नुक़्ता

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नुक़्ता देवनागरी, गुरमुखी और अन्य ब्राह्मी परिवार की लिपियों में किसी व्यंजन अक्षर के नीचे लगाए जाने वाले बिंदु को कहते हैं। इस से उस अक्षर का उच्चारण परिवर्तित होकर किसी अन्य व्यंजन का हो जाता है। मसलन 'ज' के नीचे नुक्ता लगाने से 'ज़' बन जाता है और 'ड' के नीचे नुक्ता लगाने से 'ड़' बन जाता है। नुक़्ते ऐसे व्यंजनों को बनाने के लिए प्रयोग होते हैं जो पहले से मूल लिपि में न हों, जैसे कि 'ढ़' मूल देवनागरी वर्णमाला में नहीं था और न ही यह संस्कृत में पाया जाता है। अरबी-फ़ारसी लिपि में भी अक्षरों में नुक़्तों का प्रयोग होता है, मसलन 'ر' का उच्चारण 'र' है जबकि इसी अक्षर में नुक़्ता लगाकर 'ز' लिखने से इसका उच्चारण 'ज़' हो जाता है।

'नुक़्ता' शब्द की जड़ें और हिन्दी में अन्य प्रयोग[संपादित करें]

मूल रूप से 'नुक़्ता' अरबी भाषा का शब्द है और इसका मतलब 'बिंदु' होता है। साधारण हिन्दी-उर्दू में इसका अर्थ 'बिंदु' ही होता है।[1] उदाहरण के लिए:

  • नुक़्ता-ए-नज़र - इसका अर्थ 'दृष्टि का बिंदु' (viewpoint) यानि 'दृष्टिकोण' होता है
  • नुक़्ता उठाना - इसका अर्थ किसी चीज़ के बारे में चर्चा उठाना होता है (raise a point)
  • नुक़्ताचीनी करना - इसका अर्थ छोटी-छोटी बातों (बिन्दुओं) को लेकर चूँ-चूँ या बहस करना होता है
  • नुक़्ता लगाना - किसी पर धब्बा, दोष या आरोप लगा देना

नुक़्तों वाले अक्षर[संपादित करें]

हिन्दी में प्रयोग होने वाले नुक़्तेदार अक्षर और उनके बिना नुक्ते वाले रूप नीचे की तालिका दिए गए हैं। उनके हन्टेरियन लिप्यन्तरण और अन्तर्राष्ट्रीय ध्वन्यात्मक वर्णमाला चिह्न भी दिए गए हैं। जहाँ उपलब्ध है उनके लिए एक बजाई जा सकने वाले ध्वनि भी दी गई है।

नुक़्ता-रहित नुक़्ता-सहित
k
/k/
क़ q
/q/
kh
/kʰ/
ख़ k͟h
/x/
g
/g/
ग़ g͟h
/ɣ/
j
/dʒ/
ज़ z
/z/
jh
/jʰ/
झ़ zh
/ʒ/

/ɖ/
ड़
/ɽ/
ḍh
/ɖʱ/
ढ़ ṛh
/ɽʱ/
ph
/pʰ/
फ़ f
/f/

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. A Dictionary Of Urdu, Classical Hindi And English, John T. Platts, pp. 1146, Kessinger Publishing, 2004, ISBN 978-0-7661-9231-7, ... to mark (a letter) with (the diacritical) points ... A point, a dot ...