पगबाधा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
1954-55 की एशेज श्रृंखला के प्रथम टेस्ट में रे लिंडवॉल ने पिटर मे को पगबाधा आउट किया.

क्रिकेट के खेल में पगबाधा (एलबीडब्ल्यू (LBW)) बल्लेबाज को आउट करने की एक विधि है. एक अंपायर परिस्थितियों की एक श्रृंखला[1] के अंतर्गत एक बल्लेबाज को एलबीडब्ल्यू (LBW) आउट करार देता है, जब मुख्यतः बल्लेबाज के विकेट (अर्थात स्टंप तथा गिल्लियों से) से टकरा सकने वाली गेंद बल्लेबाज के शरीर (आम तौर पर टांग) से टकराती है. एलबीडब्ल्यू (LBW) नियम को इसलिए बनाया गया था ताकि गेंद को विकेट से न टकराने देने के लिए (बोल्ड होने से बचने के लिए) बल्लेबाज अपने बल्ले के स्थान पर शरीर का इस्तेमाल न करे.

एलबीडब्ल्यू (LBW) को सामान्यतः इस खेल के सबसे जटिल नियम के रूप में जाना जाता है.

लेग बिफोर विकेट शब्द में लेग (टांग) का प्रयोग होने के बावजूद, यह नियम तब भी लागू होता है जब बल्ला थामने वाले हाथ के दस्ताने को छोड़ कर (इसे बल्ले का ही हिस्सा माना जाता है) गेंद बल्लेबाज के शरीर के किसी अन्य हिस्से से टकराए.

उत्पत्ति[संपादित करें]

एलबीडब्ल्यू (LBW) का नियम 1744 तक क्रिकेट के नियमों में शामिल नहीं था. सर्वप्रथम इस नियम का प्रयोग 1774 में हुआ, जिसके अनुसार: बल्लेबाज को आउट माना जाएगा यदि ..... या फिर बल्लेबाज गेंद को रोकने के लिए अपनी टांग विकेट के सामने अड़ाए, और गेंद को विकेट से टकराने से रोक दे.[2]

जबकि एलबीडब्ल्यू (LBW) नियम के प्रयोग की शुरुआत निश्चित रूप से बल्लेबाज द्वारा गेंद को विकेट से न टकराने देने के लिए जानबूझ कर टांग व पैर अड़ाने के कारण हुई थी, जॉन नायरेन[3] जैसे शुरुआती लेखकों ने जानबूझ कर किए जाने वाले इस काम के लिए टॉम टेलर तथा जोए रिंग को जिम्मेदार माना है. हालांकि, उनका कॅरिअर 1774 के बाद शुरू हुआ और, जैसा कि आर्थर हेगार्थ बताते हैं, " इन परस्पर विरोधी बयानों में अब सामंजस्य स्थापित करना असंभव है".[4]

इसी वजह से एलबीडब्ल्यू (LBW) के नियम को कई वर्षों तक रिकॉर्ड नहीं किया गया था. अगस्त 1795 में मौल्सी हर्स्ट में हुए सर्रे बनाम इंग्लैंड एकादश के मैच में जॉन टफ्टन को जॉन वेल्स द्वारा एलबीडब्ल्यू (LBW) नियम के तहत आउट किया गया था. हेगार्थ के अनुसार: इस मैच में, पहली बार ऐसा पाया गया कि "पगबाधा" को दर्ज किया गया है .ब्रिशर की मुद्रित स्कोर-पुस्तिका में, इस मैच में मि. जे. टफ्टन को केवल बोल्ड करार दिया गया है, तथा नोट में पगबाधा लिखा गया है. शुरुआत में, जब कोई भी बल्लेबाज इस तरीके से आउट होता था, तो केवल ऐसा लिखा जाता था कि वह बोल्ड हुआ है और पगबाधा नहीं लिखा जाता था.[5]

संक्षेप में[संपादित करें]

संक्षेप में इस नियम का सार यह है:

यदि गेंद बल्लेबाज से टकराती है (उसके बल्ले या बल्ला पकड़ने वाले हाथ को छोड़ कर) जो कि विकेट से टकराने वाली थी, तो उसे एलबीडब्ल्यू (LBW) करार दिया जाता है, जब तक कि:

  1. गेंद लेग साइड से बाहर टप्पा न खाए या
  2. गेंद ऑफ़ स्टंप से बाहर बल्लेबाज से टकराए और अंपायर यह निर्णय ले कि बल्लेबाज वास्तव में गेंद को मारने का प्रयास कर रहा था.

