार £ है.2014[19]

अपने दादा जॉर्ज II की तरह, जॉर्ज III ने मलबरी गार्डन के हिस्से को बेचने से मना कर दिया, जिससे शेफ़ील्ड इस साइट का सम्पूर्ण फ़्रीहोल्ड प्राप्त करने में नाकाम रहे. जब शेफ़ील्ड ने बकिंघम हाउस को बेचा तब यह शाही परिवार के हाथों में आ गया.

चित्र:Buckingham palace 1897.jpg
1897 में बकिंघम पैलेस और गार्डंस.

महारानी के घर से महल तक[संपादित करें]

Buckingham palace guard

इस मकान को विशेषकर क्वीन चार्लोट के लिये-जिनके 15 बच्चों में से 14 वहीं पैदा हुए थे, मूलतः एक निजी संपत्ति समझा गया था और इसे द क्वींस हाउस[20] के नाम से जाना जाता था. सेंट जेम्स पैलेस आधिकारिक और समारोंहों के लिये शाही निवास रह गया था.[21]

इस निर्माण का जीर्णोद्धार 1762 में शुरु हुआ.[22] 1820 में राजगद्दी पर बैठने के बाद जॉर्ज VI ने इसे एक छोटे आरामदायक स्वरूप में बनाने का विचार कर पुनरोद्धार कार्य को आगे बढाया. जब यह कार्य प्रगति पर था, 1826 में महराजा ने अपने वास्तुकार जॉन नैश की मदद से मकान को एक महल में रूपांतरित करने का फ़ैसला किया.[23] कुछ फ़िनिशिंग कार्ल्टन हाउस से स्थानांतरित कर यहाँ लायी गयी और बाकी को फ़्रांसीसी क्रांति के बाद फ़्रांस से खरीदा गया.[24] बाहरी हिस्से को जॉर्ज IV की पसंद के फ़्रांसीसी नियो क्लासिकल प्रभाव में डिजाइन किया गया. जीर्णोद्धार कार्यों की लागत काफ़ी तेजी से बढी और 1829 तक नैश के डिजाइन के व्यापक स्वरूप के परिणाम स्वरूप उनके वास्तुकार के रूप में उन्हें हटाये जाने पर बाध्य कर दिया. 1830 में जॉर्ज IV की मौत पर, उनके छोटे भाई विलियम IV ने उनके काम को पूरा करने के लिये एडवर्ड ब्लोर की सेवा प्राप्त की.[25][26] एक समय, 1834 में मौजूदा नेमशेक के आग से नष्ट हो जाने के बाद, विलियम ने महल को संसद के नये मकानों में तब्दील करने का विचार किया था.[27]

महाराजा का घर[संपादित करें]

महल सी. 1837, जहाँ मार्बल आर्क की कलाकृतियाँ चित्रित हैं, जो महल की सीमाओं के अंदर समारोहों के प्रवेश द्वार के रूप में काम करता है.1847 में निर्मित, इसे ईस्ट विंग के लिए रास्ता निकालने के लिए हटाया गया था, जो चौकोर प्रांगण से सटा हुआ है.

बकिंघम पैलेस आखिरकार 1837 में महारानी विक्टोरिया[28] के गद्दी पर बैठने के बाद, जो इसके बनकर तैयार होने से विलियम IV की मौत के बाद उनकी उत्तराधिकारी के रूप में यहाँ रहने वाली पहली सम्राज्ञी थी, प्रमुख शाही निवास बन गया.[29] जहाँ राजकीय कक्षों रंग और गिल्ट के साथ छेड़छाड़ की गयी थी, नये महल की जरूरी चीजें कुछ हद तक कम आरामदायक थीं. एक चीज जिसके बारे में कहा गया था कि इसकी चिमनी से इतना धुंआ निकलता था कि आग को बुझा देना पडता था, और इसी तरह प्रांगण में बर्फ़ की फ़ुहारें आती थीं.[30] वेंटिलेशन इतना बुरा था कि इंटीरियर से बदबू आती थी और जब गैस लैंप लगाने का फ़ैसला किया गया, तो नीचे के फ़्लोरों पर गैस तैयार करने की गंभीर चिंता उत्पन्न हो गयी. यह भी कहा गया था कि स्टाफ़ नकारा और सुस्त थे और महल गंदा था.[30] 1840 में महारानी की शादी के बाद, उनके पति प्रिंस अल्बर्ट ने स्वयं घर के कार्यालयों और स्टाफ़ के साथ-साथ महल की डिजाइन की त्रुटियों को ठीक करने के लिये इसे पुनः व्यवस्थित करने का विचार किया. 1840 के अन्त तक सभी समस्याएं सुलझा ली गयीं. हालांकि, बिल्डरों को इस दशक के अंदर वापस आना था.

1847 तक इस जोड़ी ने अपने बढते हुए परिवार और दरबारी लाइफ़ के लिये बहुत छोटा महसूस किया[31] और इसके बाद एडवर्ड ब्लोर द्वारा डिजाइन किये गये नए खंड को केन्द्रीय चौकोर को शामिल करते हुए थॉमस क्युबिट[32] द्वारा तैयार किया गया. पूरब का विशाल सामने का हिस्सा द मॉल आज बकिंघम पैलेस का “सार्वजनिक चेहरा” है और इसमें वह बालकनी मौजूद है जहाँ से यादगार अवसरों और वार्षिक रूप से ट्रूपिंग द कलर के बाद शाही परिवार जनसमूह को संबोधित करती है. बालरूम विंग और राजकीय कक्षों का एक अगला सूट भी इसी अवधि के दौरान नैश के एक छात्र सर जेम्स पेनेथोर्न द्वारा तैयार की गयी डिजाइन से बनाया गया.

प्रिंस अलबर्ट की मौत से पहले, यह महल अक्सर संगीतमय मनोरंजन का स्थल था[33] और कई महानतम समकालीन संगीतकारों ने बकिंघम पैलेस में अपना प्रदर्शन किया. कम्पोजर फ़ेलिक्स मेंडेलसोन तीन मौकों पर यहाँ प्रदर्शन करने के लिये जाने जाते हैं.[34] जोहान स्ट्रॉस II और उनके ऑर्केस्ट्रा ने इंगलैंड में रहते हुए यहाँ प्रदर्शन किया.[35] स्ट्रॉस की “एलिस पोल्का” ने 1849 में महारानी की बेटी, राजकुमारी एलिस के सम्मान में पहली बार यहाँ प्रदर्शन किया था.[36] विक्टोरिया के शासन में बकिंघम पैलेस अक्सर नियमित शाही समारोहों, उदघाटनों और प्रस्तुतियों के अलावा भव्य पोशाक प्रदर्शनों का दर्शनीय स्थल था.

