डेविड रिकार्डो

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
डेविड रिकार्डो
चिरसम्मत अर्थशास्त्र
David Ricardo(1).jpg
जन्म 19 अप्रैल 1772
मृत्यु 11 सितम्बर 1823(1823-09-11) (उम्र 51)
राष्ट्रीयता ब्रिटिश
प्रभाव एडम स्मिथ · जेरेमी बेन्थम
प्रभावित किया रिकार्डीय समाजवादी · जॉन स्टुअर्ट मिल · कार्ल मार्क्स · पिएरो स्ट्राफा · रॉबर्ट जे. बैरो
योगदान रिकार्डीय समतुल्यता, मान का श्रम सिद्धान्त, तुलनात्मक लाभप्रदता, ह्रासमान प्रतिफल का नियम, आर्थिक भाटक[1]

डेविड रिकार्डो

डेविड रिकार्डो

डेविड रिकार्डो ( 18 अप्रैल 1772 - 11 सितंबर 1823 ) एक ब्रिटिश राजनीतिक अर्थशास्त्री थे । डेविड रिकार्डो एक प्रभावशाली शास्त्रीय अर्थशास्त्री थे । उन्होंने एक दलाल और वित्तीय बाजार सट्टेबाज के रूप में अपने पेशेवर जीवन शुरू किया। उन्होंने काफी निजी भाग्य प्राप्त की, बड़े पैमाने पर वित्तीय बाजार की अटकलों से और, सेवानिवृत्त होने पर ब्रिटेन की संसद में उन्होने एक सीट खरीदा। उन्होंने अपने जीवन के अंतिम चार सालो मे अपना संसदीय सीट रखा। शायद उनकी सबसे महत्वपूर्ण विरासत है उन्की तुलनात्मक लाभ के सिद्धांत जो यह बताता है कि एक राष्ट्र को केवल उन्ही उद्योगों में ध्यान केंद्रित करना चाहिए जहां वह सबसे अधिक अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रतिस्पर्धी है और अन्य देशों के साथ व्यापार करे वे उत्पादों को प्राप्त करने के लिए जो उन्के राष्ट्र मे उत्पादन नहीं कर रहे। संक्षेप में, रिकार्डो ने देशों द्वारा चरम उद्योग विशेषज्ञता के विचार को बढ़ावा दिया। इस सोच में रिकार्डो ने एक राष्ट्रीय उद्योग नीति के अस्तित्व को मान लिया था जिसका उद्देश्य था दूसरो की हानि के लिए कुछ उद्योगों को बढ़ावा देने का। कई विद्वानों, जेसे Joan Robinson और Piero Sraffa, ने रिकार्डो के तुलनात्मक लाभ के सिद्धांत को चुनौती दी है लेकिन अंतरराष्ट्रीय मुक्त व्यापार के पक्ष के तर्क मे आधारशिला बनी हुई है।

व्यक्तिगत जीवन

रिकार्डो लंदन, इंग्लैंड में पैदा हुआ था। वेह पुर्तगाली मूल के एक यहूदी परिवार के 17 बच्चों में से तीसरे बच्चे थे। उनके पिता, इब्राहीम रिकार्डो, एक सफल शेयर दलाल थे। उन्होंने 14 साल की उम्र में अपने पिता के साथ काम करना शुरू किया। 21 साल की उम्र में रिकार्डो, एक क्वेकर, प्रिसिला ऐनी विल्किनसन के साथ भाग गई, और अपने पिता की इच्छा के विरुद्ध है, वह एक ईसाई एकजुट बन गइ। इस धार्मिक फर्क के कारण उनकी अपने परिवार से मनमुटाव हुई और वह स्वतंत्रता की स्थिति को अपनाने के लिए मजबूर हो गइ।

अपने पिता से उसका मनमुटाव के बाद वह Lubbocks और Forster, एक प्रख्यात बैंकिंग घर के समर्थन के साथ एक दलाल के रूप में एक सफल व्यवसाय शुरू कर दिया।

मौत और विरासत

अवकाश ग्रहण करने के दस साल बाद और संसद में प्रवेश करने के चार साल बाद, रिकार्डो का कान के संक्रमण से मृत्यु हो गई। यह कान का संक्रमण, मस्तिष्क में फैल गया और सेप्टिसीमिया प्रेरित किया। वह 51 वर्ष के थे।

उनके आठ बच्चे थे, जिन्मे से तीन बेटे थे।

रिकार्डो हारदेनहुइश में सेंट निकोलस के क़ब्रिस्तान में एक अलंकृत कब्र में दफन है। उसकी कब्र पर शिलालेख पढ़ता है: "हॉलैंड में पैदा हुए एक यहूदी, वह पेहले मुक्त व्यापारियों में से एक थे और अपने दिन में एक प्रसिद्ध कट्टरपंथी थे।" उनकी मृत्यु के समय उनका धन £600,000 होने का अनुमान था।

विचार

रिकार्डो को 1799 में एडम स्मिथ की 'राष्ट्रों का धन' पढ़ने के बाद अर्थशास्त्र में दिलचस्पी बन गए। उन्होंने 37 के उम्र में अपनी पहली अर्थशास्त्र लेख लिखा था। रिकार्डो के विचार इंग्लैंड में स्वीकार हो गए और आधुनिक पश्चिमी दुनिया में रूढ़िवादी आर्थिक विचारे बन गए हैं जहां सरकार आर्थिक विकास में एक निर्धारण भूमिका निभाती है।

