तस्मानियाई डैविल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
तस्मानियाई डैविल
Tasmanian Devil
एक मादा तस्मानियाई डैविल
एक मादा तस्मानियाई डैविल
संरक्षण स्थिति
वैज्ञानिक वर्गीकरण
जगत: जंतु
संघ: कौरडेटा (Chordata)
वर्ग: स्तनधारी (Mammalia)
इन्फ्रा-वर्ग: मारसूपियलिया (Marsupialia)
गण: डैसयूरोमोर्फ़िया (Dasyuromorphia)
कुल: डैसयूरिडाए (Dasyuridae)
प्रजाति: सार्कोफ़िलस (Sarcophilus)
जाति: सार्कोफ़िलस हैरिसाए
द्विपद नाम
Sarcophilus harrisii
(ब्वातार्द, १८४१)
तस्मानियाई डैविल का विस्तार (भूरा रंग)
तस्मानियाई डैविल का विस्तार (भूरा रंग)
एक तस्मानियाई डैविल जिसकी गर्दन के नीचे क्षैतिज सफेद धारी है, कुछ चट्टानों पर बैठा है और उसकी गर्दन क्षैतिज से 45 डिग्री ऊपर उठी हुई है.
तस्मानियाई डैविल की मूंछे उसे अँधेरे में शिकार ढूँढने में मदद करती हैं

तस्मानियाई डैविल (सारकोफिलस हैरिसी) एक मांसाहारी धानीप्राणी (मारसूपियल) है जो अब केवल ऑस्ट्रेलिया के द्वीप राज्य तस्मानिया के जंगलों में ही पाया जाता है। इसका आकार एक छोटे कुत्ते के बराबर होता है। १९३६ में थायलेसीन​ के विलुप्त होने के बाद यह दुनिया का सबसे बड़ा मांसाहारी धानीप्राणी बन गया।

तस्मानियाई डैविल की विशेषता इसका नाटा, गठीला और मज़बूत शारीरिक गठन, काले बालों वाली खाल, तीखी गंध, बहुत ऊँची और फटी-हुई आवाज़, गंध की गहरी भावना, और खाते समय क्रूरता है। इसके बड़े सिर और गर्दन के कारण इसकी काटने की शक्ति अपने वज़न के हिसाब से किसी भी जीवित स्तनधारी से अधिक है। इसका प्रयोग यह शिकार, मृत जानवरों को खाने और मानवों से चीज़ें चोरी करके खाने के लिय करता है। यद्यपि यह आमतौर पर अकेला रहता है, यह कभी कभी अन्य डैविलों के साथ भी खाता है और सामूहिक स्थान पर मलत्याग करता है। अपने कुल (डैसयूरिडाए) की अधिकांश जातियों के विपरीत, डैविल प्रभावी ढंग से तापनियंत्रण करने में सक्षम है और दिन के मध्य में बहुत गर्म हुए बिना सक्रिय रहता है। इसके गोल आकार के बावजूद, डैविल की गति और सहनशक्ति आश्चर्यजनक है। यह पेड़ पर चढ़ सकता हैं और तैर कर नदी पार कर सकता है।

उत्पत्ति[संपादित करें]

माना जाता है कि प्राचीन धानीप्राणी दसियों लाख साल पहले गोंडवाना महाद्वीप के समय में आधुनिक-काल में दक्षिण अमेरिका में पड़ने वाले क्षेत्र से पलायन करके ऑस्ट्रेलिया आए थे और, जैसै-जैसे ऑस्ट्रेलिया शुष्क हुआ, इनका विकास होता गया। आधुनिक डैविल के समान प्रजातियों के जीवाश्म पाए गए हैं, लेकिन यह ज्ञात नहीं है कि क्या वे समकालीन प्रजातियों के पूर्वज थे, या वर्तमान डैविल के सह-प्रजाति थे जो मर कर अब विलुप्त हो चुके हैं।

विलुप्ति का ख़तरा[संपादित करें]

तस्मानियाई डैविल ऑस्ट्रेलियाई मुख्य भूमि से कब ग़ायब हुए थे, यह स्पष्ट नहीं है। अधिकांश प्रमाण बताते हैं कि वे लगभग ३००० साल पहले तीन अवशिष्ट आबादियों में संकुचित हो सिमट गए थे। ऑगस्टा (पश्चिम ऑस्ट्रेलिया) में पाए गए एक डैविल दांत को ४३० साल पहले का माना गया है, हालांकि पुरातत्वविद ओलिवर ब्राउन इससे सहमत नहीं हैं। वे मानते हैं कि डैविलों का मुख्य भूमि से विलुप्तीकरण लगभग ३००० साल पहले हुआ था।[2] इस लोप के लिए आमतौर पर जंगली कुत्तों को दोषी ठहराया जाता है जो तस्मानिया में उपस्थित नहीं हैं। क्योंकि उन्हें तस्मानिया में बसने वाले यूरोपीय मूल के लोगों ने पशुधन और मनुष्य द्वारा ख़ाल के लिए लक्षित जानवरों के लिए ख़तरे के रूप में देखा गया, इसलिए उनका शिकार किया जाने लगा और वे लुप्तप्राय हो गए। डैविल, जिसे मूलतः अशांत और उग्र माना गया था, १९४१ में आधिकारिक रूप से संरक्षित हो गया। तब से, वैज्ञानिक अध्ययन से पता चला है कि डैविल के पशुधन के लिए हानिकारक होने की चिंताएँ अधिक-अनुमानित और ग़लत थीं।

प्रजनन[संपादित करें]

डैविल एकपत्नीक नहीं हैं और उसमें प्रजनन प्रक्रिया बहुत मज़बूत और प्रतिस्पर्धी है। नर मादाओं के लिए एक-दूसरे से लड़ते हैं और फिर अपनी साथिन को अन्य किसी के पास जाने से रोकते हैं। मादाएँ मिथुनीकरण के मौसम में तीन सप्ताह में तीन बार अंडोत्सर्ग कर सकती हैं और ढाई वर्षीय मादाओं में से ८०% गर्भवती नजर आती हैं। मादाओं के जीवन में औसतन चार प्रजनन के मौसम आते हैं तथा वे तीन सप्ताह बाद २०-३० जीवित नवजातों को जन्म देती हैं। नवजात गुलाबी रंग के होते हैं, और उनकी त्वचा पर घने बाल नहीं होते। उनकी चेहरे की विशेषताएँ अस्पष्ट होती हैं और जन्म के समय उनका वजन ०.२० ग्राम के आसपास होता है। क्योंकि धानी (थैली) में केवल चार स्तनाग्र होते हैं, इसलिए नवजातों में आपस में ख़ूनी संघर्ष होते हैं और कुछ ही नवजात जीवित रह पाते हैं। नवजात तेज़ी से बढ़ते हैं और करीब १०० दिन बाद थैली से बाहर निकाल दिए जाते हैं। उस समय इनका वज़न लगभग २०० ग्राम होता है। शावक लगभग नौ महीने के बाद आत्मनिर्भर हो जाते हैं, इसलिए मादा का साल का अधिकांश समय बच्चे के जन्म और पालन से संबंधित गतिविधियों में खर्च होता है।

महामारी[संपादित करें]

१९९० के दशक के अंत से, डैविल मुखार्बुद (चहरे पर ट्यूमर) की बीमारी के कारण डैविलों की जनसंख्या ज़बरदस्त रूप से कम हुई है और अब इस प्रजाति की उत्तरजीविता ख़तरे में है। मई २००९ में इसके लुप्तप्राय होने की घोषणा की गई। तस्मानिया सरकार द्वारा रोग से अलग संरक्षण में स्वस्थ डैविलों का समूह बनाने के लिए पहल करने सहित, रोग के प्रभाव को कम करने के लिए वर्तमान में कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं। जब तक थायलेसीन​ मौजूद था, वह डैविल का शिकार करता था। डैविल भी नन्हें और अकेले थायलेसीन​ बच्चों की तलाश में उनका गुफ़ा में आते थे। अब थायलेसीन​ तो रहे नहीं, लेकिन डैविल तस्मानिया में अवैध रूप से लाई गई लाल लोमड़ी द्वारा शिकार किया जा रहा है। सड़क पर मोटर गाड़ियों की टक्कर से भी डैविल की स्थानीय आबादी गंभीर रूप से कम हो रही है, ख़ासकर जब वे सड़क पर मृत जानवरों के शवों को खा रहे होते हैं। डैविल तस्मानिया का प्रतीक चिह्न है और कई संगठन, राज्य के साथ जुड़े समूह और उत्पाद अपने लोगो में इस जानवर का उपयोग करते हैं। इसे तस्मानिया में पर्यटकों के लिए एक महत्वपूर्ण आकर्षण के रूप में देखा जाता है और लूनी ट्यून्स (पुराना लेकिन लोकप्रिय अमेरीकी टेलिविज़न कार्टून धारावाहिक) में इसी नाम के पात्र के माध्यम से यह दुनिया भर की नजरों में आया है। निर्यात प्रतिबंध और विदेशों में डैविलों की नस्ल बढ़ाने में विफलता के कारण ऑस्ट्रेलिया के बाहर लगभग कहीं भी डैविल का अस्तित्व नहीं है, सिवाय उनके जिन्हें अवैध रूप से बाहर ले जाया गया हो।

वर्गीकरण[संपादित करें]

प्रकृतिवादी जॉर्ज हैरिस ने तस्मानियाई डैविल का पहला प्रकाशित विवरण 1807 में लिखा था और गोल कानों वाली इसकी भालू जैसी विशेषताओं के कारण इसका नाम डाइडेल्फिस उर्सिना रखा, जिसका शाब्दिक अर्थ होता है "मीट खाने वाला भालू".[3] उसने पहले लंदन जूलॉजिकल सोसायटी में इस विषय पर एक प्रस्तुतिकरण दिया था.[4] 1841 में पियरे बोइटार्ड द्वारा सार्कोफिलस प्रजाति में लेने और सार्कोफिलस हैरिसी या "हैरिस के मांसप्रेमी" नाम रखने से पूर्व, 1838 में रिचर्ड औवन द्वारा डैविल का फिर नामकरण किया गया डैस्योरस लैनिएरियस . बाद में डैविल के वर्गीकरण का एक संशोधन 1987 में प्रकाशित हुआ, जिसमें मुख्यभूमि पर केवल कुछ जानवरों के जीवाश्म अभिलेख के आधार पर इसकी प्रजाति का नाम बदल कर सार्कोफिलस लैनिएरियस करने के प्रयास किए गए.[5] हालांकि, वर्गीकरणविज्ञानी समुदाय द्वारा व्यापक रूप से इसे स्वीकार नहीं किया गया; इसका नाम एस हैरिसी बरकरार रखा गया है और एस लैनिएरियस जीवाश्म प्रजातियों को दे दिया गया.[6] तस्मानिया के खोजकर्ताओं द्वारा नर्क के राजकुमार और डैविल के सहायक, एक धार्मिक देवता के संदर्भ में इसका प्रारंभिक देशी नाम बीलजेबुब का पिल्ला रखा था,[4] खोजकर्ताओं की इस जानवर से पहली मुलाकात तब हुई थी जब रात को उसकी दूर तक पहुंचने वाली आवाज सुनी थी.[7] प्रारंभिक गलत धारणाओं के कारण कि वह निश्चय ही कोई दुष्टात्मा थी, 19 वीं सदी में उपयोग में लाए गए उसके संबंधित नाम थे सारकोफिलस सैटेनिकस (डैविली मांसप्रेमी) और डायबोलस उर्सिनस (पैशाचिक भालू).[4]

तस्मानियाई डैविल (सारकोफिलस हैरिसी ) डैस्योरिडे परिवार का सदस्य है. सारकोफिलस वंश में शामिल दो अन्य प्रजातियों के बारे में प्लीस्टोसीन जीवाश्म, एस. लैनिएरियस और एस. मूमेंन्सिस , से ही जाना गया है. तीनों प्रजातियों के बीच रिश्ते स्पष्ट नहीं हैं. वंशावली विश्लेषण से पता चलता है कि डैविल क्वोल से सर्वाधिक निकट से संबंधित है.[8]

ऑस्ट्रेलियाई धानियों की जड़ें करोड़ों साल पहले के उस समय में मानी जाती हैं जब वर्तमान दक्षिणी गोलार्द्ध का अधिकांश हिस्सा बृहतमहाद्वीप गोंडवाना का हिस्सा था, ऐसा माना जाता है कि धानी, जो अब दक्षिण अमें रिका है, में उत्पन्न हुए थे और वहां से चल कर अंटार्कटिका में आए जहां उस समय शीतोष्ण जलवायु थी.[9] भूमि निम्नीकरण होने पर, यह माना जाता है कि धानियों ने ऑस्ट्रेलिया में अधिक बुनियादी वनस्पति के साथ अनुकूलन कर लिया था.[9] पेम्बर्टन के अनुसार, डैविल के संभावित पूर्वजों को भोजन प्राप्त करने के लिए पेड़ पर चढ़ने की जरूरत हुई होगी, जिसके परिणाम में उनके आकार में वृद्धि और कई धनियों की चाल में उछाल आई. उन्होंने अनुमान लगाया है समकालीन डैविलों की विशिष्ट चाल का कारण ये रूपांतरण हो सकते हैं.[10] तस्मानियाई डैविल का विशिष्ट वंश सिद्धांत रूप में मध्यनूतन युग में उभरा माना जाता है- आणविक प्रमाणों के अनुसार एक से डेढ़ करोड़ साल पहले क्वोल के पूर्वजों में विभाजन हुआ था[11]- जब ऑस्ट्रेलिया में गंभीर जलवायु परिवर्तन हुए, गर्म और नम जलवायु, एक निर्जल, सूखी बर्फ आयु में, परिवर्तित हो गई, जिसके परिणामस्वरूप सामूहिक विलुप्तीकरण हुआ.[10] चूंकि उनके अधिकतर शिकार ठंड के कारण मारे गए थे, क्वोल और थाइलेसिन के पूर्वजों में से कुछ ही मांसाहारी जीवित बच पाए थे. यह अनुमान लगाया गया है कि डैविल का वंश इस समय उठा हो सकता है पारिस्थितिकी तंत्र में एक मुर्दाखोर के रूप में, चुन-चुन कर खाने वाले थाइलेसिन द्वारा पीछे छोड़ी गई लाशों का सफाया करने के लिए.[10] अतिनूतन युग के ग्लूकोडोन बैलेराटेन्सिस को क्वोल और डैविल की मध्यवर्ती प्रजाति करार दिया गया है.[12] नैराकूर्ट, दक्षिण ऑस्ट्रेलिया में स्थित चूना पत्थर की गुफाओं में जमा जीवाश्म मधयनून युग के हैं जिनमें एस. लैनिएरस के नमूने शामिल हैं, जो आधुनिक डैविल से 15% ज्याद बड़े और 50% अधिक भारी थे.[13] अधिक पुराने नमूने जो 50-70,000 वर्ष पुराने माने जाते हैं, डार्लिंग डाउन्स, क्वींसलैंड तथा पश्चिम ऑस्ट्रेलिया में पाए गए थे.[14] यह स्पष्ट नहीं है कि क्या आधुनिक डैविल का विकास एस. लैनिएरस से हुआ या क्या वे उस समय एक साथ रहे थे.[14] 19वीं शताब्दी में रिचर्ड ओवेन ने न्यू साउथ वेल्स में 1877 में पाए गए जीवाश्मों के आधार पर दूसरी परिकल्पना के पक्ष में दलील दी थी.[14] बड़ी हड्डियों के लिए न्यू साउथ वेल्स में पाए गए एस. मूरनेंसिस को जिम्में दार माना गया है[14] और यह अनुमान लगाया गया है कि इन दो विलुप्त बड़ी प्रजातियों ने शिकार किए होंगे और लाशों को खा गए होंगे.[14] यह ज्ञात है कि लाखों साल पहले थाइलेसिन की कई पीढ़ियां थीं और यह कि उनके आकार भिन्न थे, छोटे चराई पर अधिक निर्भर थे.[15] चूंकि थाइलेसिन और डैविल एक जैसे हैं, साथ-साथ रहने वाली थाइलेसिन पीढ़यों के विलुप्तीकरण को डैविल के अनुरूप इतिहास के लिए सबूत के रूप में उद्धृत किया गया है.[16] यह अनुमान लगाया गया है कि छोटे एस. लैनिएरस और एस. मूर्नेंसिस में बदलती परिस्थितियों के अनुसार अधिक प्रभावी ढंग से अनुकूलन करने और संबंधित थाइलेसिन की तुलना में अधिक लंबे समय तक जीवित रहने की क्षमता थी.[16] चूंकि इन दो प्रजातियों का विलुप्तीकरण उसी समय आया था जिस समय ऑस्ट्रेलिया में मानव आबादी बस रही थी, मानव द्वारा शिकार के साथ-साथ भूमि को वृक्षहीन करने को संभावित कारण बताया गया है.[17] इस सिद्धांत के आलोचकों का कहना है कि स्वदेशी ऑस्ट्रेलियाइयों ने 10,000 वर्ष पूर्व शिकार के लिए बूमरैंग और भाले विकसित किए थे, नियमित शिकार की वजह से संख्या में गंभीर कमी होने की कोई संभावना नहीं हैं. वे यह भी बताते हैं कि मूल डैविल के निवास इन गुफाओं में बहुत कम अनुपात में हड्डियां और डैविल के शैलचित्र मिले हैं जो इस बात का सूचक है कि यह उनकी मूल जीवनशैली का एक बड़ा हिस्सा नहीं था. 1910 में एक वैज्ञानिक रिपोर्ट में ने दावा किया गया था कि आदिम जानवर मांसाहारी की बजाय शाकाहारियों का मांस खाना पसंद करते थे.[18] एक अन्य मुख्य सिद्धांत के अनुसार विलुप्तीकरण के लिए आयु बर्फ हाल था की वजह से सबसे अधिक से चालू करने के लिए जलवायु परिवर्तन लाया है.[17]

