पद्मराजन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Padmarajan
चित्र:Padmarajan.jpg
P. Padmarajan
जन्म P. Padmarajan Pillai
23 मई 1945
Muthukulam, Alappuzha, Travancore
मृत्यु जनवरी 24, 1991(1991-01-24) (उम्र 45)
Kozhikode, Kerala, India
अन्य नाम Pappettan
व्यवसाय Film Director, Writer, News Reader AIR
सक्रिय वर्ष 1975-1991
Influenced Malayalam Middle Stream Cinema
जीवनसाथी Radha Lakshmi
संतान Ananthapathmanabhan,madhavikutty
माता - पिता Thundathil Anantha Padmanabha Pillai, Njavarakkal Devaki Amma
जालपृष्ठ
http://padmarajan.8k.com

पी. पद्मराजन (मलयालम: പി. പത്മരാജന്‍) (23 मई 1945 - 24 जनवरी 1991) मलयालम के लेखक, पटकथा लेखक एवं फिल्म निर्माता थे, जिन्हें उनके उत्कृष्ट एवं विस्तृत पटकथा लेखन एवं भावबोधक निर्देशन शैली के लिए बहुत प्रशंसा मिली है. पद्मराजन ने मलयालम सिनेमा में कुछ ऐतिहासिक चलचित्रों का निर्माण किया, जिनमें उनकी श्रेष्ठ कृतियां ओरिदाथोरू फयलवान (1981), अरप्पट्ट केत्तीया ग्रामथिल (1986), करियिला कट्टु पोले (1986), नामुक्कू परक्कन मुन्थिरी थोप्पुकल (1986), थुवनथुम्बिकल (1987) और मून्नम पक्कम (1988) शामिल हैं.

प्रारंभिक जीवन[संपादित करें]

वे थुन्दथिल अनन्थ पद्मनाभ पिल्लई एवं ज्ञवरक्कल देवकी अम्मा के छठवें पुत्र थे. उनका जन्म ओनट्टुकारा, एलेप्पी में हरीपाद के निकट मुथुकुलम में हुआ था. मुथुकुलम में प्रारंभिक स्कूली शिक्षा प्राप्त करने के बाद, उन्होंने एम.जी. कॉलेज एवं यूनिवर्सिटी कॉलेज, तिरुवनंतपुरम में अध्ययन कर रसायन विज्ञान में स्नातक (1963) की उपाधि प्राप्त की. इसके बाद, उन्होंने विद्वान चेप्पाद अच्युत वारियर से मुथुकुलम में संस्कृत सीखा. इसके बाद उन्होंने आकाशवाणी (ऑल इंडिया रेडियो), त्रिचुर (1965) में पदभार ग्रहण किया एवं कार्यक्रम उद्‍घोषक के रूप में काम शुरू किया तथा बाद में पुजप्पुरा, त्रिवंदरम में बस गए; वे 1986 तक आकाशवाणी में बने रहे, जब फिल्मों में उनकी संलग्नता ने उन्हें स्वैच्छिक रूप से सेवा निवृत्त होने के लिए प्रेरित किया.

पटकथा लेखक और निर्देशक का कैरियर[संपादित करें]

चित्र:Padmarajan during his early career.JPG
अपने कैरियर के शुरूआत में पद्मराजन

उनकी कहानियां छल, हत्या, रोमांस, रहस्य, जुनून, ईर्ष्या, कामुकता, अराजकतावाद, व्यक्तिवाद एवं समाज के परिधीय तत्वों के जीवन का वर्णन करती हैं. उनमें से कुछ मलयालम साहित्य में सर्वश्रेष्ठ मणि जाती हैं, उनके पहले उपन्यास नक्षत्रंगले कावल (साक्षी के रूप में केवल तारे) ने केरल साहित्य अकादमी पुरस्कार (1972) जीता.

