ताड़ का तेल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
उबाल के परिणाम स्वरूप ताड़ के तेल का ब्लॉक हल्के रंग दिखा रहा है।

ताड़ का तेल, नारियल तेल और ताड़ की गरी का तेल ताड़ के पेड़ों के फल से निकाले गये खाने योग्य वनस्पति तेल हैं। ताड़ का तेल आयल पाम एलएईस गुइनीन्सिस के फल की लुगदी[1] से निकाला जाता है; ताड़ की गरी का तेल आयल पाम के फल की गरी (बीज)[2] से निकाला जाता है और नारियल का तेल नारियल (कोकोस नुसिफेरा) की गरी से प्राप्त किया जाता है। ताड़ के तेल का रंग स्वाभाविक रूप से लाल होता है, क्योंकि इसमें बीटा कैरोटीन का एक उच्च परिमाण शामिल रहता है।

ताड़ का तेल, ताड़ की गरी का तेल और नारियल तेल कुछ अत्यधिक संतृप्त वनस्पति वसाओं में से तीन हैं। ताड़ का तेल कमरे के तापमान पर अर्ध ठोस रहता है। ताड़ के तेल में कई संतृप्त और असंतृप्त वसाएं ग्लिसरिल ल्यूरेट (0.1%, संतृप्त), मिरिस्टेट (1%, संतृप्त), पामिटेट (44%, संतृप्त), स्टीयरेट (5%, संतृप्त), ओलेट (39%, एकलअसंतृप्त) लीनोलियेट (10%, बहुलअसंतृप्त और लिनोलेनेट (0.3%, बहुलअसंतृप्त)[3] के रूप में शामिल हैं। ताड़ की गरी का तेल और नारियल तेल, ताड़ के तेल से अधिक उच्च संतृप्त तेल हैं। सभी वनस्पति तेलों की तरह ताड़ के तेल में कोलेस्ट्रॉल (अपरिष्कृत पशु वसा में पाया जाने वाला) नहीं होता,[4][5] हालांकि संतृप्त वसा के सेवन से एलडीएल[6] और एचडीएल[7] कोलेस्ट्रॉल दोनों बढ़ जाते हैं।

ताड़ का तेल अफ्रीका, दक्षिणपूर्व एशिया और ब्राजील के कुछ भागों की उष्णकटिबंधीय पट्टी में खाना पकाने का एक आम उपादान है। इसकी कम लागत[8] और तलने में उपयोग के समय परिष्कृत उत्पाद की उच्च जारणकारी स्थिरता (संतृप्ति) दुनिया के अन्य भागों में व्यावसायिक भोजन उद्योग में इसके बढ़ते उपयोग को प्रोत्साहित कर रही है।[9][10]

इतिहास[संपादित करें]

ताड़ का पेड़ (Elaeis guineensis)

ताड़ के तेल को (अफ्रीकी आयल पाम एलएईस गुइनीन्सिस से प्राप्त) पश्चिमी अफ्रीका के देशों में काफी पहले से पहचाना गया और खाना पकाने के एक तेल के रूप में व्यापक रूप से इसका प्रयोग किया जाता है। पश्चिम अफ्रीका के साथ व्यापार करने वाले यूरोपीय व्यापारियों ने भी कभी-कभी यूरोप में प्रयोग के लिए ताड़ का तेल खरीदा, लेकिन चूंकि यह तेल जैतून के तेल की तुलना में कम गुणवत्ता युक्त था, इसलिए ताड़ का तेल पश्चिमी अफ्रीका के बाहर दुर्लभ ही बना रहा.[कृपया उद्धरण जोड़ें] असानते संघ में राज्य के स्वामित्व वाले गुलामों ने बड़े पैमाने पर आयल पाम के पेड़ों का वृक्षारोपण किया, जबकि पड़ोसी किंगडम ऑफ़ डहोमी में राजा घेज़ो ने अपनी प्रजा को आयल पाम के पेड़ों को काटने से रोकने के लिए 1856 में एक कानून पारित किया।

ब्रिटेन की औद्योगिक क्रांति के दौरान ताड़ का तेल एक ऐसी उपभोग सामग्री बन गया, जिसकी मशीनों के लिए स्नेहक के तौर पर औद्योगिक उपयोग हेतु ब्रिटिश व्यापारियों द्वारा अत्यधिक मांग की जाती थी।[कृपया उद्धरण जोड़ें] ताड़ के तेल ने लीवर ब्रदर्स' (अब यूनिलीवर) के "सनलाइट साबुन" और अमेरिकन पामोलिव ब्रांड जैसे साबुन उत्पादों का आधार निर्मित किया है।[11] उस समय तक c. 1870 ताड़ का तेल नाइजीरिया और घाना जैसे कुछ पश्चिमी अफ्रीकी देशों का प्राथमिक निर्यात उपादान था, हालांकि 1880 के दशक में कोको इससे आगे निकल गया।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

शोध[संपादित करें]

1960 में, मलेशिया के कृषि विभाग द्वारा पश्चिम अफ्रीकी अर्थव्यवस्थाओं और चार निजी बागानों के साथ एक विनिमय कार्यक्रम आरम्भ करने और आयल पाम आनुवांशिकी प्रयोगशाला का गठन करने के बाद आयल पाम के प्रजनन में अनुसंधान एवं विकास (आर एवं डी) (R&D) का विस्तार शुरू हुआ।[12] सरकार ने भी कोलेज सेर्दांग स्थापित किया, जो 1970 में कृषि और कृषि-औद्योगिक इंजीनियरों तथा कृषि के क्षेत्र में अनुसंधान का संचालन करने के लिए व्यावसायिक स्नातकों को प्रशिक्षित करने के लिए यूनिवर्सिटी पेर्तानियन मलेशिया (UPM) बन गया।

आयल पाम लगाने वालों (प्लांटर्स) की मजबूत पैरवी और मलेशियाई कृषि अनुसंधान एवं विकास संस्थान (Mardi) तथा यूपीएम (UPM) के समर्थन से सरकार ने, 1979 में मलेशिया के पाम आयल अनुसंधान संस्थान (Porim) की स्थापना की.[13] बी. सी.शेखर पोरिम (Porim) में भर्ती में सहायता करने तथा ताड़ के पेड़ों के प्रजनन, ताड़ के तेल के पोषण और संभावित तैलरासायनिक (ओलेओकेमिकल) उपयोग हेतु अनुसंधान और विकास (R&D) आरम्भ करने के लिए वैज्ञानिकों को प्रशिक्षित करने में मददगार रहे थे। शेखर ने संस्थापक और अध्यक्ष के तौर पर, पोरिम (Porim) को एक सार्वजनिक और निजी-समन्वय-संस्था बनाने में सहयोग दिया. परिणामस्वरुप, पोरिम (Porim) (2000 में नाम बदलकर मलेशियन पाम आयल बोर्ड रखा गया) स्थानीय विश्वविद्यालयों के 5% की तुलना में अपने 20% नवाचारों के व्यवसायीकरण द्वारा मलेशिया का शीर्ष अनुसंधान संस्थान बन गया है।[कृपया उद्धरण जोड़ें] हालांकि एमपीओबी (MPOB) ने अंतरराष्ट्रीय प्रसिद्धि प्राप्त कर ली है, फिर भी इसकी प्रासंगिकता गतिशील तेल फसल आनुवंशिकी, आहार वसा पोषण और प्रक्रिया इंजीनियरिंग परिदृश्य में मंथन के सफलता निष्कर्षों पर निर्भर है।

पोषण[संपादित करें]

ताड़ का तेल कई संसाधित खाद्यों में एक उपादान के रूप में मौजूद होता है।[14]

