फ़िल्म-निर्माण

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
वारसॉ, ब्रैका स्ट्रीट में एक फिल्म बनाई जा रही है।

फिल्म निर्माण (अकादमिक परिप्रेक्ष्य में अक्सर फिल्म उत्पादन के रूप में संदर्भित) एक प्रारंभिक स्टोरी आइडिया या कमिशन से, पटकथा लेखन, शूटिंग, संपादन, निर्देशन एवं दर्शकों तक उसके वितरण के माध्यम से फिल्म निर्माण की एक प्रक्रिया है। आमतौर पर, इसमें भारी संख्या में लोग शामिल रहते हैं और इसके पूरा होने में कुछ महीने से लेकर कुछ वर्ष लग जाते हैं. फिल्म निर्माण का कार्य दुनिया भर में आर्थिक, सामाजिक और राजनीतिक संदर्भों की एक विशाल श्रेणी में सभी जगह घटित होता है, और इसमें प्रौद्योगिकी और तकनीक की विभिन्न किस्मों का उपयोग किया जाता है।

चरण[संपादित करें]

फिल्म निर्माण पांच चरणों में घटित होता है:[1]

  • विकास - स्क्रिप्ट को लिखा जाता है और उसे फिल्म के लिए एक व्यावहारिक खाके में ढाला जाता है।
  • पूर्व-निर्माण - शूट के लिए तैयारियां की जाती हैं, जिसमें कलाकार और कर्मी दलों को काम में लगाया जाता है, स्थान का चुनाव किया जाता है तथा सेट बनाए जाते हैं।
  • निर्माण - फिल्म के लिए शूटिंग पूरी की जाती है।
  • उत्तर-उत्पादन - पूरी हुई फिल्म को संपादित किया जाता है; साथ-साथ (लेकिन अलग से) उत्पादन ध्वनि(संवाद) का संपादन किया जाता है, संगीत ट्रेक (गीत) की रचना, प्रदर्शन और रिकार्डिंग की जाती है, यदि फिल्म में स्कोर का अवकाश हो तो ध्वनि प्रभावों का अभिकल्पन और उसकी रिकार्डिंग की जाती है, और अन्य किसी कम्प्युटर-ग्रैफिक दृश्य प्रभाव को डिजिटल रूप से जोड़ा जाता है, सभी ध्वनि तत्वों को मूल वस्तु में मिश्रित किया जाता है उसके बाद मूल वस्तु को मिश्रित किया जाता है और उसे तस्वीर के साथ जोड़ दिया जाता है और फिल्म पूरी (लॉक्ड) हो जाती है।
  • बिक्री और वितरण - फिल्म संभावित खरीदारों (वितरकों) को दिखायी जाती है, वितरक द्वारा खरीदी जाती है और उनके सिनेमा घरों और/या होम मिडिया दर्शकों तक पहुंचती है।

विकास[संपादित करें]

इस चरण में, इस परियोजना का निर्माता एक कहानी खोजता है जो किसी किताब, नाटक, अन्य फिल्म, सत्य-कथा, मौलिक आइडिया से मिल सकती है.मूल विषय को पहचानने या उसके संदेशों को रेखांकित करने के बाद निर्माता लेखक के साथ मिलकर कहानी का सारांश तैयार करता है. इसके बाद वे एक स्टेप आउटलाइन तैयार करते हैं, जो पूरी कहानी को एक-अनुच्छेद के दृश्यों में विभाजित कर देता है जिसका पूरा ध्यान नाटकीय संरचना पर होता है. फिर, वे, कहानी और उसके मूड और पात्रों से संबंधित 25-30 पृष्ठ का एक ट्रिटमेंट तैयार करते हैं. इसमें आमतौर पर छोटा संवाद और मंच निर्देशन होता है, लेकिन इसमें प्राय: चित्र भी शामिल रहते हैं जो मूल विंदुओं को दिशा देने में मदद करते हैं. एक स्क्रिपमेंट को प्रस्तुत करने का एक और तरह का रास्ता यह है कि सरांश तैयार कर लिया जाय.