1861 में विधवा हुई, शोकाकुल महारानी ने सार्वजनिक जीवन से स्वयं को अलग कर लिया और बकिंघम पैलेस को छोड़कर विंडसर कासल, बालमोरल कासल और ओसबोर्न हाउस में रहने लगीं. कई सालों तक महल का कभी-कभार ही इस्तेमाल किया गया और यहाँ तक कि इसे नज़रअंदाज कर दिया गया था. आखिरकार, जनता के आग्रह पर उन्हें लंदन आना पड़ा, हालांकि तब भी उन्होंने जहाँ भी संभव था कहीं दूसरी जगह रहना पसंद किया. दरबारी कार्यक्रम तब भी महल की जगह विंडसर कासल में ही आयोजित किये जाते थे, जहाँ शोक में डूबी महारानी आदतन उदासी की काली पोशाक पहनकर सभा की अध्यक्षता करती थीं जबकि बकिंघम पैलेस वर्ष भर ज्यादातर बंद ही रहता था.[37]

आंतरिक सज्जा[संपादित करें]

बकिंघम पैलेस का पियानो नोबिल.ए. राजकीय डाइनिंग कक्ष; बी: नीला ड्राइंग कक्ष; सी: संगीत कक्ष; डी: सफ़ेद ड्राइंग कक्ष; ई: रॉयल कोठरी, एफ: सिंहासन कक्ष, जी: ग्रीन ड्राइंगरूम, एच: क्रॉस गैलरी, जे: नृत्य कक्ष, के: पूर्व गैलरी, एल: पीला ड्राइंग रूम, एम: केन्द्र/छज्जा कक्ष, एन: चीनी लंच रूम, ओ: मुख्य गलियारा; पी: निजी अपार्टमेंट; क्यू: सेवा क्षेत्र; डब्ल्यू: विशाल सीढ़ी.भूतल पर: आर: राजदूतों का प्रवेश द्वार; टी: भव्य प्रवेश द्वार.छायांकित दीवारों से परिभाषित क्षेत्र छोटे विंग्स का प्रतिनिधित्व करते हैं.नोट: यह केवल संदर्भ के लिए एक बगैर माप का स्केच प्लान है.कुछ कमरों के अनुपात में वास्तविकता से थोड़ी भिन्नता हो सकती है.

महल का आकार 108 मीटर बटा 120 मीटर है, ऊंचाई 24 मीटर है और इसमें 77,000 वर्गमीटर का फ़्लोर स्पेस (828,818 वर्ग फ़ीट) मौजूद है.[38] महल के मुख्य कक्ष पियानो नोबिल में महल के पिछले हिस्से में पश्चिम की ओर मुख वाले गार्डन फ़ैकेड के पीछे स्थित हैं. राजकीय कक्षों के इस आकर्षक सूट का केंद्र म्यूजिक रूम है जिसकी विशाल बनावट इस फ़ैकेड की सबसे प्रभावशाली विशेषता है. म्यूजिक रूम के पास नीले और सफ़ेद ड्राइंग रूम बने हैं. सूट के केंद्र में, राजकीय कक्षों से जुड़ा एक कारीडोर के रूप में एक पिक्चर गैलरी है, जो टॉप-लिट और 55 यार्ड (50 मीटर) लंबा है.[39] गैलरी में कई कलकृतियां टंगी हुई हैं जिनमें से कुछ रेम्ब्रांट, वैन डैक, रुबेन्स और वर्मीर की हैं;[40][41] पिक्चर गैलरी से लगे अन्य कमरों में राजगद्दी कक्ष और ग्रीन ड्राइंग रूम शामिल है. ग्रीन ड्राइंग रूम राजगद्दी कक्ष के लिये एक विशाल प्रतीक्षालय के रूप में काम करता है और गार्डन की सीढियों के ऊपर गार्ड रूम से राजगद्दी तक समारोह मार्ग का एक हिस्सा है.[39] गार्ड रूम में क्वीन विक्टोरिया और प्रिंस एलबर्ट की सफ़ेद संगमरमर की प्रतिमायें, रोमन कॉस्टयूम में, कशीदे के साथ एक ट्रिब्यून लाइन में सजाई गयी हैं. इन अत्यंत औपचारिक कमरों को केवल समारोहों और आधिकारिक मनोरंजनों के लिये इस्तेमाल किया जाता है, लेकिन प्रत्येक गर्मियों मे जनता के लिये खोल दिया जाता है.

स्टेट अपार्टमेंट के ठीक नीचे सेमी-स्टेट अपार्टमेंट के रूप में थोड़े छोटे ग्रांड रूम्स का एक सूट है. मार्बल हॉल हाल की ओर से खुलने वाले इन कमरों को कम औपचारिक मनोरंजन के लिये जैसे कि लंच पार्टियों और निजी अतिथियों के लिये इस्तेमाल किया जाता है. कुछ कमरों को कुछ विशेष अथितियों के नाम पर रखा और उन्हीं के अनुसार सजाया गया है जैसे कि 1844 रूम , जिसे उसी वर्ष रूस के सम्राट निकोलस I की राजकीय यात्रा के लिये सजाया गया था, और आभार कक्ष के दूसरी तरफ़ 1855 रूम मौजूद है जिसे फ़्रांस के सम्राट नेपोलियन III की यात्रा के सम्मान में तैयार किया गया था.[42] इस सूट के मध्य में आभार कक्ष मौजूद है जहाँ से होकर हजारों अतिथि हर साल क्वींस गार्डन की पार्टियों में गार्डन्स के पार जाते हैं.[43] महारानी उत्तरी विंग में कमरों के एक छोटे सूट का निजी तौर पर इस्तेमाल करती हैं.

प्रिंस अल्बर्ट का संगीत कक्ष, 1887 में महल के छोटे कम औपचारिक कक्षों में से एक

1847 और 1850 के बीच जब ब्लोर नये पूर्वी खंड को तैयार कर रहे थे, ब्राइटन पैविलियन की फ़िटिंग्स एक बार फ़िर नष्ट हो गयी. इसके परिणाम स्वरूप नये खंड में कई कमरों में विशिष्ट प्रकार का ओरिएंटल वातावरण कायम हो गया था. लाल और नीले रंग का चीनी लंच रूम ब्राइटन बैंकटिंग और म्यूजिक रूम के हिस्सों से मिलकर बना है, लेकिन इसमें डब्ल्यू.एम. फ़ीथम द्वारा डिजाइन की गयी एक चिमनी मौजूद है. पीले ड्राइंग रूम में वह वाल पेप्र है जिसे 1817 में बाइटन सैलून के लिये सप्लाई की गयी थी, और इस कमरे में मौजूद चिमनी का पीस चीनी के समतुल्य भयानक पंजों वाले ड्रैगनों और ताखों में ऊंघते मन्दारिनों के साथ एक यूरोपियन विजन है जिसे रॉबर्ट जोन्स द्वारा डिजाइन किया गया था.[44]

महारानी का नाश्ता कक्ष

इस विंग के केंद्र में मशहूर बालकनी मौजूद है, जिसके सीसे के दरवाजों के पीछे सेंटर रूम स्थित है. यह एक चीनी शैली का सैलून है जिसे क्वीन मैरी द्वारा डिजाइनर सर चार्ल्स एलम के साथ मिलकर विकसित किया गया था, जिसने 1920 के दशक के उत्तरार्ध में एक अधिक “बाइंडिंग”[45] चीनी थीम तैयार किया था, हालांकि रोगन लगे दरवाजों को 1873 में ब्राइटन से लाया गया था. पूर्वी खंड के पियानो नोबिल की ओर चलते हुए एक फ़्रेट गैलरी मौजूद है जिसे मुख्य कारीडोर के रूप में बेहतर जाना जाता है, जो चौकोर हिस्से के पूर्वी किनारे की ओर लंबवत जाता है.[46] इसमें सीसे लगे दरवाजे और आइनायुक्त क्रॉस वॉल मौजूद हैं जिसमे पोर्स्लीन पैगोडाज और अन्य ब्राइटन के अन्य ओरिएंटल फ़र्नीचर का प्रतिबिंब हैं. चीनी लंच रूम और पीला ड्राइंग रूम इस गैलरी के हर कोने पर मौजूद हैं जिसमें सेंट्रल रूम जाहिर तौर पर बीच में स्थित है.

