पाकिस्तान में परिवहन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
पाकिस्तान परिवहन नेटवर्क
कराची में एक व्यस्त चौराहा, अन्य प्रकार के परिवहन दिखाते हुए

पाकिस्तान में परिवहन विस्तृत और विविध प्रकार के हैं लेकिन यह अभी भी विकास की प्रक्रिया में है और 170 मिलियन से भी अधिक व्यक्तियों को सेवा प्रदान कर रहा है.उर्दू: پاکِستان نقل و حمل

नए हवाई अड्डों, सड़कों और रेलवे मार्गों के निर्माण के फलस्वरूप देश में रोजगारों की संख्या में भी वृद्धि हुई है. पाकिस्तान का अधिकांश मार्ग तंत्र (राष्ट्रीय राजमार्ग) और रेलवे मार्ग तंत्र 1947 के पहले के बने हुए हैं, मुख्यतया ब्रिटिश राज के दौरान. हाल के वर्षों में, नए राष्ट्रीय राजमार्गों का निर्माण किया गया है, जिसमे वाहनों के लिए चौड़ा रास्ता भी बनाया गया है जिससे कि देश के अन्दर व्यापार और प्रचालन तंत्र की गति भी बढ़ गयी है. पिछले तीस वर्षों में हवाई अड्डों और समुद्र पत्तनों का निर्माण विदेशी और घरेलू वित्त्तीय कोष द्वारा संयुक्त रूप से हुआ है.

स्थानीय परिवहन[संपादित करें]

चित्र:CNG Green Bus Islamabad.jpg
सिटी बस इस्लामाबाद
उड़ान प्रशिक्षक
मोटरबाइक्स/स्कूटर

नगरीय क्षेत्रों में परिवहन के कई साधन उपलब्ध हैं जो भिन्न बजट वाली उपभोक्ता श्रंखला को सेवा प्रदान कर रहे हैं.

बसें[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: Customised buses and trucks in Pakistan
  • घरेलू

शहरों के अन्दर बसें बड़ी संख्या में यात्रियों के एक स्थान से दूसरे स्थान तक आवागमन करने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं. हाल में, कई शहरों की सड़कों पर विशाल सीएनजी (CNG) बसे मिनीवैन के रूप में उतारी गयी हैं मुख्यतया कराची, लाहौर और कुछ ही समय पूर्व इस्लामाबाद में क्योंकि वास्तव में वहां जिन बसों का प्रयोग होता था उसके कारण ट्रैफिक की बड़ी समस्याएं होती थीं. मिनीवैन निजी, पीले रंग के वाहन होते हैं जो पाकिस्तान के सभी शहरों में अपनी सेवाएं प्रदान करते हैं और कम लागत में ही यात्रियों को एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले जाने में सक्षम होते हैं. हालांकि वर्ष 2000 से, यहां की सरकार ने व्यापक स्तर पर बसों की वर्तमान श्रंखला के आधुनिकीकरण और इसके द्वारा पर्यावरण पर पड़ने वाले प्रभाव को न्यूनतम करने की पहल की है. यह सार्वजनिक-निजी उद्यम धीरे-धीरे पूरे देश में 8,000 सीएनजी (CNG) बसें और कराची में 800 बसें उतारेगा. इस उद्यम की सहायता से उच्च स्तरीय कुशलता और स्वच्छता सुनिश्चित की जा सकेगी.[1]

  • शहर के अन्दर

नगरीय क्षेत्रों में शहरों के मध्य बस सेवा अच्छी तरह से व्यवस्थित हो चुकी है और यह सेवा सार्वजनिक और निजी दोनों ही क्षेत्रों द्वारा प्रदान की जा रही है. डाइवू एक्सप्रेस, कोहिस्तान, खान ब्रदर्स, स्काइवेज़ और नियाज़ी एक्सप्रेस जैसी बस सेवाओं ने शहरों के अन्दर चलने वाली आधुनिक बस सेवा प्रतिष्ठित की है जो पाकिस्तान के अधिकांश शहरों तक जाती हैं और 24 घंटे चलती हैं. शहरों के अन्दर चलने वाली बस सेवाएं प्रायः अधिक आधुनिक और अच्छे रखरखाव वाली होती हैं.

