प्रवेशद्वार:इलेक्ट्रॉनिक्स

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज



बदलें  

इलेक्ट्रॉनिक्स प्रवेशद्वार

इलेक्ट्रॉनिक्स परिपथ
विज्ञान के अन्तर्गत इलेक्ट्रॉनिक्स या एलेक्ट्रानिकी वह क्षेत्र है जो विभिन्न प्रकार के माध्यमों ( निर्वात, गैस, धातु, अर्धचालक, नैनो-स्ट्रक्चर आदि) से होकर आवेश ( मुख्यतः इलेक्ट्रॉन) के प्रवाह एवं उसके प्रभाव का अध्ययन करता है। प्रौद्योगिकी के रूप में इलेक्ट्रानिक्स वह क्षेत्र है जो विभिन्न एलेक्ट्रानिक युक्तियों (प्रतिरोध, संधारित्र, कुंडी, डायोड, ट्रांजिस्टर, एकीकृत परिपथ आदि) का प्रयोग करके उपयुक्त विद्युत परिपथ का निर्माण करने एवं उनके द्वारा विद्युत संकेतों को वांछित तरीके से बदलने से सम्बन्धित है। इसमें तरह-तरह की युक्तियों का अध्ययन, उनमें सुधार तथा नयी युक्तियों का निर्माण आदि भी शामिल है। ऐतिहासिक रूप से एलेक्ट्रानिक्स एवं वैद्युत प्रौद्योगिकी का क्षेत्र समान रहा है और दोनो को एक दूसरे से अलग नही माना जाता था। किन्तु अब नयी-नयी युक्तियों, परिपथों एवं उनके द्वारा सम्पादित कार्यों में अत्यधिक विस्तार हो जाने से एलेक्ट्रानिक्स को वैद्युत प्रौद्योगिकी से अलग शाखा के रूप में पढाया जाने लगा है। इस दृष्टि से अधिक विद्युत-शक्ति से सम्बन्धित क्षेत्रों (पावर सिस्टम, विद्युत मशीनरी, पावर एलेक्ट्रानिक्स आदि) को विद्युत प्रौद्योगिकी के अन्तर्गत माना जाता है जबकि कम विद्युत शक्ति एवं विद्युत संकेतों के भांति-भातिं के परिवर्तनों (प्रवर्धन, फिल्टरिंग, मॉड्युलेश, एनालाग से डिजिटल कन्वर्शन आदि) से सम्बन्धित क्षेत्र को इलेक्ट्रानिक्स कहा जाता है। विस्तार में...
बदलें  

चयनित लेख

तीन रंगों के एलईडी
प्रकाश उत्सर्जक डायोड एक अर्ध चालक-डायोड होता है, जिसमें विद्युत धारा प्रवाहित करने पर यह प्रकाश उत्सर्जित करता है। यह प्रकाश इसकी बनावट के अनुसार किसी भी रंग का हो सकता है-लाल,नारंगी, हरा, पीला, नीला या श्वेत। एल.ई.डी कई प्रकार की होती हैं। इनमें मिनिएचर, फ्लैशिंग, हाई पावर, अल्फा-न्यूमेरिक, बहुवर्णी और ओ.एल.ई.डी प्रमुख हैं। यह एक इलेक्ट्रॉनिक चिप है जिसमें से बिजली गुज़रते ही उसके इलेक्ट्रॉन पहले तो आवेशित हो जाते हैं और उसके बाद ही, अपने आवेश वाली ऊर्जा को प्रकाश के रूप में उत्सर्जित कर देते हैं। इसका मुख्य प्रकाशोत्पादन घटक गैलियम आर्सेनाइड होता है। इसके प्रमुख लाभ ऊर्जा की कम खपत, लंबा जीवनकाल, उन्नत दृढ़ता, छोटा आकार और तेज स्विचन आदि हैं। इसके आविष्कारक निक होलोनिक को एलईडी के पितामह के रूप में जाना जाता है।  विस्तार में...
बदलें  

चयनित चित्र

CRT color enhanced.png
दूरदर्शन एवं मॉनीटर आदि के लिये प्रयोग होने वालीकैथोड किरण नलिका का चित्र।
बदलें  

