पुरातात्त्विक सिद्धांत

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पुरातात्त्विक सिद्धांत, अनेकों भिन्न बौद्धिक ढांचों को संदर्भित करते हैं, जिसके जरिये पुरातत्वविद पुरातात्विक आंकड़ों या सामग्रियों की व्याख्या करते हैं. पुरातत्व के लिए कोई एकल सिद्धांत नहीं है, बल्कि अनेकोण सिद्धांत हैं, जिसके अनुसार पुरातत्वविद यह विश्वास करते हैं कि सूचना की अलग-अलग तरह से व्याख्या की जानी चाहिए. इस ज्ञानक्षेत्र के पूरे इतिहास के दौरान कुछ पुरातात्त्विक सिद्धांतों के लिए समर्थन की विभिन्न प्रवृत्तियां उभरीं, चरम पर पहुंचीं और कुछ मामलों में उनका खात्मा हो गया. कुछ पुरातात्त्विक सिद्धांतों, जैसे प्रक्रियात्मक पुरातत्व का मानना है कि पुरातत्वविद अपनी खोजबीन में वैज्ञानिक विधि का उपयोग कर भूतकाल के समाजों के बारे में सटीक और वस्तुनिष्ठ सूचना विकसित करने में सक्षम हो सकते हैं, जबकि उत्तर-प्रक्रियात्मक पुरातत्व जैसा खेमा इसकी सत्यता पर सवाल करता है और यह दावा करता है कि पुरातात्त्विक सामग्री को मानवीय व्याख्या और सामाजिक कारकों द्वारा विकृत किया जा सकता है और इसलिए भूतकाल के समाजों के बारे में उनकी कोई व्याख्या व्यक्तिनिष्ठ ही होती है.[1]

इसके बदले मार्क्सवादी पुरातत्व जैसे अन्य पुरातात्त्विक सिद्धांत, पुरातात्विक साक्ष्य को इस ढांचे के भीतर व्याख्यायित करते हैं कि कैसे इसके समर्थक समाज के संचालन और उसके विकास के सम्बन्ध में क्या मत रखते हैं.

पुरातात्त्विक सिद्धांत[संपादित करें]

सांस्कृतिक- ऐतिहासिक पुरातत्व[संपादित करें]

पुरातात्त्विक सिद्धांत के इतिहास में पहला प्रमुख चरण सामान्यतः सांस्कृतिक या संस्कृति इतिहास के रूप में संदर्भित किया जाता है. स्थलों को अलग "संस्कृतियों" में समूहबद्ध करना सांस्कृतिक इतिहास का एक उत्पाद है, जिससे कि इन संस्कृतियों का भौगोलिक फैलाव और इनके समय के दायरे को निर्धारित किया जा सके एवम उन दोनों के बीच अंत:क्रिया और विचारों के प्रवाह का पुनर्निर्माण किया जा सके. सांस्कृतिक इतिहास, जैसा कि नाम से ही पता चलता है, इतिहास के विज्ञान के साथ निकटता से संबद्ध है. सांस्कृतिक इतिहासकारों ने संस्कृति के प्रसामिक मॉडल को नियोजित किया, जो सिद्धांत यह बताता है कि प्रत्येक संस्कृति मानव व्यवहार को संचालित करने वाले तरीकों का एक समूह है. इस प्रकार, संस्कृतियों को शिल्प कौशल के पैटर्न से अलग किया जा सकता है, उदाहरण के लिए यदि खुदाई से निकले एक के बर्तनों के टुकड़े को त्रिकोणीय पैटर्न से सजाया गया है तो दूसरा चारखानेदार पैटर्न के साथ, और संभव है वे अलग-अलग संस्कृतियों से संबंधित हों. इस तरह का एक दृष्टिकोण स्वाभाविक रूप से भिन्न आबादियों, उनके मतभेदों द्वारा वर्गीकृत और एक-दूसरे पर उनके प्रभावों के रूप में अतीत के एक दृश्य की ओर पहुंचाता है. व्यवहार में परिवर्तनों को फैलाव द्वारा समझाया जा सकता है, जहां सामाजिक और आर्थिक संबंधों के माध्यम नये विचारों का एक संस्कृति से दूसरी संस्कृति में प्रसार हुआ.