इसके बाद, पटकथा लेखक कई महीनों से अधिक का समय लेकर पटकथा लिखता है. पटकथा लेखक नाटकीय रूपांतर, स्पष्टता, संरचना, पात्र, संवाद और समग्र शैली को सुधारने के लिए इसे कई बार फिर से लिख सकता है. हालांकि, निर्माता अक्सर पिछले चरणों को छोड़ देते हैं और प्रस्तुत पटकथा का विकास करते हैं जिसे निवेशक, स्टूडियो, और अन्य इच्छुक पार्टियां एक प्रक्रिया द्वारा आंकती हैं जिसे पटकथा कवरेज कहा जाता है. फिल्म वितरक को शुरूआती दौर में ही संभावित बाजार और फिल्म की संभावित वित्तीय सफलता की समीक्षा के लिए संपर्क किया जा सकता है. हॉलीवुड वितरक कठोर व्यापारिक दृष्टिकोण को अपनाते हैं और फिल्म विधा, लक्ष्य श्रोता, समान फिल्मों की ऐतिहासिक सफलता, अभिनेता जो फिल्म में आ सकते हैं और संभावित निर्देशकों जैसे तत्वों पर विचार करते हैं. ये सभी तत्व संभावित दर्शकों और इस तरह नाटकीय प्रदर्शन के दौरान "ए.आई.एस" की संख्या (या सीटों पर बैठे लोगों) के लिए एक निश्चित अपील को सूचित करते हैं. सभी फिल्में केवल सिनेमाघरों में रिलीज से लाभ नहीं कमातीं, इसलिए फिल्म कंपनियां डीवीडी बिक्री और दुनिया भर में उसके वितरण का अधिकार ले लेती हैं.

निर्माता और पटकथा लेखक फिल्म पिच या ट्रिटमेंट तैयार करते हैं और इसे संभावित निवेशकों के सामने प्रस्तुत करते हैं. यदि पिच सफल होता है तो फिल्म "ग्रीन लाइट" प्राप्त करती है, मतलब कुछ लोग वित्तीय सहायता प्रदान करते हैं जिसका अर्थ है: आमतौर पर एक बड़ा फिल्म स्टूडियो, फिल्म कौंसिल या स्वतंत्र निवेशक. जुड़ी हुई पार्टियां बातचीत करती हैं और एक समझौते पर हस्ताक्षर करती हैं. एक बार जब सभी पार्टियां मिल चुकी होती हैं और सौदा तय हो जाता है, तब फिल्म पूर्व-मिर्माण अवधि की ओर बढ़ सकती है. इस स्तर तक, फिल्म के पास एक स्पष्ट रूप से परिभाषित विपणन रणनीति और लक्ष्य दर्शक होने चाहिए.

पूर्व-निर्माण[संपादित करें]

पूर्व-उत्पादन में, वास्तव में फिल्म बनाने के हर कदम की योजना और डिजाइन सावधानी से बनाया जाता है. निर्माण कंपनी बनाई जाती है और निर्माण कार्यालय की स्थापना की जाती है. प्रोडक्शन को चित्रकारों और कोंसेप्ट आर्टिस्टोंकी सहायता से चित्र योजित और दृश्यांकित किया जाता है. फिल्म के लिए योजना व्यय हेतु एक प्रोडक्शन बजट तैयार किया जाता है. प्रमुख प्रोडक्शनों के लिए दुर्घटनाओं से सुरक्षा हेतु बीमा कराया जाता है.

निर्माता एक दल को काम पर रखता है. फिल्म निर्माण के दौरान फिल्म की प्रकृति और बजट के हिसाब से काम करने वाले चालक दल का आकार और प्रकार निश्चित किया जाता है. कई हॉलीवुड की प्रमुख फिल्मों में सैकड़ों कलाकार और चालक दल नियुक्त किए जाते हैं, जबकि एक कम बजट वाली और स्वतंत्र फिल्म को आठ या नौ (हमेशा के लिए) की न्यूनतम संख्या के कर्मियों को लेकर बनाया जा सकता है. ये सभी विशिष्ट पदों के चालक दल होते हैं:

