बंगलौर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(बंगलुरू से अनुप्रेषित)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
बेंगलुरु (ಬೆಂಗಳೂರು)
बंगलौर (शिफा का शहर)
—  महानगर  —
विधान सौध
विधान सौध
समय मंडल: आईएसटी (यूटीसी+५:३०)
देश Flag of India.svg भारत
क्षेत्र बयालुसीमे
राज्य कर्नाटक
ज़िला बंगलौर शहरी
आयुक्त डॉ.आर सुब्रह्मण्य
जनसंख्या
घनत्व
84,25,970 (3rd) (2011 के अनुसार )
• 11,371 /कि.मी. (29,451 /वर्ग मी.)
क्षेत्रफल
ऊँचाई (AMSL)
741 कि.मी² (286 वर्ग मील)[1]
• 920 मीटर (3,018 फी॰)

Erioll world.svgनिर्देशांक: 12°58′00″N 77°34′00″E / 12.966667, 77.566667

बंगलौर या बेंगलूरु (कन्नड़: ಬೆಂಗಳೂರು; उच्चारण: ['beŋgəɭuːru]) भारत के राज्य कर्नाटक की राजधानी है। बंगलौर की जनसंख्या लगभग 61 लाख है और यह भारत का पांचवा सबसे बडा शहर है। इस शहर को भारत की सूचना प्रौद्योगिकी की राजधानी कहते हैं। यहाँ साफ्टवेयर तथा संगणक (कम्प्यूटर) से सम्बन्धित अनेकानेक प्रतिष्ठान (कम्पनियां) स्थित हैं। 1 नवंबर 2006 को शहर का नाम आधिकारिक रूप से बदलकर बेंगलूरु कर दिया गया है।

बंगलौर कर्नाटक का सबसे बड़ा शहर है। यहाँ पर कन्नड़ बोली जाती है । बहुत से लोग एक से ज़्यादा भाषा बोलते हैं । एक अनुमान के अनुसार बंगलौर में ५१% से ज़्यादा लोग भारत के विभिन्न हिस्सों से आ कर बसे हैं ।

इतिहास[संपादित करें]

पुराणों में इस स्थान को कल्याणपुरी या कल्याण नगर के नाम से जाना जाता था। अंग्रेजों के आगमन के पश्चात ही बंगलौर को अपना यह अंग्रेज़ी नाम मिला।

बेगुर के पास मिले एक शिलालेख से ऐसा प्रतीत होता है कि यह जिला 1004 ई० तक, गन्गा राजवंश का एक भाग था। इसे बेंगा-वलोरू के नाम से जाना जाता था, जिसका अर्थ प्राचीन कन्नड़ में "रखवालों का नगर" होता है। सन् 1015 से 1116 तक तमिलनाडु के चोल शासकों ने यहाँ राज किया जिसके बाद इसकी सत्ता होयसल राजवंश के हाथ चली गई । ऐसा माना जाता है कि आधुनिक बंगलौर की स्थापना सन 1537 में विजयनगर साम्राज्य के दौरान हुई थी । विजयनगर साम्राज्य के पतन के बाद बंगलौर के सत्ता की बागडोर कई बार बदली। मराठा सेनापति शाहाजी भोंसले के अघिकार में कुछ समय तक रहने के बाद इस पर मुग़लों ने राज किया। बाद में जब 1689 में मुगल शासक औरंगजेब ने इसे चिक्काराजा वोडयार को दे दिया तो यह नगर मैसूर साम्राज्य का हिस्सा हो गया। कृष्णराजा वोडयार के देहांत के बाद मैसूर के सेनापति हैदर अली ने इस पर 1759 में अधिकार कर लिया। इसके बाद हैदर-अली के पुत्र टीपू सुल्तान, जिसे लोग शेर-ए-मैसूर के नाम से जानते हैं, ने यहाँ 1799 तक राज किया जिसके बाद यह अंग्रेजों के अघिकार में चला गया। यह राज्य 1799 में चौथे मैसूर युद्ध में टीपू की मौत के बाद ही अंग्रेजों के हाथ लग सका। मैसूर का शासकीय नियंत्रण महाराजा के ही हाथ में छोड़ दिया गया, केवल छावनी क्षेत्र (कैंटोनमेंट) अंग्रेजों के अधीन रहा। ब्रिटिश शासनकाल में यह नगर मद्रास प्रेसिडेंसी के तहत था। मैसूर की राजधानी 1831 में मैसूर शहर से बदल कर बंगलौर कर दी गई।

