तेज गेंदबाज़ी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तेज गेंदबाज़ी को पेस बॉलिंग के नाम से भी जाना जाता है जो क्रिकेट के खेल में गेंदबाज़ी के दो प्रमुख प्रकारों में से एक है. दूसरा प्रकार है स्पिन बॉलिंग.

तेज़ गेंदबाज़ी करने वाले खिलाडियों को अक्सर तेज़ गेंदबाज़ (फास्ट बॉलर) , फास्टमेन , पेस बॉलर , या पेसमेन कहा जाता है, हालांकि कभी कभी तेज़ गेंदबाज़ी की विशेष तकनीक का प्रयोग करने वाले गेंदबाज़ को स्विंग बॉलर या सीम बॉलर भी कहा जाता है.

तेज़ गेंदबाज़ी का मुख्य उद्देश्य होता है क्रिकेट की सख्त गेंद को तेज़ गति के साथ डालना और इसे इतना वेग देना कि यह उछाल के साथ पिच पर बाउंस हो सके या हवा में होती हुई साइड से निकल जाये, ताकि बल्लेबाज़ के लिए गेंद को सफाई से हिट करना मुश्किल हो जाये.

एक प्रारूपिक तेज़ गति से डाली गयी गेंद की गति 136 से 150 किलोमीटर/घंटा (85 से 95 मीटर प्रति घंटा) होती है. अब तक डाली सबसे तेज़ गेंद का अनाधिकारिक रिकॉर्ड 101.9 मील/घंटा (164.0 किमी/घंटा) में पकिस्तान के मोहम्मद सामी के नाम पर दर्ज किया गया है, यह गेंद भारत के खिलाफ एक मैच में डाली गयी थी.[1]

अधिकारिक रूप से दर्ज की गयी सबसे तेज़ गति से डाली गयी गेंद की गति 161.3 किलोमीटर प्रति घंटा (100.2 मीटर प्रति घंटा) थी, और यह गेंद 2003 के क्रिकेट विश्व कप में इंग्लैण्ड के खिलाफ एक मैच के दौरान पकिस्तान के शोएब अख्तर के द्वारा डाली गयी थी. इस गेंद पर खेलने वाला बल्लेबाज़ निक नाईट था, जिसने लेग साइड पर हिट किया.[2] हालांकि बाद में ब्रेट ली की एक गेंद की गति भी इतनी ही पायी गयी, परन्तु रडार के संकेतों में बाहरी हस्तक्षेप के कारण इसे ठीक तरीके से दर्ज नहीं किया जा सका था. दो बैक अप राडारों ने इस डिलीवरी के लिए 142 किमी/घंटा (88 मील/घंटा) की सही गति को दर्ज किया.[3]

अधिकांश क्रिकेट देशों में, तेज़ गेंदबाज़ों को टीम की गेंदबाज़ी का मुख्य आधार माना जाता है, जबकि धीमे गेंदबाज़ सहायक भूमिका निभाते हैं.

उपमहाद्वीप में, विशेष रूप से भारत और श्रीलंका में, अक्सर इसका विपरीत सत्य है, जहां तेज़ गेंदबाज़ स्पिनर के लिए सही भूमिका निभाते हैं.

ऐसा काफी हद तक इन देशों में प्रयुक्त पिच की स्थिति के कारण होता है, जो तेज़ गेंदबाज़ की तुलना में स्पिनर के लिए अधिक सहायक होती है, लेकिन अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर स्पिनर के विशिष्ट कौशल की तुलना पेस बॉलर (तेज़ गेंदबाज़) से की जाती है.

इसके विपरीत, अन्य मुख्य उपमहाद्वीप देश, पकिस्तान, में कई कुशल तेज़ गेंदबाज़ हुए हैं, क्योंकि इस देश को रिवर्स स्विंग में महारत हासिल है और यहां की पिचें तेज़ गेंदबाज़ों के लिए अधिक सहायक हैं.

तेज़ गेंदबाज़ी का श्रेणीकरण[संपादित करें]

ऐसा सम्भव है कि एक गेंदबाज़ केवल गति पर ध्यान केन्द्रित करे, विशेष रूप से एक युवा गेंदबाज़ के लिए यह सच है, परन्तु जैसे जैसे तेज़ गेंदबाज़ परिपक्व होता जाता है, वह और भी कई कौशल हासिल कर लेता है, और स्विंग गेंदबाज़ी या सीम गेंदबाज़ी की तरफ उसका रुझान बढ़ने लगता है. gendbaaj

अधिकांश तेज़ गेंदबाज़ इन दोनों में एक क्षेत्र में विशेषज्ञ होते हैं, और कभी कभी इन्हें स्ट्राइक, स्विंग या सीम बॉलर में वर्गीकृत किया जाता है.

हालांकि यह वर्गीकरण संतोषजनक नहीं है क्योंकि श्रेणीकरण परस्पर विशिष्ट नहीं होता और एक कुशल गेंदबाज़ आमतौर पर तेज़, स्विंग, सीम और कटिंग गेंद का मिश्रण डालता है, चाहे वह अन्य प्रकारों की तुलना में किसी एक प्रकार को प्राथमिकता दे.

ब्रेट ली 2005 में ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ़ WACA में तेज़ गेंदबाज़ी करते हुए

इसके बजाय, तेज़ गेंदबाज़ों को उनकी डिलीवरी की औसत गति के अनुसार वर्गीकृत करना अधिक आम है, जैसा कि नीचे दिया गया है

तेज़ गेंदबाज़ों का वर्गीकरण
प्रकार मीटर प्रति घंटा किमी / घंटा
तेज़़ 90 + 145 +
तेज़-मध्यम 80 से 90 128 से 145
मध्यम-तेज़ 70 से 80 113 से 128
मध्यम 60 से 70 97 से 113

इन शब्दों का उपयोग सन्दर्भ के आधार पर किया जाता है; उदाहरण के लिए, क्रिकइन्फो "तेज़-मध्यम" और "मध्यम-तेज़" शब्दों का उपयोग अंतर्परिवार्तित रूप से करता है.[4]

ऐसा कहा जाता है कि सबसे तेज़ गेंदबाज़ एक्सप्रेस गति से गेंद डालते हैं.

तुलना के लिए, पेशेवर क्रिकेट में अधिकांश स्पिन गेंदबाज़ 45 से 55 मीटर प्रति घंटा (70 से 90 किलोमीटर प्रति घंटा) की औसत गति से गेंद डालते हैं. कुछ गेंदबाज़ तेज़ से धीमी हर प्रकार के गेंद बदलाव के साथ डालते हैं, इससे कुछ भ्रम उत्पन्न हो सकता है क्योंकि उन्हें भिन्न श्रेणियों में रखा जा सकता है, उदहारण के लिए ब्रेट ली अपनी तेज़ गेंद को 145 किलोमीटर पति घंटा की गति से डालते हैं, जो उन्हें एक तेज़ गेंदबाज़ बनाता है, हालांकि वे कभी कभी लगभग 120 किलोमीटर प्रति घंटा की गति से धीमी गेंद भी डालते हैं.

इसके विपरीत, अनिल कुंबले एक स्पिन गेंदबाज़ है, वे अपेक्षाकृत तेज़ गेंद डालते हैं, जिसकी गति 110 किलोमीटर प्रति घंटा तक होती है.

हालांकि एक गेंदबाज़ कौन सी श्रेणी में फिट बैठता है, इसका निर्धारण करने के लिए इन आंकड़ों पर अक्सर ध्यान नहीं दिया जाता है, क्योंकि गेंद डालने की गति में बदलाव होते रहते हैं, इसके पीछे मुख्य इरादा होता है, बल्लेबाज़ पर प्रहार करना, नाकि गेंदबाज़ी की एक मानक गति निर्धारित करना.

तेज़ गेंदबाज़ जितना धीमा होता है, उतना ही उसे विकेट लेने के लिए नीचे दी गयी बदलाव तकनीकों पर अधिक निर्भर करना पड़ता है. जबकि तेज़ और एक हद तक तेज़-मध्यम और मध्यम-तेज़ गेंदबाज़ अक्सर अपनी उग्रता और गति के द्वारा बल्लेबाज़ को आउट कर देते हैं.

व्यवहार में, बहुत कम विशेषज्ञ गेंदबाज़ मध्यम श्रेणी में आते हैं- इस गति से गेंद डालने वाले गेंदबाज़ अक्सर बल्लेबाज़ होते हैं, जो जरुरत पड़ने पर कुछ ओवर डाल सकते हैं.

इन गेंदबाज़ों मीडियम पेसर कहा जाता है. मध्यम-धीमी और धीमी-मध्यम श्रेणियों में अक्सर स्पिन गेंदबाज़ों को रखा जाता है, चूंकि तेज़ गेंदबाज़ी की तकनीक के साथ इस गति से डाली गयी गेंद, स्पिन होने के बजाय, अक्सर हिट करने के लिए बहुत आसान होती है. हालांकि स्पिनर को बोलचाल की भाषा में "धीमे गेंदबाज़" कहा जाता है, पेशेवर क्रिकेट में बहुत कम खिलाडी वास्तव में "धीमी" श्रेणी में गेंद डालते हैं (नीचे 40 मील/घंटा या 64 किमी/घंटा)

तेज़़ गेंदबाज़़ी में तकनीक[संपादित करें]

तेज़ गेंदबाज़ी की ग्रिप

ग्रिप (पकड़)[संपादित करें]

पहली चीज जो एक तेज़ गेंदबाज़ के लिए जरुरी है वह है गेंद को सही ढंग से पकड़ना या ग्रिप करना.