जबकि जंगली कुत्तों को मुख्य भूमि से डैविल के लापता होने के मुख्य कारण के रूप में देखा जाता है, एक अन्य सिद्धांत यह है कि मुख्य भूमि की बढ़ती निर्जलता के कारण विलुप्तीकरण हुआ, जबकि तस्मानिया में इनकी आबादी अधिकतर अप्रभावित रही कियोंकि यहां जलवायु ठंडी और नम है,[19] और यह कि जंगली कुत्ते तो द्वित्तीयक कारण हैं.[20]

चूंकि डैविल थाइलेसिन का सबसे करीबी रिश्तेदार है, यह अटकल लगाई जाती रही है कि संग्रहालय में रखे थाइलेसिन के नमूनों से डीएनए (DNA) के डैविल के डिम्ब से संयोजन के द्वारा थाइलेसिन को पुनर्जीवित किया जा सकता है.[21]

आनुवांशिकी[संपादित करें]

तस्मानियाई डैविल के जीनोम को 2010 में वेलकम ट्रस्ट सेंगर इंस्टीट्यूट द्वारा अनिक्रमित किया गया था.[22] सभी डैस्योरिडों के समान डविल के भी 14 क्रोमोसोम होते हैं.[23] अन्य ऑस्ट्रेलियाई धानियों और अपरायुक्त मांसाहारियों की तुलना में डैविलों में आनुवंशिकी विविधता कम होती है; यह एक संस्थापक प्रभाव के संगत है क्योंकि मापी गई सभी उपजनसंख्याओं में विकल्पों के आकार की सीमा कम थी तथा लगभग लगातार थी. उपजनसंख्या नमूने में वैकल्पिक विविधता 2.7-3.3 मापी गई जबकि विषमयुग्मजता 0.386-0.467 सीमा में थी.[24] मेना जोन्स के एक अध्ययन के अनुसार, "जीन प्रवाह 50 किमी तक व्यापक दिखाई देता है", जिसका अर्थ है उच्च गतिविधि आंकड़ो के अनुकूल स्रोत या नजदीकी पड़ौसी जनसंख्याओं के साथ उच्च निर्दिष्टिकरण दर. बड़े पैमानों पर (150-250 किमी), जीन प्रवाह में कमी आती है, लेकिन दूरी के कारण अलगाव के लिए कोई सबूत नहीं है.[24] द्वीप प्रभावों ने भी उनकी कम आनुवंशिक विविधता में योगदान दिया हो सकता है. कम जनसंख्या घनत्व की अवधियों ने भी आनुवंशिक विविधता घटाते हुए मध्यम जनसंख्या अवरोध उत्पन्न किए हो सकते हैं.[24] डीएफटीडी (DFTD) का प्रकोप अंतःप्रजनन में वृद्धि का एक कारण है.[25] राज्य के पश्चिमोत्तर में डैविलों की उपजनसंख्या, अन्य डैविलों से आनुवंशिक रूप से भिन्न है,[26] लेकिन दोनों समूहों के बीच कुछ आदान-प्रदान होता है.[27]

पूरे तस्मानिया में कई स्थानों से लिए गए प्रमुख उतक अनुरूपता संकुल (एमएचसी (MHC)) श्रेणी I क्षेत्र पर एक ऊतक समनुरूपण बहुरूपता (ओएससीपी (OSCP)) विश्लेषण ने 25 भिन्न प्रकार दिखाए तथा उत्तर-पश्चिमी तस्मानिया से पूर्वी तस्मानिया तक एमएचसी प्रकारों के भिन्न पैटर्न दिखाए. जो डैविल राज्य के पूर्व में हैं उन की एमएचसी (MHC) विविधता कम है; 30% अर्बुदवालों के समान हैं (प्रकार 1), 24% ए प्रकार के हैं.[28] पूर्व में हर दस में से सात डैविल ए, डी, जी या 1 प्रकार के हैं, जो डीएफटीडी (DFTD) से जुड़े हुए हैं; जबकि केवल 55% पश्चिमी डैविल इन एमएचसी (MHC) श्रेणियों में आते हैं. 25 एमएचसी (MHC) प्रकारों में से, 40% पश्चिमी डैविलों के लिए विशिष्ट हैं. हालांकि उत्तर पश्चिम में जनसंख्या आनुवंशिक रूप से कम समग्र विविध है, इस में उच्च एमएचसी (MHC) जीन विविधता है, जो उन्हें डीएफटीडी (DFTD) के प्रति जबर्दस्त प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया में सक्षम बनाती है. इस अनुसंधान के अनुसार, डैविल का मिश्रण रोग की संभावना को बढ़ा सकता है.[28]

सर्वेक्षण किए गए तस्मानिया के 15 विभिन्न क्षेत्रों में से छह द्वीप के पूर्वी अर्द्ध में थे. पूर्वी अर्द्ध में, एप्पिंग वन में केवल दो भिन्न प्रकार थे, जिनमें से 75% ओ प्रकार के थे. बकलैंड-न्यूजेंट क्षेत्र में केवल तीन प्रकार उपस्थित थे, प्रत्येक स्थान पर औसतन 5.33 भिन्न प्रकार थे. इसके विपरीत, पश्चिम में, केप सोरेल में तीन प्रकार पाए गए, और टोगरी उत्तरी-क्रिसमस हिल्स में छह, लेकिन अन्य सभी सात स्थलों में से प्रत्येक पर कम से कम आठ एमएचसी (MHC) प्रकार थे और पश्चिमी पेंसिल पाइन में 15 प्रकार थे. पश्चिम में औसतन 10.11 एमएचसी (MHC) प्रति स्थल थे.[28]

विवरण[संपादित करें]

दो डैविल, आस पास बैठे हुए, बाईं ओर वाले की गर्दन के नीचे एक सफेद पट्टी है.वे रेत की ढेरी पर खड़े हुए हैं.पृष्ठभूमि में पत्थर देखे जा सकते हैं.
Two devils, one without any white markings. Around 16% of wild devils have no markings.

तस्मानियाई डैविल ऑस्ट्रेलिया में सबसे बड़ा जीवित मांसाहारी धानी है. यह एक गोल-मोल और मोटी बनावट तथा बड़े सिर वाला होता है जिसकी पूंछ की लंबाई उसके शरीर की लंबाई की आधी होती है. एक धानी के लिए असामान्य रूप से, इसकी आगे वाली टांगें पिछली टांगों की तुलना में थोड़ी बड़ी होती हैं. डैविल्स 13 कि.मी. (8.1 मील) प्रति घंटे की गति से छोटी दूरी के लिए दौड़ सकते हैं. आमतौर पर फर काला होता है, हालांकि छाती और दुम पर अनियमित सफेद धब्बे आम हैं.[29] ये चिह्न बताते हैं कि डैविल सुबह और शाम को सबसे अधिक सक्रिय होते हैं. ऐसा सोचा जाता है कि ये निशान काटने वाले हमलों को शरीर के कम महत्वपूर्ण क्षेत्रों पर केंद्रित करते हैं, क्योंकि डैविलों के बीच लड़ाई के कारण उस क्षेत्र में निशान केंद्रित हो जाते हैं. लगभग 16% जंगली डैविलों के सफेद धब्बे नहीं होते हैं.[30] नर आमतौर पर मादाओं से बड़े होते हैं, जिनके सिर और शरीर की औसत लंबाई तथा पूंछ और औसत वजन 8 कि॰ग्रा॰ (18 पौंड) होता है. मादाओं के सिर और शरीर की लंबाई के साथ पूंछ और औसत वजन होता है.[29] पश्चिमी तस्मानिया में डैविल्स छोटे होते हैं.[31] डैविल के आगे के पैरों पर पांच लंबी उंगलियां, चार सामने की ओर इशारा करते हुए और एक पार्श्व में निकलती हुई, जो डैविल को खाद्य को पकड़ने की क्धाषमता देती है. पिछले पैर में चार उंगलियां होती हैं. डैविल के पंजे गैर-आकुंचनशील होते हैं.[27] नाटे डैविलों का द्रव्यमान केंद्र अपेक्षाकृत नीचे की ओर होता है.[32] डैविल्स दो साल की उम्र में पूर्णतया विकसित होते हैं,[26] और कुछ डैविल जंगल में पांच साल की उम्र से अधिक जीवित रहते हैं.[33]

डैविल अपने शरीर की वसा का भंडारण अपनी पूंछ में करता है और स्वस्थ डैविल की पूंछ मोटी होती है.[34] पूंछ बड़े पैमाने पर गैर-परिग्राही और उसके शरीर विज्ञान, सामाजिक व्यवहार और हरकत के लिए महत्वपूर्ण होती है. डैविल को तेज चलते समय स्थिरता देने के लिए यह प्रतिभार के रूप में कार्य करती है.[35] इसकी पूंछ के आधार पर एक गुदा-जननांग गंध ग्रंथि उनके पीछे तेज और तीखी गंध भूमि को चिह्नित करने के काम आती है.[36] नर के बाह्य अंडकोश होते हैं; ये पेट की पार्श्व अधर-उरू महापेशी सलवटों से निर्मित एक थैली जैसी संरचना में स्थित होते हैं, जो आंशिक रूप से अंडकोषों को छुपाती हैं और उनकी रक्षा करती हैं. अंडकोषों का आकार अर्द्ध अंडाकार होता है और वयस्क नरों के 30 अंडकोषों का औसत आयाम 3.17 × 2.57 सेमी था.[37] महिला की थैली पीछे की ओर खुलती है, और अन्य डैस्युरिड्स के विपरीत, इनमें जीवन भर मौजूद रहती है.[37]

स्तनधारियों की दांत से काटने की शक्ति के शरीर के आकार के सापेक्ष विश्लेषण से पता चलता है कि अब तक हुए स्तनधारियों में डैविल के काटने की शक्ति सर्वाधिक होती है 5,100 psi (35,000 kPa).[38] यह शक्ति चार गुना बड़े कुत्ते द्वारा जनित शक्ति के बराबर होती है, लाश को काटने के संदर्भ में एक डैविल की काटने की ताकत एक चीते से भी अधिक प्रबल होती है, जिसके कारण वह मोटे धातु के तार को भी काट देता है.[39] इसकी जबड़े की शक्ति विशाल सफेद शार्क के समान आंशिक रूप से इसके बड़े सिर और मोटी गर्दन के कारण होती है. तस्मानियाई डैविल के दांत और जबड़े, संसृत विकास के उदाहरण लकड़बग्घे के जैसे होते है.[40][41] जबड़ा 75-80 अंश तक खुल सकता है, जिससे डैविल को मांस को फाड़ने और हड्डियों को कुचलने के लिए बड़ी मात्रा में शक्ति उत्पन्न होती है.[35] डैस्यूरिड के दांत आदिम धानियों से मिलते-जुलते होते हैं. सभी डैस्यूरिड्स की तरह, डैविल के प्रमुख श्वानीय और कपोल दांत होते हैं. इनके दो तीन जोड़े नीचे के कृंतक दोतों के और चार जोड़े ऊपर के कृंतक दोंतों के होते हैं. ये डैविल के मुख के सामने शीर्ष पर स्थित होते हैं.[42] कुत्तों की तरह, उनके 42 दांत होते हैं, और जन्म के बाद बदलते नहीं हैं तथा पूरे जीवन में धीमी गति से लगातार बड़ते रहते हैं.[34][41] इनके अत्यधिक मांसाहारी दंतोद्भेदन तथा हड्डी उपभोग के लिए पोषी रूपांतरण होते हैं.[43] डैविल के पंजे लंबे होते हैं जिनसे वह भूमिगत खाद्य को खोजने के लिए बिलों को खोदता है, शिकार को पकड़ता है तथा दृढ़ता से संभोग करता है.[41] दांत और पंजों की ताकत के कारण ये 30 किलेग्राम तक के वजनवाले वोम्बैट्स पर हमला करतै है.[43] बड़े गर्दन और शरीर का अग्रभाग डैविल को शक्ति देते हैं, साथ ही इसके कारण शरीर के अग्रार्द्ध की ओर झुकाव हो जाता है; डैविल की एकतरफा, अजीब, धपाधप चाल इसी कारण होती है.[44]

डैविल के चेहरे पर तथा सिर के शीर्ष पर लंबी मूंछें होती हैं. अंधेरे में चारा खोजते समय शिकार का पता लगाने में ये डैविल की मदद करती हैं और खाते समय अन्य डैविलों की नजदीक उपस्थिति का भी पता लगाने में सहायता करती हैं.[41] मूंछें ठोड़ी के किनारे से जबड़े के पीछे तक जा सकती हैं और इसके कंधों की चौड़ाई को कवर कर सकती हैं.[41] श्रवण इसकी प्रमुख इंद्रिय है, इसका गंध का बोध उत्कृष्ट है जिसकी सीमा एक किलोमीटर है.[34][41] क्योंकि डैविल रात में शिकार करते हैं, ऐसा लगता है कि श्वेत-श्याम में उनकी दृष्टि बहुत तेज होती है. इन परिस्थितियों में वे गतिशील वस्तुओं का पहले से ही पता लगा लेते हैं, लेकिन स्थिर वस्तुओं को देखने में उन्हें कठिनाई होती है.[34]

अन्य धानियों के विपरीत डैविल के "सुस्पष्ट, काठी के आकार के बाह्यकर्णपटह" होते हैं.[45]

वितरण और आवास[संपादित करें]

डैविल्स तस्मानिया द्वीप पर शहरी क्षेत्रों के बाहरी इलाकों सहित सभी आवासों में पाए जाते हैं, वे विशेष रूप से शुष्क, दृढ़पर्ण जंगलों और तटीय वनस्थली को पसंद करते हैं.[46] वे तस्मानिया के सबसे ऊंचे स्थानों पर नहीं मिलते, और राज्य के दक्षिण पश्चिम में बटन घास के मैदानों में उनका जनसंख्या घनत्व कम है, तथा शुष्क या मिश्रित दृढ़पर्ण वनों में और तटीय झाड़ीदार मैदानों में इनका घनत्व अधिक है. डैविल लंबे जंगल की बजाय खुले जंगल तथा नम जंगलों की बजाय शुष्क वन पसंद करते हैं.[26] क्रेडल माउंटेन पर एक अध्ययन से पता चला है कि वयस्क डैविलों के नम जंगलों में पाए जाने की संभावना तीन गुना अधिक होती है. हालांकि, किशोर डैविलों का सूखे जंगलों में प्रतिशत 13.5 से गिरकर 7.2 रह गया और गीले जंगलों में 38.9 से बढ़कर 42.4% हो गया.[47] ऐसा विश्वास है कि वे तस्मानिया की मुख्यभूमि पर सब तरफ लगातार वितरित हैं.[48] वे सड़कों के पास भी पाए जाते हैं जहां जानवरों के मारे जाने की घटनाएं अधिक होती हैं, हालांकि डैविल स्वयं भी सड़क पर लाशों को ढूंढते समय अक्सर मारे जाते हैं.[48] वे रॉबिन्स द्वीप पर भी मौजूद हैं जो तस्मानिया की मुख्य भूमि से नीचे ज्वार द्वारा जुड़ा हुआ है.[27] ब्रूनी द्वीप पर वे 1800 से मौजूद थे, लेकिन 1900 के बाद उनकी उपस्थिति का कोई रिकॉर्ड नहीं है.[1] 1990 के दशक के मध्य में डैविल्स बैजर द्वीप में लाए गए थे लेकिन यह माना जाता है की 2005 तक वे मर गए थे.[26] उत्तर पश्चिमी आबादी फोर्थ नदी के पश्चिम में और दक्षिण में मैकुअरी हैड्स तक स्थित है.[1] डैविलों का "मुख्य आवास" "पूर्वी एवं उत्तर-पश्चिमी तस्मानिया के कम से मध्यम वार्षिक वर्षा क्षेत्र" के अंदर समझा जाता है.[27]

आवास परिवर्तन या विनाश को डैविल के लिए एक बड़े खतरे के रूप में नहीं देखा जाता क्योंकि आवास के उपयोग के मामले में वह परिवर्तनशील है.[48]

डैविल, तस्मानियाई थ्रेटन्ड स्पिसीज प्रोटेक्शन एक्ट 1995 के अंतर्गत दुर्लभ वर्गीकृत एक अकशेरुकीय फीताकृमि डैस्यूरोटीनिया रोबस्टा से सीधे जुड़ा हुआ है. फीताकृमि केवल डैविल में ही पाया जाता है.[26]

पारिस्थितिकी और व्यवहार[संपादित करें]

सूखी घास और मृत पत्तों पर एक डैविल पेट के बल पर बैठा हुआ है.उसने अपने चेहरे के सामने अपनी आगे की टांगें बाहर फैला रखी हैं.
Although Tasmanian devils are nocturnal, they like to rest in the sun. Scarring from fighting is visible next to this devil's left eye.