  • अन्तर्राष्ट्रीय परिवहन

पाकिस्तान में अंतर्राष्ट्रीय बस सेवा भी अच्छी प्रकार से प्रतिष्ठित है और विभिन्न देशों तक जाती है:

ऑटो रिक्शा[संपादित करें]

पुराने रिक्शा के साथ पर्यावरण के मुद्दों में वृद्धि के कारण, सरकार भारी हरियाली और अधिक ईंधन कुशल रिक्शा में निवेश किया है
कार और ऑटो रिक्शा शहर के भीतर यात्रा करने के लिए कुछ सबसे आम परिवहन हैं

ऑटो रिक्शा शहरों की यात्रा के लिए लोकप्रिय साधन रहा है और पाकिस्तान के लगभग हर शहर व कस्बे में पाया जाता है. कोई यात्रा शुरू करने से पूर्व ही इनके किराये में मोलभाव कर लिया जाता है, हालांकि ऑटो रिशा द्वारा होने वाले प्रदूषण के स्तर के कारण हाल में ही सरकार ने पुराने ऑटो रिक्शा पर प्रतिबन्ध लगा दिया है और उनके स्थान नए सीएनजी (CNG) चालित ऑटो रिक्शा ने ले लिया है जो अपेक्षाकृत कम शोर करते हैं, प्रदूषकों का निर्माण भी कम करते हैं तथा पुराने ऑटो रिक्शा की तुलना में अधिक बड़े और आरामदायक हैं. 2005 में पंजाब सरकार ने यह निर्णय किया कि लाहौर, मुल्तान, फैसलाबाद, रावलपिंडी और गुजरांवाला में टू स्ट्रोक तिपहिया वाहनों के स्थान पर सीएनजी (CNG) लगे फोर स्ट्रोक वाहन लाये जायेंगे. तीन उत्पादनकर्ताओं को 60,000 फोर स्ट्रोक वाहनों के निर्माण की आज्ञा दी गयी लेकिन जानकारी के अनुसार उन्होंने सरकार को सिर्फ 2,000 वाहनों की आपूर्ति की जो अब शहरों की सड़कों पर चल रहे हैं. पकिस्तान के अन्य प्रान्तों में भी अब इसी प्रकार के आदेश लागू करने पर विचार किया जा रहा है. पाकिस्तान में परिवहन की एक नयी शैली का नाम Qing-Qi (जिसका उच्चारण "चिन्ग-ची" होता है) है, जोकि मोटरसाइकिल और ऑटो-रिक्शा के बीच की चीज़ है. यह बिलकुल एक मोटरसाइकिल की तरह दौड़ती है लेकिन दो पहिये के स्थान पर इसमें तीन पहिये होते हैं और यह काफी अधिक वज़न वहन कर सकती है. यह नगरीय परिवहन का माध्यम है और इसका प्रयोग कम दूरी की यात्रा के लिए किया जाता है.

टैक्सियां[संपादित करें]

अन्य सबसे प्रचलित दृश्य जो मुख्यतया होटलों और हवाई अड्डों पर देखने को मिलता है, वह है पीली टैक्सियां. इसके चालाक कार के डैशबोर्ड पर लगे हुए एक मीटर के अनुसार किराया लेते हैं लेकिन कोई मीटर न होने की स्थिति में किराये के सम्बन्ध में मोलभाव किया जा सकता है. इस वाहन के चालाक विश्वसनीय होते हैं और यात्रियों को किसी भी गंतव्य स्थल तक ले जाते हैं. अनेकों निजी रूप से संचालित सेवाएं भी हैं जो पूरे पाकिस्तान में कारों और छोटी बसों को चलाती हैं और परिवहन के लिए एक विश्वसनीय और त्वरित माध्यम उपलब्ध कराती हैं. हाल में, पाकिस्तान में रेडियो कैब की शुरुआत हुई जो यात्रियों को निकटतम टैक्सी स्टैंड से संपर्क करने के लिए एक निःशुल्क नम्बर पर कॉल करने की सुविधा देती है. यह सुविधा वर्तमान में इस्लामाबाद, रावलपिंडी, कराची, पेशावर और लाहौर में दी जा रही है. अब हैदराबाद और सियालकोट में भी यह सुविधा उपलब्ध कराये जाने पर काम चल रहा है.