टेलीग्राफ तथा रेल के आगमन ने नगर के विकास में महत्वपूर्ण भूमिकाएं निभाईं। उन्नीसवीं सदी में बंगलौर एक द्विनगर (ट्विन सिटी) बन गया -पेट और छावनीपेट में मुख्यतः कन्नड़ जनवास था जबकि छावनी के निवासियों में तमिल प्रवासियों की बहुतायत थी। 1898 में प्लेग की चपेट में आने से बंगलौर की जनसंख्या एकाएक कम हो गई। 1906 में यह देश का पहला ऐसा नगर बना जहां जलविद्युत आपूर्ति की सुविधा थी। शिवानासमुद्र का पनबिजली केन्द्र इसका स्रोत था।

1990 के दशक में सौम्योपकरण (सॉफ्टवेयर) की अचानक प्रगति के कारण बंगलौर काफी उन्नत हो गया।

भौगोलिक स्थिति[संपादित करें]

कर्नाटक का उच्च न्यायालय

12.97 डिग्री उत्तरी अक्छांश और 77.56 डिग्री पूर्वी देशांतर पर स्थित इस नगर का भूखंड मुख्यतः पठारी है । यह मैसूर का पठार के लगभग बीच में 920 मीटर की औसत ऊचाई पर अवस्थित है । बंगलौर जिले के उत्तर-पूर्व में कोलार जिला (सोने की खानों के लिये प्रसिद्घ), उत्तर-पश्चिम में तुमकुर जिला, दक्षिण-पश्चिम में मांड्य जिला, दक्षिण में चामराजनगर जिला तथा दक्षिण-पूर्व में तमिलनाडु राज्य है ।

संस्कृति[संपादित करें]

बंगलौर का दृश्य

एक अनुमान के अनुसार बंगलौर में 51% से अधिक लोग भारत के विभिन्न हिस्सों से आ कर बसे हैं। अपने सुहाने मौसम के कारण इसे भारत का उद्यान नगर भी कहते हैं। प्रकाश का पर्व दीपावली यहाँ बहुत धूमधाम से मनाई जाती है । दशहरा, जो मैसूर का पहचान चिह्न बन गया है, भी काफी प्रसिद्ध है । अन्य लोकप्रिय उत्सवों में गणेश चतुर्थी, उगाडी, संक्रांति, ईद-उल-फितर, क्रिसमस का नाम लिया जा सकता है । कन्नड़ फिल्म उद्योग का केन्द्र बंगलौर, सालाना औसतन 80 कन्नड़ फिल्म बनाता है । कन्नड़ फिल्मों की लोकप्रियता ने एक नई जनभाषा बंगलौर-की-कन्नड़ को जन्म दिया है जो अन्य भाषाओं से प्रेरित है और युवा संस्कृति का समर्थक । व्यंजनों की विविधता से भरपूर इस नगर में उत्तर भारतीय, दक्कनी, चीनी तथा पश्चिमी खाने काफी लोकप्रिय हैं ।

