डीप थ्रोट

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

डीप थ्रोट उस मुखबिर को दिया गया छद्म नाम है जिसने 1972 में द वाशिंगटन पोस्ट के बॉब वुडवार्ड को संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन के प्रशासन के वाटरगेट स्कैंडल नामक घोटाले में शामिल होने के बारे में सूचना प्रदान की थी. निक्सन के इस्तीफे के इकतीस साल बाद यह खुलासा हुआ कि डीप थ्रोट असल में फेडरल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन के पूर्व एसोसियेट डायरेक्टर मार्क फेल्ट थे.

पहचान[संपादित करें]

डीप थ्रोट को वाशिंगटन पोस्ट के रिपोर्टरों बॉब वुडवार्ड और कार्ल बर्नस्टीन द्वारा लिखी 1974 की पुस्तक ऑल द प्रेसिडेंट्स मेन में पहली बार सार्वजनिक तौर पर परिचित कराया गया, इस पुस्तक का रूपांतरण दो साल बाद एक अकादमी-पुरस्कार विजेता फिल्म में किया गया. लेखकों के अनुसार, डीप थ्रोट एक ऐसे घोटाले पर आलेखों की एक श्रृंखला के लिए सूचना का एक महत्त्वपूर्ण स्रोत था जिसने निक्सन के प्रशासन के कुकर्मों से आम जनता को परिचित कराने में एक अग्रणी भूमिका निभाई थी. इस घोटाले ने अंततः राष्ट्रपति निक्सन के इस्तीफे के साथ-साथ व्हाईट हाउस के चीफ ऑफ स्टाफ एच.आर. हाल्डेमन, जी. गॉर्डन लिडी, एजिल क्रो, व्हाइट हाउस के वकील चार्ल्स कॉल्सन और जॉन डीन और राष्ट्रपति के सलाहकार जॉन एर्लिकमैन को जेल की सजा दिलवाई थी.

वाटरगेट के दौरान पोस्ट के प्रबंधकीय संपादक हावर्ड सिमंस ने "डीप थ्रोट" के उपनाम का प्रयोग एक ऐसी कुख्यात अश्लील फिल्म के लिए एक संकेत के रूप में किया जो उस समय विवाद का एक प्रमुख कारण था. इस नाम का प्रयोग पत्रकारिता संबंधी शब्द "डीप बैकग्राउंड (गहरी पृष्ठभूमि)" के रूप में एक ऐसे गुप्त स्रोत द्वारा दी की गयी सूचना के संदर्भ में हुआ था, जिसके बारे में समझौते के तहत सीधे तौर पर रिपोर्ट नहीं किया जाएगा.

30 वर्षों से भी अधिक समय से डीप थ्रोट की पहचान अमेरिकी राजनीति और पत्रकारिता के सबसे बड़े रहस्यों में से एक और सर्वाधिक सार्वजनिक जिज्ञासा एवं अटकलों के रूप में बनी हुई थी. वुडवर्ड और बर्नस्टीन ने जोर देकर कहा था कि वे उसकी पहचान तब तक उजागर नहीं करेंगे जब तक कि उसकी मौत नहीं हो जाती है या अपनी पहचान का खुलासा करने के लिए उसकी सहमति नहीं मिल जाती है.

31 मई 2005 को वैनिटी फेयर पत्रिका ने उस समय यह खुलासा किया कि डीप थ्रोट विलियम मार्क फेल्ट, सीनियर थे, जब इसने फेल्ट की ओर से कार्यरत एक अटॉर्नी, जॉन डी ओ'कोन्नोर द्वारा लिखे एक आलेख को अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित किया (जो अंततः जुलाई के अंक में दिखाई दिया), जिसमें फेल्ट ने कथित तौर पर बताया था कि "मैं ही वह आदमी हूँ जिसे वे डीप थ्रोट कहा करते थे." वैनिटी फेयर की कहानी के उजागर होने के बाद, वुडवार्ड, बर्नस्टीन और बेंजामिन सी. ब्रैडली जो वाटरगेट के दौरान पोस्ट के कार्यकारी संपादक थे, उन्होंने डीप थ्रोट होने के फेल्ट के दावे की पुष्टि की थी. [1] एफबीआई के पूर्व कार्यकारी निदेशक और फेल्ट के बॉस, एल. पैट्रिक ग्रे, अपने बेटे एड ग्रे के साथ मिलकर लिखी गयी ग्रे की पुस्तक, इन निक्संस वेब में अकेला स्रोत होने के फेल्ट के दावे को फेल्ट विवादित बताते हैं. इसकी बजाय, ग्रे और अन्य लोग निरंतर यह तर्क देते आए हैं कि कि डीप थ्रोट पुस्तक और फिल्म की बिक्री को बढ़ाने के क्रम में सभी स्रोतों को एक पात्र में संकलित करने का संयुक्त रूप था.

वाटरगेट में भूमिका[संपादित करें]

साँचा:Watergate

17 जून, 1972 को स्थानीय समयानुसार सुबह 2:31 बजे वाशिंगटन, डी.सी. में वाटरगेट होटल के इमारत की छठी मंजिल पर डेमोक्रेटिक नेशनल कमिटी के कार्यालयों में पुलिस ने पांच लोगों को गिरफ्तार किया था. पुलिस घटना स्थल पर एक सुरक्षा गार्ड फ्रैंक विल्स द्वारा सूचित किये जाने के बाद पहुंची थी, जिसने यह देखा था कि होटल में प्रवेश के लिए एक दरवाजे को खुला छोड़ दिया गया था.

परिस्थिति असामान्य थी क्योंकि पांच चोरों के पास सिलसिलेवार क्रम संख्या में सौ-डॉलर के पत्तों में 2,300 डॉलर की राशि, कुछ लॉक-पिक्स और डोर-जिम्मीज (ताले और दरवाजे खोलने वाले चीजें), एक वाकी टॉकी, पुलिस की आवृत्तियों को सुनने के लिए एक रेडियो स्कैनर, दो कैमरे, अप्रयुक्त फिल्मों की 40 रीलें, आंसू गैस की बंदूकें और कार्यालयों में होने वाले सभी वार्तालापों की रिकॉर्डिंग करने में सक्षम अत्याधुनिक इलेक्ट्रॉनिक उपकरण पाए गए थे.

