तत्त्वार्थ सूत्र

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तत्त्वार्थसूत्र जैन आचार्य उमास्वामी द्वारा रचित ग्रन्थ है। इसे 'तत्त्वार्थ-अधिगम-सूत्र' तथा 'मोक्ष-शास्त्र' भी कहते हैं। सूत्र रूप में रचित यह प्रथम जैन ग्रन्थ है। इसमें दस अध्याय तथा ३५० सूत्र हैं। उमास्वामी सभी जैन मतावलम्बियों द्वारा मान्य हैं। उनका जीवनकाल २री शताब्दी है।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]