क्रिकेट यहाँ का सर्वाधिक लोकप्रिय खेल है। बंगलौर ने देश को काफी उन्नत खिलाड़ी दिये हैं, जिसमें राहुल द्रविड़, अनिल कुम्बले, गुंडप्पा विश्वनाथ, प्रसन्ना, बी. एस. चन्द्रशेखर, वेंकटेश प्रसाद, जावागल श्रीनाथ आदि का नाम लिया जा सकता है। बंगलौर में कई क्लब भी हैं, जैसे - बंगलौर गोल्फ क्लब, बाउरिंग इंस्टीट्यूट, इक्सक्लुसिव बंगलौर क्लब आदि जिनके पूर्व सदस्यों में विंस्टन चर्चिल और मैसूर महाराजा का नाम शामिल है।

दर्शनीय स्थल[संपादित करें]

ऐसा माना जाता है कि जब कैंपे गौड़ा ने १५३७ में बंगलौर की स्थापना की उस समय उसने मिट्टी की चिनाई वाले एक छोटे किले का निर्माण कराया। साथ ही गवीपुरम में उसने गवी गंगाधरेश्वरा मंदिर और बासवा में बसवांगुड़ी मंदिर की स्थापना की। इस किले के अवशेष अभी भी मौजूद हैं जिसका दो शताब्दियों के बाद हैदर अली ने पुनर्निर्माण कराया और टीपू सुल्तान ने उसमें और सुधार कार्य किए। ये स्थल आज भी दर्शनीय है। शहर के मध्य १८६४ में निर्मित कब्बन पार्क और संग्रहालय देखने के योग्य है। १९५८ में निर्मित सचिवालय, गांधी जी के जीवन से संबंधित गांधी भवन, टीपू सुल्तान का सुमेर महल, बाँसगुड़ी तथा हरे कृष्ण मंदिर, लाल बाग, बंगलौर पैलेस साईं बाबा का आश्रम, नृत्यग्राम, बनेरघाट अभयारण्य कुछ ऐसे स्थल हैं जहाँ बंगलौर की यात्रा करने वाले ज़रूर जाना चाहेंगे।

बसवनगुडी बुल टेम्पल[संपादित करें]

बसवनगुडी मंदिर

यह मंदिर भगवान शिव के वाहन नंदी बैल को समर्पित है। प्रत्येक दिन इस मंदिर में काफी संख्या में भक्तों की भीड़ देखी जा सकती है। इस मंदिर में बैठे हुए बैल की प्रतिमा स्थापित है। यह मूर्ति 4.5 मीटर ऊंची और 6 मीटर लम्बी है। बुल मंदिर एन.आर.कालोनी,दक्षिण बैंगलोर में हैं। मंदिर रॉक नामक एक पार्क के अंदर है। बैल एक पवित्र हिंदू यक्ष, नंदी के रूप में जाना जाता है। नंदी एक करीबी भक्त और शिव का परिचरक है।नंदी मंदिर विशेष रूप से पवित्र बैल की पूजा के लिए है।"नंदी" शब्द का मतलब संस्कृत में "हर्षित" है। विजयनगर साम्राज्य के शासक द्वारा 1537 में मंदिर बनाया गयाथा। नंदी की मूर्ति लंबाई में बहुत बड़ा है, लगभग 15 फुट ऊंचाई और 20 फीट लंबाई. पर है।कहा जाता है कि यह मंदिर लगभग 500 साल पहले का निर्माण किया गया है। केम्पे गौड़ा के शासक के सपने में नंदी आये और एक मंदिर पहाड़ी पर निर्मित करने का अनुरोध किया। नंदी उत्तर दिशा कि और सामना कर रहा है।एक छोटे से गणेश मंदिर के ऊपर भगवान शिव के लिए एक मंदिर बनाया गया है। किसानों का मानना ​​है कि अगर वे नंदी कि प्रार्थना करते है तो वे एक अच्छी उपज का आनंद ले सक्ते है।

शिव मूर्ति[संपादित करें]

यह मूर्ति 65 फीटर ऊंची है। इस मूर्ति में भगवान शिव पदमासन की अवस्था में विराजमान है। इस मूर्ति की पृष्ठभूमि में कैलाश पर्वत, भगवान शिव का निवास स्थल तथा प्रवाहित हो रही गंगा नदी है।