मूलतः 19वीं सदी की शुरुआती इंटीरियर डिजाइनें, जिनमें से कई आज भी मौजूद हैं, इसमें सर चार्ल्स लांग की सलाह पर चमकीले रंग के स्काग्लियोला और नीले एवं गुलाबी रंग के लैपिस का व्यापक रूप से उपयोग किया गया है. किंग एडवर्ड VII ने एक बेले एपक क्रीम और सुनहरे रंग की स्कीम में इसकी आंशिक पुनर्सज्जा करवाई थी.[47]

ब्रिटेन की राजकीय यात्रा के समय, राज्य के विदेशी प्रमुखों से महारानी आम तौर पर बकिंघम पैलेस में ही मिलती हैं. उन्हें एक बड़े सूट में ठहराया जाता है जिसे बेल्जियन सूट कहते हैं, जो मिनिस्टर्स स्टेयरकेस के कदमों पर, उत्तर दिशा की मुँह वाले गार्डन विंग के ग्राउंड फ़्लोर पर स्थित है. सूट के कमरे संकीर्ण कारीडोर से जुड़े हुए हैं, जिन्हें सोअन शैली में नैश द्वारा डिजाइन किये गये सॉसर गुम्बदों के जरिये एक अतिरिक्त ऊँचाई और सजावट दी गयी है.[48] सूट में एक दूसरे कारीडोर में एक गोथिक प्रभाव वाला क्रॉस ओवर वॉल्टिंग मौजूद है.[48] बेल्जियन कमरों को स्वयं उन्हीं के द्वारा उनकी वर्तमान शैली में सजाया गया था और इसके नाम प्रिंस अल्बर्ट के चाचा और बेल्जियन्स के पहले राजा लियोपोल्ड I के नाम पर रखे गये थे. हालांकि, उस समय सूट को विशेष तौर पर राज्यों के विदेशी प्रमुखों के लिये सुरक्षित नहीं रखा गया था; 1936 में यह सूट उस समय संक्षिप्त रूप से महल का निजी अपार्टमेंट बन गया जब इसे एडवर्ड VIII द्वारा अधिगृहित कर लिया गया.[49]

दरबारी समारोह[संपादित करें]

बॉलरूम बकिंघम पैलेस में सबसे बड़ा कमरा है.इसे महारानी विक्टोरिया द्वारा जोड़ा गया था और समारोहों जैसे अभिषेकों और राजकीय भोजों के लिए इस्तेमाल किया जाता है.यह तस्वीर 1856 की है.पोलीक्रोम कलर स्कीम की जगह मुख्य रूप से सफ़ेद सजावट के साथ सुनहरे डिटेल्स और लाल रंग के कमरे के साजो-सामान रखे हैं.

दरबारी पोशाक[संपादित करें]

पहले, जो लोग मिलिट्री वर्दी नहीं पहनते थे वे 18वीं सदी के डिजाइन वाले घुटनों तक घुड़सवारी की पोशाक पहनते थे. महिलाओं के सांध्यकालीन पहनावे में अनिवार्य ट्रेंस और मुकुट या बालों में पंख (या दोनों) शामिल थे.

औपचारिक दरबारी पोशाक के लिये आवश्यक ड्रेस कोड और ड्रेस में धीरे-धीरे छूट दी गयी थी. प्रथम विश्व युद्ध के बाद जब महारानी मैरी ने अपनी स्कर्ट को जमीन से कुछ इंच ऊपर उठाकर रखने के फ़ैशन को अपनाने की सोची, उन्होंने पहले एक प्रतीक्षित महिला को उसके अपने स्कर्ट को थोडा छोटा करने के लिये आग्रह किया जिससे कि महाराजा की प्रतिक्रिया देखी जा सके. किंग जॉर्ज V आतंकित रह गये और उनका पहनावा फ़ैशन से दूर नीचे ही रह गया.[50] बाद में, किंग जॉर्ज VI ने अपनी पत्नी क्वीन एलिजाबेथ को दिन के समय इस्तेमाल करनेवाले स्कर्ट को ऊँचा करने की अनुमति दी.

आज कोई आधिकारिक ड्रेस कोड नहीं है.[51] बकिंघम पैलेस में आमंत्रित ज्यादातर लोग दिन में सर्विस यूनिफॉर्म या मॉर्निंग कोट पहनना करते हैं शाम को मौके की नजाकत के अनुसार काली टाई या सफेद टाई पहनना पसंद करते हैं. अगर "सफ़ेद टाई" का मौक़ा होता है, तो महिलाएं अगर उनके पास मौजूद हो, एक मुकुट पहनती हैं.[49]

डेब्युटेंट्स की प्रस्तुति[संपादित करें]

राजा के सामने अभिजातीय लड़कियों की दरबारी प्रस्तुति राजगद्दी कक्ष में होती है. इन लड़कियों को डेब्युटेंट्स के नाम से जाना जाता है, और इस अवसर को-उनका "कमिंग आउट"-.कहा जाता है, जो समाज में उनका पहला प्रवेश होता है. डेब्युटेंट्स संपूर्ण दरबारी पोशाक पहनती हैं, और अपने बालों में तीन लम्बे ऑस्ट्रिच के पंख लगाती हैं. प्रस्तुति के समय वे एक निर्धारित लम्बाई की एक ड्रेस ट्रेन पहने हुए प्रवेश करती हैं, आभार प्रकट करती हैं, कोरियोग्राफ की गयी एक बैकवार्ड वाक का प्रदर्शन करती हैं और फिर से आभार प्रकट करती हैं. (इस समारोह को इवनिंग कोर्ट के नाम से जाना जाता है, पहले के शासन के "कोर्ट ड्राइंग रूम" की तरह होता है).

1958 में, महारानी ने डेब्युटेंटीज[52] के लिए प्रेजेंटेशन पार्टियों का चलन समाप्त कर इनकी जगह गार्डन पार्टियों का चलन शुरू किया.[53] आज थ्रोन रूम का उपयोग औपचारिक संबोधनों के स्वागत के लिए जैसे कि महारानी को उनकी जयन्ती समारोह दिए जाने वाले सम्मान के लिए किया जाता है. यही राजगद्दी के मंच पर शाही शादियों के पोर्ट्रेट और पारिवारिक तस्वीरें ली जाती हैं.