किसी भी अन्य साधारण वसा की तरह, ताड़ का तेल भी ग्लिसरॉल के साथ एस्टर यौगिक कृत, वसा अम्‍लों से ही बना है। इसमें उच्च संतृप्त वसा अम्‍ल हैं। ताड़ का तेल 16-कार्बन संतृप्त वसा अम्‍ल पामिटिक अम्‍ल को इसका नाम देता है। एकलसंतृप्त ओलिक एसिड भी ताड़ के तेल का एक घटक है। ताड़ का अपरिष्कृत तेल विटामिन ई परिवार के हिस्से टोकोट्रायनोल का भी एक बड़ा प्राकृतिक स्रोत है।[15]

ताड़ के तेल में वसा अम्लों (FAS) की अनुमानित सांद्रता इस प्रकार है:[16]

Fatty acid content of palm oil
Type of fatty acid pct
Palmitic saturated C16
  
44.3%
Stearic saturated C18
  
4.6%
Myristic saturated C14
  
1.0%
Oleic monounsaturated C18
  
38.7%
Linoleic polyunsaturated C18
  
10.5%
Other/Unknown
  
0.9%
red: Saturated; orange: Mono unsaturated; blue: Poly unsaturated

ताड़ का लाल तेल[संपादित करें]

ताड़ के लाल तेल को उसका नाम अपने विशिष्ट गहरे लाल रंग की वजह से मिला है, जो इसे अल्फ़ा-कैरोटीन, बीटा-कैरोटीन और लाइकोपिन जैसे कैरोटीनों से प्राप्त होता है- उन्हीं पोषक तत्वों से, जो टमाटर, गाजर तथा दूसरे फलों एवं सब्जियों को उनके गहरे रंग देते हैं।

ताड़ के लाल तेल में टोकोफेरोल और टोकोट्रायनोल (विटामिन ई परिवार के सदस्य), सीओक्यू10 (CoQ10), फाईटोस्टेरोलों और ग्लाइकोलिपिडों के साथ कम से कम 10 अन्य कैरोटीन शामिल हैं।[17] 2007 के जानवरों पर किये गए एक अध्ययन में, दक्षिण अफ्रीका के वैज्ञानिकों ने पाया कि पाम तेल की खपत ने एक उच्च-कोलेस्ट्रॉल आहार की वजह से चूहों के ह्रदय में होनेवाले पी38- एमएपीके भास्वरीकरण (p38-MAPK phosphorylation) को काफी कम कर दिया है।[18]

1990 के दशक के मध्य के बाद से, ताड़ के लाल तेल को खाना पकाने के तेल के रूप में उपयोग के लिए ठंडा-दबाया (कोल्ड-प्रेस्ड) और बोतलबंद किया गया है तथा मेयोनेज़ और सलाद के तेल में भी मिश्रित किया गया है।[19] विशिष्ट स्वास्थ्य उपयोग के खाद्य पदार्थों और बुढ़ापे को रोकनेवाली प्रसाधन सामग्रियों में भी ताड़ के लाल तेल के टोकोट्रायनोलों और कैरोटीनों जैसे ऑक्सीकरणरोधकों का प्रयोग हो रहा है।[20][21][22]

2004 में कुवैत इंस्टीच्यूट फॉर साइंटिफिक रिसर्च एवं मलेशियन पाम ऑयल बोर्ड द्वारा किये गये एक संयुक्त अध्ययन में वैज्ञानिकों ने कुकीज़ में रोटी की अपेक्षा अधिक वसा पाई, जो ताड़ के लाल तेल के फिटोन्युट्रियेण्ट के लिए एक बेहतर वाहक है।[23]

2009 के एक अध्ययन में वैज्ञानिकों ने स्पेन में ताड़ के लाल तेल, जैतून और बहुअसंतृप्त तेलों में आलू को गहरा तलने के समय एक्रोलिन उत्सर्जन की दर का परीक्षण किया। उन्होंने बहुअसंतृप्त तेलों में एक्रोलिन उत्सर्जन की दर को ऊंचा पाया। वैज्ञानिकों ने ताड़ के लाल तेल को "एकल असंतृप्त"[24] के रूप में वर्णित किया। यह तले हुए फ्रांसिसी आलू (फ्रेंच फ्राईज) को एक आकर्षक रंग देता है।[25][53]

परिष्कृत, प्रक्षालित, निर्गन्धीकृत ताड़ के तेल[संपादित करें]

पाम तेल उत्पाद पिसाईं (मिलिंग) और परिष्कृत करने की प्रक्रियाओं के द्वारा बनाए जाते हैं: ठोस (स्टेरिन) और तरल (ओलेन) भागों को प्राप्त करने के लिए पहले विभाजन के साथ रवाकरण (क्रिस्टलाइज़ेशन) और पृथक्करण की प्रक्रिया का उपयोग किया जाता है। इसके बाद पिघलाने और गोंद हटाने (डिगमिंग) से अशुद्धियां दूर हो जाती हैं। तब तेल को फ़िल्टर और प्रक्षालित किया जाता है। अगला भौतिक शोधन, गंध और रंग को हटाता है और इसे वसा अम्लों से मुक्त कर परिष्कृत, प्रक्षालित, निर्गन्धीकृत ताड़ के तेल या आरबीडीपीओ (RBDPO) उत्पादित करता है, जो साबुन, कपड़े धोने का पाउडर तथा व्यक्तिगत देखभाल के उत्पादों को बनाने में एक महत्वपूर्ण कच्चे माल के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है। आरबीडीपीओ (RBDPO) विश्व के पण्य बाजारों में बिकनेवाला बुनियादी तेल उत्पाद है, हालांकि कई कंपनियां इसे आगे खाना बनाने के तेल या अन्य उत्पादों के लिए पाम ओलिन में विभाजित करती हैं।[26]

जलीय विश्लेषण द्वारा या साबुनीकरण की बुनियादी शर्तों के तहत तेल और वसा के विभाजन से ग्लिसरीन (ग्लिसरॉल) के साथ वसा अम्लों का एक गौण-उत्पाद प्राप्त होता है। विभाजित वसा अम्ल C4 से लेकर C18 तक का एक मिश्रण होते हैं, जो तेल/वसा के प्रकार पर निर्भर करता है।[56][57]

उपयोग[संपादित करें]

द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान के नापाम (एल्यूमीनियमना पैथेनेट एवं एल्यूमीनियम पाम इटेट) के उत्पादन के लिए मिट्टी के तेल के संयोजन में पामिटिक अम्ल संजातों का उपयोग किया गया था।[58]

कई प्रसंस्कृत खाद्यों में एक उपादान के रूप में ताड़ का तेल युक्त रहता है।[14]

जैव डीजल (बॉयोडीजल)[संपादित करें]

जैव-डीजल बनाने का लिए अन्य वनस्पति तेलों की तरह ताड़ के तेल का भी इस्तेमाल किया जा सकता है, जो साधारण रूप से ताड़ के तेल को पेट्रोडीजल में मिलाकर बनाया जा सकता है या ट्रान्सएस्टरीफिकेशन के माध्यम से ताड़ के तेल एवं मिथाइल एस्टर मिश्रण में परिवर्तित किया जा सकता है, जो अंतरराष्ट्रीय ईएन 14214 विनिर्देश के अनुसार है। ग्लिसरीन ट्रान्सएस्टरीफिकेशन का प्रतिफल है। अलग-अलग देशों और विभिन्न बाजारों की आवश्यकताओं के अनुसार पूरे विश्व में जैव-डीजल बनाने की भिन्न-भिन्न वास्तविक प्रक्रियाओं का उपयोग किया जाता है। अगली पीढ़ी के जैव-ईंधन उत्पादन प्रक्रियाओं का अपेक्षाकृत छोटी मात्रा में परीक्षण किया जा रहा है।

