तेलुगू भोजन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तेलुगु भोजन भारत के आंध्र प्रदेश राज्य के लोगों द्वारा खाये जाने वाले विभिन्न खाद्य-पदार्थों को संदर्भित करता है. चावल तेलुगू भोजन का मुख्य आहार है और सामान्यतः इसे अनेक प्रकार की कढ़ियों और मसूर की दाल या शोरबे के साथ खाया जाता है. हालांकि यह भोजन पूरे राज्य में एक जैसा ही होता है, लेकिन तेलंगाना, रायलसीमा और आंध्र जैसे विभिन्न क्षेत्रों में इसके अनेक संस्करण देखे जा सकते हैं.

नियमित भोजन (భోజనము)[संपादित करें]

पूजा समारोह के बाद भोजन परोसा गया

एक विशिष्ट आंध्र भोजन में निम्नलिखित में से कुछ या सभी पदार्थ होते हैं:

  • पका हुआ चावल
  • पप्पु, पकी हुई मसूर / अरहर की दाल के लिये तेलुगु शब्द.
  • अनेक प्रकार की सब्जियों से बने कढ़ी. वेपुडु तली हुई सब्जियों की कढ़ी होती है. मांसाहारी कढ़ी में "कोडी " (चिकन), "मटन " (बकरे का मटन), "चेपा " (मछली), "रोय्यालु " (झींगे) और "पीठला " (केकड़ा) शामिल हैं.*
  • पचड़ी (अचार), ताज़ा या परिरक्षित, सभी प्रकार के फलों व सब्जियों से बनाया जा सकता है. उदाहरणों में अवाकाया (आम का एक मसालेदार अचार) और रॉसेल (Roselle) से बना एक अचार शामिल हैं, जिसे गोंगुरा कहा जाता है.
  • पुलुसु - सब्जियों से बना एक प्रकार का कढ़ी; यह पश्चिम में निर्यात किये जाने वाले सर्वाधिक विशिष्ट प्रकारों में से एक है.
  • चारू - एक हल्का साफ सूप
  • पेरुगु (दही) या मज्जिगा (छाछ)
  • अप्पडम (पापड़)
  • मीठे व्यंजन.
  • केले या अन्य फल
  • तमलपकु-वक्कपोड़ी , इसे किली, बीडा या पान भी कहते हैं, पान के ताज़े पत्तों, सुपारी के टुकड़ों और नींबू से बनता है.

विशिष्ट भोजन में पप्पुचारू या पुलुसु और छाछ या दही भी शामिल होता है. विशेष अवसरों पर या यात्रा के दौरान इमली चावल खाया जाता है क्योंकि इसे एक या दो दिनों तक परिरक्षित किया जा सकता है.

आंध्र प्रदेश काली मिर्च का एक मुख्य उत्पादक है और यह बात स्थानीय भोजन में भी झलकती है. हैदराबाद, आंध्र प्रदेश की राजधानी, अपनी हैदराबादी बिरयानी के लिये प्रसिद्ध है.

नाश्ते में लिये जाने वाले खाद्य-पदार्थ (ఉపాహారము)[संपादित करें]

पेसरत्तु कोब्बरी पचादी के साथ परोसा गया
रववा डोसा

नाश्ते में आम तौर पर सांबर और/या नारियल की चटनी, जिसे तेलुगु में कोब्बरी पचड़ी कहते हैं, के साथ इडली खाई जाती है. इडली के साथ मिर्च पाउडर (कारांपोडी ) और मूंगफली की चटनी व अन्य चटनियां भी खाई जा सकती हैं.

नाश्ते में या शाम के समय मिनापट्टु (डोसा) भी खाया जाता है. इसके प्रकारों में "मसाला डोसा, रवा डोसा, सादा डोसा और रवा मसाला डोसा" शामिल हैं. आंध्र-शैली का डोसा दक्षिण भारत के अन्य क्षेत्रों में मिलने वाले डोसा की तुलना में अधिक मसालेदार और अधिक कुरकुरा होता है.