ध्यान दें: लेग साइड से बाहर पड़ने वाली गेंदों से अभिप्राय यह है कि गेंद का पचास प्रतिशत या इससे अधिक हिस्सा लेग स्टंप के बाहर अवश्य होना चाहिए. इसके अलावा, ऑफ़ स्टंप से बाहर बल्लेबाज से टकराने वाली गेंद का पचास प्रतिशत या इससे अधिक हिस्सा ऑफ़ स्टंप की लाइन के बाहर बल्लेबाज से टकराना चाहिए.

अपनी जटिलताओं के बावजूद, कैच एवं बोल्ड के पश्चात् पगबाधा (एलबीडब्ल्यू (LBW)) क्रिकेट में आउट करने का सबसे सामान्य प्रकार है.

एलबीडब्ल्यू (LBW) के लिए आदर्श स्थितियां[संपादित करें]

"विकेट से विकेट" का क्षेत्र जो एलबीडब्ल्यू (LBW)) के नियम के लिए महत्वपूर्ण है, नीले रंग से चिह्नित है.दाएं हाथ के बल्लेबाज के लिए (जो तस्वीर के दूरस्थ छोर पर तीन स्टंप (लकड़ी के सीधे टुकड़े) के सामने खड़ा है) के लिए, चित्र में नीले रंग के दाहिनी ओर का क्षेत्र उसकी लेग साइड है और नीले रंग के बाएं सिरे का स्टंप उसका ऑफ़ स्टंप है.बाएं हाथ के बल्लेबाज के लिए, जो स्वाभाविक रूप से दूसरी तरफ मुंह करके खड़ा होता है, नीले क्षेत्र का बांया हिस्सा उसकी लेग साइड है और सबसे दाईं ओर का स्टंप उसका ऑफ़ स्टंप है.

एक बल्लेबाज को एलबीडब्ल्यू (LBW) आउट करार देने की शर्तें निम्न हैं:

  1. गेंद वैध होनी चाहिए : अर्थात गेंद नो बॉल नहीं होनी चाहिए.
  2. 2. गेंद का टप्पा केवल लेग स्टंप पर न हो : या तो (क) गेंद (विकेट से विकेट के बीच या विकेट के ऑफ स्टंप पर टप्पा खाए, अथवा (ख) बल्लेबाज तक पहुंचने से पहले टप्पा न खाए. इसलिए, विकेट के केवल लेग स्टंप पर पड़ने वाली गेंद के लिए एलबीडब्ल्यू (LBW) आउट नहीं दिया जाना चाहिए, भले ही बल्लेबाज ने गेंद को न खेला हो. प्रासंगिक 'पिचिंग क्षेत्र' को निर्धारित करने के लिए लेग स्टंप से एक काल्पनिक रेखा पिच की लंबाई के समानांतर खींची जाती है.
  3. गेंद बल्ले से टकरानी नहीं चाहिए : यदि बल्लेबाज के बल्ले (या बल्ले को थामने वाला दस्ताना-जिसे बल्ले का ही हिस्सा माना जाता है) का हिस्सा पहले गेंद से टकराता है तो उसे एलबीडब्ल्यू (LBW) आउट नहीं दिया जाना चाहिए.
  4. गेंद बल्लेबाज के शरीर के किसी हिस्से से अवश्य टकरानी चाहिए : यदि गेंद शरीर के किसी हिस्से या सुरक्षात्मक सामग्री से टकराती है, तो इससे बल्लेबाज के आउट होने की अत्यधिक संभावना है (अर्थात सिर्फ टांग से ही टकराना आवश्यक नहीं है). एकमात्र अपवाद बल्ले को थामने वाला हाथ या दस्ताना है, जिसे बल्ले का ही हिस्सा माना जाता है. उदाहरण के लिए, एक विख्यात प्रकरण में सचिन तेंदुलकर को तब एलबीडब्ल्यू आउट करार दिया गया था जब वह एक संभावित बाउंसर से बचने की कोशिश कर रहे थे, वास्तव में गेंद उनके कंधे से टकराई थी (ऑस्ट्रेलिया बनाम भारत, 1999-2000, एडीलेड, भारत की दूसरी पारी के दौरान).
  5. गेंद एक सीधी रेखा में टकरानी चाहिए : गेंद दोनों विकेटों के छोरों के बीच के क्षेत्र में बल्लेबाज से टकरानी चाहिए. एक महत्वपूर्ण अपवाद है कि, अगर गेंद ऑफ़ स्टंप से बाहर टकराती है, तो बल्लेबाज को तब एलबीडब्ल्यू (LBW) आउट दिया जा सकता है जब वह गेंद को खेलने का सच्चा प्रयास नहीं करता (अर्थात, अगर वह "स्ट्रोक नहीं खेलता"). अगर गेंद विकेट से विकेट के बीच टकराती है, तो स्ट्रोक का खेलना अप्रासंगिक है.
  6. गेंद विकेट से अवश्य टकराने वाली हो : यदि गेंद की दिशा एवं गति से ऐसा लगता है कि बल्लेबाज के अनुपस्थित होने की दशा में यह विकेट से नहीं टकराएगी, तो बल्लेबाज को एलबीडब्ल्यू (LBW) आउट नहीं होना चाहिए.