आईईए (IEA) ने भविष्यवाणी की है कि एशियाई देशों में जैव-ईंधन का प्रयोग मामूली रहेगा. लेकिन ताड़ के तेल की एक प्रमुख उत्पादक, मलेशियाई सरकार जैव-ईंधन तेल के फीडस्टॉक के उत्पादन को प्रोत्साहित कर रही है और ताड़ के तेल के जैव-डीजल संयंत्रों का निर्माण कर रही है। घरेलू तौर पर, मलेशिया 2008 तक डीजल से जैव- ईंधन में बदलने के लिए तैयारी कर रहा है, जिसमें इस बदलाव को अनिवार्य बनाने के लिए कानून का मसौदा तैयार करना भी शामिल है।

2007 से, मलेशिया में बेंचे जाने वाले समस्त डीजल में 5% ताड़ का तेल शामिल होना अनिवार्य होगा. ताड़ के तेल के 91 स्वीकृत संयंत्रों और कुछ के अभी संचालन में होने के साथ मलेशिया जैव-ईंधन उत्पादकों में से एक अग्रणी के रूप में उभर रहा है।[27][

16 दिसम्बर 2007 को मलेशिया ने 100,000 टन की वार्षिक क्षमता के साथ, पहांग राज्य में अपना पहला जैव-डीजल संयंत्र खोला और जो गौण-उत्पादों के रूप में 4000 टन पाम वसा अम्ल अर्क और औषधीय स्तर के 12,000 टन ग्लिसरीन का भी उत्पादन करता है।[28] फिनलैंड की नेस्ले आयल सिंगापुर की एक नई रिफाइनरी में मलेशिया के ताड़ के तेल से 2010 से प्रति वर्ष 800,000 टन जैव-डीजल के उत्पादन की योजना बना रहा है, जो इसे दुनिया का सबसे बड़ा जैव-ईंधन संयंत्र बनाएगा[29] और 2007-08 से फिनलैंड में इसकी दूसरी पीढ़ी के पहले संयंत्र से 170,000 टीपीए का उत्पादन होगा, जो विभिन्न स्रोतों से ईंधन परिष्कृत कर सकते हैं। नेस्ले और फिनिश सरकार हेलसिंकी क्षेत्र की कुछ सार्वजनिक बसों में एक छोटे पैमाने के पायलट के रूप में इस पैराफिनिक ईंधन का उपयोग कर रहे हैं।[30][31]

ताड़ के तेल से प्रथम पीढ़ी के जैव-डीजल के उत्पादन की मांग विश्व स्तर पर है। यूरोप में भी ताड़ का तेल, जैव-डीजल के लिए नई मांग का सामना कर रहे रेपसीड तेल का एक प्राथमिक स्थानापन्न है। ताड़ के तेल के उत्पादक जैव-डीजल के लिए आवश्यक रिफाइनरियों में भारी निवेश कर रहे हैं। मलेशिया में कंपनियों का विलय कर दिया गया है, दूसरों को खरीदा जा रहा है और फीडस्टॉक की बढ़ी हुई कीमतों की वजह से लागत को संभालने के लिए आवश्यक अर्थ की व्यवस्था करने के लिए गठजोड़ किए जा रहे हैं। एशिया और यूरोप भर में नई रिफाइनरियां बनाई जा रही हैं।[32]

खाद्य बनाम ईंधन बहस बढ़ने के साथ-साथ, अनुसंधान कचरे से बायो डीजल उत्पादन की ओर मुड़ रहा है। एक अनुमान के अनुसार मलेशिया में प्रति वर्ष तलने के तेलों के रूप में प्रयुक्त 50,000 टन वनस्पति तेल और पशु वसा दोनों का, बिना कचरे का उपचार किये निपटान कर दिया जाता है। 2006 के एक अध्ययन में शोधकर्ताओं ने तलने में प्रयुक्त तेल में (मुख्य रूप से ताड़ का तेल) पूर्व-उपचार के बाद सिलिका जेल पाया, जो सोडियम हाइड्रोक्साइड के प्रयोग से उत्प्रेरक प्रतिक्रिया द्वारा मिथाइल एस्टर में रूपांतरण के लिए एक उपयुक्त फीडस्टॉक है। उत्पादित मिथाइल एस्टर में ऐसे ईंधन गुण हैं, जिनकी तुलना पेट्रोलियम डीजल से की जा सकती है और असंशोधित डीजल इंजनों में इसका इस्तेमाल किया जा सकता है।[33]

मलेशियाई विज्ञान विश्वविद्यालय में वैज्ञानिकों द्वारा 2009 के एक अध्ययन का निष्कर्ष है कि ताड़ का तेल अन्य वनस्पति तेलों की तुलना में खाद्य तेल का एक स्वस्थ स्रोत है और साथ ही इतनी मात्रा में उपलब्ध है कि जैव-डीजल की वैश्विक मांग को पूरा कर सकने में समर्थ है। ताड़ के (आयल पाम) वृक्षारोपण और ताड़ के तेल की खपत ने खाद्य बनाम ईंधन बहस में गतिरोध उत्पन्न कर दिया है, क्योंकि इसमें एक साथ दोनों मांगों को पूरा करने की क्षमता है।[34] एक ब्रिटिश वैज्ञानिक ने अनुमान लगाया है कि 2050 तक, खाद्य तेलों के लिए वैश्विक मांग शायद 240 लाख टन के आसपास होगी, जो लगभग 2008 की खपत के दोगुनी होगी. अतिरिक्त तेल का ज्यादातर भाग ताड़ का तेल होगा, जिसकी उत्पादन लागत प्रमुख तेलों में सबसे कम है, लेकिन संभवतः सोयाबीन तेल के उत्पादन में भी वृद्धि होगी. अगर औसत पैदावार में वृद्धि पिछले क्रम से ही जारी रही तो एक अतिरिक्त [73] ताड़ के पेड़ों (आयल पाम), की आवश्यकता हो सकती है। जंगल की कीमत पर ऐसा करने की जरूरत नहीं है, मानवकृत (अन्थ्रोपोजेनिक) चरागाह 2050 में खाद्य उद्देश्यों के लिए आवश्यक समस्त तेल की आपूर्ति कर सकते हैं।[35]

बाजार[संपादित करें]

हैम्बर्ग स्थित तेल विश्व व्यापार पत्रिका के अनुसार, 2008 में तेल और वसा का वैश्विक उत्पादन सोलह करोड़ टन था। 48 लाख टन या कुल उत्पादन के 30% के लिए लेखांकित, ताड़ का तेल और ताड़ की गरी का तेल संयुक्त रूप से सबसे बड़ा योगदानकर्ता थे। 37 मिलियन टन (23%) के साथ सोयाबीन तेल दूसरे स्थान पर था। दुनिया भर में उत्पादित तेल और वसा का लगभग 38% महासागरों के पार भेजा जा रहा था। दुनिया भर में निर्यातित 60.3 मिलियन टन तेल और वसा में से लगभग 60% ताड़ का तेल और ताड़ की गरी का तेल था, बाजार में 45% की हिस्सेदारी का साथ मलेशिया तेल व्यापार पर हावी है।[36]

क्षेत्रीय उत्पादन[संपादित करें]

2006 में ताड़ तेल उत्पादन

इंडोनेशिया[संपादित करें]

2006 में मलेशिया को पीछे छोड़कर, 20.9 टन से अधिक उत्पादन कर 2009 में इंडोनेशिया ताड़ का तेल का सबसे बड़ा उत्पादक था। इन्डोनेशियाई दुनिया के शीर्ष तेल उत्पादक बनने की आकांक्षा रखते हैं।[37] एफएओ (FAO) डेटा दर्शाता है कि 1994-2004 के बीच उत्पादन में 400 % से अधिक की वृद्धि हुई, जो 8.66. मिलियन मीट्रिक टन से ऊपर रही.