पेसारट्टू भी आंध्र के भोजन का एक मुख्य पदार्थ है. पेसारट्टु भी डोसा के समान ही होता है, लेकिन इसकी लेई हरी मूंग दाल से बनाई जाती है. यह पतला और कुरकुरा होता है, और सामान्यतः इस पर कटा हुआ प्याज़, हरी मिर्च, लहसुन के टुकड़े व धनिया डाला जाता है. इसे अदरक की चटनी के साथ खाते हैं. एमएलए (मला) पेसारट्टु इसका एक लोकप्रिय संस्करण है, जिसमें उपमा (मसालेदार सूजी) भरा होता है.

दोपहर का भोजन (మధ్యాహ్న భోజనం)[संपादित करें]

दोपहर के भोजन के कई घरों में एक बड़ा मामला होता है.

पारंपरिक घरों में, भोजन आरती आकु, केले का एक पत्ता, या विस्तारी, एक साथ सिली हुई कई पत्तियों को मिलाकर बने एक बड़े थाल, में परोसा जाता है. हाल ही में, स्टील की चौड़ी थालियों, जिन्हें कंचम कहा जाता है, का प्रयोग करने वालों की संख्या बढ़ी है. हालांकि, त्यौहारों और विशेष अवसरों के लिये अभी भी आरती आकु और विस्तारी का प्रयोग बड़े पैमाने पर किया जाता है.

दोपहर के भोजन के पदार्थ एक ही थाल में एक विशिष्ट व्यवस्था के अनुसार परोसे जाते हैं. कढ़ी और पप्पु को भोजन करने वाले व्यक्ति के दायें हाथ की ओर रखा जाता है, जबकि अचार और पोडी बायीं ओर होते हैं. विशेष पदार्थ, जैसे पुलिहोरा और गरेलु शीर्ष दायें भाग में रखे जाते हैं. चावल की एक बड़ी मात्रा बीच में परोसी जाती है. पुलुसु, घी और छाछ की थोड़ी मात्रा विशिष्ट रूप से पत्ते पर छिड़की जाती है. पेरुगु/मज्जिगा के अलावा प्रत्येक पदार्थ में घी मिलाया जाता है.

मोदती मुद्दा / प्रारंभिक पकवान - मोदती मुद्दा , या पहले निवाले के रूप में थोड़ी पोडी, खारम या अचार के किसी विशिष्ट प्रकार और घी के साथ चावल खाया जाता है. मोदती मुद्दा पदार्थ का स्वाद खट्टा या गर्म होता है, इसकी सुगंध तेज़ होती है और इसमें औषधीय महत्व वाली वस्तुएं, जैसे सूखा अदरक और कढ़ी पत्ता, मिलाई जाती हैं. आम तौर पर उनका उद्देश्य भूख बढ़ाना और पाचन में सहायता प्रदान करना होता है. केवल एक बहुत छोटी मात्रा का ही सेवन किया जाता है: चावल के चार या पांच गोले, जिन्हें मुद्दलु कहते हैं. गुंटुर जैसे कुछ जिलों में, चटनी को भी मोदती मुद्दा के पदार्थों में से एक माना जाता है और इसे किसी अन्य पदार्थ से पूर्व खाया जाता है.

विशिष्ट मोदती मुद्दा पदार्थों में शामिल हैं:

  • धनियला करप्पोडी: धनिया के बीजों के साथ पिसी हुई भुनी मिर्च.
  • करिवेपकु करप्पोडी: भुनी हुई मिर्च और कढ़ी पत्ते.
  • शोंथी पोडी: एक चुटकी नमक के साथ पिसा हुआ सूखा अदरक.
  • नुव्वुला पोडी: भुनी हुई मिर्च के साथ पिसे हुए तिल के बीज.
  • कोट्टिमीरा खारम: कच्ची या भुनी हुई लाल मिर्च के साथ पिसे हुए धनिया पत्ते.
  • करिवेपकु खारम: कच्ची या भुनी हुई लाल मिर्च के साथ पिसे हुए कढ़ी पत्ते.
  • आलम खारम: कच्ची या भु्नी हुई लाल और हरी मिर्च के साथ पिसा हुआ लहसुन.
  • पचिमिरापकाया खारम: भुनी हुई और पिसी हुई हरी मिर्च
  • उसीरिकाया पचड़ी: भारतीय करौंदे का अचार, जिसे विशिष्ट रूप से भुनी हुई लाल मिर्च या मिर्च पाउडर के साथ मिलाया जाता है.
  • निम्मकया पचड़ी: भारतीय नींबू का अचार
  • दब्बकया पचड़ी: भारतीय चकोतरा का अचार

मुख्य भोजन[संपादित करें]

मोदती मुद्दा के बाद क्या खाया जाता है, इस बारे में विभिन्न क्षेत्रों के बीच बहुत अधिक अंतर है. कृष्णा और गुंटुर जैसे कुछ जिलों में, कूरा (कढ़ी) सबसे आम पसंद है. पश्चिमी गोदावरी सहित अन्य जिलों में, पप्पु (दाल) और पचड़ी, पुलुसु और मज्जिगा परोसा जाना अधिक आम है.

कूरा तिरछा पाठ्य - इस क्षेत्र में कूरालु (कढ़ी) के अनेक प्रकार बनाये जाते हैं; इसके प्रकार नीचे सूचीबद्ध किये गये हैं:

  • वेपुडु: कुरकुरी भुनी हुई सब्जियां, विशिष्ट रूप से इनमें बेंडकाया (भिण्डी), दोंडकाया, बंगलाडुम्पा (आलू) और अरबी शामिल होते हैं.
  • कारम पेटी कूरा / कूरा पोडी कूरा: थोड़ी वसा के साथ शीघ्रता से तली हुई सब्जियां, जो कढ़ी पाउडर या पेस्ट के साथ पकाई जाती हैं और एक ठोस पदार्थ के रूप में परोसी जाती हैं. इन सब्जियों में कढ़ी पाउडर या पेस्ट भरा जा सकता है और सामान्यतः इन्हें पूरा ही पकाया जाता है.
  • पुलुसु कूरा / आवा पेट्टी कूरा: इमली के सॉस और सरसों के पेस्ट में पकाई गई उबली हुई सब्जियां.
  • पप्पु कूरा: अधपकी मसूर (दाल) की थोड़ी मात्रा के साथ तली गई उबली हुई सब्जियां.
  • शोरबे पर आधारित अन्य सालन मुख्यतः टमाटर के सॉस और प्याज़ मेंधनिया और जीरा पाउडर के साथ में पकाई गई सब्जियों से बनाये जाते हैं.

पप्पु - किसी सब्जी या शाक के साथ पकाई गई तुअर दाल (कंडी पप्पु) या मूंग दाल (पेसारा पप्पु). दाल में कोई मसाला नहीं मिलाया जाता. कुछ क्षेत्रों में लहसुन और प्याज़ को पसंद किया जाता है, जबकि कुछ क्षेत्रों में हींग को प्राथमिकता दी जाती है. कभी-कभी दाल के पके हुए संस्करण के स्थान पर दाल के भुने और पिसे हुए संस्करण का प्रयोग किया जाता है, जैसे कंडी पचड़ी (लाल मिर्च के साथ पिसी गई भुनी हुई दाल) और पेसरा पचड़ी (लाल मिर्च या हरी मिर्च के साथ पिसी गई भिगोई हुई मूंग दाल).

मुद्दा पप्पु (नमक डालकर पकाई हुई सादी तुअर दाल) के साथ अवाकाया आंध्र का एक बहुत लोकप्रिय संयोजन है.