इनमें से कम से कम एक व्यक्ति सेन्ट्रल इंटेलिजेंस एजेंसी का एक पूर्व कर्मचारी था. जिम मैककॉर्ड, जूनियर, नामक यह व्यक्ति अपनी गिरफ्तारी के समय राष्ट्रपति के पुनर्निर्वाचन के लिए राष्ट्रपति निक्सन की कमिटी (जिसे निक्सन के राजनीतिक विरोधियों में इसके संक्षिप्त रूप "क्रीप" के नाम से जाना जाता था) का एक सुरक्षा कर्मी था. दो व्यक्तियों के नोट बुक पाए गए थे जिन पर ई. होवार्ड हंट का टेलीफोन नंबर मौजूद था जिनका नाम नोट बुक में "डब्ल्यू. हाउस" और "डब्ल्यू.एच." के पतों के साथ लिखा हुआ था.

घोटाले ने तत्काल कुछ मीडिया संबंधी तहकीकात को आकर्षित किया. इसके परिणाम स्वरूप पत्रकारों द्वारा सुराग की खोज और शिकार का पीछा करने में एक लंबी अवधि बिताने, और अंततः संयुक्त राज्य अमेरिका की सीनेट और न्यायिक प्रणाली यह जानने के लिए कि सरकार की कार्यकारी शाखा वाटरगेट घोटाले किस हद तक जुड़ी थी, जैसा कि इसके बारे में बताया गया था, इसकी जांच-पड़ताल को विस्तार दिया गया.

वाशिंगटन पोस्ट के रिपोर्टरों की एक युवा जोड़ी, बॉब वुडवर्ड और कार्ल बर्नस्टीन ने दो वर्षों की अवधि तक इस घटनाक्रम को कवर किया था. घोटाले में अंततः विविध प्रकार के कानूनी उल्लंघनों को शामिल दिखाया गया था और इसने निक्सन व्हाइट हाउस के कई सदस्यों को सजा भी सुनाई गयी. सीनेट और अदालतों से बढ़ते दबाव से निक्सन अंततः इस्तीफा देने वाले पहले अमेरिकी राष्ट्रपति बन गए, जिससे प्रतिनिधि सभा द्वारा महाभियोग को टाला जा सका.

वुडवर्ड और बर्नस्टीन की कहानियों में ऐसी जानकारियां शामिल थी जो एफबीआई के जांचकर्ताओं द्वारा खुसासा की गयी जानकारियों से आश्चर्यजनक रूप से एक समान थी. यह पत्रकारिता का एक ऐसा गौरवशाली उदाहरण था जो उस समय किसी अन्य पत्रकार ने हासिल नहीं किया था. अपनी बाद की पुस्तक ऑल द प्रेसिडेंट्स मेन में वुडवर्ड और बर्नस्टीन ने दावा किया यह जानकारी एक अकेले गुमनाम मुखबिर की और से आयी थी जिसे "डीप थ्रोट" का उपनाम दिया गया था. बाद में यह पता चला था और वुडवर्ड एवं बर्नस्टीन ने इसकी पुष्टि की थी कि डीप थ्रोट एफबीआई के उप निदेशक डब्ल्यू. मार्क फेल्ट थे.

वुडवर्ड ने वर्षों पहले फेल्ट के साथ दोस्ती की थी और वाटरगेट कांड से पहले कई कहानियों के लिए उनसे परामर्श लिया था. वुडवर्ड, बर्नस्टीन और अन्य डीप थ्रोट द्वारा दी गयी जानकारियों को वाटरगेट स्कैंडल में तहकीकात की कामयाबी सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने का श्रेय देते हैं.

डीप थ्रोड से संपर्क के तरीके[संपादित करें]

ऑल द प्रेसिडेंट्स मेन में वुडवर्ड पहली बार डीप थ्रोट का उल्लेख पृष्ठ 71 पर करते हैं; इससे पहले इस पुस्तक में वे उसका उल्लेख इस प्रकार करते हैं "एक पुराना दोस्त और कभी-कभी एक ऐसा स्रोत जो संघीय सरकार के लिए काम करता था और जिसे अपने ऑफिस में बात करना पसंद नहीं था.". बाद में वे उनके बारे में इस प्रकार वर्णन करते हैं "कार्यकारी शाखा में एक ऐसा स्रोत जिसकी पहुंच सीआरपी की सूचना के साथ-साथ व्हाईट हाउस तक थी". पुस्तक उन्हें "एक अत्यंत बातूनी व्यक्ति", "कार्यकारी शाखा का निरीक्षण करने के लिए एक विशिष्ट स्थान पर आसीन व्यक्ति," और एक ऐसा व्यक्ति के रूप में वर्णित करती है "जो कई जगह अपनी लड़ाईयां लड़ चुका है".

वुडवर्ड ने यह दावा किया था कि वे अपने अपार्टमेन्ट की बालकनी पर एक फूल के गमले के साथ एक लाल झंडा रखकर "डीप थ्रोट" से मिलने का संकेत दिया करते थे. जब डीप थ्रोट उनसे मिलना चाहते थे, वे वुडवार्ड की द न्यूयॉर्क टाइम्स की कॉपी के पृष्ठ संख्या बीस पर एक विशेष प्रकार का चिह्न बना दिया करते थे; वे पृष्ठ संख्या को गोल कर देते और समय का संकेत देने के लिए घड़ी की सूई का रेखाचित्र बना दिया करते थे. वे अक्सर "रॉसलिन में की ब्रिज के ठीक ऊपर एक भूमिगत गैराज के निचले तल पर" सबेरे 2:00 बजे मुलाक़ात किया करते थे. यह गैराज 1401 विल्सन बोलवार्ड में स्थित है.