परंपरागत बाजारों में कार्य करने के अलावा, इंडोनेशिया जैव-डीजल का उत्पादन करने के लिए और अधिक प्रयास करने का अवसर तलाश रहा है। प्रमुख स्थानीय और वैश्विक कंपनियां मिलें और रिफाइनरियां बना रही हैं, जिनमें शामिल है: पीटी. एस्ट्रा एग्रो लेस्तरी टेर्बुका (150,000 टीपीए जैव-डीजल रिफाइनरी), पीटी. बाक्री ग्रुप (एक जैव-डीजल कारखाना और नए वृक्षारोपण), सूर्या दुमाई ग्रुप (जैव-डीजल रिफाइनरी). कारगिल (कभी कभी सिंगापुर के सीटीपी (CTP) होल्डिंग्स के माध्यम से सक्रिय, इंडोनेशिया और मलेशिया में नई मिलें और रिफाइनरियां बना रही है, अपनी रॉटरडैम की रिफाइनरी का 300,000 टीपीए ताड़ के तेल की संभाल के लिए विस्तार कर रही है, सुमात्रा, कालिमंटन, इंडोनेशियाई प्रायद्वीप और पापुआ न्यू गिनी में बागानों का अधिग्रहण कर रही है). राबर्ट कुओक की विलमार इंटरनैशनल लिमिटेड के पास सिंगापुर, रिआउ, इंडोनेशिया और रोटरडम की नई जैव-डीजल रिफाइनरियों को फीडस्टॉक की आपूर्ति के लिए पूरे इंडोनेशिया में बागान और 25 रिफाइनरियां हैं।[32]

मलेशिया[संपादित करें]

2008 में, मलेशिया ने देश की जमीन पर 17.7 मिलियन टन ताड़ के तेल का उत्पादन किया,[36] और 570000 से अधिक लोगों को रोजगार देकर ताड़ के तेल का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक रहा.[38] मलेशिया दुनिया में ताड़ के तेल का दूसरा सबसे बड़ा निर्यातक है। मलेशिया से ताड़ के तेल के निर्यात का लगभग 60% चीन, यूरोपीय संघ, पाकिस्तान, संयुक्त राज्य अमेरिका और भारत को भेजा जा रहा है। वे ज्यादातर खाना पकाने के तेल, कृत्रिम मक्खन (मार्जरीन), विशेषता युक्त वसा और ओलेयोकेमिकल से बने होते हैं।

दिसंबर 2006 में, मलेशियाई सरकार ने दुनिया के सबसे बड़े अनुसूचित ताड़ के पेड़ों (आयल पाम) के वृक्षारोपणकर्ता के निर्माण के लिए साइम डर्बी बेर्हड, गोल्डन होप प्लान्टेशन बेर्हड और गुथरी कम्पुलन के विलय की शुरूआत की.[39] आरएम31 (RM31) अरब मूल्य के एक विशिष्ट सौदे के विलय में, पेर्मोडालन नासिओनल बेर्हड (पीएनबी) और कर्मचारी भविष्य निधि (ईपीएफ) के द्वारा नियंत्रित आठ सूचीबद्ध कंपनियों के कारोबार को शामिल किया गया। एक विशेष प्रयोजन वाहन, सिनर्जी ड्राइव एसडीएन बीएचडी (Sdn Bhd), ने संपत्ति और देनदारियों सहित आठ सूचीबद्ध कंपनियों के सभी व्यवसायों के अधिग्रहण की पेशकश की. एक भूमिबैंक (landbank) में 543000 हेक्टेयर के वृक्षारोपण के साथ, विलय के परिणामस्वरूप ताड़ के वृक्षारोपण की एक ऐसी इकाई बनी जो 2006 में 2.5 मिलियन टन या वैश्विक उत्पादन के 5% का उत्पादन कर सकती है। एक साल बाद, विलय पूरा हुआ और इकाई का नाम बदलकर साइम डर्बी बेर्हड रखा गया।[40]

कोलंबिया[संपादित करें]

1960 के दशक में, लगभग पर ताड़ के पेड़ लगाए गए थे। कोलम्बिया अब अमेरिका में ताड़ के तेल का सबसे बड़ा उत्पादक बन गया है और इसके उत्पाद का 35% जैव-ईंधन के रूप में निर्यात किया जाता है। वर्ष 2006 में कोलंबिया के बागान मालिकों के संघ, फिडेपाल्मा ने बताया कि आयल पाम की खेती का तक विस्तार किया गया था। इस विस्तार का निरस्त्र अर्द्धसैनिक सदस्यों के कृषि योग्य भूमि पर पुनर्वासन के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका की अंतरराष्ट्रीय विकास एजेंसी और द्वारा कोलंबिया सरकार द्वारा हिस्स‍ों में वित्त पोषित किया जा रहा है, जो वर्ष 2020 तक आयल पाम सहित निर्यात योग्य फसलों के लिए भूमि के उपयोग का तक विस्तार करने का प्रस्ताव करती है। फिडेपाल्मा का कहना है कि उसके सदस्य स्थायी दिशानिर्देशों का अनुसरण करते हैं।[41]

कुछ अफ्रीकी-कोलोम्बिअनों का दावा है कि गरीबी और गृहयुद्ध द्वारा उन्हें निकाल देने के बाद इनमें से कुछ नए वृक्षारोपणों ने उनकी संपत्ति का हरण कर लिया है, जबकि सशस्त्र गार्डों ने बचे हुए लोगों को धमका कर भूमि पर जनसंख्या को और कम कर दिया है, जबकि उनकी देखरेख में कोका उत्पादन और तस्करी होती है।[42]

अन्य उत्पादक[संपादित करें]

बेनिन[संपादित करें]

ताड़ पश्चिमी अफ्रीका के दलदली इलाकों के लिए देशी है और दक्षिण बेनिन पहले ही वृक्षारोपणों को स्थान दे रखा है। इसके 'कृषि पुनरुद्धार कार्यक्रम' ने कई हजार हेक्टेयर भूमि को निर्यात योग्य नए पाम आयल (ताड़ के पेड़) के वृक्षारोपण के लिए उपयुक्त माना है। आर्थिक लाभ के बावजूद, नेचर ट्रॉपिकल जैसे गैर सरकारी संगठनों (एनजीओज) (NGOs) का दावा है कि जैव-ईंधन कुछ मौजूदा कृषि क्षेत्रों में घरेलू कृषि उत्पादन के साथ पूरा होगा. अन्य क्षेत्रों में पांस भूमि (पीट लैंड) शामिल है, जिनका जल निकासी का पर्यावरण पर एक हानिकारक प्रभाव होता है। वे क्षेत्र में पहली बार आनुवंशिक रूप से संशोधित पौधों के लगाये जाने से भी चिंतित हैं, जो उनके गैर-जीएम फसलों के लिए वर्तमान प्रीमियम भुगतान को खतरे में डाल सकते हैं।[43]

केन्या[संपादित करें]

केन्या के खाद्य तेलों का घरेलू उत्पादन अपनी वार्षिक मांग का लगभग एक तिहाई पूरा करता है, जिसके 380,000 मीट्रिक टन के आसपास होने का अनुमान है। बाकी का साल में लगभग $140 अमेरिकी मिलियन की लागत से आयात किया जाता है, जो पेट्रोलियम के बाद खाद्य तेल को देश का दूसरा सबसे महत्वपूर्ण आयात बनाता है। 1993 के बाद से संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन द्वारा पश्चिमी केन्या में संकर किस्म की एक नई ठंड- सहिष्णु, उच्च-उपज वाले ताड़ के पेड़ (आयल पाम) को प्रोत्साहित किया गया है। एक महत्वपूर्ण नकद फसल उपलब्ध कराने और देश में खाद्य तेल की कमी को दूर करने के साथ ही इससे क्षेत्र में पर्यावरणीय लाभ होने का दावा भी किया गया है, क्योंकि यह और खाद्य फसलों या देशी वनस्पति के खिलाफ प्रतिस्पर्धा नहीं करता और मिट्टी के लिए स्थायित्व प्रदान करता है।[44]

घाना[संपादित करें]

