डिस्प्ले डाटा चैनल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

डिस्प्ले डाटा चैनल या डीडीसी (DDC), कंप्यूटर डिस्प्ले और ग्राफिक्स अडाप्टर के बीच के डिजिटल संचार प्रोटोकॉल का एक संग्रह है जो डिस्प्ले को अडाप्टर तक अपनी समर्थित डिस्प्ले विधियों की जानकारी का संचार करने, और कंप्यूटर होस्ट को धवलता (ब्राईटनेस) और कंट्रास्ट जैसे मॉनिटर पैरामीटर को समायोजित करने में सक्षम बनाता है.

इस मानक का निर्माण वीडियो इलेक्ट्रॉनिक्स स्टैंडर्ड एसोसिएशन (वीईएसए (VESA)) द्वारा किया गया था.

संक्षिप्त विवरण[संपादित करें]

डीडीसी (DDC) सुइट के मानक कंप्यूटर डिस्प्ले के लिए "प्लग एंड प्ले (लगाओ और चलाओ)" की सुविधा प्रदान करने की कोशिश करते हैं.

डीडीसी1 (DDC) और डीडीसी2बी/एबी/बी+/बीआई प्रोटोकॉल्स मॉनिटर और वीडियो कार्ड के बीच की भौतिक कड़ी होते हैं, जिसे शुरुआत में 15-पिन वाले एनालॉग वीजीए (VGA) संयोजक में दो या तीन पिनों पर वहन किया जाता था.

एक्सटेंडेड डिस्प्ले आईडेंटिफिकेशन डाटा (ईडीआईडी (EDID)) एक सहयोगी मानक है; यह मॉनिटर के निर्माता द्वारा प्रोग्राम किये गए रीड-ओनली मेमोरी (ईईपीरोम) चिप में संग्रहीत मॉनिटर की क्षमताओं और समर्थित ग्राफिक्स विधियों का वर्णन करके कॉम्पेक्ट बाइनरी फाइल प्रारूपों को पारिभाषित करता है. यह प्रारूप डाटा के 128 बाइट्स वाले वर्णन ब्लॉक का प्रयोग करता है, जबकि अतिरिक्त सूचना प्रदान करने के लिए वैकल्पिक विस्तृत ब्लॉक्स भी प्रदान किये जाते हैं. सबसे नवीनतम संस्करण उन्नत ईडीआईडी (EDID) (ई-ईडीआईडी (E-EDID)) रिलीज ए, वी2.0 है .

डीडीसी (DDC) मानक का पहला संस्करण अगस्त 1994 में अपनाया गया था. इसमें ईडीआईडी (EDID) 1.0 प्रारूप शामिल थे और डीडीसी1 (DDC1), डीडीसी2बी (DDC2B) और डीडीसी2एबी (DDC2Ab) भौतिक लिंक को निर्दिष्ट किया गया था.

अप्रैल 1996 में रिलीज किये गए डीडीसी (DDC) संस्करण 2 ने, ईडीआईडी (EDID) को एक अलग मानक के रूप में पृथक किया और डीडीसी2बी+ प्रोटोकॉल को पेश किया.

दिसंबर 1997 में रिलीज डीडीसी (DDC) संस्करण 3 ने पृथक डिवाइस पतों पर डीडीसी2बीआई प्रोटोकॉल तथा वीईएसए (VESA) प्लग एवं डिस्प्ले और फ्लैट पैनल डिस्प्ले इंटरफेस को पेश किया, जिनके लिए ईडीआईडी (EDID) 2.0 के साथ अनुपालन आवश्यक था.

1999 में ई-डीडीसी (E-DDC) ने डीडीसी (DDC) मानक का स्थान ले लिया.

भौतिक लिंक[संपादित करें]

डीडीसी से पहले, वीजीए (VGA) मानक में मॉनिटर के प्रकार की पहचान के लिए एनालॉग वीजीए (VGA) संयोजक में 4 पिन आरक्षित थे, जो आईडी0, आईडी1, आईडी2 और आईडी3 (पिन 11, 12, 4 और 15) हैं. पहले तीन आईडी पिन, जो उनमें से किसी एक या अधिक को ग्राउंड (जीएनडी) तक ले जाने के लिए प्रतिरोधक से जुड़े होते हैं, सात मॉनिटर प्रकारों तक को परिभाषित करने में सक्षम बनाते हैं, और सभी खुले होते हैं (फ्लोटिंग या एनसी (NC), नो कनेक्शन) - अर्थात "कोई मॉनिटर नहीं". हालांकि, केवल तीन प्रकार के मॉनिटर को परिभाषित किया गया - 1024*768 (एनसी (NC), एनसी (NC), जीएनडी (GND)) से कम के रिजोलुशन वाला मोनोक्रोम मॉनिटर, 1024*768 (एनसी, जीएनडी,एनसी) से कम के रिजोलुशन वाला रंगीन मॉनिटर, और 1024*768 (जीएनडी (GND), जीएनडी (GND), एनसी (NC)) के रिजोलुशन वाला रंगीन मॉनिटर. पिन आईडी3 उपयोगरहित थी. डीडीसी (DDC) ने क्रमिक लिंक इंटरफेस को सम्मिलित करने के लिए इन पिनों के उद्देश्य को परिवर्तित कर दिया.