कई लोगों को इन गुप्त (क्लोक और डैगर) तरीकों पर संदेह था. एड्रियन हैविल ने अपनी 1993 की वुडवार्ड और बर्नस्टीन की जीवनी के लिए इन दावों की जांच की थी और उन्हें तथ्यात्मक रूप से असंभव पाया था. उन्होंने कहा कि वाशिंगटन में नॉर्थवेस्ट के 1718 पी स्ट्रीट पर स्थित वुडवर्ड के अपार्टमेंट 617 में एक आंतरिक आंगन था और यह सड़क से दिखाई नहीं देता था. हैविल ने कहा कि नियमित रूप से बालकनी की जांच करने वाला कोई भी व्यक्ति, जैसा कि "डीप थ्रोट" कथित रूप से हर दिन करता था, उसे अवश्य देखा गया होगा. हैविल ने यह भी कहा कि द टाइम्स की प्रतियों को व्यक्तिगत अपार्टमेंटों में नहीं दिया जाता था बल्कि इन्हें एक बिना पते वाले ढेर के रूप में इमारत के स्वागत डेस्क पर सौंप दिया जाता था. यह जानने का कोई तरीका नहीं रहा होगा कि कौन सी प्रति वुडवार्ड के लिए थी. हालांकि, वुडवर्ड ने कहा था कि 1970 के दशक की शुरुआत में भीतरी आंगन एक गली थी और इसे अभी तक बंद नहीं किया गया था और यह कि उनकी बालकनी वहां से गुजरने वाले पैदल यात्रियों को सड़क के स्तर से दिखाई देती थी. वुडवार्ड ने कल्पना की थी कि यह पास ही के दूतावासों की निगरानी में मौजूद एफबीआई के किसी भी व्यक्ति को दिखाई दे सकता था. उन्होंने इस तथ्य का भी खुलासा किया कि न्यूयॉर्क टाइम्स की वुडवार्ड की प्रति पर उसके अपार्टमेन्ट का नंबर अंकित होता था. पूर्व पड़ोसी हरमन निपेनबर्ग ने कहा था कि वुडवार्ड टाइम्स की चिह्नित प्रति की खोज में यह दावा करते हुए कभी-कभी अपने दरवाजे पर आते थे, "मैं इसे मिंट स्थिति में रखना पसंद करता हूँ और मैं अपनी खुद की प्रति लेना पसंद करता हूँ".[2]

इसके अलावा, जबकि वुडवर्ड ने अपनी पुस्तक में इन सावधानियों पर जोर दिया था, वे अपने घर के टेलीफोन पर भी "डीप थ्रोट" से बात करना स्वीकार करते हैं.

इरादों पर विवाद[संपादित करें]

अपनी पहचान के बारे में अपने सार्वजनिक प्रकटीकरण के बाद फेल्ट परिवार ने उन्हें यह कहते हुए एक "अमेरिकी हीरो" बताया कि उसने नैतिक और देशभक्ति के कारणों से वाशिंगटन पोस्ट को वाटरगेट कांड के बारे में जानकारी लीक की थी. हालांकि अन्य टीकाकारों ने अनुमान लगाया कि फेल्ट के पास वुडवर्ड को जानकारी लीक करने के लिए और अधिक व्यक्तिगत कारण हो सकते थे.

अपनी पुस्तक द सीक्रेट मैन में वुडवर्ड फेल्ट का उल्लेख एक वफादार और जे. एडगर हूवर के प्रशंसक के रूप में करते हैं. हूवर की मौत के बाद, फेल्ट उस समय क्रोधित और निराश हो गए जब कानून प्रवर्तन के किसी पूर्व अनुभव के बिना न्याय विभाग के सिविल डिवीजन के कैरियर नौसेना अधिकारी और वकील, एल पैट्रिक ग्रे को फेल्ट की बजाय एफ.बी.आई. का निदेशक बना दिया गया जबकि फेल्ट ब्यूरो एक 30-वर्ष के अनुभवी होने के कारण इसके पात्र थे. फेल्ट विशेष रूप से ग्रे की एफ.बी.आई. की प्रबंधन शैली से नाखुश थे, जो हूवर की तुलना में साफ़ तौर पर अलग थी. फेल्ट ने वुडवर्ड और बर्नस्टीन का चयन इसलिए किया क्योंकि वह जानते थे कि उन्हें चोरी की जांच सौंपी गई थी. न्याय विभाग के वकीलों या राष्ट्रपति के गलत कार्यों की जांच की प्रभारी सदन की न्यायपालिका समिति (हाउस ज्युडिशियरी कमिटी) की मांग करने की बजाय, उन्होंने क्रमबद्ध ढंग से वुडवर्ड और बर्नस्टीन को जानकारी लीक की जिससे कि अपनी स्वयं की पहचान और भागीदारी को सुरक्षित रूप से गोपनीय रखते हुए उनकी छानबीन में मार्गदर्शन किया जा सके.

निक्सन के लिए काम करने वाले कुछ परंपरावादियों जैसे कि पैट बुकानन और जी. गॉर्डन लिडी ने फेल्ट की आलोचना की थी और अपनी इस धारणा के बारे में बताया कि निक्सन को गलत तरीके से पदच्युत किया गया था.[3]

डीप थ्रोट का खुलासा[संपादित करें]

हालांकि डीप थ्रोट की पहचान की पुष्टि 30 से अधिक वर्षों तक रहस्यमय बनी रही, कुछ संदेह इस प्रकार भी थे कि 2005 में सार्वजनिक स्वीकृति से काफी समय पहले फेल्ट वास्तव में रिपोर्टर के रहस्यमय स्रोत रहे थे.

  • स्वयं रिचर्ड निक्सन का मानना था कि फेल्ट डीप थ्रोट हो सकते थे लेकिन उन्होंने उनका खुलासा करने की कोशिश नहीं की. इसके लिए उनका कथित तर्क यह था कि अगर उन्होंने ऐसा किया होता, तो फेल्ट ने एफबीआई और अन्य प्रभावशाली लोगों एवं संस्थानों के लिए नुकसानदायक जानकारी का सार्वजनिक रूप से खुलासा किया होता.

निक्सन ने उस समय फेल्ट के बारे में कहा था कि वह "एफबीआई में जो कुछ भी जानने के लिए है, सब कुछ जानता है." फेल्ट का खुलासा नहीं करने का निक्सन का उद्देश्य संभवतः पूरी तरह परोपकारी नहीं रहा होगा. इसमें कोई शक नहीं है कि अगर फेल्ट ने सार्वजनिक रूप से उन सारी बातों का खुलासा किया होता जिसकी उन्हें जानकारी थी, तो वह आदमी जिसे सबसे अधिक क्षति पहुंच सकती थी, वे स्वयं निक्सन ही थे.