  • निर्देशक फिल्म की कहानी, अभिनय और रचनात्मक निर्णय के लिए मुख्य रूप से जिम्मेदार होता है.
  • सहायक निर्देशक(एडी) अन्य कार्यों के बीच शूटिंग शेड्यूल और निर्माण के प्रचालन तंत्र का प्रबंधन करता है. वहाँ अलग जिम्मेदारियों के साथ कई प्रकार के एडी रहते हैं.
  • कास्टिंग निर्देशक पटकथा में भूमिका निभाने वाले कलाकारों की खोज करता है. इसके लिए अभिनेता के ऑडिशन की आवश्यकता होती है.
  • लोकेशन प्रबंधक स्थान का पता लगाता है और फिल्म लोकेशन का प्रबंधन करता है. अधिकतर दृश्य एक स्टूडियो साउण्ड स्टेज के नियंत्रित माहौल में शूट की जाती हैं लेकिन कभी-कभी लोकेशन पर फिल्मांकन के लिए आउट डोर सिक्वेंस को लाना पड़ता है.
  • निर्माण प्रबंधक निर्माण कार्यक्रम और निर्माण बजट का प्रबंधन करता है. वे निर्माण कार्यालय की ओर से स्टूडियो के अधिकारियों और फिल्म के निवेशकों को सूचित करते हैं.
  • छायांकन निर्देशक (DoP)एक छायाकार होता है जो पूरी फिल्म के छायांकन का पर्यवेक्षण करता है.
  • ऑडियोग्राफी का निर्देशक एक ऑडियोग्राफर होता है जो पूरी फिल्म के ऑडियोग्राफी का पर्यवेक्षण करता है. पश्चिमी दुनिया में निर्माण के लिए इस भूमिका को ध्वनि डिजाइनर या ध्वनि संपादन का पर्यवेक्षण करने वाले के रूप में भी जाना जाता है.[2]
  • उत्पादन ध्वनि-मिश्रक फिल्म निर्माण अवस्था के दौरान ध्वनि विभाग के प्रमुख होते है. वे सेट पर के संवाद, प्रस्तुति और ध्वनि प्रभाव के मोनो एवं परिवेश के अनुसार ध्वनि की रिकार्डिंग और मिक्सिंग स्टेरिओ में करते हैं. वे बूम ऑपरेटर, निदेशक, डीओए ,डीओपी और प्रथम सहायक निर्देशक के साथ काम करते हैं.
  • ध्वनि डिजाइनर पर्यवेक्षण करने वाले ध्वनि संपादक के साथ कार्य करते हुए, फिल्म की श्रव्य अवधारणा का निर्माण करता है[3]. कुछ प्रोडक्शनों में साउण्ड डिजाइनर ऑडियोग्राफी निर्देशक की भूमिका निभाता है.
  • संगीतकार फिल्म के लिए नया संगीत बनाता है (प्राय: पोस्ट-प्रोडक्शन के पहले नहीं).
  • प्रोडक्शन डिजाइनर कला निर्देशक के साथ कार्य करते हुए फिल्म की दृश्य अवधारणा का निर्माण करता है.[3]
  • कला निर्देशक कला विभाग का प्रबंधन करता है, जो प्रोडक्शन सेटों का निर्माण करता है.
  • कॉस्ट्यूम डिजाइनर कलाकारों और अन्य विभागों के साथ मिलकर फिल्म के पात्रों के लिए कपड़े बनाता है.
  • श्रृंगार और हेअर डिजाइनर कॉस्ट्यूम डिजाइनर के साथ मिलकर पात्रों का एक निश्चित लुक तैयार करता है.
  • चित्र योजना कलाकार निर्देशक की मदद के लिए दृश्य चित्रों का निर्माण करते हैं और प्रोडक्शन डिजाइनर निर्माण दल तक उनके विचारों को पहुंचाता है.
  • नृत्य निर्देशक जुम्बिश और नृत्य का निर्माण और समन्वय करता है- औम तौर पर संगीत के लिए. कुछ फिल्मों में फाईट कोरियोग्राफर भी रखे जाते हैं.

निर्माण[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: Cinematography एवं Audiography


निर्माण में, वीडियो/फिल्म बनाई और शूट की जाती है. इस चरण में अधिक चालक दल की भर्ती की जाती है जैसे कि संपत्ति मालिक, पटकथा पर्यवेक्षक, सहायक निर्देशक, चित्र फोटोग्राफर, चित्र संपादक और ध्वनि संपादक. यह सब फिल्म निर्माण में आम भूमिकाएं होती हैं, प्रोडक्शन कार्यालय फिल्म निर्माण के दौरान विभिन्न संभावित जिम्मेदारियों के लिहाज से भूमिका के किसी भी अद्वितीय मिश्रण का निर्माण करने के लिए स्वतंत्र होता है.