बुनियादी तेज़ गेंदबाज़ी में अधिकतम गति प्राप्त करने के लिए गेंद को इस तरह से पकड़ा जाता है कि सीम सीधे ऊपर की ओर हो, और संकेत अंगुली तथा मध्यम अंगुली को सीम के शीर्ष पर एक दूसरे के पास रखा जाता है और अंगूठा सीम के बिलकुल नीचे होता है.

सही करने के लिए छवि सही पकड़ को दर्शाता है. पहली दो अंगुलियां और अंगूठा गेंद पर ग्रिप बनाता है, यह हिस्सा शेष हाथ से थोड़ा आगे की ओर होता है, और शेष दो अंगुलियों को हथेली के साथ चिपका कर रखा जाता है. गेंद को बिलकुल हलके से पकड़ा जाता है, ताकि यह हाथ से आसानी से छूट जाये.

अन्य प्रकार की ग्रिप भी संभव हैं, इसके परिणामस्वरूप कुछ अलग तरह की गेंद डाली जाती है- नीचे देखें स्विंग और सीम गेंदबाज़ी. गेंदबाज़ आमतौर पर एक हाथ से गेंद पर ग्रिप बनाता है और दूसरे हाथ को इस हाथ पर अधिकतम संभव समय तक रखे रहता है, ताकि बल्लेबाज़ यह ना देख पाए कि वह किस प्रकार की ग्रिप ले रहा है, या लेने की तैयारी कर रहा है.

रन-अप (दौड़ना)[संपादित करें]

एक तेज़ गेंदबाज़ को स्पिनर की तुलना में विकेट की ओर अधिक लम्बे समय तक दौड़ने की जरुरत पड़ती है. यह लम्बी दौड़ तेज़ डिलीवरी के लिए गेंद में एक संवेग (momentum and rhythm) उत्पन्न करती है.

तेज़ गेंदबाज़ विकेट से दूरी को चिन्हित कर लेते हैं और अपनी इस दौड़ (रन-अप) की आवश्यक दूरी को माप लेते हैं. गेंदबाज़ के लिए यह जानना बहुत महत्वपूर्ण होता है कि उसकी दौड़ की ठीक लम्बाई कितनी होगी, क्योंकि इसे पोप्पिंग क्रीस पर ख़त्म करना जरुरी होता है. अगर गेंदबाज़ इस क्रीस से आगे निकल जाता है तो उसके द्वारा डाली गयी गेंद नो बॉल की श्रेणी में आ जाती है.

एक्शन[संपादित करें]

रन-अप या दौड़ के अंत में गेंदबाज़ अपने अगले पैर को पिच पर रखता है, इस समय जहां तक हो सके उसे अपने घुटने को सीधा रखता होता है. इससे गेंद को गति देने में मदद मिलती है परन्तु यह खतरनाक हो सकता है क्योंकि इस एक्शन से जोइंट (घुटने की संधि) पर दबाव पड़ता है. घुटने की चोटें तेज़ गेंदबाज़ों में असामान्य नहीं हैं: उदाहरण के लिए, इंग्लिश पेस बॉलर डेविड लॉरेंस, के घुटने की कैप के दो हिस्सों में टूट जाने के बाद में कही महीनों तक खेल से बाहर हो गए.

आगे वाले पैर पर दबाव इतना ज्यादा होता है कि कुछ तेज़ गेंदबाज़ अपने पैर के अंगूठे को चोट से बचाने के लिए अपने जूते के अगले हिस्से को काट देते हैं, क्योंकि उन्हें बार बार जूते के विपरीत दबाव डालना पड़ता है. इसके बाद गेंदबाज़ अपनी गेंदबाज़ी वाली भुजा को अपने सिर से ऊपर उठाता है और के उपयुक्त उंचाई पर ले जाकर गेंद को छोड़ देता है, जहां उसे लगता है कि गेंद को डाला जाना चाहिए.

एक बार फिर से, भुजा सीधी होनी चहिये हालांकि यह गति को बढ़ाने में सहायता देने के बजाय क्रिकेट का एक नियम है. कोहनी को मोड़ कर गेंद डालने से गेंदबाज़ के लिए आसान हो जाता है कि वह सीधे बल्लेबाज़ के विकेट पर प्रहार करे और उसे आउट कर दे.

मिशेल जॉनसन गेंदबाज़ी. "स्लिंग" एक्शन को नोट करें.

तेज़ गेंदबाज़ ऐसे एक्शन करते हैं जिससे वे रन-अप के अंत में साइड-ऑन या चेस्ट-ऑन रह जाते हैं.

एक चेस्ट-ऑन गेंदबाज़ की छाती और कुल्हे उस समय बल्लेबाज़ की और झुके होते हैं जब उसका पिछला पैर जमीन को छूता है, जबकि एक साइड- ऑन गेंदबाज़ की छाती और कुल्हे उस समय बल्लेबाज़ की दिशा में 90 डिग्री पर झुके होते हैं, जब उसका पिछला पैर जमीन को छूता है.

वेस्ट इंडीज के गेंदबाज़ मैल्कम मार्शल चेस्ट-ऑन गेंदबाज़ के एक अच्छे उदाहरण थे, जबकि ऑस्ट्रेलियाई तेज़ गेंदबाज़ डेनिस लिली साइड-ऑन तकनीक का प्रयोग करते थे.

हालांकि एक गेंदबाज़ का एक्शन गेंद की गति को प्रभावित नहीं करता, लेकिन यह उनके द्वारा डाली जाने वाली गेंदों की शैली को सीमित कर सकता है.

हालांकि इसके लिए कोई निर्धारित नियम और कानून नहीं हैं, साइड-ऑन गेंदबाज़ सामान्यतया बाहर की ओर स्विंग करते हुए गेंद डालते हैं, जबकि फ्रंट-ऑन गेंदबाज़ अन्दर की ओर स्विंग करते हुए गेंद डालते हैं.

तेज़ गेंदबाज़ के एक्शन का एक और प्रकार है, स्लिंग (इसे कभी कभी स्लिंगशोट या जावलिन कहा जाता है), इसमें गेंदबाज़ जब गेंद की डिलीवरी की शुरूआत करता है, उसकी भुजा पूरी तरह से उसकी पीठ के पीछे की ओर फैली हुई होती है.

स्लिंग से अत्यधिक गति उत्पन्न होती है, लेकिन इसमें नियंत्रण के साथ समझौता करना पड़ता है. स्लिंग के साथ गेंद डालने वाले सबसे प्रसिद्द गेंदबाज़ हैं, जैफ थॉमसन, जो एक छोटा रन-अप लेते हुए भी असाधारण गति से गेंद डालते थे.

वर्तमान अंतरराष्ट्रीय खिलाडी जो स्लिंग के साथ गेंद डालते हैं, उनमें फिदेल एडवर्ड्स, शॉन टेट, लसिथ मलिंगा, और मिशेल जॉनसन शामिल हैं.

फोलो थ्रू[संपादित करें]

मैथ्यू होगार्ड ने प्रशिक्षण में फोलो थ्रू शुरू किया.

जब गेंद डाल दी जाती है, गेंदबाज़ अपने एक्शन के अंत में "फोलो थ्रू करता है. इसमें गेंदबाज़ अपनी गति को धीमा करने के लिए कुछ ओर कदम दौड़ता है और साइड में होते हुए पिच से बाहर आ जाता है.

डिलीवरी के अंत में पिच से बाहर आते समय गेंदबाज़ सतह को क्षतिग्रस्त कर सकता है, जिससे पिच पर असमतल पैच बन जाते हैं, स्पिन बॉलर अक्सर गेंद को ज्यादा घुमाने के लिए ऐसा करते हैं; ऐसा करना खेल के नियम के अनुसार अवैध है. जो गेंदबाज़ पिच पर भागना जारी रखते हैं, उन्हें चेतावनी दी जा सकती है, एक खेल में ऐसी तीन चेतावनियां मिलने पर गेंदबाज़ उस पारी के दौरान फिर से गेंदबाज़ी नहीं कर पाता.

लाइन और लेंथ[संपादित करें]

एक प्रभावी तेज़ गेंदबाज़ को एक सुसंगत लाइन और लेंथ बना कर रखनी होती है, या सामान्य शब्दों में कहा जाये तो उसे बिलकुल सटीक होना चाहिए. इस संदर्भ में, लाइन का सन्दर्भ बल्लेबाज़ की ओर गेंद के पथ से है, जब वह ऑफ से लेग साइड की ओर क्षितिज आयाम में दौड़ रहा है. जबकि लेंथ का तात्पर्य उस दूरी से है जो गेंद के द्वारा बल्लेबाज़ की दिशा में बाउंस होने से पहले तय की जाती है.

एक तेज़ गेदबाज के लिए अक्सर लेंथ ज्यादा महत्वपूर्ण होती है. गेंदबाज़ जितना तेज़ होता है, उतना ही लाइन और लेंथ को बनाये रखना उसके लिए मुश्किल हो जाता है लेकिन तेज़ गति से गेंद को जल्दी डाला जा सकता है. वे तेज़ गेंदबाज़ जो इस दृष्टि से बिलकुल सटीक होते हैं, वे अत्यंत प्रभावोत्पादक होते हैं, उदाहरण के लिए, ऑस्ट्रेलियाई तेज़ गेंदबाज़ ग्लेन मेकग्रा और दक्षिण अफ़्रीकी तेज़ गेंदबाज़ शॉन पोलोक

लाइन[संपादित करें]

आधुनिक क्रिकेट में, तेज़ गेंदबाज़ के लिए लक्ष्यित लाइन तथाकथित रूप से अनिश्चित (corridor of uncertainty) है; यह बल्लेबाज़ के ऑफ स्टम्प के ठीक बाहर का क्षेत्र है.