डीडीसी1[संपादित करें]

डीडीसी1 (DDC1) एक साधारण, कम गति वाला, एकलदिशात्मक क्रमिक लिंक प्रोटोकॉल है. पिन 12, आईडी1 डाटा लाइन के रूप में कार्य करती है जो 128-बाईट ईडीआईडी ब्लॉक को निरंतर प्रेषित करती है, और डाटा क्लॉक को ऊर्ध्वाधर सिंक से समकालिक कर दिया गया है जो 60 से 100 हर्ट्ज़ की सामान्य क्लॉक दर प्रदान करती है.

इस प्रोटोकॉल को केवल कुछ ही डिस्प्ले उपकरणों में कार्यान्वित किया गया था.

डीडीसी2 (DDC2)[संपादित करें]

सबसे सामान्य संस्करण डीडीसी2बी (DDC2B) है जो आई2सी (I²C), सीरियल बस, पर आधारित है. वीजीए संयोजक की पिन 12, आईडी1 का प्रयोग अब आई2सी बस की डाटा पिन के रूप में किया जाता है, और पूर्व की अप्रयुक्त पिन 15 आई2सी क्लॉक बन गयी है; पूर्व में यांत्रिक कुंजी के रूप में उपयोग होने वाली पिन 9, ईईपीरोम को चलाने के लिए 50 एमए तक +5वी डीसी की आपूर्ति करती थी, इससे होस्ट को मॉनिटर बंद होने पर भी ईडीआईडी पढ़ने की अनुमति मिलती है. यद्यपि आई2सी पूर्णतः द्विदिशात्मक है और कई बस-मास्टर्स का समर्थन करती है, डीडीसी2बी एकलदिशात्मक होती है और केवल एक बस मास्टर की ही अनुमति देती है - ग्राफिक अडाप्टर. मॉनिटर 7-बिट आई2सी एड्रेस 50एच पर एक अधीन यन्त्र के रूप में कार्य करता है, और रीड-ओनली ईडीआईडी (EDID) के 128-256 बाइट्स प्रदान करता है. चूंकि इस तक पहुंच हमेशा पढ़ने तक ही सीमित है, इसलिए प्रथम आई2सी ओक्टेट हमेशा ए1एच ही होता है.

डीडीसी2एबी (DDC2Ab) आई2सी आधारित 100 kbit/s ACCESS.bus का कार्यान्वयन है, जो मॉनिटर निर्माताओं को माउस या कीबोर्ड जैसे बाह्य ACCESS.bus उपकरणों का समर्थन करने में सक्षम बनाता है; इस प्रकार के उपकरण और मॉनिटर 1990 के मध्य में उपलब्ध थे, लेकिन यूएसबी (USB) के आ जाने के बाद से गायब हो गए.

डीडीसी2बी+ (DDC2B+) और डीडीसी2बीआई (DDC2Bi), डीडीसी2एबी (DDC2Ab) के निचले संस्करण हैं, जो केवल मॉनिटर और ग्राफिक्स कार्ड उपकरणों का ही समर्थन करने के बावजूद भी इनके बीच के द्विदिशात्मक संचार की अनुमति प्रदान करते हैं.

डीडीसी2 (DDC2), वीजीए संयोजक के लिए विशेष नहीं है क्योंकि दोनों डीवीआई (DVI) और एचडीएमआई (HDMI) संयोजकों में समर्पित डीडीसी2बी (DDC2B) तार उपलब्ध होते हैं.