एक विशिष्ट दिन की शूटिंग चालक दलों के निर्धारित सेट/लोकेशन पर बुलाए गए समय पर पहुंचने के साथ ही शुरू होती है. अभिनेताओं के आमतौर पर अपने अलग कॉल समय होते हैं. चूंकि सेट निर्माण, ड्रेसिंग और लाइटिंग में घंटो या एक दिन भी लग सकते हैं, इसलिए प्राय: उन्हें पहले ही तैयार कर लिया जाता है.
ग्रीप, बिजली और उत्पादन डिजाइन चालक दल आमतौर पर कैमरा और ध्वनि विभागों से एक कदम आगे रहते हैं: दक्षता की खातिर, जबकि एक दृश्य फिल्माया जा रहा होता है, वे पहले से ही अगले की तैयारी कर रहे होते हैं.

जब चालक दल अपने उपकरण तैयार करते हैं, अभिनेता अपनी वेशभूषा के लिए वस्त्रागार, बाल और श्रृंगार विभागों के चक्कर लगा रहे होते हैं. अभिनेता निर्देशक के साथ बंध कर पटकथा का अभ्यास करते हैं और कैमरा और ध्वनि चालक दल भी उनके साथ अभ्यास करते हैं और अंतिम ट्वेक का निर्माण करते हैं. अंत में, एक्शन को निर्देशक की इच्छाओं के अनुरूप कई टेकों में शूट किया जाता है. ज्यादातर अमेरिकी प्रोडक्शन एक विशेष प्रक्रिया का पालन करते हैं:

सहायक निदेशक सभी को यह सूचित करने के लिए कि टेक रिर्काड होने वाला है "पिक्चर इज अप" कह कर बुलाता है. और उसके बाद "क्वायट एभ्रीवन" कहता है. एक बार जब हर कोई शूट करने के लिए तैयार हो जाता है, वह "रोल राउण्ड" कह कर पुकारता है (यदि टेक में ध्वनि शामिल रहता है) और प्रोडक्शन साउण्ड मिक्सर अपने यंत्रों को चला देता है, टेक की सूचनाओं के एक मौखिक स्लैट को रिकॉर्ड करता है और घोषणा करता है "साउण्ड स्पीड" जब वे तैयार हो जाते हैं. इसके बाद एडी कहता है "रोल कैमरा" और जब कैमरा एक बार रिकार्डिंग शुरू कर देता है तो कैमरा संचालक जबाब देता है "स्पीड". क्लैपर, जो पहले से ही क्लैपबोर्ड के सात कैमरे के सामने होता है, कहता है "मार्कर!" और झटके से बंद करता है. यदि टेक में अतिरिक्त या पृष्ठभूमि एक्शन शामिल रहता है तो एडी उसको कतारबद्ध ("एक्शन बैकग्राउण्ड!")करता है, और सबसे अंत में निर्देशक होता है जो अभिनेताओं को "एक्शन!" कहता है.

जब निर्देशक "कट!" कहता है, एक टेक समाप्त हो जाता है, और कैमरा और ध्वनि रिकॉर्डिंग रोक देते हैं. पटकथा पर्यवेक्षक किसी भी निरंतरता के मुद्दों को नोट करता है और साउण्ड और कैमरा की टीमें अपनी-अपनी शीट पर तकनीकी टिप्पणियां दर्ज करती हैं. अगर निर्देशक यह फैसला करता है कि अतिरिक्त टेकों की जरूरत है तो पूरी प्रक्रिया फिर से दुहराई जाती है. जब वह संतुष्ट हो जाता है, चालक दल अगले कैमरा कोण या "सेटअप," की ओर बढ़ते है," जब तक कि पूरा दृश्य "कवर" नहीं हो जाता. जब एक दृश्य के लिए शूटिंग समाप्त हो जाती है तो सहायक निर्देशक एक "रैप" या "मूविंग ऑन" की घोषणा करता है, और चालक दल उस दृश्य के सेट को रोक देते हैं या विघटित कर देते हैं.

दिन के अंत में, निर्देशक अगले दिन की शूटिंग शेड्यूल की मंजूरी देता है और एक दैनिक प्रगति रिपोर्ट निर्माण कार्यालय को भेज दी जाती है. इसमें निरंतरता, ध्वनि, और कैमरा टीमों की रिपोर्ट शीट शामिल रहती हैं. यह बताने के लिए कि अगले दिन की शूटिंग कब और कहां होगी, कॉल शीट कलाकारों और चालक दलों में वितरित की जाती है. बाद में, निर्देशक, निर्माता, अन्य विभाग के प्रमुख, और, कभी कभी, कलाकार भी उस दिन, या बीते हुए दिन के फूटेज, जिसे डैलीज कहा जाता है, को देखने के लिए और अपने कार्य की समीक्षा के लिए इकट्ठे हो सकते हैं.