बल्लेबाज़ के लिए यह बताना मुश्किल होता है कि ऐसी गेंद उनके विकेट से टकराएगी या नहीं, और इस प्रकार से वह यह नहीं जान पाता कि बचने के लिए गेंद को छोड़ दिया जाये या इसे हिट किया जाये. इस तकनीक को सैद्धांतिक रूप से ऑफ थ्योरी कहा जाता था (इसके विपरीत लेग थ्योरी), लेकिन अब यह इतनी नियमित है कि इसे शायद ही कभी कोई नाम दिया जाता हो. बेशक, लाइन में बदलाव भी महत्वपूर्ण है और लेग स्टम्प पर डाली गयी डिलीवरी उद्देश्य को पूरा करती है.

गेंद की लाइन की सटीक महारत का उपयोग सर्वश्रेष्ठ रूप से तब किया जाता है जब एक बल्लेबाज़ को एक विशेष शोट को हिट करने की कमजोरी के लिए जाना जाता है, क्योंकि एक प्रभावी लाइन से साथ गेंद डालने वाला गेंदबाज़ सही समय के बाद कमजोर समय में गेंद डाल सकता है. एक निश्चित लाइन पर गेंद को लगातार हिट ना कर पाने के कारण असंख्य बल्लेबाज़ों का कैरियर ख़त्म हो जाता है, जब वे कुशल लाइन गेंदबाज़ों की गेंद पर आउट हो जाते हैं.

लेंथ[संपादित करें]

गेंद की लेंथ नाम और बाउंस की ऊंचाई को दर्शाते हुए.

एक अच्छी लेंथ की गेंद वह होती है जो बल्लेबाज़ तक पहुंचने के समय उसकी कमर की उंचाई पर होती है. एक अच्छी लेंथ के लिए कोई निर्धारित दूरी नहीं है, या वास्तव में क्रिकेट में गेंद के लिए कोई अन्य लेंथ नहीं है, चूंकि आवश्यक दूरी गेंद की गति के अनुसार अलग अलग होती है, इसी तरह से यह दूरी पिच की अवस्था और गेंदबाज़ तथा बल्लेबाज़ की ऊंचाई पर भी निर्भर करती है.

इस बात पर ध्यान दिया जाना चाहिए कि इस अर्थ में एक "अच्छी लेंथ" की गेंद डालना हमेशा उपयुक्त नहीं होता-कुछ स्थितियों में, कुछ पिचों पर और कुछ बल्लेबाज़ों के लिए कोई और लेंथ प्रभावी हो सकती है.

दायीं ओर दिया गया चित्र इस बात को स्पष्ट करने में मदद करेगा कि अलग अलग लेंथ का क्या तात्पर्य है. एक गेंद जो अच्छी लेंथ से जरा सा पहले बाउंस हो जाती है और बल्लेबाज़ के पेट से अधिक ऊपर उठ जाती है, उसे शोर्ट पिच की गेंद कहा जाता है या इसे लॉन्ग होप के रूप में वर्णित किया जाता है और इसे हिट करना बल्लेबाज़ के लिए आसान होता है क्योंकि उसे यह देखने के लिए अधिक समय मिल जाता है कि गेंद की ऊंचाई और लाइन बाउंस होने के बाद गड़बड़ाई है या नहीं.

एक छोटे पिच की गेंद बल्लेबाज़ के लिए सही ऊंचाई पर होती है, क्योंकि वह इस पर एक आक्रामक पुल शोट लगा सकता है. एक गेंद जो अच्छी लेंथ से पहले बाउंस हो जाती है और कंधे या सिर की ऊंचाई तक पहुंच जाती है, उसे बाउंसर कहा जाता है और यह एक प्रभावी डिलीवरी हो सकती है.

कोई भी गेंद जो इतनी शोर्ट होती है कि बल्लेबाज़ के सिर के ऊपर बाउंस हो जाये, उसे आमतौर पर अम्पायर के द्वारा वाइड कहा जाता है. शोर्ट पिच की गेंद या वाइड बॉल डालना अच्छा नहीं माना जाता क्योंकि इससे बल्लेबाज़ के लिए अपने आप को बचाना या हमला करना आसान हो जाता है.

स्केल के दूसरी ओर, वह गेंद जो अच्छी लेंथ के बजाय बल्लेबाज़ के पास आकर बाउंस होती है, उसे फुल पिच या ओवर पिच की गेंद कहा जाता है या इसे हॉफ वोली के रूप में भी वर्णित किया जाता है. अच्छी लेंथ के बजाय इन गेंदों को खेलना बल्लेबाज़ के लिए अधिक आसान होता है क्योंकि सीम से बाउंस होने के बाद उनके पास हिलने के लिए जयादा समय नहीं होता.

बल्लेबाज़ के के पैर के नजदीक डाली गयी गेंद यॉर्कर कहलाती है, अगर इसे ठीक प्रकार से डाला जाये तो यह बहुत प्रभावी लेंथ है. अगर गेंद बल्लेबाज़ तक पहुंचने से पहले बाउंस नहीं हो पाती तो इसे फुल टॉस कहा जाता है. बल्लेबाज़ के लिए इस प्रकार की डिलीवरी को ख्लेना बहुत आसान होता है, क्योंकि यह पिच से बाउंस ना होने के कारण अपना रास्ता नहीं बदलती. इसीलिए तीन प्रभावी लेंथ (अच्छी लेंथ, बाउंसर, यॉर्कर)) को हिट करना बल्लेबाज़ के लिए आसान होता है, क्योंकि लेथ पर नियंत्रण तेज़ गेंदबाज़ के लिए बहुत महत्वपूर्ण है. दूसरी ओर स्पिन गेंदबाज़ हमेशा अच्छी लेंथ को लक्ष्य बनाते हैं परन्तु उन्हें लाइन को प्रभावी बनाने और गेंद की उड़ान पर अधिक नियंत्रण रखना होता है.

एक तेज़ गेंदबाज़ अपने पूरे क्रिकेट कैरियर में शारीरिक रूप से फिट रहने की कोशिश करता है, यह अवधि एक दशक से अधिक हो सकती है.

यह कहने की जरुरत नहीं है कि ऐसा करना बहुत मुश्किल है और इसके लिए अत्यधिक अनुशासन के साथ अच्छे भाग्य की भी जरुरत होती है.

स्ट्राइक गेंदबाज़ी[संपादित करें]

स्ट्राइक गेंदबाज़ी एक ऐसे प्रकार की गेंदबाज़ी है जिसमें गेंदबाज़ गेंद को हवा में डालने या पिच के बाहर डालने के बजाय तेज़ गति और उग्रता के साथ बल्लेबाज़ को आउट करने का प्रयास करता है.

चोटी के बल्लेबाज़ों के खिलाफ ये तकनीकें आमतौर पर तभी सफल होती हैं जब तेज़ गेंदबाज़ के द्वारा तेज़ या तेज़-मध्यम श्रेणी में गेंद को डाला जाता है.

धीमे गेंदबाज़ कभी कभी ही इन तकनीकों का प्रयोग करते हैं, विशेष रूप से अंत में खेलने वाले बल्लेबाज़ों के खिलाफ इन तकनीकों का प्रयोग किया जाता है, परन्तु अक्सर यह तकनीक उलटी पड़ती है और बल्लेबाज़ रन लेने में सफल हो जाता है. हालांकि, आक्रामक गेंदबाज़ी की तकनीकों को गेंदबाज़ी की स्विंग या सीम तकनीक के साथ संयुक्त रूप से काम में लिया जा सकता है ताकि गेंदबाज़ किसी भी गति की ऐसी गेंद डाल सके, जिसे खेलना संभव ना हो. इनस्विन्गिंग यॉर्कर को विशेष रूप से घातक माना जाता है.

बाउंसर[संपादित करें]

बाउंसर एक ऐसी गेंद होती है जिसे पिच के पहले आधे हिस्से में डाला जाता है, ताकि इसके बाद इसके पास इतना समय हो कि यह तेज़ी से उठे और बल्लेबाज़ तक पहुंचने तक उसकी छाती या सिर की ऊंचाई तक पहुंच जाये. इससे बल्लेबाज़ को दो तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है. अगर वह इसे खेलने का प्रयास करता है, तो बल्ला उसकी आंख के स्तर पर होगा जिससे शोट लगाने के समय वह गेंद को देख नहीं पायेगा और इस शोट को खेलना उसके लिए मुश्किल हो जाएगा.

अगर वह इसे छोड़ देता है तो यह उसकी छाती या सिर पर प्रहार कर सकती है और कभी कभी उसे चोट भी लग सकती है. इसी कारण से, बाउंसर को इंटीमिडटरी गेंदबाज़ी भी कहा जाता है.

एक बाउंसर के लिए बल्लेबाज़ की सामान्य प्रतिक्रिया होती है इसे नीचे डक कर देना, लेकिन इसके लिए तीव्र सजगता और प्रतिक्रिया की आवश्यकता होती है और कभी कभी गेंद बल्लेबाज़ को हिट कर जाती है.

बल्ले को सीधा कर के अपने सिर को बचाने का प्रयास करना इस स्थिति में एक सामान्य प्रतिक्रिया है, लेकिन अगर संभव हो तो ऐसा नहीं किया जाना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से गेंद एक अनियंत्रित कोण पर लौट जाती है और इसे आसानी से कैच किया जा सकता है.

अधिकांश बल्लेबाज़ दहशत से भर जाते हैं, और अपना विकेट खो देते हैं, इस तरह से कई बल्लेबाज़ों के कैरियर पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है.

