प्रकाशवीर शास्त्री

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्रकाशवीर शास्त्री ( 30 दिसम्बर, 1923 - 23 नवम्बर, 1977) भारतीय संसद के सांसद थे। उनका मूल नाम 'ओमप्रकाश त्यागी' था। उन्होने 'शास्त्री' की उपाधि बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय से प्राप्त की थी।

उनके भाषणों में तर्क बहुत शक्तिशाली होते थे। उनके विरोधी भी उनके प्रशंसक बन जाते थे। अटलजी मानते हैं कि प्रकाशवीरजी उनसे भी बेहतर वक्ता थे।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

प्रकाशवीर शास्त्री ने हिंदी, धर्मांतरण, अराष्ट्रीय गतिविधियों तथा पांचवें और छठे दशक की अनेक ज्वलंत समस्याओं पर अपने बेबाक विचार व्यक्त किए। 1957 में आर्य समाज द्वारा संचालित हिंदी आंदोलन में उनके भाषणों ने जबर्दस्त जान फूंक दी थी। सारे देश से हजारों सत्याग्रही पंजाब आकर गिरफ्तारियॉं दे रहे थे।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

प्रकाशवीरजी अगर निर्दलीय रहते (जनसंघ, चरणसिंह-पार्टी और कांग्रेस में नहीं जाते) और सिर्फ आर्य समाज का नेतृत्व करते रहते तो शायद अधिक प्रभावी होते। लेकिन आर्य समाजे के तत्कालीन सांगठनिक नेताओं ने उन्हे बहुत परेशान किया।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]