दंत प्रत्यारोपण

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
साइनस फ्लोर को उठाने में प्रयुक्त बोन ग्राफ्ट वाले मैक्सिलरी लेफ्ट परमानेंट फर्स्ट मोलर की साईट पर स्थापित एक स्ट्रामान-ब्रांड रूट-फॉर्म एंडोसियस दंत प्रत्यारोपण.

दंत प्रत्यारोपण दांतों की एक बनावटी जड़ है जिसका इस्तेमाल दंत चिकित्सा में दांतों को फिर से स्थापित करने के लिए किया जाता है जो देखने में दांत या दांतों के समूह की तरह लगते हैं.

आजकल किए जाने वाले लगभग सभी दंत प्रत्यारोपण जड़-रूप अंतर्स्थिकलात्मक प्रत्यारोपण (रूट-फॉर्म एंडोसियस इम्प्लांट्स) होते हैं. दूसरे शब्दों में इक्कीसवीं सदी में किए जाने वाले लगभग सभी दंत प्रत्यारोपण देखने में दांतों की एक वास्तविक जड़ की तरह लगते हैं (और इस प्रकार एक "जड़ का रूप" धारण कर लेते हैं) और इन्हें हड्डी के भीतर स्थापित किया जाता है (एंड- "में" का यूनानी उपसर्ग है और ओसियस का मतलब "हड्डी" है).

रूट-फॉर्म एंडोसियस इम्प्लांट्स के आगमन से पहले ज्यादातर प्रत्यारोपण या तो ब्लेड एंडोसियस इम्प्लांट्स होते थे जिनमें हड्डी के भीतर लगाए जाने वाले धातु के टुकड़े की आकृति देखने में चपटे ब्लेड की तरह लगती थी या सबपेरीयोस्टील इम्प्लांट्स होते थे जिनमें जबड़े की दिखाई देने वाली हड्डी पर स्थापित करने के लिए एक रूपरेखा का निर्माण किया जाता था और उसे उस हड्डी के साथ स्क्रू की सहायता से जोड़ दिया जाता था.

दंत प्रत्यारोपणों का इस्तेमाल दांत के ऊपरी भाग, प्रत्यारोपण समर्थित पुल या बनावटी बत्तीसी सहित कई बनावटी दांतों की पंक्ति (डेंटल प्रॉस्थेसिस) को सहारा देने के लिए किया जाता है.

इतिहास[संपादित करें]

यह दर्शाया गया है कि माया सभ्यता के लोग, पेर-इंग्वर ब्रेनमार्क द्वारा टाइटेनियम का इस्तेमाल शुरू करने के लगभग 1,350 साल पहले से ही एंडोसियस इम्प्लांट्स (हड्डी में स्थापित किए गए प्रत्यारोपण) का इस्तेमाल करते रहे हैं. 1931 में होन्डुरास में माया कब्रिस्तान की खुदाई करते समय पुरातत्वविदों को लगभग 600 ई. पुराने माया मूल के जबड़े का एक टुकड़ा मिला. इस जबड़े, जो शायद किसी बीस साल की महिला का था, में दांत के आकार के खोल के तीन टुकड़े थे जिन्हें तीन लापता निचले कृंतक दांतों के कोटर में स्थापित किया गया था. चालीस साल तक पुरातात्विक जगत के लोग यही मानते रहे कि इन खोलों को लगभग उसी तरीके से उस महिला की मौत के बाद स्थापित किया गया था जिस तरीके का इस्तेमाल प्राचीन मिस्रवासियों में भी देखा गया था. हालांकि 1970 में ब्राजील के एक दंत शिक्षक प्रोफ़ेसर अमाडियो बोबियो ने उस जबड़े के नमूने का अध्ययन किया और उसके कई रेडियोग्राफ लिए. उनका ध्यान उनमें से दो प्रत्यारोपणों के चारों तरफ की घनी हड्डी संरचना पर गया जिससे वे इस निष्कर्ष पर पहुंचे कि इन प्रत्यारोपणों को उस महिला के जिन्दा रहने के दौरान स्थापित किया गया था.

1950 के दशक में इंग्लैण्ड में कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में जीवित ऊतक के अंदर खून के बहाव पर अध्ययन करने के लिए एक शोध किया जा रहा था. इन कर्मचारियों ने टाइटेनियम के एक चैंबर के निर्माण की एक विधि की योजना बनाई और उसके बाद उसे खरगोशों के कानों के कोमल ऊतक में अंतःस्थापित कर दिया. हड्डियों को ठीक करने और उनको फिर से उत्पन्न करने में दिलचस्पी लेने वाले स्वीडिश विकलांग शल्य चिकित्सक पी आई ब्रेनमार्क ने 1952 में खरगोश के जांघ की हड्डी में इस्तेमाल करने के लिए कैम्ब्रिज में डिजाइन किए गए "खरगोश के कान के चैंबर" को अपनाया. कई महीनों के अध्ययन के बाद उन्होंने खरगोशों से इन महंगे चैम्बरों को पुनः प्राप्त करने का प्रयास किया और देखा कि वह उन्हें निकालने में असमर्थ थे. ब्रेनमार्क के पर्यवेक्षण के अनुसार टाइटेनियम के साथ हड्डी का विकास इतना करीब से हो गया था कि यह प्रभावी रूप से धातु से जुड़ गया था. ब्रेनमार्क ने जानवर और मनुष्य दोनों पर इस घटना और कई अध्ययन किए जिनमें से सभी अध्ययनों में टाइटेनियम के इस अनोखे गुण की पुष्टि हुई.

इस बीच स्टेफानो मेल्चियाड ट्रेमोंटे नामक एक इतालवी चिकित्सक के दिमाग में यह बात आई कि दांतों को फिर से स्थापित करने के लिए टाइटेनियम का इस्तेमाल किया जा सकता है और उन्होंने अपने खुद के नकली दांतों को सहारा देने के लिए टाइटेनियम के एक स्क्रू को तैयार करके 1959 में अपने क्लिनिक में कई रोगियों पर इसका इस्तेमाल करना शुरू कर दिया. इंसानों पर उनके नैदानिक अध्ययनों के अच्छे परिणामों को 1966 में प्रकाशित किया गया.[1]

हालांकि ब्रेनमार्क का वास्तव में यह मानना था कि सबसे पहले इसका इस्तेमाल घुटने और कूल्हे की सर्जरी के लिए किया जाना चाहिए लेकिन अंत में उन्होंने फैसला किया कि निरंतर क्लिनिकल पर्यवेक्षणों के लिए मुंह अधिक सुलभ था और आम लोगों में एडेन्टुलिज्म की उच्च दर होने के कारण काफी विस्तृत अध्ययन के लिए अधिक संख्या में रोगी उपलब्ध थे. उन्होंने टाइटेनियम के साथ हड्डी के नैदानिक रूप से पर्यवेक्षित अनुपालन को 'ओसियोइंटीग्रेशन' नाम दिया. 1965 में स्वीडन में गोथेनबर्ग यूनिवर्सिटी में एनाटॉमी के तत्कालीन प्रोफ़ेसर ब्रेनमार्क ने गोस्टा लार्सन नामक एक स्वीडनवासी मानव स्वयंसेवक के दांतों में अपना सबसे पहला टाइटेनियम दन्त प्रत्यारोपण किया.

स्टीवंस और अलेक्जेंडर द्वारा संयुक्त राज्य अमेरिका में समकालीन स्वतंत्र शोध के फलस्वरूप 1969 में टाइटेनियम दन्त प्रत्यारोपणों के अमेरिकी पेटेंट के लिए फाइलिंग की गई.[2]

अगले चौदह सालों में ब्रेनमार्क ने डेंटल इम्प्लांटोलॉजी में टाइटेनियम के इस्तेमाल पर किए गए कई अध्ययनों को प्रकाशित किया; उसके बाद 1978 उन्होंने अपने डेंटल इम्प्लान्ट्स के विकास और विपणन के लिए स्वीडिश डिफेन्स कंपनी बोफोर्स एबी के साथ एक व्यावसायिक समझौते पर हस्ताक्षर किये. जनक कंपनी के रूप में बोफोर्स (जो बाद में नोबेल इन्डस्ट्रीज बनी) के साथ डेंटल इम्प्लांटोलॉजी पर ध्यान केंद्रित करने के लिए 1981 में नोबेलफार्मा एबी (बाद में नोबेल बायोकेयर नाम पड़ा) की स्थापना की गई. अब तक 7 मिलियन से भी अधिक ब्रेनमार्क सिस्टम इम्प्लान्ट्स को स्थापित किया जा चुका है और सैकड़ों अन्य कंपनियां डेंटल इम्प्लान्ट्स का निर्माण करती हैं. फ़िलहाल उपलब्ध ज्यादातर डेंटल इम्प्लान्ट्स का आकार छोटे-छोटे स्क्रू की तरह है जिनके अगल-बगल के हिस्से या तो पतले या समानांतर हैं. उन्हें दांत निकालने के दौरान ही दांत के कोटर की दीवारों की हड्डी के साथ और कभी-कभी कोटर के ऊपरी सिरे से परे हड्डी के साथ भी स्थापित किया जा सकता है. वर्तमान सबूतों से पता चलता है कि सीधे निष्कर्षण कोटर में लगाए गए इम्प्लान्ट्स स्वस्थ हड्डी में लगाए गए इम्प्लान्ट्स की तुलना में अधिक कारगर साबित हुए हैं.[3] सावधानीपूर्वक चयनित मामलों में ताजे निष्कर्षण कोटरों (उसी समय अस्थायी क्राउन को स्थापित किया जाता है) में लगाए गए डेंटल इम्प्लान्ट्स के तुरंत पुनर्स्थापनों की सफलता दर और रेडियोग्राफिक परिणामों से पता चला है कि थोड़ी देर से लगाए जाने वाले डेंटल इम्प्लान्ट्स (जहां क्राउन को कुछ सप्ताह या महीने बाद लगाया जाता है) की तुलना में ये अधिक कारगर हैं.[4]