शारीरिक रूप से शक्तिशाली बल्लेबाज़ अक्सर ऐसी गेंद को ऊपर आने के समय हिट करता है, चाहे वह उसे देख नहीं पा रहा होता, चूंकि यह असामान्य नहीं है, इस स्थिति में गेंद की तेज़ गति और बल्लेबाज़ के बल्ले दोनों के संयुक्त प्रभाव के कारण गेंद बाउंड्री से बाहर चली जाती है.

यहां इस बात की संभावना भी होती है कि विकेट कीपर इस गेंद को रोकने का प्रयास करता है, इसलिए एक कुशल बल्लेबाज़ के लिए यह गेंद रनों के लिहाज से महंगी पड़ सकती है.

धीमी गेंद[संपादित करें]

धीमी गेंद की ग्रिप

एक धीमी गेंद वह गेंद है जिसे एक्शन और रन-अप के शब्दों में सामान्य गति से डाला जाता है और इसकी गति को कम करने के लिए इसकी ग्रिप को हल्के से बदल दिया जाता है. इससे बल्लेबाज़ को धोखा हो जाता है, क्योंकि वह तेज़ गति की गेंद को खेलने की तैयारी में होता है, अचानक गेंद की गति कम हो जाने के कारण उसके शोट का समय गड़बड़ा जाता है.

आमतौर पर इसके परिणामस्वरूप गेंद बल्ले से टकराकर नीचे की तरफ चली जाती है, और बल्ले की गति धीमी रह जाती है. (इस बिंदु पर क्रिकेट के बल्ले की मिडल -हिट से गेंद को अधिकतम संभव ऊर्जा स्थानांतरित हो जाती है; क्योंकि गेंद बल्ले के मिडल (मध्य भाग) से टकराती है, इसलिए ऊर्जा का स्थानान्तरण हो जाता है और गति कम हो जाती है). साथ ही, जब बल्ला गेंद को हिट करता है, उस समय वह थोड़ी सी गति कर चुका होता है, और अपने चाप के उपरी हिस्से में होता है, जिसके कारण गेंद बल्ले से अलग होने के बाद एक बड़े कोण पर लौट जाती है.

इस संयोजन के परिणामस्वरूप धीमी गति से आती हुई गेंद कैच हो जाती है, यह अपेक्षाकृत एक आसान कैच होता है.

किसी किसी मामले में, बल्लेबाज़ इस शोट को इतना जल्दी खेल जाता है कि क्लीन बोल्ड हो जाता है.

कई प्रकार की ग्रिप में से एक को दायीं ओर दिखाया गया है.

अनिवार्य रूप से अंतर केवल इतना है कि मध्यम और संकेत अंगुली एक दूसरे से दूर हो गयी हैं और नीचे की तरफ सीम के दोनों ओर आ गयी हैं.

इसके कारण जब गेंद हाथ से छूटती है, इस पर अधिक खिंचाव पड़ता है और डिलीवरी की गति कम हो जाती है. धीमी गेंदों को ऑफ स्पिनर के द्वारा ऑफ ब्रेक ग्रिप और फिंगर एक्शन का उपयोग करते हुए भी डाला जाता है.

कभी कभी एक लेग स्पिन ग्रिप और रिस्ट एक्शन का उपयोग करके या गेंद के उपरी हिस्से को केवल एक अंगुली का सहारा देकर भी धीमी गेंद डाली जा सकती है.

धीमी गेंद अक्सर उस बल्लेबाज़ के खिलाफ प्रभावी होती है जो तेज़ी से स्कोर बनाना चाह रहा है. नतीजतन, एक दिवसीय क्रिकेट के साथ इसकी प्रभाविता बढ़ गयी है, और विशेष रूप से एक पारी के अंत में यह फायदेमंद साबित होती है जब बल्लेबाज़ आक्रामक तरीके से स्कोर बनाने का प्रयास कर रहा होता है.

एक अधिक अनुभवी बल्लेबाज़ मिड-स्ट्रोक को समायोजित कर लेता है, इस समय वह गेंद को बल्ले के मिडल से हिट करता है.

धीमी गेंद के एक और प्रकार को स्लोब (SLOB) कहा जाता है. इसे केवल शीर्ष अंगुलियों से डाला जाता है.

इसका उद्देश्य होता है एक "बीमर" डालना, डिलीवरी का यह प्रकार गेंद को अजीब तरीके से डिलीवर करता है और यह यॉर्कर लेंथ तक पहुंच जाती है.

यह अक्सर क्रिस कैर्न्स के द्वारा क्रिस रेड के लिए डाली गयी गेंदें होती थीं, जिससे फुल लेंथ में डक हो जाता था, और स्टम्प उड़ जाते थे.

यॉर्कर[संपादित करें]

यॉर्कर एक ऐसी गेंद होती है जो ठीक बल्लेबाज़ के पैरों के सामने पिच पर बाउंस होती है (या इसे बल्लेबाज़ के पैर के अंगूठे को लक्ष्य बना कर डाला जाता है), यह क्षेत्र ब्लॉक होल कहलाता है.

बल्लेबाज़ के सामान्य रुख की वजह से और क्रिकेट के बल्ले की नियमित लम्बाई के कारण बल्ले को आमतौर पर उस समय भूमि के पास नहीं रखा जाता, जब बल्लेबाज़ गेंद को स्ट्राइक करने की तैयारी कर रहा होता है. इसलिए यॉर्कर को खेलने के लिए बल्लेबाज़ को तुरंत अपने बल्ले की उंचाई को बदलना पड़ता है, जैसे ही उसे ज्ञात होता है की गेंदबाज़ ने यॉर्कर डाली है.

यह मुश्किल होता है और अक्सर गेंद बीच के अंतराल से निकल जाती है और विकेट को तोड़ देती है.

इस प्रकार की डिलीवरी को सफलतापूर्वक खेल जाना एक यॉर्कर को डिगिंग आउट करना कहलाता है.

यॉर्कर डालने के लिए अत्यंत सटीक गेंदबाज़ी की आवश्यकता होती है, क्योंकि अगर इसे बहुत लंबा डाल दिया जाये तो फुल टॉस हो जाएगा या फुल पिच डिलीवरी हो जाएगी, जिसे खेलना बल्लेबाज़ के लिए आसान होता है, क्योंकि गेंद बिना बाउंस हुए बल्ले तक आ जाती है.

इसे हैरान करने वाली गेंद के रूप में जाना जाता है.

इस दो कारणों से, अधिकांश परिस्थितियों में यॉर्कर सामान्य रूप से डाली जाने वाली डिलीवरी नहीं है.

एक दिवसीय क्रिकेट में एक पारी की अंतिम प्रवास्थाओं में, बल्लेबाज़ हर गेंद पर प्रहार करने का प्रयास करते हैं.

ऐसी परिस्थितियों में, यॉर्कर विशेष रूप से एक प्रभावी डिलीवरी होती है. इस समय में यह विकेट लेने में मदद करती है और गेंद को बाउंड्री तक जाने से रोकती है.

इसलिए, इन परिस्थितियों मेंअक्सर यॉर्कर डाली जाती है, ऐसी परिस्थिति में वे गेंदबाज़ जो यॉर्कर डाल सकते हैं, पुरस्कार के काबिल होते हैं.

सीम गेंदबाज़ी[संपादित करें]

इंग्लैंड के एंड्रयू फ्लिंटॉफ नेट में गेंदबाज़ी करते हुए, केविन शाइन उन्हें देख रहे हैं. सीधी कड़ी सीम को नोट करें.

सीम गेंदबाज़ी में गेंद की सीम का उपयोग इस प्रकार से किया जाता है की यह जब पिच पर टकराती है तो अप्रत्याशित रूप से बाउंस हो जाती है. एक अच्छा बल्लेबाज़ इस बात का पूर्वानुमान लगा लेता है कि गेंद कहां पर बाउंस होगी, और इससे उसे इस बात का अंदाजा हो जाता है कि जब गेंद उस तक पहुंचेगी तब उसकी उंचाई क्या होगी. बाउंस में में बदलाव पैदा करके, गेंदबाज़ इस बात की संभावना उत्पन्न करता है कि बल्लेबाज़ अपने अनुमान में गलती कर बैठे और अपना विकेट खो दे.

सीम डिलीवरी को किसी भी गति के साथ डाला जा सकता है, परन्तु सीम गेंद डालने वाले गेंदबाज़ मध्यम, मध्यम-तेज़ या तेज़-मध्यम गति से गेंद डालते हैं.

सीम गेंदबाज़ी की मूल तकनीक है, सामान्य तेज़ गेंदबाज़ी या धीमी गेंद की ग्रिप और यह सुनिश्चित करने का प्रयास कि सीम हमेशा सीधी खड़ी अवस्था में बनी रहे जब तक गेंद पिच से टकरा न जाये.

अगर सीम सीधी खड़ी अवस्था में है और गेंद अपने क्षितिज अक्ष पर स्पिन हो रही है, कोई सराहनीय मैगनस प्रभाव उत्पन्न नहीं होगा और गेंद हवा में गति नहीं करेगी. गेंद की सीम को उठाया जाता है और जिससे बाउंस और गति में बदलाव उत्पन्न होता है अगर यह पिच को हिट करने वाली गेंद का पहला हिस्सा है.

सीम गेंदबाज़ विशेष प्रकार की पिचों से काफी फायदा उठा सकते हैं.

सख्त पिच जिसकी सतह कटी फटी होती है, सीम गेंदबाज़ी के लिए सर्वश्रेष्ठ होती है, क्योंकि पिच के सख्त होने के कारण गेंद अधिक आसानी से बिना अपनी गति खोये बाउंस होती है, जबकि सतह के असमतल होने के कारण गेंद अप्रत्याशित रूप से बाउंस होती है, जब वह पिच से टकराती है.