  • कार्ल बर्नस्टीन ने यहां तक कि डीप थ्रोट की पहचान को अपने परिवार के साथ भी साझा नहीं किया था, जिसमें उनकी पत्नी नोरा एफ्रन शामिल थी. (जैसा कि उन्होंने 2 जून, 2005 को एनबीसी टुडे पर कहा था, "मैं इतना गूंगा कभी नहीं था कि उसे (एफ्रन को) बोल नहीं पाता." उन्होंने कहा, "...जो बहुत होशियार था, क्योंकि मैं अब तक पूरी दुनिया को बता दिया होता.") एफ्रन को इस रहस्य का पता लगाने का जूनून सवार हो गया था और अंततः उन्होंने सही रूप से यह निष्कर्ष निकाला कि वह मार्क फेल्ट ही थे.[4] (यह पहले से पता चला गया था कि "डीप थ्रोट" निश्चित रूप से एक पुरुष था.) 1999 में, एक 19 वर्षीय कॉलेज के नए छात्र, चेज क्लूमैन-बैकमैन ने दावा किया कि बर्नस्टीन के बेटे ने उससे कहा था कि मार्क फेल्ट वास्तव में "डीप थ्रोट" थे. क्लूमैन-बैकमैन के अनुसार जैकब बर्नस्टीन ने कहा था कि उसे "सौ फीसदी यकीन था कि "डीप थ्रोट" मार्क फेल्ट थे. वह एफबीआई का कोई व्यक्ति है." जैकब ने कथित तौर पर यह लगभग 11 साल पहले कहा था, जब वह और क्लूमैन-बैकमैन सहपाठी थे. एफ्रन ने बताया कि उनके बेटे ने संयोग से उनकी "अटकलों" को सुन लिया था, और कार्ल बर्नस्टीन भी स्वयं इस दावे को नकारने के लिए तत्काल एक कदम आगे बढ़ गए थे, लेकिन ज्यादातर लोगों को उनके दावों पर विश्वास नहीं था.
  • ब्रूस पोर्टर रॉबर्ट्स ने अपने 1975 के संस्मरण, द जेम्सस्टोन फाइल्स में फेल्ट को ड्रीप थ्रोट के रूप में निर्देशित किया था.
  • जेम्स मान, जिन्होंने वाटरगेट के समय में पोस्ट के साथ काम किया था और जांच के काफी करीब थे, 1992 में एक लेख द अटलांटिक मंथली में उन्होंने एक साथ कई सबूतों को पेश किया था जो फेल्ट पर उंगली उठाई और कई लोगों को इसका विश्वास दिलाया.[5] उन्होंने तर्क दिया कि "डीप थ्रोट" द्वारा वुडवर्ड को दी गयी जानकारी सिर्फ एफबीआई के फाइलों से आई हो सकती है. फेल्ट एफबीआई के निदेशक के पद से दूर रहने के कारण भी इस तरह कड़वाहट से भरे थे कि एफबीआई सामान्य रूप से निक्सन प्रशासन के लिए शत्रुतापूर्ण हो गयी थी. पिछले असंबंधित लेखों में, वुडवर्ड ने स्पष्ट कर दिया था कि उनके पास एफबीआई में एक उच्च पदस्थ स्रोत मौजूद था और इस बात के कई सबूत हैं कि उसकी फेल्ट के साथ दोस्ती थी.
  • वुडवर्ड ने वर्षों से फेल्ट के साथ करीबी संपर्क बना रखा था, यहां तक कि 1999 में फेल्ट के पागलपन की शुरुआत होने के बाद उन्हें अप्रत्याशित रूप से उनके घर में और कैलिफोर्निया के सैंटा रोजा में फेल्ट की बेटी, जोन के घर में देखा गया था. उस समय कुछ लोगों ने संदेह जताया था कि संभवतः वुडवर्ड फेल्ट से उनके डीप थ्रोट होने का खुलासा करने के लिए कह रहे थे, जिन्होंने अन्य लोगों द्वारा सीधे तौर पर पूछे जाने पर लगातार "डीप थ्रोट" होने से इनकार किया था.
  • 2002 में, टिमोथी नूह ने फेल्ट के बारे में कहा था, डीप थ्रोट की पहचान के बारे में किया जाने वाला सर्वश्रेष्ठ अनुमान."[6]

फरवरी 2005 में, निक्सन के पूर्व व्हाइट हाउस काउंसेल समाचार स्तंभकार जॉन डीन ने बताया कि वुडवार्ड ने हाल ही में ब्रैडली को सूचित किया था कि "डीप थ्रोट" बीमार था और वह मृत्यु के करीब था और यह कि ब्रैडली ने डीप थ्रोट का मृत्युलेख लिखा था. वुडवर्ड और द वाशिंगटन पोस्ट के तत्कालीन वर्तमान संपादक लियोनार्ड डाउनी दोनों ने इन दावों से इनकार किया था. फेल्ट, विशेष रूप से 1999 की गर्मियों में वुडवर्ड और फेल्ट के बीच हुई रहस्यमय मुलाक़ात के बाद कुछ हद तक एक संदिग्ध व्यक्ति बन गया था. लेकिन अन्य लोगों ने वर्षों से इस ओर कहीं अधिक ध्यान दिया था, जैसे कि पैट बुकानन, हेनरी किसिंजर, तत्कालीन मुख्य न्यायाधीश विलियम रेनक्विस्ट, जनरल हेग, और, यह पता चलने से पहले कि "डीप थ्रोट" निश्चित रूप से कोई महिला नहीं थी, डीन सॉयर.

31 मई 2005 को वैनिटी फेयर पत्रिका ने रिपोर्ट दिया कि उस समय 91 वर्ष की आयु के विलियम मार्क फेल्ट ने यह दावा किया था कि वही वह व्यक्ति हैं जिन्हें कभी "डीप थ्रोट" के नाम से जाना जाता था.[7] बाद में उसी दिन, वुडवार्ड, बर्नस्टीन और ब्रैडली ने द वॉशिंगटन पोस्ट के माध्यम से एक बयान जारी कर यह पुष्टि कर दी कि यह कहानी सच्ची थी.

2 जून, 2005 को द वाशिंगटन पोस्ट ने वुडवार्ड द्वारा लिखित एक विस्तृत मुख्य पृष्ठ[8] निकाला जिसमें उन्होंने वाटरगेट के पहले के वर्षों में फेल्ट के साथ अपनी दोस्ती के बारे में विस्तार से बताया था. वुडवर्ड ने लिखा था वे फेल्ट से पहली बार 1970 में संयोग वश मिले थे, जब वुडवार्ड एक नौसेना के लेफ्टिनेंट थे और अपनी उम्र के तीसरे दशक के मध्य में थे जिन्हें व्हाईट हाउस के वेस्ट विंग में एक पैकेट सौंपने के लिए भेजा गया था. फेल्ट उनके थोड़ी ही देर बाद एक अलग मुलाक़ात के लिए वहां पहुंचे और प्रतीक्षालय में वुडवार्ड के बगल में आकर बैठ गए. वुडवर्ड ने एक बातचीत शुरू की जिससे अंततः एफबीआई की उच्च स्तर पर उन्हें फेल्ट की स्थिति के बारे में जानकारी हुई. वुडवार्ड, जो उस समय नौसेना से बाहर निकालने की तैयारी में थे और जीवन में अपने भविष्य की दिशा को लेकर निश्चित नहीं थे, उन्होंने फेल्ट का एक मेंटर और करियर सलाहकार के रूप में उपयोग करने का निश्चय किया और इसलिए उन्होंने फेल्ट का फोन नंबर ले लिया और उनके संपर्क में रहने लगे.