ऑस्ट्रेलियाई पुरातत्वविद् वेरे गॉर्डन चिल्डी ऐसे पहले व्यक्ति थे, जिन्होंने संस्कृतियों के बीच, विशेष रूप से प्रागैतिहासिक यूरोप के संदर्भ में, संबंधों की अवधारणा की खोज की और उसका विस्तार किया. 1920 के दशक तक पर्याप्त पुरातात्त्विक सामग्री की खुदाई हुई और उनका अध्ययन किया गया, जिससे पता चला कि विस्तारवाद एकमात्र तंत्र नहीं था, जिसके माध्यम से परिवर्तन हुआ. अंतर-युद्ध अवधि में हुई राजनीतिक उथल-पुथल से प्रभावित चिल्डी ने तब तर्क दिया था कि क्रांतियों ने अतीत के समाजों में बड़े बदलावों को आकार दिया. उन्होंने एक नवपाषाण क्रांति का अनुमान लगाया, जिसने लोगों को भटकते हुए शिकार करने के बदले बसने और खेती करने के लिए प्रेरित किया. इसने सामाजिक संगठन में उल्लेखनीय बदलाव लाये होंगे, जिसने चिल्डी के तर्क के मुताबिक दूसरी शहरी क्रांति का नेतृत्व किया, जिसने प्रारंभिक नगरों का गठन किया. इस सूक्ष्म पैमाने वाली सोच अपने आप में क्रांतिकारी थी और चिल्डी के विचारों को आज भी व्यापक रूप से प्रशंसा पप्प्त है औरउनके विचारों को सम्मा‍नित किया जाता है.

प्रक्रियात्मक पुरातत्व (नया पुरातत्व)[संपादित करें]

1960 के दशक में कई युवा प्राथमिक तौर पर लेविस बिनफोर्ड जैसे अमेरिकी पुरातत्वविदों ने सांस्कृतिक इतिहास के मानदंडों के खिलाफ बगावत की. उन्होंने एक "नये पुरातत्व" का प्रस्ताव किया, जो और अधिक "वैज्ञानिक" और "मानव वैज्ञानिक" था. उन्होंने संस्कृति को व्यवहारात्मक प्रक्रियाओं और परंपराओं के एक सेट के रूप में देखा. (समय के साथ इस विचार ने प्रक्रियात्मक पुरातत्व वाक्यांशों को बढ़ावा दिया). प्रक्रियावादियों ने परिकल्पना परीक्षण और वैज्ञानिक पद्धति के विचार से यथार्थवादी विज्ञानों को ग्रहण किया. उनका मानना था कि एक पुरातत्वविद् को अध्ययन के तहत ली गई एक संस्कृति के बारे में एक या अधिक परिकल्पनाएं विकसित करनी चाहिए और ताजा सबूतों के खिलाफ इन परिकल्पनाओं के परीक्षण के इरादे से खुदाई करनी चाहिए. वे पुरानी पीढ़ी के उपदेशों से भी निराश हो गये, जिसके माध्यम से संस्कृतियों ने स्वयं का अध्ययन किये जा रहे लोगों पर अग्रगामिता ले ली. यह बड़े पैमाने पर नृविज्ञान के सबूत के माध्यम से स्पष्ट होता जा रहा था कि जातीय समूहों और उनके विकास पुरातात्त्विक रिकॉर्ड में संस्कृतियों के साथ हमेशा पूरी तरह से अनुकूल नहीं थे.

व्यवहारात्मक पुरातत्व[संपादित करें]

1970 के दशक के मध्य में माइकल बी स्चीफर द्वारा पुरातात्त्विक सामग्रियों के अध्ययन का एक दृष्टिकोण विकसित किया गया, जिसके तहत मानव व्यवहार और व्यक्तिगत कार्यों, खासकर भौतिक संस्कृति के निर्माण, उपयोग और निपटारे के संदर्भ में, के विश्लेषण की विशेष सुविधा मिली. विशेष रूप से इसमें यह देखने और समझने पर ध्यान केंद्रित किया गया कि लोगों ने वास्तव में क्या किया था, जबकि उस व्यवहार की व्याख्या करने में लोगों के विचारों और इरादों को ध्यान में रखने से परहेज किया गया.