इसे वेरिएबल बाउंस कहा जाता है.

कभी कभी अत्यधिक सख्त और असमतल पिच को खेलने के लिए खतरनाक घोषित कर दिया जाता है क्योंकि बल्लेबाज़ गेंद के बारे में कोई पूर्वानुमान नहीं लगा सकता, और इसके परिणामस्वरूप बार बार उनके शरीर पर गेंद के हिट होने की संभावना बढ़ जाती है.

हरी पिच भी सीम गेंदबाज़ों के लिए सहायक होती हैं, क्योंकि घास के छोटे छोटे गुच्छे असमतल सतह का काम करते हैं, हालांकि इसका प्रभाव मिश्रित होता है क्योंकि हरी सतह गेंद को धीमा भी कर देती है.

सीम गेंदबाज़ अत्यधिक चपटी और समतल सतह पर प्रभावी नहीं होते (इसे क्रिकेट की शब्दावली में फ़्लैट ट्रैक कहा जाता है), और सीम गेंदबाज़ अक्सर ऐसी सतह पर गेंदबाज़ी की उग्र रणनीति और / या बॉलिंग कटर्स का इस्तेमाल करते हैं.

कटर[संपादित करें]

लेग कटर ग्रिप
ऑफ कटर ग्रिप
मुख्य लेख: ऑफ कटर, लेग कटर

कटर शब्द का इस्तेमाल एक तेज़ गेंद के वर्णन के लिए किया जाता है जो स्पिन हो रही है. यह एक ऐसे प्रकार की डिलीवरी है जो सीम को सीधा रखने के बजाय विपरीत अक्ष के चारों और घूमती है.

हालांकि इस प्रकार का घूर्णन स्पिन गेंदबाज़ी जितना फायदेमंद नहीं होता, फिर भी इससे उत्पन्न होने वाले छोटे बदलाव बल्लेबाज़ के लिए असुविधाजनक हो सकते हैं, ऐसा गेंद की गति के कारण होता है. कटर सीम गेंदबाज़ के लिए प्रभावी तरीका है. अगर उन्हें पिच से अधिक सहायता नहीं मिल रही है तो वे गेंद की इस प्रकार की गतियों से फायदा उठा सकते हैं.

सीम के चारों और घूर्णन करने वाली गेंद जब पिच से टकराती है तब वह दायीं या बायीं तरफ चली जाती है, यह इस पर निर्भर करता है कि गेंद किस तरफ स्पिन हो रही है.

दायीं और बाउंस होने वाली गेंद ऑफ कटर कहलाती है क्योंकि यह एक दायें हाथ के बल्लेबाज़ के लिये ऑफ स्टम्प से लेग स्टम्प की तरफ जाती है. इसके विपरीत, बायीं और बाउंस होने वाली गेंद लेग कटर कहलाती है क्योंकि यह एक दायें हाथ के बल्लेबाज़ के लिए लेग स्टम्प से ऑफ स्टम्प की तरफ जाती है.

कटर को आमतौर पर इसलिए डाला जाता है ताकि वे बल्लेबाज़ के ऑफ स्टम्प के ठीक बाहर पिच को हिट करे, और विकेट से दूर चली जाये.

इससे गेंद बल्ले के मध्य भाग से टकराने के बजाय उसके बाहरी किनारे से टकराएगी और लौट कर आने पर इसके कैच होनी की संभावना बढ़ जायेगी.

एक कटर प्रकार की गेंद डालने के लिए गेंदबाज़ एक अलग प्रकार की पकड़ या ग्रिप का उपयोग करता है.

दायीं और ग्रिप के दो प्रकार दर्शाए गए हैं, सबसे ऊपर वाला लेग कटर उत्पन्न करता है जबकि नीचे वाला एक ऑफ कटर उत्पन्न करता है. इसी तरह से ग्रिप बदलने के लिए, गेंदबाज़ को अपनी अंगुलियों को गेंद के साइड में नीचे की तरफ लाना होता है, ताकि गेंद को छोड़ते समय उसमें आवश्यक स्पिन उत्पन्न किया जा सके. कटर गेंदबाज़ी में गेंद पर खिंचाव बढ़ जाता है, और गेंद की गति एक धीमी गेंद की तरह कम हो जाती है, और इससे भी बल्लेबाज़ को भ्रम में डालने में मदद मिलती है.

स्विंग गेंदबाज़ी[संपादित करें]

स्विंग गेंदबाज़ सीम गेंदबाज़ के विपरीत गेंद को पिच से दूर ना डालकर, इसे हवा में डालता है.

सामान्य या पारंपरिक स्विंग गेंदबाज़ी गेंद की सीम को उठा कर की जाती है, और पारंपरिक स्विंग आमतौर पर उस समय सबसे ज्यादा होता है जब गेंद नयी होती है और इसलिए इसमें स्पष्ट सीम होता है.

जैसे जैसे गेंद पुरानी हो जाती है, इसे स्विंग करना मुश्किल हो जाता है, लेकिन ऐसा किया जा सकता है अगर क्षेत्ररक्षण करने वाली टीम गेंद के एक साइड को तरीके से पॉलिश कर दे और दूसरी साइड को बिना पॉलिश के ही रहने दिया जाए. जब गेंद की एक साइड को अत्यधिक पॉलिश कर दिया जाता है और दूसरी साइड को छोड़ दिया जाता है, और इसे तेज़ी से डाला जाता है (85 मील प्रति घंटा से ज्यादा), यह रिवर्स स्विंग उत्पन्न करती है जिससे गेंद पारम्परिक स्विंग की तरह विपरीत दिशा में स्विंग हो जाती है.

लोकप्रिय राय के विपरीत, यह स्विंग इसलिए उत्पन्न नहीं होता है क्योंकि खुरदरी साइड की तुलना में हवा चिकनी या "चमकीली" साइड के ऊपर से तेज़ी से प्रवाहित होती है.

स्विंग एक साइड से गेंद पर काम करने वाले एक शुद्ध बल के कारण उत्पन्न होता है; अर्थात वह साइड जिसकी सीमा परत अधिक अशांत होती है.

पारंपरिक स्विंग गेंदबाज़ी के लिए, उठायी गयी सीम और जिस दिशा में इसे उठाया गया है, स्विंग की दिशा को निर्धारित करते हैं.

गेंद के कोणीय सीम के कारण, सीम के ऊपर से बहने वाली हवा इस साइड पर अशांति उत्पन्न करती है, जिस तरफ सीम मुड़ जाती है.

इससे दूसरी साइड की तुलना में तरल सीमा परत गेंद की सतह से अलग हो जाती है (गेंद की रियर से दूर) जहां लेमिना की परत सीमा पहले अलग हो जाती है (सतह पर आगे). इससे एक शुद्ध दबाव का अंतर उत्पन्न हो जाता है (लेमिना की सीमा परत के साथ साइड पर अधिक दबाव) इस प्रकार से शुद्ध बल गेंद को कोणीय सीम की दिशा में गति देता है और उसे स्विंग करता है.

पारंपरिक स्विंग गेंदबाज़ी को सीम कोण के साथ डिलीवर किया जाता है ताकि गेंद की चिकनी और पॉलिश की हुई सतह सामने की ओर होती है, गेंद को सीम की दिशा में अर्थात खुरदरी सतह की ओर गति देती है.

एक स्विंग करती हुई गेंद को आउट स्विंगर कहा जाता है, अगर यह बल्लेबाज़ से दूर चली जाती है, या इसे इनस्विंगर कहा जाता है, अगर यह बल्लेबाज़ की तरफ जाती है.

अधिकांश मामलों में आउटस्विंगर को अधिक खतरनाक गेंद कहा जाता है, क्योंकि अगर बल्लेबाज़ इसे पहचान ना पाए तो यह बल्ले के मध्य भाग से टकराने के बजाय इसकी बाहरी किनारे से टकराती है और स्लिप हो जीत हैं, इसे इस अवस्था में आसानी से कैच किया जा सकता है.

इनस्विंगर का भी अपना महत्त्व होता है, विशेष रूप से तब जब यॉर्कर के साथ संयुक्त अवस्था में होती है, क्योंकि इनस्विंगर बल्ले के आंतरिक किनारे से टकराती है और विकेट को तोड़ देती है, या बल्ले के बजाय बल्लेबाज़ के पैड से टकराती है, जिसके परिणामस्वरूप एलबीडब्ल्यू की संभावना हो जाती है.

स्विंग गेंदबाज़ी को मोटे तौर पर जल्दी होने वाली स्विंग या देर से होने वाली स्विंग में वर्गीकृत किया जा सकता है, यह इस बात पर निर्भर करता है की अपने प्रक्षेप वक्र पथ के दौरान यह अपनी दिशा को कब बदलती है- गेंद जितनी बाद में स्विंग होती है, बल्लेबाज़ के लिए स्विंग के अनुसार अपने शोट को समायोजित करने की संभावना उतनी ही कम हो जाती है.

स्विंग गेंदों को भी उसी ग्रिप और तकनीक के साथ डाला जाता है, जिस ग्रिप और तकनीक का प्रयोग तेज़़ गेंदबाज़़ी में किया जाता है. हालांकि सीम को सीधा रखने के बजाय हल्के से कोण पर झुका दिया जाता है, और गेंद की एक धीमी ग्रिप का उपयोग किया जा सकता है.

