जैव सांख्यिकी (बॉयोमेट्रिक्स)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
वॉल्ट डिज़नी वर्ल्ड में बॉयोमेट्रिक माप मेहमानों की उंगलियों से यह सुनिश्चित करने के लिए लिये जाते हैं कि व्यक्ति की टिकट का इस्तेमाल दिन-प्रतिदिन एक ही व्यक्ति द्वारा किया जाता रहे.

बॉयोमेट्रिक्स विशिष्टतया एक या एक से अधिक आंतरिक शारीरिक या व्यवहारिक लक्षण पर आधारित मानव पहचानने के तरीकों के सन्दर्भ में प्रयुक्त होता है. सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में, विशेष रूप से, बॉयोमेट्रिक्स का उपयोग परिचय अभिगम प्रबंधन और अभिगम नियंत्रण के रूप में किया जाता है. इसका उपयोग किसी समूह में शामिल व्यक्ति विशेष की पहचान करने में किया जाता है, जो निगरानी में रहते हैं.

विशेषताएँ[संपादित करें]

बॉयोमेट्रिक विशेषताओं को दो प्रमुख वर्गों में बांटा जा सकता है:

  • व्यवहारिक , यह एक व्यक्ति के व्यवहार से संबंधित है. उदाहरणों में टाइपिंग ताल, चाल और आवाज शामिल हैं, लेकिन यह इन्हीं तक सीमित नहीं है. कुछ शोधकर्ताओं[1] ने बॉयोमेट्रिक्स के इस वर्ग के लिए शब्द बिहेवियोमेट्रिक्स शब्द गढ़ा है.

यदि स्पष्टतया कहा जाय तो आवाज़ भी एक शारीरिक लक्षण है क्योंकि हर व्यक्ति की एक अलग पिच (स्वरमान) होती है, लेकिन आवाज की पहचान मुख्य रूप से व्यक्ति के बोलने की शैली के अध्ययन पर आधारित है. लेकिन सामान्यतया इसे व्यवहारिक के रूप में वर्गीकृत किया जाता है.

परिचय[संपादित करें]

एक बॉयोमेट्रिक प्रणाली का मूल ब्लॉक आरेख

यदि मानवीय विशेषता का उपयोग निम्नलिखित मानकों के संदर्भ में बॉयोमेट्रिक्स के लिए किया जाय तो इसे (बॉयोमेट्रिक्स) समझना संभव है:[2]

  • सार्वभौमिकता - प्रत्येक व्यक्ति की विशेषता होनी चाहिए.
  • विशिष्टता - कितनी सटीकता से बॉयोमेट्रिक दूसरे से भिन्न व्यक्तियों को अलग करता है.
  • स्थायित्व - कितनी सटीकता से बॉयोमेट्रिक उम्र के बढ़ने और आने वाले समय में होने वाले अन्य परिवर्तनों को मापता है.
  • संग्रहनीयता - माप के लिए अधिग्रहण में आसानी.
  • प्रदर्शन - सटीकता, गति और प्रयुक्त प्रौद्योगिकी की मजबूती.
  • स्वीकार्यता - एक प्रौद्योगिकी के अनुमोदन की मात्रा.
  • निवारण - एक विकल्प के उपयोग में आसानी.

एक बॉयोमेट्रिक प्रणाली निम्नलिखित दो रूपों में काम कर सकती हैं:

  • सत्यापन - एक अभिग्रहीत बॉयोमेट्रिक को संग्रहित रूपदा (टेम्पलेट) के साथ एक से एक तुलना करके यह सत्यापित किया जा सकता है कि वह व्यक्ति विशेष जो वह होने का दावा कर रहा है, वह ठीक है या नहीं. एक स्मार्ट कार्ड, उपयोगकर्ता का नाम अथवा परिचय संख्या के साथ संयोजन करके ऐसा किया जा सकता है.
  • पहचान - एक अज्ञात व्यक्ति की पहचान करने की कोशिश में एक बॉयोमेट्रिक डाटाबेस के साथ कई अभिग्रहित बॉयोमेट्रिक नमूने की तुलना की जा सकती है. व्यक्ति की पहचान करने में सफलता तभी प्राप्त हो सकती है जब बॉयोमेट्रिक नमूने की तुलना डाटाबेस में रूपदा (टेम्पलेट) के साथ पूर्व निर्धारित सीमा के भीतर किया जाय.