इस्कोन मंदिर[संपादित करें]

इस्कोन मंदिर (दॉ इंटरनेशलन सोसायटी फॉर कृष्णा कंसी) बंगलूरू की खूबसूरत इमारतों में से एक है। इस इमारत में कई आधुनिक सुविधाएं जैसे मल्टी-विजन सिनेमा थियेटर, कम्प्यूटर सहायता प्रस्तुतिकरण थियेटर एवं वैदिक पुस्तकालय और उपदेशात्मक पुस्तकालय है। इस मंदिर के सदस्यो व गैर-सदस्यों के लिए यहाँ रहने की भी काफी अच्छी सुविधा उपलब्ध है।अपने विशाल सरंचना के कारण हि इस्कॉन मंदिर बैगंलोर मे बहुत प्रसिद्ध है और इसिलिए बैगंलोर का सबसे मुख्य पर्यटन स्थान भी है। इस मंदिर मे आधुनिक और वास्तुकला का दक्षिण भरतीय मिश्रण परंपरागत रुप से पाया जाता है। मंदिर मे अन्य संरचनाऍ - बहु दृष्टि सिनेमा थिएटर और वैदिक पुस्तकालय। मंदिर मे ब्राह्मणो और भक्तों के लिए रहने कि सुविधाऍ भी उपलब्ध है। इस्कॉन मंदिर के बैगंलोर में छ: मंदिर है:-

  • मुख्य मंदिर राधा और कृष्ण का है,
  • कृष्ण बलराम,
  • निताई गौरंगा ( चैतन्य महाप्रभु और नित्यानन्दा ),
  • श्रीनिवास गोविंदा ( वेकंटेश्वरा )
  • प्रहलाद नरसिंह एवं
  • श्रीला प्रभुपादा

उत्तर बैगंलोर के राजाजीनगर मे स्थित कृष्ण और राधा का मंदिर दुनिया का सबसे बड़ा इस्कॉन मंदिर है। इस मंदिर का शंकर दयाल शर्मा ने सन् १९९७ में उद्घाटन किया।

टीपू पैलेस[संपादित करें]

बंगलौर पैलेस

टीपू पैलेस व किला बंगलूरू के प्रसिद्व पर्यटन स्थलों में से है। इस महल की वास्तुकला व बनावट मुगल जीवनशैली को दर्शाती है। इसके अलावा यह किला अपने समय के इतिहास को भी दर्शाता है। टीपू महल के निर्माण का आरंभ हैदर अली ने करवाया था। जबकि इस महल को स्वयं टीपू सुल्तान ने पूरा किया था। टीपू सुल्तान का महल मैसूरी शासक टीपू सुल्तान का ग्रीष्मकालीन निवास था। यह बैंगलोर, भारत में स्थित है। टीपू की मौत के बाद, ब्रिटिश प्रशासन ने सिंहासन को ध्वस्त किया और उसके भागों को टुकड़ा में नीलाम करने का फैसला किया| यह बहुत महंगा था कि एक व्यक्ति पूरे टुकड़ा खरीद नही सक्ता है। महल के सामने अंतरिक्ष मे एक बगीचेत और लॉन द्वारा बागवानी विभाग, कर्नाटक सरकार है। टीपू सुल्तान का महल पर्यटकों को आकर्षित करता है। यह पूरे राज्य में निर्मित कई खूबसूरत महलों में से एक है।

वेनकटप्पा आर्ट गैलरी[संपादित करें]

यह जगह कला प्रेमियों के लिए बिल्कुल उचित है। इस आर्ट गैलरी में लगभग 600 पेंटिग प्रदर्शित की गई है। यह आर्ट गैलरी पूरे वर्ष खुली रहती है। इसके अलावा, इस गैलरी में कई अन्य नाटकीय प्रदर्शनी का संग्रह देख सकते हैं।

बंगलूरू पैलेस[संपादित करें]