पचड़ी / ऊरगाया - इसके मुख्यतः दो प्रकार हैं - पचड़ी (चटनी) और ऊरगाया . पचड़ी आम तौर पर सब्जियों/साग और भुनी हुई हरी/ लाल मिर्च से बनती है. इसे ताज़ा तैयार किया जाता है और एक या दो दिनों के भीतर ही खाया जाता है. मौसम के अनुसार ऊरगाया बहुत बड़ी मात्रा में पकाया जाता है और इसमें अपनी इच्छानुसार मिर्च पाउडर, मेथी पाउडर, सरसों पाउडर और तेल का प्रयोग किया जाता है. एक ठेठ आंध्रवासी व्यक्ति के लिये, कोई भी भोजन इस अत्यधिक आवश्यक पदार्थ के बिना पूरा नहीं होता. इसे अकेले ही या चावल में मिलाकर तथा पप्पु / कूरा के साथ एक उप-पदार्थ के रूप में भी खाया जाता है. इसके कुछ पदार्थों में शामिल हैं:

  • सब्जी पचड़ी - लौकी, बैंगन और भिण्डी जैसी सब्जियों से बनती है. इस सब्जी को लगभग ठोस होने तक पकाया जाता है और फिर इसे भुनी हुई लाल मिर्च/ हरी मिर्च, मेथी के बीजों और सरसों के बीजों के साथ पीसा जाता है.
  • साग पचड़ी - गोंगुरा पचड़ी सबसे प्रसिद्ध है, जो कि लाल सॉरेल पत्तों और भुनी हुई लाल मिर्च से बनती है. यह आंध्र के भोजन की अद्वितीय विशेषता है और ऐसे किसी भी भोजन में इसका होना अनिवार्य है, जो खाने वाले को आंध्र का स्वाद चखाने का दावा करता हो. इसके अतिरिक्त, चुक्का कूरा (आंध्र प्रदेश में मिलने वाला खट्टे पत्तों वाला एक प्रकार का साग) पचड़ी भी बहुत लोकप्रिय है. धनिया पत्तों/कढ़ी पत्तों से भी चटनी बनाई जाती है. सामान्यतः इसे एक मोदती मुद्दा पदार्थ के रूप में खाया जाता है.

ऊरगाया - आंध्र प्रदेश गर्म मसालेदार अचारों के लिये प्रसिद्द है. कुछ ऊरगाया पदार्थों में शामिल हैं:

  • अवाकाया - आंध्र के भोजन का सबसे लोकप्रिय पदार्थ. यह कटे हुए कच्चे आम, सरसों के पाउडर, लाल मिर्च पाउडर और वनस्पति तेल से बनाया जाता है. यह अप्रैल/मई के महीनों में बनाया जाता है, जब कच्चे आमों की बहुतायत होती है. आंध्र के हर परिवार में इस अचार को बनाने की अपनी एक विधि होती है, जो कि प्रयोग किये गये आम, मिर्च और तेल के प्रकार पर निर्भर होती है. गोंगुरा पचड़ी की ही तरह, यह भी आंध्र के भोजन का प्रतीक है और आंध्र में दोपहर में किये जाने वाले भोजन को दर्शानेवाला एक मुख्य पदार्थ है. अनेक आंध्रवासियों के लिये, किसी भी पप्पु पदार्थ के साथ एक उप-पदार्थ का होना अनिवार्य होता है. मुद्दा पप्पु (पकी हुई तुअर की दाल) और अवाकाया का संयोजन अधिकांश घरों में एक मुख्य भोज्य पदार्थ है. अवाकाया के अनेक प्रकार हैं - अदरक के साथ/अदरक के बिना और इसमें प्रयुक्त अन्य सामग्रियों पर निर्भर, जैसे पेसराकाया (मूंग दाल पाउडर के साथ अवाकाया), मेथी काया (मेथी के पाउडर के साथ अवाकाया), नीती काया (सरसों के पेस्ट को पानी के साथ पीसकर बनाया गया अवाकाया).
  • मगाया - अवाकाया की ही तरह, इसे भी गर्मियों के मौसम में ही बनाया जाता है. आम काटे जाते हैं, उन्हें उनके ही रस में मिर्च पाउडर, मेथी पाउडर और मसालों के साथ मिलाया जाता है. यह तटीय आंध्र क्षेत्र में एक बहुत लोकप्रिय अचार है. कुछ लोगों के लिये यह दही चावल के साथ एक अनिवार्य उप-पदार्थ होता है.
  • डोसा अवाकाया - अंग्रेज़ी (पीले) खीरे के साथ बनाया गया अवाकाया. मौसम के अंत में नियमित अवाकाया के एक विकल्प के रूप में परोसा जाता है. जाड़े के मौसम में, जब कच्चे आम सरलता से उपलब्ध नहीं होते, तब होने वाले विवाह समारोहों में परोसा जाने वाला मुख्य भोज्य-पदार्थ. हालिया समय में देखा गया है कि फूलगोभी अवाकाया भी प्रसिद्ध हो गया है. इस संस्करण में फूलगोभी के स्थान पर अंग्रेज़ी खीरे का प्रयोग किया जाता है.
  • टमाटर - आंध्र के अचारों की व्यापक श्रृंखला में एक अपेक्षाकृत नया (उन्नीसवीं सदी का) जुड़ाव. जाड़ों के मौसम में, टमाटरों को उनके ही रस में मसालों के मिश्रण में रखकर सुखाने और फिर उन्हें रस, मिर्च पाउडर, मेथी पाउडर और सीज़निंग के साथ मिलाया जाता है.
  • कोरिवी खारम - सबसे मसालेदार अचार. यह पकी हुई लाल मिर्चों (पांडु मिरापाकाया) को इमली और नमक के साथ पीसकर बनाया जाता है. पांडु मिरापाकाया आंध्र प्रदेश के पालांडु क्षेत्र (गुंटुर जिला और इसके आस-पास के भागों में) बहुतायत में उगाई जाती हैं. यह नस्ल अपने मसाले और रंग के लिये बहुत प्रसिद्ध है. इस अचार के कुछ संशोधनों में गोंगुरा के साथ पांडुमिरापाकाया या इमली के फल (चिंताकाया) के साथ पांडुमिरापाकाया के संयोजन शामिल होते हैं.
  • चिंताकाया - कच्ची इमली के फल (चिंताकाया) और नमक को पीसकर बनाया जाता है. इसे जाड़ों के मौसम में तैयार किया जाता है. जब भी इसे खाना हो, तो मसालों के मिश्रण में रखे इस अचार का कुछ भाग लिया जाता है और भुनी हुई लाल मिर्च के साथ उसकी चटनी बनाई जाती है.
  • निम्माकाया - भारतीय नींबू को कुछ दिनों तक इसके स्वयं के रस में रखकर और फिर इसे नमक, मेथी पाउडर और मिर्च पाउडर के साथ मिलाकर इसे तैयार किया जाता है.
  • उसीरिकाया - भारतीय करौंदे और नम को पीसकर बनाया जाता है. यह अचार वर्ष भर रखा जाता है, आवश्यकता होने पर इसे छोटी मात्रा में लेकर भुनी हुई लाल मिर्च के साथ इसे पीसकर इसकी चटनी बनाई जाती है. अधिकंश लोग रात के समय भारतीय करौंदा खाने से बचते हैं. रात के समय यह नाम (उसीरिकाया) लेना भी वर्जित है और इसे मुख्यतः नल्लाकाया कहा जाता है. इन वृक्षों को विष्णु का निवास-स्थान मानकर सम्मान दिया जाता है और कार्तिक (अक्टूबर/नवंबर) के महीने में इनकी पूजा की जाती है. इन महीनों के दौरान भारतीय करौंदे के पेड़ के नीचे बैठकर ऐसा भोजन करने की परंपरा है, जिसमें कच्चे करौंदे की चटनी भी शामिल हो.
  • दब्बकाया - वर्तमान पीढ़ी के लिये कम-ज्ञात यह अचार भारतीय चकोतरे से बनाया जाता है. विशिष्ट रूप से इसे एक मोदती मुद्दा पदार्थ के रूप में खाया जाता है. ऐसा माना जाता है कि भीषण गर्मी के महीनों में दब्बकाया की नाज़ु्क पत्तियों (दब्बकु मज्जिगा) के साथ मिश्रित छाछ बहुत तीव्र प्यास भी बुझा देता है.

