नौकायन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
एक डॉक्ड नौका

शौकिया तौर पर या मनोरंजन के लिए अथवा खेल के उद्देश्य से नाव चलाने या अन्य प्रकार के जलयानों के उपयोग को नौकायन कहा जाता है।

प्रतिस्पर्धी नौकायन[संपादित करें]

नौकायन एक खेल है। नौकायन का इस्तेमाल काफी प्राचीन काल से किया जा रहा है और ऐसा माना जाता है कि नावों की दौड़ की शुरूआत 17वीं सदी में नीदरलैंड में हुई थी। जल्द ही इंग्लैंड में विशेष तौर पर निर्मित "पाल नौकाएं" सामने आने लगीं. 1851 में, न्यूयॉर्क में एक अमेरिकी नौका रेसिंग क्लब को दी गयी एक चुनौती के परिणामस्वरूप अमेरिका कप की शुरुआत हुई; इस प्रतिस्पर्धा को न्यूयॉर्क यॉट क्लब लगातार जीतता रहा, लेकिन अंततः 1983 में उसे रॉयल पर्थ यॉट क्लब ऑफ ऑस्ट्रेलिया द्वारा हार का सामना करना पड़ा, जिसने ऑस्ट्रेलिया II को इस प्रतियोगिता में भेजा था। इस बीच, छोटी डोंगियों से बड़ी मैक्सी नौकाओं तक रेसिंग नौकाओं के मान्यता प्राप्त वर्गों के विकास के साथ नौका दौड़ का लगातार विकास होता रहा.

यद्यपि रेसिंग नौकाओं के विभिन्न प्रकार हैं, इन्हें सामान्यतः बड़ी नावों, जो बड़ी होती और जिनमें लंबी दूरी की यात्राओं के लिए सुविधाएं होती हैं; और छोटी बंदरगाह रेसिंग क्राफ्ट जैसे डोंगियां और छोटी नावों (स्किफ) में विभाजित किया जा सकता है। छोटी नावों को आम तौर पर पाल-नौकाओं (यॉट) के रूप में संदर्भित नहीं किया जाता है, यद्यपि सभी मनोरंजक नौकाएं (वाणिज्यिक या सैन्य जहाजों के विपरीत) यॉट होती हैं। इन दिनों, नौका रेसिंग और डोंगी रोसिंग विकसित दुनिया में एक सामान्य प्रतियोगी खेल है, विशेष रूप से जहां हवा की स्थिति अनुकूल है और पानी के यथोचित आकारों तक पहुँच उपलब्ध है। अधिकतर नौकायन का आयोजन समुद्र में किया जाता है, लेकिन छोटे क्राफ्ट से झीलों और यहां तक कि बड़ी नदियों में भी रेसिंग की जा सकती है और ऐसा किया भी जा रहा है।

डोंगी दौड़ का आयोजन सुरक्षित जल क्षेत्रों में छोटी नावों पर किया जाता है जिनमें दो या तीन लोग सवार होते हैं। रेसिंग नौकाओं के लिए सामान्य व्यवस्था स्लूप (छोटी नाव) है, यह एक खंभे वाली नाव होती है। कुछ डोंगियों में केवल एक त्रिकोणीय पाल होता है, लेकिन अधिकतर में दो को स्लूप के रूप में निर्मित किया जाता है, कुछ डोंगियां और लगभग सभी बड़ी रेसिंग नावों में एक बड़ा पाल लगा होता है जिसे हवा के साथ नाव चलाने के हिसाब से बनाया जाता है। अधिकतर दौड़ें समान डिजाइन के जलयानों के बीच आयोजित की जाती हैं ("वन डिजाइन" रेसिंग). इन दौड़ों में, समान उपकरणों के साथ परिवेश की स्थिति का सबसे अच्छा उपयोग करने में सक्षम नाविक की विजय होती है।

डोंगियों के डिजाइन में काफी भिन्नता पाई जाती है जिसमें नौसिखिए नाविकों के लिए छोटी, स्थिर और धीमी गति की नाव से लेकर अनुभवी नविकों के लिए हल्की और तेज गति की नावें शामिल हैं; तेज गति की नावों को सुरक्षित तथा प्रभावी रूप से चलाना अनुभवी दल के लिए भी मुश्किल हो सकता है। ऑस्ट्रेलिया की 18 फुट स्किफ क्लास सबसे तेज मोनोहल डोंगी है, यह अपेक्षाकृत कम हवा में भी 40 किमी प्रति घंटा (25 मील प्रति घंटा) की रफ्तार पकड़ लेती है। नौकायन, एक ऊबाउ खेल के रूप में प्रसिद्ध है,[कृपया उद्धरण जोड़ें] लेकिन स्किफ रेसिंग बहुत रोमांचक हो सकती है, विशेष रूप से अप्रत्याशित परिस्थितियों में जहां दल को अपनी नाव को सीधा रखने के लिए संघर्ष करना पड़ता है। विभिन्न मल्टी-हल रेसिंग श्रेणियाँ और भी अधिक तेज होती हैं। ग्रीष्मकालीन ओलिंपिक खेलों में विभिन्न वन-डिजाइन डोंगी वर्गों की दौड़ों का आयोजन किया जाता है।