डेंटल इम्प्लांटोलॉजी के कुछ मौजूदा अनुसन्धान में डेंटल इम्प्लान्ट्स के निर्माण में जिर्कोनिया (ZrO2) जैसे सीरमयुक्त पदार्थों के इस्तेमाल पर ध्यान दिया जा रहा है. जिर्कोनिया जिर्कोनियम का डाइऑक्साइड है जो आवधिक सारणी (पीरियोडिक टेबल) के हिसाब से टाइटेनियम की एक लगभग समकालीन धातु है और जिसमें टाइटेनियम की तरह ही बायोकम्पैटबिलटी (जैवसुसंगति) गुण पाए जाते हैं.[5] हालांकि आम तौर पर टाइटेनियम इम्प्लान्ट्स के समान आकार का होने की वजह से कई सालों तक आर्थोपेडिक सर्जरी के लिए सफलतापूर्वक इस्तेमाल किए जा चुके जिर्कोनिया से इसके चमकदार दांत जैसे रंग की वजह से सुंदरता की दृष्टि से दांत की सुंदरता में और वृद्धि होने का लाभ मिल सकता है.[6] हालांकि दैनिक अभ्यास के लिए एक-अंशीय ZrO2 इम्प्लान्ट्स का सुझाव देने से पहले दीर्घकालिक क्लिनिकल डेटा की जरूरत है.[7]

संघटक (संरचना)[संपादित करें]

एक विशेष इम्प्लांट में एक टाइटेनियम स्क्रू होता है (जो देखने में दांत की जड़ की तरह लगता है) जिसकी सतह खुरदरी या चिकनी होती है. ज्यादातर डेंटल इम्प्लान्ट्स का निर्माण वाणिज्यिक दृष्टि से शुद्ध टाइटेनियम से होता है जो इसमें मौजूद कार्बन और लोहे की मात्रा के आधार पर 4 स्तरों में उपलब्ध है.[8] अभी हाल ही में पांचवें स्तर के टाइटेनियम का इस्तेमाल जोर-शोर से हो रहा है. पांचवें ग्रेड के टाइटेनियम को टाइटेनियम 6एएल-4वी नाम दिया गया है (जिससे यह पता चलता है कि टाइटेनियम मिश्र धातु में 6% एल्यूमीनियम और 4% वैनेडियम मिश्र धातु है) जिसके बारे में लोगों का मानना है कि यह वाणिज्यिक दृष्टि से शुद्ध टाइटेनियम के समान ही ओसियोइंटीग्रेशन स्तर प्रदान करता है. टाइटेनियम 6एएल-4वी मिश्र धातु बेहतर तन्य शक्ति और अस्थिभंग प्रतिरोध प्रदान करता है. आज भी ज्यादातर इम्प्लान्ट्स का निर्माण वाणिज्यिक दृष्टि से शुद्ध टाइटेनियम (ग्रेड 1 से 4) से होता है लेकिन कुछ इम्प्लांट सिस्टम्स (एंडोपोर्स और नैनो टाईट) का निर्माण टाइटेनियम 6एएल-4वी मिश्र धातु से किया जाता है.[9] इम्प्लांट की सतह के क्षेत्रफल और इसकी एकीकरण क्षमता को बढ़ाने के लिए इम्प्लांट की सतहों को प्लाज्मा छिड़काव, ऐनडाइजिंग (उद्‌-द्वारीकरण),[10] नक्काशी या सैंडब्लास्टिंग (बालू क्षेपण) द्वारा रूपांतरित किया जा सकता है.

प्रशिक्षण[संपादित करें]

डेंटल इम्प्लान्ट्स के लिए एडीए द्वारा किसी विशेषज्ञता को मान्यता नहीं दी गई है. इम्प्लांट सर्जरी को एक आउटपेशेंट के रूप में सामान्य संज्ञाहरण, मौखिक जागरूक दर्दनाशक औषधि प्रयोग, नाइट्रस ऑक्साइड दर्दनाशक औषधि प्रयोग, नसों के भीतर दर्दनाशक औषधि प्रयोग या जनरल डेंटिस्ट, ओरल सर्जन, पेरियोडोंटिस्ट, और प्रोस्थोडोंटिस्ट सहित प्रशिक्षित और प्रमाणित क्लिनिशियनों द्वारा स्थानीय संज्ञाहरण के तहत किया जा सकता है.

इम्प्लांट उपचार करने वाले डेंटिस्ट के लिए वैध प्रशिक्षण आवश्यकताओं में देश के आधार पर भिन्नता पाई जाती है. यूके में इम्प्लांट डेंटिस्ट्री को जनरल डेंटल काउंसिल द्वारा डेंटिस्ट्री का एक पोस्टग्रेजुएट क्षेत्र माना जाता है. दूसरे शब्दों में यूनिवर्सिटी डेंटल डिग्री पाठ्यक्रम के अध्यापन के दौरान इसे पर्याप्त रूप से कवर नहीं किया जाता है और डेंटल इम्प्लांटोलॉजी में अभ्यास की इच्छा रखने वाले डेंटिस्ट को कानूनी तौर पर अतिरिक्त औपचारिक पोस्टग्रेजुएट ट्रेनिंग लेनी पड़ती है. जनरल डेंटल काउंसिल ने जनरल डेंटल प्रैक्टिस में डेंटल इम्प्लान्ट्स को स्थापित करने में सक्षम होने के लिए डेंटिस्ट के लिए आवश्यक प्रशिक्षण पर सख्त दिशानिर्देशों को प्रकाशित किया है.[11] रोगियों को इम्प्लांट डेंटिस्ट्री प्रदान करने से पहले यूके डेंटिस्ट को एक योग्यता मूल्यांकित स्नातकोत्तर विस्तृत शिक्षण कार्यक्रम को पूरा करना पड़ता है.

इम्प्लान्ट्स के सर्जिकल स्थापन में प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले स्नातक और स्नातकोत्तर दन्त चिकित्सकों की उपाधि में देश के आधार पर भिन्नता पाई जाती है[12][13][14] लेकिन ऐसा लगता है कि औपचारिक प्रशिक्षण की कमी के फलस्वरूप उच्च जटिलता दरों का सामना करना पड़ेगा.[15]

सर्जिकल प्रोसीजर (शल्य प्रक्रिया)[संपादित करें]

सर्जिकल प्लानिंग (शल्य चिकित्सा योजना निर्माण)[संपादित करें]

सर्जरी शुरू करने से पहले सबसे ज्यादा अपेक्षित परिणाम प्राप्त करने के लिए इम्प्लान्ट्स को अच्छी तरह से अनुकूल बनाने के लिए हड्डी के आकार और आयामों के साथ-साथ इन्फेरियर एल्वियोलर नर्व या साइनस जैसी महत्वपूर्ण संरचनाओं की पहचान करने के लिए ध्यानपूर्वक और विस्तृत योजना बनाने की जरूरत है. सर्जरी से पहले अक्सर द्विआयामी रेडियोग्राफ जैसे ऑर्थोपैंटोमोग्राफ या पेरिपिकल लिया जाता है. कभी-कभी सीटी स्कैन भी किया जाता है. मामले की योजना बनाने के लिए विशेष 3डी कैड/कैम कंप्यूटर प्रोग्रामों का इस्तेमाल किया जा सकता है.

