नारीन प्रांत

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
नारीन ओब्लास्त
Нарын областы
मानचित्र जिसमें नारीन ओब्लास्तНарын областы हाइलाइटेड है
सूचना
राजधानी : नारीन
क्षेत्रफल : ४५,२०० किमी²
जनसंख्या(२००९):
 • घनत्व :
२,४५,२६६
 ६/किमी²
उपविभागों के नाम: रायोन
उपविभागों की संख्या:
मुख्य भाषा(एँ): किरगिज़


कोचकोर शहर में एक मस्जिद

नारीन प्रांत (किरगिज़: Нарын областы, अंग्रेज़ी: Naryn Province) मध्य एशिया के किर्गिज़स्तान देश का एक प्रांत है। इस प्रांत की राजधानी भी नारीन नाम का ही शहर है।

विवरण[संपादित करें]

नारीन प्रान्त की स्थापना सोवियत संघ के ज़माने में २१ नवम्बर १९३९ में तियान-शान प्रांत के नाम से हुई थी लेकिन २० दिसंबर १९६२ को इसका प्रांतीय स्तर हटा दिया गया। ११ दिसंबर १९७० को इसका फिर से गठन हुआ लेकिन ५ अक्टूबर १९८८ को इसका इसिक कुल प्रान्त में विलय कर दिया गया। १४ दिसंबर १९९० को इसे फिर 'नारीन प्रान्त' के नाम से प्रांतीय दर्जा मिला।[1] यह प्रांत एक आकर्षक पहाड़ी इलाका है जहाँ सुन्दर पर्वत, झरने और ऊंचे पहाड़ी मैदान विस्तृत हैं। इस प्रांत की सोन-कुल (Son-Kul) और चतिर-कुल (Chatyr-Kul) झीलें मशहूर हैं। यहाँ एक 'ताश रबत' (Tash Rabat) नामक १५वीं सदी का पत्थर का एक सराय भी है जहाँ यात्री सस्ताया करते थे।

सन् २००९ की जनगणना में प्रांत के ९९.२% लोग किरगिज़ समुदाय के थे। इसके अलावा यहाँ उज़बेक, दूंगन, उइग़ुर, काज़ाख़ और रूसी जातियों के छोटे समुदाय भी रहते हैं। यह प्रान्त किरगिज़स्तान का सबसे ग़रीब सूबा माना जाता है। यहाँ भेड़ों, घोड़ों और यैकों का पशु-पालन आमदन का मुख्य स्रोत है और इनसे दूध, ऊन और मांस बनता है। सोवियत ज़माने में यहाँ खनिजों की खानें विकसित की गई लेकिन उनसे ज़्यादा मुनाफ़ा नहीं हुआ और वे अधिकतर बंद हो गई हैं।

नारीन प्रांत के कुछ नज़ारे[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Dilemmas of Transition in Post-Soviet Countries, Joel C. Moses, Rowman & Littlefield, 2003, ISBN 978-0-8304-1590-8, ... Residents of the Naryn region, then joined with the neighboring oblast of Issyk-Kul, began to question why the two provinces had been united ...