पित्ताशय-उच्छेदन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
लैप्रोस्कोप के माध्यम से देखा गया लैप्रोस्कोपिक पित्ताशय-उच्छेदन
लैप्रोस्कोपिक पित्ताशय-उच्छेदन के दौरान एक्स-रे

पित्ताशय-उच्छेदन (Cholecystectomy) (उच्चारित/ˌkɒləsɪsˈtɛktəmi/, बहुवचन: cholecystectomies) पित्ताशय हटाने की शल्य-चिकित्सा है। यह लाक्षणिक पित्त-पथरियों के इलाज की सबसे आम विधि है। शल्य-चिकित्सा विकल्पों में शामिल हैं अंतर-उदर दर्शन (लैप्रोस्कोपिक) पित्ताशय-उच्छेदन नामक मानक प्रक्रिया और खुला पित्ताशय-उच्छेदन (ओपन कोलेसिस्टेक्टोमी) नामक पुरानी अधिक आक्रामक प्रक्रिया.

खुला शल्यचिकित्सा[संपादित करें]

एक परंपरागत खुला पित्ताशय-उच्छेदन एक बड़ी उदरीय शल्य-चिकित्सा है जिसमें शल्यकार एक 5-7 इंच के चीरे के माध्यम से पित्ताशय को हटाता है। आम तौर पर रोगी रात भर अस्पताल में रहते हैं और घर पर उनके ठीक होने में कई और सप्ताह लग सकते हैं।

लैप्रोस्कोपिक सर्जरी[संपादित करें]

अंतर-उदर दर्शन पित्ताशय-उच्छेदन ने अब पित्त-पथरियों के उपचार और पित्ताशय के फुलाव के लिए इलाज की पहली पसंद के रूप में खुले पित्ताशय-उच्छेदन को प्रतिस्थापित किया है, जब तक कि अंतर-उदर दर्शन दृष्टिकोण में परहेज़ न हो. कभी-कभी, एक अंतर-उदर दर्शन पित्ताशय उच्छेदन को तकनीकी कारणों से या सुरक्षा की दृष्टि से खुले पित्ताशय-उच्छेदन में बदल दिया जाता है।

चित्र:Cholecyctectomy surgery.jpg
एक अमेरिकी नौसेना के सामान्य सर्जन और एक ऑपरेटिंग कक्ष की नर्स लैप्रोस्कोपिक पित्ताशय-उच्छेदन सर्जरी करते समय उचित प्रक्रियाओं पर चर्चा करते हुए.

अंतर-उदरदर्शन पित्ताशय-उच्छेदन में लगभग 5-10 मि.मी. व्यास वाले छोटे बेलनाकार नलियों के ज़रिए शल्य-चिकित्सा उपकरणों और वीडियो कैमरा को उदरीय गुहा में रखने हेतु, उदर के भीतर शल्य-चिकित्सक संद्वारों के सन्निवेश के लिए कई छोटे चीरों की आवश्यकता होती है। कैमरा शल्यक क्षेत्र को प्रदीप्त करता है और शरीर के अंदर से एक वीडियो मॉनिटर को आवर्धित छवि भेजता है, जिससे सर्जन को अंगों और ऊतकों के निकट का दृश्य दिखाई देता है। सर्जन मॉनिटर को देखता है और शल्य-चिकित्सा संद्वारों के माध्यम से शल्य-चिकित्सा उपकरणों से काम लेते हुए ऑपरेशन करता है।