अभिषेक[संपादित करें]

अभिषेक, जिसमें एक तलवार के साथ सामंत की उपाधि प्रदान की जाती है, और अन्य पुरस्कार समारोह महल के नृत्य कक्ष में आयोजित होते हैं, इसे 1854 में बनाया गया था. 36.6 मी. (120.08 फुट) लंबा, 18 मी. (59.06 फुट) चौड़ा और 13.5 मी. (44.29 फुट) ऊँचा (120’ x 59’ x 44’ 3.5”), यह महल का सबसे कमरा है. महत्व और उपयोगिता के मामले में इसने राजगद्दी कक्ष की जगह ले ली है. अभिषेक समारोहों के दौरान, महारानी राजगद्दी के मंच पर एक विशाल, गुम्बद युक्त मखमल के मंडप पर खडी होती हैं, जिसे जिसे शामियाना या बाल्डाचिन कहते हैं और जिसका 1911 में दिल्ली दरबार के राज्याभिषेक में उपयोग किया गया था.[54] जब पुरस्कार प्राप्त करने वाले महारानी की ओर बढते हैं और अपना सम्मान प्राप्त करते हैं, म्युजिशियंस गैलरी में एक मिलिट्री बैंड बजाया जाता है, जिसे उनके परिवार के लोग और दोस्त भी देखते हैं.[55]

राजकीय भोज[संपादित करें]

1870 में विशाल सीढियाँ चढ़ते हुए अतिथिगण.

राजकीय भोज भी नृत्य कक्ष में होते हैं; इस तरह के औपचारिक डिनर किसी राज्य के प्रमुख की राजकीय यात्रा की पहली शाम को आयोजित किये जाते हैं.[55] इन अवसरों पर, 150 या इससे अधिक अतिथि औपचारिक ’सफ़ेद टाई और अन्य सजावट’ के साथ जिसमें महिलाओं का मुकुट भी शामिल है, सोने के प्लेटों में भोजन करते हैं. बकिंघम पलिलेस में सबसे बडा और सबसे औपचारिक स्वागत समारोह प्रत्येक नवंबर को आयोजित होता है, जब महारानी लंदन में रहनेवाले विदेशी राजनैतिक समूह के सदस्यों से मिलती हैं.[56] इस अवसर पर, सभी राजकीय कक्षों का इस्तेमाल किया जाता है जब शाही परिवार पिक्चर गैलरी के विशाल उत्तरी दरवाजों से शुरु करते हुए उनके बीच से होकर गुजरता है.[57] जैसा कि नैश ने परिकल्पना की थी, सभी बडे, दोहरे सीसे वाले दरवाजे खुले रहते हैं जहाँ से अनेकों क्रिस्टल कैंडलों और स्कोंसेस प्रतिबिंबित होता है जिससे स्पेस और लाइट का मनमोहक दृश्य दिखाई पडता है.

अन्य समारोह और आयोजन[संपादित करें]

छोटे आयोजन जैसे कि नये राजदूत का स्वागत समारोह “1844 रूम” में आयोजित किया जाता है. यहाँ भी महारानी छोटी-छोटी लंच पार्टियों और अक्सर प्राइवी काउंसिल के सम्मेलनों में हिस्सा लेती हैं. बड़ी लंच पार्टियाँ अक्सर घुमावदार और गुंबद युक्त संगीत कक्ष या राजकीय डाइनिंग रूम में आयोजित की जाती हैं. समस्त औपचारिक अवसरों पर समारोहों में यूमेन ऑफ गार्ड अपने ऐतिहासिक यूनिफॉर्म में, और दरबार के अन्य अधिकारीगण जैसे कि लॉर्ड चैंबरलैन शामिल होते हैं.[58]

द्वितीय विश्व युद्ध में जब से पैलेस चैपेल पर बम गिराया गया था, शाही नामकरण समारोह कभी-कभी म्यूजिक रूम में आयोजित किये जाते हैं. महारानी के पहले तीन बच्चों का नामकरण यहीं पर, एक विशेष गोल्ड फॉण्ट में हुआ था.[59] प्रिंस विलियम्स का नामकरन भी म्यूजिक रूम में हुआ था; हालांकि उनके भाई प्रिंस हैरी का नामकरण सेंट जॉर्जेज चैपल, विंडसर में किया गया था.

वर्ष के सबसे बडे समारोह महारानी की गार्डन पार्टियाँ हैं जिनमें 8,000 तक आमंत्रित अतिथि गार्डन में आते हैं.

आधुनिक इतिहास[संपादित करें]

बकिंघम पैलेस का परिदृश्य, 1909

1901 में एडवर्ड VII के राजतिलक के समय महल में एक नयी जिंदगी की सांस उभरी. नये राजा और उनकी पत्नी क्वीन एलेक्जेंड्रा लंदन की हाई सोसाइटी में हमेशा अगली कतार में रहते थे और उनके मित्र जिन्हें “मार्लबोरो हाउस सेट” के रूप में जाना जाता था, उन्हें इस युग के सबसे प्रतिष्ठित और फ़ैशनेबल समझा जाता था. बकिंघम पैलेस – जिसके बॉल रूम, विशाल प्रवेश द्वार, मार्बल हॉल, विशालकाय जीने, गलियारे और गैलरियों को बेल एपक क्रीम और सुनहरे रंगों में पुनः सज्जा की गयी थी, ये आज भी मौजूद हैं – एक बार फ़िर भव्य स्तर पर मनोरंजन के लिये तैयार हो गये हैं. कई लोग यह महसूस करते हैं कि किंग एडवर्ड द्वारा करवायी गयी महल की भारी पुनः सज्जा नैश के वास्तविक प्रयासों के समपूरक नहीं है.[60] हालांकि, सौ सालों के बाद भी इन्हें कायम रहने दिया गया है.

The east front of Buckingham Palace was completed in 1850, seen here in 1910
...it was remodelled to its present form in 1913.