उन्होंने मलयालम सिनेमा का मान बढ़ाने वाले सर्वाधिक प्रतिभाशाली पटकथा लेखकों में से एक बनने की तरफ कदम बढ़ाते हुए भारथन के निर्देशक के रूप में प्रथम प्रदर्शन प्रयाणम (1975) के लिए पटकथा लिख कर मलयालम फिल्मों में प्रवेश किया.

बाद में उन्होंने कलात्मक एवं विषयगत मौलिकता तथा उत्कृष्टता में प्राचुर्य कायम रखते हुए अपनी पटकथाओं पर आधारित फिल्मों को निर्देशित करना शुरू किया, जिसकी शुरूआत पेरूवाझियाम्बलम (सड़क एक सराय के रूप में) (1979) से हुई, जो आम लोगों के साथ-साथ बुद्धजीवियों एवं फिल्म के आलोचकों के बीच बहुत अधिक लोकप्रिय है. पद्मराजन एक महान प्रयोगकर्ता थे, जिन्होंने अपनी कृतियों में जीवन के सभी पहलुओं को शामिल किया है. इस प्रकार उनकी पटकथाओं में अब तक अनसुनी विशेषताएं एवं विषय शामिल थे - जैसे कि थूवंथूंबिकल (फायरफ्लाईज ऑफ़ द नाइट) में बारिश का एक पात्र के रूप में भूमिका-निर्धारण, देशदनकिली करायारिल्ला (माइग्रेटरी बर्ड्स डोन्ट क्राई) में गहरी मित्रता एवं प्रेम, नामुक्कू परक्कन मुन्थिरी थोप्पुकल (वाइनयार्ड्स फॉर अस टू ड्वेल)) और ओरिदाथ्थोरू फयलवान (वन्स देयर वॉज अ रेसलर) में (पारंपरिक मानकों द्वारा) अस्वाभाविक चरमोत्कर्ष. उनकी कई फिल्मों में रोमांसवाद की छाप मिलती है.

संभवतः वे अपनी पटकथाओं में बेमिसाल ध्यान देकर उनका विस्तार करने के लिए प्रसिद्ध हैं. उनकी कुछ पटकथाएं यक़ीनन मलयालम भाषा में अब तक लिखी गई सबसे अधिक सहज कथाएं हैं. वे मानव संबंधों एवं भावनाओं के उनके तीव्र अवलोकन, तीक्ष्ण अवबोधन एवं बखूबी से किये गए चित्रण के पर्याप्त सबूत हैं. उनकी कई फिल्मों में अद्भुत एवं बार-बार याद आने वाले चरम बिंदु हैं, जिनमें से अधिकांश आम तौर पर मलयालम सिनेमा में अछूते हैं. उनके पात्रों को पर्दे पर अत्यधिक संवेदनशीलता एवं प्रबलता के साथ चित्रित किया गया था और अधिकतर दृश्यों को हास्य से सराबोर कर दिया जाता था. पात्रों के संवाद काफी स्वाभाविक रहे हैं, जो आम आदमी की भाषा में है फिर भी उनमें एक सूक्ष्म काव्यात्मक गुणवत्ता है.

वास्तव में, यह कहा जा सकता है कि सहजता से तैयार की गयी पटकथाओं से उनके निर्देशकीय गुण प्रवाहित होते हैं: उन्होंने कभी भी किसी दूसरे व्यक्ति द्वारा लिखी गयी पटकथा पर फिल्म का निर्देशन नहीं किया था (जैसा कि उनके समकक्ष मलयालम फ़िल्म के अन्य निर्देशकों, भारतन एवं के.जी.जॉर्ज ने किया था) और ना ही कभी दूसरे की कहानी से प्रेरित होकर अपनी पटकथा लिखी थी. परिणामस्वरूप, अपनी पटकथा में प्रवीणता के साथ ही उन्हें अपनी फिल्मों के चरित्रों के बारे में भी असामान्य ज्ञान था.