चाहे सीटी-निर्देशित हो या मैनुअल, इम्प्लान्ट्स के स्थापन को सहज बनाने के लिए कभी-कभी 'स्टेंट' का इस्तेमाल किया जा सकता है. एक सर्जिकल स्टेंट एक ऐक्रीलिक वेफर है जिसे स्थापित किए जाने वाले इम्प्लान्ट्स की स्थिति और कोण को दर्शाने के लिए पहले से निर्मित छेदों के साथ दांतों या हड्डी की सतह या म्यूकोसा (जब सभी दांत लापता हों) पर फिट किया जाता है. सर्जिकल स्टेंट को सीटी स्कैन से मामले की कम्प्यूटरीकृत योजना के बाद स्टीरियोलिथोग्राफी के इस्तेमाल से प्रस्तुत किया जा सकता है. सीटी निर्देशित सर्जरी में ज्यादातर आम तौर पर स्वीकृत तरीकों की तुलना में दोगुना खर्च होता है.

बुनियादी प्रक्रिया[संपादित करें]

इसके सबसे बुनियादी रूप में ओसियोइंटीग्रेटेड इम्प्लांट को लगाने के लिए हड्डी जलन या दबाव परिगलन को रोकने के लिए अतिविनियमित गति[16] वाले परिशुद्धता ड्रिल्स या हैंड ओस्टियोटॉम के इस्तेमाल से हड्डी को तैयार करने की जरूरत पड़ती है. इम्प्लांट की सतह पर हड्डी को बढ़ने की अनुमति देने के लिए दिए जाने वाले पर्याप्त समय (ओसियोइंटीग्रेशन) के बाद दांत या दांतों को इम्प्लांट में लगाया जा सकता है. इम्प्लांट को लगाने में लगने वाले समय में प्रैक्टिशनर के अनुभव, हड्डी की गुणवत्ता और परिमाण और व्यक्तिगत स्थिति की कठिनाई के आधार पर भिन्नता पाई जा सकती है.

विस्तृत प्रक्रिया[संपादित करें]

एडेंटुलस (दांत रहित) जबड़े की साइटों में महत्वपूर्ण ढांचों (खास तौर पर इन्फेरियर एल्वियोलर नर्व या आईएएन और निचले जबड़े का मानसिक रंध्र) की रक्षा को ध्यान में रखते हुए प्राप्तकर्ता हड्डी में एक पायलेट छेद किया जाता है. जबड़े की हड्डी में ड्रिल करने का काम आम तौर पर कई अलग-अलग चरणों में किया जाता है. उत्तरोत्तर व्यापक ड्रिल (आम तौर पर इम्प्लांट की चौड़ाई और लम्बाई के आधार पर तीन से सात उत्तरोत्तर ड्रिलिंग चरणों के बीच) का इस्तेमाल करके पायलेट छेद को बड़ा किया जाता है. बहुत ज्यादा गर्मी की वजह से ओस्टियोब्लास्ट या हड्डी की कोशिकाओं को कोई नुकसान न हो इस बात का ध्यान रखा जाता है. कूलिंग सेलाइन या पानी के छिड़काव से हड्डी का तापमान 47 डिग्री सेल्सियस (लगभग 117 डिग्री फारेनहाईट) से नीचे रहता है. इम्प्लांट स्क्रू सेल्फ-टैपिंग हो सकता है और यह एक छोटे टोर्क पर कसा होता है ताकि इस पर आसपास की हड्डी का ओवरलोड न पड़े (ओवरलोडेड हड्डी नष्ट हो सकती है जो एक ऐसी अवस्था है जिसे ओस्टियोनेक्रोसिस कहते हैं जिसके फलस्वरूप जबड़े की हड्डी के साथ इम्प्लांट को पूरी तरह एकीकृत करने या जोड़ने में कामयाबी नहीं मिल सकती है). आम तौर पर ज्यादातर इम्प्लांट सिस्टमों में ओस्टियोटॉमी या ड्रिल किए गए छेद की गहराई ड्रिल के ऊपरी सिरे की आकृति की वजह से इम्प्लांट को स्थापित करने के लिए आवश्यक गहराई से लगभग 1 मिमी अधिक होती है. महत्वपूर्ण ढांचों के आसपास के क्षेत्र में ड्रिल करते समय सर्जन को अतिरिक्त लम्बाई को ध्यान में रखना चाहिए.

सर्जिकल चीरा[संपादित करें]

परंपरागत रूप से, उस स्थान के शिखर पर एक चीरा लगाया जाता है जहाँ इम्प्लांट को स्थापित किया जाना है. इसे 'प्रालंब' के रूप में जाना जाता है. कुछ सिस्टम "प्रालंबरहित" सर्जरी की अनुमति देते हैं जहाँ म्यूकोसा के एक टुकड़े को इम्प्लांट साईट के ऊपर से ठूस दिया जाता है. "प्रालंबरहित" सर्जरी के समर्थकों का मानना है कि इससे ठीक में कम समय लगता है जबकि इसके विरोधियों का मानना है कि यह जटिलता दर में वृद्धि करता है क्योंकि हड्डी के किनारे को देखा नहीं जा सकता है.[17][18] देखने संबंधी इन समस्याओं की वजह से प्रालंबरहित सर्जरी को अक्सर पूर्व-परिचालनात्मक सीटी स्कैन की कम्प्यूटरीकृत 3डी योजना के बाद निर्मित एक सर्जिकल गाइड के इस्तेमाल से किया जाता है.

ठीक होने में लगने वाला समय[संपादित करें]

ओसियोइंटीग्रेटेड बनने के लिए इम्प्लांट की अपेक्षित समय सीमा बहस का एक गर्मागर्म विषय है.[19] इसके फलस्वरूप पुनर्स्थापन को स्थापित करने से पहले इम्प्लांट को ठीक होने के लिए प्रैक्टिशनरों द्वारा दिए जाने वाले समय की मात्रा में काफी भिन्नता पाई जाती है. आम तौर पर प्रैक्टिशनर (चिकित्सक) इसे ठीक होने के लिए 2 से 6 महीने का समय देते हैं जबकि प्रारंभिक अध्ययनों से पता चलता है कि इम्प्लांट की प्रारंभिक लोडिंग से प्रारंभिक या दीर्घकालीन जटिलताओं में वृद्धि नहीं हो सकती है.[20] अगर इम्प्लांट को बहुत जल्द लोड किया जाता है तो हो सकता है कि इम्प्लांट हिल जाए और विफल हो जाए. एक नए इम्प्लांट को ठीक होने, संभवतः जुड़ने और अंततः स्थापित होने में अठारह महीने लग सकते हैं. इसलिए कई ठीक होने के समय को कम करने के प्रति अनिच्छुक हैं.

एक चरण और दो चरणों वाली सर्जरी[संपादित करें]

किसी इम्प्लांट को या तो 'हीलिंग एब्यूटमेंट' के रूप में स्थापित किया जाता है जो म्यूकोसा के माध्यम से आता है या 'कवर स्क्रू' के रूप में लगाया जाता है जिसे दंत प्रत्यारोपण की सतह को स्थापित करने के साथ बहा दिया जाता है. जब एक कवर स्क्रू को स्थापित किया जाता है तो म्यूकोसा इम्प्लांट को एकीकृत करते समय इसे ढँक लेता है उसके बाद हीलिंग एब्यूटमेंट लगाने के लिए दूसरी सर्जरी को पूरा किया जाता है.

कभी-कभी दो चरणों वाली सर्जरी का चुनाव किया जाता है जब एक समवर्ती बोन ग्राफ्ट को स्थापित किया जाता है या जब एस्थेटिक कारणों से म्यूकोसा पर सर्जरी करने की सम्भावना हो. कुछ इम्प्लांट एकसाथ एक टुकड़े के रूप में होते हैं ताकि कोई हीलिंग एब्यूटमेंट की जरूरत न पड़े.

सावधानीपूर्वक चयनित मामलों में रोगियों को एक ही सर्जरी में इम्प्लांट स्थापित किया जा सकता है और इस प्रक्रिया को "त्वरित लोडिंग" का नाम दिया गया है. ऐसे मामलों में हड्डी के साथ एकीकृत होने के दौरान इम्प्लांट को स्थानांतरित करके काटने की ताकत से बचने के लिए अस्थायी कृत्रिम दांत या क्राउन के आकार को ठीक किया जाता है.

सर्जिकल टाइमिंग (शल्य चिकित्सा में लगने वाला समय)[संपादित करें]

दांत निकालने के बाद डेंटल इम्प्लान्ट्स को स्थापित करने के कई तरीके हैं. ये तरीके इस प्रकार हैं:

  1. दांत निकालने के तुरंत बाद दंत प्रत्यारोपण को स्थापित करना.
  2. दांत निकालने के कुछ समय बाद थोड़ी देर से दंत प्रत्यारोपण को स्थापित करना (दांत निकालने के 2 सप्ताह से लेकर 3 महीने बाद)
  3. काफी समय बाद दंत प्रत्यारोपण को स्थापित करना (दांत निकालने के 3 महीने या उससे भी अधिक समय बाद).