आखिरी प्रमुख निर्माण कार्य किंग जॉर्ज V के शासन के दौरान कराया गया था जब 1913 में सर एस्टन वेब ने ब्लोर के 1850 ईस्ट फ़्रंट को दुबारा डिजाइन कर चेशायर में गाइकोमो लियोनीज लाइम पार्क को कई हिस्सों में बाँट दिया था. इस नये, दुबारा तैयार किये गये प्रमुख गृह मुख (पोर्टलैंड स्टोन के) को विक्टोरिया मेमोरियल की पृष्ठभूमि के रूप में डिजाइन किया गया था, जो महारानी विक्टोरिया की एक विशाल यादगार प्रतिमा है, जिसे मुख्य दरवाजों के बाहर स्थापित किया गया है.[61] जॉर्ज V जिन्होंने 1910 में एडवर्ड VII को अपना उत्तराधिकार दिया था, अपने पिता से कहीं अधिक गंभीर व्यक्तित्व के थे, उन्होंने अपना ज्यादा जोर मनोरंजक पार्टियों की जगह आधिकारिक मनोरंजन और शाही जिम्मेदारियों पर दिया.[62] उन्होंने कमांड प्रदर्शनों की एक श्रृंखला की व्यवस्था की जिनमें जैज़ संगीतकारों जैसे कि ओरिजिनल डिक्सीलैंड जैज़ बैंड (1919) – किसी राज्य प्रमुख के लिये पहला जैज़ प्रदर्शन, सिडनी बेचेट, और लुइस आर्मस्ट्रांग (1932) जिसने 2009 में महल को ब्रेकन जैज़ महोत्सव द्वारा एक (तरह का) ब्लू प्लेक के लिये एक ऐसे स्थल के रूप में नामित किया जो इसे युनाइटेड किंगडम में जैज संगीत के लिये सबसे बड़ा योगदान बनाता है.[63][64] जॉर्ज V की पत्नी क्वीन मैरी कला की एक पारखी थीं और जिन्होंने फ़र्नीचर और कलाकृतियों के शाही संग्रह, सुरक्षित रखने और इसमें नयी चीजें जोड़ने में गहरी रुचि ली. क्वीन मैरी ने कई नये फ़िक्स्चर और फ़िटिंग्स स्थापित किये थे जैसे कि 1810 के बेंजामिन वुलियमी द्वारा तैयार एम्पायर-शैली के चिमनीपीसेस के संगमरमर के जोडे, जिन्हें महारानी ने बो रूम के ग्राउंड फ़्लोर में स्थापित किया था, जो गार्डन फ़ैकेड के बीच में एक विशाल निचला कक्ष है. क्वीन मैरी को नीले ड्राइंग रूम की सजावट का भी श्रेय जाता है.[65] यह कक्ष 69 फ़ीट (21 मीतर) लंबा है, जिससे पहले दक्षिणी ड्राइंग रूम के रूप में जाना जाता था, जिसमें विशेषकर विशाल गिल्ट कंसोल ब्रैकेट के साथ नैश द्वारा डिजाइन की गयी एक छ्त मौजूद है.[66]

रॉयल कलेक्शन विभाग द्वारा 1999 में प्रकाशित एक पुस्तक में यह कहा गया है कि महल में 19 राजकीय कक्ष, 52 प्रमुख बेडरूम, 188 स्टाफ़ बेडरूम, 92 कार्यालय, और 78 बाथरूम मौजूद हैं.[67] जबकि यह काफ़ी बडा लगता है, लेकिन जब इसकी तुलना सेंट पीटर्सबर्ग के रूसी इम्पीरियल महलों और रोम के पैपल पैलेस, सार्स्कू सेलो, मैड्रिड के रॉयल पैलेस, स्टॉकहोम पैलेस या मूलतः पूर्व व्हाइटहॉल पैलेस से की जाती है तो यह छोटा ही नज़र आता है, और फॉरबिडन सिटी एवं पोटाला पैलेस से तुलना किये जाने पर तो यह बहुत ही छोटा हो जाता है. महल के अपेक्षाकृत छोटा होने की बेहतर सराहना संभवतः भीतरी चौकोर हिस्से को देखते हुए की जा सकती है. 1938 में एक छोटा बदलाव किया गया था जिसमें नैश द्वारा एक कला विद्यालय के रूप डिजाइन किया गया उत्तरी-पश्चिमी पैविलियन और 1911-13 में बदला गया एक रैकेट्स दरबार, जिसे एक स्वीमिंग पूल में तब्दील कर दिया गया था.

विक्टोरिया मेमोरियल मूर्तिकार सर थॉमस ब्रोक द्वारा 1911 में बनाया गया था और यह बकिंघम पैलेस में मुख्य द्वारों के सामने खड़ा वास्तुकार सर एस्टन वेब द्वारा निर्मित आहाते पर स्थित है.

प्रथम विश्व युद्ध के दौरान महल, जो उस समय किंग जॉर्ज V और क्वीन मैरी का घर था, सुरक्षित बच गया था. इसकी अधिक बहुमूल्य सामग्रियों को विंडसर ले जाया गया था लेकिन शाही परिवार सिटु में ही रहा. राजा ने महल में दैनिक भोजन की व्यवस्था करवाई, जिससे उनके अतिथियों और परिवारों को गहरी निराशा हुई.[68] बाद में राजा के पछतावे पर, डेविड लायड जॉर्ज ने उन्हें भडकीले ढंग से शराब के तहखानों को बंद करने और अल्कोहल से बचने के लिये मनाया, जिससे कि मदोन्मत श्रमिक वर्ग के सामने संभावित रूप से एक बेहतर उदाहरण पेश किया जा सके. श्रमिक शराब का सेवन करते रहे और राजा अपने मजबूरन संयम से नाखुश रहे.[69]

द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान को सबसे बुरा आघात सहना पडा; इसपर कम से कम साथ बार बम गिराया गया, जिसमें सर्वाधिक गंभीर और प्रचारित घटना 1940 में पैलेस चैपल का नष्ट होने की थी. इस घटना की कवरेज संपूर्ण इंग्लैंड में सिनेमा के जरिये अमीर और गरीब की एक जैसी मुश्किल के रूप में की गयी. एक बम महल के चौकोर हिस्से में उस समय गिरा जब किंग जॉर्ज VI और क्वीन एलिजाबेथ आवास में मौजूद थे, और कई खिडकियां जलकर खाक हो गयीं और चैपल नष्ट हो गया.[70] हालांकि उन घटनाओं की युद्ध कालीन कवरेज पूरी तरह प्रतिबंधित कर दी गयी थी. राजा और रानी को अपने बम से नष्ट हुए घर का निरीक्षण करते हुए फ़िल्माया गया, हमेशा की तरह मुस्कुराती हुई महारानी, हैट और इससे मिलते-जुलते कोट में एक सटीक पहनावे में दिखाई जो अपने आस-पास हुई भारी क्षति से बेपरवाह दिखाई दे रही थीं. यही वह मौका था जब महारानी ने एक मशहूर घोषणा की: “मैं खुश हूँ कि हम पर बम गिराया गया. अब मैं ईस्ट इंड को सामने देख सकती हूँ”. द संडे ग्राफ़िक की रिपोर्ट के अनुसार शाही परिवार अपने मुश्किलों के बारे में चर्चा करते हुए दिखाई दे रहा था.