कारें[संपादित करें]

इतने वर्षों में पाकिस्तान की सड़कों पर कारों की संख्या तीन गुनी हो गयी है. पाकिस्तान के बड़े शहरों में ट्रैफिक जाम का दृश्य अत्यंत सामान्य है. पाकिस्तान की सड़कों पर चलने वाली सबसे प्रसिद्द कारों में हैं, सुज़ुकी मेहरान, सुज़ुकी कल्टस, सुज़ुकी ऑल्टो, सुज़ुकी बोलान, डाईहट्सू कोर, ह्यूंडई सैंट्रो, होंडा सिविक, होंडा सिटी, होंडा अकॉर्ड, टोयोटा कोरोला और टोयोटा विट्ज़. 2005 के उत्तरार्ध में सुजुकी एपीवी (ऑल परपज़ वेहिकल) को लेकर आयी जो पाकिस्तान की पहली फैमिली लक्ज़री वैन थी. पाकिस्तान में यूटिलिटी वेहिकल (SUV या 4x4 वाहन) दिखना भी अतिसामान्य है. इस प्रकार की कार अत्यंत बहुक्रियात्मक (मल्टीफंक्शनल) होती है क्योंकि यह शहरों के अन्दर और एक शहर से दूसरे शहर तक जाने हेतु लंबी दूरी की यात्र और ख़राब सड़कों पर चलाने के लिए भी उपयुक्त होती है. इसके सर्वाधिक प्रचलित मॉडल टोयोटा लैंड क्रूज़र, टोयोटा प्राडो, मित्सुबिशी पजेरो, किया स्पोर्टेज, लैंड रोवर रेंज रोवर और लेक्शस जीएक्स (GX) हैं. एडम रेवो पाकिस्तान की पहली उत्पादित कार है इसका निर्माण निम्न आया वर्ग परिवारों की आवश्यकताओं को पूर्ण करने के लिए किया गया था.

परंपरागत वाहन[संपादित करें]

व्यापक रूप से इस्तेमाल गधा गाड़ी स्थानीय रेरी के रूप में जाना जाता है.

छोटे कस्बों और कृषि क्षेत्रों में अनेक व्यक्ति काम पर जाने के लिए या रोजमर्रा की खरीदारी के लिए अपने निकटम किराने की दुकान तक पहुंचने के लिए पैदल चलना ही पसंद करते हैं. टट्टू और बैल गाडियां जिन्हें स्थानीय स्तर पर रेयरी के नाम से जाना जाता है, अब भी पाकिस्तान में हर तरफ देखे जा सकते हैं क्योंकि यहां गरीब होने के कारण लोग शहर के एक स्थान से दूसरे स्थान तक माल आदि ले जाने के लिए परिवहन के इसी साधन का प्रयोग करते हैं. जो माल लोग एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले जाते हैं उनमे फल और सब्जियों से लेकर औद्योगिक शहरों में स्थित कारखानों के लिए आवश्यक कपड़े और मशीन आदि तक शामिल होते हैं. द हाउस एंड कैरिएज, जिसे स्थानीय स्तर पर टांगा के नाम से जाना जाता है, उनका प्रयोग मुख्यतया शहर में अनौपचारिक भ्रमण के लिए किया जाता है. इसमें एक चालक होता है और सामने की और एक या दो घोड़े होते हैं. अब इस माध्यम का प्रयोग प्रायः वसंत और गर्मियों के मौसम में उन पर्यटकों द्वारा किया जाता है जो खुले वातावरण में शहर को देखना पसंद करते हैं. समय-समय पर यहां ऊंट और ठेलागाड़ी भी दिखायी पड़ती है. यह अधिकांशतया पाकिस्तान के गर्म क्षेत्रों में देखी जा सकती है जिसमे सिंध, पंजाब और बलुचिस्तान शामिल हैं जहां कि किसान उन बड़े मालवाहकों को ढोकर ले जाते हैं जिन्हें टट्टुओं द्वारा खींची जाने वाली गाड़ियां नहीं ले जा सकती हैं. साइकिलों का प्रयोग गरीब तबके के लोगों द्वारा या फुर्सत से सैर करने वाले लोगों द्वारा किया जाता है. यह माध्यम अब भी व्यापक स्तर पर उपयोग किया जाता है क्योंकि यह बहुत सस्ता और सरल है.