ऑपरेशन शुरू करने के लिए, रोगी का संज्ञाहरण किया जाता है और उसे ऑपरेटिंग टेबल पर निष्क्रिय स्थिति में रखा जाता है। नाभि पर एक छोटा-सा चीरा बनाने के लिए एक स्कैलपेल का इस्तेमाल किया जाता है। या तो एक वेरेस सुई या हैसन तकनीक के उपयोग द्वारा उदर गुहा में प्रवेश किया जाता है। सर्जन काम के लिए जगह बनाने हेतु उदरीय गुहा को कार्बन डाइऑक्साइड से फुलाता है। कैमरे को नाभि-संद्वार के माध्यम से अंदर रखा जाता है और उदर गुहा का निरीक्षण किया जाता है। अतिरिक्त संद्वारों को अधिजठर, मध्य-जत्रुकीय और अग्रवर्ती कक्षीय स्थितियों में पसलियों के नीचे रखा जाता है। पित्ताशय बुध्न की पहचान की जाती है, कसकर पकड़ा जाता है और बढ़िया तरीक़े से खींच लिया जाता है। दूसरे पकड़ के साथ, कैलोट त्रिकोण (यकृत की अधोवर्ती सीमा, पुटीय वाहिनी और सामान्य यकृत-नली द्वारा बद्ध क्षेत्र) को अनावृत करने और खोलने के लिए पित्ताशय कीप को पार्श्विक रूप से खींचा जाता है। उदरावरण को हटाने और अधःशायी संरचनाओं को देखने के लिए त्रिकोण को धीरे से विच्छेदित किया जाता है। पुटीय वाहिनी और पुटीय धमनी की पहचान की जाती है, छोटे टाइटेनियम क्लिपों के साथ नियंत्रित किया जाता है और काटा जाता है। इसके बाद पित्ताशय को यकृत संस्तर से दूर विच्छेदित किया जाता है और किसी एक संद्वार के माध्यम से हटाया जाता है। इस प्रकार की शल्य-चिकित्सा में अतिसावधान शल्य कौशल की ज़रूरत होती है, लेकिन सीधे मामले एक घंटे में निपटाए जा सकते हैं।

हाल ही में, यह प्रक्रिया रोगी की नाभि में एक चीरे के माध्यम से की जाने लगी है। यह उन्नत तकनीक लैप्रोएंडोस्कोपिक सिंगल साइट सर्जरी या "LESS" कहलाती है।

प्रक्रियात्मक जोखिम और जटिलताएं[संपादित करें]

अंतर-उदर दर्शन पित्ताशय-उच्छेदन में उदरीय मांसपेशियों को काटने की आवश्यकता नहीं होती है, जिसके परिणामस्वरूप कम दर्द, तेज़ी से रोगहरण, उन्नत कॉस्मेटिक परिणाम और संक्रमण तथा आसंजन जैसी कम जटिलताएं पेश आती हैं। अधिकांश रोगियों को सर्जरी के दिन ही या अगले दिन अस्पताल से रिहा किया जा सकता है और अधिकांश रोगी एक सप्ताह के अंदर किसी भी प्रकार के व्यवसाय में दुबारा लौट सकते हैं।

एक असामान्य लेकिन संभावित गंभीर जटिलता है पित्ताशय और यकृत को जोड़ने वाली सामान्य पित्त नली को चोट. एक चोटिल पित्त नली पित्त का रिसाव कर सकती है और दर्दनाक और संभवतः ख़तरनाक संक्रमण पैदा कर सकती है। सामान्य पित्त नली को पहुंचने वाली मामूली चोट के कई मामलों को बिना शल्य-चिकित्सा के प्रबंधित किया जा सकता है। तथापि, पित्त नली को प्रमुख चोट, एक बहुत ही गंभीर समस्या है और इसके लिए सुधारात्मक सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है। यह सर्जरी के अनुभवी पित्तज सर्जन द्वारा क्रियान्वित होनी चाहिए.[1]

उदरीय आवरण आसंजन, कोथग्रस्त पित्ताशय और दृष्टि को धुंधला करने वाली अन्य समस्याओं में लगभग 5% लेप्रोस्कोपिक सर्जरियों के दौरान उजागर होती हैं, जो सर्जनों को पित्ताशय के सुरक्षित उच्छेदन के लिए मानक पित्ताशय-उच्छेदन को अपनाने के लिए मजबूर करती हैं। ज़ाहिर है, आसंजन और विगलन, काफ़ी गंभीर हो सकता है, लेकिन खुली सर्जरी में परिवर्तन से तात्पर्य जटिलता नहीं है।

सितंबर 1992 में राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थान द्वारा आयोजित एक आम सहमति विकास सम्मेलन पैनल ने पित्ताशय हटाने के लिए एक सुरक्षित और प्रभावी शल्य-चिकित्सा उपचार के रूप में लैप्रोस्कोपिक पित्ताशय-उच्छेदन की पुष्टि की, जिसे पारंपरिक ओपन सर्जरी के समकक्ष प्रभावी माना गया। तथापि, पैनल ने नोट किया कि लैप्रोस्कोपिक पित्ताशय-उच्छेदन केवल अनुभवी सर्जनों द्वारा और केवल पित्त-पथरियों के लक्षण वाले मरीज़ों पर क्रियान्वित होनी चाहिए.