यह महल बंगलूरू के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। इस महल की वास्तुकला तुदौर शैली पर आधारित है। यह महल बंगलूरू शहर के मध्य में स्थित है। यह महल लगभग 800 एकड़ में फैला हुआ है। यह महल इंगलैंड के वाइंडसर महल की तरह दिखाई देता है।प्रसिद्ध बैंगलोर पैलेस (राजमहल) बैंगलोर का सबसे आकर्षक पर्यटन स्थान है। ४५०० वर्ग फीट पर बना यह विशाल पैलेस ११० साल पुराना है। सन् १८८० मे इस पैलेस का निर्माण हुआ था और आज यह पुर्व शासकों की महिमा को पकड़ा हुआ है। इसके निर्माण मे तब कुल १ करोड़ रुपये लगे थे। इसके आगे एक सुन्दर उद्यान है जो इसको इतना सुन्दर रुप देता है कि वह सपनों और कहानियों के महल कि तरह लगता है।

विधान सौधा[संपादित करें]

विधान सौधा

यह जगह बंगलूरू के प्रमुख पर्यटक स्थलों में से एक है। इसका निर्माण 1954 ई. में किया गया। इस इमारत की वास्तुकला नियो-द्रविडियन शैली पर आधारित है। वर्तमान समय में यह जगह कर्नाटक राज्य के विधान सभा के रूप में उपयोग किया जाता है। इसके अलावा इमारत का कुछ हिस्सा कर्नाटक सचिवालय के रूप में भी कार्य कर रहा है। विधान सौधा के शैली में ही और एक इमारत का निर्माण किया गया है, जिसका नाम ’विकास सौधा’ रखा गया है । पुरे भारत मे यह सबसे बड़ी विधान भवन है। तत्कालीन मुख्यमंत्री एस एम कृष्णा की ओर से शुरू की गई है और, फरवरी 2005 में उद्घाटन किया गया। यह डॉ. अम्बेडकर रोड, सेशाद्रिपुरम मे स्थित है। विधान सौधा के सामने कर्नाटक उच्च न्यायालय है। 2001 में भारतीय संसद पर हमले के बाद,विधान सौधा की सुरक्षा के बारे में चिंता कि जा रही थी। सभी पक्षों के फुटपाथ पर एक मजबूत 10 फुट ऊंची इस्पात बाड़ लगाने का फैसला किया गया। विधान सौधा के तीन मुख्य फर्श है। यह भवन 700 फुट उत्तर दक्षिण और 350 फीट पूरब पश्चिम आयताकार है।

लाल बाग[संपादित करें]

लाल बाग का रात्रि दृश्य

वर्तमान समय में इस बाग को लाल बाग वनस्पति बगीचा के नाम से जाना जाता है। यह बाग भारत के सबसे खूबसूरत वनस्पतिक बगीचों में से एक है। अठारहवीं शताब्दी में हैदर अली और टीपू सुल्तान ने इसका निर्माण करवाया था। इस बगीचे के अंदर एक खूबसूरत झील है। यह झील 1.5 वर्ग किलोमीटर में फैली हुई है। यह झील का नजारा एक छोटे से द्वीप की तरह प्रतीत होता है। जिस कारण यह जगह एक अच्छे पर्यटन स्थल के रूप में भी जाना जाता है।लालबाग बैंगलोर मे उपस्थित वानस्पतिक उद्यान है। साल भर अपने सुन्दर, निवोदित लाल खिलते हुए गुलाबों के कारण इसका नाम लालबाग रखा है। इस उद्यान मे दुर्लभ प्रजातियों के पौधों को अफगानिस्तान और फ्रांस से लाया जाता है। यहा कई सारे स्प्रिंग, कमल तल आदि भी है। एक ग्लास हाउस भी प्रस्तुत है। जहा अब एक स्थायी पुष्प प्रदर्शनी आयोजित किया जाता है। स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस पर उद्यान को बहुत अच्छी तरह से सजाया जाता है। फुलों से कई तरह के भिन्न-भिन्न चित्र और प्रतिरुप बनाये जाते है।