रेल[संपादित करें]

पाकिस्तान के रेल नेटवर्क
लाहौर रेलवे स्टेशन
कराची कैंट से लाहौर के लिए काराकोरम एक्सप्रेस जा रहा है.स्टेशन

घरेलू[संपादित करें]

पाकिस्तान में रेल सेवा राज्य संचालित, पाकिस्तान रेलवे द्वारा प्रदान की जाती है, जिसका पर्यवेक्षण रेल मंत्रालय द्वारा किया जाता है. पाकिस्तान रेलवे, पाकिस्तान में परिवहन का एक महत्त्वपूर्ण माध्यम है जो वृहत स्तर पर यात्रियों और माल के आवागमन की सेवा प्रदान करता है. रेलवे तंत्र के अंतर्गत 8,163 किलोमीटर[2] का क्षेत्र है जिसमे से 1,676 मिमी (5) (ब्रॉड गेज) अकेले ही 7,718 किलो मीटर का क्षेत्र समावेशित करता है और यह 293 किलोमीटर के विद्युतीकृत ट्रैक को भी सम्मिलित करता है. 1,000 मि.मी. (3 फीट 3⅜ इंच) नैरो गेज ट्रैक शेष 445 किलोमीटर में समाहित हैं. कुल आय का 50 प्रतिशत यात्रियों के किराये से प्राप्त होता है. 1999-2000 के दौरान यह 4.8 बिलियन रुपये तक हो गया था.[कृपया उद्धरण जोड़ें] पाकिस्तान रेलवे प्रतिवर्ष 65 मिलियन यात्रियों को आवागमन करता है और प्रतिदिन 228 मेल, एक्सप्रेस और पैसेंजर ट्रेनों को चलाता है. पाकिस्तान रेलवे विभिन्न अवसरों के लिए विशेष रेलगाड़ियां भी चलाता हैं. मालवाहक व्यापारिक इकाई जिसमे 12000 कर्मचारी हैं, यह रेलवे तंत्र पर 200 से भी अधिक मालवाहक अड्डों का परिचालन करती है. एफबीयू (FBU) कराची पत्तन और कासिम पत्तन पर कार्य करती है और साथ ही साथ तंत्र के अन्य कई अड्डों पर भी और यह कृषि संबंधी, औद्योगिक तथा आयातित वस्तुओं जैसे कि गेहूं, कोयला, खाद, सीमेंट और चीनी जैसी वस्तुओं की खरीद फरोख्त के द्वारा आय अर्जित करती है. लगभग 39 प्रतिशत आय पेट्रोलियम के परिवहन से प्राप्त होती है, 19 प्रतिशत गेहूं, खादों और रॉक फॉस्फेट के आयात से. शेष 42 प्रतिशत घरेलू ट्रैफिक के माध्यम से अर्जित होती है.[कृपया उद्धरण जोड़ें] माल वाहन की दर की रूपरेखा सड़क परिवहन के बाज़ार के रुख पर आधारित होती है जोकि रेल परिवहन का एक प्रमुख प्रतिस्पर्धी भी है.

व्यापक स्तर पर पारवहन[संपादित करें]

कराची सर्कुलर रेलवे जिसकी शुरूआत 1940 के दशक के पूर्वार्ध में हुई थी, वह आज तक पाकिस्तान की एकमात्र चलती हुई व्यापक पारवहन प्रणाली है. 1976 में कराची में एक भूमिगत मेट्रो संयत्र पर कार्य शुरू करने की प्रक्रिया चल रही थी लेकिन यह सभी योजनायें तब से ही विलंबित दी गयी है. एक अन्य प्रस्ताव लाहौर मेट्रो के लिए है जिस पर अभी भी योजना बनायी जा रही है और इसके 2020 तक समाप्त हो जाने की सम्भावना है.

अन्तर्राष्ट्रीय[संपादित करें]

Flag of ईरानईरान- ब्रॉड गेज की एक रेलवे लाइन ज़हेदन से क्वेटा तक चलती है और मानक गेज लाइन शेष ईरानी रेल तंत्र से जुड़ते हुए केन्द्रीय ईरान में ज़हेदन से कर्मन पर समाप्त हो जाती है. 18 मई 2007 को पाकिस्तान और ईरान द्वारा रेल निगम के लिए एक एमओयू (MOU) पर हस्ताक्षर किया गया जिसके अंतर्गत दिसंबर 2008 तक इस लाइन का कार्य पूरा होना था. अब जबकि रेल प्रणाली ज़हेदन पर जुड़ती है तो इस्लामिक रिपब्लिक ऑफ ईरान रेलवे के मानक गेज ट्रैक और पकिस्तान रेलवे के ब्रॉड गेज ट्रैक के बीच गेज विच्छेदित होता है.[3]