एक संवाददाता के रूप में करियर शुरू करने की कोशिश का निश्चय करने के बाद, वुडवार्ड अंततः अगस्त 1971 में द वाशिंगटन पोस्ट में शामिल हो गए. फेल्ट, जिनके बारे में वुडवर्ड लिखते हैं कि उनका निक्सन प्रशासन के बारे में काफी लम्बे समय से एक धुंधला नजरिया था, उन्होंने वुडवार्ड को टुकड़ों में सूचनाएं देना शुरू कर दिया, हालांकि उन्होंने सूचनाओं के आधार पर लिखी गयी किसी भी सामग्री से एफबीआई और न्याय विभाग को अलग रखने के लिए वुडवार्ड से जोर देकर कहा था. मई 1972 के मध्य में वुडवर्ड ने पहली बार फेल्ट से प्राप्त सूचना का उपयोग वाशिंगटन पोस्ट की एक स्टोरी में किया, यह अवसर वाटरगेट घोटाले से एक महीना पहले का था जब वुडवार्ड एक ऐसे व्यक्ति पर रिपोर्टिंग कर रहे थे जिसने राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार अलाबामा के जॉर्ज सी. वालास की ह्त्या करने की कोशिश की थी; निक्सन ने इस संभावित ह्त्या की जांच का जिम्मा फेल्ट को सौंपा था. एक महीने बाद, वातार्गेल के खुलासे के कुछ ही दिनों बाद वुडवार्ड ने फेल्ट को अपने ऑफिस में बुलाया जो वह पहला मौक़ा था जब वुडवार्ड ने वाटरगेट के बारे में फेल्ट से बात की थी.

अपने "डीप थ्रोट" स्रोत के रूप में काम करने के लिए फेल्ट की प्रेरणाओं पर टिप्पणी करते हुए वुडवर्ड ने लिखा था, "फेल्ट यह मानते थे कि वे एक रास्ता निकालकर ब्यूरो की सुरक्षा कर रहे थे, जो इतना गुप्त था कि एफबीआई के साक्षात्कारों और फाइलों से ली गयी कुछ सूचनाओं को सार्वजनिक करने, निक्सन और उनके लोगों को जवाबदेह बनाने के लिए नागरिक और राजनीतिक दबाव बढाने में मदद करने में सक्षम था. उनका इरादा कुछ और नहीं बल्कि निक्सन व्हाइट हाउस और राजनीनिक कारणों से ब्यूरो में फेरबदल करने के उनके प्रयासों की निन्दा करना था."

1980 में, स्वयं फेल्ट वेदरमैन के संदिग्धों के घरों में और उनके परिवारों में गैरकानूनी सेंधमारी का आदेश देने का दोषी पाया गया. रिचर्ड निक्सन ने उनकी ओर से गवाही दी थी. राष्ट्रपति रोनाल्ड रीगन ने फेल्ट को माफ़ कर दिया और इस बाद में अपराध को रिकॉर्ड से निकाल दिया गया था.

समग्र चरित्र सिद्धांत[संपादित करें]

फेल्ट के रहस्योद्घाटन "मैं ही वह आदमी था जिसे वे डीप थ्रोट कहा करते थे" और वुड वार्ड की पुष्टि से पहले, वास्तविक डीप थ्रोट की पहचान कर पाने में इतिहासकारों और अन्य विद्वानों को हुई इतनी मुश्किल का कुछ हद तक कारण यह है, क्योंकि कोई भी एक व्यक्ति ऑल द प्रेसिडेंट्स मैन में वर्णित पात्र के अनुसार सही तरीके से फिट नहीं लग रहा था. यही वजह थी कि कुछ विद्वान और टिप्पणीकार इस निष्कर्ष पर पहुंचे थे कि डीप थ्रोट संभवतः एक व्यक्ति नहीं हो सकता और उसे कई स्रोतों का एक समग्र स्वरूप होना चाहिए.

एक साहित्यिक व्यापार के दृष्टिकोण से, इस सिद्धांत को उस एजेंट द्वारा समर्थन मिला था जिसने मूलतः ऑल द प्रेसिडेंट्स मैन के ड्राफ्ट की मार्केटिंग की थी, जिसने कहा था कि पुस्तक की शुरुआती टाइपस्क्रिप्ट में डीप थ्रोट का बिलकुल भी कोई संदर्भ नहीं था. उसने इन अटकलों को जन्म दिया की वुडवर्ड और बर्नस्टीन ने संघनित इतिहास की भूमिका उसी तरह निभाई जैसे हॉलीवुड के पटकथा लेखक करते हैं: लेखक देखता है कि बड़े-बड़े काम करने वाले असल जिंदगी के नायक के दर्जनों मददगार होते हैं, जो कुल मिलाकर उन्हें एक व्यक्ति बना देता है और उसे एक काल्पनिक नाम दे देता है.

इस सिद्धांत को मूल रूप से फेल्ट द्वारा डीप थ्रोट होने के दावे के आधार पर रखने का विचार किया गया था. हालांकि, एफबीआई की जांच-पड़ताल संबंधी फाइलों के हाल ही के अध्ययन, वुडवार्ड द्वारा डीप थ्रोट के साथ अपनी मुलाकातों जारी किये गए नोट और ऑल द प्रेसिडेंट्स मैन में डीप थ्रोट से संबंधित बातचीत ने यह खुलासा किया था कि फेल्ट ने संभवतः डीप थ्रोट से संबंधित सभी जानकारियां वुडवार्ड को नहीं बतायी होंगी.

