नाभि-हर्निया

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Umbilical hernia
वर्गीकरण व बाहरी संसाधन
Children with umbilical hernias, Sierra Leone (West Africa), 1967.jpg
Children with umbilical hernias, Sierra Leone (West Africa), 1967.
आईसीडी-१० K42.
आईसीडी- 551-553
रोग डाटाबेस 23647
मेडलाइन+ 000987
एमईएसएच D006554

जन्मजात नाभि-हर्निया एक जन्मजात विकृति है, जो अफ्रीकी वंश परंपरा के शिशुओं में आम बात है। वयस्कों के बीच, यह पुरुषों की अपेक्षा महिलाओं अधिक आम होती है; बच्चों के बीच, अनुपात मोटे तौर पर बराबर होता है।[1] एक अवंशानुगत (उपार्जित) नाभि-हर्निया प्रत्यक्ष रूप से मोटापा, भारी उत्थापन, खांसने के लंबे इतिहास या एकाधिक गर्भधारण के कारण उत्पन्न उदर के अन्दर बढ़े हुए दवाब के परिणामस्वरूप होता है।[2]

प्रस्तुतिकरण[संपादित करें]

हर्निया नवजात शिशुओं में नाभि के स्थान में (जिसे आम तौर पर ठुण्डी या शुण्डी कहा जाता है); यद्यपि ये कभी-कभी बहुत बड़े होते हैं, इन हर्निया में 5 वर्ष के उम्र के आसपास तक बिना इलाज के विघटित होने की प्रवृति होती है।[तथ्य वांछित] हर्निया का अवरोध या रुकावट दुर्लभ होता है क्योंकि उदर की दीवार में आधारभूत दोष नवजात शिशु में होने वाले वंक्षण हर्निया की तुलना में अधिक बड़ा होता है। बहिसरणित उतक के आधार का आकार रुकावट के जोखिम से विपरीत रूप से सहसंबंधित होता है (अर्थात संकीर्ण आधार में रुकावट की अधिक संभावना होती है).

भ्रूण विकास की प्रक्रिया के कारण बच्चे इस विकृति के प्रति प्रवृत्त होते हैं जिसके द्वारा उदर गुहा के बाहर तैयार होने वाले उदर संबंधी अंग बाद में इसमें एक छिद्र के माध्यम से वापस लौटते हैं जो नाभि बन जाएगा.

सापेक्ष रोगनिदान[संपादित करें]

महत्वपूर्ण रूप से इस प्रकार के हर्निया का भेद नाभिक के पास (परानाभिक) हर्निया से अवश्य किया जाना चाहिए, जो वयस्कों में होता है एवं जिसमें नाभि के पास में मध्य रेखा तथा नाभि तुण्ड में एक दोष रहता है।

उपचार[संपादित करें]

जब मुख छोटा होता है (<1 या 2 सेमी), 3 वर्षों के भीतर 90% बंद (कुछ सूत्र आकार की परवाह किये बिना सभी नाभि हर्निया का 85% कहते हैं[3]), एवं यदि ये हर्निया बिना रोग लक्षण वाले, कम किये जाने वाले एवं नहीं बढ़ने वाले होते हैं तो किसी शल्य-चिकित्सा की जरुरत नहीं होती है (और अन्य स्थितियों में इस पर अवश्य विचार किया जाना चाहिए. कुछ समुदायों में माताओं में नियमित रूप से छोटे उभार निकल आते हैं एवं वे स्पर्श योग्य हर्निया छेड़ के ऊपर एक सिक्का लगा देते हैं जब तक कि संवरण उत्पन्न नहीं होता है। चिकित्सात्मक रूप से इस अभ्यास की सलाह नहीं दी जाती है क्योंकि सिक्के के हिस्से के भीतर आंत्र के पाश के फंस जाने का छोटा जोखिम होता है जिसके परिणामस्वरूप वहां स्थानिक-अरक्तता संबंधी एक छोटा क्षेत्र तैयार होता है। हर्निया को निरंतर कम करने के लिए बन्देजों या अन्य वस्तुओं का उपयोग साक्ष्य पर आधारित नहीं है।

एक नाभि हर्निया को 2 अलग-अलग तरीकों से ठीक किया जा सकता है। शल्य-चिकित्सक (सर्जन) उदर की दीवारों पर टांका लगाना पसंद कर सकते हैं या वे मुख के ऊपर जाली रख सकते हैं एवं उसे उदर की दीवारों में टांक सकते हैं। बाद वाले विकल्प का एक मजबूत आधार है और इसका प्रयोग आमतौर पर उदर की दीवार में बड़े चीरे के लिए किया जाता है। अधिकांश शल्य-चिकित्सक बच्चे के जन्म लेने के छः सप्ताह बाद हर्निया की मरम्मत करते हैं।[तथ्य वांछित]

नाभिकीय भौतिकी के पिता, अर्नेस्ट रदरफोर्ड, की मृत्यु इस स्थिति के लिए की गई शल्य-चिकित्सा के बाद होने वाली जटिलता के कारण हो गई।[तथ्य वांछित]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • भ्रूण संबंधी विकास
  • अम्बिलिकोप्लास्टी (नाभि या तुण्डी शल्य-चिकित्सा)
  • परानाभिक हर्निया

संदर्भ[संपादित करें]

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]