कब्बन पार्क[संपादित करें]

कई एकड़ क्षेत्र में फैले लॉन, दूर तक फैली हरियाली, सैंकड़ों वर्ष पुराने पेड़, सुंदर झीलें, कमल के तालाब, गुलाबों की क्यारियाँ, दुर्लभ समशीतोष्ण और शीतोष्ण पौधे, सजावटी फूल पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं। यहाँ प्रकृति मनुष्य के साथ साक्षात्कार करती है। यह स्थान बंगलौर के सुंदरतम स्थानों में से एक है जिसे लाल बाग बॉटनिकल गार्डन, या लाल बाग वनस्पति उद्यान कहते हैं। यह २४० एकड़ क्षेत्र में फैला हुआ है। १७६० में इसकी नींव हैदर अली ने रखी और टीपू सुल्तान ने इसका विकास किया। बंगलोर् शहर में आने वाले पर्यटक इस पार्क को देख कर बंगलौर शहर को 'गार्डन सिटी' कह कर पुकारते है। पार्क के माध्यम से कई सड़कों विभिन्न स्थानों को चलाते हैं। कबन्न पार्क 1870 में बनाया गया था। पार्क 5:00-8:00 के समय छोड़कर हर समय खुला है। पार्क में 6000 पौधों के साथ 68 किस्मों और 96 प्रजातियों के आसपास पौधों है। सजावटी और फूल के पेड़ है। कब्बन पार्क बंगलौर में गांधी नगर के पास स्थित है। परी फव्वारे और एक अगस्त बैंडस्टैंड भी है। आम्, अशोक, पाइन, इमली, गुलमोहर, बांस, जैसे वृक्षों यहा पाये जाते है। रोज गार्डन पब्लिक लाइब्रेरी के प्रवेश के बिल्कुल विपरीत है।

दरगाह हजरत तवक्कल मस्तान[संपादित करें]

यह दरगाह सूफी संत तवक्कल मस्तान की है। इस दरगाह में मुस्लिम व गैर-मुस्लिम दोनों ही श्रद्धालु आते हैं।

गांधी भवन[संपादित करें]

गांधी भवन कुमार कुरूपा मार्ग पर स्थित है। यह भवन महात्मा गांधी के जीवन की याद में बनवाया गया है। इस भवन में गांधी जी के बचपन से लेकर उनके जीवन के अंतिम दिनों को चित्रों के द्वारा दर्शाया गया है। इसके अलावा यहाँ स्वयं गांधी जी द्वारा लिखे गए पत्रों की प्रतिकृति का संग्रह, उनके खडाऊ, पानी पीने के लिए मिट्टी के बर्तन आदि स्थित है।

चौदैया मेमोरियल हॉल[संपादित करें]

इस हॉल का निर्माण वायलिन के आकार में किया गया है। कर्नाटक के प्रसिद्ध सांरगी आचार्य टी.चौदैया की मृत्यु के बाद इस जगह का नाम उनके नाम पर रखा गया। विभिन्न उद्देश्यों से बने इस वातानुकूलित हॉल में विशेष रूप से परम्परागत कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। यह जगह गायत्री देवी पार्क एक्सटेंशन पर स्थित है। ऐसा माना जाता है कि यह इमारत पूरे विश्व में संगीत वाद्य के आकार में बना पहला इमारत है।

गवी गंगादरश्रवरा मंदिर[संपादित करें]

यह मंदिर बसवनगुडी के समीप स्थित है। यह मंदिर अपनी वास्तुकला के लिए भी विशेष रूप से जाना जाता है। यह मंदिर बंगलूरू के पुराने मंदिरों में से एक है। इस मंदिर का निर्माण केम्पेगौड़ा ने करवाया था। यह मंदिर भगवान शिव और माता पार्वती को समर्पित है। इस मंदिर में एक प्राकृतिक गुफा है। मकर सक्रांति के दिन काफी संख्या में भक्तगण यहाँ एकत्रित होते हैं।