घाना क्षेत्र में काफी खजूर (पाम नट) वनस्पति है, जो ब्लैक स्टार क्षेत्र की कृषि में महत्वपूर्ण योगदान कर सकती है। हालांकि घाना में स्थानीय से लेकर स्थानीय स्तर पर एग्रिक कहलाने वाली ताड़ की कई प्रजातियां हैं, इसका केवल स्थानीय और पड़ोसी देशों में ही विपणन किया जाता है।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

प्रभाव[संपादित करें]

सामाजिक[संपादित करें]

पाम तेल उत्पादकों को कम वेतन और ख़राब कार्य स्थितियों[45] से लेकर भूमि की चोरी[46] और हत्या तक कई मानव अधिकारों के उल्लंघन के लिए अभियुक्त ठहराया गया है।[47] तथापि, कुछ सामाजिक नवाचार गरीबी उन्मूलन रणनीति के वित्तपोषण ताड़ के तेल के लाभ का उपयोग करते हैं। उदाहरण में मकेनी, सिएरा लियोन में स्थानीय किसानों द्वारा छोटे पैमाने पर उगाये जाने वाले ताड़ के पेड़ों से प्राप्त लाभ से मेग्बेनेथ अस्पताल का वित्तपोषण,[48] महिलाओं द्वारा संचालित एक सहकारी संस्थान द्वारा चलाया जाने वाला प्रेस्बिटेरियन आपदा' सहायता का खाद्य सुरक्षा कार्यक्रम, जिससे प्राप्त लाभ का उपयोग खाद्य सुरक्षा के लिए किया जाता है[49] या पश्चिमी केन्या में संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन की संकर ताड़ का पेड़ योजना शामिल है, जो स्थानीय आबादी की आय और भोजन में सुधार करती है।[50]

पर्यावरण संबंधी[संपादित करें]

ताड़ के तेल का उत्पादन प्राकृतिक वातावरण में निरंतर और अक्सर अपूरणीय नुकसान के कारण के रूप में वर्णित है।[51] इसके प्रभावों में शामिल हैं: वनों की कटाई, आरंगुटान[52][53][54] तथासुमात्रा के बाघों जैसी लुप्तप्राय प्रजातियों के निवास का नुकसान[55] [56] और ग्रीन हाउस गैस के उत्सर्जन में हुई उल्लेखनीय वृद्धि.[57]

प्रदूषण और भी बढ़ा है क्योंकि इंडोनेशिया और मलेशिया में कई वर्षावन[58] पांस के दलदल (पिट बॉग्स) के ऊपर स्थित हैं, जो अत्यधिक मात्रा में कार्बन का भंडार रखते हैं, जो जंगलों की कटाई और वृक्षारोपण स्थल तक रास्ता बनाने के लिए दलदलों के सुखाने पर मुक्त हो जाता है।

ग्रीनपीस जैसे पर्यावरण समूहों का दावा है कि ताड़ के वृक्षारोपण के लिए रास्ता तैयार करने के लिए की जाने वाली वनों की कटाई से जैव-ईंधन में परिवर्तन से होने वाले लाभ की अपेक्षा जलवायु को होनेवाली हानि कहीं अधिक है।[59][60]

वनस्पति तेल अर्थव्यवस्था में से कई प्रमुख कंपनियों ने ताड़ के टिकाऊ तेल पर गोलमेज सम्मेलन में भाग लिया, जो इस समस्या को सुलझाने की कोशिश कर रहा है। 2008 में समूह के एक सदस्य यूनीलीवर ने यह सुनिश्चित करते हुए कि इसकी आपूर्ति करने वाले बड़ी कंपनियां और छोटेधारक 2015 तक इसे टिकाऊ उत्पादन में बदल देंगे, केवल टिकाऊ प्रमाणित किए गए ताड़ के तेल का उपयोग करने की प्रतिबद्धता स्वीकार की है।[61]

इस बीच, जैव ईंधन के लिए नए ताड़ के वृक्षारोपण में हाल में किया गया काफी निवेश स्वच्छ विकास तंत्र के माध्यम से कार्बन क्रेडिट परियोजनाओं के द्वारा हिस्सों में वित्तपोषित किया गया है; तथापि, इंडोनेशिया में अस्थाई ताड़ के वृक्षारोपण से जुड़े प्रतिष्ठा संबंधी जोखिम ने अब बहुत से वित्तपोषकों को वहां निवेश से सावधान कर दिया है।[62]

चिकित्सा-विज्ञान[संपादित करें]

हालांकि ताड़ के तेल का रोगाणुरोधी प्रभाव युक्त समझा जाने के कारण घावों पर उसका उपयोग किया जाता है, लेकिन अनुसंधान इसकी प्रभावशीलता की पुष्टि नहीं करता है।[63]

स्वास्थ्य[संपादित करें]

रक्त वसा और पित्त-सांद्रव (कोलेस्ट्रॉल) प्रभाव[संपादित करें]

संयुक्त राज्य अमेरिका के जनहित में विज्ञान केंद्र (सेंटर फॉर साइंस इन पब्लिक इंटरेस्ट) ने कहा है कि ताड़ का तेल, जो संतृप्तता में उच्च और असंतृप्तता में कम है, दिल की बीमारी को बढ़ावा देता है।[64] सीएसपीआई (CSPI) रिपोर्ट ने 1970[65] के अनुसंधान और को मेटास्टडीज को उद्धृत किया है।[66][67] सीएसपीआई (CSPI) ने यह भी कहा कि राष्ट्रीय हृदय, फेफड़े और रक्त संस्थान, (द नैशनल हार्ट, लंग एंड ब्लड इंस्टीच्यूट)[68] विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) और अन्य स्वास्थ्य अधिकारियों ने ताड़ के तेल की खपत को कम कर देने का आग्रह किया है। हू (WHO) कहता है कि पामिटिक अम्ल का सेवन ह्रदवाहिनी रोगों के विकास में योगदान करने के लिए एक जोखिम है।[69] कोस्टा रिका में 2005 के अनुसंधान ने ताड़ के गैर हाइड्रोजनीकृत असंतृप्त तेल के सेवन का सुझाव दिया है।[70] 1993 में, मलेशिया के चिकित्सा अनुसंधान संस्थान के ह्रदवाहिनी रोग इकाई ह्रदवाहिनी, मधुमेह और पोषण केंद्र के विभागाध्यक्ष डॉ॰टोनी एनजी कॉक वाई[71] ने दिखाया कि संतृप्त वसा की पित्त-सांद्रव (कोलेस्ट्रॉल) का प्रभाव इसकी 2-एस.एन.स्थिति के परिमाण द्वारा प्रभावित होता है। ताड़ के तेल में उच्च पामिटिक अम्ल (41%) होने के बावजूद, एस.एन. 2 स्थिति में इसका केवल 13-14% ही विद्यमान रहता है।[72]

हू (WHO) की 2002 की मसौदा रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया करते हुए विस्तर संस्थान, फिलाडेल्फिया के डॉ॰ डेविड क्रित्चेव्सकी ने एक ईमेल में इस बात से इनकार किया है कि उस समय, वहां ताड़ के तेल के सेवन को अथेरोस्क्लेरोसिस (atherosclerosis) का कारण दिखाने वाला कोई आंकड़ा मौजूद था।[73]

हालांकि, राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थान और यूएसडीए (USDA) कृषि अनुसंधान सेवा द्वारा समर्थित 2006 के एक अध्ययन ने निष्कर्ष निकाला है कि आंशिक रूप से हाइड्रोजनित वसा (ट्रांस वसा) युक्त होने की वजह से ताड़ का तेल खाद्य उद्योग में एक सुरक्षित विकल्प नहीं है, क्योंकि ताड़ का तेल एलडीएल (LDL) कोलेस्ट्रॉल और अपोलीपोप्रोटीन बी की रक्त सांद्रता में वैसा ही प्रतिकूल परिवर्तन करता है जैसा ट्रांस वसा से होता है।[74][75]

पशु संतृप्त वसा से तुलना[संपादित करें]

