दुर्गाचरण महान्ति

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Nuvola apps ksig.png
दुर्गाचरण महान्ति
जन्म 1912
बिरतुंग
मृत्यु 7 दिसम्बर 1985(1985-12-07) (उम्र 73)
उपजीविका धार्मिक लेखक
भाषा ओडिया
राष्ट्रीयता भारतीय
जातीयता ओडिया
शिक्षा मट्रिक
प्रमुख कार्य लेखक : श्री श्री ठाकुर निगमानंद ; संसार पथे (५ खंड) भाष्यकार : योगिगुरु,ज्ञानिगुरु,तंत्रिक्गुरु, प्रेमिकगुरु, ब्रहमचर्य साधन
प्रमुख पुरस्कार ओडिया साहित्य अकादेमी प्रथम पुरस्कार (१९५६-५८)


दुर्गाचरण महान्ति (१९१२-१९८५) ओडिशा, कोणार्क, पूरी जिले गोप थाने के अंतर्गत बीरतुंग ग्राम में १९१२ की कार्तिक त्रयोदशी तिथि में जन्म ग्रहण केए थे | उनके द्वारा लिखित भगवान् शंकराचार्य पुस्तक को ओडिशा साहित्य अकादमी की और से, १९५७-५८, में प्रथम पुरस्कार प्राप्त हुआ था | सदगुरू निगमानंद के एकनिष्ठ भक्त के रूप में बे सुपरिचित | ठाकुर निगमानंद के प्रतिष्ठान नीलाचल सारस्वत संघ का बे संपादक/परिचालक थे | दुर्गाचरण महान्ति ठाकुर निगमानंद के स्वचरित योगी गुरु, तांत्रिक गुरु, ज्ञानी गुरु, प्रेमिक गुरु, ब्रहमचर्य साधन पुश्तोकों का बंगला भाषा से ओडिया भाषा में अनुबाद किया है | उसके अलाबा बे अपनी ग्राम बीरतुंग के भोलुन्टर आसोसियन का सवापति थे | उनके प्रयास से सत् शिखया के बिस्तार के लिए बीरतुंग गाबं में सारस्वत बिद्यापिठ की स्थापना हुई |

परिवार ओर शिक्षा[संपादित करें]

उनके पिता का नाम गुणनिधि महान्ति ओर माता का नाम सुन्दरमणि देबी था । ओडिशा के गोप थाना अन्त्रर्गत मदरंग ग्राम मे उनके पिता तहसिलदार नौकरी कर रहे थे । माता नीलाचल सारस्बत महिला संघ का सभानेत्रि थे । १९२९ मे दुर्गाचरण पुरी जिल्ला स्कुल का नौंबी कक्षा का छात्र थे ।

आध्यात्मिक बिकास[संपादित करें]

१९२९ मे श्रिश्रि ठाकुर निगमानन्द का उनको पहला दर्शन हुआ था । उन्होने ५ जुन, १९३४ को नीलाचल कुटिर मे ठाकुर निगमानन्द से दिक्षा ली थी । प्रारम्भ से ही वे उत्कल (ऑडिशा) मे ठाकुर निगमानन्द की भावधारा के प्रचार केलिए चेष्टा करते आये हें । सद्गुरु निगामानन्द के प्रतिष्ठत नीलाचल सारस्वत संघ के संपादक/परिचालक थे । फिलाल वे नीलाचल सारस्वत संघ के परिचालक के रुप से माना जाता हे ।

किताब रचना[संपादित करें]

मुख्य अबदान[संपादित करें]

यह भी देखें[संपादित करें]

ध्यान दें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]