पहली बार एक व्यक्ति द्वारा प्रयुक्त बॉयोमेट्रिक प्रणाली पंजीकरण कहलाती है. पंजीकरण के दौरान, एक व्यक्ति विशेष के द्वारा प्रयुक्त बॉयोमेट्रिक सूचना संग्रहित की जाती है. बाद के उपयोगों में बॉयोमेट्रिक सूचना की जानकारी प्राप्त की जाती है और पंजीकरण के समय संग्रहित सूचना के साथ उसकी तुलना की जाती है. ध्यान दें कि यह महत्वपूर्ण है कि अगर बॉयोमेट्रिक प्रणाली को मजबूत होना है तो ऐसी प्रणाली का स्वयं को सुरक्षित करने के क्रम में भण्डारण और पुनरुद्धार नितांत आवश्यक है. पहला खंड (सेंसर) असली दुनिया और सिस्टम के बीच अंतराफलक (इंटरफेस) है, इसे सभी आवश्यक आंकड़े प्राप्त करने ही हैं. अधिकांश समय यह एक छवि अधिग्रहण प्रणाली है, लेकिन वांछित विशेषताओं के अनुसार यह बदल भी सकता है. दूसरा खंड सभी आवश्यक पूर्व प्रक्रमण का कार्य करता है: इसे प्रदर्शन के लिए निवेश बढ़ाने (जैसे-पृष्ठभूमि के शोर को हटाने), कुछ सामान्यीकरण का उपयोग करने आदि हेतु, सेंसर से कलाकृतियों को दूर करना ही होता है. तीसरे खंड में आवश्यक लक्षणों का निष्कर्ष निकाला जाता है. यह चरण एक महत्त्वपूर्ण चरण है क्योंकि इसमें इष्टतम तरीके से सटीक लक्षण को निकाले जाने की आवश्यकता होती है. संख्याओं का एक वेक्टर या विशेष गुणों के साथ एक छवि का उपयोग एक टेम्पलेट (रूपदा) बनाने के लिए किया जाता है. टेम्पलेट, स्रोत के प्रासंगिक विशेषताओं से निकाले गए निष्कर्ष का संश्लेषण है. बॉयोममेट्रिक माप के वे तत्त्व जिनका उपयोग एल्गोरिथ्म तुलना में नहीं किया जा रहा है, उन्हें फाइल के आकर को छोटा करने और पंजीकृत की पहचान की रक्षा करने के लिए टेम्पलेट से खारिज कर दिया जाता हैं.

यदि पंजीकरण हो जाता है तो टेम्पलेट को सामान्यतया कहीं (कार्ड पर या एक डाटाबेस या दोनों में) संग्रहित कर लिया जाता है. यदि एक मिलान-चरण की प्रक्रिया चल रही है, तो प्राप्त टेम्पलेट को एक मिलान करने वाले के पास भेज दिया जाता है जो दूसरे मौजूदा टेम्पलेटों के साथ इसकी तुलना करता है. वह किसी एल्गोरिथ्म (जैसे - आलोचनात्मक अंतर) का उपयोग कर उन दोनों के बीच के अंतर का अनुमान करता है. मिलान प्रोग्राम (प्रक्रिया), निविष्टि के साथ टेम्पलेट का विश्लेषण करेगा. इसके पश्चात् यह किसी भी निर्दिष्ट उपयोग अथवा उद्देश्य (जैसे - एक सीमित क्षेत्र में प्रवेश) के लिए व्यवहृत किया जा सकेगा.

प्रदर्शन[संपादित करें]

निम्नलिखित का प्रयोग बॉयोमेट्रिक प्रणालियों के लिए प्रदर्शन मेट्रिक्स के रूप में किया जाता है:[3]

  • असटीक स्वीकृति दर या असटीक मिलान दर (FAR या FMR) - यह संभावना है कि प्रणाली निविष्टि नमूने का मिलान डाटाबेस में मौजूद एक गलत गैर-मिलान वाले टेम्पलेट से कर दे. यह उन गलत निविष्टियों के प्रतिशत को मापता है जो गलती से स्वीकृत कर लिए जाते हैं.
  • असटीक अस्वीकृति दर या असटीक गैर-मिलान दर (FRR या FNMR) - यह संभावना है कि प्रणाली निविष्टि नमूने का मिलान डाटाबेस में मौजूद एक मिलान वाले टेम्पलेट से करने में विफल हो जाय. यह उन सही निविष्टियों के प्रतिशत को मापता है जो गलती से अस्वीकृत कर दिए जाते हैं.
  • अभिग्राही प्रचालन विशेषता या आपेक्षिक प्रचालन विशेषता (ROC) - ROC प्लाट FAR और FRR के बीच संबंधों का एक दृश्य चरित्रांकन है. सामान्यतया मिलान एल्गोरिथ्म, एक निर्णय देने का कार्य करता है. यह बताता है कि निविष्टि को एक टेम्पलेट से मिलान के योग्य समझे जाने के लिए कितना करीब होना चाहिए. यदि अनंतिम सीमा कम कर दी जाये तो असटीक गैर-मिलानों की संख्या कम हो जायेगी परंतु असटीक स्वीकृतियों की संख्या बढ़ जायेगी. तदनुसार, एक उच्च सीमा FAR को कम कर देगी जबकि FRR में वृद्धि हो जायेगी. एक आम अंतर डिटेक्सन एरर ट्रेड-ऑफ (DET) के रूप में जाना जाता है जिसे दोनों छोरों पर साधारण विसमान्य मापदंड का उपयोग कर प्राप्त किया जाता है. यह अधि-रैखिक ग्राफ उच्च प्रदर्शनों (दुर्लभतम त्रुटियों) के लिए अंतरों को उजागर करता है.
  • समान त्रुटि दर या अंतरराष्ट्रीय त्रुटि दर (EER या CER) - वह दर जिस पर स्वीकृत और अस्वीकृत त्रुटियां समान हैं. ERR का मान ROC वक्र से आसानी से प्राप्त किया जा सकता है. ERR एक ऐसा त्वरित तरीका है जिससे उपकरणों की सत्यता की तुलना विभिन्न ROC वक्रों के साथ की जा सकती है. सामान्यतया, ऐसे उपकरण जिनका समान त्रुटि दर (ERR) सबसे कम है, वे अधिकतम सटीक होते हैं. ROC प्लाट से प्राप्त अंको के आधार पर ऐसा होता है, जहां FAR और FRR का मान एक समान होता है. उस उपकरण को उतना ही सटीक माना जाता है जिसका EER न्यूनतम होता है.
  • पंजीकरण दर में विफलता (FTE या FER) - वह दर जिस पर एक निविष्टि (इनपुट) से एक टेम्पलेट का निर्माण कार्य असफल रह जाता है. यह आमतौर पर कम गुणवत्ता वाली निविष्टियों (इनपुट्स) के कारण होता है.
  • अभिग्रहीत दर में विफलता (FTC) - स्वचालित प्रणालियों के भीतर यह संभावना है कि जब इसे सही ढंग से प्रस्तुत किया जाय तब यह एक बॉयोमेट्रिक निविष्टि का पता लगाने में विफल रह जाये.
  • टेम्पलेट क्षमता - डाटा की अधिकतम संख्या के सेट जिन्हें सिस्टम में संग्रहित किया जा सकता है.