इलेक्ट्रॉनिक्स के रूपांकन

AC-DC-converter.png
एक सरल डी.सी से ए.सी कन्वर्टर
{{{1}}}
बदलें  

संबंधित प्रवेशद्वार

बदलें  

चयनित युक्ति

पैनासोनिक का १०३ इंच का प्लाज़्मा पटल
प्लाज्मा टीवी एक प्रकार का हाईडेफिनेशन टीवी (एचडीटीवी) होता है, जो कि प्रायः प्रचलित कैथोड किरण दूरदर्शी का विकल्प हैं। प्लाज्मा एक वैज्ञानिक शब्द है, जिसको कि निऑन और ज़ेनॉन आदि अक्रिय (इनर्ट) गैसों के संदर्भ में प्रयोग किया जाता है। द्रव्य, गैस और ठोस के अलावा प्लाज्मा को पदार्थ की चतुर्थ अवस्था के रूप में प्रयोग किया जाता है। टेलीविजन में हजारों की संख्या में छोटे-छोटे घटक होते हैं, जिन्हें पिक्सल कहते हैं। रंगीन टेलीविजनों में तीन वर्ण मिलकर एक पिक्सल का निर्माण करते हैं। इनमें सामान्यत: प्रकाश के तीन प्राथमिक रंग लाल, हरा और नीला का प्रयोग किया जाता है। वहीं प्लाज्मा टीवी में प्रत्येक पिक्सल अक्रिय गैस जैसे कि निऑन और जीनॉन के छोटे-छोटे पात्रों से मिलकर बना होता है।प्लाज्मा टीवी में अनुमानित हजारों की संख्या में ऐसे छोटे-छोटे टय़ूब उपस्थित होते हैं। प्रत्येक पिक्सल को दो वैद्युत आवेशित प्लेटों के बीच में रखा जाता है। विद्युत धारा का प्रवाह करने पर प्लाज्मा चमकता है। विस्तार में...
बदलें  

चयनित जीवनी

माइकेल फैराडे
माइकेल फैराडे, अंग्रेज भौतिक विज्ञानी एवं रसायनज्ञ थे। उन्होने विद्युत धारा के चुम्बकीय प्रभाव का आविष्कार किया। उसने विद्युतचुम्बकीय प्रेरण का अध्ययन करके उसको नियमवद्ध किया। इससे डायनेमों तथा विद्युत मोटर का निर्माण हुआ। बाद में गौस के विद्युतचुम्बकत्व के चार समीकरणों में फैराडे का यह नियम भी सम्मिलित हुआ। फैराडे ने विद्युत रसायन पर भी बहुत काम किया और इससे सम्बन्धित अपने दो नियम दिये।इस महान् वैज्ञानिक का जन्म 22 सितंबर, 1791 ई. को हुआ। इनके पिता बहुत गरीब थे और लुहारी का कार्य करते थे। इन्होंने अपना जीवन लंदन में जिल्दसाज की नौकरी से प्रारंभ किया। समय मिलने पर रसायन एव विद्युत् भौतिकी पर पुस्तकें पढ़ते रहते थे। सन् १८१३ ई. में प्रसिद्ध रसायनज्ञ, सर हंफ्री डेबी, के व्याख्यान सुनने का इन्हें सौभाग्य प्राप्त हुआ। इन व्याख्यानों पर फैराडे ने टिप्पणियाँ लिखीं और डेबी के पास भेजीं। सर हंफ्री डेबी इन टिप्पणियों से बड़े प्रभावित हुए और अपनी अनुसंधानशाला में इन्हें अपना सहयोगी बना लिया। फैराडे ने लगन के साथ कार्य किया और निरंतर प्रगति कर सन् 1833 में रॉयल इंस्टिट्यूट में रसायन के प्राध्यापक हो गए। विस्तार में...
बदलें  

श्रेणियां

बोरोबुदुर मंदिर


इलेक्ट्रॉनिक्स  विकिसमाचार पर  इलेक्ट्रॉनिक्स  विकिक्वोट पर  इलेक्ट्रॉनिक्स  विकिपुस्तक पर  इलेक्ट्रॉनिक्स  विकिस्रोत पर  इलेक्ट्रॉनिक्स  विक्षनरी पर  इलेक्ट्रॉनिक्स  विकिवर्सिटी पर  इलेक्ट्रॉनिक्स विकिमीडीया कॉमन्स पर
समाचार उद्धरण पाठ & विवरणिकाएं पाठ व्याख्याएं शिक्षण स्रोत चित्र & मीडिया
Wikinews-logo.svg
Wikiquote-logo.svg
Wikibooks-logo.svg
Wikisource-logo.svg
Wiktionary-logo-en.svg
Wikiversity-logo.svg
Commons-logo.svg