तस्मानियाई डैविल एक रात्रिकालीन एवं सांध्यकालीन शिकारी है, दिन घनी झाड़ियों में या किसी बिल में व्यतीत करता है.[46] यह अनुमान लगाया गया है कि रात्रिचरण संभवतः गिद्धों द्वारा परभक्षण और मानव से बचने के लिए किया गया है.[49] युवा डैविल मुख्य रूप से सांध्यचर हैं.[50] अकर्मण्यता का कोई सबूत नहीं है.[51]

युवा डैविल पेड़ों पर चढ़ सकते हैं, लोकिन जब वे बड़े हो जाते हैं तो यह बहुत कठिन हो जाता है.[52] डैविल 40 सेमी (16 इंच) से अधिक व्यास के तने वाले पेड़ों पर लगभग 2.5-3 मी (8-10 फुट) की ऊंचाई तक चढ़ सकते हैं, जिन पर प्रायः पकड़ने के लिए छोटी-छोटी शाखाएं नहीं होती. अवयस्क डैविल झाड़ियों पर 4 मी तक चढ़ सकते हैं और अगर सीधा न हो तो पेड़ पर 7 मी (25 फुट) तक चढ़ सकते हैं.[47] क्रेडल माउंटेन में एक किशोर डैविल के पेड़ पर दिखाई देने की दोगुनी संभावना होती है.[47] बहुत भूखे होने पर वयस्क डैविल युवा डैविल को खा सकते हैं, इसलिए पेड़ पर चढ़ने की यह विशेषता युवा डैविलों के बचने के लिए एक अनुकूलन हो सकती है.[53] डैविल्स तैर भी सकते हैं और बर्फीले ठंड जलमार्गों सहित 50 मीटर चौड़ी नदियों को, जाहिरा तौर पर उत्साह से पार करते हुए देखा गया है.[52]

तस्मानियाई डैविल झुंड नहीं बनाते, लेकिन एक बार दूध पीना छोड़ने पर वे अधिकतर अपना समय अकेले व्यतीत करते हैं.[46][50] चिर प्रतिष्ठित रूप से यह माना जाता था कि ये एकांतवासी प्राणी हैं, इनके सामाजिक संबंधों को खराब समझा गया था. हालांकि, 2009 में प्रकाशित एक क्षेत्र अध्ययन ने इस पर कुछ प्रकाश डाला है. नरॉन्टापू राष्ट्रीय उद्यान में तस्मानियाई डैविलों को निकटता संवेदक रेडियो कॉलर से सज्जित किया गया, जिनसे फरवरी 2006 से जून 2006 तक अन्य डैविलों के साथ उनकी सहभागिता को रिकॉर्ड किया गया. यह पता चला है कि सभी डैविल एक ही विशाल संपर्क नेटवर्क का हिस्सा थे, संगम ऋतु के दौरान नर-मादा बातचीत इस की विशेषता थी, जबकि महिला-महिला बातचीत अधिकांश अन्य समय में आम थी, यद्यपि आवृत्ति और संपर्क के पैटर्न स्पष्ट रूप से मौसमों के बीच अलग-अलग नहीं थे. पहले सोचा जाता था कि वे भोजन पर लड़ते थे, नरों ने शायद ही कभी दूसरे नर से बातचीत की थी.[54] इसलिए, एक क्षेत्र के सभी डैविल एकल सामाजिक नेटवर्क का हिस्सा हैं.[55] वे सामान्य रूप से गैर क्षेत्रीय माने जाते हैं, किंतु मादाएं अपनी गुफाओं के आसपास क्षेत्रीय होती हैं.[34] इससे क्षेत्रीय जानवरों की तुलना में डैविलों की बड़ी संख्या बिना किसी संघर्ष के दिए हुए क्षेत्र पर अधिकार करती है.[56] इसके बजाय तस्मानियाई डैविलों ने गृह सीमा पर कब्जा किया.[57] एक अनुमान के अनुसार 14 से 28 दिन के बीच, डैविलों ने डेटा सीमा 4-27 किमी² के साथ औसतन 13 किमी² की सीमा में अधिकार किया.[26] इन क्षेत्रों की स्थिति और ज्यामिति खाद्य के वितरण पर निर्भर करती है, खासकर आसपास के वॉलेबी और पैडिमें लन.[56]

डैविल्स तीन या चार मांद नियमित रूप से उपयोग करते हैं. पूर्व में वॉमबैट्स के स्वामित्व में रही मांदों को उनकी सुरक्षा के कारण प्रसूति मांद के रूप में उपयोग किया जाता है. खाड़ियों के पास घनी वनस्पति, मोटे घास के गुच्छ, और गुफाएं भी मांद के रूप में इस्तेमाल की जाती हैं. वयस्क डैविल उसी मांद का पूरे जीवन के लिए उपयोग करता है. यह माना जाता है कि क्योंकि एक सुरक्षित मांद बेशकीमती होती है, कुछ का शताब्दियों के लिए जानवरों की कई पीढ़ियों द्वारा प्रयोग किया गया हो सकता है.[56] अध्ययनों ने सुझाया है कि खाद्य सुरक्षा, मांद सुरक्षा की तुलना में कम महत्वपूर्ण है, क्योंकि आवास विनाश का दूसरे पर अधिक प्रभ कम मृत्यु दर पर सुरक्षा, के रूप में निवास के विनाश है कि प्रभावों का प्रभाव था और अधिक है उत्तरार्द्ध.[56] छोटे पिल्ले अपनी माताओं के साथ उनकी मांद में रहते हैं, और अन्य डैविल गतिशील रहते हैं,[56] हर 1-3 दिन में मांद बदलते रहते हैं और हर रात औसतन 8.6 किमी की दूरी की यात्रा करते हैं.[58] हालांक वहां भी रिपोर्ट है कि एक ऊपरी बाध्य रात प्रति 50 किमी हो सकती है. तीखी ढलानों या चट्टानी भू-भाग को छोड़कर, वे तराई, घाटी और खाड़ी के किनारों के साथ-साथ, खासकर बनी हुई पगडंडियों और पशुधन के मार्गों को पसंद करते हैं.[26][31] ऐसा माना जाता है कि हाल ही में जन्म देने वाली माताओं को छोड़ कर गतिविधि की मात्रा वर्ष भर समान रहती है.[26] नरों और मादाओं के लिए यात्रा की दूरी में समानता यौन द्विरूपी, एकान्तवासी मांसाहारी के लिए असामान्य है. चूंकि एक नर को अधिक भोजन की आवश्यकता होती है, वह अधिक यात्रा की बजाय खाना खाएगा. डैविल आम तौर पर शिकार के दौरान अपनी गृह सीमा का सर्किट बनाते हैं.[56] बस्ती के निकट मानव आबादी में, वे कपड़े, कंबल और तकिए चुराने और लकड़ी के भवनों में मांद में इस्तेमाल के लिए ले जाने के लिए जाने जाते हैं.[59]

जबकि डैस्यूरिड्स के आहार और शारीरिक रचना समान हैं, शरीर के भिन्न आकार तापमान नियंत्रण को प्रभावित करते हैं और इस प्रकार व्यवहार को भी.[60] 5 और 30 डिग्री के बीच तापमान के परिवेश में, डैविल शरीर का तापमान 37.4 और 38 डिग्री के बीच बनाए रखने में सक्षम था. जब तापमान 40 से बढ़या गया था, और आर्द्रता 50% रखी गई तो 60 मिनट के भीतर डैविल के शरीर का तापमान दो डिग्री ऊपर हो गया, लेकिन इसके बाद धीरे-धीरे कम होता हुआ दो घंटे बाद प्रारंभिक स्तर पर पहुंच गया और दो घंटे तक इसे बनाए रखा. इस दौरान इस डैविल ने पानी पिया और किसी प्रकार की तकलीफ का कोई लक्षण दिखाई नहीं दिया, इससे वैज्ञानिकों को यह विश्वास हो गया कि पसीना और वाष्पीकरणीय शीतन ऊष्मा अपव्यय का प्राथमिक माध्यम है.[61] बाद में एक अध्ययन में पाया गया कि डैविल हांफते हैं, लेकिन गर्मी को निकालने के लिए उन्हें पसीना नहीं आता.[27] इसके विपरीत कई अन्य धानी अपने शरीर के तापमान को नीचा रखने में असमर्थ रहे थे.[62] चूंकि छोटे जानवरों को अधिक गर्म और अधिक शुष्क परिस्थितियों में रहना पड़ता था, जिसके लिए वे अचछी तरह से अनुकूलित नहीं थे, इसलिए वे निशाचर की जीवन शैली अपनाते हैं और दिन में अपने शरीर का तापमान गिराते हैं, दिन में डैविल सक्रिय रहता है और उसके शरीर का तापमान 1.8 डिग्री बढ़ता है, रात के न्यूनतम तापमान और दिन के अधिकतम तापमान में सिर्फ 1.8 डिग्री का अंतर रहता है.[63]

एक तस्मानियाई डैविल की मानक चयापचय दर 141 केजे/किलो प्रति दिन है, जो छोटे धानियों से कई गुना कम है. एक 5 किलोग्राम डैविल प्रति दिन 712 किलोजूल उपयोग करता है. क्षेत्र चयापचय दर 407 किजू/किलो है.[62] क्वोल के साथ साथ, तस्मानियाई डैविल की चयापचय दर समान आकार के गैर मांसाहारी धानी से तुलनीय है. यह दर अपरायुक्त मांसाहारियों से भिन्न है, जिनकी आधारीय चयापचय दर अपेक्षाकृत अधिक होती है.[64] डैविलों के एक अध्ययन ने दिखाया कि गर्मी से सर्दी तक वजन में 7.9 से 7.1 किलोग्राम की कमी आई है, लेकिन इसी समय दैनिक ऊर्जा उपभोग 2591 से 2890 किजू बढ़ गया. यह भोजन में 518 से 578 ग्रा की वृद्धि के बराबर है.[65] आहार 70% जल तत्व के साथ प्रोटीन-आधारित है. खाए गए प्रत्येक ग्राम कीड़ों से 3.5 किजू ऊर्जा उत्पन्न होती है जबकि वॉलेबी मांस से 5.0 किजू ऊर्जा उत्पन्न होती है.[65] खाद्य के संदर्भ में, पूर्वी क्वोल के भोजन की तुलना में, डैविल केवल चौथाई ही खाता है,[65] जिससे खाद्य की कमी होने पर यह अधिक समय तक जीवित रह सकता है.

तस्मानिया के पारिस्थितिकी तंत्र में डैविल प्रधान सिद्धांत प्रजाति है.[66]

आहार[संपादित करें]

एक एक तार की बाड़ के बगल में कटी हुई घास के एक ढेर पर एक काला डैविल खड़ा है.यह एक पशु के फटे शव को खा रहा है.
A devil eating roadkill.

तस्मानियाई डैविल एक छोटे कंगारू के आकार तक के शिकार कर सकता है, किंतु व्यवहार में वे अवसरवादी होते हैं और जितनी बार वे शिकार करते हैं उससे अधिक बार सड़ा हुआ मांस खाते हैं. हालांकि डैविल परभक्षण की आसानी उच्च वसा सामग्री के कारण, वोमबैट को पसंद करते हैं लेकिन यह सभी देशी स्तनधारियों जैसे बेटोंग और पोटोरूस, घरेलू स्तनधारी (भेड़ सहित), पक्षी, मछली, फल, वनस्पति सामग्री, कीड़े, टैडपोल, मेंढक और सरीसृप को खा सकता है. इनका आहार बड़े पैमाने पर भिन्न होता है और ये आहार की उपलब्धता पर निर्भर करते हैं.[34][67][68][69] थाइलेसिन के विलुप्त होने से पहले, तस्मानियाई डैविल मांद में अकेले रह गए थाइलेसिन के बच्चों को खा जाता था, जब उनके माता-पिता बाहर होते थे. इससे थाइलेसिन के विलुप्तीकरण की प्रक्रिया तेज करने में सहायता मिली होगी, जो स्वयं भी डैविल को खाते थे.[43] वे शिकार समुद्र के पानी में चूहों का शिकार करने और किनारे पर फेंकी गई मरी हुई मछलियों को ढूंढने के लिए जाने जाते हैं. मानव बस्ती के निकट, वे जूते चोरी कर सकते हैं और उन को चबा सकते हैं,[67] और लकड़ी के कारखाने में आकर फंस गई, अन्यथा मजबूत भेड़ की झूलती टांगों को खा सकते हैं.[52] अन्य असामान्य सामग्रियां जो डैविल के मल में देखी गई हैं, उनमें शामिल हैं खाए गए जानवरों के पट्टे और टैग, इकिडना की सुरक्षित रीढ़, पेंसिल, प्लास्टिक और जीन्स.[49] हालांकि डैविल धातु के जाल को काट सकते हैं, वे अपने मजबूत जबड़ों को खाद्य भंडार में सेंधमारी करने की बजाय बंधन से भाग निकलने के लिए सुरक्षित रखते हैं.[49] अपनी अपेक्षाकृत गति की कमी के कारण वे, वे वॉलेबी या खरगोश का पीछा नहीं कर सकते, लेकिन बीमारी के कारण धीमें पड़ गए जानवरों पर हमला कर सकते हैं.[67] वे 10-15 मीटर की दूरी से ही सूंघकर भेड़ों के झुंड का लेलेते हैं और अगर कोई भेड़ बीमार हुई तो उस पर हमला कर देते हैं. ताकत दिखाने के लिए भेड़ भी अपने पैर जमा देती है.[49] ऐसी रिपोर्ट हैं कि चरम गति की कमी के बावजूद, वे 25 किमी/घ से 1.5 किमी तक दौड़ सकते हैं, और यह अनुमान लगाया गया है कि यूरोपीय आप्रवास और पशुओं, वाहनों और सड़क पर मृत्यु की शुरूआत से पहले, उन्हें खाना खोजने के लिए दूसरे देशी पशुओं का उचित गति से पीछा करना पड़ता था.[52] पेम्बर्टन ने बताया है कि वे प्रति सप्ताह कई रातों को "विस्तारित अवधि" में 10 किमी प्रति घंटा की गति से दौड़ सकते हैं, वे स्थिर होकर बैठने से पहले लंबी दूरियों तक दौड़ सकते हैं, ऐसा कुछ जिसे घात लगा कर हमला करने का प्रमाण माना गया है.[52] वे लाश ढूंढने के लिए खुदाई भी कर सकते हैं, एक मामले में बीमारी से मर गए एक घोड़े की लाश को खाने के लिए खोद निकाला था. डैविल, जानवरों के शवों को खाते समय पहले, शरीर रचना के सबसे नर्म भाग, उनके पाचन तंत्र को खाने के लिए जाने जाते हैं और खाते समय वे प्रायः बनाई गई गुहा में रहते हैं.[67] वे प्रति दिन औसतन अपने शरीर के वजन का लगभग 15% खा जाते हैं; हालांकि यदि अवसर मिले तो वे अपने वजन का 40% तक 30 मिनट में खा सकते हैं.[36] इसका मतलब यह कि एक बड़े भोजन के बाद यह बहुत भारी और सुस्त हो सकता है, इस स्थिति में यह डगमगाते हुए धीरे धीरे जाता है और लेट जाता है और उस तक पहुंचना आसान हो जाता है. इससे यह धारणा बनी है कि ऐसे फूले हुए जानवर पर परभक्षी शिकारियों के हमलों की कमी के कारण खाने की ऐसी आदतें संभव हो सकी हैं.[68] तस्मानियाई डैविल एक छोटे जानवर के शव के सभी अवशेष साफ कर सकता है, जरूरत पड़ने पर फर और हड्डियां तक निगल जाता है.[70] इस संबंध में, डैविल ने तस्मानियाई किसानों का आभार अर्जित किया है, जिस गति से वह शव को साफ करता है, इससे कीड़ों के प्रसार को रोकने में सहायता मिलती है जो पशुधन को हानि पहुंचा सकते हैं.[71] इनमें से कुछ मृत जानवरों का निपटारा तब होता है, जब डैविल अतिरिक्त भोजन को बाद में खाना शुरू करने के लिए घसीट कर अपने निवास पर ले जाते हैं.[67]

क्रेडल माउंटेन में एक अध्ययन के अनुसार नर, मादा और मौसम के अनुसार डैविल की खुराक भिन्न हो सकती है, सर्दियों में, नर बड़ों की तुलना में छोटे स्तनधारियों को 4:5 के अनुपात में पसंद करते हैं, लेकिन गर्मियों में वे 7:2 के अनुपात में बड़ा शिकार पसंद करते हैं. उनकी खुराक का 95% से अधिक इन दो श्रेणियों से पूरा हो जाता है. मादाएं कम बड़े शिकार को लक्ष्य करने के लिए कम इच्छुक होती हैं, लेकिन मौसमी पूर्वाग्रह उनमें भी होता है. सर्दियों में बड़े और मध्यम स्तनधारी 25 और 58% प्रत्येक तथा 7% छोटे स्तनपायी और 10% पक्षी खाए जाते हैं. गर्मियों में, पहली दो श्रेणियों के लिए क्रमशः 61 और 37% खाए जाते हैं.[51]

किशोर डैविल कभी कभी पेड़ों पर चढ़ने के लिए जाने जाते हैं;[72] कशेरुकीय और अकशेरुकियों के अलावा, भृंगकों एवं पक्षियों के अंडों को खाने के लिए किशोर डैविल पेड़ों पर चढ़ते हैं.[50] किशोरों को पेड़ों पर चढ़कर घोंसलों से पक्षियों को पकड़ते हुए भी देखा गया है.[47] पूरे वर्ष के दौरान, वयस्क डैविल अपले जैवभार सेवन का 16.2% वृक्षवासी प्रजातियों से, जोकि लगभग सारा पोसम मांस होता है, तथा 1% बड़े पक्षियों से प्राप्त करते हैं. फरवरी से जुलाई तक, किशोर डैविल अपने जैवभार सेवन का 35.8% वृक्षवासी जीवन से, 12.2% छोटे पक्षियों से और 23.2% पोसम मांस से प्राप्त करते हैं. सर्दियों में मादा डैविल अपने जैवभार सेवन का 40.0% वृक्षवासी प्रजातियों से प्राप्त करती हैं जिसमें 26.7% पोसम और 8.9% विभिन्न पक्षी होते हैं.[47] इनमें से सभी जानवर पेड़ों में नहीं पकड़े गए थे, लेकिन मादाओं का यह ऊंचा आंकड़ा जो कि उसी मौसम में चित्तीदार पूंछ वाले नर क्वोल से अधिक है, असामान्य है, क्योंकि डैविल की पेड़ों पर चढ़ने का कौशल कमजोर है.[47]

छाल चिप्स पर खड़े तीन तस्मानियाई डैविलों के सिर एक साथ इकट्ठा हैं.
Three Tasmanian devils feeding. Eating is a social event for the Tasmanian devil, and groups of 2 to 5 are common.