डेंटल इम्प्लान्ट्स को स्थापित करने की समय-सीमा के अनुसार लोडिंग की परेरिया को निम्नलिखित रूपों में वर्गीकृत किया जा सकता है:

  1. तत्काल लोडिंग प्रक्रिया.
  2. प्रारंभिक लोडिंग प्रक्रिया (1 सप्ताह से 12 सप्ताह)
  3. विलंबित लोडिंग प्रक्रिया (3 महीने से अधिक)

तत्काल स्थापन[संपादित करें]

हड्डियों को संरक्षित रखने और इलाज के समय को कम करने की एक तेजी से बढ़ती आम रणनीति में निकटतम निष्कर्षण स्थल में दंत प्रत्यारोपण का स्थापन शामिल है. इसके अलावा, तत्काल लोडिंग अधिक आम होती जा रही है क्योंकि इस प्रक्रिया की सफलता दर अब स्वीकार्य है. इससे इलाज के समय में लगने वाले महीनों में कटौती होती है और कुछ मामलों में डेंटल इम्प्लान्ट्स को स्थापित करने के लिए की जाने वाली सर्जरी के दौरान ही इम्प्लान्ट्स के साथ बनावटी दांत को भी स्थापित किया जा सकता है.

ज्यादातर विवरणों से पता चलता है कि स्वस्थ हड्डी वाले केवल एक जड़ युक्त दांत के स्थानों और उनके आसपास म्यूकोसा में दंत प्रत्यारोपण को स्थापित करने की प्रक्रिया विलंबित प्रक्रियाओं की तुलना में अधिक कारगर होती है जहाँ कोई अतिरिक्त जटिलता नहीं होती है.[21]

सीटी स्कैन का प्रयोग[संपादित करें]

जब इन्फेरियर एल्वियोलर कैनल (अवर दंतउलूखल नलिका), मेंटल फोरामेन (मानसिक रंध्र), और मैक्जिलरी साइनस सहित महत्वपूर्ण संरचनाओं का सही-सही पता लगाने के लिए पूर्वपरिचालनात्मक ढंग से कंप्यूटरीकृत टोमोग्राफी का इस्तेमाल किया जाता है जिसे कोन बीम कंप्यूटेड टोमोग्राफी या सीबीसीटी (3डी एक्स-रे इमेजिंग) भी कहा जाता है, तो मुलाकातों की संख्या और इंतज़ार में लगने वाले समय की तरह जटिलताओं की संभावनाओं में भी कटौती हो सकती है.[22] पारंपरिक मेडिकल सीटी स्कैनिंग की तुलना में 2% कम विकिरण के इस्तेमाल वाले कोन बीम सीटी स्कैनिंग से रुचि वाले क्षेत्र में अधिक सटीकता प्राप्त होती है और यह रोगी के लिए ज्यादा सुरक्षित है.[23] सीबीसीटी से सर्जन को सर्जिकल गाइड का निर्माण करने में सहूलियत होती है जिसकी सहायता से सर्जन इम्प्लांट को आदर्श स्थान में सही कोण में स्थापित करने में सक्षम होता है.[24]

पूरक प्रक्रियाएं[संपादित करें]

साइनस को उठाना एक आम सर्जिकल प्रक्रिया है. उचित प्रशिक्षण प्राप्त डेंटिस्ट या स्पेशलिस्ट जैसे ओरल सर्जन, परियोडोंटिस्ट, जनरल डेंटिस्ट, या प्रोस्थोडोंटिस्ट अस्थि प्रत्यारोपण या अस्थि पूरक पदार्थ की मदद से साइनस की तरह एट्रोफिक मैक्जिला के अपर्याप्त हिस्से को घना कर देते हैं. इसके परिणामस्वरूप प्रत्यारोपण के लिए एक बेहतर गुणवत्ता वाले अस्थि स्थल के परिमाण में वृद्धि होती है. साइनस कैविटी में इम्प्लान्ट्स को स्थापित करने से बचने की इच्छा रखने वाले विवेकी चिकित्सक सीबीसीटी एक्स-रे के इस्तेमाल से साइनस लिफ्ट सर्जरी की पूर्व योजना बनाते हैं जैसा कि पहले चर्चित पोस्टेरियर मेंडिब्यूलर इम्प्लान्ट्स के मामले में किया गया था.

बोन ग्राफ्टिंग उन मामलों में जरूरी होगा जहाँ आगे से पीछे की तरफ की (होंठ से जीभ) गहराई या मोटाई; ऊपर से नीचे की तरफ की ऊँचाई; और दाएँ से बाएँ तरफ की चौड़ाई की दृष्टि से पर्याप्त मैक्जिलरी या मेंडिब्यूलर हड्डी का अभाव होता है. जड़ जैसे इम्प्लांट के साथ पर्याप्त हड्डी को सुरक्षित ढंग से एकीकृत करने के लिए तीन आयामों में इनका होना जरूरी है. बेहतर अस्थि ऊँचाई-जिसे हासिल करना बहुत मुश्किल है-खास तौर पर इम्प्लांट की जड़ी जैसी आकृति की पर्याप्त लंगरवानी को सुनिश्चित करने के लिए जरूरी है क्योंकि इसे एक प्राकृतिक दांत की तरह ही चबाने के यांत्रिक दबाव को सहारा देना पड़ता है.

आम तौर पर इम्प्लांटोलॉजिस्ट्स इम्प्लांट को हड्डी में कम से कम उतनी ही गहराई में स्थापित करने की कोशिश करते हैं जितनी गहराई में क्राउन या दांत हड्डी से ऊपर होगा. इसे 1:1 क्राउन से जड़ का अनुपात कहा जाता है. यह अनुपात ज्यादातर मामलों में बोन ग्राफ्टिंग के लिए लक्ष्य निर्धारित करता है. अगर 1:1 या उससे अधिक प्राप्त नहीं किया जा सकता है तो रोगी को आम तौर पर यह सलाह दी जाती है कि केवल एक छोटा इम्प्लांट लगाया जा सकता है और उस इम्प्लांट के ज्यादा दिनों तक इस्तेमाल किए जाने की उम्मीद नहीं है.

बोन ग्राफ्टिंग या बोन रिप्लेसमेंट की प्रक्रिया के दौरान ढेर सारी ग्राफ्टिंग सामग्रियों और पदार्थों का इस्तेमाल किया जा सकता है. उनमें रोगी की अपनी हड्डी (ऑटोग्राफ्ट), जिसे कूल्हे (श्रोणिफलक शिखा) या जबड़े की अतिरिक्त हड्डी से निकाला जा सकता है; लाशों (एलोग्राफ्ट) से संसाधित हड्डी; गोजातीय हड्डी या कोरल (जेनोग्राफ्ट); या कृत्रिम रूप से निर्मित हड्डी जैसे पदार्थ (कैल्शियम सल्फेट जिसका नाम रेगेनेफोर्म है; और हाइड्रोक्सीएपेटाईट या एचए, जो हड्डी में पाए जाने वाले कैल्शियम का प्राथमिक रूप है) शामिल होते हैं. एचए ओस्टियोब्लास्ट के बढ़ने के लिए एक सब्सट्रेट के रूप में प्रभावी है. इसलिए कुछ इम्प्लांट पर एचए का लेप लगाया जाता है हालाँकि इनमें से कई पदार्थों की हड्डी निर्माण सम्बन्धी गुण अस्थि अनुसन्धान समूहों में काफी गर्मागर्म बहस का मुद्दा है. वैकल्पिक रूप से इम्प्लांट को सहारा देने वाली हड्डी को एक सैंडविच की तरह दो आधे हिस्सों के बीच में लगाए गए इम्प्लांट से अलग करके चौड़ा किया जा सकता है. इसे 'रिज स्प्लिट' प्रक्रिया के नाम से जाना जाता है.

बोन ग्राफ्ट सर्जरी का अपना खुद का देखभाल मानक है. एक विशिष्ट प्रक्रिया में चिकित्सक ग्राफ्ट साईट पर जबड़े की हड्डी को पूरी तरह से अनावृत करने के लिए मसूड़े या गम के एक बड़े प्रालंब का निर्माण करता है, मौजूदा हड्डी में और उस पर एक या कई प्रकार के ब्लॉक और ओनले ग्राफ्ट को प्रदर्शित करता है, तब मौखिक गुहा में पाए जाने वाले अवांछित संक्रमण जनक माइक्रोबायोटा को हटाने के लिए बनाई गई झिल्ली को स्थापित करता है. उसके बाद साईट पर म्यूकोसा की ध्यानपूर्वक सिलाई की जाती है. व्यवस्थित एंटीबायोटिक दवाओं और सामयिक जीवाणुरोधी मुख धुलाई एक क्रम के साथ ग्राफ्ट साईट को ठीक होने के लिए (कई महीनों तक) छोड़ दिया जाता है.