जैसे-जैसे बॉयोमेट्रिक उपकरण की संवेदनशीलता बढ़ती जाती है, वैसे-वैसे FAR घटता जाता है लेकिन FRR बढ़ता चला जाता है.

समस्याएं और चिन्ताएं[संपादित करें]

भेदभाव[संपादित करें]

यह चिंता बनी रहती है कि क्या बॉयोमेट्रिक विधियों के माध्यम से ली गई हमारी व्यक्तिगत जानकारी का दुरुपयोग किया जा सकता है. उदाहरण के लिए, सरकार द्वारा वैश्विक जनसंख्या नियंत्रण के लिए मानव में अवांछित तत्वों का निर्धारण किया जा सकता है. इसके अलावा, बॉयोमेट्रिक्स का उपयोग कर प्राप्त डॉ.ा का इस्तेमाल उन मायनों में किया जा सकता है जो व्यक्ति विशेष को मंजूर न हो.

सुरक्षित वस्तुओं के मालिकों को खतरे[संपादित करें]

जब चोर सुरक्षित संपत्ति तक पहुंचने में नाकाम रहेगा तब यहां एक सम्भावना है कि वह अकड़ कर आये और संपत्ति तक पहुंचने के लिए उसके मालिक पर आक्रामक हमला करे. यदि वह वस्तु एक बॉयोमेट्रिक उपकरण के द्वारा सुरक्षित है तो मालिक को हुआ नुकसान अपरिवर्तनीय हो सकता है जो संभवतः सुरक्षित संपत्ति से भी अधिक नुकसानदायक हो सकता है. उदाहरण के लिए, कार को चुराने के प्रयास में 2005 में मलेशियाई कार चोरों ने एक मर्सिडीज-बेंज S-क्लास के मालिक की उंगली काट दी.[4]

रद्द करने योग्य बॉयोमेट्रिक्स[संपादित करें]

बॉयोमेट्रिक्स पर पासवर्ड होने का लाभ यह है कि उन्हें (पासवर्ड) फिर से जारी किया जा सकता है. अगर एक प्रतीक या एक पासवर्ड खो जाता है अथवा चोरी हो जाता है तो इसे रद्द किया जा सकता है और एक नए संस्करण से प्रतिस्थापित किया जा सकता है. यह बॉयोमेट्रिक्स में स्वाभाविक रूप से उपलब्ध नहीं है. यदि एक डाटाबेस से किसी के चेहरे से समझौता किया गया है तो वे इसे रद्द नहीं कर सकते या फिर से नया भी नहीं दे सकते हैं. रद्द करने योग्य बॉयोमेट्रिक्स एक ऐसा तरीका है जिसमें सुरक्षा शामिल करने और बॉयोमेट्रिक्स में परिवर्तित करने की विशेषताएं उपलब्ध हैं. यह सबसे पहले राथा एट ऐल द्वारा प्रस्तावित किया गया था.[5]

रद्द करने योग्य बॉयोमेट्रिक्स का निर्माण करने के लिए कई तरीकों का प्रस्ताव दिया गया है. मूलतः, रद्द करने योग्य बॉयोमेट्रिक्स मिलान से पहले बॉयोमेट्रिक छवि या विशेषताओं की विकृति प्रदर्शित करते हैं. विकृति मानकों में परिवर्तनशीलता, योजना के रद्द करने योग्य स्वरूप को प्रदान करती है. प्रस्तावित तकनीकों में से कुछ अपनी स्वयं की पहचान इंजन का उपयोग कर संचालन करते हैं. जैसे - टेओह एट अल.[6] और सविडेस एट अल.,[7] जबकि अन्य विधियां, जैसे- डब्बह एट अल.,[8] एवं अन्य, अच्छी तरह से स्थापित बॉयोमेट्रिक अनुसंधान की प्रगति का लाभ उठाते हुए पहचान फ्रंट-एंड का उपयोग पहचान प्राप्त करने के लिए करते हैं. हालांकि इससे सुरक्षा व्यवस्था के प्रतिबंधों पर वृद्धि होती है, यह उपलब्ध बॉयोमेट्रिक प्रौद्योगिकियों के लिए रद्द करने योग्य टेम्पलेट्स को और अधिक सुलभ बना देता है.

बॉयोमेट्रिक्स का प्रयोग करने वाले देश[संपादित करें]

संयुक्त राज्य अमेरिका[संपादित करें]

सितम्बर 11, 2001 से ही आतंकवाद के भय के साथ संयुक्त राज्य अमेरिका की सरकार बॉयोमेट्रिक्स की मजबूत पक्षधर बन गयी है.

