नीलकमल (1947 फ़िल्म)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
नीलकमल
चित्र:नीलकमल.jpg
नीलकमल का पोस्टर
निर्देशक किदार नाथ शर्मा
निर्माता किदार नाथ शर्मा
पटकथा किदार नाथ शर्मा
अभिनेता राज कपूर,
मधुबाला
प्रदर्शन तिथि(याँ) 24 मार्च, 1947
देश भारत
भाषा हिन्दी

नीलकमल 1947 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है।

संक्षेप[संपादित करें]

चरित्र[संपादित करें]

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

दल[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

बाबुल की दुआएं लेती जा जा तुझको सुखी संसार मिले मैके की कभी ना याद आए ससुराल में इतना प्यार मिले बाबुल की दुआएं ...

नाज़ों से तुझे पाला मैंने कलियों की तरह फूलों की तरह बचपन में झुलाया है तुझको बाँहों ने मेरी झूलों की तरह मेरे बाग़ की ऐ नाज़ुक डाली तुझे हर पल नई बहार मिले बाबुल की दुआएं ...

जिस घर से बँधे हैं भाग तेरे उस घर में सदा तेरा राज रहे होंठों पे हँसी की धूप खिले माथे पे ख़ुशी का ताज रहे कभी जिसकी जोत न हो फीकी तुझे ऐसा रूप-सिंगार मिले बाबुल की दुआएं ...

बीतें तेरे जीवन की घड़ियाँ आराम की ठंडी छाँवों में काँटा भी न चुभने पाए कभी मेरी लाड़ली तेरे पाँवों में उस द्वार से भी दुख दूर रहें जिस द्वार से तेरा द्वार मिले बाबुल की दुआएं ...

रोचक तथ्य[संपादित करें]

परिणाम[संपादित करें]

बौक्स ऑफिस[संपादित करें]

समीक्षाएँ[संपादित करें]

नामांकन और पुरस्कार[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]