हालांकि वे अकेले शिकार करते हैं,[34] सामूहिक शिकार के अपुष्ट दावे किए गए हैं जहां एक शिकार को उसके आवास से बाहर निकालता है और उसके साथी हमला करते हैं,[67] खाना तस्मानियाई डैविल के लिए एक सामाजिक घटना है. एक एकांतवासी जानवर जो सामूहिक रूप से खाता है, यह संयोजन उसे मांसाहापियों में अद्वितीय बनाता है.[50] इस जानवर के साथ जुड़ा हुआ अधिकांश शोर इसके कर्कश सामूहिक खाने का परिणाम है, जहां 12 तक डैविल इकट्ठे होते हैं,[36] (हालांकि 2 से 5 का समूह सामान्य है[73]) और अक्सर कई किलोमीटक दूर से सुना जा सकता है. यह सहयोगियों को भोजन में शामिल होने की सूचना देने के कारण होता है ताकि खाना सड़ कर व्यर्थ न हो और ऊर्जा भी बचे.[67] शोर की मात्रा शव के आकार से सहसंबद्ध है.[67] डैविल एक प्रणाली के अनुसार खाते हैं. किशोर गोधूलि बेला में सक्रिय होते हैं, इसलिए वे वयस्कों से पहले स्रोत तक पहुंचना चाहते हैं.[68] आमतौर पर, शक्तिशाली जानवर खाता है जब तक वह तृप्त होकर छोड़ नहीं देता, इस बीच में किसी भी चुनौती को लड़ कर दूर कर देता है. हारे हुए जानवर खड़े बाल और पूंछ के साथ झाड़ी में दौड़ जाते हैं, उनका विजेता पीछे से काट कर उन्हें खदेड़ता है. भोजन का स्रोत बढने पर झगड़े होना कम आम है, क्योंकि उनका उद्देश्य पर्याप्त भोजन पाना होता है न कि दूसरे डैविलों को दबाना.[68] जब क्वोल किसी शव को खा रहे होते हैं, डैविल उनको दूर खदेड़ने का प्रयास करते हैं.[47] चित्तीदार पूंछ वाले क्वोल के लिए यह एक महत्वपूर्ण समस्या है, क्योंकि वे अपेक्षाकृत बड़े पोसम को मारते हैं और डैविलों के आगमन से पहले खाना खत्म नहीं कर पाते. इसके विपरीत, छोटे पूर्वी क्वोल बहुत छोटे शिकारों का शिकार करते हैं और डैविलों के आने से पहले खाना पूरा कर सकते हैं.[47] इसे चित्तीदार पूंछ वाले क्वोल की अपेक्षाकृत कम जनसंख्या के संभावित कारण के रूप में देखा जाता है.[47]

खाते हुए डैविलों के एक अधययन में उनकी 20 शारीरिक मुद्राएं पहचानी गई हैं, जिनमें उनकी विशेषता क्रूरतापूर्ण जम्हाई तथा खाते समय संचारित करने के लिए डैविल द्वारा उपयोग की जानेवाली 11 भिन्न आवाजें शामिल हैं. वे आम तौर पर आवाज और शारीरिक तेवर से प्रभुत्व स्थापित करते हैं, हालांकि लड़ाई भी हो जाती है.[36] डैविल के सफेद धब्बे सहयोगियों को रात में दिखाई दे जाते हैं.[68] रासायनिक संकेतों का भी उपयोग होता है.[68] वयस्क पुरुष सर्वाधिक आक्रामक होते हैं,[74][कब?] और क्षतिग्रस्त करना आम है.[75] वे अपनी पिछली टांगों पर खड़े हो सकते हैं और एक-दूसरे के कंधों को अपनी अगली टांगों और सिर से धक्का देते हैं, सूमो कुश्ती की तरह.[68] कभी-कभी मुंह और दांतों के पास फटा हुआ मांस, इसके साथ ही पुट्ठे पर छिद्र देखे जा सकते हैं, हालांकि ये चोटें प्रजनन-झगड़ों के दौरान आई हो सकती हैं.[68]

डैस्यूरिड्स में पाचन बहुत तेजी से होता है, और तस्मानियाई डैविल के लिए, खाने को छोटी सी आंत में से गुजरने के लिए सिया गया कुछ घंटों का समय अन्य डैस्यूरिड्स की तुलना में लंबा समय है.[76] डैविल शौच के लिए उसी स्थान पर लौटने के लिए जाने जाते हैं, ऐसा एक सामुदायिक स्थान पर करने के कारण, इस स्थान को डैविल शौचालय कहते हैं.[77] यह माना जाता है कि सामुदायिक शौच, संचार का एक साधन हो सकता है जिसे ठीक से समझा नहीं गया.[77] डैविल की विष्ठा का आकार शरीर की तुलना में बहुत बड़ा है; इसकी औसत लंबाई 15 सेमी है, लेकिन 25 सेमी लंबाई का नमूना भी है.[77] वे हड्डियों को पचा वजह से रंग में भूरे रंग के विशेषता है, या हड्डी के टुकड़े भी शामिल हैं.[26]

ओवेन और पेम्बर्टन का मानना है कि तस्मानियन डैविल और थाइलेसिन के बीच संबंध "निकट का और जटिल", क्योंकि उन्होंनेने सीधे शिकार के लिए प्रतिस्पर्द्धा की और शायद आश्रय भी, थाइलेसिन ने डैविलों का शिकार किया और डैविलों ने मरे हुए थाइलेसिन को खाया, तथा डैविलों ने थाइलेसिनों के बच्पचों को खाया. मेना जोन्स ने परिकल्पना की है कि दो प्रजातियां तस्मानिया की शीर्ष शिकारी की भूमिका साझा करती हैं.[78] कील-पूंछ चील का लाश आधारित आहार डैविलों के समान है इसीलिए इन्हें भी एक प्रतियोगी के रूप में माना जाता है.[79] क्वोल और डैविल को भी तस्मानिया में सीधी प्रतियोगिता में देखा जाता है. जोंस का मानना था कि क्वोल ने अपने को 100-200 पीढियों के बाद लगभग दो वर्ष में विकसित किया है, जैसा कि डैविलों, सबसे बड़ी प्रजाति, चित्तीदार-पूंछ वाले क्वोल, सबसे छोटी प्रजाति पूर्वी क्वोल पर बराबर रिक्ति प्रभाव द्वारा निर्धारित किया गया है.[80]

प्रजनन[संपादित करें]

एक डैविल के विकास के विभिन्न बिंदुओं को दिखाने वाला एक श्वेत-श्याम चित्र.50 से 85 दिन जब तक तक उसका विकास नहीं हो जाता त्वचा पर फर नहीं आता है.20 से 25 के दौरान मुंह गोल होने लगता है और होंठ बनने लगते हैं.उनके होठ लगभग 80 से 85 दिनों में खुलते हैं.वे अपनी मां से करीब 100 से 105 दिनों में आजाद हो जाते हैं.जन्म के समय कान मौजूद नहीं होते हैं और 15 से 18 दिनों में विकसित होते हैं.वे सिर पर चिपक जाते हैं, 72-77 दिन के आसपास ये खड़े हो जाते है.करीब 20 दिनों में आंखों की झिर्री और 50 और 55 दिनों के बीच में पलकों का विकास होता है.90 और 100 दिन के बीच आंखें खुलती हैं.
Developmental steps in the maturation of Tasmanian Devil young. The diagonal lines indicate the amount of time the changes take; for example, it takes about 90 days for a devil to develop fur over all its body.

मादाएं आम तौर पर अपने दूसरे वर्ष में जब यौन परिपक्वता की स्थिति में पहुंचती हैं तो प्रजनन शुरू कर देती हैं. इस बिंदु पर, वे साल में एक बार उपजाऊ होती हैं और कामोत्तेजना में कई डिम्बों का निर्माण करती हैं.[81] चूंकि बसंत में और गर्मियों के आरंभ में शिकार प्रचुर मात्रा में उपलब्ध होता है, डैविलों का पुनरुत्पादन चक्र मार्च या अप्रैल में आरंभ होता है ताकि दूध छुड़ाने का समय, नवजात डैविल बच्चों के लिए जंगल में खाद्य आपूर्ति के अधिकतमीकरण से मेल खा जाए.[82] मार्च में होने वाला, संभोग आश्रय स्थलों में दिन और रात दोनों के दौरान होता है. प्रजनन के मौसम में नर मादाओं के लिए लड़ते हैं और मादा डैविल प्रभुत्व पाने वाले के साथ सहवास करती है.[34][83] मादाएं, 21 दिन की अवधि में तीन बार तक अंडोत्सर्ग कर सकती हैं और संभोग पांच दिन हो सकता है; उदाहरण के लिए एक जोड़ा आठ दिन तक रति मांद में रिकॉर्ड किया गया है.[83] डैविल्स, एकपत्नीक नहीं होते हैं और मादाएं संभोग के बाद रक्षा नहीं की जाती है तो कई नरों के साथ संभोग करती हैं; नर भी मौसम के दौरान कई मादाओं के साथ पुनरुत्पादन करते हैं.[34][83] सर्वश्रेष्ठ आनुवंशिक संतान सुनिश्चित करने के प्रयास में मादाओं का चयनात्मक होना दिखाया गया है, उदाहरण के लिए छोटे नरों को लड़ कर भगा देती हैं.[27] नर अक्सर, अपनी साथिन को मांद में हिरासत में रखते हैं, या पानी पीने जाना हो ते अपने साथ ले जाते हैं, ऐसा न हो कि वे बेवफाई में व्यस्त हो जाएं.[83] नर, अपने पूर्ण जीवन में 16 बच्चों का उत्पादन कर सकता है, जबकि मादाओं के जीवन में औसतन चार संभोग मौसम और 12 संतानें आती हैं.[83] सैद्धांतिक रूप से इसका मतलब है कि एक डैविल आबादी वार्षिक आधार पर दोगुनी हो सकती है और प्रजाति को उच्च मृत्युदर से दूर कर सकती है.[84] गर्भावस्था की दर ऊंची है, दो वर्ष आयु की मादाओं में से 80% को संभोग मौसम में उनकी थैलियों में नवजात के साथ देखा जा सकता है.[83] अधिक हाल के अध्ययन बताते हैं कि संभोग मौसम फरवरी और जून के बीच होता है, न कि फरवरी और मार्च के बीच.[26]

गर्भ 21 दिन तक रहता है, और डैविल खड़े-खड़े 20-30 नवजात को जन्म दे देते हैं.[34][83] प्रत्येक का वजन लगभग 0.18-0.24 ग्राम होता है.[46] जन्म के समय, सामने का अंग पंजे के साथ अच्छी तरह से विकसित अंक होता है, कई धानियों के विपरीत, बेबी डैविलों के पंजे पर्णपाती नहीं होते हैं. जैसा कि अधिकांश अन्य धानियों के साथ है, सामने का अंग अंग (0.26-0.43 सेमी) पिछले अंग (0.20-0.28 सेमी) से लंबा होता है, आंखों के धब्बे होते हैं, और शरीर गुलाबी होता है. कोई बाहरी कान या छिद्र नहीं होता. असामान्य रूप से, एक बाहरी अंडकोश की थैली से जन्म के समय लिंग निर्धारित किया जा सकता है.[85]

तस्मानियाई डैविल बच्चों को विभिन्न नामों से बुलाया जाता है, "पप्स"[34], "जोइस"[86] या "इम्प्स".[87] जब युवा जन्म लेते हैं, गलाकाट प्रतिस्पर्धा के रूप में वे योनि से श्लेम के एक चिपचिपे प्रवाह में थैली की ओर चलते हैं. एक बार थैली के अंदर आने पर, उनमें से प्रत्येक अगले 100 दिनों के लिए एक निपल से जुड़ा रहता है. मादा तस्मानियन डैविल की थैली, जैसे कि वोम्बैट की, पीछे की ओर खुलती है, तो मादा के लिेए थैली के अंदर बच्चों के साथ सहभागिता करना शारीरिक रूप से कठिन होता है. एक साथ जन्में बच्चों की बड़ी संख्या के बावजूद मादा के केवल चार निपल हैं, तो थैली में चार से अधिक शिशु कभी नहीं पल सकते; मादा डैविल जितनी बड़ी होती है, एक साथ जन्में बच्चों की संख्या कम हो जाती है. एक बार शिशु का निप्पल के साथ संपर्क बन जाता है, तो वह फैलता है, परिणामस्वरूप बढ़ा हुआ निपल नवजात के अंदर मजबूती से कस जाता है, यह सुनुश्चित करते हुए कि नवजात थैली से बाहर न गिर जाए.[34][83] औसतन, नर की तुलना में मादाएं अधिक जीवित रहती हैं,[81] और 60% तक पिल्ले परिपक्व होने के लिए जीवित नहीं रहते.[50]

थैली के अंदर, पोषित नवजात जल्दी से विकसित होते हैं. दूसरे सप्ताह में, नासालय विशिष्ट बन जाता है और भारी रंजित हो जाता है.[81] 15 दिन में, के कान के बाहरी भाग दिखाई देने लगते हैं, हालांकि ये सिर से जुड़े होते हैं और डैविल की आयु दस सप्ताह होने पर ही खुलते हैं. 40 दिन के बाद कान लगभग काला होना शुरू होता है, जब यह 1 सेमी से कम लंबा होता है और इस समय तक कान खड़े हो जाते हैं, यह 1.2 और 1.6 सेमी के बीच होता है. 16 दिन बाद पलकें स्पष्ट हो जाती हैं, मूंछें 17 दिन बाद और होंठ 20 दिन बाद स्पष्ट होते हैं.[81] आठ सप्ताह बाद डैविल चरमराता हुआ शोर करना शुरू कर सकते हैं और लगभग 10-11 सप्ताह बाद होंठ खुल सकते हैं.[81] पपोटों के गठन के बावजूद, वे तीन महीने तक खुलते नहीं हैं, हालांकि पलकें 50 दिनों के आसपास बन जाती हैं.[81] शिशु जो इस समय तक गुलाबी रंग के थे, 49 दिनों में फर बढ़ने लगता है और 90 दिनों तक फर की पूरी परत तैयार हो जाती है. फर बढ़ने की प्रक्रिया थूथन से शुरू होती है और शरीर पर पीछे की तरफ बढ़ती है, हालांकि पूंछ पर फर पुट्ठे से पहले आ जाते हैं जो कि शरीर का फर से आच्छादित होने वाला अंतिम हिस्सा है. फर आने की प्रक्रिया के शुरू होने से ठीक पहले, नंगे डैविल की त्वचा का रंग पूंछ पर काला या गहरा सलेटी हो जाता है.[81]

डैविल के आनन दृढ़रोम और अंतःप्रकोष्ठिक अंडप का पूर्ण सेट होता है, हालांकि यह पक्षपृष्ठक दृढ़रोम से रहित होता है. तीसरे सप्ताह के दौरान, श्मश्रु और अंतःप्रकोष्ठिक मणिकाबंधिका पहले बनते हैं. इसके बाद, अवनेत्रकोटर, अंतरशाखीय, अध्यक्षि और अवचिबुकीय दृढ़रोम बनते हैं. अंतिम चार आम तौर पर 26वें से 39वें दिन के बीच होते हैं.[81]

तेज चमकदार धूप के नीचे सूखे पत्तों, मिट्टी और चट्टानों पर एक दूसरे के शरीरों को छूते हुए लेटे तीन डैविलों के सीधे ऊपर से लिया गया दृश्य.
Three young devils sunbathing.