तुलनात्मक लाभ

1500 और 1750 के बीच अधिक अर्थशास्त्रिया वणिकवाद की वकालत करते थे जो अन्य देशों के साथ एक व्यापार अधिशेष चलाकर बुलियन पाने के उद्देश्य के लिए अंतरराष्ट्रीय व्यापार के विचार को बढ़ावा देती थी। रिकार्डो ने इस विचार को चुनौती दी कि व्यापार का उद्देश्य सोना या चांदी जमा करने के लिए मात्र था। रिकार्डो उद्योग विशेषज्ञता और मुक्त व्यापार के पक्ष में थे। उन्होंने सरल गणित का उपयोग करते हुए साबित करने का प्रयास किया कि नि: शुल्क अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के साथ संयुक्त उद्योग विशेषज्ञता हमेशा सकारात्मक परिणाम का उत्पादन करता है। इस सिद्धांत को पूर्ण लाभ की अवधारणा पर विस्तार किया।

रिकार्डो ने यह तर्क दिया कि व्यापार से आपसी राष्ट्रीय लाभ है भले ही एक देश अपनी व्यापारिक समकक्ष से हर क्षेत्र में ज्यादा अधिक प्रतिस्पर्धी है और एक राष्ट्र को केवल उन उद्योगों पर ध्यान देना चाहिए जहां उनका एक तुलनात्मक लाभ था।रिकार्डो के तुलनात्मक लाभ के सिद्धांत एक राष्ट्रीय स्तर पर उद्योग और व्यापार नीति के अस्तित्व को मानता है। यह अनुमान नहीं करता कि व्यापार निर्णय व्यवहार्यता या लाभ के आधार पर उद्यमियों द्वारा स्वतंत्र रूप से किया जाना चाहिए।

रिकार्डो ने एक साधारण संख्यात्मक उदाहरण का उपयोग करते हुए साबित करने का प्रयास किया कि अंतर्राष्ट्रीय व्यापार हमेशा फायदेमंद है। पॉल सैमुएलसन ने रिकार्डो के इंग्लैंड और पुर्तगाल के बीच व्यापार की संख्यात्मक उदाहरण में प्रयुक्त संख्या को "चार जादुई संख्या" का नाम दिया।

चित्र:Comparative-advantage.jpg
तुलनात्मक लाभ के सिद्धांत

संरक्षणवाद

एडम स्मिथ की तरह, रिकार्डो राष्ट्रीय अर्थव्यवस्थाओं, विशेष रूप से कृषि के लिए, के संरक्षणवाद के एक प्रतिद्वंद्वी थे।

मूल्य सिद्धांत

रिकार्डो का सबसे प्रसिद्ध काम 'राजनीतिक अर्थव्यवस्था और कराधान के सिद्धांत' (1817) है। इस का पहला अध्याय खुलता है मूल्य का श्रम सिद्धांत के एक बयान के साथ।उनके मूल्य का श्रम सिद्धांत के लिए कई मान्यताओं की आवश्यकता है:

1. दोनों क्षेत्रों में एक ही मजदूरी दर और एक ही लाभ की दर है; 2. उत्पादन में नियोजित पूंजी केवल मजदूरी से बना है; 3. उत्पादन की अवधि दोनों वस्तुओं के लिए एक ही है।

रिकार्डो खुद को यह एहसास हुआ कि दूसरा और तीसरा मान्यताये काफी अवास्तविक थे और इसलिए अपने मूल्य के श्रम सिद्धांत मे दो अपवाद भर्ती कराया:

1. उत्पादन अवधि भिन्न हो सकती है; 2. दो उत्पादन प्रक्रियाओं मे यंत्र और उपकरण राजधानी के रूप में और न सिर्फ मजदूरी के रूप मे काम कर सकते हैं, और बहुत अलग अनुपात में।

रिकार्डो ने अपने जीवन के अंत तक अपने मूल्य के सिद्धांत पर काम करना जारी रखा।

उनका प्रभाव और बौद्धिक विरासत

डेविड रिकार्डो के विचारों का अर्थशास्त्र के नए घटनाक्रम पर एक जबरदस्त प्रभाव था। अमेरिकन अर्थशास्त्रियों ने रिकार्डो को एडम स्मिथ के पीछे, पूर्व बीसवीं सदी का दूसरा सबसे प्रभावशाली आर्थिक विचारक का रैंक दिया है। रिकार्डो शास्त्रीय राजनीतिक अर्थव्यवस्था के सैद्धांतिक पिता बन गए।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. मिलर, रोजर लेरॉय। इकोनॉमिक्स टुडे. पन्द्रहवाँ संस्करण. बोस्टन, एम ए: पियर्सन एजुकेशन. पृष्ठ 559

1. Miller, Roger LeRoy. Economics Today. Fifteenth Edition. Boston, MA: Pearson Education. page 559

2. Sowell, Thomas (2006). On classical economics. New Haven, CT: Yale University Press.

3. http://www.policonomics.com/david-ricardo/

4. Ricardo, David. 1919. Principles of Political Economy and Taxation. G. Bell, p. LIX: "by reason of a religious difference with his father, to adopt a position of independence at a time when he should have been undergoing that academic training"

5. King, John (2013). David Ricardo. Palgrave Macmillan. p. 48.