इन स्थितियों की व्याख्या करने के तीन नियम हैं: (गेंद शरीर के किस हिस्से से सबसे पहले टकराई है, केवल इस पर ही विचार किया जाता है; टकराने के बाद गेंद कहां जाती है, यह अप्रासंगिक है; और 'ऑफ़ साइड' तथा 'लेग साइड' की पहचान गेंद खेलते समय बल्लेबाज के खड़े होने की मुद्रा के अनुसार की जाती है, अर्थात जिस समय गेंदबाज दौड़ना शुरू करता है या, न दौड़ने की अवस्था में गेंदबाजी की प्रक्रिया के दौरान.[6]

पांचवीं स्थिति (गेंद सीधी रेखा में टकरानी चाहिए) के अपवाद में अम्पायर का यह निर्णय शामिल होता है कि बल्लेबाज ने गेंद को मारने का प्रयास किया है अथवा नहीं. इस नियम को इसलिए बनाया गया है ताकि बल्लेबाज ऑफ़ स्टंप से बाहर गेंद को सिर्फ पैड पर न खेले, जिससे बल्ले से गेंद टकरा कर कैच देने की संभावना समाप्त हो जाती है. स्पिन गेंदबाजों के खिलाफ एक आम रक्षात्मक रणनीति ऑफ़ स्टंप पर गेंद से बचने के लिए पैड का इस्तेमाल करना है, किन्तु एलबीडब्ल्यू (LBW) नियम का मतलब है कि उनका बल्ला पैड के नजदीक हो, जिससे स्लिप में खड़े क्षेत्ररक्षकों को कैच पकड़ने का मौका मिले, या उनके एलबीडब्ल्यू (LBW) आउट होने की संभावना बने. रिची बैनोड जैसे कुछ समीक्षकों ने सुझाया है कि एलबीडब्ल्यू (LBW) नियम को कुछ इस प्रकार बदलना चाहिए कि लेग स्टंप से थोड़ी बाहर टप्पा पड़ने पर भी बल्लेबाज को आउट करार दिया जा सके, जिससे लेगस्पिनरों को मदद मिलेगी और नकारात्मक पैड-प्ले (पैड से गेंद रोकना) से बचा जा सकेगा.

एलबीडब्ल्यू (LBW) नियम की समीक्षा हमेशा गेंदबाज के छोर पर खड़े अंपायर द्वारा की जाती है. अगर क्षेत्ररक्षण करने वाली टीम का मानना ​​है कि एक बल्लेबाज एलबीडब्ल्यू (LBW) आउट हो सकता है, तो उन्हें निर्णय के लिए अंपायर से अनुरोध करना चाहिए.

