निव्ख़ लोग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
निव्ख़ों का एक समूह
अपनी पारम्परिक वेशभूशा में दो निव्ख़ शिकारी

निव्ख़ या निव्ख़ी (रूसी भाषा: Нивхи, अंग्रेज़ी: Nivkh) या गिल्यक एक मानव समुदाय है जो रूस के सूदूर-पूर्व में साख़ालिन द्वीप और ख़ाबारोव्स्क क्राय में अमूर नदी के सागर से मिल जाने वाले क्षेत्र में रहता है। यह इस क्षेत्र के प्राचीनतम निवासी माने जाते हैं। प्राचीनकाल में यह गर्मियों में समुद्र-तटों के पार और सर्दियों में तटों से हटकर नदी-झरनों के पास मछुआरों और शिकारियों का जीवन व्यतीत करते थे। सन् २००२ की रूसी जनगणना में इनकी अनुमानित आबादी केवल ५,२८७ गिनी गई थी। इनकी भाषा बिलकुल पृथक है और इसका किसी भी अन्य ज्ञात भाषा से सम्बन्ध नहीं, हालांकि इस भाषा के अन्दर चार ज्ञात उपभाषाएँ हैं।[1]

नाम का उच्चारण[संपादित करें]

'निव्ख़' में 'ख़' अक्षर के उच्चारण पर ध्यान दें क्योंकि यह बिना बिन्दु वाले 'ख' से ज़रा भिन्न है। इसका उच्चारण 'ख़राब' और 'ख़रीद' के 'ख़' से मिलता है।

इतिहास[संपादित करें]

माना जाता है कि निव्ख़ों के पूर्वज साइबेरिया में बायकल झील से पूर्व में आज से १०,००० साल से भी पहले पहुंचे। निव्ख़ों के बाद इस क्षेत्र में बहुत सी अन्य जातियाँ आई जिनसे निव्ख़ों को बहुत हानि हुई। पहले यहाँ तुन्गुसी लोग आए, जिनके एक मान्छु-नामक समुदाय ने निव्ख़ों से लगान लेना शुरू कर दिया। १९वीं सदी तक इस इलाक़े में रूसी साम्राज्य का क़ब्ज़ा हो गया और रूसी कोज़ाकों ने निव्ख़ ज़मीनों को अपना बनाकर निव्ख़ों को एक छोटा-सा निर्धन अल्पसंख्यक समुदाय बना छोड़ा। आधुनिक युग में बहुत से निव्ख़ों ने रूसी रहन-सहन और खान-पान अपना लिया है। धार्मिक दृष्टि से अधिकतर निव्ख़ ओझा प्रथा में विशवास रखते हैं हालांकि कुछ ने रूसी ईसाई धर्म अपना लिया है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Prehistoric Hunter-Gatherers of the Baikal Region, Siberia: Bioarchaeological Studies of Past Life Ways, University of Pennsylvania Press, 2010, ISBN 978-1-934536-11-7, ... The relic populations—such as Kets, Yukagirs, Nivkhs, Koryaks, and Chukchi, which are also considered to be linguistic isolates (Levin and Potapov 1964; Fitzhugh and Crowell 1998)—may represent the remnants of older ethnic groups or populations that were pushed into the peripheral areas of Siberia as groups with new subsistence strategies (eg, reindeer herding) moved into their former territories (Levin and Potapov 1964; Simchenko 1976) ...