पुलुसु / चारु - अधिकांश अन्य भोजनों के विपरीत आन्ध्र के भोजन में कोई सूप या सलाद शामिल नहीं होते. पुलुसु/धप्पलम भोजन का सबसे महत्वपूर्ण तरल पदार्थ होता है. विशिष्ट पुलुसु पदार्थों में शामिल हैं

  • खरम पुलुसु- पानी में घुली हुई इमली के रस में पकाई गई कोई भी सब्जी और पुलुसु पोडी (भुनी हुई लाल मिर्च, धनिया पाउडर का एक मिश्रण).
  • तिय्या पुलुसु - कद्दू या मीठे आलू जैसी कोई थोड़ी मीठी सब्जी, जो कि गुड़ के साथ हल्की इमली के रस में पकाई जाती है
  • पाची पुलुसु - पुलुसु का गर्म न किया हुआ संस्करण इसमें गुड़ के साथ पानी में बहुत अधिक घुली हुई इमली के रस में अच्छी तरह कटा हुआ कच्चा प्याज़ शामिल होता है. गर्मी के मौसम में जब आम प्रचुर मात्रा में उपलब्ध होते हैं, तो इमली के स्थान पर उबले हुए कच्चे आम का प्रयोग किया जाता है. इसे गर्मी के मौसम के दौरान खाया जाता है.
  • पप्पुचारु - पकी हुई तुअर दाल और इमली में उबाली हुई सब्जियां. कोई सांबर/मसाला पाउडर नहीं मिलाया जाता.
  • सांबर - पकी हुई तुअर दाल, इमली और सांबर पाउडर के साथ उबाली हुई सब्जियां.
  • चल्ला पुलुसु / मज्जिगा पुलुसु - चना दाल और नारियल के पेस्ट के साथ उबला हुआ खट्टा छाछ
  • मेंथी चल्ला / मेंथी मज्जिगा - खट्टा छाछ, जिसमें अदरक / हरी मिर्च का पेस्ट और तेल में तले हुए मेंथी के बीज मिलाए जाते हैं.
  • चारु - इमली और चारु पोडी (धनिया के बीज, दाल, अदरक, काली मिर्च और हींग से बनता है) का एक बहुत पतला मिश्रण. इसे भोजन के दौरान चावल में मिलाए बिना ऐसे ही किसी सूप की तरह भी लिया जाता है.

पेरुगु / मज्जिगा - भोजन का अंतिम पदार्थ. सामान्यतः पेरुगु (दही) को पचड़ी या ऊरागाया के समान एक सहायक-पदार्थ के रूप में लिया जाता है. औषधीय कारणों से कु्छ लोग पेरुगु के बजाय मज्जिगा (छाछ) लेना ज़्यादा पसंद करते हैं. ऐसा माना जाता है कि इसे पानी के साथ छाछ में हाथों से मथने पर पेरुगु के अच्छे गुण बढ़ते हैं और बुरे प्रभाव समाप्त हो जाते हैं.