दूरदराज के स्थानों में 14 या 18 घंटे तक चलने वाले कार्य दिवसों के साथ, फिल्म निर्माण एक टीम भावना पैदा करता है. जब पूरी फिल्म पूरी हो सकने की अवस्था में या निर्माण चरण की समाप्ति की स्थिति में होती है, प्रथानुसार निर्माण कार्यालय सभी कलाकारों और चालक दलों का धन्यवाद ज्ञापित करने के लिए एक रैप पार्टी आयोजित करता है.

पोस्ट-प्रोडक्शन[संपादित करें]

यहाँ वीडियो/फिल्म संपादक द्वारा वीडियो/फिल्म एकत्रित की जाती है. फिल्म निर्माण की प्रक्रिया में वीडियो की आधुनिक उपयोगिता के कारण दो वेरिएंट परिणाम निकले हैं: एक पूरी तरह से फिल्म का उपयोग कर, और अन्य फिल्म और वीडियो के मिश्रण का उपयोग कर.

फिल्म के कार्य में, मूल कैमरा फिल्म को विकसित और एक यांत्रिक एडिटिंग मशीन से संपादन करने के लिए एक वन-लाइट वर्कप्रिंट ( पोजिटिव) में कॉपी की जाती है. पिक्चर फ्रेम की स्थिति को बताने के लिए फिल्म में एक एज़ कोड को रिकॉर्ड किया जाता है. अविड या फाइनल कट प्रो जैसे नॉन-लिनियर संपादन व्यवस्था के विकसित होने के बाद से, कुछ प्रोडक्शनों के द्वारा ही फिल्म वर्कफ्लो का इस्तेमाल किया जाता है.

वीडिओ वर्कफ़्लो में, मूल कैमरा नेगेटिव को विकसित किया जाता है और कंप्यूटर एडिटिंग सॉफ्टवेयर से संपादन करने के लिए उसे टेलिसाइन किया जाता है. पिक्चर फ्रेम की स्थिति को लोकेट करने के लिए वीडिओ में एक टाइमकोड रिकॉर्ड किया जाता है. इस प्रक्रिया के दौरान निर्माण ध्वनि को भी वीडियो पिक्चर फ्रेम के साथ-साथ बढ़ाया जाता है.

फिल्म संपादक का पहला काम व्यक्तिगत "टेक्स" (शॉट्स) पर आधारित सिक्वेन्स (दृश्य) से लिए गए रफ कट को निर्मित करना होता है. रफ कट का उद्देश्य सबसे अच्छे शॉट का चुनाव करना और उसे क्रम में सजाना होता है. निर्देशक आमतौर पर यह सुनिश्चित करने के लिए की अनुरूप शॉट्स का चयन किया जाय, संपादक के साथ काम करता है. अगला कदम सभी दृश्यों के द्वारा एक बढ़िया कट निर्मित करना होता है ताकि वह एक अखंड कहानी के साथ सहज रूप से प्रवाहित हो सके. ट्रिमिंग, कुछ सेकेंडों में दृश्यों को छांटने की एक प्रक्रिया, या फ्रेम भी, इसी चरण के दौरान होता है. फाइन कट के चुन लिए जाने के बाद और निर्देशक और निर्माता द्वारा अनुमोदित होने के बाद फिल्म को "ताला बंद" कर दिया जाता है, जिसका मतलब यह होता है कि अब उसमें कोई परिवर्तन नहीं किया जाएगा. इसके बाद, संपादक स्वत: या हाथ से निगेटिव कट सूची (एज़ कोड का इस्तेमाल करते हुए) या एक संपादन निर्णय सूची (टाइमकोड का इस्तेमाल करते हुए) बनाता है. ये संपादन सूचियां फाइन कट में प्रत्येक दृश्य के पिक्चर फ्रेम के स्त्रोत की पहचान करती हैं.