चिकित्सक आम तौर पर चौड़ाई और ऊँचाई में ग्राफ्ट सफलता की पुष्टि करने के लिए एक नया रेडियोग्राफ लेता है, और मान लेता है कि इन दो आयामों में सकारात्मक संकेत सुरक्षित रूप से तीसरे आयाम; गहराई में सफलता की भविष्यवाणी करता है. जहाँ अधिक सटीकता की जरूरत पड़ती है आम तौर पर तब जब मेंडिब्यूलर इम्प्लान्ट्स की योजना बनाई जा रही हो, वहां उचित उपचार योजना बनाने के लिए नसों और महत्वपूर्ण संरचनाओं की स्थिति और हड्डी की सही माप लेने के लिए इस समय एक 3डी या कोन बीम रेडियोग्राफ की जरूरत पड़ सकती है. कंप्यूटर डिजाइन प्लेसमेंट गाइडों की तैयारी के लिए उसी रेडियोग्राफिक डेटा का इस्तेमाल किया जा सकता है.

सही तरीके से करने पर बोन ग्राफ्ट से जीवित संवहनी हड्डी का निर्माण होता है जो काफी हद तक प्राकृतिक जबड़े की हड्डी की तरह लगती है और इसलिए यह इम्प्लान्ट्स की एक नींव के रूप में उपयुक्त होती है.

विचार[संपादित करें]

WorkNC डेंटल कैड/कैम का उपयोग करने निर्मित दंत प्रत्यारोपण के लिए ब्रिज तथा क्राउन वाला क्रोम कोबाल्ट डिस्क.

दंत प्रत्यारोपण प्रक्रिया को कारगर बनाने के लिए जबड़े में पर्याप्त हड्डी होना जरूरी है और इम्प्लांट को पकड़कर रखने और उसे सहारा देने के लिए हड्डी को काफी मजबूत होना चाहिए. अगर पर्याप्त हड्डी न हो तो पहले चर्चित एक बोन ग्राफ्ट प्रक्रिया के साथ अधिक हड्डी को जोड़ने की जरूरत पड़ सकती है. कभी-कभी इस प्रक्रिया को बोन ऑगमेंटेशन (अस्थि वृद्धि) भी कहा जाता है. इसके अलावा इम्प्लांट साईट के पास के प्राकृतिक दांतों और सहायक ऊतकों का स्वास्थ्य अच्छा होना जरूरी है.

सभी मामलों में पुनर्स्थापन के अंतिम कार्यात्मक पहलुओं पर ध्यान देना जरूरी होता है, जैसे कि इम्प्लांट पर लगाया जाने वाला बल. चबाने और पराकार्य (असामान्य पीसने या जकड़ने की आदत) से इम्प्लांट लोडिंग इम्प्लांट बोन इंटरफेस और/या खुद टाइटेनियम सामग्री की जैवयांत्रिक सहनशीलता बढ़ सकती है जिससे विफलता का मुंह देखना पड़ सकता है. यह स्वयं इम्प्लांट (अस्थिभंग) की विफलता या हड्डी की हानि हो सकती है जो आसपास की हड्डी का "पिघलना" या अवशोषण है.

डेंटिस्ट (दन्त चिकित्सक) को सबसे पहले यह निर्धारित करना चाहिए कि किस तरह की प्रोस्थेसिस का निर्माण किया जाएगा. उसके बाद ही संख्या, लम्बाई, व्यास, और सिलाई पद्धति सहित विशिष्ट इम्प्लांट आवश्यकताओं का निर्धारण किया जा सकता है. दूसरे शब्दों में, सर्जरी से पहले रिस्टोरिंग डेंटिस्ट को मामले की विपरीत योजना बनानी चाहिए. अगर हड्डी की मात्रा या घनत्व काफी नहीं है तो सबसे पहले बोन ग्राफ्ट प्रक्रिया पर विचार करना चाहिए. रिस्टोरिंग डेंटिस्ट रोगी का मिलकर इलाज करने के लिए मौखिक सर्जन, पेरियोडोंटिस्ट, एंडोडोंटिस्ट, या एक अन्य प्रशिक्षित जनरल डेंटिस्ट से सलाह-मशविरा कर सकता है. आम तौर पर रोगी के जबड़े की हड्डियों और दांतों के भौतिक मॉडलों और छापों का निर्माण इम्प्लांट सर्जन के अनुरोध पर रिस्टोरेटिव डेंटिस्ट द्वारा किया जाना चाहिए जिसका इस्तेमाल उपचार योजना निर्माण के लिए भौतिक सहायता के रूप में किया जाता है. अगर इसकी आपूर्ति नहीं की जाती है तो उचित उपचार योजना का निर्माण करने के लिए इम्प्लांट सर्जन अपने खुद के या उन्नत कंप्यूटर-समर्थित टोमोग्राफी या कोन बीम सीटी स्कैन पर भरोसा करता है.

सीटी स्कैन डेटा पर आधारित कंप्यूटर सिमुलेशन सॉफ्टवेयर से अंतिम प्रोस्थेसिस के एक बेरियम अंतर्भरित प्रोटोटाइप पर आधारित वर्चुअल इम्प्लांट सर्जिकल प्लेसमेंट में आसानी होती है. यह उच्च स्तरीय भविष्‍यवचनीयता का निर्माण करके उपचार मामले के लिए इम्प्लांट अस्थि सतह क्षेत्र को बढ़ाकर बोन ग्राफ्टिंग की जरूरत, महत्वपूर्ण भौतिक रचना, अस्थि गुणवत्ता, इम्प्लांट की विशेषताओं की भविष्यवाणी करता है. अंतिम प्रोस्थेसिस के अंतर्रोध और सुंदरता पर आधारित उचित इम्प्लांट प्लेसमेंट को सहज बनाने के लिए इम्प्लांट सर्जन के लिए कंप्यूटर कैड/कैम मिल्ड या स्टीरियोलिथोग्राफी आधारित ड्रिल गाइड को विकसित किया जा सकता है.

कंप्यूटर स्क्रीन पर रोगी के लिए "ट्राई-इन्स" का प्रदर्शन करने के लिए उपचार योजना सॉफ्टवेयर का भी इस्तेमाल किया जा सकता है. जब विकल्पों के बारे में रोगी और सर्जन के बीच पूरी तरह से विचार-विमर्श हो जाता है तब सटीक ड्रिल गाइडों का निर्माण करने के लिए उसी सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किया जा सकता है. विशिष्ट सॉफ्टवेयर एप्लीकेशनों जैसे 'सिमप्लांट' (सिमुलेटेड इम्प्लांट) या 'नोबेलगाइड' में उपचार योजना का निर्माण करने के लिए रोगी के सीबीसीटी से डिजिटल डेटा का इस्तेमाल किया जाता है. उसके बाद एक डेटा सेट का निर्माण किया जाता है और उसे एक सटीक इन-माउथ ड्रिलिंग गाइड के निर्माण के लिए लैब में भेज दिया जाता है.[25]

सफलता दर[संपादित करें]

दंत प्रत्यारोपण की सफलता ऑपरेटर के कौशल, साईट पर मौजूद हड्डी की गुणवत्ता एवं मात्रा और रोगी की मौखिक स्वच्छता से संबंधित है. आम सहमति है कि इम्प्लांट की सफलता दर लगभग 95% है.[26]

इम्प्लांट की सफलता को निर्धारित करने वाले सबसे महत्वपूर्ण कारकों में से एक कारक इम्प्लांट स्थिरता की उपलब्धि और रखरखाव है.[27] स्थिरता को एक आईएसक्यू (इम्प्लांट स्टेबिलिटी कोशेंट) मान के रूप में पेश किया जाता है. ज्यादातर सर्जिकल प्रक्रियाओं में दंत प्रत्यारोपण प्लेसमेंट की सफलता में योगदान देने वाले अन्य कारकों में रोगी का सम्पूर्ण सामान्य स्वास्थ्य और सर्जरी के बाद किए जाने वाले देखभाल का अनुपालन शामिल है.

विफलता[संपादित करें]

दंत प्रत्यारोपण की विफलता अक्सर सही तरीके से ओसियोइंटीग्रेशन की विफलता से संबंधित होती है. एक दंत प्रत्यारोपण को विफल माना जाता है अगर यह नष्ट हो गया हो, हिल गया हो या पहले साल में 1.0 मिमी से ज्यादा पेरी-इम्प्लांट (इम्प्लांट के आसपास) अस्थि हानि या एक साल बाद 0.2 मिमी से ज्यादा की हानि का पता चलता हो.