डीडीसी (DDC)/सीआई (CI)[संपादित करें]

डीडीसी (DDC)/सीआई (CI) (कमांड इंटरफेस) मानक को अगस्त 1998 में पेश किया गया था. यह कंप्यूटर के लिए मॉनिटर को कमांड प्रेषित करने के साथ-साथ एक द्विगामी लिंक पर मॉनिटर से सेंसर डाटा प्राप्त करने का एक साधन प्रदान करता है. मॉनिटर को नियंत्रित करने के लिए विशिष्ट कमांड्स को सितम्बर 1998 में रिलीज किये गए एक पृथक मॉनिटर कंट्रोल कमांड सेट (एमसीसीएस (MCCS)) मानक संस्करण 1.0 में परिभाषित किया गया है.

मॉनिटर के रंगों के नियंत्रण की स्वतः जांच के लिए, कई बार डीडीसी (DDC)/सीआई (CI) मॉनिटर को एक बाह्य कलर सेंसर के साथ उपलब्ध कराया जाता है. कुछ झुकाव वाले डीडीसी (DDC)/सीआई (CI) मॉनिटर एक ऑटो-पिवट प्रणाली का समर्थन करते हैं, जहां मॉनिटर में उपलब्ध एक घूर्णन सेंसर मॉनिटर को पोर्ट्रेट या लैंडस्केप स्थितियों में घुमाए जाने पर, ऑपरेटिंग सिस्टम को डिस्प्ले को सीधा रखने में सक्षम बनाता है.

डीडीसी (DDC)/सीआई (CI) मानक द्विगामी नियंत्रण प्रोटोकॉल के पूर्ण सुइट - डीडीसी2एबी, डीडीसी2एबीआई और डीडीसी2एबी+ - का वर्णन एक एकल मानक के तहत करता है, और मॉनिटर कंट्रोल कमांड सेट कमांड्स की पैकेजिंग का एक साधन प्रदान करता है.

डीडीसी (DDC)/सीआई (CI) संस्करण 1.1 अक्तूबर 2004[1] में अपनाया गया था.

मॉनिटर नियंत्रण कमांड सेट संस्करण 2.0 अक्टूबर 2003 में अपनाया गया था. एक नया एमसीसीएस (MCCS) वी3 जुलाई 2006 में पेश किया गया था, हालांकि अभी तक इस इसपर ज्यादा ध्यान नहीं दिया गया है. वी2 मानक की नवीनतम रिलीज संस्करण 2.2 है, जिसे फरवरी 2009 में अपनाया गया.

ई-डीडीसी (E-DDC)[संपादित करें]

उन्नत डिस्प्ले डाटा चैनल (ई-डीडीसी (E-DDC)) डीडीसी (DDC) मानक का सबसे नया संस्करण है. संस्करण 1 को सितम्बर 1999 में पेश किया गया था और इसमें एक सेगमेंट पॉइंटर जोड़ा गया था, जो उन्नत ईडीआईडी (EDID) (ई-ईडीआईडी (E-EDID)) मानक द्वारा उपयोग की जाने वाली डिस्प्ले जानकारी के 32 किलोबाइट्स तक के संग्रहण की अनुमति देता था.

प्रारंभिक डीडीसी (DDC) कार्यान्वयन मॉनिटर में ईडीआईडी (EDID) मेमोरी के साथ संचार करते समय साधारण 8-बिट डाटा ऑफसेट का प्रयोग करते थे, जिससे संग्रहण आकार 28 बाइट्स = 256 बाइट्स तक सीमित रहता था लेकिन सस्ते 2 केबी ईईपीरोम का प्रयोग करना संभव होता था. ई-डीडीसी में, एक विशेष आई2सी एड्रेसिंग योजना को पेश किया गया जिसमें कई 256 बाईट खण्डों का चयन किया जा सकता था. ऐसा करने के लिए, एक 8 बिट खंड सूचकांक को आई2सी एड्रेस 30एच के माध्यम से डिस्प्ले तक पारित किया जाता है. (चूंकि यह एक्सेस हमेशा राईट (लेखन) तक ही सीमित होती है, पहला आई2सी ओक्टेट हमेशा 60एच ही रहेगा). इसके बाद चयनित खंड से डाटा को, दोहराए गए आई2सी 'START' सिग्नल का प्रयोग करके नियमित डीडीसी2 एड्रेस से तुरंत ही पढ़ लिया जाता है. हालांकि, वीईएसए विनिर्देश खंड सूचकांक (सेगमेंट इंडेक्स) के मान की सीमा को 00एच से 7एफ़एच के रूप में परिभाषित करता है, अतः यह केवल 128 सेगमेंट * 256 बाइट्स = 32 केबी की एड्रेसिंग की ही अनुमति देता है. सेगमेंट इंडेक्स रजिस्टर परिवर्तनशील होता है, जो डिफॉल्ट रूप से शून्य होता है और प्रत्येक NACK और STOP के बाद स्वतः शून्य पर सेट हो जाता है. अतः, प्रथम 256 बाईट के ऊपर प्रत्येक बार डाटा को एक्सेस करते समय इसे सेट कर लेना चाहिए. ऑटो रीसेट व्यवस्था डीडीसी2बी होस्ट के लिए उलटी अनुकूलता (बैकवर्ड कम्पेटेबिलिटी) प्रदान करने के लिए होती है, अन्यथा कुछ विशिष्ट स्थितियों में 00एच के अलावा वे किसी अन्य सेगमेंट में अटक सकते हैं.