एक बार जब पिक्चर लॉक कर दी जाती है तो उसे साउण्ड ट्रैक बनाने के लिए ध्वनि-विभाग के पोस्टप्रोडक्शन ध्वनि पर्यवेक्षण संपादक के हाथों में सौंप दिया जाता है. आवाज रिकॉर्डिंग को सिंक्रनाइज़ किया जाता है और रि-रिकॉर्डिंग मिक्सर के द्वारा अंतिम ध्वनि मिश्रण तैयार किया जाता है. ध्वनि मिश्रण में संवाद, ध्वनि प्रभाव, एटमोस, एडीआर, वाल्ला, फोलेज और संगीत शामिल हैं.

ध्वनि ट्रैक और पिक्चर को एक साथ युक्त किया जाता है, और यह फिल्म में निम्न गुणवत्ता आंसर प्रिंट का परिणाम है. अब रिकॉर्डिंग माध्यम पर निर्भर करते हुए उच्च गुणवत्ता रिलीज़ प्रिंट का निर्माण करने के लिए दो संभावित वर्कफ्लो होते हैं:

  1. फिल्म वर्फ़्कलो में, फिल्म-आधारित आंसर प्रिंट की व्याख्या करने वाली कट सूची का प्रयोग मूल कलर निगेटिव (OCN) को काटने के लिए प्रयुक्त की जाती है और कलर मास्टर पोजिटिव या इंटरपोजिटिव प्रिंट नामक एक कलर टाइम्ड कॉपी निर्मित की जाती है. बाद के सभी चरणों के लिए यह प्रभावी रूप से मास्टर प्रतिलिपि बन जाती है. अगले कदम में कलर डुप्लिकेट निगेटिव या इंटरनिगेटिव नामक एक वन-लाइट कॉपी तैयार की जाती है. इसी कॉपी से अंतिम रूप से सिनेमा घरों में रिलीज करने के लिए बहुत सारी कॉपियां तैयार की जाती हैं. इंटरनिगेटिव से कॉपी करना सीधे-सीधे इंटरपोजिटीव से कॉपी करने की अपेक्षा ज्यादा आसान होता है क्योंकि यह वन-लाइट प्रक्रिया है; और यह इंटरपोजिटिव प्रिंट के खुरदरेपन को भी कम करता है.
  2. वीडियो वर्कफ्लो में, वीडिओ आधारित आंसर प्रिंट की व्याख्या करने वाली संपादन निर्णय सूची का उपयोग मूल कलर टेप(OCT) का संपादन करने और एक उच्च गुणवत्ता वाले कलर मास्टर टेप तैयार करने के लिए किया जाता है. बाद के सभी चरणों के लिए यह प्रभावी रूप से मास्टर कॉपी बन जाती है. अगले कदम में फिल्म रिकॉर्डर का उपयोग कलर मास्टर टेप को पढ़ने और और सिनेमाघरों में रिलीज करने वाले प्रिंट निर्मित करने हेतु प्रत्येक वीडियो फ्रेम को सीधे-सीधे फिल्म में कॉपी करने के लिए किया जाता है.

अंत में सामान्य रूप से लक्षित दर्शकों के द्वारा फिल्म का पूर्वावलोकन किया जाता है, और प्रतिक्रियाओं के आधार पर आगे की शूटिंग और संपादन किया जा सकता है.

फिल्म को एक साथ रखने के दो तरीके हो सकते हैं. एक रास्ता रेखीय संपादन और अन्य गैर रेखीय संपादन का है.

रेखीय संपादन फिल्म का उपयोग इस तरह से करता है जैसे यह एक सतत फिल्म है. फिल्म के सभी भाग पहले से ही क्रम में होते हैं और उन्हें इधर-उधर ले जाने की या करने की जरूरत नहीं होती.

इसके विपरीत, गैर रेखीय संपादन में टेप किए गए क्रम को ध्यान में नहीं रखा जाता है. दृश्य चारों ओर घुमाए जा सकते हैं या हटा भी दिए जाते हैं.