भारतन के साथ संबंध[संपादित करें]

उन्होंने भारतन और के.जी. जॉर्ज के साथ सफलतापूर्वक मलयालम सिनेमा स्कूल की आधारशिला रखी, जिसने बौद्धिक और व्यावसायिक आकर्षण के बीच अच्छा संतुलन कायम रखते हुए दोनों में से किसी एक दृष्टिकोण के मजबूत पहलुओं का त्याग किये बिना, मध्यम मार्ग पर चलना चुना; इसे नजदीकी पुरुषों एवं महिलाओं के पात्रों के रूप में शानदार कहानियों के साथ चित्रित कर, कृत्रिम पात्रों, रुढ़िवादी धारणाओं तथा समीक्षकों द्वारा बहुप्रशंसित फिल्मों के कथित तौर पर लाक्षणिक पांडित्य-प्रदर्शक प्रवृत्ति से बचते हुए प्राप्त किया गया. फिल्म निर्माण करने की उनकी शैली का वर्णन करने के लिए आम तौर पर "समानान्तर फिल्म" शब्द का प्रयोग किया जाता है. भारतन के साथ, उन्होंने पर्दे (स्क्रीन) पर कामुकता का संचालन करने में महारत दिखाई, जैसा कि अब तक मलयालम सिनेमा में नहीं किया गया है.

अभिनेताओं के साथ संबंध[संपादित करें]

प्रतिभा की तलाश करने में वे काफी निपुण थे एवं उन्होंने कई नए चेहरों को प्रस्तुत किया, जिन्होंने बाद में भारतीय सिनेमा में अपनी छाप छोड़ी, जिसमें अशोकन (पेरुवाझियामबलम ), रशीद (ओरिदाथोरू फयालावान ), रहमान (कूदेविडे ), जयराम (अपरन ), रामचंद्रन (नवंबरिंते नष्टम् ‌), अजयन (मून्नम्पक्कम् ) शामिल हैं. साथ ही नीतीश भारद्वाज (नजान गंधर्वन ), सुहासिनी मनिरत्नम्‌ (कूदेविडे ); शारी (नामुक्कु परक्कन मुन्थिरीथोप्पुकल ) जैसे कलाकारों को भी उन्होंने ही पर्दे (स्क्रीन) पर प्रस्तुत किया.

उन्होंने कई कलाकारों जैसे कि भारत गोपी, मम्मूटी, मोहनलाल, करमन जनार्दन, रहमान, जगथी श्रीकुमार, इन्नले में सुरेश गोपी, शोभना, सुमालथा, थिलकन एवं नेदुमुदी वेणु को शानदार एवं प्रेरित करने वाले प्रदर्शनों के लिए राजी कर लिया; वास्तव में, मून्नम्पक्कम् में थिलकन का अभिनय अभिनेता के कैरियर के सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शनों में से एक है. उन्होंने बहुत हद तक अन्य निर्देशकों जैसे कि भारथन, आई.वी.ससी एवं मोहन के साथ अपने संबंध के माध्यम से उनकी ख्याति स्थापित करने में उनकी सहायता की; माना जाता है कि पटकथा लेखक के रूप में भारथन के साथ उनके सहयोग ने मलयालम सिनेमा में उल्लेखनीय कार्य किया है. उनके जिन सहायकों ने स्वतंत्र रूप से फिल्मों का निर्देशन शुरू किया उनमें थोप्पी अजयन (पेरूम्थच्चन ), सुरेश उन्नीथन (जाथकम, राधामाधवम ) एवं ब्लेस्सी (काझचा, थानमाथरा ) परवर्ती फिल्म पद्मराजन की लघु कहानी ओरम्मा, भ्रमरम से रूपांतरित थी) शामिल हैं.

मृत्यु[संपादित करें]

उनकी अचानक और असामयिक मृत्यु होटल पारामाउंट टावर, कालीकट में उस समय हुई जब वे अपनी अंतिम फिल्म ज्ञान गंधर्वन को प्रदर्शित करने वाले सिनेमाघर जा रहे थे. उनके मौत की खबर केरल के निवासियों के लिए एक सदमा थी और उस पर व्यापक रूप से शोक छा गया और केरल के लोगों के बीच कमी आज भी महसूस की जा रही है.