विशेष रूप से, डीप थ्रोट पर वुडवार्ड के नोट्स की अपनी जांच-पड़ताल में एड ग्रे इन टिप्पणियों को उद्धृत करते हैं जिसमें डीप थ्रोट को यह कहते हुए बताया गया है "मिशेल ने दस दिनों तक स्वयं जांच-पड़ताल की और 'वह पागल हुआ जा रहा था --- हमने मदद के लिए उन्हें कुछ लोग भी सौंपे थे'. डब्ल्यू."[सिक][9]

ग्रे ध्यान दिलाते हैं कि अगर वह स्रोत "...मार्क फेल्ट था, उसके 'हम' का मतलब केवल एफबीआई हो सकता है. लेकिन सेंधमारी के तुरंत बाद निश्चित रूप से किसी एफबीआई एजेंट को इसके अपने कर्मचारियों की एक आतंरिक क्रीप (गुप्त) जांच के लिए नियुक्त नहीं किया गया था, जिसका परिणाम बिलकुल वही था जिसे मिशेल और क्रीप एफबीआई से दूर रखना चाहते थे. अगर वहां "मदद के लिए नियुक्त" एफबीआई एजेंट होते जिन्हें "सभी तरह की नयी चीजें मिली थीं," ना केवल वाटरगेट मामला उन पहले दस दिनों में उजागर हो गया होता बल्कि एफबीआई की फाइलें भी परिणामी साक्षात्कारों के एफडी-302 से भरी होतीं. वहां कोई भी मौजूद नहीं है."[10]

ग्रे वाटरगेट काल के दौरान न्याय विभाग के एक अधिकारी, डोनाल्ड सैंटारेली के साथ हुई एक बातचीत का भी एक उद्धरण देते हैं, जिसमें ग्रे वुडवर्ड्स की कुछ टिप्पणियों की सामग्रियों के बारे में उल्लेख करते हैं कि वे डीप थ्रोट से संबंधित थे. जवाब में सैंटारेली ने कथित तौर पर ग्रे को बताया, "यह निश्चित रूप से मैं था. बॉब मुझे नियमित रूप से कॉल किया करते थे और मुझसे इस तरह की सामग्री के लिए कहते थे. उन्होंने आगे कहा कि "डीप थ्रोट अभी भी एक समग्र... यह सिर्फ मार्क फेल्ट नहीं था."[11]

अन्य संदिग्ध उम्मीदवार[संपादित करें]

फ्रेड फील्डिंग[संपादित करें]

एक अन्य प्रमुख व्यक्ति व्हाइट हाउस के एसोसिएट काउंसेल फ्रेड एफ. फील्डिंग थे. अप्रैल 2003 में फील्डिंग को इलिनोइस विश्वविद्यालय के पत्रकारिता स्कूल में एक कक्षा के भाग के रूप में विलियम गेन्स और उनके पत्रकारिता के छात्रों द्वारा स्रोत सामग्री की एक विस्तृत समीक्षा के परिणाम स्वरूप एक संभावित उम्मीदवार बनाकर प्रस्तुत किया गया.[12][13] फील्डिंग जॉन डीन के सहायक थे और इस तरह मामले से संबंधित फाइलों तक उनकी पहुंच थी. गेन्स ने महसूस किया कि वुडवर्ड के बयानों ने 'डीप थ्रोट' के एफबीआई में होने से इनकार किया था और यह कि "डीप थ्रोट" के पास जानकारी अक्सर एफबीआई से पहले आ जाती थी. एच.आर. हैल्डेमन को स्वयं फील्डिंग के "डीप थ्रोट" होने को लेकर संदेह था.

डीन "डीप थ्रोट" के सबसे समर्पित शिकारियों में से एक रहे थे. उन्होंने और लियोनार्ड गारमेंट दोनों ने फील्डिंग को एक संभावना के रूप में यह कहते हुए खारिज कर दिया था कि उन्हें इसके बारे में 1980 में वुडवर्ड ने स्पष्ट कर दिया था जब फील्डिंग रोनाल्ड रीगन प्रशासन में एक महत्वपूर्ण पद के लिए आवेदन कर रहे थे. हालांकि फील्डिंग की ओर से किये गए इस दावे की पुष्टि नहीं की गयी है.

एक कारण जिसे कई विशेषज्ञ मानते थे कि "डीप थ्रोट" फील्डिंग ही थे, ना कि फेल्ट, ऐसा एक साक्षात्कार में वुडवार्ड का इस बात से स्पष्ट इनकार करने की वजह से था कि "डीप थ्रोट" ने एक खुफिया समुदाय में काम किया था:

लुकास: क्या आप कुछ आलोचकों द्वारा निकाले गए इस तात्पर्य से नाराज हैं कि वाटरगेट में आपके स्रोत -- जिनमें काल्पनिक "डीप थ्रोट" शामिल था -- खुफिया समुदाय में रहे लोग हो सकते हैं?
वुडवार्ड: मैं इसे बुरा मानता हूं क्योंकि यह झूठ है. [14]

पीछे मुड़कर देखें तो ऐसा लगता है कि वुडवर्ड अपने बयान से केवल विदेशी खुफिया एजेंसियों को अलग कर रहे थे, ना कि एफबीआई को.

अन्य विश्वसनीय उम्मीदवार[संपादित करें]

फेल्ट की स्वीकृति से पहले मृत कोई भी उम्मीदवार उस समय वुडवार्ड के मानदंड पर फिट नहीं होता था, क्योंकि वुडवार्ड ने कहा था कि वे "डीप थ्रोट" की मृत्यु हो जाने के बाद उनकी पहचान को उजागर करने के लिए स्वतंत्र थे.

  • जॉन एर्लिकमैन: निक्सन के सलाहकार. 1999 में मृत्यु हुई.
  • रॉन जीग्लर: प्रेस सचिव 2003 में निधन हुआ.
  • विलियम ई. कोल्बी: सीआईए के प्रमुख. 1996 में मौत हुई.
  • चार्ल्स डब्ल्यू बेट्स: एफबीआई एग्जीक्यूटिव जिनका मान ने उल्लेख किया, लेकिन फेल्ट की तुलना में उनकी संभावना को कम माना.
  • विलियम सी. सुलेवान: एफबीआई के खुफिया ऑपरेशनों के पूर्व प्रमुख, जिन्हें 1971 में जे. एडगर हूवर ने बर्खास्त कर दिया था. 1977 में मृत्यु हुई.
  • एल. पैट्रिक ग्रे: कार्यरत एफबीआई निर्देशक जो वुडवर्ड से केवल चार ब्लॉक दूर रहते थे, जिन्हें एक सीबीएस वृत्तचित्र द्वारा अभियुक्त बनाया गया था. 2005 में निधन हुआ.
  • रॉबर्ट कंकेल: एफबीआई वाशिंगटन ब्यूरो प्रमुख जिन्हें मान ने फेल्ट की तुलना में कम संभावित बताया था, क्योंकि वे जांच के माध्यम से सेंट. लुईस पार्टवे चले गए थे.
  • कॉर्ड मेयर: मार्क रीब्लिंग के वेज: द सीक्रेट वार बिटवीन द एफबीआई एंड द सीआईए में बताया गया सीआईए एजेंट.[15] हालांकि, वुडवर्ड ने कहा था कि "डीप थ्रोट" खुफिया समुदाय का हिस्सा नहीं था. 2001 में मृत्यु.
  • रेमंड प्राइस: निक्सन के भाषण लेखक.
  • स्टीफन बुल: प्रशासनिक सहायक.
  • लोवेल वीकर: कनेक्टिकट से अमेरिकी सीनेटर जिन्हें पैट बुकानन द्वारा संभवतः "डीप थ्रोट" होने का विश्वास किया था.
  • सीक्रेट सर्विस तकनीशियन: रिचर्ड कोहेन ने तर्क दिया था कि यह सीक्रेट सर्विस में जो कोई भी था, उसने निक्सन के गुप्त टेपिंग उपकरणों को बनाए रखा था.