उनकी आंखें उनका फर कोट विकसित होने के कुछ बाद ही- 87वें और 93वें दिन के बीच- खुलती हैं और उनके मंह 100वें दिन निपल की पकड़ से आराम कर सकते हैं.[81] वे जन्म से 105 दिन बाद पाउच छोड़ देते हैं, माता-पिता की लघु प्रतियों में दिखाई देते हुए और जिनका वजन लगभग200-ग्राम (7.1 oz) होता है.[81] जीव विज्ञानी एरिक गुइलर ने इस समय उनके जो आकार दर्ज किए वे इस प्रकार हैं: 5.87 सेमी की एक मुकुट थूथन लंबाई, 5.78 सेमी पूंछ की लंबाई, 2.94 सेमी पीईएस की लंबाई, 2.30 सेमी मानुस, 4.16 सेमी टांग, 4.34 सेमी अगले पैर और ताज-दुम लंबाई 11.9 सेमी है.[81] इस अवधि के दौरान, डैविल की लंबाई मोटे तौर पर एक रैखिक दर से बढ़ती है.[81]

बाहर निकलने के बाद, डैविल थैली के बाहर रहते हैं लेकिन वे लगभग और तीन महीने के लिए मांद में ही रहते हैं, जनवरी में आत्मनिर्भर बनने से पहले अक्तूबर और दिसंबर के बीच पहली बार मांद के बाहर निकलते हैं. थैली के बाहर इस संक्रमणकालीन चरण के दौरान, युवा डैविल अपेक्षाकृत परभक्षण से सुरक्षित हैं क्योंकि आमतौर पर कोई उनके साथ रहता है. जब मां शिकार करती है तो वे एक आश्रय के अंदर रह सकते हैं या साथ आ सकते हैं, अक्सर मां की पीठ पर सवारी करते हुए. इस समय के दौरान वे अपनी मां का दूध पीना जारी रखते हैं. मादा डैविल छः सप्ताह को छोड़कर अपने बच्चे को बड़ा करने के काम में लगभग पूरे वर्ष व्यस्त रहती है.[81][88] अपरायुक्त स्तनधारियों के दूध से इस दूध में लोहे की उच्च मात्रा शामिल होती है.[27] गुइलर के 1970 के अध्ययन में, थैली में अपने बच्चों का पालन करने के दौरान किसी मादा की मृत्यु नहीं हुई. थैली छोड़ने के बाद, डैविल छह महीने का होने तक प्रतिमाह 0.5 किलोग्राम की दर से बढ़ता है.[81] जबकि सभी पिल्ले दूध छुड़ाने तक जीवित रहते हैं,[26] गुइलर ने बताया कि तीन बटा पांच डैविल परिपक्वता तक नहीं पहुंच पाते हैं.[50] जैसा कि किशोर वयस्कों की तुलना में अधिक सांध्यकालीन है, गर्मियों के दौरान खुले में उनकी उपस्थिति से लोगों में उनकी जनसंख्या में उछाल की धारणा बनती है.[50]

भ्रूण उपरति घटित नहीं होती है.[81]

गुइलर ने बताया है कि बंधक डैविलों में लगातार उभयलिंगता आई है, जबकि पेम्बर्टन और मूनी ने 2004 में एक एक वृषणकोश तथा एक गैर-कार्यात्मक थैली के साथ एक जानवर को दर्ज किया था.[89]

डैविल चेहरे के ट्यूमर रोग से हुई प्रतियोगिता में कमी की एक स्पष्ट प्रतिक्रिया करने के लिए, रोग प्रभावित क्षेत्रों में मादा डैविलों के अब एक वर्ष की आयु में प्रजनन शुरू करने की अधिक संभावना है.[33] इस रोग ने पूरे वर्ष भर फैले प्रजनन के साथ, पुनरुत्पादन मौसम को कम स्पष्ट कर दिया है.[84] डीएफटीडी ग्रस्त माताओं द्वारा जन्में पिल्लों में नर की बजाय मादा अधिक होती हैं.[27]

संरक्षण की स्थिति[संपादित करें]

Alt = चित्र के ऊपरी हिस्से में है दाहिनी ओर मुख किए एक डैविल का श्वेत-श्याम चित् और निचले अर्द्धभाग में बाईं ओर मुख किए हुए है एक थाइलेसिन. दोनों को घास या अन्य वनस्पति की चटाई पर प्रोफाइल में दिखाया गया है.

प्रातिनूतन युग में ऑस्ट्रेलिया में सभी ओर व्यापक तस्मानियन डैविलों में गिरावट हुई थी तथा लगभग 3000 साल पहले अभिनव युग के मध्य में ये तीन अवशिष्ट आबादियों में प्रतिबंधित हो गए. रॉक कला तथा उत्तरी आबादी के लिए डार्विन बिंदु के पास एक जीवाश्म जो दक्षिण पूर्व में रहता है और दक्षिण पूर्वी जनसंख्या को दर्शाता है जिसका फैलाव पूर्व की ओर मर्रे नदी के मुंह से विक्टोरिया में पोर्ट फिलिप खाड़ी के आसपास के क्षेत्र तक है. यह आबादी उत्तरी विक्टोरिया और न्यू साउथ वेल्स से संकुचित हो गई थी. अभिनव युग में बढ़ते समुद्र जल स्तर ने भी इसको तस्मानियाई आबादी से काट दिया. तीसरी आबादी दक्षिण पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया से थी. इस अंतिम स्थान से प्राप्त जीवाश्म प्रमाण विवादास्पद सिद्ध हुआ है.[2] जैसा कि बहुत से देशी जानवरों के साथ होता है, प्राचीन डैविल अपने समकालीन वंश की तुलना में अधिक बड़े थे.[90] माइक आर्चर तथा एलेक्स बेन्स ने 1972 में पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया में ऑगस्ता के पास चट्टान के नीचे एक डैविल का दांत खोज़ा तथा उसकी उम्र को 430±160 साल पुराना बताया, एक आंकड़ा जो व्यापक रूप से परिचालित तथा उद्धृत किया गया.[91] ऑस्ट्रेलियाई पुरातत्वविद् ओलिवर ब्राउन ने इसका विरोध किया, लेखकों की दांत के स्रोत के प्रति अनिश्चितता को उद्धृत करते हुए उन्होंने कहा कि इससे दांत की आयु के बारे में भ्रम उत्पन्न होता है, जबकी अन्य सभी प्रमाण 3000 साल पुराना बताते हैं.[2]

उनके विलुप्त होने का कारण स्पष्ट नहीं है, लेकिन उनकी कमी स्वदेशी ऑस्ट्रेलियावासियों तथा जंगली कुत्तों की मुख्य भूमि में सभी ओर हुए विस्तार का समय एक ही है. यद्यपि, क्या यह लोगों द्वारा प्रत्यक्ष शिकार किए गए थे या जंगली कुत्तों के साथ प्रतिस्पर्धा, या फिर बढ़ती मानव आबादी द्वारा लाये गये बदलाव, जो 3000 वर्ष पहले महाद्वीप के सभी ओर, (और सभी तीनों का संयोजन) हर तरह के आवास का उपयोग कर रहे थे, यह अज्ञात है; डैविल जंगली कुत्तों के साथ लगभग 3000 वर्ष तक मिलजुलकर रहे थे.[92] ब्राउन ने यह भी प्रस्ताव किया है कि अल नीनो-साउथर्न ऑसीलेशन (ENSO) अभिनव युग के दौरान मजबूत हुआ, तथा डैविल एक मुर्दाखोर के रूप में एक छोटी सी जीवन की अवधि के साथ, इसके प्रति अत्यधिक संवेदंशील था.[2] जंगली कुत्तों से मुक्त तस्मानिया में,[19] जब यूरोपियन आये तब मांसाहारी धानी भी सक्रिय थे. यूरोपियनों के आने के बाद थाइलेसिन का संहार अच्छे से जाना जाता है,[93] लेकिन तस्मानियन डैविल को खतरा था.[94]

थाइलेसिन डैविलों का शिकार करते थे, तथा डैविलों ने युवा थाइलेसिन पर हमला किया; थाइलेसिन के विलुप्तीकरण की प्रक्रिया को डैविलों द्वारा तेज़ किया हो सकता है.[43] जबकि थाइलेसिन मौजूद था, डैविलों के शिकार के अलावा, अपर्याप्त भोजन तथा मांद के लिए प्रतिस्पर्धा की वजह से इससे डैविलों के अस्तित्व पर दबाव भी पड़ा होगा, दोनो जानवरों द्वारा गुफाओं और बिल को ढूंढा गया.[43] यह अनुमान लगाया गया है कि डैविल अधिक हिंसक हो सकता हैं तथा थाइलेसिन द्वारा छोड़ी गयी जगहों को भरने के लिये बड़ी गृह सीमाओं पर प्रभुत्व जमा सकता है.[49]

आवास में व्यवधान मांद को बेनकाब कर सकता है जहां मां अपने बच्चों को बड़ा करती हैं. यह मृत्यु दर बढ़ाता है. मां पीठ पर अपने बच्चों को लेकर अशांत मांद छोड़ती है जो उन्हें अधिक असुरक्षित बनाता है.[95]साँचा:Contradiction-inline

सामान्य रूप में कैंसर डैविलों की मृत्यु का एक आम कारण है.[96] 2008 में, डैविलों में उच्च स्तर के संभावित कैंसरकारी लौ विकासरोधक रसायन पाये गये. 16 डैविलों से प्राप्त वसा ऊतकों में पाए गए रसायनों पर तस्मानियन सरकार द्वारा आदेशित परीक्षण के प्रारंभिक परिणामों में सामने आया है कि उनमें उच्च स्तर का हेग्ज़ाब्रोमोबाईफीनाइल (BB153) तथा यथोचित उच्च स्त्तर का डीकेब्रोमोडीफिनाइल ईथर (BDE209) है.[97]

डीएनए के नमूने प्रदान करने के लिए 1999 के बाद से क्षेत्रों में पकड़े गये सभी डैविलों के कानो की बायोप्सीज़ ली गयी थी. सितम्बर 2010 तक संग्रह में 5642 नमूने हैं.[66]

तस्मानियन डैविलों के लिये ड्राफ्ट नेशनल रिकवरी प्लान राष्ट्रीय जनता की टिप्पणियों के लिए खोल दिया गया है.[98]

जनसंख्या पतन[संपादित करें]

1909 और 1950 में इतिहास में दर्ज हो चुके संभवतः महामारी रोग की वजह से कम से कम दो प्रमुख जनसंख्या पतन हुए हैं.[29] डैविल को 1850 के दशक में दुर्लभ घोषित किया गया था.[99] डैविल की जनसंख्या के आकार का अनुमान लगाना मुश्किल है.[100] 1990 के दशक के मध्य में, अनुमानित जनसंख्या 130,000-150,000 जानवर थी,[26] लेकिन यह एक अधिक अनुमान के जैसा प्रतीत होता है.[100] तस्मानियाई डैविलों की जनसंख्या की गणना तस्मानिया के प्राथमिक उद्योग तथा जल विभाग द्वारा 2008 में की गयी जो 10,000 से 100,000 जानवरों की श्रेणी में रही जिसमें शायद 20,000 से 50,000 परिपक्व जानवर रहे हैं.[34] विशेषज्ञों का अनुमान है कि डैविल को 1990 के मध्य से अपनी जनसंख्या में 80% से अधिक गिरावट का सामना करना पड़ा तथा 2008 तक केवल 10,000-15,000 जंगलों में बचे हैं.[101]

2005 में तस्मानियाई थ्रेटंड स्पीसीज़ प्रोटेक्शन एक्ट 1995 [102] तथा 2006 में आस्ट्रेलियन एनवायरमेंट प्रोटेक्शन और कनज़र्वेशन एक्ट 1999 [26] के तहत प्रजातियों को असुरक्षित सूचीबद्ध किया गया जिसका मतलब "मध्यम अवधि" में यह विलुप्त होने के जोखिम पर है.[48] आईयूसीएन (IUCN) ने 1996[103] में तस्मानियाई डैविल को कम जोखिम/सबसे छोटी चिंता में वर्गीकृत किया लेकिन 2009 में वे लुप्तप्राय के रूप में पुनर्वर्गीकृत किये गये.[103][104]

न्यूनीकरण के लिए मारना[संपादित करें]

पहले तस्मानियाई निवासियों ने तस्मानियाई डैविल को खाया तथा उन्होने इसे चखने पर बछड़े के मांस के रूप में वर्णित किया.[105] जब ऐसा माना गया कि डैविल मवेशियों का शिकार करके उन्हें मार देंगे, संभवतः इस मजबूत कल्पना के साथ कि डैविलों के झुंड कमज़ोर भेड़ों को खा रहे हैं, तब डैविल को ग्रामीण संपत्ति से हटाने के लिये एक इनामी योजना को बहुत पहले 1830 में पेश किया गया था.[106] यद्यपि गुइलर के अनुसंधान ने दावे के साथ कहा कि मवेशियों के नुकसान का असली कारण कमजोर भूमि प्रबंधन नीतियां तथा जंगली कुत्तों का होना था.[106] उन क्षेत्रों में जहां डैविल अब अनुपस्थित है वहां मुर्गी पालन को निरंतर क्वोल द्वारा मारा जा रहा है. पहले के समय में, पोसम तथा फर के लिये वैलेबी का शिकार एक बड़ा व्यापार था- 1923 में 900,000 से अधिक जानवर शिकार किये गये-तथा इसके परिणामस्वरूप डैविलों का निरंतर इनामी शिकार हुआ जैसे कि वे फर उद्योग के लिए एक बड़ा खतरा समझे जा रहे थे, यहां तक कि क्वोल प्रासंगिक जानवरों के शिकार में अधिक निपुण थे.[107] अगले 100 वर्षों में विषाक्तता[108] तथा फंसाना उन्हे विलुप्त होने के कगार पर ले आयेगा.[94] 1936 में अंतिम थिलासीन की मृत्यु के बाद,[109] तस्मानियाई डैविलों को जून 1941 में कानून द्वारा संरक्षित किया गया तथा जनसंख्या में धीरे धीरे पुनः सुधार हुआ.[94] 1950 के दशक में बढ़ती संख्या की रिपोर्ट के साथ पशुधन की क्षति की शिकायत के बाद डैविलों को पकड़ने के लिये कुछ परमिट दिए गए. 1966 में, विषाक्तता परमिट जारी किए गए थे हालांकि जानवरों को असुरक्षित रखने के प्रयास विफल रहे.[110] इस समय के दौरान पर्यावरणविद भी और अधिक मुखर हो गए, खासकर वैज्ञानिक अध्ययन के रूप में नये आंकड़े प्रदान किये गये जो संकेत करते हैं कि पशुधन पर डैविलों का खौफ बेहद अतिरंजित हो चुका था.[111] जनसंख्या में आयी तेज़ी के बाद 1970 में संख्या चोटी पर पहुंच गयी थी; संभवतः अति जनसंख्या के परिणामस्वरूप भोजन की कमी के कारण 1975 में इसके हल्का होने की सूचना दी गयी.[31][112] 1987 में पशुधन की क्षति तथा अति जनसंख्या की एक और रिपोर्ट की सूचना दी गयी.[113] आगामी वर्ष में एक छोटी सी खलबली कड़की जब त्रिचिनेला स्पाइरलिस , एक परजीवी जो जानवरों को मारता है तथा मनुष्यों को संक्रमित कर सकता है, वह डैविलों में मौज़ूद था तथा इससे पहले वैज्ञानिकों ने जनता को आश्वस्त किया था कि केवल 30% डैविलों में ही यह मौजूद था लेकिन वे दूसरी प्रजातियों में इसे हस्तांतरित नहीं कर सकते थे.[114] नियंत्रण परमिट 1990 में समाप्त हो रहे थे, लेकिन अवैध रूप से हत्या हालांकि एक गहन स्तर पर कुछ स्थानों में जारी है. इसे डैविल के जीवित रहने के लिये पर्याप्त समस्या नहीं माना जाता है.[48] 1990 के दशक के मध्य में लगभग 10,000 डैविल प्रति वर्ष मारे गये थे.[27]

लोमड़ियां[संपादित करें]

डैविलों की संख्या में गिरावट को एक पारिस्थितिकी समस्या के रूप में भी देखा जाता है, इसकी तस्मानियाई वन पारिस्थितिकी तंत्र में उपस्थिति को लाल लोमड़ियों, जिनको तस्मानिया में 21वीं शताब्दी के आरम्भ में अवैध रूप से लाया गया,[48][115] की स्थापना में रुकावट का कारण माना जाता है, तथा डैविलों के मरे हुए जानवरों को खाने के कारण ने लोमड़ियों, जंगली बिल्लियों तथा कुत्तों की संख्या को सीमित किया,[34] अन्यथा मांद में वयस्क लोमड़ियों और युवा लोमड़ियों की हत्या के रूप में वो इनका भोजन होते.[48] अन्य सभी ऑस्ट्रेलियन राज्यों में लोमड़ियां एक समस्यामूलक आक्रामक प्रजातियां हैं, तथा तस्मानिया में लोमड़ियों का बसना, तस्मानियाई डैविल की सेहत में रुकावट लायेगा तथा कई कशेरुकीय प्रजातियों का शिकार होगा.[34] यह माना जाता है कि तस्मानियाई युवा डैविल लाल लोमड़ी का मांस खाने से असुरक्षित हैं,[116] तथा उन डैविलों और लोमड़ियों की मांद और निवास स्थान के लिए सीधी प्रतिस्पर्धा होगी.[34] लोमड़ियों को रोकने की कोशिश का एक आम साधन है फंसाने के लिये सोडियम फ्लोरोएसीटेट के साथ सज़ाये मांस का उपयोग करना. जैसे डैविलों तथा दूसरे देशी जानवरों को भी जहरीले मांस, जिसे एम (M)-44 इजेक्टर डिवाइस के अंदर रख दिया गया है, की ओर आकर्षित किया जा सकता है, डिवाइस की ज्यामिति के लिये अनुकूलन किये गये हैं, और इसको खोलने के लिये आवश्यक बल तथा जबड़े की ज्यामिति, जो लोमड़ी के लिये तो सही बैठती है पर स्थानीय प्रजातियों पर नहीं बैठती.[117] तस्मानियाई डैविलों को डराने में लोमड़ियां अभी पूरी तरह से तस्मानिया में स्थापित नहीं हो पायी हैं.[1]

सड़क मृत्यु[संपादित करें]

एक धातु के खंभे पर 45 डिग्री पर झुकी एक वर्गाकार धातु की प्लेट.प्लेट को पीले रंग से रंगा गया है जिस पर प्रोफाइल में एक काले डैविल का चित्र है.यह एक लकड़ी वन में से गुजरने वाली सीधी सड़क के किनारे लगा है, सड़क पर दो वाहन देखे जा सकते हैं.
A road sign telling drivers that there are devils nearby.