By the Editor: The King and Queen have endured the ordeal which has come to their subjects. For the second time a German bomber has tried to bring death and destruction to the home of Their Majesties...When this war is over the common danger which King George and Queen Elizabeth have shared with their people will be a cherished memory and an inspiration through the years.[71]

15 सितंबर 1940 को एक आरएएफ़ (RAF) पायलट रे होम्स ने महल को बम से उडाने की कोशिश में एक जर्मन विमान को अपने कब्जे में कर लिया.[72] होम्स के पास आग्नेयास्त्र नहीं थे और उसने इसे नष्ट करने का एक जल्दबाजी वाला तरीका सोचा. दोनों विमान एक दूसरे से टकरा गये जबकि दोनों के पायलट सुरक्षित बच गये थे, इस घटना को फ़िल्म में दिखाया गया था. बाद में विमान के इंजिन को लंदन के इम्पीरियल युद्ध संग्रहालय में प्रदर्शनी के लिये रख दिया गया. युद्ध के बाद ब्रिटिश पायलट महाराजा के संदेशवाहक बन गए और 2005 में 90 साल की आयु में उनकी मौत हुई.[73]

वीई (VE) दिवस – 8 मई 1945 – को महल ब्रिटिश समारोहों का केंद्र था, जिसमें राजा, रानी और राजकुमारी एलिजाबेथ, भावी महारानी, और राजकुमारी मार्गरेट बालकनी में, महल की काली की गयी खिडकियों के सामने, मॉल में एक विशाल जनसमूह का अभिवादन करते हुए दिखाई दिये.[74]

तकरीबह 40 सालों के बाद चार्ल्स डिकेंस द्वारा रिकार्ड किये गये अनुसार बालक जोन्स एक अतिक्रमी थे जिसे 1838 और 1841 के बीच तीन बार महल में प्रवेश का मौका मिला.[75] 1982 में, माइकल फ़ैगन महल में दो बार प्रवेश करने में सफल रहे, और इनमें से एक बार महारानी से बातचीत करने का मौका हासिल किया.[76] कथित रूप से महारानी ने अपना आत्मसंयम कायम रखा जबकि महल की पुलिस उसका पीछा करती रही और फ़ागन ने महारानी की ओर कोई धमकाने वाला प्रयास नहीं किया.

गार्डन, शाही घुड़साल और मॉल[संपादित करें]

बकिंघम पैलेस का पश्चिमी गृह द्वार, बाथ स्टोन के सामने, जिसे पैलेस गार्डंस से देखा जा सकता है.
For more details on this topic, see Buckingham Palace Garden.

महल के एक पिछले हिस्से में, अपनी झीलों के साथ एक विशाल और पार्क के जैसा गार्डन मौजूद है, जो लंदन से सबसे बडे निजी गार्डनों में से एक है.[77] यहाँ महारानी हर साल अपनी सालाना गार्डन पार्टियों और शाही यादगार पलों जैसे कि जन्मदिन मनाने के लिये विशाल समारोहों का भी आयोजन करती हैं. कैपेबिलिटी ब्राउन द्वारा मूलतः प्राकृतिक दृश्यों से तैयार, इस गार्डन को क्यू गार्डन्स के विलियम टाउनसेंड एटन और जॉन नैश द्वारा पुनः डिजाइन किया गया था. कृत्रिम झील को 1828 में बनाकर तैयार किया गया था और इसमें सर्पेंटाइन नदी से पानी की सप्लाई की गयी थी, जो हाइड पार्क से होकर गुजरती है.

महल से सटे शाही घुड़साल मौजूद है जिसे नैश द्वारा डिजाइन किया गया था, जहाँ गोल्ड स्टेट कोच सहित शाही सवारियाँ रखी गयी हैं. इस रोकोको गिल्ट कोच को 1760 में सर विलियम चैंबर्स द्वारा डिजाइन किया गया था, जिसमें जी.बी. सिप्रियानी द्वारा किया गया पेंट पैनल मौजूद है. इसे पहली बार 1762 में जॉर्ज III द्वारा संसद के राजकीय उदघाटन के लिये उपयोग किया गया था और इसे राजा द्वारा केवल राज्याभिषेकों या जयंती समारोंहों के लिये इस्तेमाल किया जाता है.[78] घुड़साल में शाही समारोहों के क्रम में उपयोग किये गये रथों के घोड़े भी रखे गये हैं.[79]

मॉल, जो समारोहों के दौरान महल में जाने का रास्ता है, इसे सर एस्टन वेब द्वारा डिजाइन किया गया था और 1911 में महारानी विक्टोरिया की भव्य स्मृति के एक हिस्से के रूप में पूरा किया गया था. यह एडमाइराल्टी आर्च, विक्टोरिया मेमोरियल के आस-पास, कनाडा गेट, दक्षिण अफ़्रीका गेट और ऑस्ट्रेलिया गेट से घिरा, महल का फ़ोरकोर्ट है. इस मार्ग का उपयोग यहाँ आने वाले सभी राज्यों के प्रमुख और राजकीय अवसरों जैसे कि संसद की सालाना राजकीय शुरुआत के साथ-साथ हर साल ट्रूपिंग द कलर के मौके पर शाही परिवार की शोभायात्राओं और गाड़ियों के काफ़िले द्वारा किया जाता है.

21वीं सदी: शाही उपयोग और सार्वजनिक पहुँच[संपादित करें]

1986 में बालकनी में शाही परिवार

हर साल तकरीबन 50,000 आमंत्रित अतिथियों का स्वागत गार्डन पार्टियों, स्वागतों, दर्शकों और दावतों के जरिये किया जाता है. गार्डन पार्टियाँ जो आम तौर पर तीन होती हैं, गर्मियों में सामान्यतः जुलाई में आयोजित की जाती हैं. बकिंघम पैलेस के फ़ोरकोर्ट को चेंजिंग ऑफ गार्ड के लिये उपयोग किया जाता है, जो एक भव्य समारोह और पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र है (गर्मियों के महीनों मे प्रतिदिन; सर्दियों में हर दूसरे दिन).

विंडसर कासल की तरह ही महल पर ब्रिटिश राज्य का स्वामित्व है. यह सैंड्रिंघम हाउस और बालमोरल कासल की तरह राजा की व्यक्तिगत संपत्ति नहीं है. बकिंघम पैलेस, विंडासर कासल, केंसिंग्टन पैलेस और सेंट जेम्स पैलेस की कई सामग्रियाँ सामूहिक रूप से शाही संग्रह के रूप में जानी जाती हैं; राजा के स्वामित्व की चीजों को, कई मौकों पर, रॉयल घुड़साल के निकट क्वीन्स गैलरी में सार्वजनिक तौर पर देखा जा सकता है. महल और कासल के विपरीत गैलरी निरंतर खुली रहती है और संग्रह से चुनी हुई सामग्रियों की प्रदर्शनी यहाँ अदल-बदल कर लगायी जाती है. क्वींस गैलरी में मौजूद कमरे पूर्व चैपल की साइट पर स्थित हैं, जिसे द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान महल पर गिराये गये सात बमों से एक द्वारा नष्ट कर दिया गया था. महल के राजकीय कक्षों को 1993 के बाद से अगस्त और सितंबर के दौरान सार्वजनिक तौर पर खोल दिया जाता है. प्रवेश शुल्क के रूप में जुटायी गयी राशि को 1992 के उस अग्निकांड के बाद मूलतः विंडसर कासल के पुनर्निर्माण के लिये दिया गया था, जिसमें इसके कई राजकीय कक्ष नष्ट कर दिये गये थे.

मई 2009 में महल की मरम्मत के एक पिछ्ले शेष कार्य के लिये शाही परिवार द्वारा सरकार से घन के आग्रह के बाद, सार्वजनिक लेखा समिती के सांसदों (MPs) के एक समूह ने यह प्रस्ताव दिया कि आग्रह किये गये 4 मिलियन पाउंड के अतिरिक्त सालाना फ़ंड के बदले, महल को मौजूदा के 60 दिनों और जब शाही परिवार आवास में मौजूद रहता है, इससे ज्यादा समय के लिये सार्वजनिक रूप से खोला जाना चाहिये.[80] ब्रिटिश सरकार वर्तमान में महल की प्रगति के लिये प्रति वर्ष 15 मिलियन पाउंड की राशि प्रदान करती है.