बड़ी नौकाओं की दौड़ बंदरगाह पर भी होती है, लेकिन सबसे प्रतिष्ठित नौका दौड़ें पॉइंट-टू-पॉइंट लंबी दूरी की दौड़ होती हैं जिन्हें खुले समुद्र में आयोजित किया जाता है। खराब मौसम ऐसी दौड़ों में उपकरण और इच्छा शक्ति की कड़ी परीक्षा लेता है और समय समय पर नौकाएं और नाविक समुद्र में खो जाते हैं। ऐसा सबसे लंबा आयोजन "राउंड दी वर्ल्ड" होता है जिसे पूरा होने में महीनों का समय लग जाता है, लेकिन जो आयोजन प्रसिद्ध हैं उनमें यूनाइटेड किंगडम की फास्टनेट दौड़ और ऑस्ट्रेलिया के पूर्वी किनारे पर सिडनी से होबार्ट तक की नौका दौड़ शामिल है। बड़ी दौड़ें आमतौर पर एक "फर्स्ट पास्ट दी पोस्ट ट्रॉफी" (इसे "लाइन ऑनर्स" कहा जाता है) तथा एक बाधा प्रणाली के तहत आयोजित की जाती हैं जो नौकाओं के डिजाइन की सापेक्ष गति के अनुसार समाप्ति समय को एडजस्ट करती है, इससे सिद्धांततः प्रत्येक खिलाड़ी को बराबर का मौका मिलता है।

अन्य नौकायन कार्यक्रम[संपादित करें]

यद्यपि नौकायन समूह सबसे अधिक सक्रिय और प्रसिद्ध नौकायन प्रतियोगिताओं का आयोजन करते हैं, इसके अलावा भी दुनिया भर में अन्य नौकायन प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है: स्पीड मोटर बोट रेसिंग, प्रतिस्पर्धी कैनोइंग, डोंगी प्रतियोगिताएं और नौका खेने की प्रतियोगिता; और नौवहन प्रतियोगिता (आम तौर पर आकाशीय और लैंडमार्क आधारित नौवहन कौशल की परीक्षा जहां जीपीएस और अन्य विद्युत नौवहन उपकरणों की अनुमति नहीं होती) उन प्रतियोगिताओं में से हैं जिनका आयोजन दुनिया भर में किया जाता है। विशेष नौकाएं, जैसे हाइड्रोफॉइल्स, होवरक्राफ्ट्स, या व्यक्तिगत वाटरक्राप्ट भी ऐसी प्रतियोगिताओं में शामिल होती हैं जिनमें उपकरणों और कौशल (आमतौर पर, सुरक्षा की युक्ति निकलाने का कौशल) की परीक्षा शामिल होती है। इस तरह के सभी आयोजन, मनोरंजन या खेल के उद्देश्य से आयोजित किए जाने पर नौकायन की बड़ी दुनिया का एक हिस्सा बन जाते हैं।

नौकायन के अलावा नावों के उपयोग[संपादित करें]

नावों के आम वाणिज्यिक उपयोग जिन्हें नौकायन के रूप में नहीं लिया जाता है, उनमे शामिल हैं वाणिज्यिक रूप से मछली पकड़ना, शिपिंग, जल परिवहन संबंधी कार्य और सैन्य अनुप्रयोग. इन मामलों में, बड़े जलयानों को जहाज तथा छोटी नावों को जहाज या नौकाओं के रूप में निर्दिष्ट किया जाता है, हालांकि नाव एक सामान्य शब्द है जिसे मनोरंजक नौकाओं या छोटे आकार के वाणिज्यिक अथवा सैन्य जहाजों के लिए लागू किया जा सकता है।

क्रूज़िंग (समुद्री पर्यटन) तथा नौकायन - एक जीवन शैली के रूप में[संपादित करें]

क्रूज़िंग में नाव पर यात्रा करना शामिल होता है, चाहे वह महान झीलों की खाड़ियों (अमेरिका में) में हो या फिर दक्षिणी प्रशांत क्षेत्र में एक द्वीप से दूसरे द्वीप तक. लंबी दूरी की क्रूज़िंग के लिए नाव को संभालने के अतिरिक्त, आत्म निर्भरता तथा प्रचुर मात्रा में कौशल एवं दक्षता की आवश्यकता होती है। नौवहन, मौसम विज्ञान, यांत्रिक और विद्युत प्रणालियों, रेडियो, प्राथमिक उपचार, समुद्र में जीवित रहने की कला, पोषण आदि जैसे विषयों की जानकारी आवश्यक है और दूर-दराज के तटों की यात्रा के दौरान जीवनरक्षक साबित हो सकती है। अमेरिका में, युनाइटेड स्टेट्स सेल एंड पॉवर स्क्वाड्रन इन कौशलों में पाठ्यक्रम और प्रमाणपत्र प्रदान करते हैं। ब्रिटेन में, रॉयल नौकायन संगठन द्वारा एक प्रमाणन प्रणाली चलायी जाती है। अन्य देशों में भी संगठनों द्वारा इसी तरह की प्रणालियों की पेशकश की जाती है और आमतौर पर इसमें सैद्धांतिक और व्यावहारिक दोनों तरह के पाठ्यक्रम शामिल होते हैं।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]