प्रत्याहार (योग)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

संस्कृत व्याकरण के सन्दर्भ में प्रत्याहार का अलग अर्थ है। यहाँ पातञ्जल योग से सम्बन्धित प्रत्याहार की चर्चा की गयी है।


प्रत्याहार, पातंजल द्वारा प्रतिपादित अष्टांग योग का पाँचवाँ चरण है।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]