डेंटल इम्प्लान्ट्स (दन्त प्रत्यारोपण) डेंटल केरीज़ (दन्त क्षय) के प्रति अतिसंवेदनशील नहीं होते हैं लेकिन उनमें पेरी-इम्प्लांटाइटिस नामक अवस्था का विकास हो सकता है. यह म्यूकोसा या इम्प्लांट के आसपास की हड्डी की सूजन वाली अवस्था है जिसकी वजह से अस्थि हानि और अंत में इम्प्लांट की हानि का परिणाम देखना पड़ता है. यह अवस्था आम तौर पर लेकिन हमेशा नहीं, किसी पुराने संक्रमण से जुड़ी होती है. बहुत ज्यादा धूम्रपान करने वालों, डायबिटीज (मधुमेह) के रोगियों, खराब मौखिक स्वच्छता वाले रोगियों और उन मामलों में पेरी-इम्प्लांटाइटिस के होने की ज्यादा सम्भावना होती है जहां इम्प्लांट के आसपास का म्यूकोसा (श्लैष्मिक झिल्ली) पतला होता है.[28]

फ़िलहाल पेरी-इम्प्लांटाइटिस के बेहतरीन इलाज परर कोई सार्वभौमिक समझौता नहीं है. इस हालत और इसके कारणों को अभी भी असंतोषजनक ढंग से समझा जाता है.[29]

धूम्रपान करने वालों में विफलता का खतरा ज्यादा होता है. इसी वजह से इम्प्लान्ट्स को अक्सर तब स्थापित किया जाता है जब रोगी धूम्रपान करना बंद कर देता है क्योंकि इसका इलाज बहुत महंगा होता है. सर्जरी के समय खराब स्थिति की वजह से शायद ही कभी कोई इम्प्लांट विफल होता है या शुरू में ओवरलोड हो सकता है जिसकी वजह से एकीकरण में विफलता का मुंह देखना पड़े. अगर इम्प्लांट सर्जरी से पहले स्मोकिंग (धूम्रपान) और स्थिति सम्बन्धी समस्याएं मौजूद रहती हैं तो क्लिनिसियन (चिकित्सक) अक्सर रोगियों को यही सलाह देते हैं कि इम्प्लांट के बजाय एक ब्रिज या आंशिक डेन्चर इसका एक बेहतर समाधान हो सकता है.

ऊपर उल्लिखित कारणों की वजह से स्वतंत्र रूप से भी विफलता का मुंह देखना पड़ सकता है. अन्य किसी वस्तु की तरह इम्प्लान्ट्स को दर्द और आंसू से गुजरना पड़ता है. अगर संदिग्ध इम्प्लान्ट्स को आम तौर पर इस्तेमाल किए जाने वाले दांतों की जगह स्थापित किया जा रहा है तो इस प्रक्रिया में दर्द और आंसू का सामना करना पड़ सकता है और सालों बाद चटककर टूट सकता है हालाँकि ऐसा शायद ही कभी होता है. इस तरह की घटना के जोखिम को कम करने का एकमात्र तरीका नियमित समीक्षा के लिए अपने डेंटिस्ट से मुलाक़ात करना है.

ज्यादातर मामलों में जहां इम्प्लांट हड्डी के साथ एकीकृत होने में विफल हो जाता है और जिसे शरीर द्वारा अस्वीकार कर दिया जाता है, उन सबका कारण अज्ञात है. ऐसा लगभग 5% मामलों में हो सकता है. आज तक हम यह नहीं जानते हैं कि हड्डी टाइटेनियम के डेंटल इम्प्लान्ट्स के साथ एकजुट हो जाती है और एक 'बाहरी वस्तु' के रूप में इस पदार्थ को अस्वीकार क्यों नहीं किया जाता है. पिछले पांच दशकों में कई सिद्धांतों को निर्विवाद मान लिया गया है. एक हाल के सिद्धांत में दिए गए तर्क के अनुसार एक सक्रिय जैविक ऊतक प्रतिक्रिया होने के बजाय इम्प्लांट के साथ हड्डी का एकीकरण नकारात्मक ऊतक प्रतिक्रिया की कमी है. दूसरे शब्दों में अज्ञात कारणों के लिए प्रत्यारोपित बाहरी वस्तुओं को अस्वीकार करने की शरीर की आम प्रतिक्रिया टाइटेनियम इम्प्लान्ट्स के साथ सही तरीके से काम नहीं करती है. इसके अलावा यह भी निर्विवाद मान लिया गया है कि इम्प्लांट अस्वीकृति का मामला उन रोगियों में देखने को मिलता है जिनके अस्थि ऊतक वास्तव में इस तरह प्रतिक्रिया करते हैं जैसे कि उन्होंने प्राकृतिक रूप से 'बाहरी वस्तु' के साथ करना चाहिए और उसी तरीके से इम्प्लांट को अस्वीकार करते हैं जिस तरीके से ज्यादातर अन्य प्रत्योरोपित सामग्रियों के साथ होता है.[30]

निषेध-संकेत[संपादित करें]

इम्प्लांट डेंटिस्ट्री के मामले में कुछ पूर्ण निषेध-संकेत हैं. हालाँकि ऐसे कुछ व्यवस्थित, व्यावहारिक और शारीरिक विचार हैं जिनका मूल्यांकन किया जाना चाहिए.

खास तौर पर मेंडिब्यूलर (निचला जबड़ा) इम्प्लान्ट्स के लिए मेंटल फोरामेन (एमएफ) के आसपास के क्षेत्र में मेंडिब्यूलर कैनल के ऊपर पर्याप्त एल्वियोलर हड्डी होना जरूरी है जिसे इन्फेरियर एल्वियोलर कैनल (अवर दंतउलूखल नलिका) या आईएसी भी कहा जाता है (जो इन्फेरियर एल्वियोलर नर्व (अवर दंतउलूखल तंत्रिका) या आईएएन का वहन करने वाले न्यूरोवैस्कुलर बंडल के लिए वाहक का काम करता है).

आईएएन और एमएफ की स्थिति का सही-सही पता लगाने की विफलता ड्रिल्स और स्वयं इम्प्लांट द्वारा सर्जिकल इन्सल्ट (शल्य चिकित्सीय क्षति) को आमंत्रित करती है. इस तरह की क्षति की वजह से नस की अपूरणीय क्षति का मुंह देखना पड़ सकता है जिसे अक्सर मसूड़े, होंठ और ठुड्डी की डीसेस्थेसिया (दर्दनाक संवेदनशून्यता) या पैरेस्थेसिया (संवेदनशून्यता) के रूप में महसूस किया जाता है. यह हालत जीवन भर के लिए कायम रह सकती है और इसके साथ अचेतन अवस्था में मुंह से लार बह सकता है.

अनियंत्रित टाइप टू डायबिटीज एक महत्वपूर्ण सापेक्षिक निषेध-संकेत है क्योंकि किसी भी प्रकार की सर्जिकल प्रक्रिया के बाद खराब परिधीय रक्त परिसंचरण की वजह से स्वस्थ होने में काफी देर लग जाती है. शारीरिक विचारों में मौजूद हड्डी की मात्रा और ऊँचाई शामिल है. सफल इम्प्लांट प्लेसमेंट के लिए पर्याप्त हड्डी प्रदान करने के लिए अक्सर एक सहायक प्रक्रिया की जरूरत पड़ती है जिसे ब्लॉक ग्राफ्ट या साइनस ऑगमेंटेशन के नाम से जाना जाता है.

अंतःशिरा और मौखिक बिसफ़ॉस्फ़ोनेट्स (जिसे क्रमशः ब्रेस्ट कैंसर (स्तन कैंसर) और ओस्टियोपोरोसिस के कुछ खास रूपों के लिए लिया जाता है) के बारे में नई जानकारी प्राप्त हुई है जिससे रोगियों को ओस्टियोनेक्रोसिस नामक एक विलंबित स्वस्थता सिंड्रोम के विकसित होने का बहुत ज्यादा खतरा हो जाता है. नसों के अंदर बिसफ़ॉस्फ़ोनेट्स लेने वाले कुछ रोगियों को इम्प्लान्ट्स की सलाह नहीं दी जाती है.