गेंद, जिससे बल्लेबाज तक पहुंचने में आधे सैकंड का समय लगता है, के लिए सभी एलबीडब्ल्यू (LBW) स्थितियों का मूल्यांकन किया जाना चाहिए. नियमों के अन्य पहलुओं के रूप में, बल्लेबाज को हमेशा किसी भी संदेह का लाभ दिया जाता है, इसलिए, यदि अंपायर संतुष्ट नहीं है, तो अनुरोध को ठुकरा दिया जाएगा. उदाहरण के रूप में यदि गेंद के बल्लेबाज से टकराने से पहले बल्लेबाज एक कदम आगे बढ़ जाता है. हो सकता है गेंद आगे चल कर विकेट से टकरा जाती, किन्तु एक अम्पायर के लिए इस बारे में सुनिश्चित होना बहुत मुश्किल है क्योंकि बल्लेबाज की टांग से टकराते समय गेंद विकेट से 1.5-2 मीटर की दूरी पर होगी.

टेलीविजन रिप्ले के माध्यम से अब यह बताना सरल हो गया है कि एलबीडब्ल्यू (LBW) की सभी शर्तों को पूरा किया गया था या नहीं, और इसलिए कुछ लोग शिकायत करते हैं कि एक अंपायर ने बल्लेबाज को गलत तरीके से खेल जारी रखने के लिए कहा या उसे गलत तरीके से आउट करार दे दिया. हालांकि अंपायर द्वारा किसी बल्लेबाज को आउट देने से पहले इस बारे में सुनिश्चित होना चाहिए कि वह आउट है कि नहीं, और चूंकि उनके पास टीवी रीप्ले जैसी कोई सुविधा नहीं होती, अतः अंपायर का निर्णय आमतौर पर उचित होता है. अधिकांश खिलाडी और कमेंटेटर इस निर्णय को स्वीकार करते हैं और अंपायरों की आलोचना बहुत कम होती है.

यकीनन एलबीडब्ल्यू (LBW) का निर्णय अंपायरों द्वारा किए जाने वाले निर्णयों में से सबसे कठिन है, और यह दर्शकों के बीच टिप्पणी और विवाद का कारण हो सकता है. हाल के वर्षों में, क्रिकेट में बढ़ते दबाव और दांव पर लगे पैसों के कारण कई लोग अनिश्चित मामलों में कैमरों की भूमिका को बढ़ाने और हॉक-आई जैसी सिमुलेशन तकनीक के प्रयोग पर जोर दे रहे हैं.

फिलहाल, एलबीडब्ल्यू (LBW) एक ऐसा निर्णय है जो केवल मैदान पर खड़े अम्पायर द्वारा लिया जाता है. तथापि बदलाव की हवा चल पड़ी है: सितंबर 2005 में, अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने अंपायरों द्वारा टेलीविजन रीप्ले के माध्यम से निर्णय लेने में सहायता करने के लिए एक परीक्षण को अधिकृत किया. (नीचे बाहरी लिंक देखें).

यह ध्यान देने योग्य है कि यदि गेंद पहले पैड से टकराती है और फिर बल्ले से टकराती है (तथाकथित पैड-बैट), तो बल्लेबाज को एलबीडब्ल्यू (LBW) आउट घोषित किया जा सकता है लेकिन यदि बल्लेबाज गेंद को बल्ले से मारता है तथा इसके बाद गेंद उसके पैड से टकराती है (जिसे बैट-पैड कहा जाता है), तो बल्लेबाज को उस मामले में आउट घोषित नहीं किया जा सकता है. हालांकि, दोनों ही मामलों में, एक बल्लेबाज द्वारा कैच आउट होने का खतरा बना रहता है क्योंकि गेंद अपेक्षाकृत धीमी गति से उछल कर नजदीकी क्षेत्ररक्षक (जैसे कि सिली मिड ऑन) द्वारा लपकी जा सकती है.