नेहरू प्लैनेटेरियम[संपादित करें]

नेहरू प्लैनेटेरियम , भारत में पांच ग्रहो का नाम है। भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू के नाम पर रखा गया है। ये मुंबई, नई दिल्ली, पुणे और बंगलौर में स्थित हैं। बेंगलुरू में जवाहरलाल नेहरू प्लैनेटेरियम 1989 में बंगलौर नगर ​​निगम द्वारा स्थापित किया गया था। आकाशगंगाओं का विशाल रंग चित्र इस तारामंडल के प्रदर्शनी हॉल में दिखाई देता है। साइंस सेंटर और एक विज्ञान पार्क यहा है। यह पता चलता है कि यह ना केवल पढ़ाने के लिए प्रयोग किया जाता है बल्कि खगोल विज्ञान के लिये भी प्रयोग किया जाता है।

विश्वेश्वरैया औद्योगिक ऐवं प्रौद्योगिकीय संग्रहालय[संपादित करें]

कस्तुरबा रोड पर स्थित यह संग्रहालय सर. एम. विश्वेश्वरैया को श्रधाजंलि देते हुए उनके नाम से बनाया गया है। इसके परिसर मे एक हवाई जहाज और एक भाप इजंन का प्रदर्शन किया गया है। संग्रहालय का सबसे प्रमुख आकर्षण मोबाइल विज्ञान प्रदर्शन है, जो पुरे शहर मे साल भर होता है। प्रस्तुत संग्रहालय मे इलेक्ट्रानिक्स मोटर शक्ति और उपयोग कर्ता और धातु के गुणो के बारे मे भी प्रदर्शन किया गया है। सेमिनार प्रदर्शन और वैज्ञानिक विषयो पर फिल्म शो का भी आयोजन किया गया है।

संग्रहालय की विशेषताएँ- इजंन हाल, इलेक्ट्रानिक प्रौद्योगिकि वीथिका, किम्बे कागज धातु वीथिका, लोकप्रीय विज्ञान वीथिका और बाल विज्ञान वीथिका।

बन्नरघट्टा बायोलाँजिकल पार्क[संपादित करें]

शहर से २२ किलोमीटर दुर दक्षिण पार्क स्थित है। यह कुछ शहरों मे ऐसा शहर है जिसके इतने करीब दुनिया के जगंली जानवरों को संरक्षित किया गया है। यहा पर सफारी, चिडीया घर, तितली उद्यान आदि विभिन्न आकर्षक स्थान है। यहा पर विभिन्न प्रकार के जानवर, चिडियों को एक उपयुक्त वातावरण में रखा है। यहा सफारी कि सेवा बहुत ही रोमाचंक है जहा लोगों को जगंल मे यात्रा करवाई जाती है।

बैंगलोर मे दूसरे अन्य आकर्षण[संपादित करें]

मनोरजंन पार्क-

  • वडंर लॉ
  • इनोवेटिव फिल्म सिटी
  • फन वर्ल्ड
  • स्नो सिटी

आवागमन[संपादित करें]

वायु मार्ग

बंगलौर विमानक्शःएत्र सबसे नजदीकी एयरपोर्ट बंगलौर सेंट्रल रेल स्टेशन से करीब 3० किलोमी. की दूरी पर स्थित है। कई प्रमुख शहरों जैसे कलकत्ता, मुम्बई, दिल्ली, हैदराबाद, चैन्नई, अहमदाबाद, गोवा, कोच्ची, मंगलूर, पुणे और तिरूवंतपुरम से यहाँ के लिए नियमित रूप से उड़ानें भरी जाती है। अंतरराष्ट्रीय उड़ानें भी इसी एयरपोर्ट से निकलती हैं।

