प्रायोपवेशन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जीवनपर्यंत संकल्पपूर्वक आहार का त्याग करके ध्यानस्थ मुद्रा में आसीन होने को प्रायोपवेशन कहा है। भागवत पुराण में उल्लेख है कि पांडववंशी राजा परीक्षित ने गंगा किनारे अनशन व्रत स्वीकार किया और समस्त संग छोड़कर वे श्रीकृष्ण के चरणों में लीन हो गए। वायु पुराण के अनुसार इंद्र द्वारा उसे शिष्यों की हत्या किए जाने पर सुकर्मा ने भी प्रायोपवेशन व्रत स्वीकार किया था।