विविध तथ्य[संपादित करें]

उनकी पत्नी राधालक्ष्मी याद करती हैं कि 1990 के अंतिम हिस्से में जब पद्मराजन ज्ञान गंधर्वन करने की योजना बना रहे थे तो उनके जीवन में कई अपशकुन हुए. हिंदू पौराणिक कथाओं में गंधर्वन स्वर्ग के गायक हैं एवं यह माना जाता है कि पृथ्वी पर उनका आगमन अविवाहित युवतियों पर जादू करता है एवं पारंपरिक हिन्दुओं द्वारा उन्हें भय की दृष्टि से देखा जाता है. इस विश्वास के बाद, उसकी पत्नी के साथ-साथ कई लोगों ने पद्मनाभन को इस विषय पर आधारित फिल्म नहीं बनाने की सलाह दी. इस विषय पर फिल्म को कई बार स्थगित कर पद्माराजन ने अंतत: इस फिल्म को बनाने का निर्णय किया और फिल्म के लिये कार्य शुरू किया. इस अवधि में कई "अपशकुन" प्रकट हुए, फिल्म के अभिनेता का चयन करने के लिये मुम्बई जाने के लिये अपेक्षित उनका विमान पक्षी से टकरा गया एवं उसे रद्द कर दिया गया. फिल्म के साइट पर निरंतर समस्याएं उत्पन्न हुईं. शूटिंग के दौरान नायिका सुपर्णा पाल पेड़ के नीचे बेहोश हो गई. माना जाता है कि पान के पत्ते के विषैले होने की वजह से अभिनेता नीतीश भी बेहोश हो गए थे. इस अवधि के दौरान पद्मराजन के वजन में विशेष रूप से कमी हो रही थी और उनके द्वारा नियमित रूप से जॉगिंग करने एवं धूम्रपान करने के बावजूद उनका कोलेस्ट्रॉल बढ़ा हुआ था. बाधाओं के बावजूद, दल ने फिल्म को पूरा किया. नीतिश भारद्वाज एवं पद्मराजन सहित दल ने फिल्म का प्रचार करने के लिए कालीकट के थियेटरों में जाने की योजना बनाई जहां वे अज्ञात लोगों के साथ शामिल हो गए.

व्यक्तिगत जीवन[संपादित करें]

पद्मराजन की पत्नी राधालक्ष्मी पद्मराजन पलक्कड में चित्तुर की निवासी है. 1970 में उनकी शादी से पहले राधालक्ष्मी आकाशवाणी में उनकी सहयोगी थी. राधालक्ष्मी ने अपनी पुस्तक पद्मराजन एंटे गंधर्वन (पद्मराजन माई सेलेसियल लवर ) में उनके बारे में अपना संस्मरण लिखा है. उनके पुत्र, पी. अनंतपद्मनाभन, एक लेखक है.

पुरस्कार[संपादित करें]

केरल साहित्य अकादमी पुरस्कार:

फिल्म पुरस्कार:

