पेरो दा कोविल्हा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
 
परो और अफ़ोन्सो दा पेवा साथ में अदन 1487-1488 (हरे रंग में);
 
कोविल्हा अकेले 1489-†1490 (नारंगी रंग में);
 
कोविल्हा की इथियोपिया यात्रा, 1490-†1530? (नीले रंग में);
 
वास्को दा गामा की 1497-1499 की प्रथम भारत यात्रा (काले रंग में)

पेरो दा कोविल्हा (1460-1526) एक पुर्तगाली जासूस था जिसे 1487 में (अफ़ोन्सो दा पेवा के साथ) भारत खोज में जमानी रास्ते से पूर्व की ओर रवाना किया गया था । वो मिस्र होते हुए लाल सागर तक पहुँचा । फिर अकब सागर होते हुए कुन्नूर केरल का तट पर आया । वापस काहिरा आने पर उसे अपने साथी से मुलाकात नहीं हो पाई, हाँलांकि दो और पुर्तगाली जासूसों ने उससे मुलाक़ात की । उनके हाथों सूचना भेजकर वो इथियोपिया पहुंच गया - जहाँ के राजा ने उसे पापस भेजने की बात तो कही पर उसकी मृत्यु के बाद उसके बेटे ने अपना सलाहकार नियुक्त कर लिया लेकिन वापस नहीं भेजा । उसके द्वारा भेजी गई जानकारी बाद के पुर्तगाली और अन्य यूरोपीय सामुद्रिक अन्वेषणों में बहुत काम आई ।