एफबीआई (FBI) वर्तमान में एक नया बॉयोमेट्रिक डाटाबेस तैयार करने में 1 बिलियन डॉलर खर्च कर रहा है. इसमें DNA, उंगलियों के निशान और अन्य बॉयोमेट्रिक डाटा का संग्रह किया जायेगा. डाटाबेस का संग्रह करने वाले कंप्यूटरों को एक फुटबॉल मैदान के आकार के एक भूमिगत सुविधा वाले स्थान पर रखा जाएगा.[9]

होमलैंड सुरक्षा और DARPA दोनों के विभाग चेहरा पहचान प्रणालियों में अनुसंधान के लिए भारी वित्त निधीयन (खर्च) कर रहे हैं.[10]इन्फोर्मेशन प्रेसेसिंग टेक्नोलॉजी ऑफिस (सूचना प्रक्रिया प्रौद्योगिकी कार्यालय) ने एक कार्यक्रम चलाया जिसे ह्यूमन आईडेन्टिफिकेशन एट अ डिस्टेंस (सुदूर मानव पहचान) के रूप में जाना जाता है. इसमें एक ऐसी प्रौद्योगिकी विकसित की गयी जो 500 फुट की दूरी से ही किसी व्यक्ति की पहचान उसके चेहरे की विशेषताओं के आधार पर करने में सक्षम है.

बुश ने 2008 में राष्ट्रपति का निर्देश (59 NSPD, 24 HSPD)[11] जारी किया जिसमें अमेरिका की संघीय सरकार की कार्यकारी शाखा के विभागों और एजेंसियों के बीच, "संग्रह, भण्डारण, प्रयोग, विश्लेषण, और बॉयोमेट्रिक की लेनदेन और संबंधित जीवनी और व्यक्ति विशेषों की प्रासंगिक जानकारियों, को लेकर आपसी तालमेल एवं अंतरप्रचालन के लिए क्षमता वृद्धि की आवश्यकता है.[11][12]

2005 में शुरू, चेहरे (छवि-आधारित) के बॉयोमेट्रिक डाटा के साथ अमेरिकी पासपोर्ट का उत्पादन किया जाना तय किया गया था. कई देशों में गोपनीयता के कार्यकर्ताओं ने नागरिक अधिकारों, गोपनीयता और पहचान चोरी के जोखिम के संभावित नुकसानों के लिए इस प्रौद्योगिकी के प्रयोग की आलोचना की है. वर्तमान में, संयुक्त राज्य (और यूरोपीय संघ) में कुछ आशंका है कि जानकारी को मंथित कर सकते हैं और लोगों की नागरिकता की पहचान दूर से ही आपराधिक आशय, जैसे अपहरण, के लिए हो सकता है.

अमेरिकी रक्षा विभाग (DoD) कॉमन एक्सेस कार्ड (साझा प्रवेश कार्ड), एक पहचान-पत्र (ID कार्ड) है जो सभी अमेरिकी सेवा कर्मियों और अमेरिका के सैन्य कार्यस्थलों पर ठेकेदारों को जारी किए हैं. इस कार्ड में बॉयोमेट्रिक डाटा और डिजीटल तस्वीरें शामिल हैं. इसमें सुरक्षा को बढ़ाने और मिथ्याकरण के खतरे को कम करने के लिए लेजर-रेखित तस्वीरें और होलोग्राम भी मौजूद हैं. जारी किए गए इन कार्डों की संख्या 10 मिलियन (1 मिलयन = 10 लाख) से अधिक हो गयी है.

जिम वेमैन के अनुसार, सैन जोस राज्य विश्वविद्यालय में राष्ट्रीय बॉयोमेट्रिक टेस्ट सेंटर के निर्देशक, वॉल्ट डिज़नी वर्ल्ड देश का अकेला सबसे बड़ा बॉयोमेट्रिक्स का वाणिज्यिक उपयोगकर्त्ता है.[13] हालांकि, US-VISIT कार्यक्रम बहुत जल्द ही बॉयोमेट्रिक्स के प्रयोग में वॉल्ट डिज़नी वर्ल्ड को पछाड़ देगा.

जर्मनी[संपादित करें]

जर्मनी में बॉयोमेट्रिक्स बाजार 2009 तक भारी वृद्धि का अनुभव करेगा. "बाजार का आकार लगभग 12 मिलियन € (€ का उच्चारण और अर्थ = यूरो) (2004) से बढ़कर 377 मिलियन यूरो (2009) हो जायेगा. "संघीय सरकार का इस विकास में एक बड़ा योगदान होगा".[14] विशेष रूप से, फिंगरप्रिंट और चेहरे की पहचान की बॉयोमेट्रिक प्रक्रियायें सरकारी परियोजना से लाभ उठा सकती हैं.[14]

मई 2005 में जर्मन संसद के ऊपरी सदन ने इ-पास (ePass) (इलेक्ट्रोनिक पास) के कार्यान्वयन की मंजूरी दे दी. सभी जर्मन नागरिकों को पासपोर्ट जारी किए गए जो बॉयोमेट्रिक तकनीक से लैस थे. इ-पास प्रचलन में नवंबर 2005 के बाद आया है. इसमें एक चिप है जिसमें एक डिजीटल फोटो और प्रत्येक हाथ का एक फिंगरप्रिंट शामिल है. आमतौर पर फिंगरप्रिंट तर्जनी उंगली की होती है. हालांकि दूसरे फिंगरप्रिंट का इस्तेमाल इन अंगुलियों के न रहने अथवा बहुत विकृत प्रिंट होने पर हो सकता है. "एक तीसरे बॉयोमेट्रिक पहचान करनेवाले, परितारिका स्कैन, को बाद के चरणों में जोड़ा जा सकता है".[15]