कम विश्वसनीय उम्मीदवार[संपादित करें]

  • विलियम रेनक्विस्ट: संयुक्त राज्य अमेरिका के स्वर्गीय मुख्य न्यायाधीश, जो निक्सन प्रशासन के आरंभ में न्याय विभाग में एक पद पर आसीन थे, वे अटॉर्नी जनरल जॉन एन. मिशेल के लिए काम करते थे. वाटरगेट की सेंधमारी से पांच महीने से अधिक समय पहले उन्हें सर्वोच्च न्यायालय में नियुक्त किया गया था और "डीप थ्रोट" से संबंधित ज्यादातर जानकारी तक उनकी पहुंच होना लगभग असंभव होता. फरवरी 2005 में डीन ने बताया कि "डीप थ्रोट" बीमार थे और रेनक्विस्ट के बारे में जाना जाता था कि वे कैंसर से पीड़ित थे, जो उसी वर्ष बाद में उनकी मौत का कारण बना. रिपोर्ट ने इन अटकलों को फिर से बढ़ावा दिया कि रेनक्विस्ट "डीप थ्रोट" थे. हालांकि, वुडवर्ड ने बाद में कहा था "डीप थ्रोट" के बीमार होने की धारणा एक गलतफहमी थी.
  • हेनरी किसिंजर: निक्सन के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार और विदेश सचिव, जो वुडवार्ड द्वारा उनके "डीप थ्रोट" से मुलाक़ात के बारे में बतायी गयी कुछ तिथियों में देश से बाहर थे.
  • जॉर्ज एच. डब्ल्यू. बुश: इन्हें एड्रियन हैविल - वुडवार्ड और बर्नस्टीन की 1993 की एक बायोग्राफी, डीप ट्रूथ (आईएसबीएन 1-55972-172-3) के लेखक द्वारा फ़रवरी 2005 में नामित किया गया था - टेक्सास विश्वविद्यालय में वुडवार्ड की टिप्पणियों के खुलासे के बाद. हैविल ने अपनी बायोग्राफी में यह तर्क दिया था कि "डीप थ्रोट" एक समग्र चरित्र था, लेकिन पॉइंटर ऑनलाइन को लिखे एक पत्र में कहा कि अभी हाल ही की घटनाओं और शोध के आधार पर वे अब यह मानते हैं कि "डीप थ्रोट" जॉर्ज एच. डब्ल्यू. बुश थे.
  • जनरल अलेक्जेंडर हेग: लेखक लेन कोलोड्नी और रॉबर्ट गेटलिन ने अपनी 1991 की पुस्तक साइलेंट कूप: द रिमूवल ऑफ ए प्रेसिडेंट में यह अनुमान लगाया था कि हेग "डीप थ्रोट" रहे हो सकते हैं.
  • डायने सॉयर: इन्हें व्हाइट हाउस के प्रेस सचिव रॉन जीग्लर द्वारा रिचर्ड निक्सन प्रशासन में सेवा के लिए नियुक्त किया गया था. अपनी मृत्युशय्या पर, निक्सन के समर्थक बारूक कोर्फ ने झूठा दावा किया कि सॉयर डीप थ्रोट थे.
  • बेन स्टीन: निक्सन के एक भाषण लेखक और निक्सन के आर्थिक सलाहकार हर्बर्ट स्टीन के बेटे; जो बाद में एक अभिनेता, राजनीतिक टीकाकार और गेम शो के प्रस्तोता बने.
  • गेराल्ड आर. फोर्ड: निक्सन के उत्तराधिकारी.
  • पैट बुकानन: राष्ट्रपति के विशेष सहायक के रूप में कार्य किया, इन्हें डीन द्वारा अपनी जून 2002 की पुस्तक अनमास्किंग डीप थ्रोट में एक संभावित उम्मीदवार के रूप में नामित किया गया. बुकानन ने वाटरगेट की सेंधमारी की 30वीं वर्षगांठ पर टाइम पत्रिका के एक लेख में बार-बार इस दावे से इनकार किया कि "आख़िरी बार जब मैंने द पोस्ट वाशिंगटन के साथ सहयोग किया... यह अवसर 1952 का था, जब मैं एक अखबार वाला था जो इस तुच्छ चीज को नॉर्थवेस्ट वाशिंगटन में बांटा करता था." हालांकि बुकानन को रहस्य में बहुत रुचि थी और उनके पास कई सिद्धांत थे. एक समग्र डीप थ्रोट के नजरिये को लेकर वे बहुत ही संवेदनशील थे.
  • रिचर्ड निक्सन: कुछ सुझाव ऐसे भी थे कि निक्सन ने मीडिया द्वारा अपने उत्पीड़न को दिखाने की एक अनोखी कोशिश में वुडवार्ड के साथ संपर्क करने के लिए पिछले दरवाजों का इस्तेमाल किया था जिसने भयानक रूप से उलटा वार कर दिया. यह सिद्धांत मोटे तौर पर अमान्य था. निक्सन की मृत्यु 1994 में हो गई.