इस प्रकार, बकिंघम पैलेस ब्रिटिश राजशाही का घर और एक प्रतीक, एक आर्ट गैलरी एवं पर्यटकों कए आकर्षण का केंद्र बन गया है. भव्य रेलिंगों और दरवाजों के पीछे जिसे ब्रोम्सग्रोव गिल्ड[37] द्वारा तैयार किया गया था और वेब का मशहूर फ़ैकेड है जिसका रॉयल कलेक्शन द्वारा प्रकाशित एक पुस्तक में “एक महल के लिये हर किसी की कल्पना जैसा” के रूप में उल्लेख किया गया है,[37] ना केवल महारानी और प्रिंस फ़िलिप का सप्ताह के दिनों का घर है बल्कि ड्यूक ऑफ यॉर्क एवं आर्ल और वेसेक्स की बेगम का भी लंदन का निवास है. महल शाही परिवारों का कार्यालय और 450 लोगों का कार्यस्थल भी है.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • बकिंघम पैलेस में झंडे
  • ब्रिटिश शाही निवासों की सूची

टिप्पणियाँ[संपादित करें]

  1. पारंपरिक तौर पर ब्रिटिश रॉयल कोर्ट आज भी सेंट जेम्स पैलेस में मौजूद है. जब विदेशी राजदूत अपना पद संभालने आते हैं उन्हें ब्रिटिश राजा द्वारा बकिंघम पैलेस में पदभार ग्रहण कराया जाता है, वास्तव में वे सेंट जेम्स पैलेस के दरबार" से मान्यता प्राप्त करते हैं. यह असंगति परम्परा के लिए चलाई जा रही है क्योंकि बकिंघम पैलेस अपने सभी इरादों और मकसदों से एक आधिकारिक निवास है. देखें सेंट जेम्स पैलेस का इतिहास (रॉयल वेबसाइट).
  2. रॉबिन्सन, पी. 14
  3. गोरिंग. पी. 15
  4. साइट की भौगोलिक स्थिति और इसके स्वामित्व की चर्चा राईट, 1-4 अध्यायों में की गयी है.
  5. गोरिंग. पी. 28
  6. गोरिंग. पी. 18
  7. द एक्विजिशन ऑफ द एस्टेट , सर्वे ऑफ लंदन: खंड 39: द ग्रॉसवेनर एस्टेट इन मायफेयर, पार्ट 1 (सामान्य इतिहास) (1977), पीपी. 1-5. पहुँच की तिथि: 3 फरवरी 2009
  8. राइट, पीपी 76-8.
  9. गोरिंग. पीपी. 31 और 36
  10. औडली और डेविस, एबरी मैनर और ग्रॉसवेनर एस्टेट के विकास में मुख्य चेहरे थे (देखें ड्यूक्स ऑफ वेस्टमिंस्टर), जो आज भी मौजूद हैं. (इन्हें नॉर्थ औडली स्ट्रीट, साउथ औडली स्ट्रीट, और डेविस स्ट्रीट जैसे सड़कों के नाम से याद किया जाता है, सभी मायफेयर में हैं.)
  11. राइट, पी. 83
  12. गोरिंग. अध्याय V
  13. हैरिस, पी.21
  14. राइट, पी. 96
  15. गोरिंग. पी. 62
  16. गोरिंग. पी. 58
  17. हैरिस, पी. 22
  18. नैश, पी. 18, हालांकि खरीद मूल्य राइट द्वारा पी. 142 में 28,000 पाउंड के रूप में दिया गया है.
  19. UK CPI inflation numbers based on data available from Lawrence H. Officer (2010) "What Were the UK Earnings and Prices Then?" MeasuringWorth.
  20. 1775 में, संसद के अधिनियम के अनुसार संपत्ति का अधिकार क्वीन चारलोट को उनके समरसेट हाउस के अधिकारों के बदले में दिया गया (देखें ओल्ड एंड न्यू लंदन (नीचे)
  21. वेस्टमिन्स्टर: बकिंघम पैलेस , ओल्ड एंड न्यू लंदन : अंक 4 (1878), पीपी (61-74). पहुँच की तिथि: 3 फ़रवरी, 2009. परम्परा के अनुसार विदेशी राजदूत "सेंट जेम्स के दरबार" से मान्यता प्राप्त करते हैं हालांकि यह बकिंघम पैलेस में है जहाँ वे अपनी नियुक्ति के समय अपने क्रेडेंशियल्स और स्टाफ को महाराने के समक्ष प्रस्तुत करते हैं.
  22. हैरिस, पी.24
  23. हैरिस, पीपी. 30-31
  24. जोन्स, पी. 42
  25. हैरिस, पी. 33
  26. "The Royal Residences > Buckingham Palace > History". www.royal.gov.uk. http://www.royal.gov.uk/output/Page568.asp. अभिगमन तिथि: 2 February 2009. 
  27. Ziegler, Phillip (1971). King William IV. Collins. प॰ 280. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-00-211934-X.. 
  28. "The Royal Residences > Buckingham Palace". www.royal.gov.uk. http://www.royal.gov.uk/output/page555.asp. अभिगमन तिथि: 2 February 2009. 
  29. हेडली, पी. 10
  30. वुडहैम-स्मिथ, पी. 249
  31. हैरिस, डी बेलैग एंड मिलर पी.33
  32. हॉलैंड एंड हैनेन एंड क्युबिट्स - द इंसेप्शन एंड डेवलपमेंट ऑफ ए ग्रेट बिल्डिंग फर्म प्रकाशित 1920 पी. 35
  33. हेडली, पी. 19
  34. हीली, पीपी. 137-138
  35. हीली, पी. 122
  36. एलेन के भारतीय मेल, और ब्रिटिश और विदेशी भारत, चीन और पूरब के सभी हिस्से का रजिस्टर. 1850, वॉल्यूम. VIII. गूगल बुक लिंक
  37. रॉबिन्सन, पी. 9
  38. [1] फ्लोरस्पेस के लिए संदर्भ.
  39. हैरिस, पी. 41
  40. हैरिस, पीपी.78-79
  41. हीली, पीपी. 387-388
  42. हैरिस, पी. 81
  43. हैरिस, पी. 40
  44. हीली, पीपी. 159-160
  45. हैरिस, डी बेलैग एंड मिलर; पी. 93
  46. हैरिस, डी बेलैग एंड मिलर; पी. 91
  47. जोन्स, पी. 43
  48. हैरिस, पी. 82.
  49. 40 फैक्ट्स एबाउट बकिंघम पैलेस (रॉयल इनसाइट: द ब्रिटिश मोनार्की मीडिया सेंटर) 3 फ़रवरी 2009 को पहुँचा
  50. हीली पी. 233, द मेमोयर्स ऑफ मैबेल, काउंटलेस ऑफ एयरली , जेनिफर एलिस द्वारा संपादित और व्यवस्थित, लंदन: हचिन्सन, 1962
  51. सलाह एचएम के प्रतिनिधियों द्वारा दी गयी थी.
  52. "Mailbox". Royal Insight Magazine. http://www.royal.gov.uk/output/page5299.asp. अभिगमन तिथि: 25 May 2007. 
  53. दिवंगत राजकुमारी मार्गरेट डेब्युटेंट प्रस्तुतियों की आलोचना के लिए प्रतिष्ठित हैं: "हमें इस पर रोक लगाना ही था, लंदन की हर वेश्या इसमें शामिल हो रही थी." देखें ब्लेकी, थॉमस (2002). यू लुक ऑफुली लाइक द क्वीन: विट एंड विजडम फ्रॉम द हाउस ऑफ विंडसर . लंदन: हार्पर कोलिन्स. आईएसबीएन (ISBN) 0-00-714874-7
  54. हैरिस, पी. 72
  55. हीली, पी. 364
  56. हीली, पी. 362
  57. हेडली, पी. 16
  58. हीली, पीपी. 363-365
  59. रॉबिन्सन, पी. 49
  60. रॉबिन्सन (पृष्ठ 9) दृढ़ता पूर्वक कहते हैं कि सजावट के साथ-साथ प्लास्टर की बहुमूल्य सामग्रियाँ और सजावटी नमूने, सभी "तुनकमिजाजी" हैं और नैश के मूल विवरणों से में नहीं खाते.
  61. हैरिस, पी. 34
  62. हीली, पी. 185
  63. "Buckingham Palace hits right note with jazz fans". London Evening Standard. Thisislondon.co.uk. 3 August 2009). http://www.thisislondon.co.uk/standard/article-23727267-buckingham-palace-hits-right-note-with-jazz-fans.do. अभिगमन तिथि: 11 August 2010. 
  64. Stephen Bates. "Bates, Stephen, "By royal approval: Buckingham Palace's place in jazz history" ''The Guardian'' (August 3, 2009". Guardian. http://www.guardian.co.uk/music/2009/aug/03/buckingham-palace-jazz-plaque-brecon. अभिगमन तिथि: 11 August 2010. 
  65. हीली, पीपी. 221-222
  66. हैरिस, पी. 63
  67. रॉबिन्सन, पी. 11
  68. Rose, Kenneth (1983). King George V. London: Weidenfeld and Nicolson. pp. 176–177. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0297782452. 
  69. रोज, पीपी 178-179.
  70. Thornton, Michael (1984). Royal Feud. M.Joseph. प॰ 216. 
  71. The Sunday Graphic, 18 September 1939, p. 1
  72. ""पायलट हू 'सेव्ड पैलेस' ऑनर्ड"" 2 नवम्बर 2005, बीबीसी न्यूज . 25 अप्रैल 2007 को पुनः प्राप्त.
  73. "Pilot who 'saved Palace' honoured". BBC news website (British Broadcasting Corporation (BBC)). 2 November 2005. http://news.bbc.co.uk/1/hi/england/leicestershire/4398484.stm. अभिगमन तिथि: 18 March 2009. 
  74. 1945: रीज्वाइसिंग एट इंड ऑफ वार इन यूरोप (बीबीसी ऑन दिस डे ). 3 फ़रवरी 2009 को पुनः प्राप्त
  75. डिकेंस, चार्ल्स (5 जुलाई 1885) "द ब्वाय जोन्स", ऑल द ईयर राउंड , पीपी. 234-37.
  76. गॉड सेव द क्वीन, फास्ट स्पेंसर डेविडसन और आर्थर व्हाइट टाइम मैगज़ीन 26 जुलाई 1982, 3 फ़रवरी, 2009 को पहुँचा.
  77. बकिंघम पैलेस (लंदन के संग्रहालय). 3 फ़रवरी 2009 को पुनः प्राप्त
  78. "Kid's Zone:The Gold State Coach". The official website of the British Monarchy. http://www.royal.gov.uk/output/page1210.asp. अभिगमन तिथि: 25 May 2007. 
  79. "The Royal Residences > The Royal Mews". www.royal.gov.uk. http://www.royal.gov.uk/output/page556.asp. अभिगमन तिथि: 2 February 2009. 
  80. Pierce, Andrew (30 May 2009). "Queen must open palace more in return for extra funds". The Daily Telegraph (London). http://www.telegraph.co.uk/news/newstopics/theroyalfamily/5407953/Queen-must-open-palace-more-in-return-for-extra-funds.html. अभिगमन तिथि: 4 June 2009. 