मोटर वाहनों का गैर-प्रचुर तस्मानियाई स्तनधारियों की स्थानीय आबादी में खौफ है,[118][119] तथा 2010 के एक अध्ययन से पता चला कि डैविल विशेष रूप से असुरक्षित थे. नौ प्रजातियों में से एक में ज्यादातर एक समान आकार के धानी प्राणी पर हुए अध्ययन से पता चला कि वाहनचालकों के लिये डैविलों का पता लगा कर उनसे बच निकलना मुश्किल था. उच्च किरण पुंज पर डैविलों का दूरी का अनुमान न्यूनतम था, औसत से 40% अधिक करीब. मोटर यात्री को डैविल से बचने के लिये 20% गति में कमी करना आवश्यक है. नीची किरण पुंज के लिये, दूरी का अनुमान लगाने के सम्बंध में डैविल सातवें सबसे खराब हैं, 16% औसत से नीचे. सड़कमृत्यु से बचाव के लिये वाहन चालक को ग्रामीण क्षेत्रों की वर्तमान गति सीमा की लगभग आधी गति पर वाहन चलाना होगा.[118] तस्मानिया के नेशनल पार्क में डैविलों की स्थानीय आबादी पर 1990 में हुए एक अध्ययन में दर्ज़ किया गया कि बजरी की संपर्क सड़क को चौड़ा करके और सतह पर कोलतार बिछाकर उसका उन्नयन करने के बाद डैविलों की आबादी आधी रह गई थी. उसी समय पर, नयी सड़क के साथ वहां वाहनों से होने वाली मौतों में अधिक वृद्धि हुई थी; जबकि वहां पिछले 6 महीने में कोई मृत्यु नही हुई.[119] ऐसा माना गया कि अधिकतर मौतें गति में वृद्धि के कारण सडक के बंद भाग में हुई.[119] यह अनुमान लगाया गया कि जानवरों के लिए हल्की बजरी की बजाय काले कोलतार के खिलाफ देखना ज्यादा कठिन था.[119] डैविल तथा क्वोल विशेष रूप से असुरक्षित हैं क्योंकि वे अक्सर सड़क मृत्यु के शिकारों को अपने भोजन के लिए प्राप्त करने की कोशिश करते हैं और सड़क पर चलते हैं. इस समस्या को कम करने के लिये, यातायात धीमा करने के उपाय, मानव निर्मित मार्ग जो डैविलों को वैकल्पिक मार्गों की पेशकश करते हैं, शिक्षा अभियानों, तथा आने वाले वाहनों को संकेत देने के लिये प्रकाश परावर्तकों की स्थापना आदि क्रियान्वित किये गए हैं. सड़क मृत्यु में शिकारों की संख्या कम होने का श्रेय उन्हें दिया जाता है.[119] डैविल अक्सर सड़क मृत्यु के शिकार तब हुए जब वे सड़क मृत्यु के शिकारों को प्राप्त कर रहे थे. वैज्ञानिक मैना जोंस तथा संरक्षण स्वयंसेवकों के एक समूह ने मृत जानवरों को सड़क से हटाने के लिये काम किया जिसका परिणाम डैविलों की भारी यातायात में होने वाली मौतों में आयी महत्वपूर्ण कमी के रूप में सामने आया.[71] यह अनुमान लगाया गया था कि 2001-04 में 3392 डैविल या जनसंख्या का 3.8 से 5.7% के बीच प्रतिवर्ष वाहनों का शिकार हो रहा था.[48]

डैविल का आननार्बुद रोग[संपादित करें]

साँचा:Bad summary

 एक काला डैविल जिसके शरीर के विभिन्न भागों पर लाल-गुलाबी रंग के कई अर्बुद बढ़े हुए हैं.दो सबसे बड़े अर्बुदों में से एक ने दाईं आंख को ढका हुआ है तथा दूसरा बाईं आंख के नीचे है.दाईं आंख बिलकुल नजर नहीं आ रही है और ये दोनों एक सामान्य डैविल के चेहरे के आकार के लगभग एक तिहाई के बराबर हैं.यह एक हरे कपड़े पर लेटा है.
Devil facial tumour disease causes tumours to form in and around the mouth, interfering with feeding and eventually leading to death by starvation.

1996 में पहली बार देखा गया कि डैविल के आननार्बुद रोग (डीएफटीडी (DFTD)) ने तस्मानिया के जंगली डैविलों को तबाह कर दिया तथा प्रभाव सीमा का अनुमान है कि राज्य के 65% से अधिक को प्रभावित करते हुए, 20% से अधिकतम 50% तक डैविलों की जनसंख्या में गिरावट हुई. राज्य के पश्चिमी तट क्षेत्र और दूर उत्तर पश्चिम आदि वह स्थान हैं जहां डैविल ट्युमर से मुक्त हैं.[120][121] व्यक्तिगत डैविल संक्रमण के एक महीने के भीतर मर जाते हैं.[122]

रोग प्रसार में परिवर्तनों की पहचान करने तथा रोग के प्रसार का पता लगाने के लिए जंगली तस्मानियाई डैविलों की आबादी की निगरानी की जा रही है. रोग की उपस्थिति की जांच के लिये परिभाषित क्षेत्र के भीतर डैविलों को पकड़ना तथा प्रभावित पशुओं की संख्या निर्धारित करना, ये क्षेत्र की निगरानी में शामिल है. समय के साथ रोग के प्रसार की विशेषताओं के लिये बार-बार एक ही क्षेत्र का दौरा किया जाता है. अब तक, यह स्थापित किया जा चुका है कि एक क्षेत्र में अल्पकालिक रोग के प्रभाव गंभीर हो सकते हैं. दोहरायी गई साइटों पर लंबे समय तक निगरानी के लिये आवश्यक होगा कि यह मूल्यांकन हो कि क्या ये प्रभाव बने रहेंगे या क्या आबादी ठीक हो सकती है.[121] क्षेत्र कार्यकर्ता भी रोग दमन की प्रभावशीलता का परीक्षण डैविलों को पकड़कर और रोगग्रस्त डैविलों को हटाकर कर रहे हैं. ऐसी आशा की जाती है कि रोगग्रस्त डैविलों को जंगली आबादी से निकालने से रोग का फैलाव रुकना चहिये तथा अधिक डैविलों को उनकी किशोर आयु से आगे जीवित रहने का अवसर मिल सके.[121]

यह बीमारी संक्रामक कैंसर का एक उदाहरण है जिसका मतलब यह संक्रामक है तथा एक जानवर से दूसरे जानवर में पारित हुई.[123] इलाज की अनुपस्थिति में, वैज्ञानिक बीमार जानवरों को हटा रहे हैं तथा अगर जंगली आबादी मर जाती है तो स्वस्थ डैविलों का संगरोध कर रहे हैं.[123] क्योंकि तस्मानियाई डैविलों के पास बहुत ही कम स्तर की आनुवंशिक विविधता तथा मांसाहारी स्तनधारियों में से एक अद्वितीय गुणसूत्र उत्परिवर्तन है, इसलिये वे संक्रामक कैंसर के प्रति ज्यादा प्रवृत्त हैं.[124]

सिडनी विश्वविद्यालय के अनुसंधान से हाल ही में पता चला है कि संक्रामक चेहरे का कैंसर फेलने में सक्षम है क्योंकि डैविलों के प्रतिरक्षित जीन(एमएचसी (MHC) क्लास I ओर II) में लोपशील कम आनुवंशिक विविधता है तथा इस बारे में सवाल उठाये जा रहे हैं कि कितने अच्छे ढंग से छोटे तथा संभावित नवजात, जानवरों की जनसंख्या जीवित रहने में सक्षम हो पाती है.[125]

डीएफटीडी (DFTD) के कारण डैविलों की जीवन प्रत्याशा में कमी होने की वजह से, उन्होने जंगलों में छोटी उम्र में प्रजनन शुरू कर दिया है, इन रिपोर्ट्स के साथ कि बहुत से एक प्रजनन चक्र में भाग लेने के इछुक हैं.[126]

मनुष्यों के साथ संबंध[संपादित करें]

1970 लेक निची पर एक नर मनुष्य कंकाल को 49 डैविलों के 178 दांत से बना एक हार पहने हुए पाया गया. कंकाल 7000 साल पुराना होने का अनुमान है, और हार को कंकाल से कहीं ज्यादा पुराना माना जाता है. एक पुरातत्त्ववेत्ता, जोसेफाइन फ्लड का मानना है कि डैविल का उसके दांत के लिए शिकार किया जाता था जिसने ऑस्ट्रेलिया की मुख्य भूमि पर उसके विलुप्त होने में योगदान दिया. ओवेन और पेम्बर्टन लिखते हैं कि ऐसे कुछ हार पाये जा चुके हैं.[127] मिड्डंस जो डैविल की हड्डियों को रखते हैं वो दुर्लभ हैं उसके दो उल्लेखनीय उदाहरण हैं- डैविल्स लायर जो पश्चिमि ऑस्ट्रेलिया के दक्षिण-पश्चिमि भाग में है तथा विक्टोरिया में टॉवर हिल.[20]

तस्मानिया में, स्थानीय आदिम जानवरों और डैविलों का आश्रय समान गुफाओं में था. यूरोपियनों द्वारा रिकार्ड किये गये तस्मानियाई आदिवासी नामों में शामिल हैं-"तर्राबाह", "पोइरिन्नाह", तथा "पर-लू-मर-रर".[128] तस्मानिया के रॉयल सोसाइटी के सचिव फ्रिट्ज नोटलिंग के अनुसार 1910 में, वहां ऐसे कोई सबूत नहीं थे कि तस्मानियाई आदिवासियों ने कोई मांसाहारी जानवर खाया हो. ओवेन और पेम्बर्टन ऐसा मह्सूस करते हैं कि इसने यूरोपियन बस्ती के पूर्व डैविलों के जीवित रहने में योगदान दिया.[20]

यह एक आम धारणा है कि डैविल मनुष्यों को खायेगा. जबकि वे कत्ल के शिकार तथा जो लोग आत्म्हत्या कर चुके हैं उनके शरीर को खाने के लिये जाने जाते हैं, ऐसी प्रबल कथाऐं हैं कि वह उन जीवित मनुष्यों को खाता है जो भटक कर जंगल में चले जाते हैं.[129] पुरानी मान्यताओं और उनके स्वभाव की अतिश्योक्ति के बावजूद, कई, यद्यपि सभी नहीं, डैविल उसी स्तिथी में बने रहेंगे जब तक मानव की उपस्थिति होगी, कुछ घबराते हुए डगमगा भी जायेंगे. मनुष्यों के संगठित होने पर डर के कारण यह काट सकते हैं तथा खरोंच मार सकते हैं, पर एक ठोस पकड उन्हे शांत बनाए रखेगी.[130] यद्यपि वे उपयोगी हो सकते है, वे असामाजिक हैं तथा इस से संबंधित उतने उपयुक्त नही हैं जितने पालतू पशु;[77] वे सड़ी हुई गंध देते हैं तथा मोह के प्रति कोई प्रतिक्रिया नहीं दिखाते.[131]

अभी हाल तक, डैविल पर प्रकृतिवादियों तथा शिक्षाविदों द्वारा ज्यादा अध्यन नही किया गया था.[132] 20 वीं सदी की शुरूआत में, रॉबर्ट्स, जो एक प्रशिक्षित वैज्ञानिक नहीं था, को लोगों के बदलते नजरिए तथा देशी पशुओं जैसे कि डैविल जो डरावना और घृणित रूप में देखा गया, में वैज्ञानिक रुचि को प्रोत्साहित करने के लिए श्रेय दिया गया था तथा जानवरों के प्रति मनुष्य का द्रष्टिकोण बदला.[133] थिओडोर थॉमसन फ्लिन तस्मानिया में जीव विज्ञान के पहले प्रोफेसर थे तथा विश्वयुद्ध के आस पास की अवधि के दौरान कुछ अनुसंधान किये गये.[134] 1960 के मध्य के दशक में प्रोफेसर गुइलर ने शोधकर्ताओं की एक टीम को इकट्ठा किया और डैविल पर एक दशक का व्यवस्थित फील्ड्वर्क शुरू किया. इसको डैविल पर आधुनिक वैज्ञानिक अध्ययन की शुरूआत के रूप में देखा जाता है.[135] हालांकि, डैविल अब भी नकारात्मक था, जिसमें पर्यटन सामग्री शामिल है.[110] पहला डॉक्टरेट सम्मान डैविल पर अनुसंधान के लिए 1991 में आया था.[132]

क़ैद में[संपादित करें]

लाल कान और उसकी गर्दन के नीचे सफेद धब्बे के साथ एक डैविल, कुछ छाल चिप्स पर कुछ घास के सामने और उसके शरीर के आकार की एक चट्टान के पीछे खड़ा है .
At Healesville Sanctuary, Victoria

तस्मानियाई डैविलों की नस्ल को कैद में रखने के आरम्भिक प्रयासों को सीमित सफलता मिली. पशु कार्यकर्ता मैरी रॉबर्ट्स, जो डैविल की कम शत्रुतापूर्ण छवि को जनता के सामने पेश करने के लिए जानी जाती थीं तथा शैक्षिक पत्रिकाओं में इसके बारे में लिखा था,[133] 1913 में बाऊमारिस ज़ू पर नस्ली जोड़ी जिसका नाम इसने बिली तथा ट्रूगनिनी रखा था, हालांकि, यद्यपि बिली को हटाने की सलाह दी गयी, तब रॉबर्ट्स ने ट्रूगनिनी को उसकी अनुपस्थिति में बहुत व्यथित पाया तथा रॉबर्ट्स ने उसे लौटा दिया. ऐसा माना गया कि पहला प्रसव बिली ने खाया, लेकिन बिली के निकाले जाने के बाद 1914 में दूसरा प्रसव बच गया. रॉबर्ट्स ने डैविलों के लंदन ज़ूलोज़िकल सोसाइटी में रखने और प्रजनन पर एक लेख लिखा था.[133] यहां तक कि 1934 तक, डैविल का सफल प्रजनन दुर्लभ था.[136] कैदी युवा डैविलों के विकास पर एक अध्ययन तथा जो गुइलर द्वारा सूचित किया गया उनमें कुछ विकास के चरणों में बहुत भिन्नता थी. कान छत्तीसवें दिन मुक्त हुए तथा आंखें देर से 115 से 121वें दिन के बीच खुलीं.[137]

सामान्यतया, कैद में रखे जाने के बाद मादाएं नरों के मुकाबले ज्यादा तनाव बनाये रखतीं हैं.[138]

कैद में रखे हुए रोग से मुक्त डैविलों की एक बीमित आबादी बनाने की योजना पर काम 2005 से चल रहा है. जनवरी 2010 तक इस जनसंख्या के 277 सदस्य हैं. डैविलों को कई ऑस्ट्रेलियन चिड़ियाघरों में तथा वन्य जीव शरण स्थलों में रखा गया.[139]

तस्मानियाई डैविल के निर्यात पर प्रतिबंध का मतलब है कि डैविल सामान्य रूप से केवल ऑस्ट्रेलिया में कैद में देखा जा सकता है. वे 1850 के दशक के बाद से दुनिया भर के विभिन्न चिड़ियाघरों में प्रदर्शन पर थे.[140] 1950 के दशक में कई जानवरों को यूरोपीयन चिड़ियाघरों को दिया गया था.[141] अंतिम ज्ञात विदेशी डैविल, कूलाह का 2004 में फोर्ट वेन, इंडियाना, संयुक्त राज्य अमेरिका के फोर्ट वेन बच्चों के चिड़ियाघर में निधन हुआ था.[142] साढ़े सात साल की उम्र तक जीवित रहने वाले तस्मानियाई डैविल को सबसे बडा दर्ज़ किया गया.[143] हालांकि, तस्मानिया सरकार ने डेन्मार्क के शाही राजकुमार फ्रेडरिक तथा उसकी तस्मानिया में जन्मी पत्नी मेरी से अक्टूबर 2005 में पहले बच्चे के जन्म पर कोपेनहेगन चिड़ियाघर में दो नर और दो मादा, चार डैविल भेजे थे.[144] यही वह ज्ञात डैविल हैं जिनको ऑस्ट्रेलिया के बाहर देखा जा सकता है.[26] विशिष्ट रूप से, चिड़ियाघर के डैविलों को उनकी प्राकृतिक रात्रिकालीन शैली का अनुसरण करने के बजाय, आगंतुकों की आवश्यकताओं का ध्यान रखने के लिये, दिन में जागते रहने के लिए मजबूर किया जाता है.[145]

हालांकि, ऐसे समाचार हैं कि अतीत में अवैध व्यापार होने का संदेह है. 1997 में, एक डैविल पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया में आया; यह किसी लाइसेंसधारी रखवाले से भागा नहीं था. 1990 के दशक के दौरान वहां अमेरिका में ऐसी इंटरनेट साइटें भी थीं जो डैविलों की बिक्री के विज्ञापन कर रही थी तथा अफवाहें हैं कि तस्मानिया के लिए एक यात्रा के दौरान अवैध रूप से कुछ अमेरिकी नौसेना कर्मियों ने उन्हें खरीदने की कोशिश की थी.[146]

सांस्कृतिक संदर्भ[संपादित करें]

एक काली खुली स्पोर्ट्स कार जिसकी रोशनी जल रही है, एक डामर सड़क पर जा रही है.एक इंसान से थोड़ी बड़ी एक बड़ी प्यारी खिलौना पोशाक, पीछे की सीट पर खड़ी है.उसके क्रीम रंग का मुंह और छाती, और गहरे भूरे रंग की बांहें और माथा, बड़ी मूंछ, एक मुस्कराहट, बड़ी सफेद आंखें और दो श्वानीय हैं.उसके पीछे हरी वेशभूषा में कुछ पुरुष घूम रहें हैं.पत्थर की मेंहराबों वाली ऊंची इमारतों के सामने, बाईं ओर एक पगडंडी से परेड देखती भीड़.
Warner Bros' Tasmanian Devil at a parade in California.