काल्पनिक चित्रण[संपादित करें]

  • हैल होलब्रूक ने डीप थ्रोट का चित्रण ऑल द प्रेसिडेंट्स मैन के फिल्म संस्करण में किया था.
  • 1999 की कॉमेडी फिल्म डिक में वाटरगेट कांड की घटनाओं की पैरोडी प्रस्तुत की गयी थी जिसमें बताया गया था कि डीप थ्रोट वास्तव में दो कमसिन किशोर उम्र की लड़कियां थीं.
  • मेटल गियर सॉलिड में एक मुखबिर जो "डीप थ्रोट" के सामान ही अपने कोडेक उपकरण का इस्तेमाल कर सूचनाओं को साझा करते हुए खेल-खेल में सॉलिड स्नेक का मार्गदर्शन करता है. यह संकेत दिया गया था कि यह वही "डीप थ्रोट" है जो वाटरगेट में शामिल था, हालांकि यह एक रंगा सियार (ग्रे फॉक्स) निकला.
  • द एक्स-फाइल्स में एक ऐसे मुखबिर को दिखाया गया जिसने शुरुआती एपिसोडों में एजेंट मल्डर को सूचना लीक करने के लिए वुडवर्ड द्वारा बताये गए मुलाकातों के सामान तरीकों से "डीप थ्रोट" के नाम का इस्तेमाल किया था.

विशेष रूप से यह उल्लेख कभी नहीं किया गया है कि क्या उनका इरादा वाटरगेट के उसी डीप थ्रोट को दिखाने का था.

  • द फेयरली ओडपैरेंट्स की फिल्म चैनल चेजर्स में दिखाया जाता है कि टिम्मी के अभिभावक टूटी से मिलते हैं जिसने अपने चेहरे और शरीर को एक हैट और कोट के अंदर छिपा रखा है. वह उन्हें यह खुलासा करने वाली जानकारी देती है कि विक्की उर्फ डीप टूट एक शैतान है.
  • Hey Arnold!: The Movie शहर को बचाने की कोशिश में हेल्गा अपना वेश बदलकर और गुप्त रूप से अर्नोल्ड की मदद करती है, जिससे उसे "डीप वॉयस" का उपनाम मिलता है.
  • द सिम्प्संस प्रकरण "स्लाइड शो बॉब रॉबर्ट्स" में वेलोन स्मिथर्स ने स्प्रिंगफील्ड के नव-नियुक्त मेयर, स्लाइडशो बॉब को पदच्युत करने के लिए एक रास्ते की तलाश में सिम्प्संस के बच्चों की छिपकर मदद करते हुए डीप थ्रोट के ही सामान एक भूमिका निभाई थी (यहां तक कि इसमें डीप थ्रोट के बयानों में से एक का उदाहरण देकर समझाया गया था).
  • टेरी प्रैचेट की द ट्रुथ में गैसपोड "डीप बोन" के छद्म नाम का उपयोग करते हैं.
  • एलियास के पहले सीजन में विल टिपिन अनौपचारिक तौर पर अपने संदिग्ध सीआईए मुखबिर को डीप थ्रोट के रूप में संदर्भित करते हैं.
  • न्यूज रेडियो के तीसरे सीजन के पहले एपिसोड में: राष्ट्रपति, जिमी जेम्स से एक संवाददाता सम्मेलन में अमेरिकी राष्ट्रपति के रूप में अपनी उम्मीदवारी की घोषणा करते वक्त उनके द्वारा वाटरगेट मामले के दौरान और इससे पहले निक्सन व्हाईट हाउस के साथ करीबी सम्बन्ध रखने वाले वाशिंगटन के एक प्रचारक (लॉबीइस्ट) होने के बारे में पूछा जाता है. जिसके बारे में वे जवाब देते हैं वे ही डीप थ्रोट थे और जब इस पर संदेह किया जाता है तो वे असली डीप थ्रोट को आगे आने की चुनौती देते हैं, और जब कोई आगे नहीं आता है तो वे कहते हैं, "हा, मैंने भी ऐसा नहीं सोचा था."
  • फैमिली गाय के "डीप थ्रोट्स" एपिसोड में, कर्मिट द फ्रॉग ब्रायन और स्टेवी को महापौर एडम वेस्ट के भ्रष्टाचार का सबूत प्रदान करने के लिए इसी तरह की एक भूमिका का प्रयोग करता है.


संदर्भ[संपादित करें]

  1. "दी सीक्रेट मैन: दी स्टोरी ऑफ वाटरगेट्स डीप थ्रोट", बॉब वुडवर्ड
  2. न्यूजीलैंड मैन्स डीप थ्रोट मिस्ट्री सॉल्वड - 03 जून 2005 - न्यूजीलैंड हेराल्ड: वर्ल्ड / इंटरनेशनल न्यूज़
  3. मॉर्गन, डेन (1 जून 2005). कंटेम्पररीज़ हैव मिक्स्ड व्यूज़. वाशिंगटन पोस्ट
  4. नोरा एप्रोन: डीप थ्रोट एंड मी: नाओ ईट कैन बी टोल्ड, एंड नॉट फॉर दी फस्ट टाइम आइदर
  5. डीप थ्रोट: एन इंस्टीट्यूशनल एनालिसिस
  6. डीप थ्रोट रिवील्ड (अगेन) - टिमोथी नूह - स्लेट मैगज़ीन
  7. John D. O'Connor (2005-05-31). "I'm the Guy They Called Deep Throat". www.vanityfair.com. http://www.vanityfair.com/politics/features/2005/07/deepthroat200507?printable=true&currentPage=all. अभिगमन तिथि: 2008-11-28. 
  8. Bob Woodward (2005-06-02). "How Mark Felt Became 'Deep Throat'". www.washingtonpost.com. http://www.washingtonpost.com/wp-dyn/content/article/2005/06/01/AR2005060102124_pf.html. अभिगमन तिथि: 2008-11-28. 
  9. ग्रे III, एल. पैट्रिक और ग्रे, एडवर्ड. (2008). इन निक्सन्स वेब: ए ईयर इन दी क्रासहेयर्स ऑफ वाटरगेट . न्यू यॉर्क: टाइम्स बुक्स/हेनरी होल्ट. आईएसबीएन 0-8050-8256-5
  10. ग्रे एंड ग्रे, पी. 293
  11. ग्रे एंड ग्रे, पी. 297-298
  12. डीप थ्रोट: अनकवर्ड | डिपार्टमेंट ऑफ जर्नलिज़म | यूनिवर्सिटी ऑफ ईलिनोइस
  13. http://www.smithsonianmag.si.edu/smithsonian/issues03/dec03/presence.html
  14. क्वोट फ्रॉम प्लेबॉय इंटरव्यू, 1979
  15. वेज़: फ्रॉम पर्ल हार्बर टू 9/11-हाउ दी सीक्रेट वार बिटविन दी एफबीआई एंड सीआईए हैज एंडेंजर्ड नेशनल सिक्योरिटी , (2002) टचस्टोन आईएसबीएन 0743245997

बाह्य कड़ियां[संपादित करें]