अन्य महत्वपूर्ण परिवर्तनों में शामिल हैं, डीडीसी1 और डीडीसी2एबी का हटाया जाना, पृथक वीईएसए (VESA) पीएंडडी तथा एफपीडीआई (FPDI) डिवाइस एड्रेस के आक्षेप, और डीडीसी ऊर्जा आवश्यकताओं का स्पष्टीकरण.

मार्च 2004 को स्वीकृत किये गए ई-डीडीसी संस्करण 1.1 में एचडीएमआई (HDMI) और बिजली-चालित उपभोक्ता वस्तुओं के समर्थन की सुविधा उपलब्ध थी.

दिसंबर 2007 को अपनाये गए ई-डीडीसी संस्करण 1.2 में डिस्प्लेपोर्ट (जिसमें कोई समर्पित डीडीसी2बी लिंक नहीं था और ईडीआईडी और एमसीसीएस संचार के लिए अपने द्विगामी सहायक चैनल का प्रयोग करता था) और डिस्प्लेआईडी मानकों के लिए समर्थन को पेश किया गया था.

डीडीसी को निष्क्रिय करना[संपादित करें]

कुछ केवीएम (KVM) स्विच (कीबोर्ड-वीडिओ-माउस) और वीडिओ विस्तारक डीडीसी के यातायात को गलत तरीके से संभालते हैं, जिस कारण से ऑपरेटिंग सिस्टम में मॉनिटर के प्लग एंड प्ले गुण को निष्क्रिय करना आवश्यक हो जाता है, और यहां तक कि कई बार ऐसे यंत्रों को कई कंप्यूटरों से जोड़ने वाले एनालॉग वीजीए तारों से पिन 12 को भी भौतिक रूप से हटाना भी पड़ सकता है.

माइक्रोसॉफ्ट विंडोज एक मानक "प्लग एंड प्ले मॉनिटर" ड्राइवर प्रदान करता है, जो समर्थित मॉनिटर विधियों की सूची का निर्माण करने के लिए डिस्प्ले की ईडीआईडी (EDID) सूचना का प्रयोग करता है. डिस्प्ले रिजोल्यूशन कंट्रोल पैनल एप्लेट, उपयोगकर्ता को ड्राइवर के प्लग एंड प्ले गुण को निष्क्रिय करने, और वीडियो कार्ड द्वारा समर्थित किसी भी रिजोल्यूशन या रिफ्रेश दर का चयन करने की अनुमति देता है.[2] कई वीडियो कार्ड निर्माता और तृतीय पक्ष नियंत्रण एप्लीकेशंस प्रदान करते हैं, जो उपयोगकर्ता को ऐसी स्वयं की डिस्प्ले प्रणाली का चयन करने में सक्षम बनाता है जो ईडीआईडी (EDID) सूचना और मॉनिटर से सम्बंधित नहीं होती है.आईएनएफ फ़ाइल.

संबंधित प्रौद्योगिकी[संपादित करें]

  • डिस्प्ले नियंत्रण चैनल

संदर्भ[संपादित करें]

  1. वीईएसए (VESA) स्टैण्डर्ड्स सारांश: डिस्प्ले डेटा चैनल कमांड इंटरफेस (डीडीसी/सीआई (DDC/CI)) स्टैण्डर्ड, संस्करण 1.1 (वीईएसए (VESA) दस्तावेज़ वीईएसए (VESA)-2004-10)
  2. http://support.microsoft.com/kb/309569
  • एक्सटेंडेड डिस्प्ले आइडेंटीफिकेशन डेटा (ईडीआईडी (EDID)) स्टैण्डर्ड, संस्करण, 3, 1997, वीईएसए (VESA)
  • वीईएसए (VESA) स्टैण्डर्ड्स एफएक्यु (FAQ)
  • डिस्प्ले इंटरफेस: फंडामेंटल्स. इनफॉर्मेशन डिस्प्ले के लिए बॉब मायर्स, रॉबर्ट एल मायर्स, समाज

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]