  • 1975 सर्वश्रेष्ठ पटकथा - फिल्म प्रशंसक - प्राणायाम
  • 1977 सर्वश्रेष्ठ पटकथा - फिल्म प्रशंसक, फिल्म आलोचक - ईथा ईविदेवर
  • 1972 सर्वश्रेष्ठ पटकथा - राज्य - रप्पादिकालुदे गदा, रथिनिर्वेदम, सर्वश्रेष्ठ पटकथा - फिल्म प्रशंसक - रप्पादिकालुदे गाधा, रथिनिर्वेदम
  • 1978 दूसरी सर्वश्रेष्ठ फिल्म, सर्वश्रेष्ठ पटकथा और निदेशक - पेरूझियाम्बलम, सर्वश्रेष्ठ पटकथा, सर्वश्रेष्ठ क्षेत्रीय फिल्म - मध्य - पेरूझियाम्बलम
  • 1979 सर्वश्रेष्ठ पटकथा - फिल्म प्रशंसक - थाकर
  • 1982 सर्वश्रेष्ठ फिल्म, सर्वश्रेष्ठ पटकथा - अंतर्राष्ट्रीय (कुआलालंपुर) - ओरिदाथोरू फयालवान, सर्वश्रेष्ठ फिल्म - खाड़ी पुरस्कार, फिल्म - नवंबरिंते नष्टम
  • 1984 - सर्वश्रेष्ठ फिल्म - राज्य - कूदेविदे, सर्वश्रेष्ठ पटकथा - फिल्म आलोचक - कूदेविदे, सर्वश्रेष्ठ निर्देशक - पूर्णामी पुरस्कार - कूदेविदे
  • 1985 सर्वश्रेष्ठ पटकथा - राज्य, फिल्म आलोचक - कनामारायाथु
  • 1986 सर्वश्रेष्ठ पटकथा - फिल्म आलोचक - नामुक्कुपरक्कन मुन्थिरिथोप्पुकल, सर्वश्रेष्ठ कहानी - फिल्म चैंबर - थूवनथुम्बिकल, सर्वश्रेष्ठ पटकथा - फिल्म आलोचक - नोम्बरथिपूवु
  • 1989 सर्वश्रेष्ठ पटकथा - राज्य, फिल्म आलोचक - अपरन, मून्नमपक्कम, सर्वश्रेष्ठ निर्देशक - फिल्म फेयर - परन
  • 1990 सर्वश्रेष्ठ पटकथा - राज्य, फिल्म आलोचक, फिल्म चैंबर - इन्नले
  • 1991 एफ ए सी पुरस्कार - ज्ञान गंधर्वन

फिल्म सूची[संपादित करें]

<बड़ा> <बड़ा> एक लेखक और निर्देशक के रूप में</बड़ा></बड़ा>
  • पेरूवाझियम्बलम [हाइवे शेल्टर] (उसके उपन्यास (1979) से रूपांतरित)
  • ओरिदाथोरू फयालवान [वन्स देयर वाज ए रेसलर](1981)
  • कल्लन पविथ्रन [पविथ्रन, द थीफ] (1981)
  • नवंबरिन्ते नष्टम [नवंबर की हानि] (1982)
  • कूदेविडे? [विदर द नेस्ट] (वासंथी द्वारा रचित तमिल उपन्यास मूंगिल पोक्कल (1983) से रूपांतरित
  • परन्नू परन्नू परन्नू [सोरिंग सोरिंग सोरिंग](1984)
  • थिंकलझच्चा नल्ल दिवसम [मंडे, ऐन ऑस्पिशस डे] (1985)
  • नामुक्कु परक्कन मुन्थिरि थोप्पुकल [वाइनयार्ड्स फॉर अस टू ड्वेल] (के.के. सुधाकरण द्वारा रचित उपन्यास नाम्मुक्कु ग्रामंगलिल चेन्नु राप्पारक्कम [लेट अस गो एंड ड्वेल इन द विलेजेज] से रूपांतरित (1986)
  • करियिला कट्टु पोले [लाइक ए ज़ेफर ऑफ ड्राई लीव्स] (1986)
  • अरप्पट्टा केत्तीय ग्रामथिल [इन द विलेज विच वियर्स ए वारियर्स बेल्ट] (1986)
  • देशाटनक्किली करायारिल्ला [द माइग्रेटरी बर्ड नेवर क्राइज](1986)
  • नोम्बराथी पूवु [द सॉरोफुल फ्लावर](1987)
  • थूवानथूम्बिकल [बटरफ्लाईज ऑफ द स्प्रेयिंग रेन] (उनके उपन्यास उधकप्पोला [ए बबल इन वाटर] (1987) से रूपांतरित
  • अपरन [द इम्पॉस्टर] (उनकी लघु कहानी से रूपांतरित)(1988)
  • मून्नम पक्कम [ऑन द थर्ड डे](1988]
  • सीजन (1989)
  • इन्नले [यस्टरडे](वसंथी द्वारा रचित तमिल उपन्यास जननम [बर्थ](1990) से रूपांतरित)
  • ज्ञान गंधर्वन [आई, द सेलेसियल लवर](1991)
<बड़ा><बड़ा>एक लेखक के रूप में</ बड़ा></बड़ा>
  • प्रयाणम [प्रोग्रेशन](भारथन)(1975)
  • इथा इविदे वारे [लूक