जर्मनी में एक बॉयोमेट्रिक प्रौद्योगिकी के प्रसार में वृद्धि नागरिकों को जर्मन सीमाओं के भीतर ही सुरक्षित रखने का प्रयास नहीं है बल्कि वीज़ा के लिए मौजूदा अमेरिकी अंतिम तिथि छूट देने वाले देशों के साथ बॉयोमेट्रिक पासपोर्ट शुरू करने के लिए भी प्रयासरत है.[15] जर्मन नागरिकों के लिए बॉयोमेट्रिक पासपोर्ट तैयार करने के अलावा, जर्मन सरकार ने आगंतुकों के लिए नयी जरूरतों के तहत देश के भीतर वीज़ा (आज्ञापत्र) के लिए आवेदन जमा करने को कहा है. "केवल लंबी अवधि के लिए वीज़ा-आवेदकों, जो उन्हें तीन से अधिक महीने के लिए निवास की अनुमति देते हैं, की योजना बॉयोमेट्रिक पंजीकरण प्रोग्राम द्वारा प्रभावित होगी. नए कामकाजी-वीज़ा में फिंगरप्रिंटिंग, परितारिका स्कैनिंग और डिजीटल फोटो भी शामिल होंगे".[16]

जर्मनी भी उन पहले देशों में से एक है जो जर्मन एथलीटों की रक्षा के लिए ओलंपिक खेलों में बॉयोमेट्रिक तकनीक को लागू करने जा रहा है. "ओलिंपिक खेल हमेशा कूटनीतिक रूप में तनाव से भरा विषय रहा है और पिछली प्रतियोगिताओं में आतंकवादी हमले ने सबको हिलाकर रख दिया है - खासकर जब जर्मनी ने 1972 में म्यूनिख में खेलों को आयोजित किया था तब 11 इज़राइली एथलीट मारे गए थे".[17]

बॉयोमेट्रिक तकनीक का इस्तेमाल सबसे पहले ग्रीस में ग्रीष्मकालीन एथेंस ओलंपिक 2004 के दौरान किया गया. इस योजना के साथ पंजीयन पर "मान्यता प्राप्त आगंतुकों को एक पहचान-पत्र उनके फिंगरप्रिंट बॉयोमेट्रिक्स डाटा युक्त कार्ड प्राप्त होगा जो उन्हें 'जर्मन हाउस' तक पहुंचने के लिए सक्षम बनायेंगा. मान्यता प्राप्त आगंतुकों में एथलीट, कोचिंग स्टाफ, टीम प्रबंधन और मीडिया के सदस्य शामिल होंगे.[17]

बॉयोमेट्रिक डाटा के बढ़ते प्रयोग के विरोध में प्रभावशाली हैकर समूह कैओस कंप्यूटर क्लब ने अपनी पत्रिका दातेंश्लोयडर के मार्च 2008 के संस्करण में जर्मनी के इन्टेरियर मिनिस्टर वोल्फगैंग शौबल के एक फिंगरप्रिंट को प्रकाशित किया. पत्रिका ने एक फिल्म में इस फिंगरप्रिंट का इस्तेमाल किया जिससे कि पाठक इसका इस्तेमाल फिंगरप्रिंट रीडरों को मूर्ख बनाने में कर सकें.[18]

ब्राजील[संपादित करें]

20वीं सदी की शुरुआत से ही ब्राजीलियन नागरिकों के पास उपयोगकर्ता ID कार्ड था. ब्राजील सरकार द्वारा फिंगरप्रिंट-आधारित बॉयोमेट्रिक्स अपनाने का निर्णय रियो डी जनेरियो, संघात्मक गणतंत्र की उस समय की राजधानी, में डॉ. फेलिक्स पैचेको के नेतृत्व में लिया गया था. डॉ.पैचेको, डॉ. जुआन वुसेटिक के मित्र थे जिन्होंने वर्तमान में अस्तित्व में मौजूद सबसे अधिक पूर्ण टेनप्रिंट वर्गीकरण प्रणालियों में से एक का आविष्कार किया. वुसेटिक प्रणाली न केवल ब्राजील में अपनाई गई बल्कि अधिकांश दक्षिणी अमेरिकी देशों के द्वारा सबसे अधिक अपनाई गई. ब्राजील में सबसे पुराने और सबसे पारंपरिक पहचान-पत्र संस्थान (इन्सटीटूटो डी आईडेनटीफीकाक्यो फेलिक्स पैचेको) का एकीकीकरण 1999 में दीवानी और फौजदारी AFIS प्रणाली के लिए DETRAN[19] (DMV के लिए ब्राजीलियन समकक्ष) में कर दिया गया.

ब्राजील में प्रत्येक राज्य को अपने ID कार्ड मुद्रित करने की अनुमति है, लेकिन खाका और डाटा उन सभी के लिए समान है. रियो डी जनेरियो में मुद्रित ID कार्ड 2D बार कोड के साथ पूर्णतः डिजिटलाइज्ड हैं जिससे उसके धारक की पूरी जानकारी का मिलान ऑफ-लाइन किया जा सकता है. बार 2D कोड एक रंगीन फोटो, एक हस्ताक्षर, दो उंगलियों के निशान और अन्य नागरिक डाटा का कोडन (encode) करता है. 2000 में इस तकनीक का विकास ब्राजील के ID कार्डों की सुरक्षा बढ़ाने के मद्देनजर किया गया था.