एक आउटस्विंगर के लिए गेंद की चमकीली साइड बल्लेबाज़ के नजदीक होती है और सीम उसके विपरीत दिशा में कोण पर झुकी होती है, जबकि इनस्विंगर के लिए, खुरदरी साइड बल्लेबाज़ के नजदीक होनी चाहिए, और सीम का झुकाव उसकी ओर होना चाहिए. एक कटर ग्रिप के साथ स्विंग मुश्किल होता है, चूंकि गेंद उड़ान के दौरान स्पिन होती है, खुरदरी या चमकीली में से कोई भी सतह बल्लेबाज़ के सामने की तरफ आ सकती है, क्योंकि यह हवा में उड़ान भर रही होती है.

खेल में कई खिलाड़ी, टिप्पणीकार और प्रशंसक इस बात से सहमति जताते हैं कि नम या घटाटोप परिस्थितियों में गेंद को अधिक आसानी से स्विंग किया जा सकता है, और साथ ही एक दिवसीय मैच में प्रयुक्त सफ़ेद गेंद की तुलना में टेस्ट क्रिकेट में काम में ली जाने वाली लाल गेंद अधिक स्विंग होती है.

रिवर्स स्विंग[संपादित करें]

रिवर्स स्विंग एक ऐसी घटना है जिसके कारण गेंद विपरीत दिशा में स्विंग होती है.

जब गेंद रिवर्स स्विंग होती है, उस समय गेंद चमकीली साइड की ओर स्विंग करती है.

पारंपरिक स्विंग की तुलना में रिवर्स स्विंग थोडा बाद में होता है और अधिक तेज़ी से होता है, दोनों ही कारक बल्लेबाज़ की मुश्किल को बढ़ा देते हैं, जो गेंद को हिट करने की तैयारी में होता है.

सामान्य स्विंग की तुलना में रिवर्स स्विंग परिस्थितियों पर अधिक निर्भर करता है, इसलिए इसे लगातार हासिल करना लगभग असंभव है.

आमतौर पर रिवर्स स्विंग तब तक नहीं होता जब तक गेंद को लगभग 45 ओवर तक काम में न लिया जा चुका हो, और इसके लिए गर्म और शुष्क मौसम की आवश्यकता होती है.

रिवर्स स्विंग की तकनीक को सबसे पहले 1980 के दशक में पाकिस्तानी गेंदबाज़ों के द्वारा खोजा गया था लेकिन तब से लेकर अब तक यह क्रिकेट खेलने वाले सभी देशों में फ़ैल चुकी है.

रिवर्स स्विंग में खुरदरी सतह को आगे ओर रखा जाता है.

सीम को उसी तरह से कोण पर झुकाया जाता है जैसे पारंपरिक स्विंग में (10 से 20 डिग्री एक ओर) परन्तु सीमा परत दोनों साइडों पर अशांत होती है. सीम और खुरदरी सतह का शुद्ध प्रभाव यह होता है कि गेंद वास्तव में उस दिशा के विपरीत स्विंग होती है जिस ओर स्विंग मुड़ी हुई है.

अच्छी रिवर्स स्विंग गेंदबाज़ी के लिए आवश्यक है कि गेंदबाज़ बहुत तेज़ गति से गेंद डाले (80 से 85 मील प्रति घंटा या अधिक), यह गति दुनिया में गिने चुने तेज़ गेंदबाज़ ही हासिल कर सकते हैं.

अब, एक दिवसीय क्रिकेट में 35 ओवर के बाद गेंद को बदलना अनिवार्य है, ऐसा रिवर्स स्विंग को कम करने के लिए किया जाता है. इस प्रकार से, क्षेत्ररक्षण करने वाली टीम के लिए 35 ओवर के बाद गेंद को बदलना अनिवार्य होता है और इसलिए रिवर्स स्विंग नहीं होता.

[अशांत सीमा परत के कारण कुछ इसी प्रकार का प्रभाव गोल्फ बॉल में डिम्पल के द्वारा उत्पन्न होता है.

गोल्फ की गेंद के हर मामले में, गेंद के दोनों साइडों पर अशांति उत्पन्न होती है, जिसके कारण दोनों साइडों पर सीमा परत अलग हो जाती है, और गेंद के पिछले भाग में कम प्रभाव उत्पन्न होता है और गेंद के अगले और पिछले भाग के बीच दबाव के अंतर के कारण इस पर शुद्ध खिंचाव उत्पन्न होता है- इस के कारण गोल्फ बॉल आगे बढ़ पाती है.]

डिप्पर[संपादित करें]

मुख्य लेख: इनडिप्पर, आउटडिप्पर

डिप्पर एक स्विंग करती हुई गेंद है जिसे यॉर्कर या फुल टॉस डालने के इरादे से डाला जाता है, परन्तु यह गेंदबाज़ के चुनाव के विपरीत डिप्पर में बदल जाती है.

इनडिप्पर दायें हाथ के बल्लेबाज़ की ओर गति करती है जबकि आउटडिप्पर उससे दूर जाती है.

प्रभावी होने के लिए, एक डिप्पर में बहुत अधिक स्विंग होना चाहिए, ताकि उसकी गति में भिन्नता उत्पन्न की जा सके, क्योंकि गेंद पिच पर बाउंस नहीं हो रही होती है.

हालांकि, क्योंकि आमतौर पर बल्लेबाज़ उम्मीद करता है कि फुल टॉस पर रन बनाना आसान है, डिप्पर हैरान करने वाली गेंद होती है, और इसे खेलना बहुत मुश्किल हो सकता है विशेष रूप से यदि गेंदबाज़ बहुत सटीक हो और फुल टॉस के बजाय यॉर्कर डालने में सफल हो जाये.

उग्र या आक्रामक गेंदबाज़ी (Intimidatory bowling)[संपादित करें]

उग्र या आक्रामक गेंदबाज़ी, गेंदबाज़ी की वह रणनीति है जिसमें गेंदबाज़ बल्लेबाज़ को गेंद से हिट करने के इरादे के साथ गेंद डालता है. यह कुछ हद तक क्रिकेट के नियमों के खिलाफ है, इसमें वे नियम भी शामिल हैं जिसमें बाउंसर के अत्यधिक उपयोग की अनुमति नहीं दी जाती, इसमें "बीमर" के उपयोग की भी अनुमति नहीं होती, जिसका लक्ष्य पूरी तरह से बल्लेबाज़ के सिर को हिट करना होता है.

सफल आक्रामक गेंदबाज़ी में आमतौर पर बाउंसर और शोर्ट पिच डिलीवरी का मिश्रण होता है, जिसे बल्लेबाज़ के सिर, छाती और पसलियों को लक्ष्य बनाकर डाला जाता है.

इस के पीछे मुख्य इरादा होता है, बल्लेबाज़ का ध्यान भटकाना, ताकि वह गलती करे और अपना विकेट खो बैठे.

अक्सर विकेट किसी बाउंसर या शोर्ट पिच की गेंद पर नहीं गिरता, बल्कि इसके बजाय सामान्य डिलीवरी पर विकेट गिर जाता है, जिसकी बल्लेबाज़ उम्मीद नहीं कर रहा था, या बल्लेबाज़ अपने सामान्य तरीके से खेलने में असफल हो जाता है (डर, दर्द, हैरानी या इन तीनों के संयोजन के कारण).

इसके पीछे एक प्रमुख दृष्टिकोण होता है, बल्लेबाज़ की छाती को लक्ष्य बनाते हुए कई शोर्ट पिच की गेंदे डालना, जिससे बल्लेबाज़ बल्ले को उंचा करके अपने आप को बचाने और पिछले पैर पर खेलने के लिए मजबूर हो जाता है,और इसके बाद तेज़ यॉर्कर डाली जाती है, जिसमें स्टम्प के आधार को लक्ष्य बने जाता है.

अगर बल्लेबाज़ बल्ले को उंचा करके पिछले पैर पर खेलने की तैयारी करता है, गेंदबाज़ अपनी तैयारी के लिए जितना समय लेता है, वह बल्लेबाज़ को दहशत में डालने के लिए पर्याप्त होता है, और इस प्रकार से वह अपना विकेट खो सकता है.

एक तेज़ गेंदबाज़ भी बल्लेबाज़ को क्रोधित करने या उसे चिढाने के लिए आक्रामक गेंदबाज़ी कर सकता है, जिसमें वह बल्लेबाज़ को लक्ष्य बनाते हुए गेंद डालता है. आक्रामक गेंदबाज़ी का उपयोग हर तेज़ गेंदबाज़ के द्वारा अलग अलग अंश तक किया जाता है, और यहां तक कि कभी कभी सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज़ भी इसमें गंभीर रूप से घायल हो जाता है, और खेल से बाहर जाने के लिए मजबूर हो जाता है.

लगभग सभी मामलों में मौखिक 'अपशब्दों' का हमला भी इसके साथ किया जाता है.

अच्छी श्रेणी के तेज़ गेंदबाज़ों के द्वारा आक्रामक रणनीति का अत्यधिक उपयोग खेल की भावना के अनुरूप नहीं माना जाता, और कई टीमों और खिलाडियों के द्वारा iska virodh किया जाता है.

इसके अत्यधिक उपयोग का एक उदाहरण था बोडिलाइन श्रृंखला, जिसमें तत्कालीन (1932-1933) इंग्लिश क्रिकेट कप्तान डगलस जार्डिन ने ऑस्ट्रलियाई क्रिकेट टीम के स्टार खिलाड़ी डोनाल्ड ब्रेडमेन पर आक्रामक गेंदबाज़ी का प्रहार किया.

