फाइब्रोएडीनोमा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Fibroadenoma
{{{other_name}}}
वर्गीकरण एवं बाह्य साधन
Breast fibradenoma (1).jpg
Histopathologic image of breast fibroadenoma. Core needle biopsy. Hematoxylin & eosin stain.
आईसीडी-१० D0wru0uuqi0wn we80uq['j werj 4095.htm+d24 24.
आईसीडी- 217
ICD-O: M9010/0-M9012, M9020, M9030
डिज़ीज़-डीबी 1595
मेडलाइन प्लस 007216
ईमेडिसिन radio/109 
एम.ईएसएच D018226

स्तन का फाइब्रोएडीनोमा रेशेदार और ग्रंथिमय ऊतक से बनी, छोटी, ठोस, रबड़ जैसी, गैर-कैंसरयुक्त, हानिरहित गाँठ होती है। चूंकि स्तन कैंसर एक गाँठ के रूप में भी दिखाई दे सकता है इसलिए डॉक्टर आम तौर पर कैंसर की संभावना को खतम करने के लिए एक ऊतक नमूने (बायोप्सी) का सुझाव देते हैं। स्तन कैंसर की विशिष्ट गांठों के विपरीत फाइब्रोएडीनोमा आसानी से स्थानांतरित हो सकते हैं और उनके किनारे साफ़ नजर आते हैं।[1][2]

संकेत व लक्षण[संपादित करें]

इसके विशिष्ट मामले में प्रसूति के वर्षों के दौरान महिला के स्तन में दर्दरहित, सख्त, अलग, अस्थिर, धीरे-धीरे बढ़ती हुई गाँठ देखने को मिलती है।[2][3][4]

पुरुष स्तन में शायद ही कभी फाइब्रोएपिथेलियल ट्यूमर देखने को मिलते हैं और उनमें ज्यादातर फाइलोड्स ट्यूमर होते हैं। पुरुष स्तन में फाइब्रोएडीनोमा के बारे में असाधारण रूप से दुर्लभ मामले की रिपोर्ट मौजूद है हालाँकि इन मामलों का संबंध एंटीएंड्रोजन उपचार के साथ हो सकता है।[5]

स्तन[संपादित करें]

फाइब्रोएडीनोमा की पहचान आम तौर पर क्लिनिकल परीक्षण, अल्ट्रासाउंड या मैमोग्राफी और अक्सर गाँठ की एक नीडल बायोप्सी नमूने के माध्यम से की जाती है।[3]

कारकविज्ञान (ईटियोलॉजी) और महामारी विज्ञान[संपादित करें]

फाइब्रोएडीनोमा स्तन के टर्मिनल डक्ट लोब्यूलर यूनिट में उत्पन्न होता है। ये किशोरियों में पाए जाने वाले सबसे आम स्तन ट्यूमर हैं। ये कुछ हद तक उत्तर-रजोनिवृत्तिक महिलाओं में भी होते हैं। बढ़ती उम्र के साथ इनके होने की सम्भावना घटती चली जाती है और ये आम तौर पर तीस साल की उम्र से पहले दिखाई देते हैं जो शायद कुछ हद तक सामान्य एस्ट्रोजन संबंधी हार्मोनल उतार-चढ़ाव की वजह से होते हैं। हालाँकि फाइब्रोएडीनोमा को एक नियोप्लाज्म माना जाता है लेकिन कुछ लेखकों का मानना है कि फाइब्रोएडीनोमा का उद्भव सामान्य स्तन लोब्यूल घटकों के हाइपरप्लेसिया से होता है।[2][6][4]

पैथोलॉजी[संपादित करें]

कोशिका विज्ञान[संपादित करें]

नीडल बायोप्सी के नैदानिक निष्कर्षों में पर्याप्त स्ट्रोमल कोशिकाएं शामिल हैं जो सम्पूर्ण चूषण में नग्न द्विध्रुवी नाभिकों के रूप में दिखाई देते हैं जो प्रचुर मात्रा में एक समान आकार वाली एपिथेलियल कोशिकाओं की परतें हैं जो आम तौर पर या तो बारहसिंगे की सींग की तरह की पद्धति में या किसी मधुकोष पद्धति में व्यवस्थित होती हैं। ये एपिथेलियल (उपकला) परतें डिफक्विक अभिरंजन पर विशिष्ट मेटाक्रोमेटिक नीले अभिरंजन को प्रदर्शित करते हुए नजर आते हैं। फोम कोशिकाएं और एपोक्रिन कोशिकाएं भी दिखाई दे सकती हैं हालाँकि ये कम नैदानिक विशेषताएँ हैं।[3][6] नीचे दी गयी गैलरी छवियों से इन विशेषताओं का पता चलता है।