2005 के अंत तक, ब्राजील सरकार ने अपने नए पासपोर्ट का विकास का कार्य शुरू किया. ब्रासीलिया में नए दस्तावेज़ों को रिलीज़ करने का कार्य 2007 के शुरू से होने लगा. नए पासपोर्ट में कई सुरक्षा विशेषताएं शामिल हो गईं जिनमें लेजर वेधन, UV गुप्त प्रतीक, सुरक्षा परत परिवर्तनीय डाटा पर आदि प्रमुख थीं. पासपोर्ट अनुरोधों के दौरान ब्राजील के नागरिकों को उनके हस्ताक्षर, फोटो, और 10 उंगलियों के निशान एकत्र रूप में देने होंगे. सभी आंकड़ों को ICAO ई-पासपोर्ट मानक के रूप में संग्रहीत किये जाने की योजना है. चूंकि फिंगरप्रिंट टेम्पलेट्स और सांकेतिक चेहरे की छवियां स्वचालित पहचान के लिए उपलब्ध हो जायेंगी इसीलिए यह पासपोर्ट सामग्री और नागरिक ID सत्यापन के संस्पर्शहीन इलेक्ट्रॉनिक पठन की अनुमति देता है.

इराक़[संपादित करें]

बॉयोमेट्रिक्स का प्रयोग इराक में व्यापक सूची बनाने के लिए किया जा रहा है. इसमें जितना संभव है उतने इराकियों को शामिल करते हुए उन्हें एक निरीक्षण योग्य पहचान कार्ड प्रदान किया जा रहा है जो जालसाजी के प्रतिरक्षा कवच से लैस है. लेखा निर्माण के दौरान एकत्र की गयी बॉयोमेट्रिक्स जानकारी एक केंद्रीय डाटाबेस में लॉग इन की जाती है जो बाद में एक उपयोगकर्ता प्रोफ़ाइल को निर्मित होने की अनुमति देती है. यहां तक कि अगर एक इराकी अपना ID कार्ड खो देता है तो भी उसकी पहचान प्राप्त की जा सकती है और उसे उनके अनूठे बॉयोमेट्रिक जानकारी का उपयोग करके सत्यापित भी किया जा सकता है. अतिरिक्त जानकारी भी, जैसे व्यक्ति विशेष का व्यक्तिगत इतिहास, प्रत्येक खाते के रिकॉर्ड में जोड़ा जा सकता है. यह अमेरिकी सेना को इस बात का पता लगाने में मदद कर सकता है कि क्या किसी ने अतीत में कोई मुसीबत खड़ी की थी.

इराक में प्रयुक्त प्रमुख प्रणाली को BISA के नाम से जाना जाता है.[20] यह प्रणाली एक स्मार्ट कार्ड और एक उपयोगकर्ता के बॉयोमेट्रिक्स (फिंगरप्रिंट, आईरिस, और चेहरे की तस्वीरें) का उपयोग यह सुनिश्चित करने के लिए करता है कि वे एक बुनियाद या सुविधा का उपयोग करने के लिए अधिकृत हैं अथवा नहीं.[21] बॉयोमेट्रिक स्वचालित टूलसेट के लिए एक अन्य नाम BAT है.[22]

जापान[संपादित करें]

जापान में कई बैंकों ने उनके ATM पर या तो हथेली के नस का प्रमाणीकरण या उंगली के नस का प्रमाणीकरण प्रौद्योगिकी को अपनाया है. हथेली नस प्रमाणीकरण प्रौद्योगिकी अन्य कंपनियों के अलावा फूजीटसू द्वारा विकसित की गई है. इसने 0.01177% के एक असटिक स्वीकृति दर होने और 4.23% की असटिक अस्वीकृति दर होने के दावे को साबित कर दिया है. हिटाची द्वारा विकसित उंगली नस प्रमाणीकरण प्रौद्योगिकी में 0.0100% का एक असटिक स्वीकृति दर और 1.26% का एक असटिक अस्वीकृति दर है.[23] उंगली नस प्रमाणीकरण प्रौद्योगिकी अभी तक सुमितोमो मित्सुई वित्तीय समूह, मिजुहो वित्तीय समूह और जापान पोस्ट बैंक जैसे बैंकों द्वारा अपनाया गया है. हथेली नस प्रमाणीकरण प्रौद्योगिकी को बैंक ऑफ़ टोकियो- मित्सुबिशी UFJ जैसे बैंकों द्वारा अपना लिया गया है.[24]

संयुक्त राज्य अमेरिका[संपादित करें]

फिंगरप्रिंट स्कैनर का प्रयोग कुछ स्कूलों में स्कूल के रात्रिभोज के भुगतान के लिए माता-पिता द्वारा वित्त-पोषण के खाते से रुपये काट लेने के लिए किया जाता है. ऐसी प्रणाली का प्रयोग करके माता-पिता द्वारा निगरानी के लिए एक बच्चे के सेवन का पोषण-रिपोर्ट निकाला जा सकता है. उदार समूहों ने इसे समाज के युवाओं से उनकी पसंद की स्वतंत्रता के हनन के रूप में देखते हुए कई सवाल उठाये हैं. स्कूल के भोजन प्रदाताओं द्वारा स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने वाले सम्बंधित समूहों जैसे NHS और बीमा समूह को डाटा लीक कर देने पर दूसरी समस्याएं उत्पन्न होंगी. तथ्यों की इस लीक से यह संभावना बन जाती है कि व्यक्ति विशेष की सेवाओं की समानता के उपयोग करने की क्षमता पर इसका हानिकारक प्रभाव पड़े.