यदि गेंद बिना टप्पा खाए बल्लेबाज से टकराए (अर्थात पिच पर न टकराए), तो उस स्थिति में गेंद के टप्पा पड़ने के बाद के किसी भी संभावित विचलन को अनदेखा करते हुए अम्पायर को गेंद की गति एवं उछाल द्वारा इसकी दिशा का अनुमान लगाना पड़ता है. हालांकि गेंद विकेट से टकराएगी या नहीं, यह निर्धारित करने से पहले अम्पायर गेंद के स्विंग या प्रवाह को ध्यान में रख सकता है. अगर गेंद स्विंग कर रही है तो अम्पायर को यह अनुमान लगाने की अनुमति है कि गेंद उसी दिशा में स्विंग होगी अथवा नहीं.

एक ग़लतफ़हमी है कि बल्लेबाज उस स्थिति मे एलबीडब्ल्यू (LBW) आउट नहीं हो सकता जब गेंद लेग स्टंप के बाहर टप्पा खाती है. आमतौर पर ऐसा माना जाता है कि लेग स्टंप के बाहर टप्पा खाने वाली गेंद का परिणाम नॉट आउट होगा, तथापि एलबीडब्ल्यू (LBW) कानून के (नियम 36) की सटीक परिभाषा और नो बॉल की वर्तमान परिभाषा (नियम 24) के अनुसार, एक असामान्य परिस्थिति में इसका अपवाद भी है. 24.6 नियम के तहत, एक गेंद को तभी वैध गेंद माना जाएगा अगर यह दो बार (तक) उछले. 36.1 (ख) नियम में कहा गया है कि यदि, "टप्पा पड़ने से पहले इसे न रोकने पर, गेंद विकेट से विकेट के बीच सीधी रेखा में या बल्लेबाज की ऑफ़ साइड की विकेट से टकराती है" तो उस स्थिति में बल्लेबाज एलबीडब्ल्यू (LBW) आउट है." यहां ध्यान देने योग्य है कि, नियम 36.1 (ख) में लेग साइड का कोई उल्लेख नहीं है, न ही इसमें कहा गया है कि ऐसी स्थिति एक से अधिक बार हो. इस प्रकार एक गेंद जो कि दो बार उछलती (टप्पा खाती) है, का परिणाम एलबीडब्ल्यू (LBW) हो सकता है भले ही उसमे एक टप्पा लेग स्टंप की लाइन से बाहर हो. अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में आज तक कोई भी बल्लेबाज इस ढंग से आउट नहीं हुआ है.

एलबीडब्ल्यू (LBW) (एन)[संपादित करें]

एलबीडब्ल्यू (LBW) (एन) एक शब्द है जिसका प्रयोग 21 नवंबर, 1934 को मेरिलीबोन क्रिकेट क्लब (एमसीसी) द्वारा बनाये गए पगबाधा नियम में बदलाव का वर्णन करने के लिए किया गया था. 1935 में यह इंग्लैंड में अस्तित्व में आया था, लेकिन ऑस्ट्रेलिया में उच्च स्तर के अधिकारियों द्वारा इसका विरोध किया गया जहां यह 1936/1937 सत्र तक लागू नहीं हो सका था, हालांकि ऑस्ट्रेलिया में 1935/1936 के सत्र के दौरान क्लब मैचों में इसे लागू करने की कोशिश की गई थी.

इस बदलाव के अनुसार ऑफ़ स्टंप से बाहर टप्पा पड़ने पर भी एलबीडब्ल्यू (LBW) आउट घोषित किया जा सकता है यदि विकेट से विकेट के बीच की सीधी रेखा में बल्लेबाज इसे अपने शरीर के किसी हिस्से से रोकता है. इससे पहले, सिर्फ गेंदबाज के छोर तथा बल्लेबाज की विकेटों के बीच की सीधी रेखा में पड़ने वाली गेंदों द्वारा ही एलबीडब्ल्यू (LBW) आउट किया जा सकता था.

शब्द "एलबीडब्ल्यू (LBW) (एन)" इस तथ्य को संदर्भित करता है कि 1935 से 1937 तक विज्डन द्वारा प्रकाशित स्कोरकार्डों में नए पगबाधा नियम द्वारा लिए गए विकेट 1935 के पहले के नियमों के विकेटों से अलग दर्शाए गए थे.