सभी संतृप्त वसाएं समान रूप से पित्त-सांद्रविक (कोलेस्ट्रलेमिक) नहीं हैं।[76] अध्ययनों से संकेत मिला है कि नारियल के तेल, डेयरी एवं पशु वसा जैसे संतृप्त वसाओं के स्रोतों की तुलना में पाम ओलेन का सेवन (जो और अधिक असंतृप्त है) रक्त कोलेस्ट्रॉल को कम करता है।[77]

1996 में, मैसाचुसेट्स विश्वविद्यालय के डॉ॰ बेकर ने जोर देकर कहा कि ट्रायासिलग्लिसरोल्स की एस.एन.-1 और-3 स्थिति में संतृप्त वसा अपनी धीमी अवशोषकता की वजह से अलग-अलग उपापचयी नमूने दर्शाती है। संतृप्त वसा युक्त आहार वसाओं, मुख्य रूप से एस.एन.-1 और -3 स्थितियों वाली (जैसे, कोकोआ मक्खन, नारियल तेल और ताड़ का तेल) में उन वसाओं से बहुत भिन्न जैविक परिणाम होते हैं, जिनमें संतृप्त वसा एस.एन.-2 की स्थिति में होती है (जैसे, दुग्ध वसा और चर्बी. वसा पोषण अध्ययनों और विशिष्ट खाद्य उत्पादों के उत्पादन में स्टीरियोविशिष्ट वसा अम्लों के स्थानों का अंतर भी एक महत्वपूर्ण विचार बिंदु होना चाहिए.[78]

वर्ष 2004 की एक समीक्षा में क्रमशः कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय, डेविस और स्विट्जरलैंड के नेस्ले रिसर्च सेंटर के डॉ जर्मन और डॉ डिलार्ड ने विशिष्ट संतृप्त वसाओं के परिहृद् धमनी रोग में योगदान और स्वास्थ्य पर अन्य प्रभाव में प्रत्येक विशिष्ट संतृप्त वसा अम्ल की भूमिका से सम्बंधित अनुसंधान में यह निष्कर्ष निकाला कि इनसे प्राप्त परिणाम ऐसे नहीं हैं, जिनके आधार पर हर व्यक्ति के आहार से संतृप्त वसा को दूर करने की वैश्विक सिफारिश की जा सके, क्योंकि पर्याप्त अवधि के कम वसा वाले आहार या कम संतृप्त वसा वाले आहार पर कोई भी अनियमित नियंत्रित परीक्षण नहीं किया गया है। इस जानकारी का अभाव है कि कम संतृप्त वसा का सेवन हानिकारक स्वास्थ्य परिणाम के जोखिम के बिना कैसे किया जा सकता है। भविष्य के अध्ययनों में संतृप्त वसा अम्लों के सेवन के अलग-अलग प्रभाव के सन्दर्भ में विभिन्न प्रकार कि जीवन शैलियों और व्यक्तिगत आनुवंशिक पृष्ठभूमि को ध्यान में रखना होगा.[79]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • उष्णदेशीय कृषि
  • खाद्य बनाम ईंधन

संदर्भ[संपादित करें]