ऑस्ट्रेलिया[संपादित करें]

ऑस्ट्रेलिया के दौरे के लिए इच्छुक आगंतुकों को जल्दी ही स्मार्टगेट प्रणाली के एक भाग के रूप में बॉयोमेट्रिक प्रमाणीकरण जमा करना पड़ सकता है.इसमें व्यक्ति विशेष की जानकारी को उनके वीज़ा और पासपोर्ट से जोड़ दिया जाता है. बॉयोमेट्रिक डाटा पहले ही अप्रवासन के द्वारा वीज़ा आवेदकों से एकत्र कर लिए जाते हैं. ऑस्ट्रेलिया बॉयोमेट्रिक्स गोपनीयता कोड को लागू करने वाला पहला देश है जिसकी स्थापना बॉयोमेट्रिक्स इन्सटीट्यूट द्वारा हुई. इसके प्रशासन का कार्य भी इसी (बॉयोमेट्रिक्स इन्सटीट्यूट) के द्वारा होता है. बॉयोमेट्रिक्स इन्सटीट्यूट प्राइवेसी कोड बॉयोमेट्रिक्स इन्सटीट्यूट, ऑस्ट्रेलियाई गोपनीयता कानून के एक हिस्से का निर्माण करता है. यह कोड उन गोपनीयता मानकों को अपने में सम्मिलित किये है जो गोपनीयता अधिनियम में कम-से-कम आस्ट्रेलियन राष्ट्रीय गोपनीयता सिद्धांतों (NPPs) के समकक्ष हैं और इनमें कुछ कामों और व्यवहारों के संबंध में गोपनीयता की सुरक्षा के उच्च मानकों को भी शामिल किया हैं. बॉयोमेट्रिक्स संस्थान के सदस्य ही इस कोड की सदस्यता लेने के योग्य हैं. बॉयोमेट्रिक्स संस्थान की सदस्यता, और इस प्रकार कोड की सदस्यता, स्वैच्छिक है.

कनाडा[संपादित करें]

कनाडा ने सीमा सुरक्षा और अप्रवासन के क्षेत्र में बॉयोमेट्रिक प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल में अनुसंधान शुरू कर दिया है. नागरिकता और अप्रवासन कनाडा और कनाडा सीमा सेवा एजेंसी शायद पहली सरकारी संस्थायें होंगी जो पूरी तरह से कनाडा में इस प्रौद्योगिकी को लागू करेंगी.

इज़राइल[संपादित करें]

इज़राइल की सरकार ने इजरायल के सभी नागरिकों के एक डाटाबेस के निर्माण के लिए बिल का प्रस्ताव किया है.  नागरिकों द्वारा उंगलियों के निशान प्रस्तुत करना बाध्य होगा तथा चेहरे की विशेषताएं भी संग्रहित की जायेंगी.[25] विधेयक पर 2009 के सितंबर में मतदान होने की उम्मीद है. 

प्रमुख इज़राइली वैज्ञानिकों और सुरक्षा विशेषज्ञों सहित प्रस्तावित कानून के विरोधियों ने यह चेतावनी दी है कि इस तरह के एक डाटाबेस का अस्तित्व नागरिक अधिकारों और राज्य की सुरक्षा दोनों को क्षति पहुंचा सकता है क्योंकि कोई भी प्रकट सूचना का दुरूपयोग अपराधियों या नागरिकों के खिलाफ व्यक्तियों द्वारा शत्रुता निकालने के लिए किया जा सकता है.[26][27]

लोकप्रिय संस्कृति में बॉयोमेट्रिक्स[संपादित करें]