एलबीडब्ल्यू (LBW) (एन) की पृष्ठभूमि[संपादित करें]

1920 एवं 1930 के दशक के दौरान प्रथम श्रेणी क्रिकेट की विशेषता बल्लेबाजों द्वारा गेंदबाजों पर बढ़ता प्रभुत्व था. 1926/1927 में एमसीजी (MCG) पर न्यू साउथ वेल्स के खिलाफ विक्टोरिया द्वारा 1107 रनों के विश्व रिकॉर्ड के साथ, 1920 के दशक के दौरान ऑस्ट्रेलिया में रन बनाने की दर असाधारण रूप से अधिक थी. 1928 में, काउंटी क्रिकेट में एक विकेट लेने की औसत कीमत 30 रन थी जो 1901 की अपनी पिछली उच्च कीमत 27.5 को पार कर गई थी. एलबीडब्ल्यू (LBW) निर्णय की अनुमति द्वारा रनों की संख्या को रोकने के प्रयास, भले ही बल्लेबाज ने गेंद को खेला हो, को 1929 में आंशिक रूप से सफलता मिली थी, किन्तु 1930 के टेस्ट मैचों के दौरान अत्यधिक उच्च रनसंख्या तथा कई ड्रा मैचों से पता चलता है कि यह केवल क्षणिक प्रभाव ही था तथा 1934 तक इस प्रयोग को समाप्त कर दिया गया.

अधिकारियों के सामने यह स्पष्ट था कि हरबर्ट सटक्लिफ और फिल मीड जैसे अच्छा पैड प्ले (पैड द्वारा गेंद रोकना) खेलने वाले बल्लेबाज उच्च रनसंख्या तथा ड्रा मैचों की बढती संख्या के लिए जिम्मेदार थे. अतः ऑफ़ स्टंप से बाहर पड़ने वाली गेंदों को पैड द्वारा रोकने से बचाने का उद्देश्य न केवल पैड प्ले का मुकाबला करना था बल्कि ऑफ़ स्टंप पर गेंद डालने वाले गेंदबाजों को पुरस्कृत करके तेज़ "बॉडीलाइन (शरीर की दिशा मे जानबूझ कर गेंद करना)" गेंदबाजी को हतोत्साहित करना भी था, और इसी कारण ऑफ़ साइड में आकर्षक स्ट्रोक खेलने को प्रोत्साहन मिला. 1934 में इसकी अत्यधिक विवेचना हुई और यह आम तौर पर सहमति बनी कि ऑफ़ साइड पर एलबीडब्ल्यू (LBW) नियम का एक विस्तार रक्षात्मक पैड प्ले को कम कर सकता है. हेरोल्ड लारवुड जैसे कुछ लोगों ने ऑफ़ स्टंप से बहार पड़ने वाली किसी भी गेंद पर एलबीडब्ल्यू (LBW) करार दिए जाने की मांग की, भले ही बल्लेबाज के पैर भी ऑफ़ स्टंप से बाहर ही क्यों न हों - जिसे 1970 के बाद से ही कुछ हद तक माना गया है.

संदर्भ[संपादित करें]

  1. क्रिकेट का कानून के कानून 36
  2. आर्थर हेगार्थ, स्कोर और आत्मकथाएं, खंड 1 (1744-1826), लिलीव्हाइट, 1862, पृष्ठ 16-17
  3. एशले मोट, जॉन नाइरेन के "द क्रिकेटर्स ऑफ़ माई टाइम", रॉबसन 1998
  4. स्कोर और आत्मकथाएं, खंड 1, पृष्ठ 23
  5. स्कोर और आत्मकथाएं, खंड 1, पृष्ठ 191
  6. लॉ ऑफ़ क्रिकेट का नियम 23

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • क्रिकेट शब्दावली
  • क्रिकेट में क्षेत्ररक्षण की स्थिति
  • क्रिकेट के नियम
  • फ्लैशमैन लेडी - इस उपन्यास के प्रथम अध्याय में एलबीडब्ल्यू (एलबीडब्ल्यू (LBW)) ने एक मनोरंजक भूमिका निभाई है.

बाहरी स्रोत[संपादित करें]