मुंह से बिसफ़ॉस्फ़ोनेट (जैसे एक्टोनेल, फोसामैक्स और बोनिवा) लेने वाले लाखों रोगियों को कभी-कभी इम्प्लांट सर्जरी से पहले इसे लेना बंद करने और सर्जरी होने के कई महीनों बाद इसे फिर से लेना शुरू करने की की सलाह दी जा सकती है. हालांकि, वर्तमान प्रमाण से पता चलता है कि यह प्रोटोकॉल जरूरी नहीं हो सकता है. फरवरी 2008 के जर्नल ऑफ ओरल एण्ड मैक्सिलोफेशियल सर्जरी में एक मौखिक बिसफ़ॉस्फ़ोनेट अध्ययन की रिपोर्ट के अनुसार जनवरी 2008 तक 468 इम्प्लान्ट्स वाले 115 मामलों की समीक्षा करने पर यह निष्कर्ष निकला कि "क्लिनिक में मूल्यांकन किए गए किसी भी रोगी के जबड़े की बिसफ़ॉस्फ़ोनेट से जुडे ओस्टियोनेक्रोसिस का कोई सबूत नहीं मिला है और फोन से या ईमेल द्वारा संपर्क किए गए रोगियों में से किसी ने भी इस तरह के किसी लक्षण की खबर नहीं दी.[31]

अमेरिकन डेंटल एसोसिएशन ने "बिसफ़ॉस्फ़ोनेट मेडिकेशंस एण्ड योर ओरल हेल्थ"[32] नामक एक लेख में बिसफ़ॉस्फ़ोनेट्स के बारे में बताया था. एक अवलोकन में एडीए ने बताया "मौखिक बिसफ़ॉस्फ़ोनेट थेरपी से गुजरने वाले रोगियों में बोन (जबड़े की बिसफ़ॉस्फ़ोनेट से जुड़ी ओस्टियोनेक्रोसिस) के विकसित होने का जोखिम बहुत कम है..." एडीए काउंसिल ऑन साइंटिफिक अफेयर्स ने भी विशेषज्ञों के एक पैनल को नियुक्त किया जिन्होंने मौखिक बिसफ़ॉस्फ़ोनेट्स पर रोगियों के इलाज के लिए सुझाव [क्लिनिसियनों के लिए] जारी किया जिसे जून 2006 में प्रकाशित किया गया. अवलोकन को ada.org पर ऑनलाइन पढ़ा जा सकता है लेकिन इसकी जगह अब "बिसफ़ॉस्फ़ोनेट यूज एण्ड द रिस्क ऑफ एडवर्स जॉ आउटकम्स" नामक एक विशाल अध्ययन ने ले लिया है जिसमें 700,000 से अधिक मामले शामिल हैं. 2008 के जोम्स अध्ययन की तरह एडीए अध्ययन में भी डेंटल इम्प्लान्ट्स के लिए एक निषेध-संकेत के रूप में मौखिक बिसफ़ॉस्फ़ोनेट्स को दोषमुक्त पाया गया है.[33]

ब्रुक्सिज्म (दांत से पकड़ना या पीसना) एक अन्य विचार है जो उपचार के पूर्वानुमान को कम कर सकता है. ब्रुक्सिज्म के दौरान उत्पन्न बल खास तौर पर हड्डी के ठीक होने के दौरान इम्प्लान्ट्स के लिए हानिकारक हैं; इम्प्लांट की स्थिति में सूक्ष्मस्थानांतरण इम्प्लांट की विफलता की वर्धित दर से जुड़ा हुआ है. ब्रुक्सिज्म से प्राप्तकर्ता को जीवन भर इम्प्लान्ट्स का खतरा रहता है.[34] प्राकृतिक दांतों में एक पेरियोडोंटल लिगामेंट होता है जो हर दांत को हिलने-डुलने की अनुमति डेटा है और लम्बवत और क्षतिज बलों के प्रतिक्रियास्वरूप उत्पन्न आघात को सहन करने में मदद करता है. एक बार जब इन्हें डेंटल इम्प्लान्ट्स द्वारा बदल दिया जाता है तब यह लिगामेंट खत्म हो जाता है और दांत बिना हिले-डुले सीधे जबड़े की हड्डी का सहारा लेने लगते हैं. रात में कस्टम निर्मित माउथगर्द (जैसे एनटीआई उपकरण) को पहनकर इस समस्या को कम किया जा सकता है.

ऑपरेशन के बाद इम्प्लान्ट्स की स्थापना के बाद कुछ शारीरिक निषेध हैं जो इम्प्लांटोलॉजी टीम की तेज कार्रवाई को प्रोत्साहित करते हैं. बहुत ज्यादा खून बहने की तरह ही तीन दिन से ज्यादा समय तक रहने वाला अत्यधिक या गंभीर दर्द भी एक तरह की चेतावनी है. मसूड़े, होंठ और ठुड्डी की लगातार संवेदनशून्यता एक अन्य प्रकार की चेतावनी है जिस पर आम तौर पर सर्जिकल एनेस्थेसिया (शल्य चिकित्सीय संज्ञाहरण) के खत्म होने के बाद `गौर किया जाता है. बाद के मामले में, जिसमें गंभीर निरंतर दर्द हो सकता है, सर्जिकल प्रक्रिया से आईएएन की कोई क्षति हुई है या नहीं इसका निर्धारण करने के लिए देखभाल के मानक की पहचान करना जरूरी है. 3डी कोन बीम एक्स-रे से आवश्यक डेटा प्राप्त होता है लेकिन इस चरण से भी पहले एक विवेकी इम्प्लांटोलॉजिस्ट नस के कार्य को फिर से स्थापित करने की कोशिश में इम्प्लांट को निकाल सकता है या उसे पूरी तरह से हटा सकता है क्योंकि विलम्ब आम तौर पर अप्रभावी होता है. 3डी एक्स-रे की सहायता से दिखाई देने लायक सबूत के आधार पर रोगियों को नस के इलाज के लिए किसी स्पेशलिस्ट के पास भेजा जा सकता है. सभी मामलों में, निदान और उपचार की गति जरूरी हैं.

बाजार[संपादित करें]

संयुक्त राज्य अमेरिका और यूनाइटेड किंगडम में, 'इम्प्लांटोलॉजी' के क्षेत्र में कोई अनन्य विशेषता नहीं है.

इम्प्लांट उपचार करने वाले किसी भी प्रैक्टिशनर (चिकित्सक) को सर्जिकल प्रविष्टि या प्रोस्थेसिस के अंतिम प्रावधान आदि में पर्याप्त रूप से प्रशिक्षित होना जरूरी है. वैधानिक प्रशिक्षण आवश्यकताओं में देशों के आधार पर भिन्नता देखी जाती है.

2008 में यूके में जनरल डेंटल काउंसिल (जीडीसी) ने डेंटल इम्प्लांटोलॉजी में शामिल डेंटिस्टों (दन्त चिकित्सकों) के लिए सख्त प्रशिक्षण आवश्यकताओं[35] को निर्धारित किया. यूके में डेंटल इम्प्लांटोलॉजी के क्षेत्र में प्रशिक्षण की इच्छा रखने वाले किसी भी डेंटिस्ट को औपचारिक पर्यवेक्षित सर्जिकल ट्रेनिंग और मेंटरिंग के अलावा एक विस्तृत शिक्षण कार्यक्रम में भाग लेना जरूरी है जिसमें जीडीसी द्वारा अनुमोदित विस्तृत सिद्धांत पाठ्यक्रम शामिल हो.[36] डेंटिस्टों को तब तक यूके में इम्प्लांट डेंटिस्ट्री में भाग नहीं लेना चाहिए जब तक प्रशिक्षण प्रदाता उन्हें इस बात की मंजूरी नहीं दे देते हैं कि वे औपचारिक योग्यता मूल्यांकन में पास हो गए हैं. जीडीसी के नियमों के पालन में विफल होने पर डेंटिस्ट को डेंटल रजिस्टर से हटाया जा सकता है और इस तरह वह यूके में डेंटिस्ट्री का अभ्यास करने के अधिकार को खो देता है.[37]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • ओरल एंड मैक्सिलोफेशियल सर्जरी
  • पैरीडोंटिस्ट
  • डेंटल इम्प्लांटोलॉजी में बोन ग्रैफ्ट
  • डेंटल ब्रिज
  • ओसियोइंटीग्रेशन
  • डेंटल टूरिज्म
  • सोने के दांत
  • अमेरिकन एसोसिएशन ऑफ ओरल एंड मैक्सिलोफेशियल सर्जन्स
  • ओसियोइंटीग्रेशन के लिए यूरोपीय संघ
  • ब्रिटिश सोसाइटी ऑफ ओरल इम्प्लांटोलॉजी

संदर्भ[संपादित करें]

