जाफ़र अली

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जाफ़र अली (मृत्यु १९७५ अप्रैल में हुई) एक प्रसिद्ध हस्तशिल्प-कलाकार और उद्यमी थे। उनका सम्बन्ध हसनाबाद, श्रीनगर, कश्मीर से था।

कैरियर[संपादित करें]

जाफ़र अली ने कई पुरस्कार प्राप्त किये, जिनमें में से एक भारतीय प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी दवारा कश्मीरी हस्तशिल्प को बढ़ावा देने में अनुकरणीय कार्य के लिए था। उनकी कला में कौशल जिसे उनहोंने अपने दादा से पाया था।

मृत्यु के समय जाफ़र अली के चार बेटे और दो बेटियां जीवित थे। अपने बेटों में से एक, सादिक अली, कश्मीर में एक राजनीतिज्ञ थे।[1][2]

सन्दर्भ[संपादित करें]