इसमें वे बहुत तेज़ और शोर्ट गेंदें डाल रहे थे, बल्लेबाज़ के शरीर को लक्ष्य बना रहे थे, इसके पीछे उनका इरादा उन्हें व्यक्तिगत रूप से चोट पहुंचाना था. बोडिलाइन श्रृंखला के बाद क्रिकेट के कई नियमों में परिवर्तन किया गया, ताकि भविष्य में इस प्रकार की रणनीति के उपयोग को रोका जा सके. ऐसे कई क्षेत्ररक्षकों पर प्रतिबन्ध लगा दिया गया जो इस प्रकार की रणनीति का उपयोग करते थे.

रणनीति[संपादित करें]

क्योंकि लगभग सभी क्रिकेट टीमों में भिन्न गति और शैली के कई तेज़ गेंदबाज़ होते हैं, तेज़ गेंदबाज़ी की तकनीक न केवल मैदान के साथ बदलती है बल्कि गेंदबाज़ के साथ भी बदलती है. गेंदों को डालने के अनुक्रम के साथ भी इस तकनीक में परिवर्तन आता है.

सटीक रणनीति कई कारकों पर निर्भर करती है, इन कारकों में खेल की अवस्था, पिच की अवस्था, मौसम और सापेक्ष ऊर्जा और गेंदबाज़ी करने वाले भिन्न खिलाडियों की कुशलता का स्तर शामिल हैं.

तेज़ गेंदबाज़ी के लिए अत्यधिक ऊर्जा की आवश्यकता होती है, अधिकांश तेज़ गेंदबाज़ों से उम्मीद की जाती है की वे लगातार एक साथ चार से छह ओवर तक गेंदबाज़ी करने के बाद ही आराम करें. परिस्थितियों के अनुसार उन्हें इससे ज्यादा समय तक भी गेंदबाज़ी करनी पड़ सकती है, लेकिन इससे आमतौर पर उनकी प्रभाविता में कमी आती है और गेंदबाज़ थक जाता है.

किस प्रकार की गेंद डाली जायेगी, और गेंदों को किस क्रम में डाला जाएगा, इसका चुनाव खुद गेंदबाज़ पर निर्भर करता है.

गेंदबाज़ों की नियुक्ति[संपादित करें]

अधिकांश पक्षों में तेज़ गेंदबाज़ों का एक मिश्रण मौजूद होता है, जो उग्र और / या सीम तकनीकों में विशेषज्ञ होते हैं, और कुछ गेंदबाज़ स्विंग में विशेषज्ञ होते हैं.

जब गेंद नयी होती है यह आमतौर पर बहुत कम स्विंग होती है लेकिन यह अत्यधिक गति, बाउंस और कई प्रकार की सीम का प्रदर्शन करती है (क्योंकि नयी गेंद पर सीम पुरानी गेंद की तुलना में स्पष्ट होती है).

इसीलिए नयी गेंद से गेंदबाज़ी करने के लिए सीम गेंदबाज़ों को चुना जाता है, जब पारी शुरू होती है, या जब खेल के दौरान नयी गेंद लायी जाती है तब सीम गेंदबाज़ों को गेंदबाज़ी करने का अवसर दिया जाता है. क्षेत्ररक्षण पक्ष को 80 ओवर पुरानी गेंद से खेलने का विकल्प भी दिया जाता है.

इसके विपरीत, जब गेंद रिवर्स स्विंग करना शुरू कर देती है, उस समय स्विंग गेंदबाज़ अधिक प्रभावी होते हैं. रिवर्स स्विंग गेंदबाज़ 80 ओवर से भी अधिक पुरानी गेंद में अत्यधिक गति उत्पन्न कर सकते हैं.

पहले 10 ओवर के बाद अग्रानुक्रम में आमतौर पर दो सीम गेंदबाज़ों की अपेक्षा की जाती है, इस समय के बाद गेंद स्विंग होने लगती है और उन दोनों या दोनों में से एक को स्विंग या स्पिन गेंदबाज़ी का मौका दिया जाता है.

यही कारण है कि अधिकांश टीमें कम से कम दो सीम गेंदबाज़ रखती हैं, जिन्हें ओपनिंग गेंदबाज़ कहा जाता है. पुरानी गेंद के साथ आमतौर पर सीम गेंदबाज़ी अप्रभावी हो जाती है, और 60 ओवर के बाद लगभग बेकार हो जाती है, और इसके परिणामस्वरूप इसलिए टीम में स्विंग के साथ स्पिन गेंदबाज़ भी होने चाहिए.

क्षेत्ररक्षकों की नियुक्ति[संपादित करें]

एक तेज़ गेंदबाज़ का क्षेत्ररक्षण आमतौर पर उग्र प्रकार का होता है, इस दृष्टि से ऐसा कहा जा सकता है कि इसका उद्देश्य विकेट लेना होता है नाकि बल्लेबाज़ को रन बानने से रोकना.

कभी कभी, विशेष रूप से तब जब क्षेत्ररक्षण टीम बाद में बल्लेबाज़ी करती है और लक्ष्य स्कोर बनाए का प्रयास कर रही होती है, उस समय सुरक्षात्मक क्षेत्ररक्षण की आवश्यकता होती है.

एक सामान्य नियम के अनुसार सुरक्षात्मक तेज़ गेंदबाज़ी करना मुश्किल काम है- यह काम स्पिन गेंदबाज़ों के लिए बेहतर होता है.

तेज़ गेंदबाज़ी की विभिन्न तकनीकें तीन तरीके से बल्लेबाज़ को आउट कर सकती हैं.

वे या तो गति के साथ बोल्ड या एलबीडब्ल्यू किये जा सकते हैं, यॉर्कर या सीम या स्विंग के द्वारा गेंद को बल्लेबाज़ की तरफ डाला जा सकता है, इस सन्दर्भ में क्षेत्ररक्षक की नियुक्ति अप्रासंगिक है.

स्विंग या सीम का उपयोग गेंद को बल्लेबाज़ से दूर डालने के लिए किया जा सकता है, इस मामले में गेंद बल्ले के बाहरी किनारे से टकराएगी और उड़ान के दौरान कैच की जा सकती है.

एक बुरी तरह से खेला जाने वाला बाउंसर या तो बाहरी किनारे से टकराता है या ऊपर चला जाता है या इसके परिणामस्वरूप शोट खेलने का समय गड़बड़ा सकता है, और इसे बाउंड्री के पास कैच किया जा सकता है.

इसके लिए आक्रामक तेज़ गेंदबाज़ी करने वाले सबसे प्रभावी क्षेत्ररक्षकों को आउटफील्ड और स्लिप कोर्डन और गुली में तैनात किया जाता है, क्योंकि इन स्थितियों में बल्लेबाज़ के कैच होने की संभावना सबसे ज्यादा होती है. आउटफील्ड में क्षेत्ररक्षकों को तैनात करने का अतिरित फायदा होता है, इससे बल्लेबाज़ के लिए उन स्थानों की संख्या कम हो जाती है, जहां वह बाउंड्री में रन स्कोर कर सके.

अन्य नजदीक क्षेत्रक्षण स्थितियां जैसे सिली मिड ऑन/ऑफ और कई मिडविकेट स्थितियां आमतौर पर अनावश्यक होती हैं.

इसके विपरीत, तेज़ गेंदबाज़ी के लिए एक रक्षात्मक क्षेत्र बल्लेबाज़ के चारों और कई स्थितियों को पैक कर देता है जैसे गुली, पॉइंट, और पूरा सर्कल.

एक या दो स्लिप और एक या दो आउटफील्डर कैच की स्थिति में रहते हैं.

क्योंकि आमतौर पर बल्लेबाज़ जमीन पर शोट लगाने की कोशिश करता है ताकि कैच के जोखिम से बच सके, इस प्रकार के क्षेत्ररक्षण में पूरे फील्ड को इतना बंद कर लिया जाता है कि अगर बल्लेबाज़ एक प्रयास भी करे तो उसे रन आउट किया जा सके.

रक्षात्मक तेज़ गेंदबाज़ी मुश्किल काम है क्योंकि एक कुशल बल्लेबाज़ इस प्रकार की तकनीक के लिए तैयार रहता है और बाउंड्री से रन स्कोर कर लेता है, जब वह मिडविकेट रिंग पर या किसी मौजूद आउटफील्डर से दूर हिट करता है.

एक ओवर की गेंदबाज़ी[संपादित करें]

किसी भी गेंदबाज़ का प्राथमिक लक्ष्य होता है, बल्लेबाज़ का विकेट लेना.

दूसरा लक्ष्य होता है उसे रन बनाने से रोकना. दुसरे वाला अक्सर पहले वाले के लिए मार्ग बनता है, क्योंकि जब बल्लेबाज़ रन नहीं बना पता, वह परेशान हो जाता है और स्कोर बनाने के लिए जोखिम भरे शोट लगाने का प्रयास करता है.

इसके अलावा, आमतौर पर बल्लेबाज़ को रन बनाने से रोकने के लिए एक गेंदबाज़ लगातार एक ही बल्लेबाज़ के लिए गेंदें डालता है, उसे किसी प्रकार के तकनीकी अनुक्रम की स्थापना का अवसर देता है.

इसके अनुसार, विकेट पर लगातार गेंद डालना तेज़ गेंदबाज़ के लिए उचित दृष्टिकोण नहीं है, क्योंकि यह बल्लेबाज़ को स्पष्ट और आसान प्रतिक्रिया के संकेत देता है.

बल्लेबाज़ अपने विकेट को बचा लेता है और बुरी गेंद का भी सामना कर लेता है.

इसके पीछे एक और दृष्टिकोण है एक लाइन और लेंथ की गेंदबाज़ी के द्वारा अनिश्चितता उत्पन्न करना, जिससे बल्लेबाज़ यह फैसलाला नहीं ले पाता कि वह हमला करे या अपने आप को बचाए. मिश्रित प्रकार की डिलीवरी में बल्लेबाज़ को यह नहीं पाता होता कि अगली गेंद कैसी होगी.