रेल मार्ग

बंगलुरू में दो प्रमुख रेलवे स्टेशन है। यह स्टेशन भारत के कई प्रमुख शहरों से जुड़े हुए है। देश के कई शहरों से नियमित रूप से एक्सप्रेस रेल बंगलूरू के लिए चलती है।

सड़क मार्ग

बंगलूरू में काफी संख्या में बस टर्मिनल है। जो कि रेलवे स्टेशन के समीप ही है। BMTC के किराये देश में सबसे ज्यादा माना जाता है। पहले चरण में एक किलोमीटर 4 रुपए है, दूरी बढ़ने के साथ - रू 1 /प्रति किलोमीटर हो जता है। BMTC का मुख्य आकर्षण 60 / पर प्रदान की दैनिक पास है।

खरीदारी[संपादित करें]

बंगलूरू में शॉपिंग का अपना ही एक अलग मजा है। यहाँ आपको कांचीपुरम सिल्क या सावोरस्की क्रिस्टल आसानी से मिल सकता है। बंगलूरू विशेष रूप से मॉलों के लिए प्रसिद्ध है। यहाँ स्थित मॉल भारत के कुछ खूबसूरत और बड़े मॉल में से एक है। कमर्शियल स्ट्रीट बंगलूरू से सबसे व्यस्त और भीड़-भाड़ वाले शॉपिंग की जगहों में से है। यहाँ आपको जूते, ज्वैलरी, स्टेशनरी, ट्रैवल किट और स्पोाट्स वस्तुएं आसानी से मिल जाएगी। ब्रिटिश काल के दौरान के दक्षिण परेड को आज एम.जी.रोड़ के नाम से जाना जाता है। यहाँ आपको शॉपिंग के लिए इलेक्ट्रॉ निक उपकरण, किताबें और मैगजीन, सिल्क साड़ी, कपड़े, प्राचीन और फोटोकारी की जुड़ी विशेष चीजें मिल सकती है। एम.जी.रोड़ के काफी नजदीक ही ब्रिगेड रोड है यह जगह इलेक्ट्रॉ निक उपकरण जैसे टेलीविजन, फ्रिज, म्यूजिक सिस्टम, कम्प्यूटर और वाशिंग मशीन आदि के लिए प्रसिद्व है।

इसके अलावा आप सरकारी बाजार में भी शॉपिंग के लिए जा सकते हैं। यहाँ आपको पीतल के बर्तन, लकड़ी का फर्नीचर, प्राचीन आभूषण, परम्परागत वस्त्र, साड़ी, सजाने का समान आदि आसानी से मिल जाएगा। आप खरीदारी के लिए मैजस्टिक क्षेत्र में भी जा सकते हैं। यहाँ काफी अच्छी खरीददारी की जा सकती है। इस बाजार को हॉग-कॉग मार्केट, बुर्मा बाजार के नाम से भी जाना जाता है। बंगलूरू में कई अन्य बाजार भी है जैसे रूस्सल मार्केट यहाँ आपको कॉकरी और घर से जुड़ी कई चीजें मिल जाएगी। इसके अतिरिक्त चिकपेट बाजार विशेष रूप से सिल्क साड़ी, सोने व चांदी के गहनों के लिए काफी प्रसिद्ध है।

परिवहन[संपादित करें]

बंगलौर का एच.ए.एल. अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डा देश का तीसरा व्यस्ततम एयरपोर्ट है । घरेलू तथा अंतर्राष्ट्रीय उङानों में प्रयुक्त यह हवाईपट्टी, एशिया, मध्य-पूर्व तथा यूरोप के लिये सेवाएं देता है ।

यह भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. The total area of Greater Bangalore has been mentioned in the Karnataka budget of 2007-08 as 741 km². "Finance Budget for 2007-08" (PDF). Government of India. http://www.kar.nic.in/finance/bud2007/bs07e.pdf. अभिगमन तिथि: 2007-06-28. 

[1]


सन्दर्भ त्रुटि: <ref> टैग मौजूद हैं, किन्तु कोई <references/> टैग नहीं मिला