संदर्भ[संपादित करें]

  • ब्लेकी, थॉमस (2002). यू लुक औफ़ुली लाइक द क्वीन: विट एंड विज़डम फ्रॉम द हाउस औफ़ विंडसर . लंदन: हार्पर कोलिन्स. आईएसबीएन (ISBN) 0-00-714874-7
  • गोरिंग, ओ.जी.(1937). फ्रॉम गोरिंग हाउस टू बकिंघम पैलेस . लंदन; अय्यर निकोल्सन और वाटसन
  • हैरिस, जॉन, बेलैग, ज्योफ्री; एंड मिलर, ओलिवर (1968). बकिंघम पैलेस लंदन: नेल्सन. आईएसबीएन (ISBN) 0-7-141011-4
  • हीली, एडमा (1997). द क्वींस हाउस: ए सोशल हिस्ट्री ऑफ बकिंघम पैलेस . लंदन: पेंगुइन समूह. आईएसबीएन (ISBN) 0718170893
  • हेडली, ओल्वेन (1971) द पिक्टोरियल हिस्ट्री ऑफ बकिंघम पैलेस . पिटकिन, आईएसबीएन (ISBN) 0-85372 086-X
  • Jones, Nigel R. (2005). Architecture of England, Scotland, and Wales. Greenwood Publishing Group. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0313318506. 
  • नैश, रॉय (1980). बकिंघम पैलेस: द प्लेस एंड द पीपुल . लंदन: मैकडोनाल्ड फ्यूच्युरा. आईएसबीएन (ISBN) 0354045296
  • रॉबिन्सन, जॉन मार्टिन (1999). बकिंघम पैलेस . द रॉयल कलेक्शन द्वारा प्रकाशित, सेंट जेम्स पैलेस, लंदन आईएसबीएन (ISBN) 1-902163-36-2.
  • विलियम्स, नेविले (1971). रॉयल होम्स . लुटरवर्थ प्रेस. आईएसबीएन (ISBN) 0-7188-0803-7
  • वुडहैम-स्मिथ, सेसिल (1973). क्वीन विक्टोरिया (Vol 1) हामिश हैमिल्टन लिमिटेड.
  • राइट, पेट्रीसिया (1999; सबसे पहले 1996 में प्रकाशित). द स्ट्रेंज हिस्ट्री ऑफ बकिंघम पैलेस . स्ट्रौड, ग्लोक्स.: सटन प्रकाशन लिमिटेड. आईएसबीएन (ISBN) 0-7509-1283-9

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]

Erioll world.svgनिर्देशांक: 51°30′04″N 0°08′31″W / 51.501, -0.142