एक अच्छी गेंदबाज़ी में अधिकांश गेंदें आमतौर पर स्विंग या सीम होती हैं, जो कमर की उंचाई तक आती हैं, ऑफ स्टम्प के बाहर आकर बल्लेबाज़ से दूर चली जाती हैं, क्योंकि यही वह क्षेत्र है जहां बल्लेबाज़ के लिए सबसे उचित प्रतिक्रिया देना मुश्किल होता है.

आम भिन्नताओं और उनकी रणनीतियों की चर्चा नीचे की गयी है.

एक ओवर के दौरान गेंदबाज़ के द्वारा चुनी सटीक गेंदें मैच की स्थिति पर निर्भर करती हैं, ये बल्लेबाज़ की कुशलता पर भी निर्भर करती हैं, साथ ही इस बात पर भी निर्भर करती हैं कि बल्लेबाज़ कितनी देर से क्रीस पर टिका हुआ है. उस बल्लेबाज़ पर हमला करना आसान होता है जो अभी अभी विकेट पर आया है, उसे आउट करने के लिए बाउंसर और शोर्ट पिच की सहायता से उस पर हमला किया जा सकता है, और उसे ज्यादा समय तक आक्रामक बल्लेबाज़ी के लिए टिकने से रोका जा सकता है. शोर्ट गेंदें उस बल्लेबाज़ के लिए जोखिम भरी होती हैं, जो क्रीस पर टिक चुका है, क्योंकि वे आसान बाउंड्री लेते हैं, लेकिन अधिकांश गेंदबाज़ फिर भी मिश्रित गेंदें डालते हैं, ताकि बल्लेबाज़ अनुमान लगाने का प्रयास करता रहे.

ज्यादातर बल्लेबाज़ फ्रंट या बैक फुट शोट लेने का प्रयास करते हैं और यह गेंदबाज़ की गेंद के चुनाव को प्रभावित करता है. शोर्ट गेंद को फ्रंट फुट पर खेलना मुश्किल होता है इसलिए गेंदबाज़ उस बल्लेबाज़ के लिए शोर्ट गेंद को प्राथमिकता देते हैं, जो फ्रंट फुट पर खेलता है.

इसी तरह, यॉर्कर और फुल पिच गेंद को बैक फुट पर खेलना मुश्किल है इसलिए इस प्रकार की डिलीवरी का उपयोग बैक फुट वाले बल्लेबाज़ों के लिए किया जाता है.

अगर एक गेंदबाज़ सफलतापूर्वक बल्लेबाज़ के विपक्ष में इस प्रकार की गेंदे लगातार डालता है, वह अचानक विपरीत प्रकार की गेंद डाल कर बल्लेबाज़ को हैरान कर सकता है-कई शोर्ट पिच के बाद एक यॉर्कर या कई फुल गेंदों के बाद एक बाउंसर. जो बल्लेबाज़ अच्छा प्रेक्षक नहीं होता वह ऐसी स्थिति में अनजाने में अपना विकेट खो देता है.

एक और भिन्नता, विशेष रूप से उस बल्लेबाज़ के लिए जो विकेट पर टिक चुका है और स्वतंत्र रूप से रन बनाना शुरू कर रहा है, यह है कि ठीक ऑफ स्टम्प के बाहर से हमले की लाइन को बदलना और सीधे लेग स्टम्प पर गेंदबाज़ी करना.

बल्लेबाज़ को इस प्रकार के गेंदों के लिए उचित प्रतिक्रिया करनी होती है क्योंकि या तो वह रन ले सकता है या एलबीडब्ल्यू के जोखिम पर होता है, परन्तु जब वह ऐसा करता है उसका बल्ला लेग साइड के ऊपर आता है, और ऑफ साइड को असुरक्षित छोड़ देता है. अगर गेंदबाज़ स्विंग या सीम तकनीक के साथ ऑफ साइड पर पर्याप्त गति उत्पन्न कर सकता है तो यह अक्सर बल्ले के बाहरी किनारे से टकराती है और सीधे स्टम्प पर जा लगती है.

यह याद रखना चाहिए कि गेंदबाज़ी में हैरान करना एक बड़ा अवयव है, गेंदबाज़ अक्सर बल्लेबाज़ को भ्रम में डालने के लिए इन आम रणनीतियों का उपयोग करते हैं, ताकि वह गलत शोट लगाये.

उदाहरण के लिए, एक नए बल्लेबाज़ पर यॉर्कर डालना जो बाउंसर की उम्मीद कर रहा था, या कम से कम कई बार मानक लाइन और लेंथ की गेंद कई बाल्बजों को पहली ही गेंद में आउट कर देती है.

चोट लगने के जोखिम[संपादित करें]

मानव का शरीर तेज़ गेंदबाज़ी का बोझ नहीं ले सकता.

तेज़ गेंदबाज़ी पूरे शरीर पर अत्यधिक दबाव उत्पन्न करती है, विशेष रूप से पैर, पीठ और कन्धों पर.

इसमें शरीर के बहुत से हिस्से चोट के जोखिम में आ जाते हैं.

इसमें टखने की हड्डी टूटने की संभावना होती है, क्योंकि डिलीवरी के समय पैर जब जमीन पर पड़ता है, तो इस पर काफी दबाव पड़ता है. पीठ में स्पास्म और स्ट्रेन (ऐंठन) की संभावना होती है क्योंकि गेंद की डिलीवरी के समय शरीर को एक चाप में घुमाया जाता है. कंधे के स्नायु के फटने की संभावना होती है क्योंकि गेंद को डालने से ठीक पहले कंधे पर अचानक एक झटका लगता है.

उल्लेखनीय तेज़ गेंदबाज़[संपादित करें]

सिडनी बार्न्स

ये चोटी के तेज़ गेंदबाज़ हैं जिन्होंने जून 2009 तक आईसीसी खिलाडियों की रैंकिंग में कम से कम 850 पॉइंट बनाये हैं. [5]

रैंक नाम टीम सर्वोच्च रेटिंग
1 सिडनी बार्न्स इंग्लैंड 932
2 जॉर्ज लोहमान इंग्लैंड 931
3 इमरान खान पाकिस्तान 922
4 ग्लेन मैकग्रा ऑस्ट्रेलिया 914
5 कर्टली एम्ब्रोस वेस्ट इंडीज 912
6 इयान बॉथम इंग्लैंड 911
7 मैल्कम मार्शल वेस्ट इंडीज 910
8 रिचर्ड हेडली न्यूजीलैंड की राष्ट्रीय क्रिकेट टीम 909
8 वकार यूनुस पाकिस्तान] 909
8 शॉन पोलक दक्षिण अफ्रीका 909
11 एलन डेविडसन ऑस्ट्रेलिया 908
12 एलेक बेड्सर इंग्लैंड 903
13 बिल जॉनसन ऑस्ट्रेलिया 900
14 फ्रेड ट्रूमेन इंग्लैंड 898
14 वेस हॉल वेस्ट इंडीज 898
15 ब्रेट ली ऑस्ट्रेलिया
16 रे लिंदवाल ऑस्ट्रेलिया 897
16 डेल स्टेन दक्षिण अफ्रीका 897
18 एलन डोनाल्ड दक्षिण अफ्रीका 895
18 फजल महमूद पाकिस्तान 895
20 एंडी रॉबर्ट्स वेस्ट इंडीज 891
21 जोएल गार्नर Wवेस्ट इंडीज 890
22 कॉलिन क्रॉफ्ट वेस्ट इंडीज 887
23 डेनिस लिली ऑस्ट्रेलिया 884
24 कपिल देव भारत 877
25 स्टीव हार्मिसन इंग्लैंड 875
26 कोर्टनी वाल्श वेस्ट इंडीज 867
27 स्टुअर्ट क्लार्क ऑस्ट्रेलिया 863
27 मखाया नटिनी दक्षिण अफ्रीका 863
29 कीथ मिलर ऑस्ट्रेलिया 862
30 माइकल होल्डिंग वेस्ट इंडीज 860
31 मौरिस टेट इंग्लैंड 857
32 ज्योफ लॉसन ऑस्ट्रेलिया 855
32 चार्ल्स टर्नर ऑस्ट्रेलिया 855
32 शोएब अख्तर पाकिस्तान 855

यह भी देखें[संपादित करें]

नोट्स[संपादित करें]

  1. http://www.youtube.com/watch?v=cLMnVuRsg80&feature=related
  2. Selvey, Mike (2010-07-07). "Shaun Tait is certainly very fast, but 100mph?". The Guardian. http://www.guardian.co.uk/sport/blog/2010/jul/07/shaun-tait-fast-shoaib. अभिगमन तिथि: 2010-07-09. 
  3. http://stats.cricinfo.com/ci/content/records/283875.html
  4. उदाहरण के लिए, देखें Ewen Chatfield, Albie Morkel, और Graeme Labrooy के लिए क्रिकइन्फो प्रोफाइल.
  5. "Reliance Mobile ICC Best-Ever Test Championship Rating". ICC. http://www.iccreliancerankings.com/alltime/test/bowling/. अभिगमन तिथि: 2009-06-27. 

सन्दर्भ[संपादित करें]

  • ह्यूजेस, शमौन (2002), Jargonbusting: टेस्ट क्रिकेट, चैनल 4 किताबें, ISBN 0-7522-6508-3 को है विश्लेषक गाइड
  • लुईस, टोनी (संपादक) (1995), एमसीसी Masterclass Weidenfeld और निकोल्सन, ISBN 0-297-81578-4