उत्तर प्रक्रियात्मक पुरातत्व[संपादित करें]

1980 के दशक में ब्रिटिश पुरातत्वविदों माइकल शैंक्स, क्रिस्टोफर टिली, डैनियल मिलर और इयान होडर के नेतृत्व में एक नया आंदोलन उठ खड़ा हुआ. इसने विज्ञान के प्रतिप्रक्रियावाद के प्रति आकर्षण और निष्पक्षता पर यह दावा करते हुए सवाल उठाया कि वास्तव में हर पुरातत्वविद् अपने या अपने व्यक्तिगत अनुभव और पृष्ठभूमि द्वारा पूर्वाग्रहग्रस्त होता है और इस प्रकार सही मायने में वैज्ञानिक पुरातात्त्विक काम मुश्किल या असंभव है. यह खासकर पुरातत्व में पूरी तरह सच है, जहां प्रयोग (खुदाई) दूसरों द्वारा संभवत: नहीं दोहराया जा सकता, जैसा कि वैज्ञानिक पद्धति कहती है. इस सापेक्षकीय पद्धति, जिसे उत्तर प्रक्रियात्मक पुरातत्व कहा जाता है, के समर्थकों ने न केवल अपनी खुदाई से निकले सामग्रिक अवशेषों, बल्कि अपने दृष्टिकोणों और विचारों का विश्लेषण किया. पुरातात्त्विक साक्ष्य के प्रति विभिन्न दृष्टिकोणों, जिसे हर व्यक्ति अपनी (पुरुष या स्त्री) व्याख्या करता है, का परिणाम प्रत्येक व्यक्ति के लिए अतीत के विभिन्न निर्माणों के रूप में निकलता है. ऐसे क्षेत्रों में इस दृष्टिकोण का लाभ आगंतुक की व्याख्या, सांस्कृतिक संसाधन प्रबंधन और पुरातत्व में नैतिकता, साथ ही साथ क्षेत्र कार्य के रूप में दिखता है. इसे संस्कृति के इतिहास के साथ समानांतर रूप से देखा गया है. हालांकि, प्रक्रियावादी इसे बिना वैज्ञानिक योग्यता वाला कहकर आलोचना करते हैं. वे बताते हैं कि स्वयं का विश्लेषण किसी परिकल्पना को और अधिक मान्य नहीं करता, क्योंकि एक वैज्ञानिक के हस्तकृति की तुलना में खुद के बारे में पूर्वाग्रहग्रस्त होने की अधिक संभावना होती है. और अगर आप खुदाई की पुनरावृति नहीं कर सकते तो आपको जितना गहन रूप से संभव हो विज्ञान का पालन करने की कोशिश करनी चाहिए. आख़िरकार, बरामद की गई हस्तकृतियों या खुदाई से मिली जानकारी के आधार पर बने तंत्र सिद्धांतों पर ही पूरी तरह से वैज्ञानिक प्रयोग किये जा सकते हैं.

उत्तर-प्रक्रियावाद ने उन सभी के लिए छत्रछाया का काम किया, जिन्होंने संस्कृति के प्रक्रियात्मक मॉडल को गलत ठहराया, जिसे उदाहरण के लिए कई नारीवा‍दियों और नव मार्क्सवादी पुरातत्वविदों द्वारा लोगों को नासमझ स्वचलन के रूप में मानने और उनके व्यक्तित्व की अवहेलना करने के तौर पर माना जाता है.

वैश्विक क्षेत्र[संपादित करें]

पुरातात्विक सिद्धांत का यह फर्क दुनिया के सभी भागों में हूबहू नहीं विकसित हुआ, जहां पुरातत्व या इस ज्ञानक्षेत्र के के कई उप क्षेत्रों में मौजूद था. परंपरागत विरासत संबंधी आकर्षण अक्सर अपनी व्याख्या सामग्री में एक सत्य लगने वाले और समझ में आने वाले सांस्कृतिक इतिहास तत्व को बरकरार रख सकते हैं, जबकि विश्वविद्यालय के पुरातात्त्विक विभाग अतीत के समझने और समझाने के और अधिक गूढ़ तरीकों का पता लगाने का वातावरण प्रदान करते हैं. ऑस्ट्रेलियाई पुरातत्वविदों और कई दूसरों, जो स्वदेशी लोगों के साथ काम करते हैं और जिनके विरासत संबंधी विचार पश्चिमी अवधारणाओं से अलग होते हैं, ने उत्तरप्रक्रियावाद को अपनाया है. संयुक्त राज्य अमेरिका में हालांकि व्यावसायिक पुरातत्वविद मुख्यतः प्रक्रियावादी हैं [1] और यह पिछला दृष्टिकोण उन अन्य देशों में आम है, जहां वाणिज्यिक सांस्कृतिक संसाधन प्रबंधन प्रचलित है.