Flag of अफ़्गानिस्तानअफगानिस्तान- वर्तमान में अफगानिस्तान जाने के लिए कोई रेल मार्ग नहीं है क्योंकि उस देश में रेल तंत्र नहीं है हालांकि पाकिस्तान रेल ने तीन चरणों में एक अफगानी रेल नेटवर्क बनाने का प्रस्ताव दिया है. पहला चरण अफगानिस्तान में चमन से लेकर स्पिन बोल्डक तक फैला होगा. दूसरे चरण में लाइन को कंधार तक विस्तृत किया जायेगा और तीसरे चरण में इसे अंततः हेरात तक जोड़ा जायेगा. वहां से, लाइन को खुश्का, तुर्कमेनिस्तान तक बढ़ाया जायेगा. अंतिम चरण में 1,676 मिमी (5) गेज को 1,520 मि.मी. (4 फीट 11⅞ इंच) केन्द्रीय एशियाई गेज से जोड़ा जायेगा. यह स्पष्ट नहीं कि गेज विच्छेदन स्टेशन कहां पर होगा.[4] यह प्रस्तावित लाइन दल्बदीन और ताफ्तान से होते हुए ग्वाडर के पोर्ट टाउन से भी जोड़ी जायेगी, इस प्रकार यह पोर्ट टाउन को केन्द्रीय एशिया से जोड़ देगी.

Flag of चीनी जनवादी गणराज्य चीन- चीन के साथ जोड़ने वाली कोई लाइन नहीं है, हालांकि 28 फरवरी 2007 को समुद्र तल से 4730 मीटर की उंचाई पर स्थित खुन्जेराब पास से होते हुए हवेलियन से लेकर काश्घर स्थित चीनी रेलहेड तक, जिसकी कुल दूरी लगभग 750 किलोमीटर है, की प्रस्तावित लाइन की साध्यता अध्ययन के लिए ठेके दिए गए थे.[5]

हाल ही में, Flag of तुर्की तुर्की- इस्तांबुल-तेहरान-इस्लामाबाद यात्री रेल सेवा प्रस्तावित की गयी थी.[6]. इसी बीच पाकिस्तान के प्रधानमंत्री युसुफ़ रज़ा गिलानी द्वारा 14 अगस्त 2009 को इस्लामाबाद और इस्तांबुल के बीच एक कंटेनर ट्रेन सेवा चालू की गयी थी. पहली ट्रेन 20 कंटेनर लेकर गयी थी जिनकी क्षमता 750 t (साँचा:Convert/LT ST) थी [7] और इस्लामाबाद से तेहरान, इरान और इस्तांबुल तक दो सप्ताह के समय में 6,500 कि.मी. (4,000 मील) चलेगी. रेलवे मंत्री गुलाम अहमद बिलौर के अनुसार, कंटेनर ट्रेन सेवा के परीक्षण के बाद एक यात्री रेल भी शुरू की जायेगी.[8] इस बात की भी आशा है कि इस मार्ग द्वारा अंततः यूरोप और केन्द्रीय एशिया के लिए एक मार्ग प्राप्त हो जायेगा और यात्रियों का आवागमन हो सकेगा.[9]

Flag of तुर्कमेनिस्तान अफगानिस्तान - द्वारा तुर्कमेनिस्तान

सड़क[संपादित करें]

राष्ट्रीय राजमार्ग, पाकिस्तान के मोटर के सड़क और सामरिक सड़क.
कैरियन की ओर ग्रांड ट्रंक रोड
एम2 (M2): इस्लामाबाद से लाहौर

राष्ट्रीय राजमार्ग[संपादित करें]

1990 के दशक में पाकिस्तान ने देश के सभी राष्ट्रीय राजमार्गों को पुनः बनाने की एक एक निरंतर चलने वाली परियोजना की शुरुआत कर दी, विशेष रूप से उन राजमार्गों की जो महत्त्वपूर्ण वित्तीय, माल और कपड़ा उद्योग के केन्द्रीय शहरों से जोड़ते थे. द नैशनल हाइवे अथौरिटी (राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण) या एनएचए (NHA) पाकिस्तान के सभी राष्ट्रीय राजमार्गों के रखरखाव के लिए उत्तरदायी है.