वितरण और प्रदर्शनी[संपादित करें]

यह अंतिम चरण है, जहां फिल्म सिनेमाघरों में रिलीज की जाती है या, कभी-कभी उपभोक्ता माध्यम (डीवीडी, वीसीडी, वीएचएस, ब्लू-रे) में रिलीज की जाती है, या प्रोवाइडर से सीधे-सीधे डाउनलोड की जाती है. सिनेमाघरों में वितरण की जरूरत के हिसाब से फिल्म को अनुलिपित किया जाता है. प्रेस किट, पोस्टर, और अन्य विज्ञापन सामग्री प्रकाशित की जाती है और फिल्म का प्रचार किया जाता है. फिल्म कंपनियां आमतौर पर फिल्म को एक लौंच पार्टी, प्रेस विज्ञप्ति, प्रेस के साथ साक्षात्कार, प्रेस समीक्षा स्क्रिंनिंग, और फिल्मोत्सव स्क्रिनिंग के साथ रिलीज करती हैं. अधिकांश फिल्मों की एक वेबसाइट होती है. फिल्म चयनित सिनेमाघरों में चलती है और डीवीडी आमतौर पर कुछ महीनों के बाद जारी की जाती है. फिल्म और डीवीडी के वितरण का अधिकार भी आम तौर पर दुनिया भर में वितरण के लिए बेचा जाता है. वितरक और प्रोडक्शन कंपनी लाभ को आपस में बांटती है.

स्वतंत्र फिल्म निर्माण[संपादित करें]

फिल्म निर्माण मुख्य धारा के बाहर भी होता है और आमतौर पर इसे स्वतंत्र फिल्म निर्माण कहा जाता है. डीवी प्रौद्योगिकी की शुरूआत के बाद से प्रोडक्शन के साधन और अधिक गणतांत्रिक हो गए हैं. फिल्म निर्माता संभावित रूप से फिल्म को शूट और संपादित कर सकते हैं, ध्वनि और संगीत बना और संपादित कर सकते हैं और अपने घर के कंप्यूटर पर अंतिम कट को मिक्स कर सकते हैं. हालांकि, प्रोडक्शन के साधन भले ही गणतांत्रिक हो जायं, निवेश, पारंपरिक वितरण, और मार्केटिंग के कारण पारंपरिक व्यवस्था से बाहर जाना बहुत कठिन है. अतीत में, अधिकतर स्वतंत्र फिल्म निर्माता अपने फिल्म पर ध्यान दिलाने और वितरण के लिए बेचने की गरज से फिल्मोत्सवों पर भरोसा करते थे. बहरहाल, इंटरनेट ने स्वतंत्र फिल्मों के वितरण का अपेक्षाकृत सस्ता माध्यम सुलभ कराया है. परिणामस्वरूप कई कंपनियों स्वतंत्र फिल्में दिखाने के लिए फिल्म निर्माताओं की सहायता में उठ खड़ी हुई हैं और वे मुख्य धारा के इंटरनेट बाजारों में उसे बेचती हैं, यहां तक कि हालिवुड की कई लोकप्रिय फिल्मों को भी. डिजिटल स्व वितरण के साथ, स्वतंत्र फिल्म निर्माताओं के पास, जो एक परंपरागत वितरण सौदा जुटाने में विफल हो गए थे, वैश्विक दर्शकों तक पहुंचने की क्षमता है.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • सिनेमाई तकनीक
  • सिनेमेटोग्राफी
  • ऑडियोग्राफी
  • ऑडियोग्राफी के निदेशक उर्फ ध्वनि निदेशक, ध्वनि निदेशक
  • फिल्म
  • फिल्म के कर्मचारी
  • फिल्म संपादन
  • फ़िल्म निर्माता
  • फिल्म स्कूल
  • पोस्ट-प्रोडक्शन
  • पूर्व निर्माण
  • पटकथा
  • फिल्म से संबंधित विषयों की सूची

संदर्भ[संपादित करें]

  • कैम्पबेल, ड्रियू: गैर-तकनीकी लोगों के लिए तकनीकी फिल्म और टीवी. ऑलवर्थ संचार 2002.
  1. Steiff, Josef (2005). The Complete Idiot's Guide to Independent Filmmaking. Alpha Books. pp. 26–28. 
  2. फिल्म ध्वनि: सिद्धांत और व्यवहार , एलिसाबेथ विज़ और जॉन बेल्टन द्वारा संपादित, कोलंबिया विश्वविद्यालय प्रेस (1985) - पृष्ठ 361
  3. विन्सेंट लोब्रुटो द्वारा साउंड-ऑन-फिल्म (1994)

एलए (LA) 411 प्रोडक्शन निर्देशिका
न्यूयॉर्क 411 प्रोडक्शन निर्देशिका

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]

विकिबुक्स[संपादित करें]

विकीवर्सिटी[संपादित करें]