डैविल ऑस्ट्रेलिया, विशेष रुप से तस्मानिया के भीतर एक प्रतिष्ठित पशु है; यह वन्य जीव सेवा और तस्मानियाई राष्ट्रीय उद्यानों का प्रतीक है,[34] तथा भूतपूर्व तस्मानियाई ऑस्ट्रेलियाई नियम फुटबॉल टीम जो विक्टोरियन फुटबॉल लीग में खेली थी वह डैविल्स के रूप में जानी जाती थी.[147] होबार्ट डैविल्स राष्ट्रीय बास्केटबॉल लीग का एक बार हिस्सा थी.[148] डैविल वर्षों तक ऑस्ट्रेलिया के कई स्मारकी सिक्कों में प्रकाशित हो चुका है.[149][150] तस्मानियाई डैविल पर्यटकों के साथ लोकप्रिय हैं, और तस्मानियाई डैविल संरक्षण पार्क के निदेशक ने उनके संभावित विलुप्तीकरण को "एक बहुत महत्वपूर्ण झटका आस्ट्रेलियन और तस्मानियाई पर्यटन के लिए" के रूप में वर्णित किया है.[151] उत्तरी तस्मानियाई के लाउंसेस्टन में पर्यटक आकर्षण के लिये एक विशाल 19 मीटर ऊंचा, 35 मीटर लंबा डैविल का निर्माण करने का कई लाख डॉलर का प्रस्ताव भी है.[152] डैविलों का पर्यटन में 1970 के दशक से इस्तेमाल किया जाने लगा, जब अध्ययन से पता चला कि जानवर ही थे जो अक्सर विदेशी तस्मानिया के लिये जाने जाते थे, तथा यह इसलिए क्रय-विक्रय के प्रयासों का केंद्र होना चाहिये, परिणामस्वरूप कई डैविलों को उन्नति संबंधी यात्रा में शामिल किया गया है.[153]

अपने अद्वितीय व्यक्तित्व के साथ, तस्मानियाई डैविल कई वृत्तचित्र, कल्पना तथा गैर कल्पना की बच्चों की किताबों के विषय रहे हैं.[154][155][156][157][158] मार्गरेट वन्य रूबी रोअर्स के रोयल्टीज़ तस्मानियाई डैविल के बारे में अनुसंधान करने के लिए डीएफटीडी (DFTD) में जा रहे हैं.[159] तस्मानिया में सोपानी शराब की भठ्ठी से तस्मानियाई डैविल के लेबल के साथ अदरक की शराब बिकती है.[160] एक महिला डैविल जिसको मेंगानिनी कहा जाता है, के प्रजनन के समय से लेकर उसके युवा के जन्म और पालन के बाद 2005 में तस्मानियाई डैविल पर ऑस्ट्रेलियन वृत्तचित्र तथा टैरर्स ओफ तस्मानिया का डेविड पेरर तथा एलिज़ाबेथ पेरर-कुक के द्वारा निर्माण और निर्देशन किया गया. वृत्तचित्र भी डैविल के चेहरे की ट्यूमर बीमारी के प्रभाव को दिखाती है तथा तस्मानियाई डैविलों के अस्तित्व को सुनिश्चित करने के लिए संरक्षण उपाय लिये जा रहे हैं.[154] वृत्तचित्र की संयुक्त राज्य अमेरिका में तथा ऑस्ट्रेलिया में टीवी पर आने वाले नेशनल ज्योग्राफिक चैनल पर जांच की जा चुकी है.[154][161]

तस्मानियाई डैविल को शायद अंतरराष्ट्रीय स्तर पर 1954 में लूनी धुनों के कार्टून चरित्र द तस्मानियाई डैविल और ताज़ के लिये सबसे ज्यादा जाना जाता है. उस समय कम ज्ञात था, उंचे स्वर का अतिसक्रिय कार्टून चरित्र तथा असली जीवन के जानवर में कुछ सामान्य है.[162] 1957 से 1964 के बीच कुछ ही शॉर्ट्स के बाद 1990 तक पात्र सेवानिवृत्त किया गया, जब उसने स्वयं शो ताज़-में निया प्राप्त किया तथा फिर से लोकप्रिय हो गया.[163] 1997 में, एक अखबार रिपोर्ट में कहा गया है कि वार्नर ब्रदर्स ने पात्र के लिये ट्रेडमार्क प्राप्त किया और तस्मनियन डैविल नाम को पंजीकृत करा लिया, तथा तस्मानियाई कंपनी को मछली पकड़ने के आकर्षण को तस्मानियाई डैविल कहने की अनुमती दिलाने के लिये यह ट्रेडमार्क एक आठ साल के कानूनी मामले के साथ पुलिस को दिया गया. बहस के बाद, तस्मानियाई सरकार के एक प्रतिनिधिमंडल ने वार्नर ब्रदर्स से मुलाकात की.[164] पर्यटन मंत्री, रे ग्रूम ने बाद में घोषणा की कि एक मौखिक सहमती हो गयी थी. तस्मानियाई सरकार को "विपणन उद्देश्यों" के लिये ताज़ की छवी का उपयोग करने में सक्षम बनाने के बदले में एक वार्षिक शुल्क वार्नर ब्रदर्स के लिए भुगतान किया जाएगा. यह समझौता बाद में गायब हो गया.[165] वार्नर ब्रदर्स ने 2006 में तस्मानियाई सरकार को ताज़ के भरवां खिलौने लाभ के साथ बेचने की अनुमति दी तथा उस लाभ को डीफटीडी (DFTD) के अनुसंधान में डाला गया.[166]

शोधकर्ताओं ने एक आनुवंशिक-उत्परिवर्ती माउस को तस्मानियाई डैविल का नाम भी दिया. कान के बालों की संवेदी कोशिकाओं के विकास में उत्परिवर्ती माउस दोषपूर्ण है, प्रमुख उत्परिवर्ती का असामान्य व्यवहार जिसमें चक्कर पटकना और सिर हिलाना,[167] जो तस्मानियाई डैविल की बजाय कार्टून ताज़ की तरह ज्यादा लगता है.

वहां एक डीसी (DC) सुपरहीरो है जिसे तस्मानियाई डैविल कहा गया, एक तस्मानियाई डैविल जो 1977[कृपया उद्धरण जोड़ें] में पहले सुपरफ्रेंड्स #7 में दिखायी दिया तथा Justice League: Cry for Justice 2009 में उसके मृत होने का पता चला.[168]

परिवर्तक जानवर युद्ध कथानक के पात्र स्नार्ल के पास तस्मानियाई डैविल का एक वैकल्पिक रूप था.[169] द्वितीय जानवर युद्ध के तस्मानियाई बच्चे भी तस्मानियाई डैविल में बदल सकते थे.[170]

लाइनक्स कर्नल के 2.6.29 के रिलीज़ के लिये लाइनस टोर्वाल्ड्स ने टक्स में स्कोट को तस्मानियाई डैविल शुभंकर को बचाने के समर्थन में अस्थायी रूप से तस्मानियाई डैविल के नाम ट्ज़ में परिवर्तित किया.[171]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

नोट्स[संपादित करें]