  1. Reeves, James B.; Weihrauch, John L.; Consumer and Food Economics Institute (1979). Composition of foods: fats and oils. Agriculture handbook 8-4. Washington, D.C.: U.S. Dept. of Agriculture, Science and Education Administration. प॰ 4. OCLC 5301713. 
  2. Poku, Kwasi (2002). "Origin of oil palm". Small-Scale Palm Oil Processing in Africa. FAO Agricultural Services Bulletin 148. Food and Agriculture Organization. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 92-5-104859-2. http://www.fao.org/DOCREP/005/y4355e/y4355e03.htm. [page needed]
  3. Cottrell, RC (1991). "Introduction: nutritional aspects of palm oil". The American journal of clinical nutrition 53 (4 Suppl): 989S–1009S. PMID 2012022. 
  4. संघीय रजिस्टर में अमेरिकी फेडरल खाद्य, औषधि और प्रसाधन सामग्री अधिनियम, 21 सीएफआर (CFR) 101.25 के रूप में संशोधित 19 जुलाई 1990 खंड 55, संख्या.139 पृष्ठ.29472[verification needed]
  5. ब्रिटेन के खाद्य लेबलिंग नियम (एसआई (SI) 1984, संख्या.1305)[verification needed]
  6. Medical nutrition & disease: a case-based approach. pp. 202. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0632046589. 
  7. Mensink, RP; Katan, MB (1992). "Effect of dietary fatty acids on serum lipids and lipoproteins. A meta-analysis of 27 trials.". Arterioscler Thromb 12 (8): 911-?. 
  8. United States Department of Agriculture (June 2006). Palm Oil Continues to Dominate Global Consumption in 2006/07. प्रेस रिलीज़. http://www.fas.usda.gov/oilseeds/circular/2006/06-06/Junecov.pdf. अभिगमन तिथि: 22 सितंबर 2009. 
  9. Che Man, YB; Liu, J.L.; Jamilah, B.; Rahman, R. Abdul (1999). "Quality changes of RBD palm olein, soybean oil and their blends during deep-fat frying". Journal of Food Lipids 6 (3): 181–193. doi:10.1111/j.1745-4522.1999.tb00142.x. 
  10. Matthäus, Bertrand (2007). "Use of palm oil for frying in comparison with other high-stability oils". European Journal of Lipid Science and Technology 109: 400. doi:10.1002/ejlt.200600294. 
  11. Bellis, Mary. "The History of Soaps and Detergents". About.com. http://inventors.about.com/library/inventors/blsoap.htm. "In 1864, Caleb Johnson founded a soap company called B.J. Johnson Soap Co., in Milwaukee. In 1898, this company introduced a soap made of palm and olive oils, called Palmolive." 
  12. हार्टली, सी. डब्ल्यू. एस. (C .W .S)1988). ऑइल पाम, 3 संस्करण. लौंगमैन वैज्ञानिक और तकनीकी, हारलो, ब्रिटेन[page needed]
  13. मलेशिया और इंडोनेशिया में तद के तेल और संबंधित उत्पाद का विकास राजा रसियाह और आजमी शाहरिन, यूनिवर्सिटी मलाया, 2006
  14. "Palm oil products and the weekly shop". BBC Panorama. 22 फ़रवरी 2010. http://news.bbc.co.uk/panorama/hi/front_page/newsid_8517000/8517093.stm. अभिगमन तिथि: 22 फ़रवरी 2010. 
  15. http://www.tocotrienol.org/en/index/sources.html
  16. आंग, केथरिना वाई.डब्लू., केशुन लियू, एंड याओ-वेन हुआंग, एड्स. (1999). एशियाई फूड्स[page needed]
  17. वैल्युबल माइनर कन्स्टिटुएंट्स ऑफ़ कमर्शियल रेड पाम ओलिन: कैरोटेनौएड्स, विटामिन ई, यूबीक्युनोंस एंड स्टेरोल्स बोनी टे येन पिंग और छु यूएन में, जर्नल ऑफ़ ऑइल पाम रिसर्च, खंड 12, जून 2000, पृष्ठ 14-24
  18. Kruger, MJ; Engelbrecht, AM; Esterhuyse, J; Du Toit, EF; Van Rooyen, J (2007). "Dietary red palm oil reduces ischaemia-reperfusion injury in rats fed a hypercholesterolaemic diet.". The British journal of nutrition 97 (4): 653–60. doi:10.1017/S0007114507658991. PMID 17349077. 
  19. लाल ताड़ के तेल के अभिलक्षण, भोजन के उपयोग के लिए एक कैरोटिन- और विटामिन ई-रिच रिडिफाइंड ऑइल बी. नागेन्द्रन, यू.आर. उन्नीथन, वाई. एम. छु और कल्याण सुन्द्रम, खाद्य और पोषण बुलेटिन, खंड 21, संख्या 2, 2000, पृष्ठ 77-82, द युनाइटेड नेशंस यूनिवर्सिटी.
  20. Top, Ab Gapor Md; Hassan, Wan Hasamudin Wan; Sulong, Mohamad (June 2002). "Phytochemicals for Nutraceuticals from the By-product of Palm Oil Refining". Palm Oil Developments 36: 17–19. http://palmoilis.mpob.gov.my/publications/pod36_13-19.pdf. 
  21. Stuchlík, M; Zák, S (2002). "Vegetable lipids as components of functional foods.". Biomedical papers of the Medical Faculty of the University Palacky, Olomouc, Czechoslovakia 146 (2): 3–10. PMID 12572887. http://publib.upol.cz/~obd/fulltext/Biomedic146-2/LF11_2002-1.pdf. 
  22. Rona, C; Vailati, F; Berardesca, E (Jan 2004). "The cosmetic treatment of wrinkles". Journal of cosmetic dermatology 3 (1): 26–34. doi:10.1111/j.1473-2130.2004.00054.x. ISSN 1473-2130. PMID 17163944. 
  23. Al-Saqer, J (2004). "Developing functional foods using red palm olein. IV. Tocopherols and tocotrienols". Food Chemistry 85: 579. doi:10.1016/j.foodchem.2003.08.003. 
  24. Andreu-Sevilla, A.J.; Hartmann, A.; Burlo, F.; Poquet, N.; Carbonell-Barrachina, A.A. (2009). "Health Benefits of Using Red Palm Oil in Deep-frying Potatoes: Low Acrolein Emissions and High Intake of Carotenoids". Food Science and Technology International 15: 15. doi:10.1177/1082013208100462. 
  25. Choo YM, Ma AN, Yap SC, Ooi CK, Basiron Y (1993). "Production and applications of deacidified and deodorized red palm oil". Palm Oil Developments 19: 30–4. http://palmoilis.mpob.gov.my/publications/pod19-30.html. 
  26. रिफाइनिंग ऑपरेशंस पीटी. एशियनएग्रो अगुंगजया कॉर्पोरेट वेबसाइट 2007
  27. Thomson Financial (16 दिसम्बर 2007). "Malaysian government not concerned with rising palm oil prices - minister". Forbes. Archived from the original on 4 जून 2011. http://web.archive.org/web/20110604130118/http://www.forbes.com/feeds/afx/2007/12/16/afx4445844.html. अभिगमन तिथि: 22 सितंबर 2009. 
  28. "New plant a catalyst for country's biodiesel industry". New Straits Times. 2007-12-16. http://www.nst.com.my/Current_News/NST/Sunday/National/2110947/Article/index_html. 
  29. नेस्टे टू बिल्ड US$814 मिलियन सिंगापोर बायोफ्यूल प्लांट रयुटर्स 3 दिसम्बर 2007
  30. नेस्टे ऑइल आइज़ फर्दर बायोडीज़ल इन्वेस्टमेंट रयुटर्स 30.11.2007
  31. नेस्टे ऑइल रकेंता सिंगापोरीन माइलमन सुरिममन बायोडिज़ल्तेहतान लिस्रेडियो फिनिश टेलीविजन समाचार 30.11.2007 (फिनिश में)
  32. द पाम-ऑइल-बायोडीज़ल नेक्सस ग्रेन 2007
  33. रिकवरी एंड कन्वर्ज़न ऑफ़ पाम ओलिन-डिराइव्ड यूज्ड फ्राइंग ऑइल टू मेथाइल एस्टर्स फॉर बायोडीज़ल लोह सोह खेंग; छु यूएन मे; चेंग सिट फून और मा अह नगन, ऑइल पाम रिसर्च के जर्नल, खंड 18, जून 2006, पृष्ठ 247-252
  34. {{{author}}}, {{{title}}}, [[{{{publisher}}}]], [[{{{date}}}]].
  35. doi:10.1016/j.envsci.2008.10.011
    This citation will be automatically completed in the next few minutes. You can jump the queue or expand by hand
  36. मलेशियाई पाम ऑइल इंडस्ट्री परफॉर्मेंस 2008 वैश्विक तेल और वसा व्यापार पत्रिका खंड 6 अंक 1 (जनवरी-मार्च), 2009.
  37. इंडोनेशिया: पाम ऑइल प्रोडक्शन प्रौस्पेक्ट्स कंटिन्यु टू ग्रो 31 दिसम्बर 2007, यूएसडीए-एफएएस (USDA-FAS)
  38. वर्ल्ड ग्रोथ पाम ऑइल ग्रीन डेवलपमेंट कैम्पेन: "पाम ऑइल - द सस्टैनबल ऑइल अ रिपोर्ट बाई वर्ल्ड ग्रोथ" सितंबर 2009. Oilhttp://www.worldgrowth.org/assets/files/Palm_Oil.pdf
  39. सिनर्जी ड्राइव फॉर्म्स मर्जर इंटीग्रेशन कमिटी साइम डर्बी वेबसाइट
  40. सिनर्जी रिनेम्ड साइम डर्बी द स्टार, 29 नवम्बर 2007