विचारधारा का प्रभाव[संपादित करें]

पुरातत्व एक सांस्कृतिक, लिंग संबंधी और राजनीतिक युद्धभूमि रहा है और अब भी है. कई समूहों ने कुछ वर्तमान सांस्कृतिक या राजनीतिक बात साबित करने के लिए पुरातत्व के उपयोग की कोशिश की है. यूएसएसआर (USSR) (सोवियत संघ) और ब्रिटेन (दूसरों के अलावा) में मार्क्सवादी या मार्क्सवाद-प्रभावित पुरातत्वविदोन ने अक्सर द्वंद्वात्मक भौतिकवाद का सत्य साबित करने और सामाजिक परिवर्तन पैदा करने में भूमिका समूहों (जैसे पुरुष बनाम स्त्री, अग्रज बनाम अनुज, मालिक बनाम श्रमिक) के बीच संघर्ष की अतीत (और वर्तमान) की भूमिका को उजागर करने का प्रयास किया है. कुछ समकालीन सांस्कृतिक समूहों ने सफलता की विभिन्न मात्राओं के साथ पुरातत्व का उपयोग जमीन के एक क्षेत्र के स्वामित्व के अपने ऐतिहासिक अधिकार साबित करने की कोशिश की है. पुरातत्व विभाग के कई समूह पितृसत्तात्मक रहे हैं, जो यह सोचते हैं कि प्रागैतिहासिक पुरुष सबसे अधिक भोजन शिकार द्वारा ही हासिल करते थे और महिलाएं समूह में कम पोषण का उत्पादन करती थीं; और अधिक हाल के अध्ययनों में इस तरह के कई सिद्धांतों की अपर्याप्तता उजागर हो गई है. कुछ पश्चिमी सभ्यता के सतत उर्ध्व प्रगति के समर्थन में तीन युगों वाली प्रणाली में "महान युग" के सिद्धांत को अंतर्निहित करते हैं. अधिक समकालीन पुरातत्व नव डार्विन विकासवादी विचार, घटना विज्ञान, उत्तर-आधुनिकतावाद, एजेंसी सिद्धांत, संज्ञानात्मक विज्ञान, प्रकार्यवाद, लिंग आधारित और नारीवादी पुरातत्व और प्रणाली सिद्धांत द्वारा प्रभावित हैं

संदर्भ[संपादित करें]

फुटनोट्स[संपादित करें]

  1. ट्रिगर 2007: 01.

ग्रन्थसूची[संपादित करें]

  • ट्रिगर, ब्रुस जी. (2007) अ हिस्ट्री ऑफ़ आर्कियोलॉजिकल थॉट (दूसरा संस्करण). न्यूयॉर्क: कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी प्रेस.
  • होडर, इयान. (1991) पोस्टप्रोसेसुअल आर्कियोलॉजी एंड द करेंट डिबेट. इन प्रोसेसुअल एंड पोस्ट-प्रोसेसुअल आर्कियोलॉजिज़: मल्टिपल वेज़ ऑफ़ नोइंग द पास्ट, आर. प्रयूसल द्वारा संपादित, पीपी 30-41. कार्बनडेल में सीएआई (CAI) सदर्न इलिनोइस विश्वविद्यालय, ओकेश़नल पेपर संख्या 10.
  • प्रैटज़ेलिस, ए. (2000) डेथ बाई थ्योरी: अ तेल ऑफ़ मिस्ट्री एंड आर्कियोलॉजिकल थ्योरी . अलतामीरा प्रेस. [2]

साँचा:Archaeological Theory