  1. Hawkins, C. E., McCallum, H., Mooney, N., Jones, M.; Holdsworth, M. (2008). Sarcophilus harrisii. 2008 संकटग्रस्त प्रजातियों की IUCN लाल सूची. IUCN 2008. Retrieved on 12 October 2008. Listed as Endangered(EN A2be+3e v3.1)
  2. Brown, Oliver (2006). "Tasmanian devil (Sarcophilus harrisii) extinction on the Australian mainland in the mid-Holocene: multicausality and ENSO intensification". Alcheringa: An Australasian Journal of Paleontology 31: 49–57. doi:10.1080/03115510609506855. 
  3. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ. 79.
  4. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 8.
  5. Werdelin, L. (1987). "Some observations on Sarcophilus laniarius and the evolution of Sarcophilus". Records of the Queen Victoria Museum, Launceston 90: 1–27. 
  6. Groves, C. (2005). Wilson, D. E., & Reeder, D. M, eds. ed. Mammal Species of the World (3rd ed.). Baltimore: Johns Hopkins University Press. प॰ 28. OCLC 62265494. ISBN 0-801-88221-4. http://www.bucknell.edu/msw3. 
  7. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 7.
  8. Krajewski, Carey et al. (1992). "Phylogenetic relationships of the thylacine (Mammalia:Thylacinidae) among dasyuroid marsupials: evidence from cytochrome b DNA sequences". Proceedings of the Royal Society B-Biological Sciences 250: 19–27. PMID 1361058. 
  9. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 33.
  10. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 34.
  11. Krajewski, Carey; Westerman, Michael (2003). "Molecular Systematics of Dasyuromorpha". In Jones, Menna; Dickman, Chris; Archer, Mike (eds.). Predators with Pouches: The Biology of Carnivorous Marsupials. Collingwood, Victoria: CSIRO Publishing. प॰ 16. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-643-06634-9. 
  12. Long, John A.; Archer, Michael (2002). Prehistoric mammals of Australia and New Guinea: one hundred million years of evolution. UNSW Press. प॰ 55. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0868404357. http://books.google.com.au/books?id=LwMkO0M1mPQC&pg=PA55&lpg=PA55&dq=Glaucodon+ballaratensis&source=bl&ots=GddgJnr06f&sig=2ErYPHpDGkbnlpq4iHMijjuynfM&hl=en&ei=0WitTMPVIo-cvgOeu9iEDw&sa=X&oi=book_result&ct=result&resnum=6&ved=0CCwQ6AEwBQ#v=onepage&q=Glaucodon%20ballaratensis&f=false. अभिगमन तिथि: 8 October 2010. 
  13. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 35.
  14. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 36.
  15. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 37.
  16. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 38.
  17. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 39.
  18. ओवेन और पेम्बर्टन, पीपी 40-42.
  19. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 40.
  20. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 41.
  21. टिंडेल-बिस्को, पीपी 159-165.
  22. "Completed genome is first step to tackling Tasmanian devil facial tumours". Wellcome Trust Sanger Institute. 16 September 2010. http://www.sanger.ac.uk/about/press/2010/100916.html. अभिगमन तिथि: 27 September 2010. 
  23. टिंडेल-बिस्को, पृष्ठ 143.
  24. Jones, Menna E.; Paetkau, David; Geffen, Eli; Moritz, Craig (2004). "Genetic diversity and population structure of Tasmanian devils, the largest marsupial carnivore". Molecular Ecology 13 (8): 2197–2209. doi:10.1111/j.1365-294X.2004.02239.x. 
  25. doi:10.1038/hdy.2010.17
    This citation will be automatically completed in the next few minutes. You can jump the queue or expand by hand
  26. "Sarcophilus harrisii – Tasmanian Devil". Department of Sustainability, Environment, Water, Population and Communities. http://www.environment.gov.au/cgi-bin/sprat/public/publicspecies.pl?taxon_id=299. अभिगमन तिथि: 30 September 2010. 
  27. प्राथमिक उद्योग, पार्क, जल और पर्यावरण के विभाग (2010) ड्राफ्ट रिकवरी प्लैन फॉर द तसमानियन डैविल (सार्कोफिलस हैरिसी). प्राथमिक इंडस्ट्रीज, पार्क, जल एवं पर्यावरण, होबार्ट के विभाग. 14 नवंबर 2010 को पुनःप्राप्त.
  28. Siddle, Hannah V.; Marzec, Jolanta; Cheng, Yuanyuan; Jones, Menna; Belov, Katherine (2010). "MHC gene copy number variation in Tasmanian devils: Implications for the spread of a contagious cancer". Proceedings of the Royal Society B 277: 2001–06. http://rspb.royalsocietypublishing.org/content/277/1690/2001.full. अभिगमन तिथि: 28 October 2010. 
  29. Guiler, E. R. (1983). "Tasmanian Devil". In Strahan, R. (ed.). The Australian Museum Complete Book of Australian Mammals. Angus & Robertson. pp. 27–28. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-207-14454-0. 
  30. ओवेन और पेम्बर्टन, पीपी 46-47.
  31. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 118.
  32. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 52.
  33. Jones, Menna E.; Cockburn, Andrew; Hamede, Rodrigo; Hawkins, Clare; Hesterman, Heather; Lachish, Shelly; Mann, Diana; McCallum, Hamish; Pemberton, David (2008). Life-history change in disease-ravaged Tasmanian devil populations. 105. PNAS. doi:10.1073/pnas.0711236105. http://www.pnas.org/content/105/29/10023.full. अभिगमन तिथि: 9 September 2010. 
  34. Horton, Margaret. "Tasmanian devil – Frequently Asked Questions". Parks and Wildlife Service Tasmania. http://www.parks.tas.gov.au/index.aspx?base=4756. अभिगमन तिथि: 11 September 2010. 
  35. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 46.
  36. Pemberton, D; Renouf, D. (1993). "A field-study of communication and social behaviour of Tasmanian Devils at feeding sites". Australian Journal of Zoology 41: 507–526. 
  37. गुइलर (1970), पृष्ठ 64.
  38. Wroe, S.; McHenry, C.; Thomason, J. (2005). "Bite club: comparative bite force in big biting mammals and the prediction of predatory behaviour in fossil taxa". Proceedings of the Royal Society B-Biological Sciences 272: 619–625. PMID 15817436. 
  39. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 20.
  40. Lotha, Gloria; Parwani, Neha; Rafferty, John P.; Rogers, Kara; Singh, Shiveta. "Tasmanian devil (marsupial)". Encyclopædia Britannica. http://www.britannica.com/EBchecked/topic/583942/Tasmanian-devil. अभिगमन तिथि: 16 March 2010. 
  41. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 64.
  42. टिंडेल-बिस्को, पीपी 142-143.
  43. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 44.
  44. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 53.
  45. Wroe, Stephen (1999). "The geologically oldest dasyurid, from the Miocene of Riversleigh, north-west Queensland" (PDF). Paleontology 42 (3): 501–527. http://unsw.academia.edu/documents/0098/3602/Wroe_1999_Geologically_oldest_dasyurid.pdf. 
  46. Fisher, D. O. et al. (2001). "The ecological basis of life history variation in marsupials". Ecology 82: 3531–3540. http://esapubs.org/archive/ecol/E082/042/appendix-A.htm. 
  47. Jones, M. E.; Barmuta, L. A. (2000). "Niche differentiation among sympatric Australian dasyurid carnivores". Journal of Mammalogy 81: 434–447. 
  48. Beeton, Robert J. S. (2009). "Advice to the Minister for the Environment, Heritage and the Arts from the Threatened Species Scientific Committee (the Committee) on Amendment to the list of Threatened Species under the Environment Protection and Biodiversity Conservation Act 1999 (EPBC Act) Sarcophilus harrisii (Tasmanian Devil) Listing Advice" (PDF). Threatened Species Scientific Committee. http://www.environment.gov.au/biodiversity/threatened/species/pubs/299-listing-advice.pdf. अभिगमन तिथि: 23 October 2010. 
  49. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 129.
  50. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 69.
  51. Jones, M. E.; Barmuta, L. A. (1988). "Diet overlap and relative abundance of sympatric dasyurid carnivores: a hypothesis of competition". Journal of Animal Ecology 67: 410–421. 
  52. ओवेन और पेम्बर्टन, पीपी 21-22.
  53. "Devil Facts". Department of Primary Industries, Parks, Water and Environment. 22 June 2010. http://www.dpiw.tas.gov.au/inter.nsf/WebPages/EKOE-6FA6QB?open. अभिगमन तिथि: 26 October 2010. 
  54. Hamede, Rodrigo K.; Bashford,Jim; McCallum, Hamish; Jones, Menna (November 2009). "Contact networks in a wild Tasmanian devil (Sarcophilus harrisii) population: using social network analysis to reveal seasonal variability in social behaviour and its implications for transmission of devil facial tumour disease". Ecology Letters 12 (11): 1147–57. doi:DOI: 10.1111/j.1461-0248.2009.01370.x. 
  55. "Social Networking Study Reveals Threat To Tasmanian Devils". Science Daily. 19 August 2009. http://www.sciencedaily.com/releases/2009/08/090819064033.htm. अभिगमन तिथि: 26 August 2010. 
  56. ओवेन और पेम्बर्टन, पीपी 76-77.
  57. "About Tasmanian Devils". Department of Primary Industries, Parks, Water and Environment. 8 July 2010. http://www.dpiw.tas.gov.au/inter.nsf/WebPages/BHAN-5358KH. अभिगमन तिथि: 6 October 2010. 
  58. Threatened Species Scientific Committee (the Committee) on Amendments to the list of Threatened Species. "Advice to the Minister for the Environment and Heritage from the Threatened Species Scientific Committee (the Committee) on Amendments to the list of Threatened Species under the Environment Protection and Biodiversity Conservation Act 1999 (EPBC Act)" (PDF). Department of Sustainability, Environment, Water, Population and Communities. http://www.environment.gov.au/biodiversity/threatened/species/pubs/sarcophilus-harrisii-listing.pdf. अभिगमन तिथि: 26 October 2010. 
  59. ओवेन और पेम्बर्टन, पीपी 23-24.
  60. टिंडेल-बिस्को, पृष्ठ 148.
  61. टिंडेल-बिस्को, पीपी 147-149.
  62. टिंडेल-बिस्को, पृष्ठ 149.
  63. टिंडेल-बिस्को, पीपी 148-149.
  64. Cooper, Christine E.; Withers, Philip C. (2010). "Comparative physiology of Australian quolls (Dasyurus; Marsupialia)". Journal of Comparative Physiology B Biochemical, Systems, and Environmental Physiology 180 (6): 857–68. doi:10.1007/s00360-010-0452-3. 
  65. टिंडेल-बिस्को, पृष्ठ 150.
  66. "Save The Tasmanian Devil Newsletter" (PDF). Save The Tasmanian Devil Newsletter. September 2010. http://www.tassiedevil.com.au/tasdevil.nsf/downloads/D595436FECB69A66CA2576ED0083D3F6/$file/DevilNews_Sep_2010.pdf. अभिगमन तिथि: 26 October 2010. 
  67. ओवेन और पेम्बर्टन, पीपी 11-13.
  68. ओवेन और पेम्बर्टन, पीपी 70-73.
  69. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 108.
  70. ओवेन और पेम्बर्टन, पीपी 11-15, 20, 36.
  71. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 14.
  72. ओवेन और पेम्बर्टन, पीपी 49-50.
  73. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 71.
  74. गुइलर, पीपी 8-10.
  75. ओवेन और पेम्बर्टन, पीपी 71-73.
  76. टिंडेल-बिस्को, पृष्ठ 147.
  77. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 25.
  78. ओवेन और पेम्बर्टन, पीपी 43-47.
  79. ओवेन और पेम्बर्टन, पीपी 60-62.
  80. ओवेन और पेम्बर्टन, पीपी 56-58.
  81. Guiler, E. R. (1970). "Observations on the Tasmanian devil, Sarcophilus harrisii II. Reproduction, Breeding and Growth of Pouch Young". Australian Journal of Zoology 18: 63–70. 
  82. टिंडेल-बिस्को, पृष्ठ 152.
  83. ओवेन और पेम्बर्टन, पीपी 64-66.
  84. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 66.
  85. गुइलर (1970), पृष्ठ 66.
  86. "Save The Tasmanian Devil Newsletter" (PDF). Save The Tasmanian Devil Newsletter. March 2010. http://www.tassiedevil.com.au/tasdevil.nsf/downloads/D595436FECB69A66CA2576ED0083D3F6/$file/Devilnews_March_2010.pdf. अभिगमन तिथि: 2 October 2010. 
  87. "Life Cycle of the Tasmanian Devil" (PDF). Save The Tasmanian Devil Program. http://www.tassiedevil.com.au/tasdevil.nsf/file/DD87BEF28EFEF6C3CA2576D20004BB2C/$file/STDP_Life%20Cycle%20Poster_A3.pdf. अभिगमन तिथि: 2 October 2010. 
  88. गुइलर (1992), पीपी 16-22.
  89. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 54.
  90. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 63.
  91. Archer, Michael; Baynes, Alexander (1972). "Prehistoric mammal faunas from two small caves in the extreme southwest of Western Australia". Journal of the Royal Society of Western Australia 55: 80–89. 
  92. Johnson, C. N.; Wroe, S. (2003). "Causes of extinction of vertebrates during the Holocene of mainland Australia: arrival of the dingo, or human impact?". Holocene 13: 941–948.  doi:10.1191/0959683603hl682fa
  93. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 43.
  94. "Tasmanian Devil, Sarcophilus harrisii". Parks & Wildlife Service Tasmania. http://www.parks.tas.gov.au/index.aspx?base=387. अभिगमन तिथि: 26 September 2010. 
  95. ओवेन और पेम्बर्टन, पीपी 75-76.
  96. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 171.
  97. Denholm, Matthew (22 January 2008). "Cancer agents found in Tasmanian devils". News Limited. http://www.news.com.au/story/0,23599,23087523-421,00.html. अभिगमन तिथि: 30 September 2010. 
  98. http://www.environment.gov.au/biodiversity/threatened/publications/recovery/tasmanian-devil-draft-recovery-plan.html
  99. Bradshaw, C. J. A.; Brook, B. W. (2005). "Disease and the devil: density-dependent epidemiological processes explain historical population fluctuations in the Tasmanian devil" (PDF). Ecography 28: 181–190. http://www.cbsg.org/cbsg/content/files/TD_References/Disease/bradshaw_density_dependent_2005.pdf. 
  100. doi:10.1007/s10393-007-0118-0
    This citation will be automatically completed in the next few minutes. You can jump the queue or expand by hand
  101. Connellan, Ian (October–December 2008). "Tasmanian devils: Devil coast". Australian Geographic. http://www.australiangeographic.com.au/journal/tasmanian-devils-devil-coast.htm. अभिगमन तिथि: 22 August 2010. 
  102. "EPBC Policy Statement 3.6 – Tasmanian Devil (Sarcophilus harrisii)" (PDF). Department of the Environment and Heritage. July 2006. http://www.deh.gov.au/epbc/publications/pubs/tasmanian-devil-policy.pdf. अभिगमन तिथि: 30 September 2010. 
  103. Australasian Marsupial & Monotreme Specialist Group (1996). Sarcophilus harrisii. २००६ विलुप्तप्राय प्रजातियों की IUCN सूची. IUCN २००६. अभिगमन तिथि: 21 July 2007.
  104. Mercer, Phil (22 May 2009). "Tasmanian devils now endangered". BBC News. http://news.bbc.co.uk/1/hi/world/asia-pacific/8062840.stm. अभिगमन तिथि: 30 September 2010. 
  105. Harris, G. P. (1807). "Description of two species of Didelphis for Van Diemen's Land". Transactions of the Linnean Society of London. IX. 
  106. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 9.
  107. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 19.
  108. ओवेन और पेम्बर्टन, पीपी 19, 26-27.
  109. पैडल, पृष्ठ. 195.
  110. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 99.
  111. ओवेन और पेम्बर्टन, पीपी 101-109.
  112. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 119.
  113. ओवेन और पेम्बर्टन, पीपी 120-121.
  114. ओवेन और पेम्बर्टन, पीपी 127-129.
  115. Bostanci, A. (2005). "A Devil of a Disease". Science 307: 1035. PMID 15718445. 
  116. "Foxes in Tasmania – A Grave Threat to Our Wildlife". Department of Primary Industries, Parks, Water and Environment. 25 May 2010. http://www.dpiw.tas.gov.au/inter.nsf/WebPages/SJON-52J8U3?open. अभिगमन तिथि: 30 September 2010. 
  117. Nicholson, Evelyn; Gigliotti, Frank (2005). "Increasing the target-specificity of the M-44 ejector by exploiting differences in head morphology between foxes and large dasuryids". Wildlife Research 32: 733–736. 
  118. Hobday, Alistair J. (2010). "Nighttime driver detection distances for Tasmanian fauna: informing speed limits to reduce roadkill". Wildlife Research 37: 265–272. doi:10.1071/WR09180. 
  119. Jones, Menna E. (2000). "Road upgrade, road mortality and remedial measures: impacts on a population of eastern quolls and Tasmanian devils". Wildlife Research 27: 289–296. 
  120. "Devil Facial Tumour Disease Update" (PDF). Department of Primary Industries, Parks, Water and Environment. June 2005. http://www.dpiwe.tas.gov.au/inter.nsf/Attachments/LBUN-6D73V5/$FILE/Tas_devil_update_June2005.pdf. अभिगमन तिथि: 30 September 2010. 
  121. "Tasmanian Devil Facial Tumour Disease (DFTD) Disease Management Strategy" (PDF). Department of Primary Industries, Parks, Water and Environment. February 2005. http://www.dpiwe.tas.gov.au/inter.nsf/Attachments/LBUN-6996MH/$FILE/DFTD_DMS_Feb05a.pdf. अभिगमन तिथि: 30 September 2010. 
  122. "Devil Facial Tumour Disease". Department of Primary Industries, Parks, Water and Environment. http://www.dpiwe.tas.gov.au/inter.nsf/WebPages/LBUN-5QF86G?open. अभिगमन तिथि: 30 September 2010. 
  123. Shea, N. (November 2006). "Wildlife: Devils in danger". National Geographic. 
  124. "Project to Save Endangered Tasmanian Devil". Newswise. 3 November 2008. http://newswise.com/articles/view/546018/. अभिगमन तिथि: 28 November 2010. 
  125. Pickrell, John (27 June 2007). "Tasmanian devil epidemic: cause isolated?". Cosmos Magazine. http://www.cosmosmagazine.com/node/1412. अभिगमन तिथि: 22 September 2010. 
  126. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 6.
  127. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 42.
  128. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 3.
  129. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 10.
  130. ओवेन और पेम्बर्टन, पीपी 15-18.
  131. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 113.
  132. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 4.
  133. ओवेन और पेम्बर्टन, पीपी 84-93.
  134. ओवेन और पेम्बर्टन, पीपी 93-97.
  135. ओवेन और पेम्बर्टन, पीपी 99-101.
  136. ओवेन और पेम्बर्टन, पीपी 67-69.
  137. Phillips, B. T.; Jackson, S. M. (2003). "Growth and development of the Tasmanian devil (Sarcophilus harrisii) at Healesville Sanctuary, Victoria, Australia" (PDF). Zoo Biology 22: 497–505. http://www.cbsg.org/cbsg/content/files/TD_References/Devil_Biology/philips__jackson_devil_growth_2003.pdf. 
  138. Jones, S. M.; Lockhart, T. J.; Rose, R. W. (2005). "Adaptation of wild-caught Tasmanian devils (Sarcophilus harrisii) to captivity: evidence from physical parameters and plasma cortisol concentrations" (PDF). Australian Journal of Zoology 53: 339–344. http://www.zoo.utas.edu.au/RR/pdfRose/Devil.pdf. 
  139. "Insurance population". Save The Tasmanian Devil Program. 7 July 2010. http://www.tassiedevil.com.au/tasdevil.nsf/Insurance-population/208FDBC98145099FCA2576C7001651E1. अभिगमन तिथि: 30 September 2010. 
  140. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 132.
  141. ओवेन और पेम्बर्टन, पीपी 101-102.
  142. "Last Tasmanian Devil not in Australia dies". United Press International. 5 May 2004. http://www.highbeam.com/doc/1P1-94713891.html. अभिगमन तिथि: 30 September 2010. 
  143. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 140.
  144. "Mary's little devils". The Sydney Morning Herald. 11 April 2006. http://www.smh.com.au/news/world/marys-little-devils/2006/04/11/1144521306868.html. अभिगमन तिथि: 14 September 2010. 
  145. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 133.
  146. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 26.
  147. "Welcome" (PDF). Save the Tasmanian Devil: p. 1. June 2008. http://www.tassiedevil.com.au/tasdevil.nsf/downloads/D595436FECB69A66CA2576ED0083D3F6/$file/DevilNews_June_2008.pdf. अभिगमन तिथि: 6 October 2010. 
  148. "1987". National Basketball League. http://www.nbl.com.au/nbl-hq/history/year-by-year-history/80s/1987/. अभिगमन तिथि: 6 October 2010. 
  149. "2009 Celebrate Australia $1 coin – Tasmania". The Perth Mint. http://www.perthmint.com.au/catalogue/2009-celebrate-australia-1-coin-tasmania.aspx. अभिगमन तिथि: 6 October 2010. 
  150. "2010 $5 Gold Proof Tinga Tasmanian Devil". Royal Australian Mint. http://mintissue.ramint.gov.au/mintissue/product.asp?code=802152. अभिगमन तिथि: 6 October 2010. 
  151. "World tourism can help save the Tasmanian Devil, park director tells international conference". Tasmanian Devil Conservation Park. 5 June 2008. http://www.tasmaniandevilpark.com/news.html. अभिगमन तिथि: 6 October 2010. 
  152. Jeanes, Tim (3 February 2006). "Giant Tassie Devil tourist attraction in danger". Australian Broadcasting Corporation. http://www.abc.net.au/worldtoday/content/2006/s1561675.htm. अभिगमन तिथि: 6 October 2010. 
  153. ओवेन और पेम्बर्टन, पीपी 122-124.
  154. "ABC Television: Program summary – Terrors Of Tasmania:". Australian Broadcasting Corporation. January 2005. http://www.abc.net.au/tv/guide/netw/200501/highlights/246710.htm. अभिगमन तिथि: 28 August 2010. 
  155. Reilly, Pauline; Rolland, Will (1988). The Tasmanian devil. Kenthurst, New South Wales: Kangaroo Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0864172079. 
  156. ओवेन और पेम्बर्टन, पीपी 145-165.
  157. Williams, Jasper; Suzuki, John; De Zoete, Claire (2007). Tasmanian devils. South Yarra, Victoria: Macmillan Education Australia. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9781420219241. 
  158. Currey, Kylie; Parrish, Steve (2006). Growing up as a devil. Archerfield, Queensland: Steve Parish Publishing. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1740217942. 
  159. "A book to sink your teeth into". Save The Tasmanian Devil. 8 November 2007. http://www.tassiedevil.com.au/tasdevil.nsf/TheAppeal/CA01F571F5FF308ACA2576D400009106. अभिगमन तिथि: 8 October 2010. 
  160. "Cascade Ginger Beer". Foster's Group. http://www.fostersgroup.com/brands/cascade-ginger-beer.aspx. अभिगमन तिथि: 6 October 2010. 
  161. "Terrors of Tasmania". MSN TV. http://tv.msn.com/tv/episode/national-geographic-ultimate-explorer/terrors-of-tasmania/. अभिगमन तिथि: 6 October 2010. 
  162. ओवेन और पेम्बर्टन, पृष्ठ 12.
  163. ओवेन और पेम्बर्टन, पीपी 156-160.
  164. ओवेन और पेम्बर्टन, पीपी 161-164.
  165. ओवेन और पेम्बर्टन, पीपी 167, 169.
  166. "Warner Bros to help save Tassie devils". The Sydney Morning Herald. 20 June 2006. http://www.smh.com.au/news/National/Warner-Bros-to-help-save-Tassie-devils/2006/06/20/1150701535616.html. अभिगमन तिथि: 30 September 2010. 
  167. Erven, A. et al. (2002). "A novel stereocilia defect in sensory hair cells of the deaf mouse mutant Tasmanian Devil". European Journal of Neuroscience 16: 1433–1441. PMID 12405956. 
  168. Robinson, James (September 2009). Justice League: Cry For Justice. 
  169. फिग्युरा, फर्मन, यी, खन्ना, गुइडी, आइसेंबर्ग, मटीर, रोशे, रुफोलो, और विलियम्स, पृष्ठ 154.
  170. फिग्युरा, फर्मन, यी, खन्ना, गुइडी, आइसेंबर्ग, मटीर, रोशे, रुफोलो, और विलियम्स, पृष्ठ 166.
  171. corbet (17 March 2009). "The kernel gets a new logo". Lwn.net. http://lwn.net/Articles/323966/. अभिगमन तिथि: 16 March 2010. 

ग्रन्थ सूची[संपादित करें]

आगे पढ़ें[संपादित करें]

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]

Listen to this article · (info)
Spoken Wikipedia
This is an audio file which was created from an article revision dated 2006-08-08, and does not reflect subsequent edits to the article. (Audio help)
ये एक आवाज़-लेख है, जो इस लेख का 2006-08-08 दिनांक को बना आवाज़ प्रतिरूप है । इसे आप सुन सकते हैं ।
अंग्रेज़ी के और आवाज़-लेख हिन्दी के और आवाज़-लेख