इसके अलावा, पैनल ने नोट किया कि लैप्रोस्कोपिक पित्ताशय-उच्छेदन प्रक्रिया उसे निष्पादित करने वाले सर्जन के प्रशिक्षण, अनुभव, कौशल और अनुमान से काफ़ी प्रभावित होती है। इसलिए, पैनल ने सिफारिश की कि लेप्रोस्कोपिक सर्जरी में प्रशिक्षण और प्रत्यायक मंजूर करने, योग्यता निर्धारण और गुणवत्ता पर निगरानी के लिए सख्त दिशा निर्देश विकसित किए जाएं. पैनल के अनुसार, पित्त-पथरियों के उपचार के लिए अनाक्रामक दृष्टिकोण विकसित करने की दिशा में प्रयास जारी रहे, जो न केवल वर्तमान पथरियों को ख़त्म करे, बल्कि उनके निर्माण या पुनरावृत्ति को भी रोक सके.

पित्ताशय-उच्छेदन की एक आम जटिलता है लुश्का वाहिनी नाम से ज्ञात एक असामान्य पित्त वाहिनी को अनजाने में चोट पहुंचना, जो 33% लोगों के मामले में घटित होता है। यह पित्ताशय निकालने तक ग़ैर-समस्यात्मक है और एक छोटी अधिवस्तिक वाहिनी का अपूर्णतः दहन हो सकता है या वह अप्रत्यक्ष रह सकती है, जो ऑपरेशन के बाद पित्त रिसाव में तब्दील हो सकती है। मरीज़ में सर्जरी के बाद 5 से 7 दिनों के अंदर पित्तज उदावरणशोथ विकसित हो सकता है और एक अस्थायी पित्तीय स्टेंट की आवश्यकता हो सकती है। यह ज़रूरी है कि चिकित्सक पित्तज उदावरणशोथ की संभावना को शीघ्र पहचान लें और अस्वस्थता-दर को कम करने के लिए HIDA स्कैन के माध्यम से निदान की पुष्टि करें. निदान के बाद जितनी जल्दी हो सके आक्रामक पीड़ा प्रबंधन और एंटीबायोटिक चिकित्सा प्रारंभ की जानी चाहिए.

उत्तक परीक्षा[संपादित करें]

पित्ताशय को निकालने के बाद, उसे उत्तक परीक्षा के लिए भेजा जाना चाहिए (रोग परीक्षा) ताकि निदान की पुष्टि हो सके और आकस्मिक कैंसर का पता लगाएं. यदि कैंसर मौजूद है, तो अधिकांश मामलों में यकृत और लसीकापर्व के हिस्से को हटाने के लिए दुबारा ऑपरेशन की आवश्यकता होगी.[2]

दीर्घावधिक पूर्वानुमान[संपादित करें]

जनता की 5% से 40% अल्पसंख्या में पित्ताशय-उच्छेदनोत्तर सिंड्रोम या PCS नामक अवस्था विकसित हो सकती है।[3] लक्षणों में जठरांत्रीय वेदना और ऊपरी दाएं उदर में लगातार दर्द शामिल हो सकता है।

लगभग बीस प्रतिशत रोगियों में चिरकालिक दस्त का विकास होता है। कारण स्पष्ट नहीं है, लेकिन पित्त प्रणाली की व्याकुलता शामिल मानी गई है। ज्यादातर मामले हफ़्ते भर में ठीक हो जाते हैं, हालांकि दुर्लभ मामलों में यह दशा कई वर्षों तक चलती रहती है। इसे दवाओं से नियंत्रित किया जा सकता है।[4]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. कपूर वी.के. बाइल डक्ट इन्जुरी रिपेयर - व्हेन? व्हाट? हू! जर्नल ऑफ़ HBP सर्जरी 2007; 14: 476-9.
  2. कपूर वी.के. आकस्मिक पित्ताशय कैंसर. 'अमेरिकन जर्नल ऑफ़ गैस्ट्रोएन्टरोलॉजी' 2001; 96: 627-629.
  3. "Postcholecystectomy syndrome". WebMD. http://www.webmd.com/hw-popup/Postcholecystectomy-syndrome. अभिगमन तिथि: 2007-08-25. 
  4. क्रोनिक डाइरिया: ए कन्सर्न आफ़्टर गैलब्लैडर रिमूवल? - MayoClinic.com

बाह्य लिंक[संपादित करें]

साँचा:Digestive system surgical procedures