  • फिल्म गट्टाका (Gattaca) एक ऐसे समाज का चित्रण करता है जिसमें लोगों की दो श्रेणियां हैं: अनुवांशिक रूप से बेहतर होने को निर्मित ("मान्य" करार दिया गया) और निम्न साधारण मानव ("अवैध"). ऐसे लोग जिन्हें 'मान्य' माना जाता है, उनके पास अधिक विशेषाधिकार होते हैं, और ऐसे व्यक्तियों तक ही सीमित क्षेत्रों का नियंत्रण स्वचालित बॉयोमेट्रिक स्कैनर द्वारा होता है जो दिखने में फिंगरप्रिंट स्कैनर के समान ही होती है. लेकिन जो उंगली में चुभन द्वारा खून की छोटी बूंद से परिणामस्वरूप DNA नमूने निकालती है.
  • टेलीविजन प्रोग्राम मिथबसटर्स ने बॉयोमेट्रिक प्रमाणीकरण से लैस एक वाणिज्यिक सुरक्षा दरवाजे को तोड़ने की कोशिश की. इसी तरह उसमें इसी प्रौद्योगिकी से लैस एक निजी लैपटॉप के कोड को भंग करने की कोशिश की.[28] जहां लैपटॉप प्रणाली को बाईपास करना ज्यादा मुश्किल साबित हुआ, वहीं फिंगरप्रिंट के लीक होने पर "सीधे" संवेदन के साथ उन्नत व्यावसायिक सुरक्षा द्वार को एक छपी फिंगरप्रिंट के स्कैन के द्वारा खोलकर मूर्ख बनाया गया.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. http://www.cilab.upf.edu/biosecure1/public_docs_deli/BioSecure_Deliverable_D10-2-3_b3.pdf [2]
  2. Jain, A. K.; Ross, Arun; Prabhakar, Salil (January 2004), "An introduction to biometric recognition", IEEE Transactions on Circuits and Systems for Video Technology 14th (1): 4–20, doi:10.1109/TCSVT.2003.818349 
  3. ""CHARACTERISTICS OF BIOMETRIC SYSTEMS"". Cernet. http://www.ccert.edu.cn/education/cissp/hism/039-041.html. 
  4. BBC न्यूज: मलेशियन कार चोरों ने उंगली चुराई
    एक अन्य रिपोर्ट में कहानी को और अधिक बल देते हुए: http://www.assaabloyfuturelab.com/FutureLab/Templates/Page2Cols____266.aspx
  5. एन. के. रथ, जे. एच. कोनेल, और आर. एम. बोल्ले, "बॉयोमेट्रिक्स पर आधारित प्रमाणीकरण प्रणाली में सुरक्षा और गोपनीयता बढ़ाना", IBM सिस्टमस जर्नल में प्रकाशित, खंड 40, पृष्ठ संख्या. 614-634, 2001.
  6. ए. बी. जे. टेओह, ए. गोह, और डी. सी. एल. न्गो, "बॉयोमेट्रिक और यादृच्छिक पहचान निविष्टि के बायोंहैशिंग (BioHashing) के लिए यादृच्छिक बहुस्थल परिमाणीकरण (Quantization) एक विश्लेषणात्मक तंत्र के रूप में", पैटर्न विश्लेषण और यांत्रिक बौद्धिकता पर, IEEE गतिविधियां, खंड 28, पृष्ठ संख्या. 1892-1901, 2006.
  7. एम. सविडेस, बी. भी. के. भी. कुमार, और पी. के. खोसला, ""कोरफेसेस (Corefaces)" - प्रदीप्ति सहिष्णु चेहरा पहचान के लिए अचल PCA आधारित सहसंबंध फ़िल्टर का मजबूत उपाय," के द्वारा IEEE कम्प्यूटर सोसायटी सम्मेलन में कंप्यूटर विजन और पैटर्न मान्यता (CVPR'04), पर 2004 को यह पेपर प्रस्तुत किया गया.
  8. एम. ए. डब्बह, डबल्यू. एल. वू, और एस. एस. डले, "चेहरा पहचान के लिए सुरक्षित प्रमाणीकरण", द्वारा छवि और सिग्नल प्रोसेसिंग के सन्दर्भ में यह पेपर 2007 में कम्प्यूटेशनल इंटेलिजेंस में पेश किया गया. 2007 CIISP. IEEE संगोष्ठी, 2007.
  9. Arena, Kelly; Carol Cratty (February 4, 2008). "FBI wants palm prints, eye scans, tattoo mapping". CNN. http://www.cnn.com/2008/TECH/02/04/fbi.biometrics/. अभिगमन तिथि: 2009-03-14. 
  10. Frank, Thomas (May 10, 2007). "Face recognition next in terror fight". USA Today. http://www.usatoday.com/news/washington/2007-05-10-facial-recognition-terrorism_N.htm. अभिगमन तिथि: 2009-03-16. 
  11. Office of the Press Secretary, The White House (June 5, 2008). National Security Presidential Directive and Homeland Security Presidential Directive. प्रेस रिलीज़. http://georgewbush-whitehouse.archives.gov/news/releases/2008/06/20080605-8.html. अभिगमन तिथि: 2008-06-30. 
  12. Bain, Ben (June 6, 2008). "Bush pushes biometrics for national security". Federal Computer Week (Media, Inc.). http://www.fcw.com/online/news/152750-1.html. अभिगमन तिथि: 2008-06-30. 
  13. वे अनुच्छेद जिनमें डिज़नी के 2006 के बॉयोमेट्रिक पहल का वर्णन किया गया है जिसमें फिंगरप्रिंट रीडर के साथ हाथ की ज्यामितीय स्कैनर बदल दी गई
  14. जर्मनी में 2004 से 2009 तक बॉयोमेट्रिक्स मार्केट: आतंकवाद विरोधी कानून से विकास में वृद्धि - मार्केट रिसर्च रिपोर्ट - अनुसंधान और बाजार
  15. IDABC - DE: "जर्मनी बॉयोमेट्रिक पासपोर्ट का क्रमानुसार विवेचन नवंबर 2005 से शुरू करेगा.
  16. प्रवासन सूचना स्रोत - जर्मनी द्वारा वीज़ा आवेदक के लिए बॉयोमेट्रिक पंजीकरण विकल्प को प्राथमिकता
  17. जर्मन ओलम्पियनों को सुरक्षित रखने हेतु बॉयोमेट्रिक्स का प्रयोग - सॉफ्टवेयर - silicon.com पर व्यापार और प्रौद्योगिकी की ताजा खबर
  18. वोल्फगैंग शौबल, जर्मन गृह सचिव, की उंगलियों के निशान CCC द्वारा प्रकाशित, हेइसे ऑनलाइन , 31/03/2008 को प्रकाशित, 17/04/2008 को प्राप्त.
  19. http://www.detran.rj.gov.br/_documento.asp?cod=1438
  20. "Biometric Identification System for Access". http://www.csc.com/solutions/security/casestudies/2829.shtml. 
  21. "DoD Readies Biometric ID System for U.S. Bases in Iraq". http://www.defenselink.mil/news/newsarticle.aspx?id=31641. 
  22. अगली पंक्ति पर बॉयोमेट्रिक्स
  23. अंतर्राष्ट्रीय बॉयोमेट्रिक समूह "तुलनात्मक बॉयोमेट्रिक परीक्षण दौर 6 सार्वजनिक रिपोर्ट"
  24. बॉयोमेट्रिक्स: शिरा स्कैनर्स शो प्रोमिस
  25. Ynet: इज़राइल में बॉयोमेट्रिक डाटाबेस निर्मित होने को
  26. डिजीटल वर्ल्ड: तुम्हारे और मेरे बारे में सबकुछ जानने का उपाय
  27. YNET: बॉयोमेट्रिक डाटाबेस - राज्य की सुरक्षा के लिए एक खतरा
  28. फिंगरप्रिंट स्कैनरस को हैक करने की विधि पर मिथबसटर्स के एपिसोडों के वीडियो

अतिरिक्त पठन[संपादित करें]