सहज दृश्य[संपादित करें]

लगभग नब्बे प्रतिशत फाइब्रोएडीनोमा का व्यास तीन सेंटीमीटर से भी कम होता है। चार सेंटीमीटर या उससे अधिक व्यास वाले शेष दस प्रतिशत फाइब्रोएडीनोमा के मामले सबसे ज्यादा बीस साल से कम उम्र की महिलाओं में देखे जाते हैं। ट्यूमर गोल या अंडाकार, लोचदार, गांठदार होता है और उसकी सतह चिकनी होती है। कटी हुई सतह आम तौर पर समरूप और सख्त दिखाई देती है और उसका रंग भूरा-सफ़ेद या पीला-भूरा होता है।[6]

सूक्ष्म दृश्य[संपादित करें]

प्रसार से नलिका जैसे स्थानों का निर्माण होता है। ये फाइब्रोब्लास्टिक स्ट्रोमा से घिरे होते हैं। प्रसारी उपकला का रंग-रूप सामान्य होता है। मौजूद उपकला और स्ट्रोमल ऊतक की सापेक्ष मात्रा के आधार पर फाइब्रोएडीनोमा को दो भागों में वर्गीकृत किया जा सकता है - इंट्राकैनलिक्यूलर और पेरिकैनलिक्यूलर. इसका एक मिश्रित प्रकार भी है जिसमें दोनों रूप एक साथ मौजूद है। इंट्राकैनलिक्यूलर फाइब्रोएडीनोमा प्रमुख स्ट्रोमल प्रसार का प्रदर्शन करता है जो वाहिनियों को संकुचित करता है जो अनियमित होती हैं और घटकर संकरी दरार में बदल जाती हैं। पेरिकैनलिक्यूलर फाइब्रोएडीनोमा वाहिनियों के स्थानों के चारों तरफ रेशेदार स्ट्रोमल प्रसार का प्रदर्शन करता है जो वाहिनी स्थानों को गोल या अंडाकार बने रहने की अनुमति देता है।[7] नीचे दी गई गैलरी छवि में दोनों रूपात्मक उपप्रकारों को दर्शाया गया है।

उपचार[संपादित करें]

ज्यादातर फाइब्रोएडीनोमा को यथावत छोड़ दिया जाता है और डॉक्टर या संबंधित रोगी द्वारा उसकी निगरानी की जाती है। कुछ का इलाज सर्जिकल कांटछांट द्वारा किया जाता है। शल्य चिकित्सीय पूर्व क्लिनिकल जांच द्वारा इस निदान के सूचक होने पर, उन्हें सामान्य स्तन के एक छोटे से हिस्से के साथ हटा दिया जाता है। सूक्ष्मदर्शीय परीक्षा में अगर घाव फाइलोड्स ट्यूमर में बदल जाए तो सामान्य ऊतक के छोटे से हिस्से को जरूर हटा दिया जाना चाहिए.[6][8]

चूंकि नीडल बायोप्सी अक्सर एक विश्वसनीय नैदानिक जांच है इसलिए कुछ डॉक्टर घाव को हटाने का फैसला नहीं कर सकते हैं और इसके बजाय घाव की वृद्धि दर का निर्धारण करने के लिए क्लिनिकल परीक्षा और मैमोग्राफी के इस्तेमाल से समय-समय पर घाव का क्रमानुसार निरीक्षण करने के लिए क्लिनिकल फॉलो-अप करने का विकल्प चुन सकते हैं। पचास साल से कम उम्र की महिलाओं में हर महीने सोलह प्रतिशत से कम की वृद्धि दर और पचास साल से ज्यादा उम्र की महिलाओं में हर महीने तेरह प्रतिशत से कम की वृद्धि दर को निरंतर गैर-शल्य चिकित्सीय उपचार और क्लिनिकल अवलोकन के लिए सुरक्षित वृद्धि दर के रूप में प्रकाशित किया गया है।[9]

सम्पूर्ण कांटछांट के बाद फिर से फाइब्रोएडीनोमा होने या आंशिक या अपूर्ण कांटछांट के बाद फाइलोड्स ट्यूमरों में रूपांतरित होने का मामला सामने नहीं आया है।[6]

फाइब्रोएडीनोमा को टालने के लिए प्राकृतिक उपचारों का भी सहारा लिया जाता है जैसे फाइब्रोसोल्व लेकिन उनकी प्रभावकारिता को साबित करने के लिए अब तक कोई स्पष्ट अध्ययन नहीं किया गया है।