  • मकरन तटीय राजमार्ग बलूचिस्तान के प्रान्तों और सिंध के तट के पीछे चलता है तथा कराची और ग्वाडर को जोड़ता है. नए तटीय राजमार्ग के बन जाने से यात्रा का समय घटकर 6 या 7 घंटे रह गया है. इस हाइवे का निर्माण दक्षिणी बलुचिस्तान की समग्र परिवहन सुविधाओं में सुधार करने के एक हिस्से के रूप में किया गया था.
  • यहां का कराकोरम राजमार्ग विश्व में सर्वाधिक उंचाई पर बनाया गया अंतर्राष्ट्रीय मार्ग है. यह खुन्जेराब पास के द्वारा कराकोरम पर्वत श्रृंखला के एक सिरे से दूसरे सिरे तक चीन और पाकिस्तान को जोड़ता है.
  • ग्रैंड ट्रंक रोड (आमतौर पर जीटी रोड के रूप में संक्षेपित) दक्षिणी एशिया की सबसे पुरानी और सबसे लम्बी प्रमुख सड़कों में से है. यह कई देशों के लिए दक्षिण एशिया के पूर्वीय और पश्चिमी क्षेत्रों को जोड़ती है, उत्तर भारत में में बंगाल से होते हुए यह पाकिस्तान में पेशावर से गुजरती है.
  • सिल्क रोड एशियाई महाद्वीप के एक ओर से दूसरी ओर तक व्यवसायिक मार्गों का एक विस्तृत अंतर्संयुक्त तंत्र है जो पूर्व, दक्षिण और पश्चिमी एशिया को भूमध्यसागर से जोड़ता है, यह उत्तरी अमेरिका और यूरोप को भी शामिल करता है. यह पकिस्तान के मध्य भाग में स्थित शहरों से होकर जाती है: पेशावर, तक्सिला और मुल्तान.

चौड़े वाहन मार्ग[संपादित करें]

चौड़े वाहन मार्गों का निर्माण 1990 के दशक की शरुआत से चालू हुआ था जिसके पीछे यह विचार था कि पूरे देश में एक विश्व स्तरीय मार्ग के निर्माण के द्वारा अत्यधिक बोझ का वहन करने वाले राष्ट्रीय राज मार्ग के बोझ को कम किया जाये. एम2 (M2) पहला चौड़ा वाहन मार्ग था जो १९९२ में पूरा हुआ था, यह इस्लामाबाद और लाहौर शहरों को जोड़ता है. पिछले 5 वर्षों में अनेकों नए इस प्रकार के मार्ग अस्तित्व में आये हैं जिसमे M1 और M3 भी शामिल हैं.

  • कुल: 257683 किमी
    • पक्के फर्श सहित निर्मित: 152033 किमी (इसमें एक्सप्रेसवे के 339 किमी भी शामिल हैं)
    • पक्के फर्श रहित: 105650 किमी (2001)
    • सड़क पर चलने वाले वाहनों की संख्या: 4.2 मिलियन वाहन, 250000 वाणिज्यिक वाहनों (2004 के अनुमान के अनुसार)

हवाई परिवहन[संपादित करें]

पाकिस्तान के हवाई अड्डे और बंदरगाह
जिन्ना अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा, कराची
अल्लामा इकबाल अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा, लाहौर

पाकिस्तान में 139 हवाई अड्डों है. मुख्य हवाई अड्डों में निम्न शामिल हैं:

  • जिन्ना अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा (कराची)
  • अल्लामा इकबाल अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा (लाहौर)
  • बेनजीर भुट्टो अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा (इस्लामाबाद/रावलपिंडी)
  • पेशावर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा (पेशावर)
  • क्वेटा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा (क्वेटा)
  • फैसलाबाद अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा (फैसलाबाद)
  • मुल्तान अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा (मुल्तान)
  • सियालकोट अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा (सियालकोट)
  • ग्वादर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा (ग्वादर)
  • शेख) जायद अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा (रहीम यार खान