  41. फेडेपल्मा एनुअल कम्युनिकेशन ऑफ़ प्रोग्रेस सस्टैनबल पाम ऑइल में गोलमेज, 2006
  42. Bacon, David. "Blood on the Palms: Afro-Colombians fight new plantations". http://www.dollarsandsense.org/archives/2007/0707bacon.html. "अन फुल्फिल्ड प्रौमिसेज़ एंड परसिस्टेंट आब्स्टकल टू द रियलाइज़ेशन ऑफ़ द राइट्स ऑफ़ अफ्रो-कोलोम्बियंस," [1] ह्युमन राइट्स और जस्टिस के लिए रैपोपोर्ट सेंटर से 1993 के ली 70 के विकास पर एक रिपोर्ट, ऑस्टिन में टेक्सास यूनिवर्सिटी, जुलाई 2007.
  43. Pazos, Flavio (2007-08-03). "Benin: Large scale oil palm plantations for agrofuel". World Rainforest Movement. http://wrmbulletin.wordpress.com/2007/08/03/benin-large-scale-oil-palm-plantations-for-agrofuel. 
  44. "Hybrid oil palms bear fruit in western Kenya". UN FAO. 2003-11-24. http://www.fao.org/english/newsroom/field/2003/1103_oilpalm.htm. 
  45. रिटर्न ऑफ़ द डेथ स्क्वैड्स इन डिज़ टाइम्स, 27 अप्रैल 2010
  46. बॉडी शॉप एथिक्स अंडर आफ्टर कोलोम्बियन पिज़ंट इविक्शंस पर्यवेक्षक, 13 सितंबर 2009
  47. बायोफ्यूल गैंग्स किल फॉर ग्रीन प्रॉफिट्स द लंदन टाइम्स, 3 जून 2007
  48. लायन हार्ट फाउंडेशन को ई. नोवेशन समर्थन करते हैं[मृत कड़ियाँ] लायन हार्ट फाउंडेशन, 21 जून 2007
  49. प्रेस्बिटेरियन आपदा सहायता, कांगो के लोकतांत्रिक गणराज्य
  50. हाइब्रिड ऑइल पाम प्रोजेक्ट इन वेस्टर्न केन्या एफएओ (FAO)
  51. Clay, Jason (2004). World Agriculture and the Environment.. pp. 219. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1559633700. 
  52. "Palm oil threatening endangered species" (PDF). Center for Science in the Public Interest. May 2005. http://www.cspinet.org/palm/PalmOilReport.pdf. 
  53. कूकिंग द क्लाइमेट ग्रीनपीस ब्रिटेन रिपोर्ट, 15 नवम्बर 2007
  54. वंस अ ड्रीम, पाम ऑइल में बी एन इको-नाइटमेर द न्यूयॉर्क टाइम्स, 31 जनवरी 2007
  55. [2], सुमात्रा टाइगर फॉरेस्ट को नष्ट करते हुए बुलडोज़र को कैमरा ने पकड़ा, 15 अक्टूबर 2010 को पुनःप्राप्त
  56. [3], सुमात्रा टाइगर और बुलडोजर के वीडियो, बुकिट बेटाबुह संरक्षित क्षेत्र, रिआउ प्रांत, सुमात्रा, इन्डोनेसा.
  57. चौथी मूल्यांकन रिपोर्ट, कार्य समूह I "द फिजिकल साइंस बेसिस", खंड 7.3.3.1.5 (पृष्ठ. 527), आईपीसीसी (IPCC), 4 मई 2008 को पुनःप्राप्त
  58. http://www.wetlands.org/Aboutus/Whatarewetlands/Threatenedwetlandsites/PeatswampforestsofSarawakMalaysia/tabid/1368/Default.aspx
  59. Andre, Pachter (2007-10-12). "Greenpeace Opposing Neste Palm-Based Biodiesel". Epoch Times. http://en.epochtimes.com/news/7-10-12/60555.html. अभिगमन तिथि: 2007-12-02. 
  60. भूमि समाशोधन और जैव ईंधन कार्बन ऋण. जोसेफ फार्जियुन, जेसन हिल, डेविड टिलमैन, स्टीफन पुलास्की और पीटर हॉथोर्न. प्रकाशित ऑनलाइन 7 फ़रवरी 2008 [DOI: 10.1126/साइंस.1152747] (साइंस एक्सप्रेस रिपोर्ट में) पर्यावरण, राष्ट्रीय विज्ञान फाउंडेशन DEB0620652, प्रिंसटन पर्यावरण संस्थान और बुश फाउंडेशन. मूल्यवान टिप्पणियों और निरीक्षण के लिए टी. सर्चिंगर को और संदर्भ प्रदान करने के लिए जे हर्कर्ट को हम धन्यवाद देते हैं। सपोर्टिंग ऑनलाइन मटीरियल www.sciencemag.org.ऐब्स्ट्रेक्ट सपोर्टिंग ऑनलाइन मटिरियल.
  61. यूनिलीवर कमिट्स टू सस्टेनबल पाम ऑइल फ़ूड Navigator.com 2 मई 2008
  62. कार्बन मार्केट टेक्स साइड्स इन पाम ऑइल बैटल कार्बन वित्त, 20 नवम्बर 2007
  63. एंटीमाइक्रोबियल इफेक्ट्स ऑफ़ पाम कर्नल ऑइल एंड पाम ऑइल एक्विन, यु.एन. और लियोमाह, किंग मोंगकुट इंस्टिट्युट ऑफ़ टेक्नोलॉजी लड्क्रबंग साइंस जर्नल, खंड 5, संख्या 2, जनवरी-जून 2005
  64. Brown, Ellie; Jacobson, Michael F. (2005). Cruel Oil: How Palm Oil Harms Health, Rainforest & Wildlife. Washington, D.C.: Center for Science in the Public Interest. OCLC 224985333. http://www.cspinet.org/new/pdf/palm_oil_final_5-27-05.pdf. [page needed]
  65. Grande, F; Anderson, JT; Keys, A (1970). "Comparison of effects of palmitic and stearic acids in the diet on serum cholesterol in man". The American journal of clinical nutrition 23 (9): 1184–93. PMID 5450836. 
  66. Clarke, R; Frost, C; Collins, R; Appleby, P; Peto, R (1997). "Dietary lipids and blood cholesterol: quantitative meta-analysis of metabolic ward studies". BMJ (Clinical research ed.) 314 (7074): 112–7. PMC 2125600. PMID 9006469. 
  67. Mensink, RP; Zock, PL; Kester, AD; Katan, MB (2003). "Effects of dietary fatty acids and carbohydrates on the ratio of serum total to HDL cholesterol and on serum lipids and apolipoproteins: a meta-analysis of 60 controlled trials". The American journal of clinical nutrition 77 (5): 1146–55. PMID 12716665. 
  68. चूज़ फूड्स लो इन सैच्युरेटेड फैट नैशनल हार्ट, लंग एंड ब्लड इंस्टिट्युट (एनएचएलबीआई (NHLBI)), एनआईएच (NIH) प्रकाशन संख्या 97-4064. 1997.
  69. डाएट, न्यूट्रीशन एंड द प्रिवेंशन ऑफ़ क्रोनिक डिसिज़ेज़ डब्ल्यूएचओ (WHO) तकनीकी रिपोर्ट सिरीज़ 916. जिनेवा. 2003. पृष्ठ 82, 88
  70. Kabagambe, Baylin, Ascherio & Campos; B; A; C (November 2005). "The Type of Oil Used for Cooking Is Associated with the Risk of Nonfatal Acute Myocardial Infarction in Costa Rica". Journal of Nutrition (Journal of Nutrition) 135 (11): 2674–2679. PMID 16251629. http://jn.nutrition.org/cgi/content/abstract/135/11/2674. 
  71. मलेशिया आईएमआर (IMR) रेस्पौंस टू डब्ल्यूएचओ/एफएओ (WHO/FAO) एक्सपर्ट कंसल्टेशन ड्राफ्ट ऑन डाएट, न्यूट्रीशन एंड डी प्रिवेंशन ऑफ़ क्रोनिक डिसीज़, डब्ल्यूएचओ (WHO) वेबसाइट
  72. कोलेस्ट्रोलैमिक इफेक्ट्स ऑफ़ द सैच्युरेटेड फैटी एसिड्स ऑफ़ पाम ऑइल प्रमोद खोसला और के.सी. हैयेस, द युनाइटेड नेशंस यूनिवर्सिटी प्रेस, फ़ूड एंड न्यूट्रीशन बुलिटन, खंड 15 (1993/1994), संख्या 2, जून 1994
  73. Kritchevsky, David (6 जून 2002). "Wistar Institute comments on WHO/FAO Diet, Nutrition and Prevention of Chronic Disease draft report". WHO website. WHO. http://www.who.int/dietphysicalactivity/media/en/gsfao_cmo_102.pdf. अभिगमन तिथि: 2010-05-12. 
  74. Vega-López, Sonia et al. (July 2006). "Palm and partially hydrogenated soybean oils adversely alter lipoprotein profiles compared with soybean and canola oils in moderately hyperlipidemic subjects". American Journal of Clinical Nutrition (American Society for Nutrition) 84 (1): 54–62. PMID 16825681. http://www.ajcn.org/cgi/content/full/84/1/54. 
  75. "Palm Oil Not A Healthy Substitute For Trans Fats, Study Finds". Science Daily Website: Science News. ScienceDaily LLC. 2009-05-11. http://www.sciencedaily.com/releases/2009/05/090502084827.htm. अभिगमन तिथि: 2010-05-12. 
  76. Ng, TK; Hassan, K; Lim, JB; Lye, MS; Ishak, R (1991). Journal of Clinical Nutrition "Nonhypercholesterolemic effects of a palm-oil diet in Malaysian volunteers". The American journal of clinical nutrition 53 (4): 1015S. PMID 2012009. http://www.ajcn.org/cgi/content/abstract/53/4/1015Sjournal=American Journal of Clinical Nutrition. 
  77. Chong, YH; Ng, TK (1991). "Effects of palm oil on cardiovascular risk". The Medical journal of Malaysia 46 (1): 41–50. PMID 1836037. 
  78. द रोल ऑफ़ स्टेरीओ स्पेसिफिक सैच्युरेटेड फैटी एसिड पोजीशन ऑन लिपिड न्यूट्रीशन एरिक ए. डेकर, पोषण समीक्षाएं, 1996, खंड 54, अंक 4, पृष्ठ 108-110.
  79. सैच्युरैटेड फैट्स: व्हाट डाइअटेरी इनटेक? जे ब्रूस जर्मन और कोरा जे डिलर्ड, एम जे क्लीन न्यूट्र, 2004; 80:550-9

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]