क्रायोब्लेशन उपचार[संपादित करें]

एफडीए ने फाइब्रोएडीनोमा के क्रायोब्लेशन (ऊतक को नष्ट करने के लिए अत्यधिक ठण्ड का इस्तेमाल) को सर्जिकल कांटछांट के लिए एक सुरक्षित, प्रभावी और न्यूनतम आक्रामक विकल्प के रूप में मंजूरी दी है।[10] इस प्रक्रिया में स्तन ऊतक पिंड की जांच पड़ताल का मार्गदर्शन करने के लिए अल्ट्रासाउंड इमेजिंग का इस्तेमाल किया जाता है। उसके बाद असामान्य कोशिकाओं को नष्ट करने के लिए अत्यधिक ठंडे तापमान का इस्तेमाल किया जाता है[11] और समय के साथ कोशिकाएं शरीर में फिर से अवशोषित हो जाती हैं। इस प्रक्रिया को केवल लोकल एनेस्थीसिया के साथ किसी ऑफिस परिवेश में किया जा सकता है और खुली सर्जिकल प्रक्रियाओं की तुलना में इस प्रक्रिया में बहुत कम निशान रह जाते हैं।[11]

अमेरिकन सोसाइटी ऑफ ब्रेस्ट सर्जन्स, फाइब्रोएडीनोमा के क्रायोब्लेशन के लिए एक उम्मीदवार के रूप में एक रोगी को स्थापित करने के लिए निम्नलिखित मानदंडों का सुझाव देता है।[10]

  1. घाव अल्ट्रासोनोग्राफी में दिखाई देने लायक होना चाहिए.
  2. ऊतक विज्ञान की दृष्टि से फाइब्रोएडीनोमा के निदान की पुष्टि की जानी चाहिए.
  3. घावों का व्यास 4 सेमी से कम होना चाहिए.

फाइब्रोएडीनोमा के चित्र[संपादित करें]

फाइब्रोएडीनोमा पर वीडियो[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. मर्क मैनुअल, फाइब्रोएडीनोमाज़
  2. टवास्सोली, एफ.ए., डेविली, पी. ((एड्स). 2003. वर्ल्ड हैल्थ ऑर्गेनाइजेशन क्लासिफिकेशन ऑफ ट्यूमर्स: पैथोलॉजी एंड जेनेटिक्स: ट्यूमर्स ऑफ दी ब्रेस्ट एंड फीमेल जेनिटल ओर्गंस. आईएआरसी प्रेस: ल्योन. आईएसबीएन 92-832-2412-4
  3. डेमे, एम. 2007. प्रैक्टिकल प्रिंसिपल्स ऑफ साय्टोपैथोलॉजी . संशोधित संस्करण. एएससीपी प्रेस. आईएसबीएन 0-89189-549-3
  4. पैथोलॉजी आउटलाइन्स वेबसाइट. [1] 12 फरवरी 2009 को एक्सेस किया गया।
  5. शिन, एसजे, रोसेन पीपी. बाईलैटरल प्रजेंटेशन ऑफ फाइब्रोएडीनोमा विथ डिजिटल फाइब्रोमा-लाइक इन्क्लूशन इन दी मेल ब्रेस्ट. आर्चिव्स ऑफ पैथोलॉजी एंड लेबोरेटरी मेडिसन . 2007 जुलाई;131(7):1126-9.
  6. रोसेन, पीपी. रोसेंस ब्रेस्ट पैथोलॉजी . तीसरा संस्करण. आईएसबीएन 978-0-7817-7137-5
  7. "Fibroadenoma of the breast". http://www.pathologyatlas.ro/fibroadenoma-breast-pathology.php. अभिगमन तिथि: 2007-12-15. 
  8. रोसई, जे. 2004. रोसई एंड एकरमैन्स सर्जिकल पैथोलॉजी 9वां संस्करण. आईएसबीएन 0-323-01342-2
  9. गॉर्डन पीबी, गेग्नों एफए, लेंज्कोविसकी एल. सॉलिड ब्रेस्ट मासेस डायग्नोज़्ड एज़ फाइब्रोएडीनोमा एट फाइन-नीडल एस्पिरेशन बायोप्सी: एक्सेप्टेबल रेट्स ऑफ ग्रोथ एट लॉन्ग-टर्म फोलो-अप. रेडियोलॉजी. 2003 अक्टूबर;229(1):233-8.
  10. मैनेजमेंट ऑफ फाइब्रोएडीनोमाज़ ऑफ दी ब्रेस्ट
  11. वेबएमडी - क्रायोथैरेपी श्रींक्स बिनाइन ब्रेस्ट लमप्स