परवेज़ रसूल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
परवेज़ रसूल
व्यक्तिगत जानकारी
पूरा नाम परवेज़ ग़ुलाम रसूल ज़रगर
बल्लेबाजी की शैली दाहिने हाथ से
गेंदबाजी की शैली दाहिने हाथ से ऑफ ब्रेक
भूमिका हरफनमौला (ऑल-राउन्डर)
घरेलू टीम जानकारी
वर्ष टीम (दल)
2008/09-वर्तमान जम्मू और कश्मीर
2013 पुणे वारियर्स इंडिया
2014-2015 सनरायिज़र्स हैदराबाद
2014-वर्तमान भारत
पदार्पण 15 June 2014 भारत वि बांग्लादेश
कैरियर के आँकड़े
प्रतियोगिता एकदिवसीय अंतर्राष्ट्रीय प्रथम श्रेणी क्रिकेट लिस्ट ए क्रिकेट ट्वेन्टी ट्वेन्टी
मुक़ाबले 1 17 25 12
रन बनाये - 1003 623 178
बल्लेबाजी औसत - 38.57 31.62 13.80
शतक/अर्धशतक - 3/2 0/5 0/0
सर्वोच्च स्कोर - 171 81* 44*
गेंदें बोल्ड 60 2814 714 108
विकेट 2 46 18 7
गॆंदबाजी औसत 30 31.04 49.60 25.50
एक पारी मे 5 विकेट - 3 0 0
एक मुक़ाबले मे 10 विकेट - 0 0 0
सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी 2/60 7/41 3/48 1/14
कैच्/स्टम्पिंग -/- 5/- 2/- 0/-
स्रोत: Cricinfo, 17 May 2013

परवेज़ ग़ुलाम रसूल ज़रगर (जन्म : २३ फ़रवरी १९८९) एक भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी हैं।[1] वे घरेलू क्रिकेट में जम्मू और कश्मीर के लिए एक हरफ़नमौला के तौर पर खेलते हैं। रसूल दाहिने हाथ से ऑफ ब्रेक गेंदबाजी और दाहिने हाथ से ही बल्लेबाजी करते हैं।[2] २0१४ में बांग्लादेश के खिलाफ खेलने के साथ ही वे भारत के लिए अंतर्राष्ट्रीय मैच खेलने वाले जम्मू कश्मीर के पहले क्रिकेटर बने।[3]

जीवन-यात्रा[संपादित करें]

२0१२-१३ के अच्छे रणजी सत्र के बाद, इंग्लैण्ड के खिलाफ ६ जनवरी २0१३ को खेले जाने वाले एक दिवसीय अभ्यास मैच के लिए, रसूल को भारत ए टीम में शामिल कर लिया गया।[4] इस प्रकार रसूल कश्मीर घाटी के पहले क्रिकेट खिलाड़ी बन गये जिनका चयन भारत ए टीम के लिए किया गया। वे कश्मीर के अनन्तनाग जिले में बिजबेहरा के निवासी हैं। जम्मू और कश्मीर के लिए जूनियर क्रिकेट में खेलने से पहले रसूल ने अपने कोच अब्दुल क़यूम से यहीं पर क्रिकेट की आरंभिक शिक्षा ली। रसूल के पिता (ग़ुलाम रसूल ज़रगर) और भाई (आसिफ़ ग़ुलाम रसूल ज़रगर) भी क्रिकेट खिलाड़ी रहे हैं।[5] उनके भाई आसिफ रणजी ट्रॉफी भी खेल चुके हैं।[6][7] फरवरी २0१३ में परवेज़ रसूल तब सुर्खियों में आये जब उन्होंने बोर्ड अध्यक्ष एकादश के लिए खेलते हुए मेहमान ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले अभ्यास मैच की एक पारी में ७ विकेट चटकाये। रसूल द्वारा प्राप्त किये गये विकेटों में नियमित टेस्ट ओपनर एड कोवन, कार्यवाहक कप्तान और विकेटकीपर मैथ्यू वेड और हरफनमौला स्टीव स्मिथ जैसे बल्लेबाज शामिल थे।[8] इसके बाद रसूल को आईपीएल में पुणे वार्रिएर्स टीम की तरफ से खेलने का मौका मिला और वो आइपीएल खेलने वाले जम्मू कश्मीर के पहले क्रिकेटर बन गए. रसूल को १५ जून 20१४ को भारतीय टीम के बांग्लादेश दौरे में भारत के लिए अन्तराष्ट्रीय मैच खेलने का मौका मिला और इसी के साथ वह भारत की तरफ से खेलने वाले जम्मू कश्मीर के पहले क्रिकेटर बन गए। इस दौरे में उन्हें केवल एक मैच ही खेलने को मिला जिसमे उन्होंने १० ओवरों में ६० रन देकर २ विकेट हासिल किये. उन्हें वर्ल्ड कप में लिए भारतीय टीम के ३० संभावितो की सूची में भी शामिल किया गया था परन्तु अंतिम १५ में वह जगह नहीं बना पाए।[9]

भारतीय क्रिकेट टीम का जिम्बाब्वे दौरा[संपादित करें]

जिम्बाब्वे दौरे पर राष्ट्रीय टीम में शामिल रसूल को एक भी मैच खेलने का मौका नहीं मिला। ४-0 से आगे चल रही टीम में जब अंतिम मैच के लिए भी रसूल शामिल नहीं किये गये तो टीम प्रबंधन के फैसले पर उनके प्रशंसकों ने हैरानी जतायी।[10] जम्मू और कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला के साथ मानव संसाधन और विकास राज्य मंत्री शशि थरूर ने रसूल को नज़रअंदाज़ किये जाने की आलोचना की।[11] हालांकि टीम प्रबंधन और कप्तान ने इस चयन के पीछे किसी दुर्भावना से इनकार किया।[12]

भारत 'ए' टीम का दक्षिण अफ्रीका दौरा[संपादित करें]

अगस्त २0१३ में भारत 'ए' टीम के दक्षिण अफ्रीकी दौरे के लिए परवेज़ रसूल का चयन किया गया।[13] जिम्बाब्वे में रसूल को मौका न दिये जाने पर टिप्पणी करने वाले उमर अब्दुल्ला ने इस चयन को एक नया अवसर माना और उम्मीद जतायी कि रसूल दक्षिण अफ्रीका में बेहतर प्रदर्शन करेंगे।[14] दक्षिण अफ्रीका 'ए' के खिलाफ दूसरे मैच में मौका मिलने पर रसूल ने ६ ओवरों में ४७ रन देकर २ विकेट हासिल किया।[15] दूसरे लीग मैच में पदार्पण के बाद रसूल ने शृंखला के सभी लीग मैचों के साथ फाइनल में भी अंतिम एकादश में अपनी जगह बनायी।[16] प्रिटोरिया में ऑस्ट्रेलिया 'ए' के खिलाफ खेले गये फाइनल मैच में रसूल ने बल्लेबाजी करते हुए ५ रन बनाये और गेंदबाजी के दौरान १0 ओवरों में ३0 रन देकर १ विकेट हासिल किया।[17]

भारतीय टीम का बंगलादेश दौरा[संपादित करें]

१५ जून २०१५ को भारतीय टीम के बांग्लादेश दौरे के अंतिम मैच में खेलकर रसूल भारत की तरफ से खेलने वाले जम्मू कश्मीर के पहले क्रिकेटर बने. इस मैच में उन्होंने ६० रन देकर २ विकेट हासिल किये.

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]