शाम के नाश्ते (ఫలహారము)[संपादित करें]

घर में, शाम के समय अनेक स्वादिष्ट नाश्ते परोसे जाते हैं. ये इस प्रकार हैं

  • काराप्पूसा - కారప్పూస
  • चेक्कलु - చెక్కలు
  • जन्तिकलु - జంతికలు
  • सकिनालु या चक्किरालु - చక్కిరాలు
  • चुप्पुलु - చుప్పులు
  • चेगोदिलु - చేగోడీలు
  • गुग्गिलु - గుగ్గిళ్ళు
  • पकोड़ी - పకోడీ
  • बूंदी - బూంది
  • मिक्सचर (कटे हुए प्याज़ और नींबू के रस में मिली बूंदी) -
  • पोंगनालु - పొంగనాలు
  • पुनुकुलु - పునుకులు
  • उपमा - ఉప్మా
  • बोंडालु या मसालेदार डिप के साथ पुनुकुलु' (अल्लम पचड़ी)- బొండాలు
  • मिरापाकाया बज्जी - अत्यधिक-गर्म मिर्च का एक स्थानीय प्रकार, जिसमें मसाले भरे जाते हैं और जिसे काबुली चने की लपसी में डुबोकर तला जाता है.
  • उल्लीपकोड़ी - काबुली चने की लपसी में कटे हुए प्याज़ और मसाले मिलाकर बनाये गये टुकड़े
  • गारे - గారే (वड़ा के समान). गारे तेल में डुबोकर तले हुए मसालेदार आटे से बने होते हैं.
  • पेरुगु गारे / आवदालु - ఆవడలు गारे को दही की चटनी के एक मिश्रण में रखा जाता है.

मिठाइयां[संपादित करें]

  • लड्डू
  • पूर्णालु या बुरेलु
  • रवा लड्डू
  • भकशालु या बोब्बाटलु या पोलेलु
  • पूथरेकुलु
  • अरिसेलु
  • खाजा
  • पायसम
  • गव्वालु
  • तेलंगाना गरजालु
  • चक्केरा पोंगली (चीनी पोंगल)
  • लस्कोरा उंडलु (नारियल का लड्डू) या रस्कोरा उंडलु (नारियल का लड्डू)
  • बूंदी
  • पलाथलिकलु
  • रव्वा केसरी
  • पप्पुचेक्का
  • जीदिलु
  • कोब्बरी लवुजु
  • तेलंगाना साकिनालु
  • वेन्नाप्पलु

क्षेत्रीय भिन्नताएं[संपादित करें]

तेलुगु भोजन में क्षेत्रीय भिन्नताएं पाईं जाती हैं. आंध्र प्रदेश के पश्चिमी भाग, तेलंगाना के भोजन में कुछ अद्वितीय पदार्थ मौजूद हैं, जैसे जोन्ना रोट्टे (ज्वार), सज्जा रोट्टे (बाजरा), या उप्पुडी पिंडी (पिसा हुआ चावल). तेलंगाना के व्यंजनों पर फारसी और अफगानी भोजन का प्रभाव है क्योंकि लंबे समय तक तेलंगाना मुस्लिम राजाओं के नियंत्रण में था. उत्तरी तेलंगाना के जिलों में, भोजन में ऐसे पदार्थ शामिल हैं, जो महाराष्ट्र में मिलने वाले पदार्थों के समान हैं, जैसे कढ़ी .

रायलसीमा क्षेत्र में अनेक खाद्य-पदार्थ और नाश्ते बनाए जाते हैं. अत्तिरसालु (अरिसी) बादुशा जांगड़ी जिलेबी पाकम उंडलु, (भाप में पके चावल के आटे, मूंगफली और गुड़ का मिश्रण) बोरुगु उंडलु (ज्वार के आटे और गुड़ से बना एक मीठा संस्करण) मसाला बोरुगुलु (नाश्ते की तरह) रागी बॉल सद्दी अन्नम, (रात में पके चावल को छाछ में भिगोकर बनाया जाता है) जोन्ना, रागी रोट्टे, घी का एक संयोजन) पोंगनालु चावल का गीला आटा, तेल, गाजर, प्याज, मिर्च के साथ भूना जाता है बोंडा मिर्चीबज्जी रोस्ट रव्वा लड्डू

इन्हें भी देखें[संपादित करें]