यह खाड़ी देशों में बड़ी संख्या में प्रवासी पाकिस्तानियों के काम करने के कारण यहां कई छोटे हवाई अड्डे भी हैं जहां से खाड़ी देशों के लिए विमान आते जाते हैं. यहां 91 हवाई आड़े ऐसे हैं जिनकी हवाई पट्टी पक्के फर्श युक्त है इनमे से भी 14 हवाई आड़े ऐसे हैं जिनकी हवाई पट्टी 3,047 मीटर से भी लम्बी है. शेष 48 हवाई अड्डों की हवाई पट्टियां पक्के फर्श वाली नहीं हैं इनमे एक हवाई अड्डा ऐसा भी शामिल है जिसकी हवाई पट्टी 3,047 मीटर से भी लम्बी है. पाकिस्तान में 18 हेलिकॉप्टर उतारने के अड्डे भी हैं.[2]

जलमार्ग[संपादित करें]

पाकिस्तान में जलमार्ग नेटवर्क अपनी प्रारंभिक अवस्था में है जहां मात्र कराची ही एक ऐसा प्रमुख शहर है जो अरब सागर के निकटस्थ है. हालांकि फिर भी देश में सिन्धु नदी और पंजाब से होकर जाने वाले जलमार्ग के विकास की योजनायें प्रस्तावित की जा रही हैं जिससे कि रोजगार के अवसरों और पाकिस्तान के आर्थिक और सामाजिक विकास में वृद्धि होगी. पाकिस्तान में स्थित निर्जल पत्तनों और समुद्र पत्तनों की सूची देखें.

  • ग्वादर पोर्ट - ग्वादर, बलूचिस्तान
  • कराची पोर्ट - कराची (सिटी सेंटर), सिंध
  • पोर्ट कासिम - पूर्वीय कराची, सिंध
  • पसनी पोर्ट - पसनी, बलूचिस्तान

पाइपलाइनें[संपादित करें]

  • कच्चे तेल के लिए पाइप लाइन की लम्बाई 2,011 कि.मी. (1,250 मील) है.
  • पाइप लाइन के उत्पादों की लम्बाई पेट्रोलियम 787 कि.मी. (489 मील) है.
  • प्राकृतिक गैस पाइपलाइन की लम्बाई 10,402 कि.मी. (6,464 मील) है.

उपरोक्त जानकारी 2009 में की गयी गणना के अनुसार है.[2]

सेतु[संपादित करें]

  • योउई पुल
  • लैंसडाउन ब्रिज रोहरी

दीर्घा[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • पाकिस्तान के एयरलाइंस
  • ऑटो रिक्शा
  • पाकिस्तान में अनुकूलित बसें और ट्रक
  • पाकिस्तान सिविल एविएशन ऑथोरिटी
  • काराकोरम राजमार्ग
  • खैबर घाटी
  • लाहौर रेलवे स्टेशन
  • मकरन तटीय राजमार्ग
  • मोबाइल वर्ल्ड पत्रिका
  • पाकिस्तान की सड़कें
  • पाकिस्तान के राष्ट्रीय राजमार्ग
  • कराची के बंदरगाह
  • पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस

संदर्भ[संपादित करें]

  1. [1]
  2. The Central Intelligence Agency. "World Factbook - Pakistan". https://www.cia.gov/library/publications/the-world-factbook/geos/pk.html#Trans. अभिगमन तिथि: 2007-06-28. 
  3. http://en.wikipedia.org/wiki/Railway_Gazette_International
  4. "Govt considers railway links with central Asia". Archived from the original on 2012-09-05. https://archive.is/Lp0z. 
  5. Associated Press of Pakistan. "PR signs deal with foreign firm for pre-feasibility study of Pakistan-China rail link". Archived from the original on 2007-09-27. http://web.archive.org/web/20070927192717/http://www.app.com.pk/en/index.php?option=com_content&task=view&id=4200&Itemid=2. अभिगमन तिथि: 2007-06-28. 
  6. http://www.thaishipper.com/Content/Content.asp?ID=26715
  7. [27]
  8. "Pakistan | PM launches trial phase of Pak-Turkey train service". Dawn.Com. http://www.dawn.com/wps/wcm/connect/dawn-content-library/dawn/news/pakistan/13+gilani+launches+trial+phase+of+islamabad-istanbul+train+service-za-06. अभिगमन तिथि: 2009-08-15. 
  9. "Pakistan–Turkey rail trial starts". BBC News. 2009-08-14. http://news.bbc.co.uk/2/hi/south_asia/8201934.stm. अभिगमन तिथि: 2009-08-16. 

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]

साँचा:Pakistan topics साँचा:Economy of Pakistan topics

 This article incorporates public domain material from websites or documents of the CIA World Factbook.