! टिल हेयर] (आई.वी. ससी; उसके उपन्यास से रूपांतरित)(1977)

  • रथिनिर्वेधम [वेनिरीयल डिसेचैंटमेंट](भारथन; उसके उपन्यास से रूपांतरित)(1978)
  • राप्पादिकलुदे गदा [द सांग ऑफ द नाइटिंगल्स] (के.जी. जॉर्ज) (1978)

8 नक्षत्रंगले कावल [द स्टार्स अलोन गार्ड मी] के.एस. सेतुमाधवन; उनके उपन्यास से रूपांतरित) (1978)

  • वादकक्कोरू हृदयम [ए हर्ट फॉर रेन्ट] (आई.वी. ससी; उनके उपन्यास से रूपांतरित) (1978)
  • सतरथ्थिल ओरु रात्रि [ए नाइट इन ऐन इन] (एन. शंकरन नायर) (1978)
  • थकर [वीड] (भारतन; उनके उपन्यास से रूपांतरित) (1979)
  • लॉरी (भारतन) (1980)
  • कोच्चु कोच्चु थेट्टुकल [माइनर मिस्टेक्स] (मोहन) (1980)
  • शालिनी एंटे कूट्टुकारी [शालिनी, माई फ्रेंड] (मोहन) (1980)
  • इदावेल [इंटरवल] (मोहन) (1982)
  • ईनम [ट्यून] (भारतन) (1983)
  • कैकेयी (आई.वी. ससी) (1983)
  • कानामरयथ्थु [बियन्ड द हॉराइजन] (आई.वी. ससी) (1984)
  • ओझिवुकालम [वैकेशन] (भारतन) (1985)
  • करिमपिनपूविनाक्करे [ऐक्रॉस द सुगरकेन फ्लावर्स] (आई.वी. ससी) (1985)
  • ई थानुथ्था वेलुप्पानकालथ्थु [इन दीज कोल्ड वी हॉवर्स] (जोशी) (1990)

उपन्यास और लघु कथाएं (फिल्माये गए को छोड़कर)[संपादित करें]

  • नक्षत्रंगले कावल [स्टार्स दैट गार्ड]
  • ओन्नु रंदु मून्नु [वन, टू, थ्री]
  • जलज्वाला [द वाटरी फायर]
  • ननमकलुदे सूर्यन [द सन ऑफ वर्चुज]
  • विक्रमकालीश्वरम
  • शववाहनंगलुम थेदी [इन सर्च ऑफ बीयर्स]
  • मंजुकालम नोट्टा कुथिर [द हॉर्स व्हिच लॉन्ग्ड फॉर विन्टर]
  • कैवरियुदे थेक्के अट्टम [द सदर्न एंड ऑफ द बैन्निस्टर]
  • कझिंजा वसंतकालथ्थिल [ड्यूरिंग लास्ट स्प्रिंग]
  • प्रथिमायुम राजकुमारीयुम [द स्टैच्यु एंड द प्रिंसेस]
  • प्रहेलिका [कोनन्ड्रम]
  • पुकक्कनद [स्मोक गैसेज]
  • मत्तुल्लवरुदे वेनल [द समर ऑफ अदर्स]
  • सिफिलिसिंते नदक्कवु [द पाथ ऑफ सिफिलिस]
  • ऋतुभेदनगलुदे पारितोषिकम [द रिवार्ड ऑफ विसिसिच्युड्स]
  • लोला मिल्फोर्ड एन्ना अमेरिकन पेंकिदावु [लोला मिल्फोर्ड, द अमेरिकन मैडन]
  • थन्मात्रा [अणु]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • मलयालम सिनेमा
  • भारतन

संदर्भ[संपादित करें]