  1. एंनाली दी स्टोमेटोलॉजी - सु एल्कुनी केसी पार्टीकोलारमेंट इंटरसेंटी दी इम्पेंटो एन्डोसेओ कोंकोन वाईट ऑटोफाइलटेंटो - वॉल्यूम XV - अप्रैल 1966
  2. Stevens, Irving J.; Alexander, Jerry, "Bone Implant", US patent 3579831, issued 1971-05-25
  3. Quirynen M, Van Assche N, Botticelli D, Berglundh T (2007). "How does the timing of implant placement to extraction affect outcome?". The International Journal of Oral & Maxillofacial Implants 22 Suppl: 203–23. PMID 18437797. 
  4. Crespi R, Capparé P, Gherlone E, Romanos GE (2008). "Immediate versus delayed loading of dental implants placed in fresh extraction sockets in the maxillary esthetic zone: a clinical comparative study". The International Journal of Oral & Maxillofacial Implants 23 (4): 753–8. PMID 18807574. 
  5. Gahlert M, Röhling S, Wieland M, Sprecher CM, Kniha H, Milz S (November 2009). "Osseointegration of zirconia and titanium dental implants: a histological and histomorphometrical study in the maxilla of pigs". Clinical Oral Implants Research 20 (11): 1247–53. doi:10.1111/j.1600-0501.2009.01734.x. PMID 19531104. 
  6. Depprich R, Zipprich H, Ommerborn M, et al. (2008). "Osseointegration of zirconia implants: an SEM observation of the bone-implant interface". Head & Face Medicine 4: 25. doi:10.1186/1746-160X-4-25. PMC 2583968. PMID 18990214. 
  7. Andreiotelli M, Kohal RJ (June 2009). "Fracture strength of zirconia implants after artificial aging". Clinical Implant Dentistry and Related Research 11 (2): 158–66. doi:10.1111/j.1708-8208.2008.00105.x. PMID 18657150. 
  8. आर्टुरो एन. नेटाली (एड.) (2003). "डेंटल बायोमकैनिक्स". टेलर और फ्रांसिस, लंदन / न्यूयॉर्क, 273 पीपी., आईएसबीएन 9-780-415-30666-9, पीपी. 69-87.
  9. ओसियोइंटीग्रेशन जार्ड, आदि. क्विन्टेसन्स 2009.[verification needed]
  10. Palmer R (March 2007). "Ti-unite dental implant surface may be superior to machined surface in replacement of failed implants". The Journal of Evidence-based Dental Practice 7 (1): 8–9. doi:10.1016/j.jebdp.2006.12.001. PMID 17403502. 
  11. General Dental Council (October 30, 2008). Doing implants? Make sure you’re up to scratch, warns GDC. प्रेस रिलीज़. http://www.gdc-uk.org/News+publications+and+events/News+releases/Doing+implants+Make+sure+youre+up+to+scratch+warns+GDC.htm. अभिगमन तिथि: 2010-03-25. 
  12. Melo MD, McGann G, Obeid G (December 2007). "Survey of implant training in oral and maxillofacial surgery residency programs in the United States". Journal of Oral and Maxillofacial Surgery 65 (12): 2554–8. doi:10.1016/j.joms.2007.06.685. PMID 18022483. 
  13. Jokstad A (July 2008). "Where can I learn how to place dental implants? Perspectives from Scandinavia and Canada". International Journal of Oral and Maxillofacial Surgery 37 (7): 593–6. doi:10.1016/j.ijom.2007.12.009. PMID 18295450. 
  14. Addy LD, Lynch CD, Locke M, Watts A, Gilmour AS (December 2008). "The teaching of implant dentistry in undergraduate dental schools in the United Kingdom and Ireland". British Dental Journal 205 (11): 609–14. doi:10.1038/sj.bdj.2008.1027. PMID 19079107. 
  15. Binon PP (July 2007). "Treatment planning complications and surgical miscues". Journal of Oral and Maxillofacial Surgery 65 (7 Suppl 1): 73–92. doi:10.1016/j.joms.2007.03.014. PMID 17586352. 
  16. Brisman DL (1996). "The effect of speed, pressure, and time on bone temperature during the drilling of implant sites". The International Journal of Oral & Maxillofacial Implants 11 (1): 35–7. PMID 8820120. 
  17. Berdougo M, Fortin T, Blanchet E, Isidori M, Bosson JL (February 2009). "Flapless Implant Surgery Using an Image-Guided System. A 1- to 4-Year Retrospective Multicenter Comparative Clinical Study". Clinical Implant Dentistry and Related Research 12 (2): 142–52. doi:10.1111/j.1708-8208.2008.00146.x. PMID 19220842. 
  18. Becker W, Goldstein M, Becker BE, Sennerby L, Kois D, Hujoel P (February 2009). "Minimally invasive flapless implant placement: follow-up results from a multicenter study". Journal of Periodontology 80 (2): 347–52. doi:10.1902/jop.2009.080286. PMID 19186977. 
  19. Gerds TA, Vogeler M (December 2005). "Endpoints and survival analysis for successful osseointegration of dental implants". Statistical Methods in Medical Research 14 (6): 579–90. doi:10.1191/0962280205sm420oa. PMID 16355545. 
  20. Fischer K, Stenberg T, Hedin M, Sennerby L (May 2008). "Five-year results from a randomized, controlled trial on early and delayed loading of implants supporting full-arch prosthesis in the edentulous maxilla". Clinical Oral Implants Research 19 (5): 433–41. doi:10.1111/j.1600-0501.2007.01510.x. PMID 18371094. 
  21. Bhola M, Neely AL, Kolhatkar S (October 2008). "Immediate implant placement: clinical decisions, advantages, and disadvantages". Journal of Prosthodontics 17 (7): 576–81. doi:10.1111/j.1532-849X.2008.00359.x. PMID 18761580. 
  22. Spector L (October 2008). "Computer-aided dental implant planning". Dental Clinics of North America 52 (4): 761–75, vi. doi:10.1016/j.cden.2008.05.004. PMID 18805228. 
  23. Ludlow JB (November 2008). "Regarding 'Influence of CBCT exposure conditions on radiation dose'". Oral Surgery, Oral Medicine, Oral Pathology, Oral Radiology, and Endodontics 106 (5): 627–8; author reply 628–9. doi:10.1016/j.tripleo.2008.06.031. PMID 18801676. 
  24. Viegas VN, Dutra V, Pagnoncelli RM, de Oliveira MG (January 2010). "Transference of virtual planning and planning over biomedical prototypes for dental implant placement using guided surgery". Clinical Oral Implants Research 21 (3): 290–5. doi:10.1111/j.1600-0501.2009.01833.x. PMID 20074239. 
  25. http://www.materialise.com/materialise/view/en/554529-SurgiGuide.html
  26. Esposito M, Grusovin MG, Willings M, Coulthard P, Worthington HV (2007). "The effectiveness of immediate, early, and conventional loading of dental implants: a Cochrane systematic review of randomized controlled clinical trials". The International Journal of Oral & Maxillofacial Implants 22 (6): 893–904. PMID 18271370. 
  27. Albrektsson T, Zarb GA (1993). "Current interpretations of the osseointegrated response: clinical significance". The International Journal of Prosthodontics 6 (2): 95–105. PMID 8329101. 
  28. Fransson C, Wennström J, Tomasi C, Berglundh T (April 2009). "Extent of peri-implantitis-associated bone loss". Journal of Clinical Periodontology 36 (4): 357–63. doi:10.1111/j.1600-051X.2009.01375.x. PMID 19426183. 
  29. Pye AD, Lockhart DE, Dawson MP, Murray CA, Smith AJ (June 2009). "A review of dental implants and infection". The Journal of Hospital Infection 72 (2): 104–10. doi:10.1016/j.jhin.2009.02.010. PMID 19329223. 
  30. Mavrogenis AF, Dimitriou R, Parvizi J, Babis GC (2009). "Biology of implant osseointegration". Journal of Musculoskeletal & Neuronal Interactions 9 (2): 61–71. PMID 19516081. http://www.ismni.org/jmni/pdf/36/01MAVROGENIS.pdf. 
  31. Grant BT, Amenedo C, Freeman K, Kraut RA (February 2008). "Outcomes of placing dental implants in patients taking oral bisphosphonates: a review of 115 cases". Journal of Oral and Maxillofacial Surgery 66 (2): 223–30. doi:10.1016/j.joms.2007.09.019. PMID 18201600. 
  32. "Bisphosphonate medications and your oral health". Journal of the American Dental Association 137 (7): 1048. July 2006. PMID 16803833. http://jada.ada.org/cgi/pmidlookup?view=long&pmid=16803833. 
  33. Cartsos VM, Zhu S, Zavras AI (January 2008). "Bisphosphonate use and the risk of adverse jaw outcomes: a medical claims study of 714,217 people". Journal of the American Dental Association 139 (1): 23–30. PMID 18167381. http://jada.ada.org/cgi/pmidlookup?view=long&pmid=18167381. 
  34. McCoy G (2002). "Recognizing and managing parafunction in the reconstruction and maintenance of the oral implant patient". Implant Dentistry 11 (1): 19–27. PMID 11915541. 
  35. http://www.gdc-uk.org/Our+work/Education+and+quality+assurance/Policy+statement+on+implantology.htm
  36. प्रत्यारोपण दंत चिकित्सा में ट्रेनिंग स्टैंडर्स. रॉयल कॉलेज ऑफ सर्जन्स ऑफ इंग्लैंड; लंदन 2008[page needed]
  37. प्रत्यारोपण दंत चिकित्सा पर पॉलिसी स्टेटमेंट. जनरल डेंटल काउंसिल; लंदन. 9 अप्रैल 2008[page needed]

बाह्य कड़ियां[संपादित करें]